Bahu ki Chudai बहू की चूत ससुर का लौडा
06-07-2017, 11:18 AM, (This post was last modified: 08-12-2018, 12:23 PM by sexstories.)
#1
Bahu ki Chudai बहू की चूत ससुर का लौडा
बहू की चूत ससुर का लौडा


दोस्तो ये कहानी  ने लिखी है मैने इसे काफ़ी समय पहले पढ़ा था आपके मनोरंजन के लिए पोस्ट कर रहा हूँ आपको मेरी ये कोशिस ज़रूर पसंद आएगी ,

दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राजशर्मा ससुर बहू की मस्त चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हूँ दोस्तो वैसे तो आपको मेरी सारी कहानियाँ पसंद आती हैं पर ये कहानी कुछ ज़्यादा ही मस्ती भरी है ये मेरा वादा है कि ये कहानी आपको ज़रूर पसंद आएगी . तो दोस्तो चलिए कहानी की तरफ चलते हैं ....राज अपने कमरे में उदास बैठा है, और कमरे की खाली दीवारों को घूर कर अपने दुखी मन को शांत करने की कोशिश कर रहा है। वह 44 साल का एक तंदूरूस्त हट्टा क़ट्टा गोरा व्यक्ति है और उसकी इस २५ लाख की आबादी वाले शहर में कपड़ों की बड़ी दुकान है।

उसने यह काम बड़े ही छोटे लेवल पर चालू किया था पर आज वह एक बहुत ही शानदार शोरूम का मालिक था। पर पिछले एक महीने से वह शोरूम पर नहीं गया था। शोरूम पर उसका जवान बेटा जय ही बैठ रहा था जो कि २५ साल का हो चला था। उसकी एक २४ साल की बेटी भी है जिसकी शादी को तीन साल हो चुके हैं और वह एक दूसरे शहर में रहती है।

राज के दुःख का कारण यह है कि एक महीने पहले उसकी पत्नी का किसी बीमारी से देहांत हो गया। वह अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता था और उसे दुःख इस बात का है कि बिना किसी पूर्वाभास के वह बीमार हुई और क़रीब एक महीने में स्वर्गवासी भी हो गयी। सब रिश्तेदार आए थे और अब सब अपने घर वापस चले गए । आख़िर में जाने वाली उसकी बेटी थी । अब सबके जाने के बाद वह फिर अकेला महसूस कर रहा था। बेटे जय ने कहा भी कि काम में मन लगाइए ताकि दुःख कुछ कम हो जाए, पर वह अभी भी सामान्य नहीं हो पाया था।

अपनी सोचो से बाहर आते हुए राज ने टीवी ऑन कर लिया , अचानक टेलीविजन का चैनल बदलते हुए एक फ़िल्म लग गयी जिसमें एक भरे बदन की हीरोईंन बारिश के पानी में भीग रही थी और उसके बहुत ही मादक अंग साड़ी से दिख ज़्यादा रहे थे और छुप कम रहे थे। ये देखकर अचानक उसके लंड ने झटका मारा और उसका हाथ अपने लंड पर चला गया और वह उसे दबाने लगा। उसे अभी अभी महसूस हुआ कि आज पूरे दो महीने के बाद उसके लंड में हरकत हुई है। वरना एक महीने की पायल की बीमारी और एक महीने का शोक – उसका तो लंड- जैसे खड़ा होना ही भूल गया था।

उसे बड़ा अच्छा लगा और वह लंड को सहलाता ही चला गया। फिर उसने उसे अपनी लूँगी और चड्डी से बाहर निकाल लिया और अपने बड़े बड़े बॉल्ज़ को सहलाते हुए उसने मूठ्ठ मारनी शुरू की। उसका क़रीब ८ इंचि मोटा लौड़ा उसकी मूठ्ठी में आधा भी समा नहीं रहा था। क़रीब १० मिनट उसे हिलाते हुए पायल के साथ बिताए हुए मादक लमहों को याद करते हुए वह झड़ने लगा। उसे लगा कि वह पायल के मुँह में झड़ रहा है। और वह पहले की तरह उसका गाढ़ा वीर्य स्वाद लेकर पीते जा रही है। 

पर जब उसने आँख खोली तो अपने को अकेला पा कर उसने आह भरी और पायल को याद करके उसकी आँख भर आइ।

हालाँकि वह पायल को बहुत प्यार करता था पर अनेक सफल मर्दों की तरह वह भी कभी कभी यहाँ वहाँ मुँह मार लिया करता था उसकी कमज़ोरी भरे बदन की कम उम्र की लड़कियाँ थीं। उसने कई लड़कियों से मज़े लिए पर कभी भी किसी से रिश्ता नहीं बनाया। ज़्यादातर लड़कियाँ एक रात की ही मेहमान होती थीं। बस सिर्फ़ तीन लड़कियों से ही उसके सम्बंध अपेक्षाकृत लम्बे चले, यही कोई तीन चार महीने। इसके बारे में आगे कहानी में पता चलेगा, कि किन हालातों में उन तीन लड़कियों से उसका रिश्ता बना।

आज उसने अपना वीर्य साफ़ किया और बाद में सोफ़े पर आकर दुकान का हिसाब देखने की कोशिश किया। दिन के ११ बज गए थे। जय को दुकान गए १ घंटा हो चुका था। तभी कॉल बेल बजी। उसने दरवाज़ा खोला और सामने कांता खड़ी थी। वह घर की नौक रानी थी और पायल की बहुत चहेती थी। उसकी उम्र करींब ३५ साल की थी और वह एक चूसे हुए आम की तरह थी। वह आकर किचन में चली गई। वह घर के सब काम करती थी और अब पायल के जाने के बाद खाना भी बना देती थी।

जय अपने काम में लग गया और तभी कांता वहाँ झाड़ू लगाने लगी। उसके सुखी हुई काया उसके सामने थी और दो महीने का प्यासा राज ये सोचने लगा कि क्या इसे ही चोद लूँ? पर जब साड़ी से उसकी नीचुड़ि हुई चूचियाँ देखा तो उसका लौड़ा शांत हो गया। उसने अपना ध्यान काम में लगाया।

तभी कांता का मोबाइल बज उठा और वह किचन में उसे लेकर बात करने लगी। थोड़ी देर बाद वह बाहर आयी और बोली: साहब, मुझे छुट्टी जाना होगा क्योंकि मेरी बहु को बच्चा होने वाला है। कम से कम तीन महीने लगेंगे।

राज: अरे तो हमारा क्या होगा? तुम किसी को काम पर लगा कर जाओ।

कांता: जी साहब, कल से मेरी भतीजी आएगी , उसका नाम शशी है वही काम करेगी, मेरी अभी उससे बात भी हो गई है।

राज: ओह उसको खाना बनाना आता है ना?

कांता: हाँ आता है वो कई साल एक परिवार में काम की है उसको सब आता है। आजकल ख़ाली है तो आपके यहाँ काम कर लेगी।
राज: क्या शादीशुदा है?

कांता: जी हाँ शादी को ७ साल हो गए हैं। मगर बेचारी को कोई बच्चा नहीं है। इसके कारण दुखी रहती है।

राज: ओह ऐसा क्या? अब ये तो भगवान की मर्ज़ी है ना ?

कांता फिर अपने काम में व्यस्त हो गई और राज भी अपने काम में लग गया। फिर उसने जय को फ़ोन लगाया: बेटा तुम्हारा कल का हिसाब ठीक है , अब तुम बढ़िया काम कर रहे हो। आज मुझे तुमसे एक ज़रूरी बात भी करनी है। रात को मिलते हैं।

रात को जय क़रीब ९ बजे घर पहुँचा और वो दोनों खाना खाए। बाद में राज बोला: बेटा, आज मैं तुमको एक बात कहना चाहता हूँ, मैं पायल के जाने के बाद बहुत अकेला हो गया हूँ, मैं सोच रहा था कि मैं दूसरी शादी कर लूँ। तुम्हारा क्या ख़याल है इस बारे में?

जय चौक कर बोला: क्या पापा, ये क्या बोल रहे हैं आप? कितना अजीब लगेगा प्लीज़ ऐसा मत करिए।

राज: अगर मैं नहीं कर सकता तो तुम कर लो। बेटा, घर में एक औरत होनी ही चाहिए। घर औरत के बिना अधूरा होता है।

जय: ठीक है पापा, अगर आप ऐसा चाहते हो तो यही सही।

राज: अब ये बताओ कि तुम्हारी कोई गर्ल फ़्रेंड है?

जय: पापा आप जानते ही हो कि मेरी किसी लड़की से दोस्ती नहीं है। मुझे तो दुकान से ही फ़ुर्सत नहीं मिलती।

राज: तो फिर मैं तेरे लिए लड़की देखनी शुरू करूँ?

जय: ठीक है पापा आप देखिए । काश मॉ होती तो ये काम वो करतीं? है ना?

राज: हाँ बेटा वो तुम्हारी शादी का बहुत अरमान रखती थी पर बेचारी के अरमान पूरे ही नहीं हो सके।

थोड़ी देर और बातें करके वह दोनों अपने अपने कमरे में सोने चले गए।
सुबह ५ बजे उठकर राज फ़्रेश होकर एक घंटे की सैर पर गया। वहाँ बग़ीचे में कई लड़कियाँ और औरतें भी ट्रैक सूट में अपने गोल गोल चूतरों को उभारे घूम रही थीं और राज का मन बड़ा बेचेंन हो रहा था। उनकी छातियाँ भी दौड़ने के दौरान ऊपर नीचे होकर उसकी ट्रैक सूट के अंदर उसके हथियार को कड़ा किए जा रहीं थीं। इसी हालत में वह वापस आया और कमरे में बैठ के पसीना सुखाने लगा। तभी काल बेल बजी और उसने दरवाज़ा खोला।

बाहर एक दुबली सी लड़की खड़ी थी। वह समझ गया कि यह शशी ही होगी। उसने पूछा: तुम शशी हो ना?

शशी: जी साहब मैं ही कांता चाची की भतीजी हूँ।

राज: आओ अंदर आओ ।फिर उसने उसे पूरा घर दिखाया और कहा : पहले चाय बना दो। किचन से बाहर आते हुए उसने शशी को भरपूर निगाहों से देखा। वह कोई २०/२१ से बड़ी नहीं दिख रही थी। दुबली पतली , छाती भी छोटी और चूतरों में भी कोई ख़ास उभार नहीं। वह उसकी टाइप की तो लड़की है ही नहीं। उसे तो भरी हुई लड़की अच्छी लगती है।

थोड़ी देर बाद वह चाय लायी । चाय लेते हुए वह बोला: तुम सच में शादी शूदा हो? बहुत छोटी सी दिखती हो ।

शशी: जी साहब मेरी शादी को सात साल हो गए हैं । वैसे मैं ऐसी ही पतली दुबली हूँ शुरू से ।

राज: क्या उम्र है तुम्हारी? दिखती तो २०/२२ की हो।

शशी: जी मैं २७ की हूँ। पतली होने के कारण शायद छोटी लगती हूँ। फिर वह अपने काम में व्यस्त हो गयी। राज सोचने कहा कि साली थोड़ी सी भरे हुए बदन की होती तो कुछ मज़ा ले भी लेता पर ये तो मरी हुई चुहिया जैसी है। क्या मज़ा आएगा इसके साथ।

थोड़ी देर बाद वह उसके कमरे में झाड़ू लगा रही थी तो उसकी क़ुरती ऊपर चढ़ गयी थी और उसके चूतड़ सलवार से दिख रहे थे। राज सोचने लगा कि इतनी भी बुरी नहीं है। मज़ा लिया जा सकता है। जय अभी भी सो रहा था, वह अक्सर ८ बजे से पहले नहीं उठता था।

राज ने बात चलायी: कौन कौन घर में है तुम्हारे?

शशी : मेरा पति और मेरी सास।

राज जानबुझ कर पूछा: और बच्चे?

शशी उदास होकर बोली: जी नहीं हैं।

राज: शादी को सात साल हो गए? डॉक्टर को दिखाया कि नहीं?

शशी: जी दिखाया है वो बोले कि मेरे में कोई कमी नहीं है। और मेरा मर्द तो डॉक्टर के पास जाने को राज़ी ही नहीं है। क्या कर सकती हूँ भला मैं!

राज: ओह तो कमी उसी में होगी । सास कुछ बोलती नहीं तुमको?

शशी: दिन भर ताने सुनाती है और बेटे की दूसरी शादी की भी धमकी देती है।

राज: ओह ये तो बड़ी समस्या है। वैसे एक बात बोलूँ , तुमको अपने शरीर का ख़याल रखना चाहिए। इतनी दुबली हो अगर गर्भ ठहर भी गया तो बच्चा भी तेरे जैसा दुबला ही होगा ।

शशी: साहब ग़रीब लोग हैं हम लोग। आपके जैसा खाने पीने को थोड़े मिलता है।

राज हँसते हुए बोला: चलो अब हमारे घर में रहोगी तो तुम वही खाओगी जो हम खाएँगे। और जल्दी ही तगड़ी हो जाओगी।

शशी उसको अजीब निगाहों से देख रही थी, शायद यह समझने की कोशिश कर रही थी कि यह बुज़ुर्ग उसमें इतनी दिलचस्पी क्यों दिखा रहा है। वैसे उसे यह कुछ बुरा नहीं लगा। ये सच है कि उसे ज़्यादा अटेन्शन नहीं मिलता था। इसलिए साहब का उसमें दिलचस्पी लेना उसे अच्छा ही लग रहा था।
-
Reply
06-07-2017, 11:19 AM,
#2
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
राज नहाने चला गया और उसे बग़ीचे की सेक्सी लड़कियाँ याद आ रही थीं और उसका लौड़ा खड़ा हो गया। आऽऽह क्या मस्त दूध थे और क्या उभरी हुई गाँड़ थी। वह अपने लौड़े को दबाए जा रहा था। तभी उसके ध्यान में शशी का बदन और उसके सलवार में चिपके चूतड़ आये और वह मज़े से मुस्कुराया और सोचा कि शायद उसको चोदने में भी बड़ा मज़ा आएगा।

वह नहा कर बाहर आया और टी शर्ट और लोअर पहन कर तैयार हुआ और किचन में जाकर शशी को बोला: दो ग्लास केसर बादाम डाल कर दूध बनाओ। साथ ही २ सेब केले और नाशपाती भी काट के लाओ। शशी ने हाँ में सिर हिलाया और काम में लग गयी।

थोड़ी देर में वह एक ट्रे में दूध का दो गिलास और फल काटकर लायी। और सामने टी टेबल पर रख दिया जो कि सोफ़े के सामने रखा था।

राज ने एक गिलास दूध उठाया और उसके हाथ में दे दिया। शशी ने प्रश्न सूचक नज़रों से देखा और बोली: छोटे सांब उठ गए क्या? उनको देना है? 

राज: अरे वो तो ९ बजे उठेगा। यह तुमको पीना है। मैंने कहा था ना कि तुमको तगड़ी बनाना है। तो चलो पीओ अब।

वह हैरान होकर उसको देखी और राज ने दूसरा गिलास उठाया और पीने लगा। और फिर से उसे पीने का इशारा किया। वह धीरे से पीने लगी। साफ़ लग रहा था कि उसे बहुत अच्छा लग रहा था।

फिर राज ने फल की प्लेट उठायी और पास ही खड़ी शशी को बोला: लो फल भी खाओ।

वह झिझकते हुए बोली: साहब पेट भर गया।

राज ने उसके पेट की तरफ़ इशारा करके कहा: देखो इतना छोटा भी नहीं है तुम्हारा पेट कि इसमे फल की भी जगह नहीं हो। चलो खाओ। फिर उसका हाथ पकड़कर पास में बिठाया और उसके मुँह में सेब का एक टुकड़ा डाल दिया। वो थोड़ी सी परेशान दिख रही थी, पर खाने लगी।

राज: सुबह से कुछ खाया है? उसने नहीं में सिर हिलाया। तब उसने एक टुकड़ा और उसके मुँह में डाल दिया। अब राज भी खाने लगा और उसे। भी खिलाए जा रहा था। शशी को कभी इतना अटेन्शन नहीं मिला था सो वह भी इन पलों का आनंद लेने लगी। फल ख़त्म होने के बाद राज बोला: शाबाश, बहुत बढ़िया। फिर उसके हाथ को पकड़कर बोला: आधे घंटे के बाद मैं पराँठा और ओमलेट खाऊँगा, वो भी मेरे और अपने लिए भी बना लेना। साथ ही खाएँगे। ठीक है?

शशी: जी साहब । फिर वह खड़ी होने लगी तो राज ने उसका हाथ छोड़ दिया। वह किचन में चली गयी। राज भी पेपर पढ़ने लगा। जय अभी भी सो रहा था।

आधे घंटे के बाद वह नाश्ता डाइनिंग टेबल पर लगा दी। उसने राज के लिए एक प्लेट भी लगा दी थी।

राज: तुम्हारी प्लेट कहाँ है? मैंने कहा था ना कि जो मैं खाऊँगा वही तुमको भी खाना है। चलो प्लेट लाओ और बैठो यहाँ।

शशी: साहब मैं खा लूँगी, अभी आप खालो।

राज: पक्का बाद में खा लोगी?

शशी: पक्का खा लूँगी।

राज: अच्छा चलो एक कौर तो मेरे हाथ से खाओ। ये कहकर उसने उसके मुँह में एक कौर डाला और वो उसको खाते हुए किचन में चली गयी। उसने बड़े प्यार से गरम गरम पराँठे खिलाए और राज ने भी उसकी पाक कला की बहुत तारीफ़ की। वो शायद तारीफ़ की भी भूकी थी क्योंकि वह बहुत ख़ुश हो गयी थी। फिर राज ने दो कप चाय माँगी। जब वह चाय लायी तो उसने उसे ज़िद करके अपने बग़ल में बैठाया और चाय पीने को बोला। वह चुपचाप चाय पीने लगी।

राज: तुम्हारा पति तुम्हें प्यार तो करता है ना?

शशी की आँख गीली ही गयी और बोली: जैसे आज आपने इतने प्यार से खिलाया ऐसे भी आजतक उसने मुझे सात साल में कभी नहीं पूछा। वो औरत को बस एक काम के लिए ही समझता है।

राज ने भोलेपन से पूछा: किस काम के लिए?

शशी ने नज़रें झुका लीं और बोली: वही जो मर्द को चाहिए बिस्तर में औरत से।

राज: ओह अब समझा। सच में तुम्हारा मर्द ऐसा है? ये तो बड़ी अजीब बात है।

शशी: साहब हम ग़रीब औरतों का यही हाल है?

राज ने उसकी पतली कलाई पकड़ी और उसको सहलाने लगा और बोला: देखो तुम कितनी दुबली हो? मैं तो तुमको तगड़ी करके ही मानूँगा।

शशी हँसकर बोली: क्या आप मुझे तगड़ी बना कर पहलवानी करवाओगे? इस पर दोनों हँसने लगे।

फिर शशी अपने काम में लग गई, थोड़ी देर बाद जय भी उठकर आया और राज ने उसके लिए भी चाय मँगवाई। शशी चाय लाई और जय को नमस्ते की। राज ने बताया कि यह नई नौकशशी है। जय ने ओह कहकर चाय पी। फिर दोनों बाप बेटा दुकान की बात करने लगे। बाद में जय नहाने चला गया। राज ने शशी को उसके लिए नाश्ता और लंच के लिए डिब्बा भी बनाने को कहा।

जय तैयार होकर नाश्ता करके लंच का डिब्बा लेकर १० बजे दुकान चला गया। अब घर में फिर से दोनों अकेले हो गए। थोड़ी देर बाद राज ने शशी को आवाज़ दी और बोला: मैं ज़रा बाज़ार जा रहा हूँ, तुम्हें कुछ चाहिए? फिर अचानक उसकी निगाहें उसकी बड़ी बड़ी आँख पर पड़ीं और उनमें एक सफ़ेदी सी देखकर वह उसका हाथ पकड़ा और उसकी उँगलियों के नाख़ून को चेक किया और बोला: अरे तुमको तो आयरन की कमी है , ऐसी ही कमी एक बार मेरी बीवी को भी हो गयी थी, तभी तुम इतनी कमज़ोर हो। मैं आज दवाई लाउँगा। ये कहकर उसने उसका हाथ छोड़ा और बाहर निकल गया। 

वो पास के बाज़ार में एक दुकान में गया और वहाँ अपने दोस्त से मिला जिसने उसका बड़े तपाक से स्वागत किया। इधर उधर की बातों के बाद चाय पीकर राज बोला: यार, मैंने जय की शादी करने का फ़ैसला किया है, तेरी निगाह में कोई लड़की है उसके लायक तो बताना।

दोस्त: हाँ यार क्यों नहीं , थोड़ा सोच लेने दे जैसे ही ध्यान में आएगा बताऊँगा।

राज: ठीक है भाई फिर चलता हूँ।

वहाँ से निकल कर वह दवाई की दुकान से मल्टीविटामिन और आयरन टॉनिक ख़रीदा और कुछ ज़रूरी चीज़ें लेकर घर आया।

शशी को उसने पानी और चम्मच लाने को कहा। फिर उसने दो दो चम्मच दोनों दवाइयाँ उसको अपने हाथ से पिलायीं। शशी की आँखों में आँसू छलक आए। आज तक किसी ने भी उसकी इतनी फ़िक्र नहीं की थी। राज ने उसके आँसू पोंछें और झुक कर उसका माथा चूम लिया और बोला: अरे रो क्यों रही हो, अब तो जल्दी ही तुम तगड़ी हो जाओगी और फिर कुश्ती लड़ना। वह भावुक होकर बोली: आप बहुत अच्छे हैं साहब, मैं आपको बाऊजी बोल सकती हूँ क्या?

राज ने उसे खींचकर अपने से लिपटा लिया और बोला: क्यों नहीं ज़रूर बोलो। और उसके गालों पर चिमटी काट दी। वह हँसते हुए भाग गयी। अब जब भी मौक़ा मिलता राज उसके हाथ पकड़ लेता और कभी गाल भी सहला देता।

इस बीच राज ने अपने रिश्तेदारों को भी फ़ोन किया और जय के लिए लड़की ढूँढने को कहा।

इसी तरह पाँच दिन निकल गए और अब भी राज शशी को अपने हाथ से ही फल खिलाता और दवाई भी पिलाता। शशी की झिझक अब काफ़ी कम हो गयी थी। कई बार वह उसे अपने से चिपका लेता और प्यार से उसके गाल भी सहला देता। क़रीब पाँच दिनों में ही दोनों ने एक तरह का बोंड सा हो गया था। राज का अकेलापन दूर हो गया था और शशी भी अटेन्शन की भूकी थी जो उसे भरपूर मिल रहा था। वो सुबह आती फिर २ बजे अपने घर चली जाती और फिर ५ बजे से ८ बजे तक रात का खाना बना कर चली जाती। राज उसके तीनों टाइम के खाने का ध्यान रखता और उसे खिलाकर ही छोड़ता था। इस तरह के अच्छे खाने और ख़ुश रहने के कारण उसके चेहरे में एक चमक सी आने लगी थी और शरीर भी थोड़ा सा गदराने सा लगा था।

क़रीब एक हफ़्ते के बाद एक दिन सुबह जब उसने शशी के लिए दरवाज़ा खोला तो उसकी आँख के नीचे गाल में सूजन थी। वह चौंक कर बोला: शशी क्या हुआ ? ये चोट कैसी?

शशी अंदर आयी और ज़मीन पर बैठ गयी और फफक कर रोने लगी। राज थोड़ा सा परेशान हो कर उसको उठाया और सोफ़े पर बिठा कर उसके बग़ल में बैठ गया और उसको अपने से सटा कर उसकी पीठ पर हाथ फेरा और बोला: अरे क्या हुआ? बताएगी भी? क्या मर्द ने मारा?

शशी उसके कंधे पर सिर रखकर रोते हुए बोली: हाँ बहुत मारा। ये देखिए, कहते हुए उसने अपना गला भी दिखाया जहाँ लाल निशान थे । फिर उसने अपनी सलवार भी पैरों से उठाकर अपनी टांगो को दिखाया जहाँ लाल निशान थे । उसकी बाँह भी लाल हुई जा रही थी। राज उठकर दवाई लाया और उसकी सब जगह दवाई लगाया। वह फिर से रोने लगी और बोली: मैं मर जाऊँगी। मुझे नहीं जीना।

अब राज ने उसे खींचकर अपनी गोद में बिठा लिया और उसके गाल को चूमते हुए बोला: ऐसा नहीं बोलते। मैं हूँ ना अभी । अच्छा अब बताओ क्या हुआ था?

शशी: कल रात को वह देर से आया और उसने शराब पी हुई थी। वह बिस्तर पर आया और मेरी मैक्सी उठाने लगा। मैंने मना किया कि तुम बहुत बास मार रहे हो। वह ग़ुस्सा हो गया और चिल्लाया कि साली बच्चा भी नहीं पैदा कर सकती और मुझे करने भी नहीं देती, मादरचोद , आज तेरी लेकर ही रहूँगा। मैं बहुत चिल्लायी और रोई पर उसने एक नहीं मानी और मेरी मैक्सी उठाने लगा। मेरे विरोध करने पर उसने मुझे बहुत मारा और आख़िर में उसने अपनी मन की कर ही ली।

राज उसकी बाँह सहलाते हुए बोला: ओह तो वो तुमको ज़बरदस्ती चोद लिया? ये तो बलात्कार हुआ।

शशी एक मिनट के लिए राज की भाषा पर चौकी पर उसके घर में तो इस तरह की भाषा का उपयोग होते ही रहता था , सो उसने ध्यान नहीं दिया। शशी बोली: क्या करें बाऊजी हम औरतों का तो यही हाल होता है? साला ख़ुद नामर्द है और मुझे बाँझ कहता है। कमीना कहीं का। ये कहते हुए उसने राज की छाती पर अपना सिर रख दिया। वो अभी भी उसकी गोद में बैठी थी।

अब राज ने उसे प्यार से देखते हुए उसकी बाँह को सहलाते हुए उसके गाल चूमने शुरू किए। फिर वह उसके सब लाल निशान को चूमने लगा। उसकी बाँह गाल और गरदन भी चूमा। फिर उसने अपने से जकड़ कर कहा: इस समस्या का एक ही हल है शशी। 

शशी ने उसकी छाती से अपना सिर उठाया और बोली: क्या हल है बाऊजी?

राज उसकी आँखों में देखते हुए बोला: तुम्हें माँ बनना पड़ेगा। तभी उस कमीने का मुँह बंद होगा।

शशी: पर ये कैसे होगा?

राज झुका और उसके होंठ चूमकर बोला: मैं हूँ ना, इस काम के लिए।

शशी चौक कर बोली: आप ये क्या कह रहे हैं? मैं ऐसी औरत नहीं हूँ।
-
Reply
06-07-2017, 11:19 AM,
#3
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
राज ने फिर से उसके होंठ चूमे और बोले: मुझे पता है तुम औरत हो ही नहीं। असल में तुम तो अभी छोटी सी लड़की हो जिसे कभी प्यार मिला ही नहीं। और वह प्यार मैं तुमको दूँगा बहुत बहुत प्यार , ढेर सारा प्यार। समझी? उसने अब उसे अपने बदन से भींच लिया और उसकी गरदन चूमने लगा।

शशी भी अब कमज़ोर पड़ने लगी थी। उसे भी अच्छा लगने लगा। वह भी समर्पण के मूड में आने लगी।

राज: एक बात बताओ कि तुम्हारा पति तुम्हें कितने दिन में चोदता है? और कितनी देर चोदता है?

शशी इतने खुले शब्दों से हकला सी गयी: वो वो तीन चार दिन में एक बार। क़रीब ५/६ मिनट ही चो– मतलब करते हैं।

राज: ओह इतनी जल्दी झड़ जाता है? तो तुम तो प्यासी रह जाती होगी?

शशी ने सिर हाँ में हिलाया और शर्माकर उसकी छाती में छिपा लिया। राज ने उसके कान को चूमते हुए कहा: जानती हो मैं कितनी देर चोदता हूँ? कम से कम एक घंटा और आधा घंटा तो मैं धक्के ही मारता रहता हूँ।

शशी की आँख फैल गयी वो बोली: एक घंटा? ओह इतना ज़्यादा ?

राज: अरे एक बार चुदवा के तो देखो मज़े से मस्त हो जाओगी। और मेरा दावा है कि भगवान ने चाहा तो एक महीने में तुमको गर्भवती कर दूँगा। ठीक है मेरी शशी? ये कहकर वो अब उसके होंठ को चूसने लगा।
हल्दी वाला दूध पिलाएँ

फिर होंठ छोड़कर बोला: चलो अब तुमको हल्दी वाला दूध पिलाएँ। इससे तुम्हारा दर्द भी कम होगा और चोट में भी आराम मिलेगा।

वह उसकी गोद से उठी और राज ने खड़े होकर उसको अपनी गोद में उठा लिया और किचन के प्लेटफ़ार्म पर बिठा दिया और उसके लिए दूध तैयार किया और अपने हाथ से पिलाने लगा। शशी को लगा कि वो बहुत भाग्यशाली है जो बाऊजी उसका इतना ध्यान रखते हैं। फिर राज ने उसको गोद में लेकर उतारा और पूछा: अब कैसे लग रहा है?

शशी हँसकर बोली: मुझे क्या हुआ है? ऐसी पिटाई तो मेरे लिए आम बात है । चलिए आप बैठिए मैं आपको बढ़िया चाय पिलाती हूँ। राज उसके गाल चूमकर बाहर आ गया।

थोड़ी देर में वो चाय लायी तो राज ने उसे फिर से अपने पास खींच लिया और बोला: तो फिर माँ बनना हैं ना एक महीने में? अब उसके हाथ उसकी कमर पर था। जिसे सहलाते हुए वह पहली बार उसके चूतड़ पर ले गया और उसको भी हल्के से दबा दिया। शशी भी मस्ती से भरने लगी।

वह बोली: आऽऽह सच में में मॉ बनना चाहती हूँ। आप मुझे एक महीने में मुझे गर्भबती बना देंगे?

वह उसे अपने गोद में बैठाकर बोला: हाँ मेरी शशी पक्का एक महीने में ही तुम गर्भबती हो जाओगी। असल में मैं तुम्हारी जैसी तीन लड़कियों को पहले ही माँ बना चुका हूँ और वो भी एक महीने की चुदाई से ही। भगवान ने मुझे शायद तुम्हारी जैसी लड़कियों को माँ बनाने के लिए ही पैदा किया है। चलो अब जय के दुकान जाने के बाद हम तुमको माँ बनाने की कोशिश में लग जाएँगे। ठीक है ना?

यह कहते हुए उसने शशी के होंठ चूमे और पहली बार उसकी छाती पर हाथ रखा और हल्के से दबाया। आऽऽऽऽहहहह क्या ठस छाती थी एकदम कड़क। शशी भी उसके मर्दाने स्पर्श से मज़े से भर गयी। फिर उसकी गोद से उठते हुए बोली: बाऊजी, बहुत काम है छोड़िए ना।

राज उसे छोड़ते हुए बोला: तो फिर पक्का है ना माँ बनने का प्रोग्राम ?

शशी हँसते हुए धत्त कहकर भाग गयी। उसकी हँसी में हामी भरी हुई थी।
क़रीब १० बजे जय नाश्ता करके अपना टिफ़िन लेकर घर से चला गया। उसके जाने के बाद राज ने सोचा कि वो अपनी ओर से पहल नहीं करेगा, देखते हैं कि शशी को भी कितनी इच्छा है चुदवाने की। वह चुपचाप दुकान का हिसाब देखता रहा। आधा घंटा गुज़र गया और उसने एक बार भी शशी को नहीं पुकारा।

तभी शशी अपना पसीना अपनी चुन्नी से पोंछते हुए आयी और बोली: बाऊजी, चाय बनाऊँ?

राज ने कहा: नहीं रहने दो। फिर काम में लग गया। शशी थोड़ी देर उसको काम करते हुए देखी और बोली: आज बहुत ज़्यादा ही काम हो रहा है? क्या बात है?

राज समझ गया कि वह बात आगे बढ़ाना चाहती है , पर वह बनते हुए बोला: हाँ थोड़ा है तो?

शशी अपना मुँह उतार के बोली: ठीक है तो मैं किचन में जा रही हूँ, कुछ काम हो तो बुला लीजिएगा।

राज: एक काम के लिए तो बोला था पर शायद तुम उसके लिए राज़ी नहीं हो।

शशी: कौन सा काम?

राज: वही तुमको माँ बनाने वाला काम? तुमने तो हाँ कही ही नहीं?

शशी शर्माकर: ओह वो काम? मैंने नहीं भी तो नहीं कहा।

राज: देखो शशी मैं तुम्हारे साथ ज़बरदस्ती नहीं करना चाहता हूँ, तुम्हारे पति की तरह। अगर सच में यह तुम चाहती हो तो चलो आओ और अभी मेरी गोद में बैठ जाओ वरना किचन में चली जाओ। यह कहते हुए उसने अपना काम बंद किया और अपनी टाँगें फैला दी जैसे कह रहा हो आओ शशी यहाँ बैठो।

शशी एक मिनट के लिए झिझकी और दूसरे ही पल जैसे कुछ निर्णय ले लिया हो वह आकर उसकी गोद में बैठ गयी, और अपना मुँह उसकी छाती में छिपा ली। उसके बदन से तेज़ पसीने की गंध आ रही थी जिससे वह मस्त होने लगा।

राज अपनी गोद में बैठी उस लड़की को जकड़ लिया और उसके गाल और होंठ चूम लिया। फिर उसने उसकी गरदन में भी चूमना शुरू किया। 
ये कहानी ससुर और बहु पर लिखी गयी है बहुत ही मजेदार कहानी है चुदक्कड बहु की चूत प्यासे ससुर का लौड़ा -1 कहानी मस्ताराम.नेट पर प्रकाशित की जा रही है |

शशी बोली: मुझे बहुत पसीना आया है , मैं मुँह धो लूँ क्या?

राज उसके पसीने को चाटते हुए बोला: आह्ह्ह्ह्ह्ह क्या स्वाद है तुम्हारा पसीना, चाटने में बहुत मज़ा आ रहा है।

शशी: छी इसमे क्या मज़ा आ रहा है?

राज ने उसकी चुन्नी हटा दी और कुर्ते के ऊपर से उसकी कसी हुई चूचियों को पकड़कर दबाते हुए कहा: आऽऽहहह तुम्हारी तो चूचियाँ किसी कमसिंन लौंडिया के जैसी हैं। मस्त सख़्त हैं। क्या गोल गोल हैं शशी। ज़रा इनको दिखाओ ना प्लीज़।

शशी को अपनी गाँड़ के नीचे उसका लौड़ा खड़ा होकर चुभता सा महसूस होने लगा था सो वह भी मस्ती से बोली: आऽऽऽंहहह उतार लीजिए ना क़ुरती हाऽऽऽऽऽय किसने मना किया है। राज के द्वारा किए जा रहे चूचि मर्दन से वह आऽऽऽहहह करे जा रही थी।

राज उसका कुर्ता उतारने लगा और शशी ने अपने हाथ ऊपर कर दिए। कुर्ता निकालने के बाद उसकी ठोस चूचियाँ एक सस्ती सी पुशशी ब्रा में मस्त लग रही थीं। वह उसकी चूचियों को ब्रा के ऊपर से ही चूमने लगा।

शशी को अब उसका लौड़ा बुरी तरह से गड़ रहा था और उसने अपनी गाँड़ हिलायी ताकि उसकी चुभन कम हो जाए। अब राज ने ब्रा का हुक भी खोला और शशी ने हाथ उठाकर उसकी ब्रा निकालने में मदद की। राज की आँखों के सामने बड़े सेब की आकार की दो चूचियाँ आ गयीं जिनके काले लम्बे निपल बिलकुल तने हुए थे जो शशी की उत्तेजना को दिखा रहे थे। राज कुछ देर तक उनको एकटक देखा और फिर उनपर अपने दोनों पंजे रखा और उनकी सख़्ती और कोमलता को महसूस करने लगा। उसने आज तक इतनी ठोस चूचियाँ नहीं दबायीं थीं। वह उनको बहुत देर तक दबाते रहा। फिर उसने उसकी बाहों को उठाया और बालों से भरे बग़ल को देखकर कहा: यहाँ भी जंगल उगा रखा है। फिर अपनी नाक लगाके बालों से भरी बग़ल को सूँघा और फिर जीभ निकालके वहाँ चाटने लगा। फिर वह चूचिया दबाने लगा।

तब शशी बोली: आऽऽऽऽऽह बाऊजी , क्या उखाड़ ही डालोगे इनको?

राज : अरे नहीं, पर क्या करूँ, जी ही नहीं भर रहा है दबाने से । क्या मस्त चूचियाँ है। फिर वह झुककर एक चूचि मुँह में ले लिया और चूसने लगा। उसके बड़े मुँह में उसकी आधी से भी ज़्यादा चूचि चली गयी थी और उसकी जीभ निपल को सहलाए जा रही थी और शशी आऽऽऽऽझ्ह्ह्ह्ह्ह बाउजीइइइइइइइइइइ करके सिसकी भर रही थी। अब राज ने उसकी सलवार का नाड़ा खोला। उसने शशी को उठने का इशारा किया तो शशी खड़ी हुई और उसकी सलवार नीचे गिर गयी। अब उसकी पुशशी सी पैंटी में छुपी बुर का हिस्सा दिख रहा था और सब तरफ़ से घने बाल भी दिख रहे थे । उसने शशी की पैंटी भी एक झटके में उतार दी और उसके सामने काले बालों का एक झुंड था जिसमें से उसकी बुर बहुत थोड़ी सी ही दिख रही थी।

राज उसकी जाँघों को सहलाते हुए बोला: ये क्या इतने बाल उगा रखे हैं, कभी सफ़ाई नहीं करती क्या?

शशी: मैं जब कभी समय मिलता है कैंची से काट लेती हूँ। वैसे भी मेरे पति को तो कोई फ़र्क़ ही नहीं पड़ता, वह तो इसीमे कुछ धक्के मारता है और पाँच मिनट में झड़ जाता है।

राज ने उसे खींच कर अपनी गोद ने बिठा लिया और उसके होंठ चूमते हुए उसकी चूचि और निपल्ज़ दबाकर उसको गरम कर दिया। फिर उसने उसकी बुर को ऊपर से सहलाया और बालों को अलग करके उसने दो ऊँगली अंदर डाली और उसको बिलकुल गीला पाकर वह उँगलियाँ अंदर बाहर करने लगा। उसने सोचा कि आऽऽऽह क्या टाइट बुर है जैसे किसी कुँवारी कन्या की बुर हो। पता नहीं उसका पति उसे चोद भी पाता है या नहीं! वह और ज़ोर से उँगलियाँ हिलाने लगा।

शशी भी जल्दी ही अपने कमर को उछालकर उसकी उँगलियों की चुदाई का मज़ा लेने लगी। फिर उसने उसकी clit को रगड़ते हुए उसकी बुर में ऊँगली डालनी जारी रखी । अब शशी आऽऽऽऽऽह्ह्ह्ह्ह बाउuuuuuuजीइइइइइइ कहकर ज़ोर ज़ोर से कमर उछालकर झड़ने लगी। हाऽऽऽऽऽऽऽयय्यय मजाऽऽऽऽऽ आऽऽऽऽऽऽ रहाऽऽऽऽऽ है बाअअअअअउउउउउउउजीइइइइ।
-
Reply
06-07-2017, 11:19 AM,
#4
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
राज की उँगलियाँ पूरी भीग गयी थीं। शशी ने सिसकारियाँ भरते हुए अपना सिर उसकी छाती में छिपा लिया। अब वह गहरी सासें ले रही थी। राज ने उसको हिलाया और उसकी आँखों में देखकर बोला: मज़ा आया शशी? कैसा लगा?

शशी: आऽऽहहहह बाऊजी बहुत अच्छा लगा। आपकी उँगलियों में तो जादू है। मज़ा आ गया।

राज: ऊँगली से इतना मज़ा आया तो सोचो कि मेरे लौड़े से कितना मज़ा आएगा?
नंगी बिस्तर पर

शशी शर्मा गयी और मुस्कुरा दी। राज ने कहा: चलो अब तुम बेड रूम में आओ मेरे साथ। ये कहते हुए उसने उसको एक बच्ची की तरह गोद में उठा लिया और बिस्तर पर लिटा दिया। वह चुपचाप नंगी बिस्तर पर आँख बंद करके लेट गयी।

राज किचन में जाकर आइस क्रीम लाया और अपने हाथ से उसको खिलाने लगा और बोला: तुम अभी झड़ी हो ना तो थक गयी होगी। ये खाओगी तो ताक़त मिलेगी।

शशी इतने प्यार से अंदर तक भीग गयी और वह राज से चिपट गयी। दोनों एक दूसरे को चूमे जा रहे थे।फिर शशी ने कहा: आप मुझे तो नंगी कर चुके हो और ख़ुद कपड़े पहन कर बैठे हो।

राज: तुम्हारे कपड़े मैंने उतारे तो तुम मेरे उतारो।

शशी हँसती हुई बैठ गयी और उसको भी बिठाके उसकी टी शर्ट निकाल दी। उसकी बालों से भरी चौड़ी छाती देखकर वह मस्त हो गयी। फिर उसने लोअर उतारा और उसके सामने चड्डी में बहुत फूला हुआ लौड़ा उसके मज़बूत जाँघों के बीच में जैसे चड्डी फाड़कर निकलने को बेताब था। उसने चड्डी के ऊपर से उसको सहलाया। फिर चड्डी उतारने लगी। उसके नंगे लौड़े को देखकर वह हैरान रह गयी। कितना लम्बा और मोटा था। उसके बॉल्ज़ भी बहुत बड़े थे। वह मंत्र मुग्ध होकर उस शानदार हथियार को देखती रही। उसकी चारों ओर बाल भी बहुत ही कम थे, जैसे हाल ही में शेव किया गया हो।

राज: शशी क्या देख रही हो? पसंद नहीं आया मेरा लौड़ा?

शशी: हाय ये तो बहुत बड़ा है। ये मेरे अंदर कैसे जाएगा। मेरे पति का तो इससे आधा ही लम्बा होगा और बहुत पतला भी है। 

राज हँसते हुए: अरे शादी के सात साल बाद एकदम कुँवारी लड़की की तरह बात कर रही हो? ले लोगी आराम से इसको भी और मज़े से चिल्लाओगी और चोदो और चोदो । समझी कुछ? इसको पकड़ो तो सही और थोड़ा सहला कर तो देखो मेरी शशी।

शशी ने अपने हाथ बढ़ाए और उसके लौड़े को अपनी मुट्ठी में लेकर सहलाने लगी। वह सोची कि बाप रे कितना बड़ा और मोटा है और मस्त गरम है । फिर उसने उसके बॉल्ज़ को सहलाया और बोली: आपके ये आँड भी कितने बड़े हैं?

राज: अरे मेरी जान, इसी में तो तुमको माँ बनाने वाला रस भरा है। इसका रस जब मेरे लौड़े से तेरी बुर में जाएगा, तभी तो तुम माँ बनोगी।

शशी को शायद बॉल्ज़ की महत्ता नहीं पता थी इसलिए वह चुपचाप उसकी बात सुन रही थी और लौड़े को सहलाए जा रही थी।

राज: चलो पहले मैं तुम्हारे बालों की सफ़ाई कर देता हूँ। चलो मैं पुराने न्यूज़ पेपर लेकर आता हूँ।

वह पेपर लाया और बिस्तर पर बिछाया और शशी के चूतरों को उनपर रखा और बाथरूम से शेविंग सेट ले आया। अब उसने उसकी टांगों को मोड़कर फैला दिया और ब्रश में साबुन लगाकर उसकी झाँटों में मलने लगा। फिर रेज़र से उसकी झाँटें काटने लगा। बालों के बड़े बड़े गुच्छे पेपर में जमा होने लगे। उसने बड़े मेहनत से उसकी झाँटे साफ़ की। फिर उसने उसकी कमर को और उठाया और थोड़े से बाल भूरि सी सिकुड़ी हुई मासूम सी गाँड़ में भी दिखाई दिए। उसने वहाँ भी साबुन लगाया और शेविंग की।अब उसने उसकी बुर और गाँड़ पर अपनी उँगलियाँ फिरायी और बोला: वह क्या माखन सी चिकनी हो गयी है तुम्हारे दोनों छेद । वह आऽऽह कर उठी।

राज उसकी गाँड़ में ऊँगली डाला और बोला: अब तो एकदम बच्ची की सी हो गई है तुम्हारी गाँड़ और बुर।

शशी: आआऽऽहहह क्या आप गंदी जगह में ऊँगली डाल रहे हैं? छी मत करिए ना।

राज: तुम्हारी गाँड़ गंदी नहीं मस्त जगह है चुदाई के लिए। देखना तुम्हें दोनों छेदों का मज़ा दूँगा ।

फिर वह बोला: चलो बाथरूम में चलते हैं। वह उसे उठाके बाथरूम में लेज़ाकर उसको टोयलेट की सीट पर बिठा दिया और बोला: चलो मूत लो जल्दी से ।

शशी शर्म से दोहरी हो गयी पर शायद उसको पिशाब आ रही थी सो करने लगी। वहाँ सीइइइइइइइइइ की आवाज़ आने लगी। वह अपने खड़े लौड़े को मसलने लगा। जब शशी का हो गया तो उसने उसको एक ओर खड़ा किया और हैंड शॉवर से उसकी बुर और गाँड़ को धोने लगा। फिर उसने बुर पर साबुन लगाया और उस जगह को अच्छी तरह से साफ़ किया। फिर वह उसके पीछे जाकर उसकी चूतरों को धोया और फिर उसकी गाँड़ की दरार में साबुन लगाके वहाँ भी हाथ डालके अच्छी तरह से सफ़ाई की।
शॉवर के निचे चुदाई

अब उसने शॉवर चालू किया और शशी को अपने से चिपका लिया और वह दोनों एक साथ नहाने लगे । शशी के लिए सब एक नया अनुभव था उसका लौड़ा उसकी नाभि में धँसा जा रहा था । फिर नहाने के बाद उसने अपने आप को फिर शशी को तौलिए से सुखाया। शशी की चूचियाँ, बुर और गाँड़ को भी अच्छी तरह से पोंछा।

फिर वह बिस्तर में जाकर उसके साथ लेटा और दोनों एक दूसरे से चिपक कर चुम्बन की मस्ती में डूब गए। राज के हाथ उसकी पीठ, कमर से होते हुए उसके चूतरों को दबाने लगे और फिर उसकी दरार में जाकर उसकी गाँड़ और बुर के साथ छेड़खानी करने लगे। शशी भी मस्ती में आके उसके लौड़े को मुठियाने लगी।
-
Reply
06-07-2017, 11:19 AM,
#5
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
बदन की गरमी थी कि बढ़ती ही जा रही थी। राज उसके होंठों को चूसे जा रहा था । अब उसके हाथ उसकी चूचियाँ भी दबा रहे थे । जल्दी ही वह चूचियाँ चूसने लगा। शशी भी आऽऽह्ह्ह्ह्ह कहकर अपनी मस्ती का इजहार कर रही थी। अब वह नीचे आकर उसके पेट और नाभि को चूमने लगा और फिर नीचे जाके उसने उसकी चिकनी बुर को देखा और उसमें मुँह डालकर उसको चूमने लगा। शशी चौंक कर बोली: छी आप ये क्या गंदी जगह को मुँह लगा रहे हैं?

राज मुँह उठाकर हँसा और बोला: तुम्हारी सबसे प्यारी जगह को तुम गंदी बोलती हो? अरे मेरी जान मेरा बस चले तो मैं यहाँ से मुँह ही नहीं हटाऊँ। ये कहकर वह उसकी बुर को अब चाटने लगा। शशी आऽऽऽह्ह्ह्ह्ह कर उठी । अब उसे बहुत मज़ा आने लगा था। वह अपनी कमर उछालकर उसके मुँह में अपनी बुर दबाने लगी थी।

अब उसने उसकी टांगों को और ऊपर उठाया और उसकी गाँड़ चाटने लगा। फिर से शशी चिल्लाई: क्या कर रहे हैं वह तो बिलकुल ही गंदी जगह है हटाइए मुँह वहाँ से ।
राज: अरे मेरी जान कोई भी अंग धुलने के बाद गंदा नहीं रहता । देख क्या मस्त चिकनी गाँड़ है तेरी। यह कहते हुए वह उसकी गाँड़ चाटने लगा और जीभ से उसकी गाँड़ में रगड़ाई करने लगा। शशी अब हाऽऽव्य्य्य्य उईइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽऽ कहते हुए वह अपनी गाँड़ उसके मुँह पर दबाने लगी।
बुर में सुपाड़ा पूरा चला गया

अब उसने फिर से उसकी बुर पर ध्यान दिया और उसे चाटने लगा और clit को जीभ से छेड़ने लगा। उसकी बुर पूरी तरह से पनिया गई थी और वह जानता था कि कुछ मिनटों में ही वह झड़ जाएगी। अब उसने अपना मुँह उठाया और अपने लौड़े में ढेर सारा थूक लगाया और फिर उसकी बुर के ऊपर अपने सुपाडे को रखकर दबाया और उसकी बुर में सुपाड़ा पूरा चला गया। वह चिल्लाई: आऽऽऽहहह आपका बहुत मोटाआऽऽऽ है। हाय्य्य्य्य्य्य।

अब राज उसके ऊपर झुका और और उसकी चूचियाँ दबाकर उसके होंठ चूसते हुए एक करारा धक्का लगाया और अपना लौड़ा आधे से भी ज़्यादा उसकी बुर में उतार दिया। वह ज़ोर ज़ोर से कमर हिलाकर चिल्लाई: आऽऽऽहहह बाउउउउउउउउउउजीइइइइइ निकाऽऽऽऽऽऽऽल लोओओओओओओओ नाआऽऽऽऽ उईइइइइइइइइइइ मरीइइइइइइइइइइइ । छोड़ो आऽऽऽह्ह्ह्ह्ह।

राज को लगा कि वह कुँवारी बुर को चोद रहा है। आऽऽह क्या टाइट बुर है । उसने उसकी चूचियाँ चूसीं और निपल्ज़ को मसलकर उसको बहुत गरम कर दिया। फिर वह बोला: शशी अब चोदूँ?

शशी: आऽऽऽह जी चोदिए आऽऽऽह बहुत मज़ा आ रहा है। हाऽऽयय्यय ।

अब राज ने आख़री धक्का लगाया और उसका लौड़ा जड़ तक उसकी बुर में समा गया था। शशी को लगा कि उसका लौड़ा उसके बच्चादानी को ठोकर मारने लगा। वह ख़ुशी से भर गयी क्योंकि ऐसी फ़ीलिंग उसे कभी भी नहीं हुई थी। पहली बार उसे चुदाई में इतना मज़ा आ रहा था।

अब शशी भी अपनी कमर हिलाके उसका साथ देने लगी। राज भी मज़े से धक्के लगाने लगा। कमरे में चुदाई का मानो तूफ़ान आया हुआ था। फ़च फ़च की आवाज़ गूँज रही थी। साथ ही शशी की सिसकारियाँ भी आऽऽऽहहह और चोओओओओओओओओओदो बाअअअअअअअअउउउउउजीइइइइइइइइइ । फ़ाड़ दोओओओओओओओओ मेरीइइइइइइइइइइइ फुद्दीइइइइइइइइइ। राज उसके चूतरोंको दबाके उसकी ज़बरदस्त चुदाई कर रहा था और उसकी एक ऊँगली उसकी गाँड़ जे छेद में भी हलचल मचा रही थी। 

अब शशी से नहीं रहा गया और वह ज़ोर से चिल्लाई: हाऽऽऽऽऽय्यय मैं गईइइइइइइइइइइइइ आऽऽऽह्ह्ह्ह्ह्ह कितना अच्छा लग रहा है और ज़ोर से चोदोओओओओओओओप्प बाऊजीइइइइइइइइइइइइ। उइइइइइइइइइ मैं गईइइइइइइइ। ये कहकर उसने अपनी जाँघों को दबाकर उसके लौंडे को जकड़ लिया और अपने ऑर्गैज़म के चरम आनंद में डूबने लगी। राज भी अब मज़े से उसकी बुर में अपना रस गिराने लगा। उसने पूरा लौड़ा दबाकर रस को अंदर तक छोड़ दिया । शशी को महसूस हुआ कि उसकी बच्चादानी के मुँह पर ही उसका वीर्य गिर रहा था।

वह आनंद से भर कर अपनी आँख बंद कर ली और चरम आनंद में डूब गई। अब राज भी बहुत मस्त होकर उसको चूमा और उसके साइड में लेट गया। अब दोनों नंगे अग़ल बग़ल लेटे हुए थे।

राज: मज़ा आया शशी?

शशी उससे लिपट कर बोली: सच बोलूँ ? मुझे तो आज ही पता चला कि असली चुदाई क्या होती है। आह सच में बहुत मज़ा आया बाऊजी । मैं आज बहुत ख़ुश हूँ।

फिर वह उसके लौड़े को पकड़कर प्यार से सहलाते हुए बोली: आज मुझे विश्वास हो गया है कि आप मुझे भी माँ बना ही देंगे जैसे अपने उन तीन लड़कियों को बनाया है। मुझे आप उन लड़कियों की कहानी कब सुनाएँगे?

राज उसके चूतरों को दबाकर बोला: ज़रूर बताऊँगा पर आज नहीं।

तभी उसका फ़ोन बजा उसने फ़ोन उठाया ।

राज: हेलो , अरे सतीश तुम? बोलो क्या बात है?

सतीश जो उसका दोस्त है: अरे तुमको अपने बेटे की शादी नहीं करनी है क्या?

राज: अरे करनी है ना , कोई है क्या तुम्हारी नज़र में?

सतीश : हाँ एक लड़की है मेरे एक दोस्त की ही बेटी है। अच्छी सुंदर और सुशील है और पढ़ी लिखी भी है।

राज: अरे तो फिर देर किस बात की है। बात आगे बढ़ाओ।

सतीश: ठीक है मैं फिर तुमको बताऊँगा उन लोगों से बात करके । ठीक है ना?

राज : बिलकुल ठीक है। मैं इंतज़ार करूँगा। बाई।

राज को ख़ुश देख कर शशी उसके बॉल्ज़ को सहला कर बोली: आप जय भय्या की शादी तय कर रहे हैं?

राज उसकी चूचि दबाके बोला: हाँ लड़की खोज रहा हूँ। देखो कब मिलती है?

फिर दोनों एक दूसरे से लिपट गए और राज उसको दूसरे राउंड की चुदाई के लिए तैयार करने लगा।
शशी उसके बॉल्ज़ को सहलाते हुए बोली: मुझे तो लगता है कि आपने इतना रस मेरे अंदर छोड़ा है मैं शायद आज ही गर्भ से हो गयी हों गई होऊँगी।

राज हँसते हुए: शायद नहीं ,पक्का गर्भ ठहर ही गया होगा। मेरे लौड़ा तुम्हारी बच्चे दानी के ऊपर ठोकरें मार रहा था। वैसे मुझे एक बार तुमको फिर से चोदना है। सच क्या टाइट बुर है तुम्हारी।

शशी उठकर बैठी और बोली: मुझे ज़रा बाथरूम जाना है।

राज : चलो मुझे भी जाना है।
चूत से निकलती झरने जैसी आवाज

दोनों बाथरूम में जाकर मूते और राज झुककर हैंड शॉवर से उसकी बुर को धोया और फिर शशी ने भी उसके लौड़े को धोया। फिर वो दोनों बाहर आकर बिस्तर पर लेटे और एक दूसरे को चूमने लगे। जल्दी ही दोनों गरम हो गए। राज उसके ऊपर ६९ की पोजीशन में आ गया और उसकी बुर को चूमने और चाटने लगा। उधर उसका लौड़ा शशी के मुँह के सामने था। उसने कभी लौड़ा नहीं चूसा था। मगर उसने कुछ फ़ोटो देखीं थीं उसके सहेलियों की मोबाइल में जिनमे अंग्रेज़ औरतें आदमियों का लौड़ा चूस रहीं थीं। उसकी कुछ सहेलियाँ भी उसको बतायी थी कि वो अपने पति के लौड़े चूसती हैं।

उसने भी हिम्मत की और उसके लौड़ेको सहलाते हुए अपने मुँह के पास लायी और उसके सुपाडे को सूँघा। उसका पूरा शरीर मस्ती से भरने लगा। उधर उसकी बुर पर राज की जीभ तांडव कर रही थी और वह बुरी तरह से पानी छोड़ रही थी। तभी उसने सुपाडे को चूम लिया और फिर वह जीभ से उसे चाटने लगी। उधर राज ने भी उसके मुँह में लौड़े का दबाव बढ़ाया और शशी के मुँह में उसका लौड़ा जैसे घुसता चला गया। अब राज उसके मुँह की चुदाई करने लगा। साथ ही बुर की रगड़ाई भी जीभ से किए जा रहा था। अब शशी मस्ती से लौड़ा चूसे जा रही थी। फिर राज उठा और उसने शशी को पेट के बल लिटाया और फिर उसको चूतड़ उठाने को बोला। अब उसकी बुर और गाँड़ उसकी आँखों के सामने थे। उसने गाँड़ की सुराख़ पर ऊँगली फेरी और फिर मस्ती से उसकी बुर मसलने लगा और फिर अपने लौड़े को उसकी बुर में लगाकर उसके अंदर अपना लौड़ा ठेल दिया और फिर उसकी नीचे को लटकी हुईं चूचियाँ दबाकर उसकी मस्त चुदाई करने लगा।

वह भी मज़े से अपनी गाँड़ पीछे करके चुदवाने लगी। कमरा एक बार फिर से फ़च फ़च की आवाज़ों से गूँजने लगा। जल्दी ही दोनों चिल्लाकर झड़ने लगे। राज ने उसकी बुर में अपना वीर्य अंदर तक छोड़ दिया।

फिर वो दोनों एक साथ लिपट कर सो गए।
-
Reply
06-07-2017, 11:20 AM,
#6
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
उस दिन भी वो दोनों चुदाई के बाद आराम कर रहे थे शशी उसके लौड़े को हल्के से सहला रही थी। तभी उसके दोस्त सतीश का फ़ोन आया और वह बोला: यार क्या तुम और जय कल यहाँ आ सकते हो? मैं चाहता हूँ कि कल तुम मेरे दोस्त अमित की भतीजी को देख लो। बहुत प्यारी बच्ची है तुम लोगों को ज़रूर पसंद आएगी।

राज ने शशी की गाँड़ सहलाते हुए कहा: अच्छा ये तो बहुत अच्छी बात है। कौन कौन है उसके घर में?

सतीश: यार बेचारी के पिता का तो बचपन में ही देहांत हो गया था वह अपनी माँ के साथ मेरे दोस्त के यहाँ पली है जो कि उसका ताया है । यानी वह अमित की भतीजी है। बी कॉम किया है और दिखने में भी बहुत सुंदर है।

राज: ओह चलो हम कल का प्लान बनाते हैं। तुमको ख़बर कर के कल शाम को आएँगे । तुम्हारा शहर सिर्फ़ दो घण्टे की ही दूर पर तो है। हम वहाँ पाँच बजे तक तो पहुँच ही जाएँगे। 

फिर इधर उधर की बात करके उसने फ़ोन रख दिया। फिर राज ने उसकी गाँड़ में एक ऊँगली डाल दी और शशी आऽऽंह कर उठी ।

राज: अरे एक ऊँगली नहीं ले पा रही है तो मेरा लौड़ा कैसे अंदर लेगी?

शशी: मुझे नहीं लेना आपका लौड़ा यहाँ। बुर को जितना चाहिए चोदिए। पर गाँड़ नहीं मरवाऊँगी।

राज: अरे जब तुम गर्भ से हो जाओगी तो गाँड़ से ही काम चलाउंगा ना। डॉक्टर बोल देगी तीन चार महीने बाद कि बुर को चोदना बंद करो।

शशी हँसते हुए बोली: तब की तब देखी जाएगी। अच्छा तो कल आप बहु देखने जा रहे हैं।

राज : हाँ हम जाएँगे। देखें क्या होता है वहाँ?

फिर वह किचन ने चली गयी और वह भी आराम करने लगा।
शशी खाना बना कर चली गयी और जय दुकान बंद कर घर आया तो राज ने उसे अगले दिन लड़की देखने की बात बताई। जय ने ठीक है कहा और दोनों खाना खाते हुए दुकान की बात करने लगे। खाना खाकर थोड़ी देर टेलीविजन देखकर वो सोने चले गए।

रात को सोते हुए राज सोचने लगा कि बहु के आने के बाद उसकी और शशी की चुदाई मुश्किल में पड़ जाएगी। उसे कोई रास्ता निकालना ही होगा ताकि वो शशी को बिना किसी अड़चन के चोद सके। वैसे भी उसकी आँखों में शशी की कुँवारी गाँड़ घूम रही थी और वह यह सोचकर गरम हो गया कि उसकी गाँड़ मारने में क्या मज़ा आएगा। फिर वह अपने खड़े लौड़े को दबाकर सो गया।

अगले दिन जय को जल्दी वापस आने के लिए बोल कर राज ख़ुद भी तैयार होकर बाज़ार गया और वहाँ से मिठाई और फल ख़रीदे। बाज़ार से वापस आकर उसने शशी की एक राउंड चुदाई भी की और फिर शाम को जय और वह पास के शहर में सतीश से मिलने पहुँचे।

सतीश उनको लेकर अपने दोस्त अमित के यहाँ पहुँचा । अमित और उसकी पत्नी ने उनका बहुत स्वागत किया और फिर उनको रश्मि से मिलवाया,जो कि अमित के स्वर्गीय भाई की पत्नी और डॉली की माँ थी। डॉली ही वह लड़की थी जिसे देखने वह दोनों आए थे।

राज ने फल और मिठाई रश्मि को दी। उसने देखा कि रश्मि बला की ख़ूबसूरत महिला थी। बहुत गोरी और अपने उम्र के हिसाब से थोड़ी भरी हुई भी थी। बड़े बड़े दूध और उभरे हुए चूतड़ बहुत ही मादक थे। बहुत दिन बाद राज के लौड़े ने एक नज़र देखकर ही एक औरत के लिए झटका मारा था। राज उसकी गाँड़ के उभार को देखकर मस्ती से भर गया। फिर उसने अपने आप को याद दिलाया कि वह उसकी समधन हो जाएगी अगर ये रिश्ता हो जाता है।

उसने अपने आप को क़ाबू में किया और बोला: भाभी जी आप जब इतनी सुंदर हो तो आपकी बेटी भी यक़ीनन बहुत प्यारी होगी। 

रश्मि: अरे आपका बेटा भी तो बहुत प्यारा है। भाई सांब इन दोनों की जोड़ी बहुत जमेगी।

राज हँसते हुए बोला: भाभी जी आपकी बेटी देख तो लें फिर शायद आपको बात से हम भी सहमत हो जाएँगे।

तभी अमित आकर रश्मि को बोला: रश्मि आओ डॉली को ले आते हैं। वो दोनों अंदर चले गए। राज ने नोटिस किया कि अमित अपनी बीवी की तरफ़ ज़्यादा ध्यान नहीं दे रहा था। वैसे उसकी बीवी काफ़ी दुबली पतली थी और बीमार सी दिखती थी।

राज ने एक नौकर से कहा: मुँझे बाथरूम जाना है।

वह उसके साथ बाथरूम की ओर चल पड़ा। नौकर उसको एक कमरे में बाथरूम दिखाकर वापस चला गया। वह बाथरूम जाकर जब बाहर आया तभी उसको कुछ आवाज़ सी आयी। वह कमरे से बाहर आते हुए रुक गया और दरवाज़े के पास आकर थोड़ा सा दरवाज़ा खोलकर झाँका।
वहाँ सामने कोई नहीं था। वह बाहर आया और तभी उसको दबे स्वर में हँसने की आवाज़ आयी और वह पता नहीं क्यों उस कमरे के सामने पहुँचकर चुपचाप बातें सुनने लगा। अंदर आदमी बोल रहा था: अब यह शादी हो जाए तो हम खुलकर मस्ती कर सकेंगे । फिर चुम्बन की आवाज़ आइ । अब धीरे से वह अंदर झाँका। वहाँ का दृश्य बड़े ही हैरान करने वाला था। अमित अपने भाई की बीवी के साथ लिपटा हुआ था और उसे चूमे जा रहा था। वह भी उससे मज़े से चिपकी हुई थी। अमित के हाथ उसके बड़े बड़े चूतरों को दबा रहे थे।
रश्मि: अच्छा अब छोड़िए। डॉली तैयार हो गयी होगी।

अमित: हाँ यार जितनी जल्दी उसकी शादी हो जाए हम मज़े से चुदाई कर सकेंगे।

रश्मि: हाँ जी आपको भाभी तो मज़ा नहीं देती इसलिए मुझे ही रगड़ोगे आप तो। चलो अब जल्दी से वरना कोई देख लेगा। वो दोनों अलग हुए तो वह अपनी साड़ी का पल्लू ठीक करते हुए बोली: देखिए पूरा ब्लाउस छाती के ऊपर कैसा मसल दिया है आपने ।कोई भी समझ लेगा कि क्या हुआ है मेरे साथ।

अमित: अरे तुम्हारी चूचियाँ हैं इतनी मस्त कि साला हाथ अपने आप ही उन पर चला जाता है। वह यह कहते हुए अपने लौड़े को पैंट में अजस्ट करने लगा।

फिर दोनों बाहर आने लगे। राज जल्दी से वहाँ से हट कर छुप गया। उनके जाने के बाद वह वापस बाहर आ गया। जय वहीं बैठकर अमित की बीवी से बातें कर रहा था।

थोड़ी देर बाद वो दोनों आए और साथ में डॉली भी आयी। उसने साड़ी पहनी हुई थी। वह माँ जैसी ही गोरी चिट्टि और थोड़े भरे बदन की नाटे क़द की लड़की थी। जय तो उसे एकटक देखता ही रह गया। डॉली ने भी भरपूर नज़र से जय को देखा और वह भी उसको बहुत पसंद आ गया।

राज ने भी डॉली को देखा और वह सच में अपनी माँ का ही प्रतिरूप थी। भरे बदन के कारण वह बहुत सेक्सी भी दिख रही थी। साड़ी से उसकी चूचियों के उभार बहुत ही ग़ज़ब ढा रहे थे। और जब वह उसको नमस्ते करके उसकी बग़ल से आकर साइड के सोफ़े में बैठी तो उसके चूतरों का उभार उसको मस्त कर गया। तभी उसे याद आया कि वह उसकी होने वाली बहु है। उसे अपने आप पर बहुत शर्म आयी और उसने अपना सिर झटका जैसे वह गंदे ख़याल अपने दिमाग़ से बाहर निकाल रहा हो।

अमित: ये है हमारी बिटिया शशी रश्मि। और रश्मि ये है जय और ये हैं इनके पिता।

रश्मि ने फिर से सबको नमस्ते किया। वह अपना सिर झुका कर बैठी थी। राज ने देखा कि जय उसे देखे ही जा रहा था। वह मन ही मन मुस्कुराया और बोला: जय मैं चाहता हूँ कि तुम और डॉली अकेले में थोड़ी देर बातें कर लो और एक दूसरे को समझ लो। अमित जी आपको कोई ऐतराज़ तो नहीं?

अमित: अरे नहीं हमें क्यों ऐतराज़ होगा अच्छा ही है वो दोनों एक दूसरे को समझ लें।

रश्मि उठी और डॉली और जय को लेज़ाकर एक कमरे में बिठा आयी।

जब वो वापस आइ तो राज उसको भरपूर नज़रों से देखा, उसको उसकी और अमित की मस्ती याद आ गयी।

रश्मि: भाई सांब लगता है दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे हैं।

राज: हाँ बड़ी ही प्यारी बच्ची है , मुझे भी लगता है कि दोनों एक दूसरे को पसंद आ गए हैं।

उधर डॉली और जय एक दूसरे से बातें किए जा रहे थे। जय उसको अपने बिज़नेस वग़ैरह के बारे ने बताया और डॉली अपनी पढ़ाई और अपने खाना बनाने के शौक़ के बारे में बतायी। जल्दी ही उन दोनों को समझ में आ गया कि वह एक दूसरे को पसंद करने लगे हैं। 

थोड़ी देर बाद जय बोला: आप मुझे पसंद हो, अब आप बताओ कि मैं आपको पसंद हूँ या नहीं?

डॉली ने सिर झुका कर कहा: आप भी मुझे पसंद हो। 

फिर दोनों उठकर बाहर आए और राज ने पूछा: हाँ अब बताओ कि क्या इरादा है?

जय: पापा मेरी तो हाँ है।

अमित: और बेटी तुम्हारी?

डॉली ने शर्माकर अपना सिर हाँ में हिला दिया।
-
Reply
06-07-2017, 11:20 AM,
#7
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
अब राज ख़ुशी से खड़ा हुआ और अमित भी खड़े होकर उसके गले मिला। और उन्होंने एक दूसरे को बधाइयाँ दी। रश्मि ने भी राज को बधाई दी। फिर जय और डॉली ने सबके पैर छुएँ। अमित ने सबको मिठाई खिलाई।

अब राज भी कार से मिठाई और एक अँगूठी निकाल लाया। रश्मि भी एक अँगूठी लायी। अब जय और डॉली ने एक दूसरे को अँगूठी पहनायी। सबने उनको बधाइयाँ दी।बहुत से फ़ोटो खिंचे गए। फिर सबने नाश्ता किया और बाद में जय और राज वापस अपने घर आ गए।

रास्ते में राज बोला: बेटा पहली बार में ही लड़की पसंद आ गई ?

जय: जी पापा वो बहुत ही समझदार लड़की है और अपनी ज़िम्मेदारी भी समझती है।

राज हँसते हुए बोला :और सुंदर भी है । है ना?
जय: जी पापा सुंदर तो है ही ।

राज: तुम दोनों की जोड़ी ख़ूब जँचेगी। मुझे ख़ुशी है कि पहली बार में ही इतना बढ़िया रिश्ता मिल गया।

रात को सोते हुए राज रश्मि के बारे में सोच कर गरम होने लगा। क्या दूध हैं उसके। फिर अचानक उसको डॉली के भी साड़ी से उभरे हुए दूध याद आ गए और उसका लौड़ा खड़ा हो गया। फिर उसे शर्म आइ और वह अपने आप को कोसा और सोने की कोशिश करने लगा।
सुबह उसने शशी के लिए दरवाज़ा खोला और आकर सोफ़े पर बैठ गया। शशी भी आकर उसकी गोद में बैठ गयी और बोली: तो क्या हुआ कल ? बहू पसंद आयी या नहीं?

राज: बहुत पसंद आयी और हमने तो रोका भी कर दिया। अब सगाई की तारीख़ निकालेंगे।

शशी: कैसी है दिखने में?

राज: बहुत प्यारी और सुंदर। तुमको फ़ोटो दिखाता हूँ। यह कहकर उसने शशी को मोबाइल पर कल की फ़ोटो दिखाई।

शशी: हाँ बहुत सुंदर है। भैया बहुत लकी है। वैसे भरी हुई है जैसी आपको अच्छी लगती हैं वैसे ही है।

राज: बिलकुल खाते पीते घर की है, तुम्हारे जैसी सूखी और सुक़ड़ी सी नहीं है। यह कहते हुए वह हँसा और उसको चूम लिया। फिर उसकी छाती पर हाथ फेरने लगा।

शशी हँसते हुए बोली: आपकी बहू की छाती तो इतनी बड़ी है कि मेरी दोनों छातियाँ उसकी एक के बराबर होंगी।

राज: अरे नहीं इतनी भी बड़ी नहीं हैं पर हाँ तुम्हारी छाती से काफ़ी बड़ी हैं।

शशी हँसते हुए: काफ़ी ध्यान से देखा है बहू की छातियों को? इरादा नेक है ना?

राज: अरे तुम भी क्या फ़ालतू बात कर रही हो। ऐसी कोई बात नहीं है। वैसे इसकी माँ की चूचियाँ तुम्हारी से दुगुनी होंगी, ये देखो । ये कहकर उसने रश्मि की फ़ोटो में उसकी छाती को ज़ूम करके दिखाया।

शशी: हाँ सच में इनकी बहुत बड़ी हैं। ये आपकी होने वाली समधन हैं क्या?

राज: हाँ ये रश्मि है मस्त माल है। और चालू भी है। ये कहते हुए उसका लौड़ा अकड़ने लगा और शशी को गाँड़ में चुभने लगा।

शशी गाँड़ को उचका कर बोली: आह इसे क्यों खड़ा कर लिए? समधन का जादू है क्या? आपने उसे चालू क्यों बोला?

राज ने उसे अमित और रश्मि की मस्ती के बारे में बताया कि कैसे वो एक दूसरे से लिपट कर मज़ा कर रहे थे और डॉली की शादी का इंतज़ार कर रहे थे ताकि खुल कर मज़े ले सकें।

राज: मुझे लगता है कि डॉली के कारण वो ज़्यादा मज़ा नहीं ले पाते होंगे। वैसे भी अमित की बीवी तो बहुत बीमार दिख रही थी। वो क्या इनके मज़े में ख़लल डाल पाएगी? 

शशी: तब तो डॉली को भी इसका अंदाज़ा तो होगा ही कि उसकी माँ उसके ताया जी के साथ फँसी हुई है। और वो चुदाई के बारे में सब जानती होगी। वैसे भी उसका भरा हुआ बदन देखकर लगता है कि वो शायद चुदवा चुकी होगी।

राज: क्या फ़ालतू बात कर रही हो? वो एक बच्ची की तरह मासूम है। बहुत नादान है वो बिलकुल एक नगीना यानी कि हीरा है।
शशी हँसते हुए बोली: उस बिचारि नगीना को क्या पता कि उसका ससुर कितना कमीना है?

राज झूठा ग़ुस्सा दिखाकर बोला: मैंने क्या कमीनी हरकत की है?

शशी हँसते हुए बोली: अपनी बहू के दूध देखना और उसको मेरे दूध से तुलना करना क्या कमीनापन नहीं है? अच्छा ये बताइए उसकी गाँड़ कैसी है? आपको तो बड़े चूतड़ अच्छे लगते हैं ना? बहू के कैसे हैं? वैसे इस फ़ोटो में तो बड़े मस्त गोल गोल दिख रहे हैं। !

राज का लौड़ा अब पूरा खड़ा हो कर उसकी गाँड़ में ठोकर मार रहा था। वह बोला: साली कमिनी , ख़ुद मेरी बहू के बारे में गंदी बात कर रही है और मुझे कमीना बोल रही है। चल अभी तेरी गाँड़ मारता हूँ मादरचोद।

ये कहकर वह उसको अपनी गोद में उठाकर बेडरूम में ले जाकर बिस्तर पर पटका और उसकी साड़ी ऊपर करके उसकी बुर में दो ऊँगली डाल दिया। इस अचानक हमले से शशी हाय्य्यय कर उठी पर वह उसकी बुर में उँगलियाँ अंदर बाहर करने लगा । जल्दी ही बुर गीली हो गई और उसने अपना लोअर और चड्डी उतारा और फनफना रहे लौड़े को उसकी बुर में एक झटके में पेल दिया। फिर उसके ऊपर आकर उसके ब्लाउस और ब्रा को ऊपर किया और चूचियाँ मसलते हुए उसकी बेरहमी से चुदाई करने लगा।

शशी भी आऽऽऽहहह हाय्य्य्य्य कहकर मस्ती से कमर उछालने लगी और बोली: सच में बोलो ना बहू भी अपनी माँ की तरह माल है ना?

राज: आऽऽहहह मादरचोओओओओओओओद फिर वही। कहा ना माँ साली रँडीइइइइइइइ है। बहू तो अभी बच्चीइइइइइइइइ है। 

शशी: फिर भी उसके चूतड़ और चूची तो मस्त है ना? वैसी है जैसे आपको अच्छी लगती है । है नाआऽऽऽऽऽऽऽ आऽऽऽऽऽह बोओओओओओओलो ना।

राज ज़ोर ज़ोर से धक्का मारते हुए बोला: आऽऽऽहहह ह्म्म्म्म्म्म हाँआऽऽऽऽ सालीइइइइइइ बहू भी मस्त माआऽऽऽऽऽऽऽल है। डॉली की भी मस्त गोओओओओओओओल गाँड़ है आऽऽऽह्ह्ह्ह्ह मैं गयाआऽऽऽऽऽऽ । साली क़ुतियाआऽऽऽऽऽऽ लेeeee मेराआऽऽऽऽ माआऽऽऽऽलल्ल अपनी बुर में। ह्म्म्म्म्म्न कहते हुए वह झड़ गया।

फिर जब वो सफ़ाई करके लेटे हुए थे, तब राज बोला: सच में डॉली बहुत मासूम सी बच्ची है। मुझे उसके बारे में ऐसी बातें नहीं करनी चाहिए।
शशी: पर मुझे तो लगता है कि आप उसकी भी ले लोगे।

राज ग़ुस्से से : क्या बकवास कर रही हो? वो मेरे बेटे की बीवी होगी। उसके बारे में ऐसा कैसे कर सकता हूँ। हाँ उसकी माँ की बुर ज़रूर रगड़ूँगा। साली सिर्फ़ अमित को क्यों मज़ा दे ? हम साले मर गए हैं क्या?

शशी उठती हुई बोली: एक बात बताइए कि हमारा मिलन कैसे होगा बहु के आने के बाद?
-
Reply
06-07-2017, 11:20 AM,
#8
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
राज: ये चिंता तो मुझे भी है देखो कोई रास्ता निकालेंगे। ये कहकर वह फिर से उसको अपनी बाँहों में खींच लिया और बोला: तुम्हारा महवारी याने पिरीयड कब आता है?

शशी: अभी दस दिन हैं। क्यों पूछ रहे हैं आप?

राज: अरे इसीलिए कि इस बार नहीं आएगा। तुमको गर्भ से जो कर चुका हूँ।

शशी: आप इतने यक़ीन से कैसे कह सकते हैं?

राज: मैंने तुमको बताया था ना कि मैं पहले भी तीन लड़कियों को गर्भवती कर चुका हूँ और तीनों एक महीने की ही चुदाई में माँ बनने के रास्ते पर चल पड़ीं थीं।

शशी: मैं तो आपको कितनी ही बार पूछ चुकी हूँ पर आप अभी तक एक के बारे में भी नहीं बतायें हैं।

राज: चलो अभी चाय पिलाओ और बाद में जय के दुकान जाने के बाद मैं तुमको बताऊँगा कि कैसे मैंने बुलबुल को गर्भवती किया। वही पहली लड़की थी जिसे मैंने करीब पाँच साल पहले चोद के माँ बनाया था।

शशी: ठीक है बताइएगा आज बुलबुल के बारे में। ये कहकर वह किचन मे चली गयी।

बाद में जय उठकर आया और चाय पीते हुए बाप बेटा बातें करने लगे।

राज: फिर बरखुरदार, रात को नींद आयी या नहीं? कहीं रात भर शादी के सपने तो नहीं देखते रहे?

जय: क्या पापा आप भी ना ? छेड़ रहे हैं मुझे?

राज हँसते हुए बोला: अरे बहु का सेल नम्बर लिया था कि नहीं?

जय शर्माकर: कहाँ ले पाया? सब कुछ इतनी जल्दी में हो गया।

राज : अच्छा चल मैं ही जुगाड़ करता हूँ तेरे लिए। ये कहकर उसने अमित को फ़ोन लगाया।

उधर से रश्मि ने फ़ोन उठाया और बोली: हेलो कौन बोल रहे हैं?

राज: मैं राज बोल रहा हूँ भाभीजी । आप कैसी हैं?

रश्मि: नमस्ते भाई सांब । मैं ठीक हूँ। आप लोग कल अच्छे से पहुँच गए थे ना?

राज: हाँ जी सब बढ़िया है। मैंने इसलिए फ़ोन किया कि मुझे डॉली का नम्बर चाहिए ,जय माँग रहा है। वो दोनों बातें करेंगे तो एक दूसरे को समझेंगे ना।

रश्मि: जी बिलकुल ठीक कहा आपने। मैं अभी आपको sms करती हूँ। जय है क्या बात करवाइए ना?

जय ने फ़ोन लेकर कहा: नमस्ते मम्मी जी।

रश्मि: नमस्ते बेटा , कैसे हो? डॉली को हम लोग बहुत छेड़ रहे हैं तुम्हारा नाम लेकर।

जय: मम्मी आप लोग भी ना बेचारी को क्यों तंग कर रहे हो?

रश्मि: लो अभी से उसकी तरफ़ से बोलने लगे? वाह जी वाह।

जय: मम्मी मेरी आप खिंचाई तो मत करो।

फिर कुछ देर इधर उधर की बातें करके वह फ़ोन राज को दे दिया।

राज: तो भाभीजी आप हमारे घर कब आ रही हैं? आपने तो हमारा घर भी नहीं देखा है।

रश्मि: भाई सांब जल्दी ही आएँगे। आपने सगाई का कुछ सोचा?

राज: आज पंडित जी से बात करूँगा मुहूर्त के लिए। डॉली की कुंडली भी भेज दीजिएगा। जय की कुंडली से मिलवा लेंगे। 
रश्मि: भाई सांब सगाई कहाँ करेंगे?

राज : आप जहाँ बोलेंगी वहाँ करेंगे। अजी हम तो आपके हुक्म के ग़ुलाम हैं।

रश्मि: कैसी बात कर रहे हैं, हम लड़की वाले हैं हम झुक कर रहेंगे।

(तभी जय का फ़ोन बजा और वह अपने बेडरूम में चला गया। )

राज: अरे भाभीजी आप जैसी सुंदर महिला की ग़ुलामी करने का मज़ा ही कुछ और है।

रश्मि: भाई सांब आप भी अब मुझे खींच रहे हैं ।

राज: अरे भाभी जी मेरी क्या औक़ात है आपकी खींचने की? मैं तो ख़ुद ही खिंचा जा रहा हीं आपकी तरफ़।

रश्मि: भाई सांब आपको बातों ने जीतना बहुत मुश्किल है।

राज: भाभीजी बातों में जीत सकती है पर हमें एक बार सेवा का मौक़ा दीजिए। सच कहता हूँ आप भी क्या याद करेंगी।

इस बार राज ने द्वीयर्थी डायलॉग बोल ही दिया।वह अपने लौड़े को हल्के से दबाया जो अपना सिर उठा रहा था।

रश्मि एक मिनट के लिए तो चुप सी हो गयी फिर बोली: चलिए सगाई आपके यहाँ ही रखते हैं , देखते हैं कितनी सेवा करते हैं आप?

राज ख़ुश होकर बोला: ये हुई ना बात ।भाभीजी ऐसी सेवा करूँगा आप भी याद रखोगी। बस एक मौक़ा तो दीजिए। और हाँ अपना नम्बर भी दे दीजिए। अमित के नम्बर पर आपको बार बार फ़ोन नहीं कर सकता।

रश्मि: भाई सांब रखती हूँ । भैया आ रहे हैं। मैं आपको sms करती हूँ अपना और डॉली का नम्बर।

फिर फ़ोन कट गया। राज अभी भी लौड़ा दबाये जा रहा था। तभी शशी आयी और मुस्कुरा कर बोली: क्या हो रहा है? मैं दबा दूँ? समधन को पटा रहे थे? मैं सब सुन रही थी।

राज: जय को दुकान जाने दो फिर जो करना है कर लेना। समधन तो साली रँडी है उसे तो शादी के पहले ही चोद दूँगा।

तभी जय के आने की आवाज़ आइ और शशी वहाँ से बाहर चली गई। तभी रश्मि का sms भी आ गया। उसने डॉली का नम्बर जय को फ़ॉर्वर्ड कर दिया और अपने फ़ोन में भी बहू के नाम से सेव कर लिया। और रश्मि का नम्बर भी सेव कर लिया।

अब जय भी अपने समय पर दुकान को चला गया।
-
Reply
06-08-2017, 07:08 PM,
#9
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
उसके जाने के बाद शशी आकर राज के पास आकर बैठी और राज ने उसे अपनी गोद में खींच लिया और उसको चूमने लगा। वो रश्मि से बात करके उत्तेजित हो चुका था ।

तभी शशी बोली: आज आप मुझे बुलबुल के माँ बनने की कहानी सुनाएँगे।याद है ना?

राज उसकी बुर को साड़ी के ऊपर से दबाकर बोला: ज़रूर मेरी जान, बिलकुल सुनाएँगे।
शशी की बुर साड़ी के ऊपर से दबाकर वह बोला: चलो चुदाई करते हैं।

शशी: अभी नहीं पहले बुलबुल के बारे में बताइए की उसको कैसे गर्भ वती किया आपने?

राज: अच्छा पीछे पड़ गयी हो , ठीक है सुनो। फिर उसने अपनी बात बोलनी शुरू की——————
तभी काँच का दरवाज़ा खुला और उसमें से एक बहुत ही गोरी सुंदर थोड़ी भारी बदन की क़रीब मेरे ही उम्र की महिला अंदर आइ और साथ ही तेज़ सेंट की ख़ुशबू दुकान में फैल गयी। मेरी नींद उड़ गयी और मैं उठकर उसके पास आया और बोला: आइए मैडम जी, बैठिए।
वो मुस्कुरा कर बोली: मुझे कुछ नई साड़ियाँ दिखाइए।

मैं उसे नई डिजाइन की साड़ियाँ दिखाने लगा। वह हर साड़ी को अपने ऊपर रखती और शीशे में देखती थी। ये करते हुए उसका पल्लू खिसक जाता था और मुझे उसकी बड़ी बड़ी चुचीयो की और उनके बीच की घाटी के दर्शन हो जाते थे। ऐसा करते हुए आख़िर उसने दो साड़ियाँ पसंद कीं। मेरा लौड़ा गरमाने लगा था। वह जब शीशे के सामने खड़ी होती तो उसके मस्त चूतरों के उभार तो जैसे मुझे दीवाना कर रहे थे।

फिर वह बोली: आपके यहाँ कोई सेल्ज़ गर्ल नहीं है क्या?

मैं: है ना मगर सब अभी सामने होटेल में खाना खाने गए हैं क्योंकि उंनमें से एक का आज जन्म दिन है। आपको कुछ चाहिए तो आप मुझे बताइए ना?



उसने हिचकिचाते हुए कहा: मुझे अंडर गारमेंट्स चाहिए।

मैं: आइए इस काउंटर पर आइए मैं निकालता हूँ।

यह कहकर मैं एक काउंटर जे पीछे पहुँचा और वहाँ रखे ब्रा और पैंटी को दिखाकर बोला: बताइए किस पैटर्न में दिखाऊँ?

वह बोली: आप मुझे सभी दिखायीये मैं पसंद कर लूँगी।

मैंने उसको जानबूझकर पैडेड ब्रा के डिब्बे से ब्रा निकाल कर दिखाया।

वह बोली: मुझे बिना पैडेड वाली ब्रा चाहिए।

मैं मुस्कुराकर उसकी छाती को देखकर बोला: आप सही कह रही हैं , आपको भला पैड की क्या ज़रूरत है?

वो मेरी बात का मतलब समझ कर लाल हो गई पर कुछ नहीं बोली।

फिर मैंने जानबुझकर उसको ३६ साइज़ की लेस वाली ब्रा दिखाई। वह उसको देखकर बोली: हाँ ये पैटर्न तो सही है पर मुझे बड़ी चाहिए।
मैंने पूछा: क्या साइज़ है मैडम?

वो थोड़ा सा हिचकिचाके बोली: ४० की चाहिए।

मैंने ख़ुश होकर कहा: आपकी और मेरी बीवी की साइज़ एक ही है। अच्छा ज़रा रुकिए , मैंने अपनी बीवी के लिए कुछ नई नाट्टि ब्रा लाया था। उसमें से कुछ शायद आपको भी पसंद आ जाएँ। यह कहकर मैंने उसे बहुत सेक्सी ब्रा दिखायीं। उंनमें निपल के छेद बने थे और निप्पल की जगह किसी में नेट लगा था।

वह ये देखकर बोली: आप अपनी बीवी के लिए ऐसे ब्रा ख़रीदे है ? छी मुझे तो बहुत शर्म आ रही है।

मैं: मुझे तो वो इसमें बहुत सेक्सी लगती है। आप भी बहुत सेक्सी लगेंगी।

वो बोली: नहीं नहीं मुझे आप ये सादी वाली ही दे दीजिए। और अब पैंटी दिखा दीजिए।

मैं उसके कमर को देख कर बोला: आपको तो xxl ही आती होगी। मेरी बीवी का भी यही साइज़ है। फिर मैंने उसे सेक्सी जाली वाली पैंटी ही दिखाई। वह उसे देखकर बोली: छी ये पहनने या ना पहनने में क्या फ़र्क़ है भला।

मैं: अरे मैडम ये भी बहुत सेक्सी है आप पर बहुत फबेगी।

वो: नहीं नहीं मैं ऐसे कपड़े नहीं पहन सकती। फिर मैंने उसे सादी पैंटी दिखाई तो वह उसने ले ली। मैं समझ गया था कि वह एक शरीफ़ महिला है। पर क्या करता मेरा आवारा लौड़ा कड़ा होकर मुझे बार बार उसकी ओर खींच रहा था।

मैं: मैडम मैं आपको भाभी जी बोल सकता हूँ?

वो: हाँ हाँ क्यों नहीं? भाई सांब आपके कितने बच्चे हैं?

मैं: दो और आपके? आपके पति का बिज़नेस है क्या?

वो: जी हाँ उनका इक्स्पॉर्ट का काम है । मेरे एक ही बेटा है, उसकी शादी हो चुकी है।

मैं: तो आप दादी भी बन गयी क्या?

वो दुखी होकर बोली: नहीं अभी तक तो नहीं बनी हूँ।

फिर मैं बिल बना रहा था तो मैंने उसका नाम पूछा। उसने अपना नाम साधना बताया। मैंने उसका मोबाइल नम्बर और पता भी ले लिया। फिर बिल का पैसा देकर वो जाने लगी तो मैं बोला: भाभी जी आते रहिएगा।

साधना: ठीक है फिर आऊँगी।

अचानक मुझे पता नहीं क्या हुआ कि मैं बोला: भाभी जी , कल शाम को एक कॉफ़ी साथ में पियें क्या?

साधना हैरानी से बोली: जी? क्या मतलब?

मैं: बस एक कप कॉफ़ी का तो बोला है और क्या? यहाँ पास में एक कॉफ़ी शाप है चौक पर । कल आपका वहाँ शाम को पाँच बजे इंतज़ार करूँग़ा ।

साधना: पाँच बजे नहीं चार बजे। छह बजे मेरे पति और बेटा घर आ जाते हैं।

मैं: ठीक है चार बजे। वह मुस्कुराकर चली गयी।

और मैं अपना लौड़ा मसलते हुए उसके मस्त गदराये बदन का सोचने लगा।

उस रात मैंने सरिता याने अपनी बीवी को जबदरस्त तरीक़े से चोदा। और ये सोचकर चोदा कि साधना को चोद रहा हूँ।
-
Reply
06-08-2017, 07:08 PM,
#10
RE: बहू की चूत ससुर का लौडा
दूसरे दिन शाम को चार बजे मैं कॉफ़ी शॉप में गया तो साधना वहाँ नहीं थी। थोड़ी देर में वह आयी तो कई मर्दों की निगाहें उस पर थीं। आज उसने सलवार कुर्ता पहना था। वह आइ तो उसकी जानी पहचानी सेंट की ख़ुशबू मेरे नथुनों में घुस गयी और मैं मस्त होने लगा। तभी वह मुस्कुरा कर मेरे सामने आके खड़ी हुई। मैंने उठकर उसकी ओर हाथ बढ़ाया तो उसने मेरे हाथ में अपना हाथ दे दिया और मैंने उसके नरम हाथ को हल्के से दबा दिया।

अब वो मेरे सामने बैठ गई और मेरी आँखें उसकी कुर्ते से बाहर झाँक रही आधी चूचियों पर चली गई। उसने चुन्नी ऊपर रखी थी। आऽऽऽह क्या जलवा था। मेरा लौड़ा झटका मार उठा। उसका हाथ टेबल पर रखा था सो मैंने भी हिम्मत करके उसके हाथ पर अपना हाथ रख दिया और हल्के से दबा दिया। वह मेरी आँखों में देखी पर कुछ नहीं बोली। फिर कॉफ़ी आयी और हम कॉफ़ी पीने लगे।

वह धीरे से बोली: आपके परिवार की फ़ोटो दिखायीये ना। मैंने मोबाइल में बीवी बेटे और बेटी और दामाद की फ़ोटो दिखाई। वो बोली: आपकी बीवी तो बहुत सुंदर है और फ़िगर भी अच्छा है।

मैं: आपसे अच्छा नहीं है। आपका ज़्यादा अच्छा है। मैंने उसकी चूचियों को घूरते हुए कहा। वह शर्मा गयी।

वह: आपको पता है कि मेरी उम्र ५४ साल की है और आप मुझसे फ़्लर्ट कर रहे है।

मैं: मैं भी तो ४५ का हूँ। अच्छा आप भी फ़ोटो दिखाइए ना अपने पति की और बच्चों की। फिर उसने भी मोबाइल पर अपने पति बेटे और बहु की फ़ोटो दिखायी।

उसका बेटा और बहु तो सामान्य थे पर उसका पति मोटा और तोंद वाला था और बहुत स्वस्थ भी नहीं दिख रहा था।

मैं: आपके पति तो थोड़े बीमार से दिख रहे हैं।

साधना: जी हाँ उनको २ महीने पहिले हार्ट अटैक आया था।

मैं: ओह तभी इतने कमज़ोर दिख रहे हैं चेहरे से। एक बात बोलूँ बुरा तो नहीं मानेंगी?

साधना: नहीं नहीं बोलिए क्या बोलना है?

मैं: आप इतनी मस्त जवान सी रखीं हैं और कहाँ आपके पति कमज़ोर से , आपको संतुष्ट कर लेते हैं?

साधना का चेहरा लाल हो गया और बोली: आप भी ना? ये कैसा सवाल है?

मैं: मैंने तो कहा था कि आप बुरा नहीं मानोगी।

साधना: बुरा नहीं मान रही हूँ। ये सच है कि अब हमारे बीच में सेक्स दो महीनों से पूरी तरह बंद है। पर अब ५४ की होने के कारण इतनी पागल भी नहीं हो रही हूँ इसके लिए ।

मैंने उसका हाथ दबाया और बोला: देखिए आप मुझे बहुत अच्छी लगती हैं और अगर आप चाहें तो मैं आपसे अपने सबँध को आगे बढ़ाना चाहता हूँ।
साधना ने मेरी आँखों ने झाँका और बोली: मैंने कभी भी अपने पति को धोका नहीं दिया है। और अब इस उम्र में देना भी नहीं चाहती।

मैं: अच्छा आप कितने विश्वास से यही बात अपने पति के लिए भी कह सकती हो?

साधना: मुझे पता है कि उनका कई लड़कियों से चक्कर रह चुका है। मैंने तो उनको रंगे हाथों भी पकड़ा है। पर क्या करूँ हर बार उनको माफ़ कर देती थी।

मैं: जब वो बेवफ़ा है तो आपने क्या वफ़ा का ठेका ले रखा है? चलिए ना थोड़ी सी बेवफ़ाई करते हैं हम दोनों।

वो हँसते हुए बोली: क्या बात कही है। अब मैंने अपना हाथ उसके हाथ से हटाकर उसकी जाँघ पर रख दिया और सहलाने लगा। टेबल के नीचे होने से किसी को नहीं दिख रहा था।

साधना सिहर उठी और बोली: आप मुझे कमज़ोर कर रहे हैं।


मैं: प्लीज़ चलिए ना , वादा करता हूँ कि आपको बहुत ख़ुश करूँगा।

साधना: कहाँ जाएँगे?

मैं उत्साहित होकर: ये मेरे पास एक फ़्लैट की चाबी है , मेरे दोस्त की वह अभी विदेश में है। यहीं पास में है।

साधना: पर अब ६ बज रहे हैं। वो दोनों घर आने वाले होंगे , बाप बेटा मेरा मतलब है।

मैं: अरे उनको फ़ोन कर दो कि किसी सहेली के यहाँ हो थोड़ी देर में आ जाओगी।

साधना :ठीक है आज पहली बार मैं बेवफ़ा बनने जा रही हूँ। फिर उसने अपनी बहू को फ़ोन लगाया और बोली: बुलबुल बेटा अपने पापा को बोलना कि मैं एक सहेली के यहाँ हूँ, एक घंटे में आ जाऊँगी।

फिर वह बोली: एक घंटे में छोड़ दोगे ना?

मैं: ये तो तुम पर सारी आप पर निर्भर करता है कि कितनी ज़्यादा बेवफ़ाई करना चाहती हो?

वो हँसने लगी और बोली: तुम मुझे तुम कह सकते हो। अब हम आख़िर दोस्त तो बनने ही जा रहे हैं ना।

मैं उठते हुए बोला: दोस्त से भी कुछ ज़्यादा । शायद प्रेमी।

हम दोनों हँसते हुए बाहर आए और उसकी कार को वहीं छोड़ कर मेरी कार में हम फ़्लैट की ओर चल पड़े। मेरा हाथ अब उसकी गदराइ जाँघ पर था।
जब हम फ़्लैट में पहुँचे तो मैंने फ्रिज खोलकर एक पानी की बोतल निकाली और ख़ुद पीने के बाद साधना को भी दिया। वो भी ऊपर से पीने लगी पर उसने काफ़ी पानी अपनी छाती पर गिरा लिया । मैंने इसकी छाती पर पानी गिरा देख कर कहा: पानी भी कितना लकी है आपकी छातियों के मज़े ले रहा है।

वो हँसकर बोली: पानी के बाद अब आप भी तो मज़े लोगे। इस बात पर हम दोनों हँसने लगे। फिर मैंने उसे कहा : बेडरूम उधर है। अब हम दोनों बेडरूम में पहुँचे। मैंने उसकी ओर देखकर बाहें फैलायी और वह मुस्कुराते हुए मेरी बाहों में आ गयी। मैंने इसको अपने से भींचकर उसकी गर्दन चुमी। वह भी मेरी पीठ पर हाथ फेरने लगी। फिर मैंने उसके चूतरों को दबाते हुए कहा: जान, क्या मस्त गोल और स्पंजी चूतड़ हैं तुम्हारे?

वो: आऽऽहहह मेरे पति भी यही कहते हैं। वो तो कई बार इसको तकिया बना कर सो जाते हैं।
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Hindi Kamuk Kahani वो शाम कुछ अजीब थी sexstories 334 51,521 07-20-2019, 09:05 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Porn Kahani कहीं वो सब सपना तो नही sexstories 487 211,677 07-16-2019, 11:36 AM
Last Post: sexstories
  Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन sexstories 101 201,735 07-10-2019, 06:53 PM
Last Post: akp
Lightbulb Sex Hindi Kahani रेशमा - मेरी पड़ोसन sexstories 54 46,139 07-05-2019, 01:24 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani वक्त का तमाशा sexstories 277 96,344 07-03-2019, 04:18 PM
Last Post: sexstories
Star vasna story इंसान या भूखे भेड़िए sexstories 232 72,208 07-01-2019, 03:19 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Incest Kahani दीवानगी sexstories 40 51,655 06-28-2019, 01:36 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Bhabhi ki Chudai कमीना देवर sexstories 47 66,384 06-28-2019, 01:06 PM
Last Post: sexstories
Star Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली sexstories 65 63,027 06-26-2019, 02:03 PM
Last Post: sexstories
Star Adult Kahani छोटी सी भूल की बड़ी सज़ा sexstories 45 50,504 06-25-2019, 12:17 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 4 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


nagan karkebhabhi ko chodasalami chut fadeWWW.Velamma Hindi Comics All Episode ImgFY.Netsndash karte huve sex Ineha kakkar actress sex baba xxx imagesex lal dhaga camr me phan ke sexsonarika bhadoria chud gayiआलिया भट की भोसी दिखावो बिना कपडे मे Kachi kliya sex poran HDtvBahi bahn s peyr hgaya bahn kabul ke xxxhinde kahneya old sexaanty detaxnxx babhi kamar maslane ke bhane videoxxx maa bahan kchdai kahani hindi meMeri bra ka hook dukandaar ne lagayaasin bfhdfudhi wali vedio/XxxmompoonNithya Menon ki chudai dekhna haiantervasna bus m chudaichut.kaise.marte.hai.kand.ko.gusadte.kaise.he nidhi agerwal ki chut photu xxxnewsexstory com hindi sex stories e0 a4 85 e0 a4 ae e0 a4 bf e0 a4 a4 e0 a4 94 e0 a4 b0 e0 a4 86 e0लहंगा लुगड़ी म टॉप लग xxxxxx comIndian sex kahani 3 rakhailshareef ladki se kothe ki randi banne tak ki aapbiti kahani on sexbabasex baba net hot nippleNeha Kakkar Sexy Nude Naked Sex Xxx Photo 2018.comPayal बुरी XxxChachi ko choda sexbaba.saxsy dob niklte huvakaranchi sex VIP video gand may codai badi gandयोनी चुस चूस कर सेक्स नुदेjiju aapke bina nahi rah paungi xxx adult story sukriti kakar sexbabaGaram puchi videosexiseksmuyikpde nekalt romensnewsexstory com hindi sex stories E0 A4 95 E0 A4 BE E0 A4 AE E0 A4 BF E0 A4 A8 E0 A5 80 E0 A4 95 E0Sexbaba sneha agrwalचुदना भी सेक्सबाबBest chudai indian randini vidiyo freewww.bajuvale bhabhi sexxxxxxxxxxx 18 boyMastram net Bivi ko adlabadli k liy raji kiyanavneet nishan nude chutfhigar ko khich kar ghusane wala vidaeo xnxxsasur gi ne sasu maa ssmazkar bahuo ko codaमेले में पापा को सिड्यूस कियाSex baba meghna naidu ki chudai ki photos hot figure sexbaba storiessubhagi atre baba sex.netBf video downloading desh bidesh Ka boor chatne walamalvika sharma xxx potosghar me chhupkr chydai video hindi.co.in.बच्चू का आपसी मूठ फोटो सेकसीमेरी जाँघ से वीर्य गिर रहा थाBudhe ke bade land se nadan ladki ki chudai hindi sex story. ComMammay and son and bed bfajnabi ko ghr bulaker chudaiथोड़ा सा मूत मेरे होंठों के किनारों से बाहरsexsh dikhaiye plz karte huyeకన్నె పూకు ఎదురుनानी बरोबर Sex मराठी कथागाँव की गोरी की कुटाई वाली चुढाई की कहानई लेटेस्ट हिंदी माँ बेटा सेक्स चुनमुनिअ कॉमNude Dipsika nagpal sex baba picsमैने भी अपने धक्के तेज कर दियेHathi per baitker fucking videoअसल चाळे चाची चुतraaz ne jungle ke raste se ja rha tha achanak baris hone lga or usse habeli me rukna pda story video sextv actress sayana irani ki full nagni porn xxx sex photosअम्मां की चुंत का रस सेक्स बाबाNew hot chudai [email protected] story hindime 2019www.hindisexstory.rajsarmaTatti khao gy sex kahniझवले तुला पैसे मलाxxnx virya puchit dste desinude kahani karname didixxx anuska shety bollywod actress sex image भयकंर चोदाई बुर और लड़ काxxx 5 saal ki sotiy bachiya ki fardi chootchut dikhati hui auntes bhabies antarvarsn picsआंटीला दिवस रात झवलेmummmey bata chudi sheave karna ke bad sexy st hindiSexbaba saghavishil tutne bali fist time sex hindi hd vidosXnxx कपङा खोलत मेlarki ko phansa k fuk vidioSexy mal phootssex katha uncle ka 10 inch lamba mota supade se chut fod dix grupmarathiगोरेपान पाय चाटू लागलोladki ko jbrdsti coda DeX vnadan ladake se sex karwana porntvदिदि नश मे नगीmaasexkahaniWWW CHUDKD HAIRI CHUT XVIDEO HD Cmanisha yadav nude.sexbaba.com