Behen Kavita Ki Chudai
06-12-2017, 10:37 AM,
#11
RE: Behen Kavita Ki Chudai
वाकई मजा आ गया था. ओह दीदी ओह दीदी करते हुए मैंने भी उनको अपनी बाँहों में भर लिया था. हम दोनों इतनी तगड़ी चुदाई के बाद एक दम थक चुके थे मगर हमारे गांड अभी भी फुदक रहे थे. गांड फुद्काती हुई दीदी अपनी चुत का रस निकल रही थी और मैं गांड फुद्काते हुए लौड़े को बूर की जड़ तक ठेल कर अपना पानी उनकी चुत में झार रहा था. सच में ऐसा मजा मुझे आज के पहले कभी नहीं मिला था. अपनी खूबसूरत बहन को चोदने की दिली तम्मन्ना पूरी होने के कारण पुरे बदन में एक अजीब सी शान्ती महसूस हो रही थी. करीब दस मिनट तक वैसे ही परे रहने के बाद मैं धीरे से दीदी के बदन निचे उतर गया. मेरा लण्ड ढीला हो कर पुच्च से दीदी की चुत से बाहर निकल गया. मैं एकदम थक गया था और वही उनके बगल में लेट गया. दीदी ने अभी भी अपनी आंखे बंद कर रखी थी. मैं भी अपनी आँखे बंद कर के लेट गया और पता नहीं कब नींद आ गई. सुबह अभी नींद में ही था की लगा जैसे मेरी नाक को दीदी की चुत की खुसबू का अहसास हुआ. एक रात में मैं चुत के चटोरे में बदल चूका अपने आप मेरी जुबान बाहर निकली चाटने के लिए…ये क्या…मेरी जुबान पर गीलापन महसूस हुआ. मैं ने जल्दी से आंखे खोली तो देखा दीदी अपने पेटिकोट को कमर तक ऊँचा किये मेरे मुंह के ऊपर बैठी हुई थी और हँस रही थी. दीदी की चुत का रस मेरे होंठो और नाक ऊपर लगा हुआ था. हर रोज सपना देखता था की दीदी मुझे सुबह-सुबह ऐसे जगा रही है. झटके के साथ लण्ड खड़ा हो गया और पूरा मुंह खोल दीदी की चुत को मुंह भरता हुआ जोर से काटते हुए चूसने लगा. उनके मुंह से चीखे और सिसकारियां निकलने लगी. उसी समय सुबह सुबह पहले दीदी को एक पानी चोदा और चोद कर उनको ठंडा करके बिस्तर से निचे उतर बाथरूम चला गया. फ्रेश होकर बाहर निकला तो दीदी उठ कर रसोई में जा चुकी थी. रविवार का दिन था मुझे भी कही जाना नहीं था. कविता दीदी ने उस दिन लाल रंग की टाइट समीज और काले रंग की चुस्त सलवार पहन रखी थी. नाश्ता करते समय पैर फैला कर बैठी तो मैं उसकी टाइट सलवार से उसके मोटे गुदाज जांघो और मस्तानी चुचियों को देखता चौंक गया. दोनों फैली हुई जांघो के बीच मुझे कुछ गोरा सा, उजला सफ़ेद सा चमकता आया नज़र आया. मैंने जब ध्यान पूर्वक देखा तो पाया की दीदी की सलवार उनके जांघो के बीच से फटी हुई. मेरी आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा. मैं सोचने लगा की दीदी तो इतनी बेढब नहीं है की फटी सलवार पहने, फिर क्या बात हो गई. तभी दीदी अपनी जांघो पर हाथ रखते अपने फटी सलवार के बीच ऊँगली चलाती बोली “क्यादेखरहाहैबे….साले…..अभीतकशान्तीनहींमिलीक्या….घूरताहीरहेगा….रातमेंऔरसुबहमेंभीपूराखोलकरतोदिखायाथा….” मैं थोरा सा झेंपता हुआ बोला “नहींदीदीवो…वोआपकी…सलवारबीचसे…फटी…” दीदी ने तभी ऊँगली दाल फटी सलवार को फैलाया और मुस्कुराती हुई बोली “तेरेलिएहीफाराहै….दिनभरतरसतारहेगा…सोचाबीच-बीचमेंदिखादूंगीतुझे…” मैं हसने लगा और आगे बढ़ दीदी को गले से लगा कर बोला “हाय…दीदीतुमकितनीअच्छीहो….ओह…तुमसेअच्छाऔरसुन्दरकोईनहींहै….ओहदीदी….मैंसचमेंतुम्हारेप्यारमेंपागलहोजाऊंगा…” कहते हुए दीदी के गाल को चूम उनकी चूची को हलके से दबाया. दीदी ने भी मुझे बाँहों में भर लिया और अपने तपते होंठो के रस का स्वाद मुझे दिया. उस दिन फिर दिन भर हम दोनों भाई बहन दिन भर आपस में खेलते रहे और आनंद उठाते रहे. दीदी ने मुझे दिन में दुबारा चोदने तो नहीं दिया मगर रसोई में खाना बनाते समय अपनी चुत चटवाई और दोपहर में भी मेरे ऊपर लेट कर चुत चटवाया और लण्ड चूसा. टेलिविज़न देखते समय भी हम दोनों एक दुसरे के अंगो से खेलते रहे. कभी मैं उनकी चूची दबा देता कभी वो मेरा लण्ड खींच कर मरोर देती. मुझे कभी माधरचोद कह कर पुकारती कभी बहनचोद कह कर. इसी तरह रात होने पर हमने टेलिविज़न देखते हुए खाना खाया और फिर वो रसोई में बर्तन आदि साफ़ करने चली गई और मैं टीवी देखता रहा थोड़ी देर बाद वो आई और कमरे के अन्दर घुस गई. मैं बाहर ही बैठा रहा. तभी उन्होंने पुकारा “राजूवहांबैठकरक्याकररहाहै…भाईआजा….आजसेतेराबिस्तरयहीलगादेतीहूँ….” मैं तो इसी इन्तेज़ार में पता नहीं कब से बैठा हुआ था. कूद कर दीदी के कमरे में पहुंचा तो देखा दीदी ड्रेसिंग टेबल के सामने बैठ कर मेकअप कर रही थी और फिर परफ्यूम निकाल कर अपने पुरे बदन पर लगाया और आईने अपने आप को देखने लगी. मैं दीदी के चुत्तरों को देखता सोचता रहा की काश मुझे एक बार इनकी गांड का स्वाद चखने को मिल जाता तो बस मजा आ जाता. मेरा मन अब थोरा ज्यादा बहकने लगा था. ऊँगली पकड़ कर गर्दन तक पहुचना चाहता था. दीदी मेरी तरफ घूम कर मुझे देखती मुस्कुराते हुए बिस्तर पर आ कर बैठ गई. वो बहुत खूबसूरत लग रही थी. बिस्तर पर तकिये के सहारे लेट कर अपनी बाँहों को फैलाते हुए मुझे प्यार से बुलाया. मैं कूद कर बिस्तर पर चढ़ गया और दीदी को बाँहों में भर उनके होंठो का चुम्बन लेने लगा. तभी लाइट चली गई और कमरे में पूरा अँधेरा फ़ैल गया. मैं और दीदी दोनों हसने लगे. फिर उन्होंने ने कहा “हायराजू….येतोएकदमटाइमपरलाइटचलीगई…मैंनेभीदिनमेंनहींचुदवायाथाकी….रातमेंआरामसेमजालुंगी….चलएककामकरअँधेरेमेंबूरचाटसकताहै….देखूतोसही…..तूमेरीचुतकीसुगंघकोपहचानताहैयानहीं….सलवारनहींखोलनाठीकहै….” इतना सुनते ही मैं होंठो को छोर निचे की तरफ लपका उनके दोनों पैरों को फैला कर सूंघते हुए उनकी फटी सलवार के पास उनके चुत के पास पहुँच गया. सलवार के फटे हुए भाग को फैला कर चुत पर मुंह लगा कर लफर-लफर चाटने लगा. थोड़ी देर चाटने पर ही दीदी एक दम सिसयाने लगी और मेरे सर को अपनी चुत पर दबाते हुए चिल्लाने लगी ” हायराजू….बूरचाटू…..राजा….हायसचमेंतूतोकमालकररहाहै….एकदमएक्सपर्टहोगयाहै….अँधेरेमेंभीसूंघलिया….सीईईईइबहनचोद….सालाबहुतउस्तादहोगया….है…..हैमेरेराजा…..सीईईईइ” मैं पूरी चुत को अपने मुंह में भरने के चक्कर में सलवार की म्यानी को और फार दिया, यहाँ तक तक की दीदी की गांड तक म्यानी फट चुकी थी और मैं चुत पर जीभ चलाते हुए बीच-बीच में उनकी गांड को भी चाट रहा था और उसकी खाई में भी जीभ चला रहा था. तभी लाइट वापस आ गई. मैंने मुंह उठाया तो देखा मैं और दीदी दोनों पसीने से लथपथ हो चुके थे. होंठो पर से चुत का पानी पोछते हुए मैं बोला “हायदीदीदेखोआपकोकितनापसीनाआरहाहै…जल्दीसेकपरेखोलो….” दीदी भी उठ के बैठते हुए बोली “हाँबहुतगर्मीहै….उफ्फ्फ्फ्फ्फ….लाइटआजानेसेठीकरहानहींतोमैंसोचरहीथी…..साली …” कहते हुए अपने समीज को खोलने लगी. समीज खुलते ही दीदी कमर के ऊपर से पूरी नंगी हो गई. उन्होंने ब्रा नहीं पहन रखी थी ये बात मुझे पहले से पता थी. क्यों की दिन भर उनकी समीज के ऊपर से उनके चुचियों के निप्पल को मैं देखता रहा था.

दोनों चूचियां आजाद हो चुकी थी और कमरे में उनके बदन से निकल रही पसीने और परफ्यूम की मादक गंध फ़ैल गई. मेरे से रुका नहीं गया. मैंने झपट कर दीदी को अपनी बाँहों में भरा और निचे लिटा कर उनके होंठो गालो और माथे को चुमते हुए चाटने लगा. मैं उनके चेहरे पर लगी पसीने की हर बूँद को चाट रहा था और अपने जीभ से चाटते हुए उनके पुरे चेहरे को गीला कर रहा था. दीदी सिसकते हुए मुझ से अपने चेहरे को चटवा रही थी. चेहरे को पूरा गीला करने के बाद मैं गर्दन को चाटने लगा फिर वह से छाती और चुचियों को अपनी जुबान से पूरा गीला कर मैंने दीदी के दोनों हाथो को पकड़ झटके के साथ उनके सर के ऊपर कर दिया. उनकी दोनों कांख मेरे सामने आ गई. कान्खो के बाल अभी भी बहुत छोटे छोटे थे. हाथ के ऊपर होते ही कान्खो से निकलती भीनी-भीनी खुश्बू आने लगी. मैं अपने दिल की इच्छा पूरी करने के चक्कर में सीधा उनके दोनों छाती को चाटता हुआ कान्खो की तरफ मुंह ले गया और उसमे अपने मुंह को गार दिया. कान्खो के मांस को मुंह में भरते हुए चूमने लगा और जीभ निकाल कर चाटने लगा. कांख में जमा पसीने का नमकीन पानी मेरे मुंह के अन्दर जा रहा था मगर मेरा इस तरफ कोई ध्यान नहीं था. मैं तो कांख के पसीने के सुगंध को सूंघते हुए मदहोश हुआ जा रहा था. मुझे एक नशा सा हो गया था मैंने चाटते-चाटते पूरी कांख को अपने थूक और लार से भींगा दिया था. दीदी चिल्लाते हुए गाली दे रही थी “हायहरामी….सीईईइ…येक्याकररहाहै…..चूतखोर…..सीई….बेशरम…..कांखचाटनेकातुझेकहासेसूझा…..उफ्फ्फ्फ्फ्फ….पूरापसीनेसेभराहुआथा….सालामुझेभीगन्दाकररहाहै….. हायपूराथूकसेभींगादिया….हायमाधरचोद….येक्याकररहाहै….उफ्फ्फ्फ्फ्फ….हायमेरेपुरेबदनकोचाटरहाहै…..हायभाई……तुझेमेरेबदनसेरसटपकताहुआलगताहैक्या…..हाय…… उफ्फ्फ्फ्फ्फ….” मुझे इस बात की चिंता नहीं थी की दीदी क्या बोल रही है. मैं दुसरे कांख को चाटते हुए बोला “हायदीदी…तेराबदननशीलाहै…उम्म्म्म्म्म्म्म…..बहुतमजेदारहै….तूतोरसवंतीहै….रसवंती….तेरेबदनकोचाटनेसेजितनामजामुझेमिलताहैउतनाएकबारबियरपीथीतबभीनहींआयाथा….हाय…..दीदीतुम्हारीकान्खोमेंजोपसीनारहताहैउसकीगंधनेमुझेबहुतबारपागलकियाहै…..हायआजमौकामिलाहैतोनहींछोरुगा….तुम्हारेपुरेबदनकोचाटूंगा…..गांडमेंभीअपनीजुबानडालूँगा…हायदीदीआजमतरोकनामुझे….मैंपागलहोगयाहूँ…..उम्म्म्म्म्म्म्म्म….” दीदी समझ गई की मैं सच में आज उनको नहीं छोड़ने वाला. उनको भी मजा आ रहा था. उन्होंने अपना पूरा बदन ढीला छोर दिया था और मुझे पूरी आजादी दे दी थी. मैं आराम से उनके कान्खो को चाटने के बाद धीरे धीरे निचे की तरफ बढ़ता चला गया और पेट की नाभि को चाटते हुए दांतों से सलवार के नारे को खोल कर खीचने लगा. इस पर दीदी बोली “फारदेना….बहनचोद…पूरीतोपहलेहीफारचूकाहै….औरफारदे….” पर मैंने खींचते हुए पूरी सलवार को निचे उतार दिया और दोनों टांग फैला कर उनके बीच बैठ एक पैर को अपने हाथ से ऊपर उठा कर पैर के अंगूठे को चाटने लगा धीरे धीरे पैर की उँगलियों और टखने को चाटने के बाद पुरे तलवे को जीभ लगा कर चाटा. फिर वहां से आगे बढ़ते हुए उनके पुरे पैर को चाटते हुए घुटने और जांघो को चाटने लगा. जांघो पर दांत गाराते हुए मांस को मुंह में भरते हुए चाट रहा था. दीदी अपने हाथ पैर पटकते हुए छटपटा रही थी. मेरी चटाई ने उनको पूरी तरह से गरम कर दिया था. वो मदहोश हो रही थी. मैं जांघो के जोर को चाटते हुए पैर को हवा में उठा दिया और लप लप करते हुए कुत्ते की तरह कभी बूर कभी उसके चारो तरफ चाटने लगा फिर अचानक से मैंने जांघ पकर कर दोनों पैर हवा में ऊपर उठा दिया इस से दीदी की गांड मेरी आँखों के सामने आ गई और मैं उस पर मुंह लगा कर चाटने लगा. दीदी एक दम गरमा गई और तरपते हुए बोली “क्याकररहाहै…हायगांडकेपीछेहाथधोकरपरगया….है….सीईईईगांडमारेगाक्या….जबदेखोतबचाटनेलगताहै…उससमयभीचाटरहाथा….हायहरामी….कुत्ते….सीईई…चाटमगरयेयादरखमारनेनहींदूंगी……सालाआजतकइसमेंऊँगलीभीनहींगईहै…..औरतूकुत्ता…..जबदेखो…उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़….हायचाटनाहैतोठीकसेचाट…..मजाआरहाहै….रुकमुझेपलटनेदे……” कहते हुए पलट कर पेट के बल हो गई और गांड के निचे तकिया लगा कर ऊपर उठा दिया और बोली “लेअबचाट….कुत्ते….अपनीकुतियादीदीकीगांड….को…..बहनचोद…..बहनकीगांड….खारहाहै…..उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़बेशरम……” मेरे लिए अब और आसन हो गया था. दीदी की गांड को उनके दोनों चुत्तरों को मुठ्ठी में कसते हुए मसलते हुए खोल कर उनकी पूरी गांड की खाई में जीभ डाल कर चलाने लगा. गांड का छोटा सा भूरे रंग का छेद पकपका रहा था. होंठो को गांड के छेद के होंठो से मिलाता हुआ चूमने लगा. तभी दीदी अपने दोनों हाथो को गांड के छेद के पास ला कर अपनी गांड की छेद को फैलाती हुई बोली “हायठीकसेचाट…चाटनाहैतो….छेदपूराफैलाकर….चाट…मेराभीमनकरताथाचटवानेको…..तेरीजोवोमस्तरामकीकिताबहैनउसमेलिखाहै….हायराजू…..मुझेसबपताहै…बेटा….तूक्याक्याकरताहै….इसलिएचौंकनामत….बसवैसेहीजैसेकिताबमेंलिखाहैवैसेचाट…..हाय…जीभअन्दरडालकरचाट….हायसीईईईईई…..” मैं समझ गया की अब जब दीदी से कुछ छुपा ही नहीं है तो शर्माना कैसा अपनी जीभ को करा कर के उनकी गांड की भूरी छेद में डाल कर नचाते हुए चाटने लगा. गांड को छेद को अपने अंगूठे से पकर फैलाते हुए मस्ती में चाटने लगा. दीदी अपनी गांड को पूरा हवा में उठा कर मेरे जीभ पर नचा रही थी और मैं गांड को अपनी जीभ डाल कर चोदते हुए पूरी खाई में ऊपर से निचे तक जीभ चला रहा था. दीदी की गांड का स्वाद भी एक दम नशीला लग रहा था. कसी हुई गांड के अन्दर तक जीभ डालने के लिए पूरा जीभ सीधा खड़ा कर के गांड को पूरा फैला कर पेल कर जीभ नचा रहा था. सक सक गांड के अन्दर जीभ आ जा रही थी. थूक से गांड की छेद पूरी गीली हो गई थी और आसानी से मेरी जीभ को अपने अन्दर खींच रही थी. गांड चटवाते हुए दीदी एक दम गर्म हो गई थी और सिसकते हुए बोली“हायराजा…अबगांडचाटनाछोड़ो….हायराजा….मैंबहुतगरमहोचुकीहूँ…..हायमुझेतुने….मस्तकरदियाहै…हायअबअपनीरसवंतीदीदीकारसचूसनाछोड़और…….उसकीचुतमेंअपनामुस्लंडलौड़ाडालकरचोदऔरउसकारसनिकालदे…..हायसनम….मेरेराजा….चोददेअपनीदीदीकोअबमततड़पा….” दीदी की तड़प देख मैंने अपना मुंह उनकी गांड पर से हटाया और बोला ” हायदीदीजबआपनेमस्तरामकीकिताबपढ़ीथीतो…आपनेपढ़ातोहोगाहीकी….कैसेगांड….में…हायमेरामतलबहैकीएकबारदीदी….अपनीगांड….” दीदी इस एक दम से तड़प कर पलटी और मेरे गालो पर चिकोटी काटती हुई बोली “हायहरामी….साला…..तूजितनादीखताहैउतनासीधाहैनहीं….सीईईईइ….माधरचोद….मैंसबसमझतीहूँ….तूसालागांडकेपीछेपड़ाहुआहै…..कुत्तेमेरीगांडमारनेकेचक्करमेंतू….साले…यहाँमेरीचुतमेंआगलगीहुईहैऔरतू….हाय….नहींभाईमेरीगांडएकदमकुंवारीहैऔरआजतकमैंनेइसमेंऊँगलीभीनहींडालीहै…

हायराजूतेरालौड़ाबहुतमोटाहै….गांडछोड़करचुतमारले…मैंनेतुझेगांडचाटनेदिया….गांडकापूरामजालेलियाअबरहनेदे….” मैं दीदी की चिरौरी करने लगा. “हायदीदीप्लीज़….बसएकबार…किताबमेंलिखाहैकितनाभीमोटा…..होचलाजाताहै…हायप्लीज़बसएकबार…बहुतमजा…आताहै…मैंनेसुनाहै….प्लीज़….” मैं दीदी के पैर को चूम रहा था, चुत्तर को चूम रहा था, कभी हाथ को चूम रहा था. दीदी से मैं भीख मांगने के अंदाज में चिरौरी करने लगा. कुछ देर तक सोचने के बाद दीदी बोली ”ठीकहैभाईतूकरले….मगरमेरीएकशर्तहै….पहलेअपनेथूकसेमेरीगांडकोपूराचिकनाकरदे….याफिरथोड़ासामख्खनकाटुकड़ालेआमेरीगांडमेंडालकरएकदमचिकनाकरदेफिर….अपनालण्डडालना…डालनेकेपहले…. लण्डकोभीचिकनाकरलेना….हाँएकऔरबाततेरापानीमैंअपनीचुतमेंहीलुंगीखबरदारजो…. तुनेअपनापानीकहीऔरगिराया….गांडमारनेकेबादचुतकेअन्दरडालकरगिराना….नहींतोफिरकभीतुझेचुतनहींदूंगी… औरयादरखमैंइसकाममेंतेरीकोईमददनहींकरनेवालीमैंकुर्सीपकरकरखड़ीहोजाउंगी…..बस….” मैं राजी हो गया और तुंरत भागता हुआ रसोई से फ्रीज खोल मख्खन के दो तीन टुकड़े ले कर आ गया. दीदी तब तक सोफे वाली चेयर के ऊपर दो तकिया रख कर अपनी आधे धर को उस पर टिका कर गांड को हवा में लहरा रही थी. मैं जल्दी से उनके पीछे पहुँच कर उनके चुत्तरो को फैला कर मख्खन के टुकड़ो को एक-एक कर उनकी गांड में ठेलने लगा. गांड की गर्मी पा कर मख्खन पिघलता जा रहा था और उनकी गांड में घुस कर घुलता जा रहा था. मैंने धीरे धीरे कर के सारे टुकड़े डाल दिए फिर निचे झुक कर गांड को बाहर से चाटने लगा. पूरी गांड को थूक से लथपथ कर देने के बाद मैंने अपने लण्ड पर भी ढेर सारा थूक लगाया और फिर दोनों चुत्तरों को दोनों हाथ से फैला कर लण्ड को गांड की छेद पर लगा कर कमर से हल्का सा जोर लगाया. गांड इतनी चिकनी हो चुकी थी और छेद इतनी टाइट थी की लण्ड फिसल कर चुत्तरों पर लग गया. मैंने दो तीन बार और कोशिश की मगर हर बार ऐसा ही हुआ. दीदी इस पर बोली “देखाभाईमैंकहतीथीनकीएकदमटाइटहै….कुत्ते….मेरीबातनहींमानरहाथा…किताबमेंलिखीहरबात…..सचनहीं….हायतूतो….बेकारमें….उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़कुछहोनेवालानहीं….दर्दभीहोगा…..हाय…..चुतमेंपेलले….ऐसामतकर….” मगर मैं कुछ नहीं बोला और कोशिश करता रहा. थोड़ी देर में दीदी ने खुद से दया करते हुए अपने दोनों हाथो से अपने चुत्तरों को पकड़ कर खींचते हुए गांड के छेद को अंगूठा लगा कर फैला दिया
-
Reply
06-12-2017, 10:37 AM,
#12
RE: Behen Kavita Ki Chudai
थोड़ी देर में दीदी ने खुद से दया करते हुए अपने दोनों हाथो से अपने चुत्तरों को पकड़ कर खींचते हुए गांड के छेद को अंगूठा लगा कर फैला दिया और बोली “लेमाधरचोदअपनेमनकीआरजूपूरीकरले….सालाहाथधोकेपीछेपड़ाहै….लेअबघुसा….लण्डकासुपाड़ाठीकसेछेदपरलगाकरउसकेबाद….धक्कामार…धीरेधीरेमारना…हरामी….जोरसेमारातोगांडटेढाकरकेलण्डतोड़दूंगी…..” मैंने दीदी के फैले हुए गांड के छेद पर लण्ड के सुपाड़े को रखा और गांड तक का जोर लगा कर धक्का मारा. इस बार पक से मेरे लण्ड का सुपाड़ा जा कर दीदी की गांड में घुस गया. गांड की छेद फ़ैल गई. सुपाड़ा जब घुस गया तो फिर बाकी काम आसान था क्योंकि सबसे मोटा तो सुपाड़ा ही था. पर सुपाड़ा घुसते ही दीदी की गांड परपराने लगी. वो एक दम से चिल्ला उठी और गांड खींचने लगी. मैंने दीदी की कमर को जोर से पकड़ लिया और थोड़ा और जोर लगा कर एक और धक्का मार दिया. लण्ड आधा के करीब घुस गया क्योंकि गांड तो एक दम चिकनी हो रखी थी. पर दीदी को शायद दर्द बर्दाश्त नहीं हुआ चिल्लाते हुए बोली “हरामी….कुत्ते…कहतीथी….मतकर… माधरचोद….पीछेपड़ाहुआथा…..साले….हरामी….छोड़….. हाय…मेरीगांडफटगई…उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़….सीईईईई….अबऔरमतडालना….हरामी….तेरीमाँकोचोदु…..मतडाल….. हायनिकलले…निकललेभाई….गांडमतमार….हायचुतमारले….हायदीदीकीगांडफारकरक्यामिलेगा….सीईईईईइ…आईईईईईइ……..मररररर….गईइइइ …..” दीदी के ऐसे चिल्लाने पर मेरी गांड भी फट गई और मैं डर रुक गया और दीदी की पीठ और गर्दन को चूमने लगा और हाथ आगे बढा कर उनकी दोनों लटकती हुई चुचियों को दबाने लगा. मेरी जानकारी मुझे बता रही थी की अगर अभी निकल लिया तो फिर शायद कभी नहीं डालने देगी इसलिए चुप-चाप आधा लण्ड डाले हुए कमर को हलके हलके हिलाने लगा. कुछ देर तक ऐसे करने और चूची दबाने से शायद दीदी को आराम मिल गया और आह उह करते हुए अपनी कमर हिलाने लगी. मेरे लिए ये अच्छा अवसर था और मेल भी धीरे धीरे कर के एक एक इंच लण्ड अन्दर घुसाता जा रहा था. हम दोनों पसीने पसीने हो चुके थे. थोड़ी देर में ही मेरी मेहनत रंग लाइ और मेरा लण्ड लगभग पूरा दीदी की गांड में घुस गया. दीदी को अभी भी दर्द हो रहा था और वो बड़बड़ा रही थी. मैं दीदी को सांत्वना देते हुए बोला“बसदीदीहोगयाअब….पूराघुसचूकाहै…थोड़ीदेरमेंलौड़ा….सेटहोकरआपकोमजादेनेलगेगा….हाय…परेशाननहींहो….मैंखुदसेशर्मिंदाहूँकीमेरेकारणआपकोइंतनीपरेशानीझेलनीपड़ी….अभीसबठीकहोजाएगा….” दीदी मेरी बात सुन कर अपनी गर्दन पीछे कर मुस्कुराने की कोशिश करती बोली “नहींभाई…इसमेंशर्मिंदाहोनेकीकोईबातनहींहै…हमआपसमेंमजालेरहेहै….इसलिएइसमेंमेराभीहाथहै……भाईतूऐसामतसोच….मेरेभीदिलमेंथाकीमैंगांडमरवानेकास्वादलू….अबजबहमकरहीरहेहैतो….घबरानेकीकोईजरुरतनहींहै….तुमपूराकरलोपरयादरखना….अपनापानीमेरीचुतमेंहीछोड़ना…लोमारोमेरीगांड…मैंभीकोशिशकरतीहूँकीगांडकोकुछढीलाकरदू….”ऐसा बोल कर दीदी भी धीरे धीरे अपनी कमर को हिलाने लगी. मैं भी धीरे धीरे कमर हिला रहा था. कुछ देर बाद ही सक सक करते हुए मेरा लण्ड उनकी गांड में आने-जाने लगा. अब जाकर शायद कुछ ढीला हो रहा था. दीदी के कमर हिलाने में भी थोड़ी तेजी आ गई, इसलिए मैंने अपनी गांड का जोर लगाना शुरू कर दिया और तेजी से धक्के मारने लगा. एक हाथ को उनकी कमर के निचे ले जाकर उनकी बूर के टीट को मसलने लगा और चुत को रगड़ने लगा. उनकी चुत पानी छोड़ने लगी. दीदी को अब मजा आ रहा था. मैं अब कचाकाच धक्का लगाने लगा और एक हाथ उनके चुचियों को थाम कर लण्ड को गांड के अन्दर-बाहर करने लगा. चुत से चार गुना ज्यादा टाइट दीदी की गांड लग रही थी. दीदी अपनी गांड को हिलाते हुए बोली ” हायभाईमजाआरहाहै…..सीईईईई….बहुतअच्छालगरहाहै……शुरुरमेंतोदर्दकररहाथा…..मगरअबअच्छालगरहाहै…..सीईईईई…..हायराजा….मारोधक्का…जोरजोरसेचोदोअपनीदीदीकीगांडको……हायसैयांबताओअपनीदीदीकीगांडमारनेमेंकैसालगरहाहै…..मजाआरहाहैकीनहीं…..मेरीटाइटगांडमारनेमें…. बहनकीगांडमारनेकाबहुतशौकथानातुझे…. तोमनलगाकरमार….हायमेरीचुतभीपानीछोड़नेलगीहै….हायजोरसेधक्कामार….अपनीबहनकोबीबीबनालियाहै….तोमनलगाकरबीबीकीसेवाकर….हायराजासीईईईईईइ…..बहनचोदबहुतमजाआरहाहै…..सीईईईईइ….उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़…..” मैं भी अब पूरा जोर लगा कर धक्का मारते हुए चिल्लाया ” हायदीदीसीईईई….बहुतटाइटहैतुम्हारीगांड….मजाआगया….हायएकदमसंकरीछेदहै….ऊपरनिचेजहाँकेछेदमेंलौड़ाडालोवहीकेछेदमेंमजाभराहुआहै….हायदीदीसाली….मजाआगया….सचमेंतुमबहुतमजेदारहो….. बहुतमजाआरहाहै….सीईईईई….मैंतोपागलहाय….मैंतोपूराबहनचोदबनगयाहूँ…..मगरतुमभीतोभाईचोदीबहनहोमेरीडार्लिंगसिस्टर…..हायदीदीआजतोमैंतुम्हारीबूरऔरगांडदोनोंफारकररखदूंगा…..” तभी मुझे लगा की इतनी टाइट गांड मारने के कारण मेरा किसी भी समय निकल सकता है. इसलिए मैंने दीदी से कहा की “दीदी…मेराअबनिकलसकताहै…तुम्हारीगांडबहुतटाइटहै….इतनीटाइटगांडमारनेसेमेरातोछिलगयाहैमगर…..बहतुमजाआया….अबमैंनिकालसकताहूँ….हायबोलोदीदीक्यामैंतुम्हारीगांडसेनिकलकरचुतमेंडालूयाफिर…..तुम्हारीगांडमेंनिकलदू….बोलोनमेरीलण्डखोरबहन….सालीमैंतुम्हारेचुतमेंझारूयाफिर….गांडमेंझारू…..हायमेरीरंडीदीदी…..” दीदी अपनी गांड नाचते हुए बोली ” माधरचोद….मुझेरंडीबोलताहै….सालेअगरनहींदियाहोतातोमुठमारतारहजाता….हायअगरनिकलनेवालाहैतोभोसरीकेपूछक्यारहाहै…..जल्दीसेगांडसेनिकलचुतमेंडाल….” मैंने सटक से लौड़ा खिंचा और दीदी भी उठ कर खड़ी हो गई और बिस्तर पर जा कर अपनी दोनों टांग हवा में उठा कर अपने जन्घो को फैला दिया. लगभग कूदता हुआ उनके जांघो बीच घुस गया और अपना तमतमाया हुआ लौड़ा गच से उनकी चुत में डाल कर जोर दार धक्के मारने लगा. दीदी भी निचे से गांड उछल कर धक्का लेने लगे और चिल्लाने लगी ” हायराजामारो….जोरसेमारो…अपनीबहनबीबीकी…हायमेरेसैयां…बहुतमजाआरहाहै…इतनामजाकभीनहींमिला….मेरेभाईमेरेपति….अबतुम्हीमेरेपतिहो…हायराजामैंतुमसेशादीकरुँगी….हायअबतुम्हीमेरेसैयांहो….मेरेबालम….माधरचोद….लेअपनीदीदीकीकीचुतकामजा….पूराअन्दरतकलौड़ाडालकर…चुतमेंपानीछोरो….माधरचोद…” मैं भी चिल्लाते हुए बोला ” हारंडीमैंतेरेसेशादीकरूँगा…मेरेलण्डकापानीअपनीचुतमेंले….हायमेरानिकलनेवालाहै….हायसीईईईईइ………लेले….” और दीदी को कस कर अपनी बाँहों में चिपका झरने लगा. उसी समय वो भी झरने लगी.
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Porn Kahani हलवाई की दो बीवियाँ और नौकर sexstories 136 20,898 Yesterday, 12:47 PM
Last Post: sexstories
  चूतो का समुंदर sexstories 659 843,432 08-21-2019, 09:39 PM
Last Post: girdhart
Star Adult Kahani कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास sexstories 171 51,397 08-21-2019, 07:31 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Sex Kahani दिल दोस्ती और दारू sexstories 155 33,009 08-18-2019, 02:01 PM
Last Post: sexstories
Star Parivaar Mai Chudai घर के रसीले आम मेरे नाम sexstories 46 77,535 08-16-2019, 11:19 AM
Last Post: sexstories
Star Hindi Porn Story जुली को मिल गई मूली sexstories 139 33,590 08-14-2019, 03:03 PM
Last Post: sexstories
Star Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार sexstories 45 70,034 08-13-2019, 11:36 AM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Incest Kahani माँ बेटी की मज़बूरी sexstories 15 25,949 08-13-2019, 11:23 AM
Last Post: sexstories
  Indian Porn Kahani वक्त ने बदले रिश्ते sexstories 225 110,829 08-12-2019, 01:27 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna तूने मेरे जाना,कभी नही जाना sexstories 30 46,536 08-08-2019, 03:51 PM
Last Post: Maazahmad54

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Sariwali bhabhiya full sexy movieskamna ki kaamshakti sex storiesBata ni mamei ko chada naiसेकसिमहिल औरत गाङ बातयmharitxxxathiya shetty sexy chut chodi image www sex baba. comwidhwa didi maa na pariwar ma bata ko rakhail banaya hot stories sex baba .comSexy jannat fudi shaved picbur dikha khol tanki safai chudai chachinude fakes mouni roy sexbavaMe aur mera baab ka biwi xxx moviema ki adhuri icha sex baba.netek ladki ne apni chut ko chudbaya ghane jangal me jhopdi me photo ke saath new hindi kahanine kosame puvvulu pettukoni vachanu sex storiesRemote Se Kar Ka Rang chalta hai aur ladki ke kapde Tod Dete Hain Remote Se Vaali video sexy xxxup xnxx netmuh me landslutty actress sexbabagril gand marke chodama xxxतेलगू बणी गाड वाली आनटी की चुदाईpuri nanga stej dansh nanga bubs hilatiबीच पर मा की चुदाइxxx mouni roy ki nangi images sex babaPorn videos dawnlode kay se kareचुदाई के लिए तड़पती हुई फुली चुत की चुदाई विडियोऐसी कोनसी जीज है जिससे लिंग लंबा और मोटा होता हैkandoom nangi h.d xxxx upay photowww.ind.punjabi.hiroin.pic.xxx.laraj.sizebollywood actor ananya pandya ki pussy and boobs videosXnxxhdmaa ne bete se chudwaiBaji k baray dhud daikhybody venuka kannam puku videosmeri wife chut chatvati haiEklota pariwar sex stories pregnant kahanimammy ko nangi dance dekhaxxx photo moote aaort keMastram anterwasna tange wale ka . . .sexybur jhaat massagekajal agarwal sexbaba Chut ko sehlauar boobs chusnaxnxxbhosda hdwww tv serial heroine shubhangi atre nude fucked video image.natana Manju heroine ke nange wallpaperpadhos ko rat me choda ghrpe sexy xxnxphotoxxxbdiNepal me fucking dikhao pant shirt meमाँ बेटी की गुलाम बनी porn storiesKalki Koechlin sexbabahindi photossex malvikaNangi TodxnxxNIRODH pahnakaR XXX IMAGEbehen ko chodhker badla liya .gaand tatti chudai kahaniyaroorkee samlegi sexSksi kustiindian girls fuck by hish indianboy friendsswww89 bacha dilvaricamsin hindixxxxxBibi ki chuchi yoni chusni chhia kya.comSabake samane nanga kiya mom nachaya sex storyXnxschool ko girl jabrjastisexi hindi aideo ghand pelawww.comwife and husband sex timelo matlade sex mataShruti hassanxxx saxxy fotosexx.com. padosi story sexbaba hhndi.पंजाबी भाभी बरोबर सेक्स मराठी कथा nagan karkebhabhi ko chodaसेकसी बुर मे लोरा देता हुआ बहुत गंधा फोटोKahlidaki ki sexy-kahani hindigooru ghantal ki xxx kahaniyaKamasutr Hindi sex full sotri movie पपी चुस चुमा लिया सेसी विडीयोanti ne maa se badla liya sex story