गीता चाची -Geeta chachi
06-08-2017, 08:09 PM,
#1
गीता चाची -Geeta chachi
गीता चाची


लेखक-कथा प्रेमी

दोस्तो ये कहानी मैने पीडीएफ फ़ॉर्मेट मे पढ़ी थी आज मैं आपके लिए इसे टेक्स्ट मे लेकर हाजिर हूँ दोस्तो इन पुरानी कहानियों का जबाब नही है ये लाजबाब हैं उम्मीद करता हूँ मेरी ये कोशिस आपको पसंद आएगी

चाचाजी के बार बार आग्रह भरे खत आने से आख़िर मैंने यहा गर्मी की छुट्टी अपने गाँव वाले घर में बिताने का फ़ैसला किया. मैं जब गाँव पहुँचा तो चाचाजी बहुत खुश हुए. चाची को पुकारते हुए बोले. "लो, अनिल आ गया तुम्हारा साथ देने को. अनिल बेटे, अब मैं निश्चिंत मन से दौरे पर जा सकता हूँ नहीं तो महीना भर अकेले रह कर तुम्हारी चाची बोर हो जाती." 

गीता चाची मुस्कराती हुई मेरी ओर देखकर बोली. "हाँ लल्ला, बहुत अच्छा किया जो आ गये. वैसे मैंने अपनी भांजी को भी चिठ्ठी लिखी है, शायद वो भी आ जाए अगले हफ्ते. तेरे आने का पक्का नहीं था ना इसलिए" 

चाचाजी सामान अपनी बैग में भरते हुए बोले. "चलो, दो से तीन भले. मैं तो चला. भाग्यवान सभाल कर रहना. वैसे अब अनिल है तो मुझे कोई चिंता नहीं. अनिल बेटे चाची का पूरा ख़याल रखना, उसकी हर ज़रूरत पूरी करना, अब महीने भर घर को और चाची को तेरे सहारे ही छोड़. कर जा रहा हूँ" चाचाजी ने बैग उठाई और दौरे पर निकल गये. 

मेरे राजीव चाचा बड़े हैम्डसम आदमी थे. गठीला स्वस्था बदन और गेहुआँ रंग . मेरे पिताजी के छोटे भाई थे और गाँव के बड़े पुश्तैनी घर में रहते थे. वहीं रहकर एक अच्छी कंपनी के लिए आस पास के शहरों में मार्केटिँग की नौकरी करते थे इसलिए अक्सर बाहर रहते थे. गाँव के घर में चाची के सिवाय और कोई नहीं था. चाचाजी ने पाँच साल पहले बत्तीस की आयु में शादी की थी, वह भी घर वालों की ज़िद पर, नहीं तो शादी करने का उनका कभी इरादा नहीं था. 

गीता चाची उनसे सात आठ साल छोटी थीं. वे शादी में सिर्फ़ पच्चीस छब्बीस साल की होंगी. उन्हें अब तक कोई संतान नहीं हुई थी. घर वालों को इसमें कोई आश्चर्य नहीं हुआ था क्योंकि चाचाजी को पहले से ही शादी मे दिलचस्पी नहीं थी. मुझे तो लगता है कि उन्होंने कभी गीता चाची का चुंबन भी नहीं लिया होगा, संभोग तो दूर की बात रही. 

मैं चाचाजी की शादी में छोटा था, करीब दस ग्यारह साल का रहा होऊंगा. तब शादी के जोड़े में लिपटी वह कमसिन सुंदर चाची मुझे बहुत भा गयी थीं. उसके बाद इन पाँच सालों में मैं उन्हें बस एक बार दो दिन के लिए मिला था. गाँव आने का मौका भी नहीं मिला. आज उन्हें फिर देखा कर मुझे बड़ा अच्छा लगा. सच बात तो यह है कि बहुत संयम बरतने पर भी ना मान कर मेरा लंड खड़ा होने लगा.

मुझे बड़ा अटपटा लगा क्योंकि चाचाजी की मैं इज़्ज़त करता था. उनकी जवान पत्नी की ओर मेरे ऐसे विचार मन में आने से मुझे शर्म सी लगी. पर एक तो मेरा सोलह साल का जोश, दूसरे गीता चाची का भरपूर जोबन. वे अब तीस इकतीस साल की भरी पूरी परिपक्व जवान महिला थीं और घूँघट लिए हुए साड़ी साड़ी में भी उनका रूप छुपाए नहीं छुप रहा था. 

वे बड़ा सा सिंदूर लगाई हुई थीं और बिना लिपस्टिक के भी उनके कोमल उभरे होंठ लाल लाल गुलाब की पंखुड़ियो से लग रहे थे. साड़ी उनके बदन में लिपटी हुई थी, फिर भी उसमें से भी उनके वक्ष का उभार नहीं छुपता था. हरी चूड़ियाँ पहने उनकी गोरी बाँहें देखा कर सहसा मेरे मन में विचार आ गया कि चाची का बदन नग्न कैसा दिखेगा? अपने इस कामुक मन पर मैंने फिर अपने आप को कोस डाला. 
-
Reply
06-08-2017, 08:09 PM,
#2
RE: गीता चाची -Geeta chachi
मेरी नज़र शायद उन्होंने पहचान ली थी क्योंकि मेरी ओर देखकर चाची बड़ी शरारती नज़र से देख कर बोलीं. "कितने जवान हो गये हो लल्ला, इतना सा देखा था तुझे. शादी कर डालो अब, गाँव के हिसाब से तो अब तक तुम्हारी बहू आ जाना चाहिए."

उनके बोलने के और मेरी ओर देखने के अंदाज से मैं एक बात तुरंत समझ गया. गीता चाची बड़ी "चालू" चीज़ थीं. कम से कम मेरे साथ तो बहुत इतरा रही थीं. मैं थोड़ा शरमा कर इधर उधर देखने लगा. 

हम अब अकेले थे इसलिए वी घूँघट छोड़. कर अपने कपड़े ठीक करते हुए मुझसे गप्पें लगाने लगी. उनके बाल भी बड़े लंबे खूबसूरत थे जिसका उन्होंने जुड़ा बाँध रखा था. "चाय बना कर लाती हूँ लल्ला." कहकर वे चली गयीं. अब साड़ी उनकी कमर से हट गयी थी और उस गोरी चिकनी कमर को देखकर और उनके नितंब डुलाकर चलने के अंदाज से ही मेरा लंड और कस कर खड़ा हो गया.

वे शायद इस बात को जानती थीं क्योंकि जान बुझ कर अंदर से पुकार कर बोलीं. "यहीं रसोई में आ जाओ लाला. हाथ मुँह भी धो लो" मेरा ऐसा कस कर खड़ा था कि मैं उठ कर खड़ा होने का भी साहस नहीं कर सकता था, चल कर उनके सामने जाने की तो दूर रही. "बाद में धो लूँगा चाची, नहा ही लूँगा, चाय आप यहीं ले आइए ना प्लीज़." 

वे चाय ले कर आईं. मेरी ओर देखने का अंदाज उनका ऐसा था कि जैसे सब जानती थीं कि मेरी क्या हालत है. बातें करते हुए बड़ी सहज रीति से उन्होंने अपना ढला हुआ आँचल ठीक किया. यह दस सेकंड का काम करने में उन्हें पूरे दो मिनिट लगे और उन दो मिनिटों में पाँच छह बार नीचे झुककर उन्होंने अपनी साड़ी की चुन्नटे ठीक कीं. 

इस सारे कार्य का उद्देश्य सिर्फ़ एक था, अपने स्तनों का उभार दिखा कर मेरा काम तमाम करना जिसमें गीता चाची शत प्रतिशत सफल रहीं. उस लाल लो-काट की चोली में उनके उरोज समा नहीं पा रहे थे. जब वे झुकीं तो उन गोरे मांसल गोलों के बीच की खाई मुझे ऐसी उत्तेजित कर गई कि अपने हाथों को मैंने बड़ी मुश्किल से अपने लंड पर जाने से रोका नहीं तो हस्तमैथुन के लिए मैं मरा जा रहा था.
-
Reply
06-08-2017, 08:09 PM,
#3
RE: गीता चाची -Geeta chachi
मेरा हाल देखा कर चाची ने मुझ पर तरस खाया और अपना छिछोरापन रोक कर मेरा कमरा ठीक करने को उपर चली गईं. मुझे अपना लंड बिताने का समय देकर कुछ देर बाद बातें करती हुई मुझे कमरे में ले गयी. "शाम हो गयी है अनिल, तुम नहा लो और नीचे आ जाओ. मैं खाने की तैयारी करती हूँ." 

"इतनी जल्दी खाना चाची?" मैंने पूछा. वे मेरी पीठ पर हाथ रख कर बोलीं. "जल्द खाना और जल्द सोना, गाँव में तो यही होता है लल्ला. तुम भी आदत डाल लो." और बड़े अर्थपूर्ण तरीके से मेरी ओर देखकर वे मुस्कराने लगीं.

मैं हडबड़ा गया. किसी तरह अपने आप को समहाल कर नहाने जाने लगा तो पीछे से चाची बोली. "जल्दी नहाना अच्छे बच्चों जैसे, कोई शरारत नहीं करना अकेले में" और खिलखिलाती हुई वे सीढ़ियाँ उतर कर रसोई में चली गईं. मैं थोड़ा शरमा गया क्योंकि मुझे लगा कि उनका इशारा इस तरफ था कि नहाते हुए मैं हस्तमैथुन ना करूँ.

चाची के इस खेल से मेरे मन में एक बड़ी हसीन आशा जाग उठी. और वह आशा विश्वास में बदल गयी जब मैं नहा कर रसोई में पहुँचा. अब मैं पूरी तैयारी से आया था. मन मार कर किसी तरह मैंने अपने आप को हस्तमैथुन करने से रोका था. बाद में लंड को खड़ा पेट से सटाकर और जांघिया पहनकर उपर से उसी पर मैंने पाजामे की नाड़ी बाँध ली थी और उपर से कुर्ता पहन लिया था. अब मैं चाहे जितना मज़ा ले सकता था, लंड खड़ा भी होता तो किसी को दिखता नहीं. 

चाची रसोई की तैयारी कर रही थीं. मैं वहीं कुर्सी पर बैठ कर उनसे बातें करने लगा. चाची ने कुछ बैंगन उठाए और हांसिया लेकर उन्हें काटने मेरे सामने ज़मीन पर बैठ गयीं. अपनी साड़ी घुटनों के उपर कर के एक टाँग उन्होंने नीचे रखी और दूसरी मोड. कर हँसिए के पाट पर अपना पाँव रखा. फिर वे बैंगन काटने लगीं.

उनकी गोरी चिकनी पिंडलियों और खूबसूरत पैरों को मैं देखता हुआ मज़ा लेने लगा. वे बड़े सहज भाव से सब्जी काट रही थीं. अचानक मुझे जैसे शौक लगा और मेरा लंड ऐसे उछला जैसे झड. जाएगा. हुआ यहा कि चाची ने आराम से बैठने को थोड़ा हिल डुलकर अपनी टाँगें और फैलाईं. इस से उनकी गोरी नग्न जांघें तो मुझे दिखी हीं, उनके बीच काले घने बालों से आच्छादित उनके गुप्ताँग का भी दर्शन हुआ. गीता चाची ने साड़ी के नीचे कुछ नहीं पहना था!
-
Reply
06-08-2017, 08:09 PM,
#4
RE: गीता चाची -Geeta chachi
मैं शरमा गया और बहुत उत्तेजना भी हुई. पहले मैने यह समझा कि उन्हें पता नहीं है कि उनका सब खजाना मुझे दिख रहा है इसलिए झेंप कर नज़र फिरा कर दूसरी ओर देखकर मैं उनसे बातें करने लगा. पर वे कहाँ मुझे छोड़ने वाली थीं. दो ही मिनिट में शरारत भरे अंदाज में वी बोलीं. "चाची क्या इतनी बुरी है लल्ला की बात करते समय उसकी ओर देखना भी नहीं चाहते?" 

मैंने मुड. कर उनकी ओर देखा और कहा. "नहीं चाची, आप तो बहुत सुंदर हैं, अप्सरा जैसी, मुझे तो लगता है आप को लगातार देखता रहूं पर आप बुरा ना मान जाएँ इसलिए घूरना नहीं चाहता था." 

"तो देखो ना लाला. ठीक से देखो. मुझे भी अच्छा लगता है कि तेरे जैसा कोई प्यारा जवान लडका प्यार से मुझे देखे. और फिर तो तू मेरा भतीजा है, घर का ही लड़का है, तेरे तकने को मैं बुरा नहीं मानती" कहकर उस मतवाली नारी ने अपनी टाँगें बड़ी सहजता से और फैला दीं और बैंगन काटती रही. 

अब तो शक की कोई गुंजाइश ही नहीं थी. चाची मुझे रिझा रही थीं. मैं भी शरम छोड़. कर नज़र गढ़ा कर उनके उस मादक रूप का आनंद लेने लगा. गोरी फूली बुर पर खूब रेशमी काले बाल थे और मोटी बुर के बीच की गहरी लकीर थोड़ी खुल कर उसमें से लाल लाल योनिमुख की भी हल्की झलक दिख रही थी. 

पाँच मिनिट के उस काम में चाची ने पंद्रह मिनिट लगाए और मुझसे जान बुझ कर उकसाने वाली बातें कीं. मेरी गर्ल फ्रेन्ड्स हैं या नहीं, क्यों नहीं हैं, आज के लडके लड़कियाँ तो बड़े चालू होते हैं, मेरे जैसा सुंदर जवान लडक अब तक इतना दबा हुआ क्यों है इत्यादि इत्यादि. मैं समझ गया कि चाची ज़रूर मुझ पर मेहरबान होंगी, शायद उसी रात. मैं खुश भी हुआ और चाचाजी का सोच कर थोड़ी अपराधीपन की भावना भी मन में हुई.

आख़िर चाची उठीं और खाना बनाने लगीं. मैं बाहर के कमरे में जाकर किताब पढने लगा. अपनी उबलती वासना शांत करने का मुठ्ठ मारने के सिवाय कोई चारा नहीं था इसलिए मन लगाकर जो सामने दिखा, पढता रहा. कुछ समय बाद चाची ने खाने पर बुलाया और हम दोनों ने मिल कर बिलकुल यारों जैसी गप्पें मारते हुए खाना खाया. 

खाना समाप्त करके मैं अपने कमरे में जाकर सामान अनपैक करने लगा. सोच रहा था कि चाची कहाँ सोती हैं और आज रात कैसे कटेगी. तभी वे उपर आईं और मुझे छत पर बुलाया. "अनिल, यहाँ आ और बिस्तर लगाने में मेरी मदद कर." 

मैं छत पर गया. मेरा दिल डूबा जा रहा था. गरमी के दिन थे. सॉफ था कि सब लोग बाहर खुले में सोते थे. ऐसी हालत में क्या बात बननी थी चाची के साथ. छत पर दो खाटे थीं. हमने उनपर गद्दियाँ बिछाईं. "गरमी में बाहर सोने का मज़ा ही और है लाला" कहा कर मुझे चिढ़ाती हुई वे मच्छरदानियाँ लेने चली गयीं.
-
Reply
06-08-2017, 08:10 PM,
#5
RE: गीता चाची -Geeta chachi
वापस आईं तो दोनों मच्छरदानियाँ फटी निकलीं. गीता चाची मेरी नज़रों में नज़र डाल कर बोलीं. "मच्छर तो बहुत हैं अनिल, सोने नहीं देंगे. गरमी इतनी है कि नीचे सोया नहीं जाएगा. ऐसा कर, तू खाटे सरकाकर मिला ले, मैं डबल वाली मच्छरदानी ले आती हूँ. तू शरमाएगा तो नहीं मेरे साथ सोने में? वैसे मैं तेरी चाची हूँ, माँ जैसी ही समझ ले." 

मैं शरमा कर कुछ बुदबूदाया. चाची मंद मंद मुस्कराकर डबल मच्छरदानी लेने चली गयीं. वापस आईं तो हम दोनों उसे बाँधने लगे. मैंने साहस करके पूछा. "चाची, आजू बाजू वाले देखेंगे तो नहीं." वी हँस पडी. "इसका मतलब है तूने छत ठीक से नहीं देखी." मैंने गौर किया तो समझ गया. आस पास के घरों से हमारा मकान बहुत उँचा था. दीवाल भी अच्छी उँची थी. बाहर का कोई भी छत पर नहीं देख सकता था. 

तभी चाची ने मीठा ताना मारा. "और लोग देखें भी तो क्या हुआ बेटे. तू तो इतना सयाना बच्चा है, तुरंत सो जाएगा सिमट कर." मैंने मन ही मन कहा की चाची मौका दो तो दिखाता हूँ की यहा बच्चा तुम्हारे मतवाले शरीर का कैसे रस निकालता है. 

आख़िर चाची नीचे जाकर ताला लगाकर बत्ती बुझाकर उपर आईं. मैं तब तक मच्छरदानी खोंस कर अपनी खाट पर लेट गया था. चाची भी दूसरी ओर से अंदर आकर दूसरी खाट पर लेट गईं. 

पास से चाची के बदन की मादक खुशबू ने फिर अपना जादू दिखाया और मेरा मस्त खड़ा हो गया. चाची भी गप्पें मारने के मूड में थीं और फिर वही गर्ल फ्रेन्ड वाली बातें मुझसे करने लगीं. मेरा लंड अब तक अपनी लगाम से छूटकर पाजामे में तम्बू बना कर खड़ा हो गया था. 

हल्की चाँदनी थी इसलिए काफ़ी सॉफ सब दिख रहा था. लंड के तम्बू को छुपाने के लिए मैं करवट बदल कर पीठ चाची की ओर करके लेट गया तो हँस कर उन्होंने मेरी कमर में हाथ डालकर मुझे फिर अपनी ओर मोडा. "शरमाओ मत लल्ला, क्या बात है, ऐसे क्यों बिचक रहे हो?"
-
Reply
06-08-2017, 08:10 PM,
#6
RE: गीता चाची -Geeta chachi
मुझे अपनी ओर खींचते हुए उनका हाथ मेरे लंड को लगा और वे हँसने लगीं. " तो यह बात है, सचमुच बड़ा हो गया है मेरा प्यारा भतीजा. पर यह क्यों हुआ रे, किसी गर्लफ़्रेंड की याद आ रही है?" कह कर उन्होंने सीधा पाजामे के उपर से ही मेरे लंड को पकड़. लिया और सहलाने लगीं. 

अब तो मेरा और रुकना मुश्किल था. मैं सरक कर उनकी ओर खिसका और उनके शरीर पर अपनी बाँह डालकर चिपट गया जैसे बच्चा माँ से चिपटता है. उनके सीने में मुँह छुपाकर मैं बोला. "चाची क्यों तरसाती हैं मुझे? आप को मालूम है कि आपके रूप को देखकर शाम से मेरा क्या हाल है." 

चाची ने मेरा मुँह उपर किया और ज़ोर से मुझे चूम लिया. "तो मेरा भी हाल कुछ अच्छा नहीं है लल्ला. तेरे इस प्यारे जवान शरीर को देखकर मेरा क्या हाल है, मैं ही जानती हूँ." 

कुछ भी बातें करने का अब कोई मतलब नहीं था. हम दोनों ही बुरी तरह से कामातुर थे. एक दूसरे को लिपट कर ज़ोर ज़ोर से एक दूसरे के होंठ चूमने लगे. चाची के उन रसीले होंठों के चुंबन ने कुछ ही देर में मुझे चरम सुख की कगार पर लाकर रख दिया. उनका आँचल अब ढल गया था और चोली में से उबल कर बाहर निकल रहे वे उरोज मेरी छाती से भिड़े हुए थे. मेरा उत्तेजित शिश्न कपडो के उपर से ही उनकी जांघों को धक्के मार रहा था.

मेरे मुँह से एक सिसकारी निकली और चाची ने चुंबन तोड. कर मेरे लंड को टटोला और फिर मुझे चित लिटा दिया. "लल्ला अब तुम्हारी खैर नहीं, मुझे ही कुछ उपाय करना होगा." कहकर वे मेरे बाजू में बैठ गयीं और पाजामे के बटन खोल कर मेरे जांघीए की स्लिट में से उन्होंने मेरा उछलता लंड बाहर निकाल लिया.
-
Reply
06-08-2017, 08:10 PM,
#7
RE: गीता चाची -Geeta chachi
chaachaajee ke baar baar aagraha bhare khat aane se aakhir maimne yaha garmee kee ChuTTee apane gaamv vaale ghar mem bitaane kaa faisalaa kiyaa. maim jab gaamv pahumchaa to chaachaajee bahut khush hue. chaachee ko pukaarate hue bole. "lo, anil aa gayaa tuMhaaraa saath dene ko. anil beTe, ab maim nishchimt man se daure par jaa sakataa hUm naheem to mahanaa bhar akele raha kar tuMhaaree chaachee bor ho jaatee." 

geetaa chaachee muskaraatee huee meree or dekhakar bolee. "haam lallaa, bahut achChaa kiyaa jo aa gaye. waise maimne apanee bhaamjee ko bhee chiThThee likhee hai, shaayad wo bhee aa jaaye agale hafte. tere aane kaa pakkaa naheem thaa naa isaliye" 

chaachaajee saamaan apanee baig mem bharate hue bole. "chalo, do se teen bhale. maim to chalaa. bhaagyawaan saMhaala kar rahanaa. waise ab anil hai to mujhe koee chimtaa naheem. anil beTe chaachee kaa pUraa khayaal rakhanaa, usakee har jarUrat pUree karanaa, ab mahane bhar ghar ko aur chaachee ko tere sahaare hee ChoD. kar jaa rahaa hUm" chaachaajee ne baig uThaayee aur daure par nikal gaye. 

mere raajeev chaachaa baD.e haimDasama aadamee the. gaTheelaa swastha badana aur gehuaam ramg . mere pitaajee ke ChoTe bhaaee the aur gaamv ke baD.e pushtainee ghar mem rahate the. waheem rahakar ek achChee kampanee ke liye aas paas ke shaharom mem maarkeTimg kee naukaree karate the isaliye aksar baahar rahate the. gaamv ke ghar mem chaachee ke siwaay aur koee naheem thaa. chaachaajee ne paamch saal pahale battees kee aayu mem shaadee kee thee, waha bhee ghar waalom kee jid par, naheem to shaadee karane kaa unakaa kabhee iraadaa naheem thaa. 

geetaa chaachee unase saat aaTh saal ChoTee theem. we shaadee mem sirf pachchees Chabbees saal kee homgee. unhem ab tak koee samtaan naheem huee thee. ghar waalom ko isamem koee aashcharya naheem huaa thaa kyomki chaachaajee ko pahale se hee shaadee me dilachaspee naheem thee. mujhe to lagataa hai ki unhomne kabhee geetaa chaachee kaa chumban bhee naheem liyaa hogaa, sambhog to dUr kee baat rahee. 

maim chaachaajee kee shaadee mem ChoTaa thaa, kareeb das gyaaraha saal kaa rahaa hoUmgaa. tab shaadee ke joD.e mem lipaTee waha kamasin sumdar chaachee mujhe bahut bhaa gayee theem. usake baad in paamch saalom mem maim unhem bas ek baar do din ke liye milaa thaa. gaamv aane kaa maukaa bhee naheem milaa. aaj unhem fir dekha kar mujhe baD.aa achChaa lagaa. sach baat to yaha hai ki bahut samyama baratane par bhee na maan kar meraa lamD khaD.aa hone lagaa.

mujhe baD.aa aTapaTaa lagaa kyomki chaachaajee kee maim ijjat karataa thaa. unakee jawaan patnee kee or mere aise wichaar man mem aane se mujhe sharma see lagee. par ek to meraa solaa saal kaa josh, dUsare geetaa chaachee kaa bharapUr joban. we ab tees ikatees saal kee bharee pUree paripakwa jawaan mahilaa theem aur ghUmghaT liye hue saadee saaD.ee mem bhee unakaa rUp Chupaaye naheem Chup rahaa thaa. 

we baD.aa saa simdUr lagaayee huee theem aur binaa lipasTik ke bhee unake komal ubhare homTh laal laal gulaab kee pamkhuD.iyom se lag rahe the. saaD.ee unake badan mem lipaTee huee thee, fir bhee usamem se bhee unake vakSha kaa ubhaar naheem Chupataa thaa. haree chUD.iyaam pahane unakee goree baamhem dekha kar sahasaa mere man mem vichaar aa gayaa ki chaachee kaa badan nagna kaisaa dikhegaa? apane is kaamuk man par maimne fir apane aap ko kos Daalaa. 

meree najar shaayad unhomne pahachaan lee thee kyomki meree or dekhakar chaachee baD.ee sharaaratee najar se dekha kar boleem. "kitane jawaan ho gaye ho lallaa, itanaa saa dekhaa thaa tujhe. shaadee kar Daalo ab, gaamv ke hisaab se to aba tak tuMhaaree bahU aa jaanaa chaahiye."

unake bolane ke aur meree or dekhane ke amdaaj se maim ek baat turamt samajh gayaa. geetaa chaachee baD.ee "chaalU" cheez theem. kama se kama mere saath to bahut itaraa rahee theem. maim thoD.aa sharamaa kar idhar udhar dekhane lagaa. 

hama ab akele the isaliye we ghUmghaT ChoD. kar apane kapaD.e Theek karate hue mujhase gappem lagaane lagee. unake baal bhee baD.e lambe khUbasUrat the jisakaa unhomne jUD.aa baamdh rakhaa thaa. "chaay banaa kar laatee hUm lallaa." kahakar we chalee gayeem. ab saaD.ee unakee kamar se haT gayee thee aur us goree chikanee kamar ko dekhakar aur unake nitamb Dulaakar chalane ke amdaaj se hee meraa lamD aur kas kar khaD.aa ho gayaa.

we shaayad is baat ko jaanatee theem kyomki jaan bUjh kar amdar se pukaar kar boleem. "yaheem rasoee mem aa jaao laalaa. haath mumha bhee dho lo" meraa aisaa kas kar khaD.aa thaa ki maim uTh kar khaD.aa hone kaa bhee saahas naheem kar sakataa thaa, chal kar unake saamane jaane kee to dUr rahee. "baad mem dho lUmgaa chaachee, nahaa hee lUmgaa, chaay aap yaheem le aaiye naa pleez." 

we chaay le kar aayeem. meree or dekhane kaa amdaaj unakaa aisaa thaa ki jaise sab jaanatee theem ki meree kyaa haalat hai. baatem karate hue baD.ee sahaj reeti se unhomne apanaa Dhalaa huaa aamchal Theek kiyaa. yaha das sekamD kaa kaama karane mem unhem pUre do miniT lage aur un do miniTom mem paamch Chaha baar neeche jhukakar unhomne apanee saaD.ee kee chunnaTem Theek keem. 

is saare kaarya kaa uddeshya sirf ek thaa, apane stanom kaa ubhaar dikhaa kar meraa kaama tamaama karanaa jisamem geetaa chaachee shat pratishat safal raheem. us laal lo-kaT kee cholee mem unake uroj samaa naheem paa rahe the. jab we jhukeem to un gore maamsal golom ke beech kee khaaee mujhe aisee uttejit kar gaee ki apane haathom ko maimne baD.ee mushkil se apane lamD par jaane se rokaa naheem to hastamaithun ke liye maim maraa jaa rahaa thaa.

meraa haal dekha kar chaachee ne mujh par taras khaayaa aur apanaa ChiChoraapan rok kar meraa kamaraa Theek karane ko Upar chalee gaeem. mujhe apanaa lamD biThaane kaa samay dekar kuCh der baad baatem karatee huee mujhe kamare mem le gayee. "shaama ho gayee hai anil, tuma nahaa lo aur neeche aa jaao. maim khaane kee taiyaaree karatee hUm." 

"itanee jaldee khaanaa chaachee?" maimne pUChaa. we meree peeTh par haath rakh kar boleem. "jald khaanaa aur jald sonaa, gaamv mem to yahee hotaa hai lallaa. tuma bhee aadat Daal lo." aur baD.e arthapUrNa tareeke se meree or dekhakar we muskaraane lageem.

maim haD.abaD.aa gayaa. kisee taraha apane aap ko saMhaal kar nahaane jaane lagaa to peeChe se chaachee bolee. "jaldee nahaanaa achChe bachchom jaise, koee sharaarat naheem karanaa akele mem" aur khilakhilaatee huee we seeDh.iyaam utar kar rasoee mem chalee gaeem. maim thoD.aa sharamaa gayaa kyomki mujhe lagaa ki unakaa ishaaraa is taraf thaa ki nahaate hue maim hastamaithun na karUm.

chaachee ke is khel se mere man mem ek baD.ee haseen aashaa jaag uThee. aur waha aashaa vishwaas mem badal gayee jab maim nahaa kar rasoee mem pahumchaa. ab maim pUree taiyaaree se aayaa thaa. man maar kar kisee taraha maimne apane aap ko hastamaithun karane se rokaa thaa. baad mem lamD ko khaD.aa peT se saTaakar aur jaamghiyaa pahanakar Upar se usee par maimne paajaame kee naaD.ee baamdh lee thee aur Upar se kurtaa pahan liyaa thaa. ab maim chaahe jitanaa majaa le sakataa thaa, lamD khaD.aa bhee hotaa to kisee ko dikhataa naheem. 
-
Reply
06-08-2017, 08:10 PM,
#8
RE: गीता चाची -Geeta chachi
chaachee rasoee kee taiyaaree kar rahee theem. maim waheem kursee par baiTh kar unase baatem karane lagaa. chaachee ne kuCh baimgan uThaaye aur hamsiyaa lekar unhem kaaTane mere saamane jameen par baiTh gayeem. apanee saaD.ee ghuTanom ke Upar kara ke ek Taamg unhomne neeche rakhee aur dUsaree moD. kar hamsiye ke paaT par apanaa paamv rakhaa. fir we baimgan kaaTane lageem.

unakee goree chikanee pimDaliyom aur khUbasUrat pairom ko maim dekhataa huaa majaa lene lagaa. we baD.e sahaj bhaav se sabjee kaaT rahee theem. achaanak mujhe jaise shaa~mk lagaa aur meraa lamD aise uChalaa jaise jhaD. jaayegaa. huaa yaha ki chaachee ne aaraama se baiThane ko thoD.aa hila Dulakar apanee Taamgem aur failaayeem. is se unakee goree nagna jaamghem to mujhe dikhee heem, unake beech kaale ghane baalom se aachChaadit unake guptaamg kaa bhee darshan huaa. geetaa chaachee ne saaD.ee ke neeche kuCh naheem pahanaa thaa!

maim sharamaa gayaa aur bahut uttejanaa bhee huee. pahale maine yaha samajhaa ki unhem pataa naheem hai ki unakaa sab khajaanaa mujhe dikh rahaa hai isaliye jhemp kar najar firaa kar dUsaree or dekhakar maim unase baatem karane lagaa. par we kahaam mujhe ChoD.ane waalee theem. do hee miniT mem sharaarat bhare amdaaj mem we boleem. "chaachee kyaa itanee buree hai lallaa ki baat karate samaya usakee or dekhanaa bhee naheem chaahate?" 

maimne muD. kar unakee or dekhaa aur kahaa. "naheem chaachee, aap to bahut sumdar haim, apsaraa jaisee, mujhe to lagataa hai aap ko lagaataar dekhataa rahUm par aap buraa na maan jaayem isaliye ghUranaa naheem chaahataa thaa." 

"to dekho naa laalaa. Theek se dekho. mujhe bhee achChaa lagataa hai ki tere jaisaa koee pyaaraa jawaan laD.akaa pyaar se mujhe dekhe. aur fir to tU meraa bhateejaa hai, ghar kaa hee laD.akaa hai, tere takane ko maim buraa naheem maanatee" kahakar us matawaalee naaree ne apanee Taamgem baD.ee sahajataa se aur failaa deem aur baimgan kaaTatee rahee. 

ab to shak kee koee gumjaaish hee naheem thee. chaachee mujhe rijhaa rahee theem. maim bhee sharama ChoD. kar najar jaD.aa kar unake us maadak rUp kaa aanamd lene lagaa. goree fUlee bur par khUb reshamee kaale baal the aur moTee bur ke beech kee gaharee lakeer thoD.ee khul kar usamem se laal laal yonimukh kee bhee halkee jhalak dikh rahee thee. 

paamch miniT ke us kaama mem chaachee ne pamdraha miniT lagaaye aur mujhase jaan bUjh kar ukasaane waalee baatem keem. meree garl frenDs haim yaa naheem, kyom naheem haim, aaj ke laD.ake laD.akiyaam to baD.e chaalU hote haim, mere jaisaa sumdar jawaan laD.akaa ab tak itanaa dabaa huaa kyom hai ityaadi ityaadi. maim samajh gayaa ki chaachee jarUr mujh par meharabaan homgee, shaayad usee raat. maim khush bhee huaa aur chaachaajee kaa soch kar thoD.ee aparaadheepan kee bhaavanaa bhee man mem huee.

aakhir chaachee uTheem aur khaanaa banaane lageem. maim baahar ke kamare mem jaakar kitaab paDh.ane lagaa. apanee ubalatee waasanaa shaamt karane kaa muThTha maarane ke siwaay koee chaaraa naheem thaa isaliye man lagaakar jo saamane dikhaa, paDh.ataa rahaa. kuCh samaya baad chaachee ne khaane par bulaayaa aur hama donom ne mil kar bilakul yaarom jaisee gappem maarate hue khaanaa khaayaa. 

khaanaa samaapt karake maim apane kamare mem jaakar saamaan anapaik karane lagaa. soch rahaa thaa ki chaachee kahaam sotee haim aur aaj raat kaise kaTegee. tabhee we Upar aayeem aur mujhe Chat par bulaayaa. "anil, yahaam aa aur bistar lagaane mem mere madad kar." 

maim Chat par gayaa. meraa dil DUbaa jaa rahaa thaa. garamee ke din the. saaf thaa ki sab log baahar khule mem sote the. aisee haalat mem kyaa baat bananee thee chaachee ke saath. Chat par do khaaTem theem. hamane unapar gaddiyaam biChaayeem. "garamee mem baahar sone kaa majaa hee aur hai laalaa" kaha kar mujhe chiDh.aatee huee we machCharadaaniyaam lene chalee gayeem.

waapas aayeem to donom machCharadaaniyaam faTee nikaleem. geetaa chaachee meree najarom mem najar Daal kar boleem. "machChar to bahut haim anil, sone naheem demge. garamee itanee hai ki neeche soyaa naheem jaayegaa. aisaa kar, tU khaaTem sarakaakar milaa le, maim Dabal waalee machCharadaanee le aatee hUm. tU sharamaayegaa to naheem mere saath sone mem? waise maim teree chaachee hUm, maam jaisee hee samajh le." 

maim sharamaa kar kuCh budabudaayaa. chaachee mamd mamd muskaraakar Dabal machCharadaanee lene chalee gayeem. waapas aayeem to hama donom use baamdhane lage. maimne saahas karake pUChaa. "chaachee, aajU baajU waale dekhemge to naheem." we hams paD.eem. "isakaa matalab hai tUne Chat Theek se naheem dekhee." maimne gaur kiyaa to samajh gayaa. aas paas ke gharom se hamaaraa makaan bahut Umchaa thaa. deewaal bhee achChee Umchee thee. baahar kaa koee bhee Chat par naheem dekh sakataa thaa. 
-
Reply
06-08-2017, 08:10 PM,
#9
RE: गीता चाची -Geeta chachi
tabhee chaachee ne meeThaa taanaa maaraa. "aur log dekhem bhee to kyaa huaa beTe. tU to itanaa sayaanaa bachchaa hai, turamt so jaayegaa simaT kar." maimne man hee man kahaa ki chaachee maukaa do to dikhaataa hUm ki yaha bachchaa tuMhaare matawaale shareer kaa kaise ras nikaalataa hai. 

aakhir chaachee neeche jaakar taalaa lagaakar battee bujhaakar Upar aaeem. maim tab tak machCharadaanee khoms kar apanee khaaT par leT gayaa thaa. chaachee bhee dUsaree or se amdar aakar dUsaree khaaT par leT gaeem. 

paas se chaachee ke badan kee maadak khushabU ne fir apanaa jaadU dikhaayaa aur meraa mast khaD.aa ho gayaa. chaachee bhee gappem maarane ke mUD mem theem aur fir wahee garl frenD waalee baatem mujhase karane lageem. meraa lamD ab tak apanee lagaama se ChUTakar paajaame mem tambU banaa kar khaD.aa ho gayaa thaa. 

halkee chaamdanee thee isaliye kaafee saaf sab dikh rahaa thaa. lamD ke tambU ko Chupaane ke liye maim karawaT badal kar peeTh chaachee kee or karake leT gayaa to hams kar unhomne meree kamar mem haath Daalakar mujhe fir apanee or moD.aa. "sharamaao mat lallaa, kyaa baat hai, aise kyom bichak rahe ho?"

mujhe apanee or kheemchate hue unakaa haath mere lamD ko lagaa aur we hamsane lageem. "yaha baat hai, sachamuch baD.aa ho gayaa hai meraa pyaaraa bhateejaa. par yaha kyom huaa re, kisee garlafremD kee yaad aa rahee hai?" kaha kar unhomne seedhaa paajaame ke Upar se hee mere lamD ko pakaD. liyaa aur sahalaane lageem. 

ab to meraa aur rukanaa mushkil thaa. maim sarak kar unakee or khisakaa aur unake shareer par apanee baamha Daalakar chipaT gayaa jaise bachchaa maam se chipaTataa hai. unake seene mem mumha Chupaakar maim bolaa. "chaachee kyom tarasaatee haim mujhe? aap ko maalUma hai ki aapake rUp ko dekhakar shaama se meraa kyaa haal hai." 

chaachee ne meraa mumha Upar kiyaa aur jor se mujhe chUma liyaa. "to meraa bhee haal kuCh achChaa naheem hai lallaa. tere is pyaare jawaan shareer ko dekhakar meraa kyaa haal hai, maim hee jaanatee hUm." 

kuCh bhee baatem karane kaa ab koee matalab naheem thaa. hama donom hee buree taraha se kaamaatur the. ek dUsare ko lipaT kar jor jor se ek dUsare ke homTh chUmane lage. chaachee ke un raseele homThom ke chumban ne kuCh hee der mem mujhe charama sukh kee kagaar par laakar rakh diyaa. unakaa aamchal ab Dhal gayaa thaa aur cholee mem se ubal kar baahar nikal rahe we uroj meree Chaatee se bhiD.e hue the. meraa uttejit shishna kapaD.om ke Upar se hee unakee jaamghom ko dhakke maar rahaa thaa.

mere mumha se ek siskaaree nikalee aur chaachee ne chumban toD. kar mere lamD ko TaTolaa aur fir mujhe chit liTaa diyaa. "lallaa ab tuMhaaree khair naheem, mujhe hee kuCh upaay karanaa hogaa." kahakar we mere baajU mem baiTh gayeem aur paajaame ke baTan khol kar mere jaamghiye kee sliT mem se unhomne meraa uChalataa lamD baahar nikaal liyaa. 
-
Reply
06-08-2017, 08:10 PM,
#10
RE: गीता चाची -Geeta chachi
चाँदनी में मेरा तन्नाया लंड और उसका सूजा लाल सुपाडा देख कर उनके मुँह से भी एक सिसकारी निकल गयी. उसे हाथ में लेकर पुचकारते हुए वे बोलीं. "हाय कितना प्यारा है, मैं तो निहाल हो गयी मेरे राजा."

और झुक कर उन्होंने मेरा सुपाडा मुँह में ले लिया और चूसने लगीं. उनकी जीभ के स्पर्श से मैं ऐसा तडपा जैसे बिजली छू गयी हो. झुकी हुई चाची की चोली में से उनके मम्मे लटक कर रसीले फलों जैसे मुझे लुभा रहे थे. इतने में चाची ने आवेश में आकर अपना मुँह और खोला और मेरा पूरा लंड जड. तक निगल लिया जैसे गन्ना हो. 

"चाची, यहा क्या कर रही हैं? मैं झड. जाऊन्गा आप के मुँह में" कहकर मैंने उनका मुँहा हटाने की कोशिश की तो उन्होंने हल्के से अपने दाँतों से मेरे लंड को काट कर मुझे सावधान किया और आँख मार दी. उनकी नज़र में गजब की वासना थी. फिर मुँह से मेरे लंड को जकड कर उसपर जीभ फिराती हुई वी ज़ोर ज़ोर से मेरा लौडा चूसने लगीं.

दो ही मिनिट में मैंने मचल कर उनके सिर को पकड़. लिया और कसमसा कर झड. गया. मुझे लग रहा था कि वे अब मुँह में से लंड निकाल लेंगी पर वे तो ऐसे चूसने लगीं जैसे गन्ने का रस निकाल रही हों. पूऱा वीर्य निगल कर ही उन्होंने मुझे छोड़ा.

मैं चित पड़ा हान्फता हुआ इस स्वर्गिक स्खलन का मज़ा ले रहा था. मुँह पोंछती हुई चाची फिर मुझ से लिपट गयी और मेरे गालों और होंठों को बेतहाशा चूमने लगीं. "लल्ला, तुम तो एकदम कामदेव हो मेरे लिए, मैं तो धन्य हो गयी तेरा प्रसाद पाकर" "आप को गंदा नहीं लगा चाची?" "अरे बेटे तू नहीं समझेगा, यह तो एकदम गाढी मलाई है मेरे लिए. अब तू देखता जा, इन दो महीनों में तेरी कितनी मलाई निकालती हूँ देख."

मुझे बेतहाशा चूमते हुए वे फिर बोलीं. "तुम बड़े पोंगा पंडित निकले लल्ला. शाम से तुझे रिझा रही हूँ पर तू तो शरमा ही रहा था छोकरियों की तरह." मैंने उनके गाल को चूम कर कहा. "नहीं चाची, मैं तो कब का आपका गुलाम हो गया था. बस डर लगता था कि चाचाजी को पता चल गया क्या सोचेंगे." 

वे मुझे प्यार से चपत मार कर बोलीं. "तो इसलिए तू दबा दबा था इतनी देर. मूरख कहीं का, उन्हें सब मालूम है." मेरे आश्चर्य पर वे हँसने लगीं. 

"ठीक कहा रही हूँ अनिल. मैं कब से भूखी हूँ. तेरे चाचाजी भले आदमी हैं पर अलग किस्म के हैं. उन्हें ज़रा भी मेरे शरीर में दिलचस्पी नहीं है. इतने दिन मैंने सब्र किया, ऐसे भले आदमी को मैं धोखा नहीं देना चाहती थी. परपुरुष की ओर आँख उठा कर भी नहीं देखा. पर पिछले महने मैं इनसे खूब झगडी. आख़िर जिंदगी ऐसे कैसे कटेगी. वे भी जानते और समझते हैं. बोले, अच्छा जवान लडका घर में ही है, उसे बुला लिया कर जब मान चाहे. तू उसके साथ कुछ भी कर, मुझे बुरा नहीं लगेगा. इसलिए तो तीन माह से वे तुझे चिठ्ठी लिखकर आने का आग्रह कर रहे हैं. और तू है कि इतने दिनों में आया है." 
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 119 257,402 09-18-2019, 08:21 PM
Last Post: yoursalok
Thumbs Up Hindi Sex Kahaniya अनौखी दुनियाँ चूत लंड की sexstories 80 85,795 09-14-2019, 03:03 PM
Last Post: sexstories
Star Bollywood Sex बॉलीवुड की मस्त सेक्सी कहानियाँ sexstories 21 23,381 09-11-2019, 01:24 PM
Last Post: sexstories
Star Hindi Adult Kahani कामाग्नि sexstories 84 71,677 09-08-2019, 02:12 PM
Last Post: sexstories
  चूतो का समुंदर sexstories 660 1,156,998 09-08-2019, 03:38 AM
Last Post: Rahul0
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 144 212,206 09-06-2019, 09:48 PM
Last Post: Mr.X796
Lightbulb Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग sexstories 88 47,071 09-05-2019, 02:28 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Ashleel Kahani रंडी खाना sexstories 66 62,414 08-30-2019, 02:43 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस. sexstories 121 151,180 08-27-2019, 01:46 PM
Last Post: sexstories
Star Porn Kahani हलवाई की दो बीवियाँ और नौकर sexstories 137 190,603 08-26-2019, 10:35 PM
Last Post:

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


इंडियन सेक्सी व्हिडिओ टिकल्याmausi ki moti gand ko mara sexbaba hindi mesexbabanet papa beto cudai kkeerthi suesh kee ngi photoNude Dipsika nagpal sex baba picsबेटे को चुत दीखाकर मस्त कियाbiwexxxsexbaba.net tatti pesab ki lambi khaniya with photoलङकीयो की चूटरactrees meenakhi fake new sex babashrddha kapur ki chudai ki khaniya photo sahitBollywood heroine archive sex baba pooja gandhi nudeम्याडम बरोबर चुदाईAami ne dood dilaya sex storysex storijjjचुद सेक्सबाबmutmrke cut me xxxchal kariba Sinha sexy nangi chudai ki BFऔरत केसे पेगनेट हौती है porn sexहोली के दिन ही मेरी कुँवारी चुत का सील तोड़ दिया भाइयों नेsex baba 46 fake nude collwww.sex mjedar pusy kiss milk dringk videoSadi upar karke chodnevali video's choro se mammy ne meri chuai krwaidesi choti gral sgayi sex vedeopinki aanti sex fotosexbaba chut ka payarWww didi sex Raj Aasthani sexxxAAxxxxwwwvelamma Young, Dumb & Full of Cumdogi style sex video mal bhitr gir ayaevarshini sounderajan nude archives desiaksxxx imagemeri devrani nain mere liye lund ka intezam kiya sex pics zee tv sexbaba.netsonam kapoor xxx ass sex babaJungal sexy videos bus may madam ne chudva liya kamapisachi nude Fakes sexbabafather.mather.bahan.bata.saxsa.kahane.hinde.Sex.baba.net. tv actress sayana irani ki full nagni porn xxx sex photosदिव्यंका त्रिपाठी sexbaba. com photo antarvashna palko ki cho may suman ki chutdekasha seta ki sax chudibete ne maa ko saher lakr pata kr choda sabse lambi hindi sex storieshancika full nude wwwsexbaba.netDudh se bhari chuchi blauj me jhalak rahi hindi videoxxxbahiya Mein Kasi ke mar le saiyan bagicha Gaya MMS videoSexbaba.net badnam rishtyxxx वीडियो मैय तेरी बीवी हूँ मैय तेरे मुहमे पेशाब करोआदमी के सो जाने के बाद औरत दूसरे मर्द से च****wwwxxxCHODAE.CHOOT.LAND.BUR.BOOBS.XNXXTVXnxxxsexbhabi.comghachak.ghachak.xxx.xnxx.full.hdमूह खोलो मूतना हैAlia bhatt टोयलेट मे नगी बेठी xxx sex photoschudwate hue uii ahhh jaanuबाबा के साथ सेक्स कहाणीFake xxx pics of Alisha Panwar at sexbaba.com and other sitesrasili kahaniya sex baba.comদেবোলীনা ভট্টাচার্যীnandoi aur ilaj x** audio videoxxxBF 40 Saal Ki Aurat aaj raat sexyअसल चाळे चाचा चाची चुतTV Actass कि Sex baba nude Tv actress ki चुदाई कहानी काम के बहानेnangi nude disha sex babaपी आई सी एस साउथ ईडिया की भाभी चेची चाची की हाँट वोपन सेक्सी फोटोBahoge ki bur bal cidai xxxladies bahut se Badla dotkom xvideoसरव मराठी हिरोईन कि चुतNude ass hole ravena tandon sex babaghar main nal ke niche nahati nangi ladki dekhizaira wasim xxx naket photo baba fakeहुमा कुरैशी xxx.comदिशा परमार टीवी एक्ट्रेस की बिलकुल ंगी फोटो सेक्स बाबा कॉमकाजल अग्रवाल हिन्दी हिरोइन चोदा चोदि सेकसी विडियोCarmi caur sex foto nude chuchiNew upload photos sexbaba.net khofnak sap sex nxxxBollywood desi nude actress nidhi pandey sex babaMMS kand kachi kali Angur sex imageBahoge ki bur bal cidai xxxMunsib ny behan ko chudacold drink me Neend ki goli dekar dusre se chudvaya फोकि चुत झटका परिबाबा नी झवले सेक्स स्टोरीmast bhabhi jee ke mazerani mharaniy ki chut ki kahani photu ke sathhotho se hoth mile chhati se chhati chut me land ghusa nikal gaya pani sexये गलत है sexbabaNeha Kakkar Sexy Nude Naked Sex Xxx Photo 2018.comGuda dwar me dabba dalna porn sexववव तारक मेहता का उल्था चस्मा हिंदी सेक्स खनिअKapdhe wutarte huwe seks Hindi hd