ब्रा वाली दुकान
06-09-2017, 12:48 PM,
#1
ब्रा वाली दुकान
ब्रा वाली दुकान 



[Image: images?q=tbn:ANd9GcQ7eF-xHhQfHVa2uXKRzGV...f375gsCO8g] [Image: ]
हैलो दोस्तो .. आज मैं आपको अपनी एक छोटी सी कहानी सुनाने जा रहा हूं जिसमें मैंने अलग अलग लड़कियों और आन्टियो की चुदाई की। लंबी भूमिका बांधने की बजाय सीधे मुद्दे की बात पर आते हैं। तो दोस्तो मेरा नाम सलमान है। अधिक पढ़ा लिखा तो नहीं मगर किसी लड़की की चूत को कैसे चोदना है यह मैं अच्छी तरह जानता हूँ। मेरी शिक्षा मात्र दसवी पास है। और मेरी उम्र 24 साल है। , 5 फीट 7 इंच लंबा है, अधिक शिक्षा न होने की वजह से कोई काम तो मिला नहीं घर में सबसे बड़ा होने के कारण घर की सारी जिम्मेदारी मुझ पर आ गई थी। 20 साल की उम्र में मैंने काम शुरू किया। अरे मैं आपको यह बताना तो भूल ही गया कि मेरा संबंध पाकिस्तान से है। कीर्ति नगर में एक छोटा सा घर है जो पिताजी ने अच्छे समय में अपने जीवन में ही बना लिया था जो अब हमारी एकमात्र संपत्ति था। 20 साल की उम्र में जब पिताजी इस दुनिया से चले गए तो मेरी माँ ने मुझे कोई काम धंधा देखने के लिए कहा क्योंकि घर का खर्च भी चलाना था और सबसे बड़ा होने के नाते यह काम मुझी को करना था। मुझसे छोटा एक भाई और 3 बहनें थीं जिनकी उम्र अभी बहुत कम थी। 
[Image: cb316.jpg][Image: wxt130%20%2813%29.jpg?itemguid%5Cu003ded...16a991bca1]
[Image: Sexy-Bra-And-Panties-Set-s0slntctyhm.jpg]
ब्रा खरीदने में क्यों झिझकती हैं महिलाएं! जानिए कारण, महिलाओं को कपडे खरीदने में भी काफी दिक्कत होती हैं ख़ास कर अपने इनरवियर खरीदने में।
यह बात सभी को मालुम हैं की दुनिया की लगभग हर महिला या लड़की ब्रा पहनती हैं। मगर भारत और पाकिस्तान में ब्रा खरीदना किसी टास्क से कम नहीं है।
विदेशो में ब्रा खरीदने के लिए अलग दुकाने होती हैं मगर भारत में कई बार बीच बाज़ार या सड़क के किनारे महिलाओं के अन्त्रवस्त्र बिकते है जहा से ब्रा खरीदने में लडकिया कतराती है। इसके अलावा ज़्यादातर दुकानों में पुरुष इसे बेचते है। महिलाए पुरुषों से ब्रा खरीदना पसंद नहीं करती है।

[attachment=0]bra-buying-3-756x1024.jpg[/attachment]

काम ढूंढने हेतु में मैं सदर बाजार चला गया जहां थोड़ी सी संघर्ष के बाद मुझे एक व्यक्ति ने एक दुकान का पता बताया जिन्हें एक सेल्स मेन की जरूरत थी जो न केवल ग्राहक से बात कर सके बल्कि हिसाब का भी पक्का हो। मैं उन साहब की बताई हुई दुकान पर पहुंच गया। दोपहर 12 बजे का समय था अब बाजार में ज्यादा हलचल नहीं थी। दुकान में प्रवेश हो गया तो सामने एक दाढ़ी वाले बुजुर्ग वहाँ पर मौजूद थे और उनके सामने कुछ महिलाओं खड़ी थीं, मुझे दुकान पर आता देखकर उन बुजुर्ग ने एक कपड़ा आगे कर दिया जो वह पर्दे के लिए इस्तेमाल करते थे, अब मैं बुजुर्ग को तो देख सकता था मगर महिलाओं और मेरे बीच अब एक पर्दा आ चुका था और मैं मन ही मन सोचने लगा कि आखिर ऐसी भी क्या बात है कि उन्हें पर्दे की जरूरत पड़ गई जबकि वह महिलाएँ पहले से ही बुर्का पहने हुए थीं। खैर मैं दुकान की समीक्षा करने लगा। यह सौंदर्य प्रसाधन और आरटीनिशल ज्वैलरी की दुकान थी। कुछ देर बाद पर्दा हटा और वह महिला वहां से निकल गईं। अब बुजुर्ग मेरी ओर आकर्षित हुए और बोले बोलो बेटा क्या चाहिए ??? 

मैं बुजुर्ग को देखा और कहा सर मुझे जॉब चाहिए। मैंने सुना है कि आपको एक सेल्स मेन की जरूरत है। यह सुनकर बुजुर्ग ने कहा, हां हां मैंने मुनब्बर को कहा था कि कोई अच्छे घराने का बच्चा हो तो बता मुझे सेल्स मेन की बहुत जरूरत है। क्या लगते हो मुनब्बर के तुम ??? 

मैंने कहा कुछ नहीं अंकल, मैं तो विभिन्न दुकानों पर जा जाकर नौकरी का पूछ रहा था तो कुछ पीछे एक दुकानदार ने ही मुझे आपके बारे में बताया कि आपको जरूरत है तो इधर आ गया। इस पर उन्होंने कहा कि बेटा ऐसे तो मैं किसी को नहीं रख सकता, मुझे तो विश्वास वाला लड़का चाहिए। इन बुजुर्ग नाम इकबाल था। मैंने कहा सर आप बेफिक्र रहें मुझसे आपको कभी कोई शिकायत नहीं होगी, मुझे जॉब की बहुत सख्त जरूरत है, मैंने इकबाल साहब को घरका पता और घर की स्थिति सब कुछ बता दिया। इस पर इकबाल साहब के स्वर में पहले से अधिक मिठास और प्यार आ गया, लेकिन वह अभी हिचक रहे थे, तो उन्होंने कहा बेटा महिलाओं और लड़कियों से बात करनी पड़े तो कर लोगे ??? मैंने उन्हें बताया जी अंकल मेरे स्कूल में लड़कियां भी थीं और आपको मेरी वजह से कभी कोई परेशानी नहीं होगी।

फिर उन्होंने मुझे कहा अच्छा चलो तुम अब जाओ, मैं थोड़ा सोच लूं, कल सुबह 10 बजे आ जाना तुम मगर किसी बड़े को लेकर आना अच्छा है इसी बाजार में कोई परिचित हो तो उसे ले आना। मैं अंकल से हाथ मिलाया और उनका शुक्रिया अदा करते हुए तुरंत घर चला गया। घर जाकर मैंने अम्मी से इस बारे में बात की तो उन्होंने काफी सोचने के बाद अबू के एक अच्छे दोस्त का पता मुझे बताया कि उनसे जाकर मिलना शायद वह कोई मदद कर सकें इस संबंध में। उसी समय अबू के दोस्त से मिलने चला गया, कुछ देर बाद उनके घर पहुंचा तो किस्मत से वह घर पर ही मिल गये, वह अपनी पत्नी और 2 बेटियों के साथ कहीं घूमने के लिए जा रहे थे, लेकिन मेरे आने की वजह से वे अपना कार्यक्रम थोड़ी देर के लिए निलंबित कर दिया था। मैं अपना परिचय तो जाते ही करवा चुका था जिसकी वजह से मुझे अंकल और आंटी ने बड़े प्यार से अपने घर में बिठाया और उनकी एक बेटी जिसकी उम्र मुश्किल से 15 साल होगी मेरे लिए मीठे पानी की एक सुराही और एक सिरप ले आए। में गटा गट 2 गिलास चढ़ा गया था क्योंकि सुबह से फिर फिर कर मुझे काफी प्यास लगी हुई थी।
-
Reply
06-09-2017, 12:48 PM,
#2
RE: ब्रा वाली दुकान
मैं अंकल को अपनी मुश्किल बताई और उनसे मदद मांगी तो वह कुछ देर सोचने के बाद बोले कि चिंता मत करो तुम्हारा काम हो जाएगा। कल सुबह तुम पहले मेरे घर आ जाना मैं तुम्हें अपने साथ ले चलूँगा और इकबाल साहब को अपनी गारंटी दे दूंगा। कुछ देर अपनी सेवा करवाने के बाद वापस घर आ गया और अगले दिन सुबह अंकल के घर जा धमका। अंकल पहले ही तैयार हो चुके थे, 10 बजने में अभी थोड़ा समय था, अंकल ने अपनी बाइक निकाली और सीधे हुसैन जागरूकता बाजार में प्रवेश करने के बाद इसी दुकान के सामने ले जाकर मैं बाइक रोकने को कहा। अंकल मेरे साथ दुकान में प्रवेश किया और इकबाल साहब को अपना परिचय करवाया और अपना रोजगार कार्ड निकालकर इकबाल साहब को दिखा दिया। मेरे यह अंकल वन विभाग में कार्यरत थे, सरकारी कर्मचारी का कार्ड देखकर ाकबा लिमिटेड साहब को संतोष हो गया और वे बोले कि आप बच्चे की गारंटी देते हैं तो मैं इसे रख लेता हूँ, दैनिक एक समय का भोजन करूंगा और शुरू में 6000 रुपये वेतन होगी अगर उसने मन लगाकर काम किया तो वेतन बढ़ा दी जाएगी। मैंने तुरंत हामी भर ली तो अंकल ने कहा ठीक है इकबाल साहब मैं चलता हूँ, बिन बाप के बच्चे है इसे अपना ही बच्चा समझेगा और एक सामयिक चक्कर लगाता रहूंगा उम्मीद है आपको इससे कोई शिकायत नहीं होगी। 

यह कह कर अंकल चले गए जबकि इकबाल साहब बे काउन्टर का एक छोटा सा दरवाजा खोलकर मुझे अंदर आने को कहा तो मैं अब काउन्टर केपीछे खड़ा था। काउन्टर के अंदर जाते हुए मेरी नज़र दुकान के इस हिस्से में पड़ी जहां कल कुछ महिलाओं खड़ी थीं तो मेरे 14 ्बक रोशन हो गए। वहां महिलाओं के अंदर उपयोग के कपड़े यानी बरीज़ईर पड़े थे। अब मुझे समझ लगी कि कल वह महिला अपने लिए बरीज़ईर खरीद रही होंगी तभी इकबाल साहब ने पर्दा गिरा दिया था। खैर मैं अंदर आ गया तो इकबाल साहब ने मुझे काम समझाना शुरू कर दिया। कुछ ही देर में दुकान में कुछ महिलाओं आईं तो इकबाल साहब ने कहा आप को चुपचाप देखना है कि ग्राहक से कैसे चर्चा की जाती है और उसे संतुष्ट किया जाता है। मैंने हाँ में सिर हिलाया, महिलाओं ने अपने लिए कुछ मेकअप उपकरण खरीदा है और मैं इकबाल साहब की डीलिंग पर विचार करता रहा। । इसी तरह पूरे दिन विभिन्न महिलाएँ कभी कभी आती रहीं और मैं चुपचाप इकबाल साहब को देखता रहा, दोपहर में वह अपने घर से खाना मंगवाया जो उनका एक छोटा बेटा देने आया था। मैं भी उनके साथ ही खाना खाया। पूरा दिन इसी तरह बीत गया। रात को 7 बजे इकबाल साहब ने मुझे छुट्टी दे दी तो मैं जल्दी से घर चला गया कि कहीं अंधेरा न हो जाए। 

अगले दिन फिर से ठीक बजे दुकान पर पहुंच गया तो उस समय दुकान में एक महिला खड़ी थीं, महिला ने अपना चेहरा थोड़े से दुपट्टे से ढक रखा था। अपने कद काठ से वह एक बड़ी औरत लग रही थी, इकबाल साहब को नमस्कार करके अंदर ही चला गया तो इकबाल साहब ने इशारे से मुझे अपने पास ही बुला लिया। मैंने देखा कि इकबाल साहब के हाथ में एक स्किन कलर के बड़े आकार का ब्रा था जो उन्होंने महिला के हाथ में था दिया। महिला ने ब्रा को अपने हाथ में पकड़ कर थोड़ा नीचे और काउन्टर की ओट लेकर उसको खोलकर देखने के बाद वैसे ही वापस दे दिया और बोली इससे बड़ा आकार दिखाएँ। इकबाल साहब थोड़ा नीचे झुके और वह ब्रा वापस अपनी जगह पर रखने के बाद साथ दूसरा ब्रा निकालकर महिला को पकड़ा दिया, फिर से महिला ने खोल कर देखा और फिर पूछा उसके कितने पैसे? तो इकबाल साहब ने 300 की मांग की। महिला ने अपनी चादर हटा कर अपनी कमीज में हाथ डाला और अपने विशेष लॉकर से एक छोटा सा पर्स निकाला और इकबाल साहब को 300 रुपये निकाल कर दिए और वो ब्रा अपने हाथ में मौजूद शापर में कपड़ों के नीचे छुपा कर त्वरित दुकान से निकल गईं। 

महिला के जाने के बाद इकबाल साहब ने मुझे फिर से वहां मौजूद चीजों के बारे में जानकारी दी और उनके रेट बताने शुरू कर दिए, साथ में एक सूची दे दी और मुझे कहा उसे याद कर लेना। मैं सारा दिन इस सूची को खाली समय में देखता रहा और चीजों के रेट मन नशीन करता रहा, जबकि ग्राहकों के आने पर में इकबाल साहब के साथ खड़ा होकर उनकी डीलिंग देखता। एक सप्ताह ऐसे ही बीत गया। एक सप्ताह बाद इकबाल साहब ने मुझे कहा कि बेटा अब जो महिलाओं शीर्षक पाउडर लेने आएंगी उन्हें आप डील करना है और जो कोई अपने अंदर के कपड़े लेने आएंगी उन्हें मैं देखूँगा। मैंने कहा ठीक है चाचा, लेकिन अगर मुझे कुछ परेशानी हो तो आप मेरी मदद करना। अंकल ने मेरे सिर पर हाथ फेरा और बोले चिंता नहीं करो यहीं मौजूद हैं। बेफिक्र होकर तुम आज काम शुरू करो। कुछ ही देर के बाद एक अधेड़ उम्र महिला दुकान में आईं जिनके साथ उनकी 2 बेटियां भी थीं। वह महिला इकबाल साहब के सामने जाकर खड़ी हो गईं और हल्की आवाज में बोली, बच्चियों के लिए आंतरिक कपड़े चाहिए। तो इकबाल साहब थोड़ा आगे होकर खड़े हो गए और छोटे आकार का ब्रा निकाल कर दिखाने लगे। उनकी एक छोटी बेटी भी आगे होकर देखना चाही तो आंटी ने उसे घूर कर देखा और पीछे रहने का निर्देश दिया, वह लड़की वापस मेरे सामने आकर खड़ी हो गई, मैंने उसके सीने की तरफ देखा तो मुझे पता चल गया था कि इस पर अभी ताजा ताजा जवानी आई है उसको सबसे छोटे आकार का ब्रा ही फिट आएगा। 
-
Reply
06-09-2017, 12:49 PM,
#3
RE: ब्रा वाली दुकान
जितनी देर में आंटी ने अपनी बच्चियों के ब्रा खरीदे, इतनी देर में उनकी बेटी ने मुझसे कुछ लिपस्टिक दिखाने को कहा, मैं तुरंत एक लाल लिपस्टिक उसे दिखाई तो उसने कहा कोई अच्छा कलर दिखाओ ना। मैं एक और मैरून कलर की लिपस्टिक उसे दिखाई और कहा यह देखना बाजी यह आपके होठों पर बहुत अच्छी लगेगी। मैं अधिक से अधिक दिखाने की कोशिश की तो उस लड़की ने मुझे घूर कर देखा और लिप स्टिक वापस काउन्टर पर रखकर पीछे होकर खड़ी हो गई। मुझे थोड़ी शर्मिंदगी भी हुई और थोड़ा डर भी गया कि कहीं यह अपनी माँ को मेरी शिकायत न लगा दे। मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ और कुछ ही देर बाद महिला ने अपनी लड़कियों के ब्रा खरीदे और दुकान से निकल गईं। शुक्र था कि इकबाल साहब ने भी मेरी बात नहीं सुनी थी। संक्षेप में धीरे धीरे यह सीख गया था कि महिलाओं से कैसे बात करनी है, कैसे लड़की से खुलना है और कैसे किसी लड़की से ही काम की ही बात करनी है। मुझे यह काम करते हुए 2 महीने का समय हो गया था इस दौरान इकबाल साहब भी मेरे प्रदर्शन और शालीनता से बहुत खुश थे। वह अक्सर मुझे दुकान पर अकेला छोड़कर दोपहर के समय अपने घर सुस्ताने के लिए चले जाते थे। दोपहर के समय ग्राहक कम होते थे इसलिए मुझे कभी कोई कठिनाई नही आई थी। 

अब तक मैं सौंदर्य प्रसाधन और गहने आदि वस्तुओं की साइड पर ही था और ब्रा आदि सेल करने का मुझे कोई अनुभव नहीं था। एक दिन ऐसा हुआ कि इकबाल साहब दोपहर सुस्ताने के लिए अपने घर चले गए, उनके जाते ही एक मॉर्डन महिला ने दुकान में प्रवेश किया। उनकी उम्र कोई 30 के लगभग होगी, साथ एक बच्चा था जिसकी उम्र मुश्किल से 5 वर्ष होगी जो उनकी उंगली पकड़ कर उनके साथ चल रहा था। महिला ने सफेद रंग की बारीक कमीज पहन रखी थी और नीचे से एक मोटी समीज़ पहन रखी थी जो अमूमन औरतें अपनी कमीज के नीचे मगर ब्रा के ऊपर पहनती हैं। महिला के गले में दुपट्टा था जो उनके सीने तक को कवर करने के लिए पर्याप्त था। अंदर आकर महिला ने मेरी ओर देखा फिर इधर-उधर-देखते हुए बोलीं तुम ही होते हो दुकान पर ??? या तुम्हारे साथ कोई और होता है ??? मैंने कहा मैं तो कर्मचारी हूँ बेगम साहिबा दुकान के मालिक हैं मगर अब वह आराम करने घर गए हैं। महिला ने कहा अच्छा .... तो तुम सब कुछ सेल करते हो दुकान पर ??? यह उसने द्विअर्थी अंदाज में कहा, मैंने उन्हे मनाते हुए कहा जी मेडम सब कुछ सेल करता हूँ बताइए आपको क्या चाहिए .. वास्तव में मैं शक्ल व सूरत से 20 साल का होने के बावजूद बच्चा ही लगता था इसलिए वह महिला सोच रही थीं कि न जाने इस बच्चे को महिलाओं के अंडर गारमेंट्स का पता भी होगा या नहीं। 

फिर महिला ने कुछ सोचा और बोलीं मुझे अपने लिए कुछ ब्रा चाहिए, कोई अच्छी सी दिखा दो। मुझे अपने कानों पर विश्वास नही आया, मुझे लगा शायद मैंने सुनने में गलती की है, मैं फिर पूछा जी साइज क्या चाहिए ??? तो वह बोलीं अरे भाई ब्रा चाहिए वे दिखा दो मेरे आकार के अनुसार। जब उन्होने अपने आकार के लिए कहा तो मैंने अपनी नज़रों का केंद्र उनके सीने को बना लिया, लेकिन मुझे महिलाओं के आकार का इस तरह देखकर अंदाज़ा नहीं था क्योंकि कभी दुकान पर मैंने ब्रा सेल ही नहीं किया था। मैंने अपनी नज़र उनके सीने पर जमाए थोड़ी काँपती हुई आवाज़ में पूछा मैम क्या नंबर है आपका? महिला ने बिना हिचके पूरे इत्मीनान से कहा, वैसे तो 34 भी सही आ जाता है लेकिन वह कभी कभी थोड़ा तंग हो जा ता है तो आप 36 नंबर में ही दिखा दो यह सुनकर मैंने महिला को आगे आने को कहा तो वह आगे आ गई, और मैं काउन्टर के सामने खड़ा हो गया जहां ब्रा पड़े होते थे, काउन्टर पर कई लाइने बनी हुई थीं हर पंक्ति के शुरू में एक छोटी सी पर्ची लगी हुई थी पर इस लाइन में पड़े ब्रा नंबर लिखा था।

मैंने 36 पंक्ति देखी और जो पहला ब्रा पड़ा था वह उठाकर कांपते हाथों से मेडम पकड़ा दिया। न जाने क्यों मेरे दिल में एक अनजाना सा डर था जैसे में कुछ गलत कर रहा हूँ। हालांकि इसमें कोई गलत बात नहीं थी लेकिन इसके बावजूद मेरे दिल में डर था कि अब कोई और न आ जाए वह मुझे ब्रा बेचते हुए देखेगा तो न जाने क्या हो जाएगा। 

मेडम ने मेरे कांपते हाथों से ब्रा पकड़ा और तुरंत ही वापस पकड़ा दिया और बोलीं नहीं यह नहीं कोई अच्छी गुणवत्ता की दिखाओ। अगर नेट वाला है तो वह दिखा। मैंने वह ब्रा उनके हाथ से पकड़ कर वापस रखा और नीचे बैठ कर उसी लाइन में नेट वाले ब्रा देखने लगा, थोड़ी सी कोशिश के बाद मैं काले रंग में एक शुद्ध नेट ब्रा मिल गया जो काफी सॉफ्ट था। और गुणवत्ता मे भी अच्छा लग रहा था, मैंने वह ब्रा उठाकर मेडम पकड़ाया तो उन्होंने वह पकड़ा और मेरे सामने ही उसे खोल लिया। मेरे से खता हो गई थी क्योंकि, अभी तक मैंने जितनी महिलाओं को ब्रा खरीदते देखा था वह काउन्टर की आउट में ब्रा खोल कर देखती थीं मगर उन्होंने मेरे सामने ही काउन्टर के ऊपर ब्रा खोला और उसको पलट कर देखने लगी। फिर बोलीं इसमें और कौन कौन से कलर हैं ??? 

मैंने हकलाते हुए कहा मैम .. यह कल कलर भी अच्छा है ... 

अच्छा है ....महिला हल्का सा मुस्कुराई वह समझ गई थी कि आज से पहले मैंने ब्रा सेल नहीं किया कभी। फिर वह हल्की मुस्कान के साथ बोली बेटा कोई और कलर है तो दिखा दो। मैं वह ब्रा उनके हाथ से लेने लगा तो उन्होंने कहा नहीं यह यहीं रहने दो तुम और कलर दिखाओ। मैंने नीचे बैठ कर लाल और स्किन कलर में भी इसी तरह का ब्रा निकाल लिया और उनके सामने रख दिया। मेरे हाथ अब तक कांप रहे थे और मेरे होंठ सूख चुके थे। शायद मेरे चेहरे से मेरी परेशानी कुछ ज्यादा ही स्पष्ट हो रही थी। 

फिर महिला ने मुझसे उनकी कीमत पूछी तो मैंने बिना सोचे समझे 500 रुपये बोल दी क्योंकि उसकी गुणवत्ता मुझे पहले वाले ब्रा ज्यादा अच्छी लगी थी तो मैंने सोचा यह महंगा भी होगा। महिला ने कोई चर्चा नहीं की और लाल रंग का ब्रा एक साइड पर कर के बाकी 2 मुझे वापस कर दिए और बोलीं कोई और डिजाइन है तो वह भी दिखा दो। मैंने मन ही मन में मेडम को बुरा भला कहा और बैठ कर फिर से ब्रा के विभिन्न डिजाइन देखने लगा और मैं चाह रहा था वह तुरंत मुझे पैसे पकड़ाएँ और यहां से चलती बनें ताकि मेरी जान छूटे मगर वो मेडम तो मेरी जान छोड़ने का नाम ही नहीं ले रही थी शायद उनको मेरी हालत देखकर मजा आ रहा था। अब की बार मैंने एक और डिजाइन का ब्रा निकाला जिसके कप यानी अगला हिस्सा जो मम्मों के ऊपर आता है वह फोम वाला था और काफी मोटा था, और उसके कप पर सुंदर लेस लगी हुई थी। और दोनों कपस के बीच भी एक छोटा सा फूल बना हुआ था। यह ब्रा नीले और काले रंग में था। मैंने दोनों कलर निकालकर मेडम को दिखा दिया। उन्होंने हाथ में पकड़ कर ब्रा को खोला और कप को हल्का सा दबा कर देखा और फिर उसका डिजाइन देखा तो बोलीं असली चीज़ तो आपने अब दिखाई है, यह सुंदर है। फिर दोनों रंगों बारी बारी देखती रहीं, फिर उन्होंने दोनों ब्रा मेरे सामने कर दिए और बोलीं इनमें से कौन सा कलर अच्छा लगेगा ??

उनका यह सवाल तो मुझ पर बिजली बनकर गिरा। अब मैं उन्हें कैसे बता सकता था कि कौन सा कलर अच्छा लगेगा। मगर मैंने हिम्मत इकट्ठा करके कहा मैम आपके रंग के अनुसार तो काले रंग का अच्छा लगेगा। मैंने किस मुश्किल से इस बात की मैं ही जानता हूँ। मेरी बात सुनकर मेडम मुस्कुराई और बोली ठीक है उसके कितने पैसे होंगे ?? मैंने कहा मेडम उसके भी 500, तो वह बोलीं ठीक है यह नीले रंग वाला वापस रख दो, मैंने नीले रंग का ब्रा वापस रखा तो मेडम ने नेट का ब्रा और फोम वाला काला ब्रा दोनों मेरे हाथ में पकड़ाए और बोलीं उनको शापर में डाल दो। मैंने जल्दी जल्दी एक सफेद शापर उठाया और दोनों ब्रा इसमें डालकर उस महिला को पकड़ा दिए। उन्होंने एक नज़र मुझे और फिर एक नज़र शापर पर डाली फिर शापर की ओर इशारा करते हुए बोलीं, यह इसको बाजार में इसी तरह लेकर फिरूँगी में ??? 
-
Reply
06-09-2017, 12:49 PM,
#4
RE: ब्रा वाली दुकान
मेडम ने कहा इसको किसी खाकी कागज के लिफाफे में पैक करो फिर काले रंग के शापर में डालो वह लिफाफा। उनकी बात सुन कर मुझे अपनी गलती का एहसास हुआ, एक दो बार मैंने इकबाल साहब को इसी तरह कागज खाकी लिफाफा ब्रा डाल कर देते हुए देखा था। मैंने मेडम के कहने के अनुसार ब्रा पैक किया और उन्हें थमा दिए। मेडम ने अपने हैंडबैग से एक छोटा पर्स निकाला और उसमें से 1000 का नोट मुझे थमाते हुए बोलीं, पूरे लोगे या कुछ छूट भी करोगे ?? मैंने कहा मेडम फिक्स रेट है हमारा लेकिन आपको 50 रुपये की छूट देंगे। यह कह कर मैंने 50 रुपये मेडम को पकड़ाये तो उन्होंने कहा थॅंक यू और वह पैसे लेकर अपने पर्स में डाले और जाते हुए मुझे एक शरारती मुस्कान से देखकर गईं। शायद अब भी वह मेरी हालत से आनन्दित हो रही थी उनके जातेही मैंने कूलर से 2 गिलास पानी पिये और गहरी गहरी सांस लेकर अपनी स्थिति सही की उसके बाद कुछ और औरतें आईं मगर वे लिप स्टिक पाउडर के लिए आई थीं। 

कुछ देर बाद इकबाल साहब भी आ गए, उन्होंने मुझसे पूछा हां सलमान बेटा कोई चीज बेच दिया है? मैंने डरते डरते कहा जी हाजी साहब .... उन्होंने कहा क्या चीज़ बिकी ?? मैंने डरते डरते कहा हाजी साहब वह एक महिला आई थीं ..... वह ........ इकबाल साहब बोले वे ??? क्या लेकर गई हैं / ?? मैंने कहा वह जी ...... वह अपने लिए .... ख .... बर ... ब्रा लेकर गई हैं .... यह कहते हुए मेरी हालत खराब हो रही थी। इस पर हाजी साहब ने मुझे आश्चर्य से देखा और बोले आपने ब्रा बेचे आज ??? 

मैंने डरते डरते कहा जी हाजी साहब ... वे वास्तव में ...... उन्होंने पूछा तो मैंने सोचा कि ग्राहक वापस नहीं जाना चाहिए तो मैंने वह बेच दिए। यह सुनकर हाजी साहब मुस्कुराए और मेरी कमर पर थपकी देते हुए बोले शानदार भाई, यानी अब तुम सीख गए हो। फिर उन्होंने मुझसे पूछा कौन से ब्रा बेचे और कितने में 

जब मैने बताया तो उन्होंने कहा बहुत खूब, आपने तो 100 रुपये अधिक बचत करवा दी। आज से तुम सिर्फ गहने और सौंदर्य प्रसाधन नहीं बल्कि अंडर गारमेंट्स भी सेल किया करोगे। 

फिर हाजी साहब ने खाली समय में रात 9 बजे के करीब जब बाजार में भीड़ बिल्कुल खत्म हो गया था मुझे विभिन्न आकार के ब्रा के बारे में और उनके डिजाइन के बारे में बताया, कौन से ब्रा कहाँ पड़े हैं, देसी ब्रा, फिर इंपोर्टेड ब्रा और फिर भारतीय और आई एफ जी ब्रा भी दिखाए जो काफी महंगे थे, एक ब्रा 1000 रुपये तक का भी था। उसके बाद हाजी इकबाल साहब ने मुझे महिलाओं के अंडर गारमेंट के बारे में भी बताया इसमें छोटे, मध्यम और लार्ज के बाद एक्स्ट्रा लार्ज आकार तक के अंडर गारमेंट थे। फिर उस दिन से मैंने ब्रा भी सेल शुरू कर दिए, कभी आभूषण आदि दिखाता तो कभी ब्रा और अंडर गारमेंट सेल करता है। दोनों तरफ मेरा ध्यान जाने लगा तो हाजी साहब मेरे प्रदर्शन से काफी खुश हुए और 4 महीने के बाद मेरा वेतन 6 से बढ़ाकर 7000 कर दिया जिसकी मुझे बहुत खुशी हुई। इस दौरान अंकल भी महीने में एक दो बार चक्कर लगाकर मेरे प्रदर्शन के बारे में हाजी साहब से पूछ लेते थे। 

यहाँ मैंने एक बात नोटिस की थी कि स्थानीय महिलाएं तो हाजी साहब से ही खराब मांग करती थीं, लेकिन जो कुछ आधुनिक किस्म की महिलाएं होती थीं वे ज्यादातर मुझे ही कहती थीं ब्रा दिखाने के लिए, और मैं उनकी उपस्थिति में स्थिति के अनुसार अच्छी गुणवत्ता और लो गुणवत्ता का माल दिखाता था। 

इस दौरान हाजी साहब ने मुझे एक मोबाइल भी ले कर दिया था ताकि जरूरत के समय में उनसे संपर्क कर सकूं। फिर कभी माल समाप्त होता तो हाजी साहब लाहौर से माल लेने चले जाते और उस दिन सुबह से रात तक दुकान में अकेला ही होता है और अगले दिन हाजी साहब को पिछले दिनों की सेल का पैसा दे देता। फिर एक दिन दुकान पर खाली ही बैठा था कि मेरे नंबर पर एक कॉल आई मैंने हैलो कहा तो आगे से एक महिला की आवाज आई उन्होने हाय के जवाब में कहा कैसे हो सलमान बेटा ?? मुझे आवाज़ तो जानी पहचानी लगी मगर मैं समझ नहीं सका कि यह किसकी आवाज है। मैंने कहा जी मैं ठीक हूँ, लेकिन आप कौन? तो इस पर वह बोलीं अरे बेटा मैं तुम्हारी सलमा आंटी बात कर रही हूँ, तुम्हारे अंकल से तुम्हारा नंबर लिया था। सलमा आंटी का नाम सुनकर मैंने कहा जी आंटी मैं बिल्कुल ठीक हूँ सुनाएं आप कैसी हैं ??

आंटी ने कहा कि वह भी ठीक हैं। फिर कुछ इधर उधर की बातें करने के बाद आंटी ने मुझे कहा कि बेटा तुमसे एक काम है, कहते हुए शर्म भी आ रही है, लेकिन फिर तुम तो अपने बच्चों की तरह ही हो, तो सोच रही हूँ तुम्हें ही कहूँ मुनब्बर तो मुझे जाने नहीं देते बाजार। और खुद वह कुछ लाते नहीं उन्हें छुट्टी नहीं मिलती रात को थक घर आते हैं तो उस समय में उन्हें कह नहीं पाती। 

मैंने कहा आंटी मैं तो आपके बच्चे की तरह ही हूँ बिना हिचक बताओ क्या काम है। आंटी कुछ देर चुप रही, फिर बोलीं बेटा वो मुझे वास्तव में कुछ चीजें चाहिए थीं। वह तुमसे मनवानी थीं। मैंने कहा आंटी आप आदेश करें आपको जो चाहिए में लेकर हाज़िर हो जाउन्गी फिर आंटी बोलीं बेटा तुम्हें तो पता ही है दुकानों में कैसे आदमी खड़े होते हैं, और वह महिलाओं को कैसी गंदी गंदी नज़रों से देखते हैं इसलिए मैं तो इसे लेने दुकान पर खुद जाती नहीं तुम्हारे अंकल ही मेरे लिए लेकर आते हैं मगर अब वह व्यस्त बहुत हैं और मुझे जरूरत भी है। मैंने कहा आंटी आप बिना हिचक बताओ आपको क्या चाहिए आपको। मुझे कुछ कुछ समझ लग गई थी कि आंटी को क्या काम है, मगर फिर भी कन्फर्म कर लेना चाहिए था। फिर सलमा आंटी ने एक अनिच्छा से कहा बेटा वह काफी दिनों से सोच रही थी कि मुनब्बर से अपने लिए ब्रेजियर मन्गवाऊ मगर उन्हें समय नहीं मिल रहा और मैं बाजार से खुद जाकर कभी लाई नहीं, मुझे मुनब्बर ने बताया था कि जिस दुकान पर तुम काम करते हो वहाँ पर ब्रा आदि भी होते हैं अगर तुम मेरे लिए ले आओ, तब मेरी बड़ी मुश्किल आसान हो जाएगी। 

पहले यह समझ गया था आंटी जो कहा अनिच्छा से कहा मगर उनके मुंह से सुनने के बाद मैंने कहा आंटी इसमें शरमाने वाली कौनसी बात है, यहाँ तो पता नहीं कितनी औरतें आती हैं जिन्हें ब्रा बेचता हूं, यदि आपको चाहिए तो आपके लिए भी लेता आउन्गा आंटी ने कहा बहुत बहुत धन्यवाद बेटा, तुमने तो मेरी मुश्किल आसान कर दी। फिर कब आओगे तुम ?? मैंने कहा आंटी कल शुक्रवार है, दुकान बंद होगी मेरी छुट्टी है, तो मैं कल ही लेकर आपकी ओर आ जाउन्गा आंटी खुश होकर बोलीं अरे यह तो बहुत अच्छी बात है। बस फिर तुम कल आजाो। अच्छा तो कल मिलते हैं, यह कह कर आंटी शायद फोन बंद करने लगी तो मैंने जल्दी जल्दी कहा, आंटी आंटी बात सुनिए ... 

मेरी आवाज सुनकर आंटी ने कहा - हां बोलो? मैंने कहा आंटी अपना नंबर तो बताओ मुझे कैसे पता लगेगा कि कौन से आकार लेने हैं, उस पर आंटी बोलीं ओह .... मुझे याद ही नही रहा आकार बताने का अच्छा हुआ आपने खुद ही पूछ लिया। बेटा तुम 38 नंबर ले आना। 38 आकार सुनकर मैंने मन ही मन सोचा कि मुनब्बर अंकल के तो मजे हैं उनको इतने बड़े मम्मों वाली पत्नी मिली है। फिर मैंने तुरन्त ही पूछा अच्छा आंटी फोम वाले लाने हैं या नेट वाले या कपास में ??? आंटी ने कुछ सोचा और फिर बोलीं बेटा ऐसा नहीं हो सकता तुम अलग अलग तरह के ले आओ जो मुझे जो पसंद आएँगे वही ले लूँगी ??? मैंने कहा क्यों नहीं आंटी अधिक लाने से अच्छा ही होगा फिर आप अपनी पसंद के अनुसार जो रखना होगा रख लीजिएगा। अच्छा आंटी यह भी बता दें आपको अपने लिए अंडर गारमेंट भी चाहिए या फिर सिर्फ ब्रा ही चाहिए। यह सुनकर आंटी ने कहा नहीं बेटा बस ब्रा ही चाहिए।

फिर अचानक बोलीं अच्छा सुनो सुनो .... अंडर गारमेंट भी 2 ले आना मगर छोटे आकार के। मैंने कहा छोटे आकार के ??? आंटी ने कहा हां बेटा मुझे तो नहीं मगर वह शमीना अब बड़ी हो चुकी है न तो उसके लिए चाहिए तो उसके आकार के अनुसार छोटे अंडर गारमेंट भी ले आना। मैंने मन ही मन में उनकी बेटी शमीना की गाण्ड के बारे में सोचा तो उसके लिए वास्तव मे छोटे आकार के अंडर गारमेंट ही चाहिए थी। मैंने कहा ठीक है आंटी आप बेफिक्र हो जाएं मैं ले आउन्गा 

फोन बंद करके मैं अब सोचने लगा कि हाजी साहब को क्या कहूंगा ??? फिर जब हाजी साहब आ गए तो मैं ने हाजी साहब को बताया कि मुनब्बर अंकल ने अपनी पत्नी के लिए कुछ ब्रा मंगवाए हैं वे ले जाऊं? वह खुद आते हुए ज़रा संकोच कर रहे थे ??

हाजी साहब ने हंसते हुए कहा हा हा हा इसमें संकोच वाली कौनसी बात है वह कौन सा महिलाओं से लेकर जाएंगे, यहां तो औरतें भी ले जाती है वह पुरुष होकर शर्मा रहा है, लेकिन फिर उन्होंने बिना कोई बात किए कहा, ठीक है ले जाना, लेकिन मुफ्त में न दे आना पैसे ले लेना उनसे मैंने कहा जी हाजी साहब ये तो जाहिर सी बात है पैसे लूँगा। फिर मैंने हाजी साहब की मौजूदगी में ही 38 आकार के एस 7 ब्रा पसंद किए और एक शापर में डाल लिए और फिर छोटे आकार के 2 अंडर गारमेंट उठाए और वह भी इसी शापर में डाल दिए। हाजी साहब ने कहा अरे इतने अधिक अचार डालेगा क्या ??? मैंने कहा हाजी साहब जो वह रखना चाहेंगे रख लेंगे बाकी इसी तरह वापस ले आउन्गा उन्होंने कहा अच्छा चलो ठीक है मगर ध्यान से ले जाना .
-
Reply
06-09-2017, 12:49 PM,
#5
RE: ब्रा वाली दुकान
अगले दिन सुबह 11 बजे मुनब्बर अंकल के घर पहुँच गया। शुक्रवार का दिन था सरकारी छुट्टी न होने के कारण मुनब्बर अंकल घर पर नहीं थे, जबकि उनकी बेटी शमीना अभी स्कूल से वापस नहीं आई थीं। शमीना से छोटी बेटी अभी जो 10 साल की थी उसकी तबीयत खराब थी जिसकी वजह से वह स्कूल नहीं गई और घर पर ही एक कमरे में सो रही थी। घर गया तो सलमा आंटी ने खुश होकर मुझे अंदर बुला लिया। मगर वह कुछ कुछ मुझसे शर्मा भी रही थीं। उन्होंने मुझे उसी कमरे में बिठा दिया जहां मुनब्बर अंकल के होते हुए बैठा था। यह मुख्य कक्ष था टीवी भी लगा हुआ था। मुझे बैठाकर आंटी किचन में चली गई और कुछ ही देर में मीठे सिरप का एक गिलास बनाकर मेरे लिए ले आई मेरे सामने पड़ी टेबल पर सलमा आंटी झुकी और सिरप का जग जो एक बड़ी ट्रे में था मेरे सामने रखा, जिसके दौरान झुकने की वजह से उनकी कमीज से उनके बड़े 38 आकार के मम्मे कमीज से बाहर निकलने की कोशिश करने लगे, मेरी नजर उनकी कमीज के अंदर मौजूद मम्मों और उनके बीच की गहरी लाइन पर पड़ी तो मुझे कुछ कुछ होने लगा, मैंने तुरंत ही अपना चेहरा नीचे कर लिया। आंटी भी तुरंत ही सीधी हो गई और मेरे साथ वाली कुर्सी पर बैठ गईं और बोलीं बेटा पानी पियो। 
[Image: Da-Intimo-Navy-Blue-Solid-Lingerie-Set-4...alog_m.jpg]
उनकी नजरें मेरे हाथ में मौजूद शापर पर थीं। मगर वह मुझसे शापर मांगते हुए संकोच कर रही थीं। गर्मी अधिक थी मैंने जल्दी जल्दी सिरप का एक गिलास पिया और फिर आंटी को देखा। आंटी ने तब सफेद रंग की एक कमीज पहन रखी थी और गले में दुपट्टा ले रखा था, कमीज ठीक थी और गर्मी की वजह से शायद आंटी ने समीज़ भी नहीं पहनी थी जिसकी वजह से उनका काले रंग का ब्रा भी सफेद कमीज में से बड़ा स्पष्ट नजर आ रहा था। उन्हें ऐसी हालत में देख कर मुझे अपने अंडरवेअर में बेचैनी महसूस होने लगी थी, मगर मैं पूरी कोशिश कर रहा था कि सलवार में मौजूद हथियार अपना सिर न उठाए तो अच्छा है वरना सलमा आंटी ने नोट कर लिया तो शर्मिंदगी होगी। सिरप पीने के बाद आंटी ने शापर को देखते हुए पूछा और बेटा तुम्हारा काम कैसा जा रहा है, मैंने कहा आंटी काम तो अच्छा जा रहा है, और बहुत जल्दी सीख भी गया हूँ, अब तो इकबाल साहब दुकान पर हों या न हों पूरी दुकान में ही संभालता हूं, चाहे किसी को अपने लिए ब्रा लेने हों या मेकअप का समान, सब कुछ में ही डील करता हूँ। यह कहते हुए मैंने शापर पकड़ कर उसमें हाथ डाला और सारे ब्रा निकालकर आंटी सामने टेबल पर रख दिए। 
[Image: wholesale-2015-push-up-sexy-bra-panties-set.jpg]
आंटी ने ब्रा पर नज़र पड़ते ही पहले तो बौखला कर इधर उधर देखना शुरू कर दिया जैसे तसल्ली कर रही हों कि हमें कोई देख तो नहीं रहा और नज़रें चुरा चुरा कर ब्रा देखने लगीं। मैं समझ गया था कि वे वास्तव में दुकान पर जाते हुए शरमाती होंगी गैर मर्दों से अपने अंदर पहनने वाली चीजें लेते हुए। मगर पिछले कुछ महीनों के दौरान मैं एक अच्छा सेल्स मेन बन चुका था, और महिलाओं को ब्रा दिखाने के लिए पर्याप्त अनुभव भी हो गया था। मैंने पहले एक काले रंग का ही फोम वाला ब्रा उठाया और आंटी के पास खिसक कर बैठ गया, और मैंने वह ब्रा आंटी के सामने किया और आंटी को दिखाते हुए बोला, यह देखना आंटी यह बहुत अच्छी है। कितनी सॉफ्ट है और उसके अंदर फोम भी लगा हुआ है जिससे आकार थोड़ा बड़ा लगता है और सौंदर्य में वृद्धि होती है। अब की बार आंटी के हाथ कांपते हुए लग रहे थे, उन्होने कांपते हाथों मेरे हाथ से ब्रा पकड़ा और उसको ध्यान से देखने लगीं, लेकिन उनके चेहरे से परेशानी स्पष्ट हो रही थी। मैंने फिर आंटी को देखते हुए कहा आपने पहले भी काले रंग का ब्रा ही पहन रखा है, यह रंग तो आपके पास है। आप रहने दें, लाल रंग में देख लें मैंने उनके हाथ से ब्रा पकड़ लिया और लाल रंग का फोम वाला ब्रा उठाकर उन्हें पकड़ा दिया। 
[Image: Promotional-price-pink-sexy-bra-set-and.jpg]
आंटी ने कहा मेरा आकार तो पहले से ही बहुत बड़ा है उससे तो और भी बड़ा दिखेगा ... मैंने मुस्कुराते हुए कहा नहीं आंटी आपका आकार तो अच्छा है, पुरुषों को यही आकार की पसंद होता है और अगर थोड़े बड़े भी लगेंगे तो भी ब्रा नहीं लगेगा बल्कि आपकी सुंदरता में और वृद्धि हो जाएगी। यह सुनकर सलमा आंटी होंठो ही होंठो मे मुस्कुराई और बोली अच्छा तुम कहते हो तो मान लेती हूँ मगर मुझे तो लगता है कि मेरा आकार बड़ा बड़ा है। सलमा आंटी की हिचकिचाहट धीरे धीरे कम हो रही थी। फिर मैंने कहा आंटी पहले तुम पहन कर देख लो तो मैं आपको और भी दिखा देता हूं। आंटी ने कहा नहीं पहनने की क्या जरूरत है, बाद में देख लूँगी नहीं। मैंने कहा अरे आंटी फायदा क्या फिर अपनी दुकान होने का ... यह तो आप दुकान से जाकर भी इस तरह बिना देखे ला सकती हैं, अगर आकार बाद में खराब निकले तो चेंज करना पड़ता है। अब मैं आया हुआ हूँ तो पहन कर जाँच लें अगर ये ठीक नहीं तो कोई और दिखा दूँगा। मेरी बात सुनकर आंटी ने सोचा कि सलमान तू सही है। यही सोचकर वह लाल रंग का फोम वाला ब्रा लेकर उठी और अपने कमरे में चली गईं। 

कमरे में जाकर आंटी ने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया और थोड़ी देर के बाद बाहर आईं तो अब उनकी कमीज के नीचे काले की बजाय लाल रंग का ब्रा लग रहा था। आंटी मेरे पास आई तो मैं ने पूछा आंटी कैसा लगा ब्रा ??? आंटी ने कुछ सोचते हुए कहा ठीक है, लेकिन मुझे लग रहा है कि इससे सीने का आकार और अधिक बड़ा लगने लगा है। मैंने आंटी के बूब्स को घूरते हुए कहा अरे नहीं आंटी, यह तो बहुत सुंदर लग रहा है आप पर। अंकल मुनब्बर तो आपका यह लाल रंग का ब्रा देखेंगे तो लट्टू हो जाएंगे आप पर . 

मेरी बात सुनकर आंटी शरमाते हुए बोलीं, चल बदमाश .. फिर मैंने आंटी से पूछा, आंटी आकार तो ठीक है ना इस ब्रा का ???

आंटी ने कहा हां बेटा ठीक है। मैंने पूछा और कोई प्रॉब्लम आदि या फिटिंग कोई समस्या तो नहीं ?? 

आंटी ने कहा नहीं बेटा बिल्कुल सही है, कोई समस्या नहीं। फिर मैंने आंटी को एक नेट का ब्रा दिखाया। यह हल्के नीले रंग का ब्रा था जिसके ऊपरी हिस्से पर जालीदार नेट लगी हुई थी। इस ब्रा से मम्मों का आकार स्पष्ट नजर आता था, जबकि निपल्स और निचला हिस्सा ढका रहता था मैंने आंटी को ब्रा पकड़ा दिया और कहा आंटी भी चेक कर लें। आंटी ने मेरे हाथ से वह ब्रा पकड़ा और उसको पलट कर देखने लगी, फिर बोलीं इसमें तो नजर आएंगे। मैंने कहा जी आंटी, यह बहुत सेक्सी ब्रा है, मॉर्डन महिलाए मेरे से नेट का ब्रा लेकर जाती हैं। मेरी बात सुनकर आंटी धीरे आवाज में बोलीं, हां मगर तुम्हारे अंकल सेक्सी नहीं हैं ना आंटी ने यह बात बड़ी धीरे आवाज़ में कही थी मगर मैंने सुना था, लेकिन मैं अनजान बना रहा और आंटी से पूछा, आंटी आपने मुझसे कुछ कहा ??? आंटी बोलीं नहीं बेटा कुछ नहीं। यह चेक कर लेती हूँ। 

आंटी फिर अपने कमरे की तरफ जाने लगी तो इस बार मैं भी आंटी के पीछे ब्रा उठाकर चल पड़ा। आंटी दरवाजा बंद करने लगीं तो मुझे दरवाजे पर ही देखकर बोली क्या है ?? मैंने कहा आंटी आप बार बार कमीज उतारेन्गी, फिर ब्रा पहनकर कमीज फिर पहनेंगी, तो फिर से बाहर आकर दूसरा ब्रा लेंगी, मैं यहीं कमरे के बाहर ही खड़ा हो जाता हूं, आप ब्रा पहनकर जाँच करें, जो ठीक लगे वह रख लें, और फिर वह उतारकर मुझसे दूसरा ब्रा मांग ले, मैं बाहर से ही आपको पकड़ा दूंगा जिससे आपका समय बचेगा। आंटी ने कहा ये ठीक है। और दरवाजा बंद कर लिया। कुछ देर बाद दरवाजा खुला तो आंटी ने एक हाथ बाहर निकाल कर ब्रा मेरी तरफ बढ़ाया और बोलीं यह ठीक नहीं, काफी तंग है कोई और दिखा। मैंने आंटी का गोरा गोरा हाथ देखा और एक पल के लिए सोचा कितना मज़ा अगर यह हाथ पकड़ कर आंटी को ऐसे ही बाहर खींच लूँ, मगर मैंने तुरंत ही इस विचार को अपने मन से झटक दिया। और एक और नेट का ब्रा जो पिंक कलर का था आंटी की ओर बढ़ा दिया। आंटी ने वह ब्रा पकड़ा और दरवाजा बंद कर लिया। थोड़े इंतजार के बाद दरवाजा खुला और आंटी ने कहा बेटा उसका आकार ठीक है, और मैंने आईने में देखा है, यह अच्छा भी लग रहा है। मैंने कहा ठीक है आंटी वह उतारकर आप एक साइड पर रख दें, मैं आपको और ब्रा पकड़ाता हूँ। आंटी ने ठीक है 


आंटी ने ब्रा उतारना शुरू किया, मगर इस बार वह शायद दरवाजा बंद करना भूल गई थी। मैंने थोड़ा आगे होकर डरते डरते अंदर झांकने की कोशिश की तो आंटी की कमर मेरी तरफ थी, उनके दोनों हाथ पीछे कमर पर थे और वह अपने ब्रा के हुक खोल रही थीं। क्या चिकनी और सुंदर कमर थी आंटी की, देखने मे मज़ा आ गया था, नीचे सलवार में उनके बड़ेबड़े चूतड़ बहुत सुंदर लग रहे थे, मन कर रहा था कि अब आगे बढ़ुँ और उनके चूतड़ों की लाइन में अपना लंड फंसा दूं आंटी ने ब्रा उतार कर सामने पड़ी मेज पर रख दिया और वापस मुड़ने लगी। जैसे ही आंटी वापस मूडी, मैं एकदम से पीछे हो गया और ऐसे इधर उधर देखने लगा जैसे मुझे कुछ पता ही न हो। 

फिर आंटी का फिर से एक हाथ बाहर आया और आंटी ने कहा बेटा और कौन सा ब्रा है वह भी दिखा दो। मैंने एक और ब्रा जो कपास का था और स्किन कलर का था वह आगे बढ़ा दिया, आंटी ने कलर देखकर कहा बेटा ये कलर तो पड़े हैं पहले भी मेरे पास।
[Image: 8135---Aqua-Front.jpg?v=1443893670]
मैंने कहा कोई बात नहीं आंटी, आप पहन कर तो देखें हो सकता है यह आपको पसंद आ जाए। दरअसल मैं आंटी को फिर से देखने का चांस लेना चाहता था, इसलिए मैंने सोचा, अब आंटी यह पहन कर देंगी कि नहीं कोई और दो, तो 2 बार अधिक आंटी को देखने का चांस मिल सकता है, और हो सकता है इस से ज़्यादा भी मिले 

एक बात तो मानने वाली थी कि 40 साल की उम्र होने के बावजूद आंटी का शरीर बहुत सेक्सी था। उन्होंने अपने शरीर को न तो अधिक मोटा होने दिया था और न ही उनका शरीर लटकना शुरू हुआ था, इस उम्र में आमतौर पर पाकिस्तानी महिलाए या तो बहुत मोटी हो जाती हैं, या फिर उनका मास लटकना शुरू हो जाता है, मगर आंटी का शरीर ऐसा बिल्कुल नहीं था। खैर आंटी ने अब फिर मेरे हाथ से स्किन कलर का ब्रा पकड़ लिया था और फिर पहले की तरह ही उन्होंने दरवाजा बंद नहीं किया था। जैसे ही आंटी ने मेरे हाथ से ब्रा पकड़ा में फिर से आगे खिसका और आंटी के दर्शन करने के लिए दरवाजे में मौजूद थोड़ी सी जगह से आंटी के शरीर देखने की कोशिश करने लगा। जैसे ही मैं आगे बढ़कर अंदर देखने लगा, तब आंटी का चेहरा मेरी तरफ ही था, लेकिन उनकी निगाहें अपने हाथ में मौजूद ब्रा पर थीं। और वह धीरे धीरे दूसरी ओर मुड़ रही थीं। इसी दौरान मैंने सौभाग्य से आंटी के 38 आकार के मम्मे देख लिए। वाह ..... क्या मम्मे थे। दिल किया कि उनको अपने मुंह में लेकर उनका सारा दूध पी जाऊं, लेकिन फिलहाल मुझे जूते खाने से डर लग रहा था इसलिए मैंने इस इच्छा को मन में ही दबा लिया। 
[Image: 18227-940b092a9dc1f9806f680522e83067ad.jpg]
इस उम्र में भी आंटी के मम्मे चूसने लायक थे। और उनके मम्मों पर ब्राउन रंग का दायरा कुछ ज्यादा ही बड़ा था, और उनके निपल्स भी कुछ बड़े थे, लेकिन वह किसी भी आदमी को आकर्षित करने के लिए अच्छे मम्मे थे। अब आंटी अपना मुंह दूसरी तरफ कर चुकी थीं और स्किन कलर का ब्रा पहन रही थीं, आंटी के दूसरी तरफ शीशा माजूद था जो मुझे नजर नहीं आ रहा था, ब्रा पहनने के बाद आंटी ने अपने आप को इस शीशे में देखा, लेकिन शायद उन्हें यह ब्रा पसंद नहीं आया तो उन्होंने वह ब्रा उतारा और वापस मूड गई, इस बीच मैं तुरंत ही वापस पीछे होकर खड़ा हो गया था। मैं तो पीछे हो गया, मगर मेरा लंड जो इस समय मेरी सलवार में था वह खड़ा होकर अपनी उपस्थिति का एहसास दिलाने लगा था। आंटी फिर बाहर हुईं, यानी अपना हाथ बाहर निकाला और ब्रा मुझे पकड़ा दिया, इस बीच एक और ब्रा आंटी को पकड़ाया इसी तरह, 2, 3 ब्रा आंटी ने चेक किए। इस दौरान दरवाजा थोड़ा और खुल गया था और अब मेरे लिए अंदर का नज़ारा पहले से बहुत बेहतर हो गया था। अब मुझे आंटी के सामने मौजूद दर्पण भी नजर आ रहा था, और जब आंटी अपना ब्रा उतार रही थीं और दूसरा ब्रा पहन रही थीं, उस दौरान मैंने आंटी के बूब्स का बड़ी बारीकी से निरीक्षण कर लिया था और उन्हें देखकर अब मेरे लंड की बुरी हालत हो रही थी, मेरा लंड की टोपी से निकलने वाला फीता दार पानी अब मेरी सलवार को गीला कर रहा था मगर मुझे उसकी कोई चिंता नहीं थी, मुझे तो उस समय बस मम्मे देखने का शौक था। संक्षेप में आंटी सलमा ने एक एक करके सारे ब्रा चेक कर लिए और फिर एक अंतिम ब्रा जो मैंने उन्हें दिखाया, वह हल्के पीले रंग का था और उसके ऊपर लाल और हल्के नीले रंग के छोटे फूल बने हुए थे। वह ब्रा पहन कर आंटी ने ऊपर से कमीज पहनी और फिर अन्य 2 ब्रा उठाकर कमरे से बाहर आ गई।

[Image: 10111be4c7c7efb89167c9d24d6b8efe.jpg]
मैं आंटी के आगे चलता चलता वापस पहले वाले कमरे में अपनी जगह पर बैठ गया और बैठने से पहले अपने लंड को पकड़ पैरों के बीच दबा दिया। मेरे पीछे पीछे आंटी सलमा भी आकर बैठ गईं और बोलीं बस बेटा यह 3 ब्रा ही रखूंगी। इनका बता दो कितने पैसे बनते हैं। मैंने कहा आंटी आप यह बताएं आपको पसंद भी आया है या नहीं ?? आंटी बोलीं अच्छे हैं, सभी अच्छे हैं, लेकिन मुझे बस 3 चाहिए, पहले वाले फटे पुराने हैं, उनसे 3 से 2 महीने तो निकल ही जाएंगे आराम से। मैंने आंटी के बूब्स पर नज़र डालते हुए कहा, आंटी मुझे तो यही अधिक पसंद आया था जो इस समय आपने पहना हुआ है ... आंटी ने चौंक कर अपने मम्मों की ओर देखा और यह देखकर थोड़ी शर्मिंदा हुई कि उनका ब्रा कमीज से दिख रहा है, लेकिन फिर वह बोलीं हां यह भी अच्छा है, बाकी भी अच्छे हैं। अब तुम पैसे बता दो।
-
Reply
06-09-2017, 12:50 PM,
#6
RE: ब्रा वाली दुकान
मैंने शापर में एक बार फिर से हाथ डाला और कहा आंटी यह आपने अंडर इनर भी मंगवाए थे, अंडर इन्नर भी मैंने आंटी के हाथ में पकड़ा दिया, आंटी ने उन्हें खोलकर देखा और बोलीं हां यह ठीक है आकार। मैंने आंटी से पूछा आंटी यह तो आपने शमीना के लिए मंगवाए हैं न, सायरा के लिए नहीं चाहिए ?? आंटी ने कहा हां बेटा ये शमीना के लिए हैं, सायरा अभी छोटी है उसे जरूरत नहीं। मैंने कहा ठीक है आंटी, आगे भी कभी आपको अपने लिए या शमीना को ब्रा या अंडर इन्नर चाहिए हो तो बिना हिचक आप मुझे कह सकती हैं, दुकान पर जाकर गैर मर्दों से लेने से बेहतर है कि मैं आपके लिए घर पर ही पहुंचा दूं। यह सुनकर आंटी ने कहा हां इसीलिए मैंने तुम्हें कहा था अब और अधिक बातें मत बनाओ और यह बताओ पैसे कितने बने? मैंने आंटी को पैसे बताए, आंटी ने कमरे में जाकर पैसे उठाए और लाकर मुझे दे दिए। मैं समझ गया था कि आंटी अब बिना कुछ कहे मुझे यह समझा रही हैं कि अब तुम जा सकते हो, मैंने भी उनके सिर पर सवार होना बेहतर नहीं समझा और उनसे पैसे लेकर उन्हें नमस्कार करके वापस घर आ गया। घर आकर सबसे पहले मैं अपने शौचालय में गया और आंटी सलमा के 38 इंच के मम्मों को याद करके उनके नाम की एक जबरदस्त सी मुठ मारी और अपने लंड को आराम पहुंचाया। दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं [Image: HTB12E2DJVXXXXcpXFXXq6xXFXXXm.jpg]

अगले दिन फिर इसी तरह दैनिक जीवन चलता रहा इस दौरान विभिन्न तरह की औरतें और कभी-कभी जवान लड़कियां भी दुकान पर आतीं और उन्हें अपनी पसंद के अनुसार ब्रा दिखाता , वह मेडम जिन्हें मैंने पहली बार खराब बेच दिया था, वह भी एक बार फिर से आईं और तब हाजी साहब और मैं दोनों ही दुकान पर थे, लेकिन वह सीधे मेरे पास आईं और मैंने फिर से उन्हें ब्रा बेचे, लेकिन इस बार वह मेरी डीलिंग से काफी खुश नजर आ रही थीं, उनके जाने के बाद मैंने हाजी साहब को भी बताया कि यह मेडम थीं जिन्हें मैंने पहली बार ब्रा बेचे थे, हाजी साहब ने मुस्कुराते हुए कहा मेडम तो बहुत टाइट मिली हैं तुम्हे, मैं उनकी बात सुनकर हंसने लगा फिर हाजी साहब और मैं अपने काम में व्यस्त हो गए और कुछ समय तक कोई विशेष घटना नही हुई और जीवन दिनचर्या चलती रही। 

फिर एक दिन जब मैं दुकान पर बैठा था मुनब्बर अंकल दुकान पर आए और उन्होंने हाजी साहब से कहा कि अगर आप बुरा ना माने तो आज सलमान को छुट्टी दे दे, मुझे कुछ काम है इससे .. हाजी साहब ने कहा कोई समस्या नहीं बच्चा बड़ा मेहनती है और अभी तक कोई अनावश्यक छुट्टी भी नहीं की है, अगर आपको कोई काम है तो आप जरूर ले जाएं मुझे कोई आपत्ति नहीं। मुनब्बर अंकल ने हाजी साहब को धन्यवाद दिया और मुझे लेकर बाइक पर अपने घर ले गए। घर गया तो सामने सलमा आंटी मेकअप आदि कर कहीं जाने के लिए तैयार बैठी थीं। मैंने आंटी को सलाम किया और मुनब्बर चाचा की तरफ सवालिया नज़रों से देखा तो उन्होंने मुझे बताया कि सलमा अचानक जाना पड़ रहा है, तो मैं चाहता हूँ तुम साथ चले जाओ। वहां उनकी बहन की बेटी की शादी की तारीख रखने का फन्कशन है तो इन्हे वहाँ होना चाहिए, शाम को वापसी हो जाएगी और कल वैसे ही शुक्रवार है तो आप छुट्टी कर सकते हो। मैंने कहा ठीक है चाचा कोई समस्या नहीं कब जाना है? मेरी बात पर आंटी सलमा बोलीं अभी, मैं तैयार हूँ। मैंने आंटी को कहा ठीक है मैं मुंह हाथ धो लूँ और घर अम्मी को सूचना दे दूँ, फिर चलते हैं। अंकल ने कहा ठीक है तुम दोनों ने जब जाना हो चले जाना, मैं तो काम पर जा रहा हूँ। यह कह कर अंकल चले गए और आंटी सलमा ने कहा, तुम मुँह हाथ धो आओ, नहाना हो तो नहा भी लो, मैं तुम्हारी अम्मी को फोन करके बता देती हूँ। मैंने कहा ठीक है आप अम्मी को बता दें। 
[Image: red-bow-decor-sexy-bra-set-025163.jpg]
यह कह कर मैं शौचालय चला गया, और कपड़े उतार कर शावर के नीचे खड़ा हो गया, मैंने सोचा आंटी की बहन के यहाँ मेहमान आए होंगे तो थोड़ा साफ होकर जाना चाहिए यही सोचकर मैंने स्नान किया और बाल बनाकर बाहर आया। कपड़े मेरे नये ही थे जो किसी समारोह में जाने के लिए ठीक ठाक थे। मैं बाहर आया तो आंटी ने बताया कि वह अम्मी को फोन करके मेरे बारे में सूचना दे चुकी हैं, लेकिन तुम्हे खाना आदि खाना है तो बताओ, मैंने कहा नहीं आंटी भोजन नहीं बस निकलते हैं हम। ( दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं ) आंटी ने शमीना और सायरा को साथ लिया और हम रिक्शे में बैठकर बस स्टॉप तक गए। वहाँ आंटी ने एक लोकल बस का चयन किया तो मैंने आंटी को कहा लोकल बस बहुत देर लगा देती है हम पिंडी इस्लामाबाद जाने वाली बस में चलते हैं आधे घंटे में हम कबैरोालह होंगे। आंटी ने कहा, हां यह भी ठीक है। फिर हम एक पिंडी जाने वाली बस में सवार हो गए जो चलने के लिए पूरी तरह तैयार थी, मगर इसमें कोई खाली सीट नहीं थी तो हम बस के बीच में जाकर खड़े हो गए। 2, 3 मिनट बस रुकी रही तो काफी सवारियां और भी सवार हो गईं मगर किसी को भी सीट उपलब्ध नहीं थी। हम जहां जाकर खड़े हुए वहां साथ वाली सीट पर 2 औरतें बैठी थीं, उन्होंने सायरा को अपने साथ कर लिया अब शमीना आंटी के साथ खड़ी थी और उनके पीछे खड़ा था 

कुछ देर बाद गाड़ी चल पड़ी और 5 मिनट में ही हम मुल्तान शहर से बाहर निकल चुके थे। बस चालक घोड़े पर सवार था। बस में भीड़ अधिक होने की वजह से सलमा आंटी मेरे काफी करीब खड़ी थीं, बुर्का वह पहनती नहीं थी बस एक बड़ी सी चादर सिर पर ली हुई थी उन्होंने। इस दौरान ब्रेक लगने के कारण मैं एक दो बार आगे हुआ तो सलमा आंटी के बदन से मेरा बदन टच हो गया। नरम नरम पैर और फोम की तरह नरम उनके चूतड़ मेरे शरीर से टकराए तो मेरे अंदर हलचल होने लगी। मैंने नीचे चेहरा करके सलमा आंटी की गाण्ड देखी तो देखता ही रह गया, उनकी कमर 32 इंच थी मगर उनके चूतड़ों का आकार 36 "था जो काफी बड़ा था। मेरी नजर उनके चूतड़ों पर पड़ी तो मुझे आंटी के मम्मे भी याद आ गए जो मैंने आंटी के घर में ही कुछ महीने पहले देखे थे जब आंटी के यहाँ ब्रा देने गया था। सलमा आंटी की 36 "गाण्ड देखना और उनके 38" के मम्मों के बारे में सोच सोच कर मेरा लंड सलवार में सिर उठाकर खड़ा हो गया था और सलमा आंटी की फोम जैसी गाण्ड को सलयूट करने के लिए तैयार था। 
[Image: B10742A-sexy-lady-embroidery-lace-bra-and.jpg]
आदत अनुसार मेंने भी अंडर इन्नर नहीं पहना था उसी कारण मेरी सलवार में हल्का सा कूबड़ दिखने लग गया था, मैं कोशिश तो कर रहा था कि लंड बैठा ही रहे, लेकिन सलमा आंटी की गाण्ड उसको शायद अपनी ओर खींच रही थी और वो अपने आप उनकी तरफ खिंचा चला जा रहा था। मुझे डर था कि कहीं यह सलमा आंटी के बदन से न टकरा जाए इसलिए मैं उनसे कुछ दूरी पर होकर खड़ा हुआ मगर भीड़ अधिक होने की वजह से यह दूरी भी महज कुछ इंच की ही थी ड्राइवर को शायद मेरी इस हरकत पसंद नहीं आई इसलिए उसने एक जोरदार ब्रेक लगाई मेरे सहित सारी सवारियां आगे हुई और एक दूसरे से टकरानेलगें यही वह समय था जब मेरा सैनिक भी सीधा सलमा आंटी के 2 पहाड़ों के बीच मौजूद घाटी में घुस गया। मेरा लंड फिलहाल जोबन पर था और जब सलमा आंटी से टकराया तो मुझे उनके नरम नरम चूतड़ों का एहसास अपनी टांगों पर हुआ, मेरा सख्त लोहे का लंड जब उनकी गाण्ड से लगा तो निश्चित रूप से उन्हें भी वह महसूस हुआ होगा, मैं तुरंत पीछे हटा और सलमा आंटी का करारा थप्पड़ खाने के लिए तैयार हो गया, मगर उन्होंने सरसरी तौर पर पीछे मुड़ कर मेरी तरफ देखा और फिर नीचे देखने लगी कि उनकी गाण्ड में क्या आकर लगा, मगर फिर बिना कुछ कहे फिर से आगे की ओर देखने लगीं। दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं 
[Image: url?sa=i&rct=j&q=&esrc=s&source=images&c...5941370269]
फिर एक और ब्रेक लगी और मेरा लंड पहले की तरह फिर से सलमा आंटी के चूतड़ों में घुसने की कोशिश करने लगा और मैं जल्दी से पीछे होकर खड़ा हो गया, फिर सलमा आंटी ने पीछे मुड़ कर देखा और फिर पुनः सीधी होकर खड़ी हो गईं। मुझे डर लगने लगा था और दुआएं मांग रहा था कि मेरा लंड बैठ जाए, मगर फिर अचानक पता नहीं क्या हुआ कि ब्रेक नहीं लगी मगर मेरा लंड फिर सलमा आंटी के चूतड़ों से टकराने लगा। मैं एक झटके से थोड़ा पीछे हुआ तो पीछे खड़े एक आदमी ने मुझे डांटते हुए कहा कि अपने वजन पर खड़े रहो और मुझे थोड़ा सा आगे की ओर धकेल दिया। अब मेरा लंड सलमा आंटी की चूत से कुछ ही दूरी पर था मगर फिर एक बार फिर से सलमा आंटी पूर्ण रूप से पीछे हुई तो मेरा लंड फिर से उनके पहाड़ जैसे चूतड़ों के बीच मौजूद लाइन में घुस गया, पता नहीं क्यों, लेकिन इस बार मेंने पीछे की कोशिश नहीं की और आश्चर्यजनक रूप से सलमा आंटी भी ऐसे ही खड़ी रहीं उन्होंने फिर से आगे की कोशिश नहीं की। 
-
Reply
06-09-2017, 12:50 PM,
#7
RE: ब्रा वाली दुकान
अब लंड सही तरह से सलमा आंटी की गाण्ड में नहीं गया था, एक बार फिर से ब्रेक लगी तो अब मैं सलमा आंटी के साथ जुड़कर खड़ा हो गया और मुझे अपने लंड पर सलमा आंटी की गाण्ड का स्पष्ट एहसास होने लगा, लेकिन सलमा आंटी ने कोई रिएक्शन नहीं दिया और ऐसे ही खड़ी रहीं। फिर मैंने धीरे से अपना एक हाथ अपनी कमीज के नीचे किया और वहां से अपने लंड हाथ में पकड़ कर उसका रुख जो अब नीचे था उसको उठाकर सलमा आंटी के चूतड़ों की ओर कर दिया। जब मैं लंड उठाकर उसकी टोपी का रुख सलमा आंटी की गाण्ड पर किया तो सलमा आंटी थोड़ा कसमसाई लेकिन वह अपनी जगह से हिली नहीं तो मेरी हिम्मत बढ़ी और मैं अब एक ही स्थिति में खड़ा रहा। ड्राइवर ने एक बार फिर से ब्रेक लगाई और मैं फिर सलमा आंटी से जा टकराया, अब मेरा लंड तो पहले ही उनकी गाण्ड को छू रहा था लेकिन अब की बार जो ब्रेक लगी तो मेरा सिर भी सलमा आंटी के कंधे तक गया और मेरे लंड की टोपी ने सलमा आंटी की गाण्ड पर दबाव बढ़ाया तो चूतड़ों ने साइड पर हट कर लंड को अंदर आने की अनुमति दे दी। और शायद मेरी टोपी सलमा आंटी की गाण्ड के छेद पर भी लगी जिसे उन्होंने देखा और बस उसपल जब मेरा सिर उनके कंधे पर जाकर लगा मैंने सलमा आंटी की हल्की से सिसकी सुनी। दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं 

इस सिसकी ने मेरे लंड तक यह संदेश पहुंचा दिया कि आंटी मस्त हो रही हैं तो अपना काम जारी रख तभी बेफिक्र होकर वहीं पर खड़ा रहा और सलमा आंटी ने अपने चूतड़ों को थोड़ा कड़ा कर मेरे लंड की टोपी को अपने चूतड़ों की लाइन में भींच लिया। मुझे अब अपना लंड उनकी गाण्ड में फंसा हुआ महसूस हो रहा था, मैंने थोड़ा पीछे होकर जाँच करना चाहा कि बाहर निकलता है या नहीं, मगर सलमा आंटी ने कमाल कौशल से मेरा लंड अपने चूतड़ों में फंसाकर दबा लिया था, मैंने कहा ठीक है जब आंटी खुद ही मस्त होकर मेरा लंड संभाल चुकी हैं तो मुझे क्या जरूरत है उसे बाहर निकालने की। तो मैं भी ऐसे ही खड़ा रहा और सलमा आंटी की गाण्ड के मजे लेने लगा। कुछ देर बाद मैंने महसूस किया कि सलमा आंटी कभी अपनी गाण्ड को ढीला छोड़ रही थीं और उसके बाद फिर से अपनी गाण्ड को टाइट करके इसमें लंड को दबा रही थीं। मुझे इस खेल में अब मज़ा आना शुरू हुआ था कि कमबख़्त ड्राइवर ने एक बार फिर ब्रेक लगाई और हम सब खड़ी सवारियां फिर आगे की ओर झुकी और फिर वापस पीछे की ओर हुईं तो इस दौरान सलमा आंटी की गांड की पकड़ मेरे लंड पर कमजोर पड़ गई और लंड उनकी गाण्ड से बाहर निकल आया, जैसे ही हम फिर संभलकर खड़े हुए सलमा आंटी ने हल्की सी गर्दन घुमा कर मेरी तरफ देखा और अनुमान लगाया कि उनसे कितना दूर खड़ा हूँ, फिर सलमा आंटी खुद ही धीरे से पीछे हुई और फिर उन्होंने अपने भारी भर कम चूतड़ मेरे मासूम से लंड पर रख दिए, मैं भी मौका उचित देख फिर से कमीज के नीचे हाथ किया और अपने लंड का रुख आंटी की गाण्ड की तरफ कर दिया। 

फिर लोहे जैसे मेरे हथियार के आसपास सलमा आंटी की नाजुक और कोमल नरम गाण्ड का एहसास होने लगा तो मुझे फिर से सलमा आंटी पर प्यार आने लगा। लेकिन जब हम बस में थे इसलिए अधिक हरकत नहीं कर सकते थे। लेकिन मैं अभी इतना समझ चुका था कि सलमा आंटी की गाण्ड में अब मेरा लंड जल्द ही जाने वाला है बस उचित अवसर का इंतजार करना होगा। कुछ देर तक ऐसे ही खड़े-खड़े अपने लंड पर सलमा आंटी के चूतड़ों की मजबूत पकड़ के मजे लेता रहा लेकिन फिर तुरंत ही कंडक्टर की आवाज़ आई जो कबीर वाला की सवारियों को आगे आने को कह रहा था, यह सुनते ही सलमा आंटी ने अपने चूतड़ों की पकड़ को ढीला कर दिया और थोड़ा आगे हुईं जिससे मेरा लंड उनके चूतड़ों से निकल गया और सलमा आंटी ने साथ वाली सीट पर बैठी हुई सायरा को बाहर आने को कहा। फिर हम चारों बस से उतर गए, इस दौरान मेरा लंड भी खतरा महसूस कर फिर से बैठ गया था, बस से उतर कर हमने एक रिक्शा पकड़ा और 5 मिनट में ही सलमा आंटी की बहन के घर पहुंच गए जहां खासे मेहमान आए थे और उनकी भांजी के ससुराल वाले भी मौजूद थे। सलमा आंटी ने मेरा भी परिचय करवाया और दूसरी आंटी जिनका नाम सुल्ताना था उन्होंने मुझे सिर पर प्यार दिया और कुछ ही देर बाद जब सलमा आंटी की मौजूदगी में उनकी भतीजी की शादी की तारीख रख ली गई तो हमें खाना खिलाया गया, और फिर सलमा आंटी अपनी बहन और भतीजी के साथ बैठ कर बातें करने लगीं जबकि सायरा और शमीना वहाँ अपनी हमउम्र कज़नों के साथ खेलने में व्यस्त हो गईं जबकि मैं एक साइड पर बैठकर बोरियत को एंजाय करने लगा। इसी दौरान मेरी आँख लग गई, जब आंख खुली तो सलमा आंटी मेरे पास खड़ी मुझे सिर हिलाकर उठाने की कोशिश कर रही थीं, उठ जाओ सलमान बेटा देर हो रही है। यह आवाज सुनकर मैंने आंखें खोलीं तो सलमा आंटी ने कहा चलो अब वापस चलें काफी देर हो गई है। मैं भी तुरंत उठा और कुछ ही देर में रिक्शे से हम फिर कबीर वाला मेन बस स्टॉप पर खड़े थे जहां से हमें पिंडी से आने वाली बस बस अड्डे पर ही खड़ी मिल गई, मैं बस में चढ़ा और मेरे पीछे सलमा आंटी भी बस में आ गई, लेकिन फिर सलमा आंटी ने मुझे वापस बुला लिया और कहा नीचे जाओ हम बस में नहीं जाएंगे। दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं

मैं सलमा आंटी को कहा क्यों आंटी बस में जगह है बैठने की, कंडेक्टर ने भी कहा मौसी जी बहुत सीटें पड़ी हैं, लेकिन खाली जी ने किसी की नहीं सुनी और चुपचाप नीचे उतर गईं जिस पर मुझे कंडेक्टर की जली-कटी बातें सुनना पड़ी, मगर मैं चुपचाप सलमा आंटी के पास जाकर खड़ा हो गया, वह बस चली गई तो मैंने आंटी से पूछा कि आंटी जगह थी तो सही बस में फिर हम बस में क्यों नहीं गए, लेकिन आंटी ने कोई जवाब नहीं दिया, कुछ ही देर में एक और बस आ गई जो खचाखच भरी हुई थी, सलमा आंटी इस बस में सवार हो गईं और मैं भी उनकी इस हरकत पर हैरान होता हुआ उनके पीछे पीछे हो लिया। पहले की तरह फिर से इस बस में हमें कोई सीट उपलब्ध नही थी मगर इस बार शमीना और सायरा दोनों को ही सीट मिल गई जबकि आंटी और मैं दूसरी सवारियों के साथ बस में खड़े रहे। 

कुछ ही देर बाद मेरी हैरानगी तब खत्म हो गई जब आंटी खुद ही मेरे शरीर के साथ लग कर खड़ी हो गईं, लेकिन इस समय मेरी सोच कहीं और थी और लंड सोया हुआ था, आंटी को जब अपनी गाण्ड पर कुछ भी महसूस नहीं हुई तो उन्होंने पीछे मुड़ कर मेरे लंड को देखा जहां आराम ही आराम था, फिर आंटी ने लज्जित होकर मुंह आगे कर लिया और थोड़ा आगे होकर खड़ी हो गईं। लेकिन मुझे समझ लग गई थी कि सलमा आंटी खाली बस में क्यों नहीं बैठी उन्हें वास्तव में लंड का आनंद लेना था, यह संकेत मिलते ही मेरे लंड ने सलवार में सिर उठाना शुरू कर दिया। चूंकि यह रात 9 बजे का समय था और बाहर हर तरफ अंधेरा था, और बस भी चूंकि पिंडी से मुल्तान आ रही थी तो ज्यादातर यात्री सो रहे थे इसलिए बस के अंदर की रोशनी भी बंद थी और बस में करीब करीब पूरा अंधेरा था बैठी हुई सवारियाँ ज़्यादातर सो रही थी और बस में पूरा सन्नाटा भी था। सलमा आंटी की मांग को तो मैं समझ ही गया था इसलिए अब मैंने सोचा कि अब जरा पहले कुछ अधिक होना चाहिए और सलमा आंटी की गाण्ड का सही मज़ा लेना चाहिए। इसी सोच के साथ मेरा लंड फिर से अपने जोबन पर आ चुका था, मैंने कमीज के नीचे हाथ डालाऔर अपनी कमीज को साइड से हटा दिया उसके बाद थोड़ा आगे गया और बड़ी सावधानी के साथ सलमा आंटी की कमीज भी उनकी गाण्ड से साइड पर खिसका दी, जब मैंने सलमा आंटी की कमीज साइड पर हटाई तो उन्होंने एकदम पीछे मुड़ कर देखा कि यह क्या हो रहा है? फिर उन्होंने मेरे लंड देखा जहां से मैं कमीज हटा चुका था और मेरा मोटा ताजा लंड सलवार के अन्दर ही खड़ा होकर अपने आकार का अनुमान दे रहा था जो इस समय मेरे हाथ में था, लंड पर नज़र पड़ते ही सलमा आंटी की आँखो में एक चमक आई और उन्होंने मुझसे नजरें चार किए बिना ही फिर मुंह आगे कर लिया, और मैं भी इधर उधर से संतुष्ट होकर अपना लंड सलमा आंटी के चूतड़ों में फंसा दिया जिस पर सलमा आंटी पीछे हो गईं। दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं 

चूंकि हर तरफ अंधेरा था और किसी को भी पता नहीं था कि यहाँ क्या खेल चल रहा है, मैंने अधिक हिम्मत की और अपना एक हाथ सलमा आंटी की मोटी गांड पर रख कर उसको थोड़ा खोला और अपना लंड और अधिक अंदर फंसा दिया जिसको सलमा आंटी ने तुरंत अपनी मजबूत पकड़ में जकड़ लिया। अब मैंने अपना एक हाथ सलमा आंटी के नितंबों पर रख लिया और पूरी तरह से अपने लंड का दबाव सलमा आंटी की गाण्ड में बढ़ाने लगा। जाहिर सी बात है मैं अपना लंड सलमा आंटी की गाण्ड के छेद में तो प्रवेश नहीं करा सकता था, मगर उनकी गांड लाइन में लंड फंसाकर उन्हें मज़ा दे सकता था, और आंटी भी मस्त होकर पूरा पूरा मज़ा ले रही थी। मैंने अपने हाथ से सलमा आंटी के नितंबों दबाया तो उन्होंने अपने चूतड़ों को पीछे करके फिर से पकड़ मज़बूत कर ली और फिर इसी तरह पकड़ मज़बूत करते हुए थोड़ा आगे हुई तो मुझे अपने लंड की टोपी पर उनकी गाण्ड की रगड़ महसूस हुई , तो फिर से सलमा आंटी ने अपनी गाण्ड की पकड़ कमजोर कर गांड पीछे की और फिर से पकड़ मज़बूत कर अपनी गाण्ड को आगे करने लगीं। सलमा आंटी ने करीब 5 मिनट तक यह काम जारी रखा जिससे अब मुझे अपार मज़ा आने लगा था, उनकी नरम नरम मोटी गाण्ड में लंड बहुत मजे में था। 

फिर सलमा आंटी ने अपना हाथ पीछे किया और अपना हाथ मेरे लंड पर रख कर उसकी मोटाई का आकलन करने लगी, तो उन्होने अपने हाथ से मेरे लंड को गाण्ड से बाहर निकाला और उसका रुख थोड़ा सा नीचे कर के दोबारा गाण्ड के छेद में प्रवेश किया। उफ़ ......... क्या मजे की हरकत की थी सलमा आंटी ने एक तो उन्होंने जब अपना हाथ मेरे लंड पर रखा मुझे उसका ही बेहद मज़ा आया तो उन्होंने गाण्ड में फिर लंड को दाखिल किया मगर उसका रुख नीचे किया तो लंड की टोपी पर सलमा आंटी की गीली चूत लगते ही मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया। सलमा आंटी की चूत न केवल गीली थी बल्कि वह इस हद तक गर्म थी कि मुझे लगा जैसे किसी ने मेरे लंड की टोपी पर गर्म गर्म कोयला रख दिया हो। सलमा आंटी ने एक बार फिर मेरा लंड अपने चूतड़ों को टाइट करके अपनी लाइन में कसकर जकड़ लिया और फिर हौले हौले झटके ले लेकर आगे पीछे हो कर मेरे लंड की टोपी को अपनी चूत पर मसलने लगी। चूंकि बस भी चल रही थी जिसकी वजह से खड़ी सवारियां थोड़ा बहुत हिलती हैं इसलिए हमारी इस हरकत पर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया। 
-
Reply
06-09-2017, 12:50 PM,
#8
RE: ब्रा वाली दुकान
सलमा आंटी ने 10 मिनट तक लगातार मेरा लंड अपने चूतड़ों में फंसा कर अपनी चूत पर रगड़ा जिससे मुझे बहुत आराम मिल रहा था। फिर अचानक ही सलमा आंटी की गति में थोड़ी तेजी आ गई, सलमा आंटी अब पहले से ज्यादा आगे पीछे रही थीं और मुझे डर लगने लगा कि सलमा आंटी की इस हरकत से किसी ना किसी का ध्यान हमारी ओर हो जाएगा और फिर बहुत छतरोल होगी, मगर इससे पहले कि कोई हमारी इस हरकत को नोट करता मुझे अपने लंड टोपी पर गर्म पानी का एहसास हुआ और सलमा आंटी मेरे लंड को अपनी चूत के छेद पर लगा कर एकदम स्तब्ध हो गईं और अपने चूतड़ों को मेरे लंड पर मज़बूती से जमाए रखा। सलमा आंटी की चूत ने 10 मिनट की लगातार रगड़ से पानी छोड़ दिया था। सलमा आंटी के शरीर को कुछ देर झटके लगते रहे और फिर उनका शरीर शांत होने लगा। जब उनकी चूत ने सारा पानी छोड़ दिया तो उन्होंने अपने चूतड़ों की पकड़ ढीली की और मेरा लंड अपनी गाण्ड से निकाल दिया और मेरे से कुछ दूरी पर खड़ी हो गईं, मुझे उनकी इस हरकत पर बहुत गुस्सा आया क्योंकि अब मेरे लंड आराम नहीं मिला था, लेकिन ऐसी हालत में सलमा आंटी से कुछ नहीं कह सकता था। बस दिल ही दिल में कुढता रहा और परिणाम के रूप में कुछ ही देर में मेरा लंड बैठ गया। दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं 

5 मिनट बाद ही मुल्तान चौक पर बस रुकी तो सलमा आंटी ने साथ वाली सीट से शमीना उठाया जो सो चुकी थी, वह जागी तो सलमा आंटी के आगे आकर खड़ी हो गई, जबकि छोटी सायरा अब तक सोई हुई थी, सलमा आंटी ने मुझे कहा कि तुम सायरा उठाओ उसकी नींद बहुत गहरी है, शायरा वह 10 साल की थी और थोड़ी वजनदार भी थी मगर बहरहाल वह एक बच्ची थी तो मैने मुश्किल से उसे गोद में उठाया और बस से नीचे उतर गया। वहाँ से हम ने एक रिक्शा लिया और उसमें बैठकर आंटी के घर की ओर चलने लगे। रिक्शे में सायरा मेरी गोद में ही थी जबकि सलमा आंटी मेरे साथ बैठी थीं, मैंने सलमा आंटी के पास होकर उनके कान में कहा आंटी आप ने तो मज़ा ले लिया मगर मेरा मज़ा अधूरा रह गया। आंटी ने मेरी तरफ देखा और हल्की आवाज में बोली चुप रहो, और खबरदार जो इस बारे में किसी को बताया या इस बारे में फिर से बात की। सलमा आंटी का लहजा बहुत कर्कश था, मैं कुछ नहीं कह सका और अपना सा मुंह लेकर बैठ गया। कुछ ही देर बाद हम सलमा आंटी के घर पहुंच चुके थे जहां मैंने सायरा को उनके कमरे में जाकर लिटा दिया और सलमा आंटी शमीना को लिए अंदर आ गई। मुनब्बर अंकल ने मुझे धन्यवाद दिया और सलमा आंटी ने भी बहुत सुंदर मुस्कान के साथ मुझे धन्यवाद करते हुए कहा बेटा तुम्हारा बहुत बहुत धन्यवाद, तुम बैठो मैं तुम्हारे लिए खाना बना लूँ, फिर खाना खाकर अपने घर जाना। मैंने कहा नहीं आंटी आप भी थकी हुई हैं, घर चलता हूँ अम्मी ने खाना बनाया हुआ है घर जाकर ही खाना खा लूँगा और यह कह कर मैं वहाँ से वापस अपने घर चला आया, और खाना खाने से पहले एक बार फिर शौचालय जाकर सलमा आंटी की गाण्ड और चूत को याद करके मुठ मार कर अपने लंड आराम पहुंचाया। उसके बाद अम्मी के हाथ का बना हुआ खाना खाया और सलमा आंटी को चोदने की योजना बनाता हुआ रात के पिछले पहर सो गया दोस्तो ये कहानी आप राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम पर पढ़ रहे हैं 

रात को सोते हुए तो मैंने सपने में खूब सलमा आंटी की चौदाई और सलमा आंटी ने भी मेरा लंड मुंह में डाल कर मुझे खूब मजे दिए, मगर उनके मज़ों नतीजा यह निकला कि आधी रात को ही आंख खुल गई, और आंख खुली क्योंकि सलमा आंटी के लंड चूसने के दौरान लंड को वीर्य छोड़ना था, जैसे ही सपना मे मेरे लंड ने सलमा आंटी के मुंह में शुक्राणु की धाराए बहाई तभी वास्तव में भी मेरे लंड ने वीर्य छोड़ दिया और मेरी सारी सलवार को खराब कर दिया। मजबूरन आधी रात को उठकर नहाना पड़ा और कपड़े बदलने पड़े, इसके बाद काफी देर सलमा आंटी की गाण्ड के बारे में ही सोचता रहा और नींद आंखों से कोसों दूर रही। फिर नींद आई तो ऐसी शुक्रवार का समय गुजर चुका था और दोपहर 3 के पास में बिस्तर से उठा। आम दिनों में ऐसी हरकत पर अम्मी जान से खूब डांट पड़ती थी मगर आज बचत हो गई थी क्योंकि वे जानती थीं कल का दिन यात्रा में गुज़रा है तो थकान हो गई होगी। 

अगले दिन फिर सामान्य जीवन शुरू हो गया, इस दौरान सलमा आंटी फोन के इंतजार करता रहा कि कभी तो वह अपने लिए फिर ब्रा मँगवाएँगी और तब फिर उनकी नरम नरम गाण्ड में अपना लंड फंसाकर खूब मजे करूंगा मगर यह इंतजार लंबा होता चला गया और काफी महीने बीत गए मगर सलमा आंटी का कोई फोन नहीं आया। अब तो मुझे लगने लगा था कि शायद मुल्तान से कबीर वाला तक का सफर भी मैंने सपने में ही किया था और सलमा आंटी ने मेरा लंड अपने चूतड़ों में फंसाकर भी मेरे सपने में मजे किए थे वास्तव में शायद ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था । मगर एक दिन फिर किस्मत की देवी मेहरबान हुई, मेरे फोन की घंटी बजी और नंबर सलमा आंटी का था, दिल के तार बजने के साथ लंड ने भी अंगड़ाइयाँ लेनी शुरू कर दीं और फिर उम्मीद के मुताबिक सलमा आंटी ने ब्रा घर लाने को कहा। मैंने एक बार फिर शुक्रवार का दिन ही चुना क्योंकि इस दिन छुट्टी होती थी दुकान से तो मैं आराम से सलमा आंटी के घर जा सकता था। उस दिन भी मैं फिर से 5, 6 सेक्सी ब्रा शापर में डालकर सुबह 10 बजे सलमा आंटी के घर जा पहुंचा। दिल में कितने ही अरमान थे कि आज तो सलमा आंटी की गाण्ड मेरे लंड से नहीं बच सकेगी, लेकिन तब मेरी सभी उम्मीदों पर पानी फिर गया जब मैं घर में दाखिल होकर देखा कि आज न केवल शमीना घर पर थी बल्कि जाग भी रही थी और सायरा भी वहीं थी। इन दोनों के होते हुए मेरा कुछ भी होने वाला नहीं था। वही हुआ, सलमा आंटी ने पानी पिलाया, और फिर शापर उठाकर मुझे वहीं इंतजार करने को कहा और सायरा और शमीना को मेरे पास बिठा कर अन्दर कमरे में चले गई, जबकि बाहर सोफे पर बैठा कुढता रहा। ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )

इस दौरान मैंने शमीना के शरीर का ध्यानपूर्वक अवलोकन किया लेकिन फिर सोचा कि नहीं अभी वह बहुत छोटी है। अभी तो उसके स्तन के उभार भी सही तरह से नहीं बने थे, लेकिन छोटे छोटे नुकीले निशान स्पष्ट हो रहे थे जिसमें उभार बढ़ना शुरू हो रहा था कि शमीना ने अभी-अभी जवानी की दहलीज पर कदम रखा है, और अब वह पूरी तरह से चुदाई के लिए सक्षम नहीं हुई। फिर शमीना से नजरें हटाकर में सायरा और शमीना दोनों को दिल ही दिल में कोसने लगा। कोई 15 मिनट बाद सलमा आंटी बाहर आई तो उन्होंने शापर मुझे वापस पकड़ा दिया जिसमें कुछ ब्रा मौजूद थे। साथ ही सलमा आंटी ने मुझे बताया कि उन्होंने 2 पीस रखे हैं और शमीना से पानी लाने को कहा, शमीना किचन में गई तो सलमा आंटी ने मुझे उनके ब्रा के बारे में बताया जो उन्होंने रखे थे, एक शुद्ध था और एक फोम वाला। फिर सलमा आंटी ने उनकी कीमत पूछी तो मैं बता दी, सलमा आंटी ने पैसे दे दिए तभी किचन से शमीना मीठा सिरप ले आई। मैंने बुझे हुए दिल के साथ 2 गिलास पानी पिया कि चलो अगर सलमा आंटी की गाण्ड नहीं मिली तो ठंडे पानी से अपनी मेहनत का प्रतिफल तो प्राप्त करें। पानी पीकर कुछ देर ज़बरदस्ती में बैठा रहा, लेकिन जब देखा कि अब सलमा आंटी मुझे ज्यादा लिफ्ट नहीं करवा रही तो मैंने वापस आने में ही अपनी भलाई समझी और और अपना शापर उठाकर वापस घर आ गया और सलमा आंटी की दोनों बेटियों को कोसने लगा। ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )

मगर कुछ हद तक मुझे सलमा आंटी पर भी आश्चर्य था कि उस दिन बस में तो खुद अपने हाथ से मेरा लंड पकड़कर उन्होंने अपने चूतड़ों में फंसाया था, फिर आखिर ऐसी क्या बात हुई कि उन्होंने कोई संकेत तक नहीं किया मुझे आज जिस तरह उन्होने व्यवहार किया उससे मेरा हौसला ही जाता रहा कि यह गाण्ड मुझे मिलनी वाली है। मगर किस्मत में ये गाण्ड अभी नहीं लिखी थी सो नहीं मिली। और जिंदगी एक बार फिर सामान्य हो गई। इस घटना के कारण सलमा आंटी की गाण्ड का भूत काफी हद तक मेरे मन से उतर चुका था मगर मेरे लंड को किसी की गाण्ड की खोज आज भी थी। दोस्तो मोहल्ले की एक लड़की से मेरी सेटिंग थी और मुझे जब ज़रूरत होती में किसी न किसी तरह से अकेले में मिलकर अपने लंड की प्यास बुझा लेता था, मगर न जाने क्यों जब से मैंने ब्रा बेचने शुरू किए थे, मेरा दिल करता था कि जो मुझसे ब्रा खरीद रही है उसी को चोद दूँ, उसके मम्मे दबाऊ, उनको मुंह में लेकर चुसूँ, उनके मुंह में अपना लंड डाल दूं। इसीलिए मेरी प्यास किसी तरह कम नहीं हो रही थी। 
-
Reply
06-09-2017, 12:50 PM,
#9
RE: ब्रा वाली दुकान
अब मुझे दुकान पर काम करते करीब 2 साल से अधिक का समय हो चुका था। और मेरा वेतन भी अब दस हजार तक पहुंच चुका था और बहुत अच्छा गुजारा हो रहा था। साथ ही मैंने अपनी नौकरी के 5 महीने बाद ही एक कमेटी भी डाल ली थी और इस कमेटी के अलावा भी पैसे जोड़ रहा था। अब मेरा अपनी दुकान बनाने का इरादा था। मेरे पास अब 2 लाख से अधिक की राशि मौजूद थी, कुछ अब्बा की पेंशन कुछ मेरी कमेटी और कुछ मेरी अपनी बचत जो हर महीने करता था वह मिल मिलाकर उतनी थी कि मैं एक छोटी दुकान को सामान से भर सकता था, मगर मुद्दा था दुकान लेने का। दुकान की पगड़ी ही इतनी थी कि आम आदमी तो दुकान बनाने की सोच भी नहीं सकता था इसलिए मैं किसी छोटी बाजार के बारे में सोच रहा था, जैसे शाह सदस्य मौलवी गुलशन बाजार या फिर गलगशत द्वारा गरदीज़ी बाजार। यह दोनों बाजार थीं तो छोटी मगर यहां जरा मॉर्डन लड़कियाँ खरीदारी के लिए आती थी। फिर एक दिन मेरी किस्मत जागी और फिर से वही लैला आंटी जिन्हें पहली बार मैने ब्रा बेचा था वह मेरी दुकान पर आईं तो बातों ही बातों में मेरी उनसे बात हुई कि मैं अपनी दुकान बनाने के बारे में सोच रहा हूँ, बस दुकान लेने की समस्या है। 

जिस समय यह बात हुई तब हाजी साहब दुकान पर मौजूद नहीं थे। मेरी बात सुनकर लैला मेडम ने पूछा कि कहां पर करेंगे दुकान? और कितने पैसे चाहिए होते हैं दुकान के लिए ?? तो मैंने मेडम को दोनों बाजारों के बारे में बता दिया और बताया कि माल लाने के लिए जो मेरे पास पैसे है इतनी ही राशि दुकान को भी चाहिए। तब मेडम मुझे कहा तुम मेरी बात मानो तो मैं तुम्हारी मुश्किल आसान कर सकती हूँ ... मेरे कान तुरंत खड़े हो गए और मैंने कहा जी मेडम बताओ ऐसी कौन सी बात है जो मानने पर आप मेरी मदद करेंगे ??? लैला मेडम ने कहा अगर तुम गुलशन बाजार या गरदीज़ी बाजार की बजाय शरीफ प्लाजा में दुकान बना लो तो मैं तुम्हारी मदद कर सकती हूँ ... शरीफ प्लाजा कचहरी के पास है जहां एक फ्लाईओवर भी गुजरता है। शरीफ प्लाजा नाम सुनकर हंसा और कहा मेडम मेरी इतनी सामर्थ्य कहां कि वहाँ दुकान बना सकूँ वहां तो बहुत बड़ी बड़ी और महंगी दुकानें हैं। लैला मेडम कहा वही तो मैं तुम्हें कह रही हूँ तुम वहाँ दुकान खोलना तो मैं तुम्हारी मदद कर सकती हूँ। अगर आप पूरी बात सुन लोगे तो शायद हम दोनों का काम आसान हो सके। ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )

मैंने कहा जी मेडम बताएं। उन्होंने कहा शरीफ प्लाजा में एक दुकान है जो मेरी अपनी है, वह हम ने किसी को किराए पर दी हुई थी, मगर फिर मेरे पति ने वहां अपना कारोबार बनाने का सोचा तो जिन्हें दुकान दी थी उन्होने दुकान खाली करने से इनकार कर दिया । काफी प्रयास के बावजूद भी जब वे दुकान खाली न हुई तो हम ने उन्हें न्यायिक नोटिस भिजवा दिया जिस पर उन्होंने मेरे पति को धमकी देना शुरू कर दिया मैंने अपने शोहर से कहा छोड़ो उस दुकान को अपना नोटिस वापस ले लो हम कोई और काम करेंगे उन गुण्डों से टक्कर लेने का कोई फायदा नहीं। मगर मेरे पति नही माने और उन्होंने कहा, हम किसी को इस तरह अपनी संपत्ति पर कब्जा करने नहीं देंगे। केस चला और अदालत ने हमारी पक्ष में फैसला दिया और पुलिस को कहा कि दुकान खाली करवाई जाए। पुलिस ने 2 दिन में ही दुकान तो खाली करवा दी मगर उन लोगों ने अपना गुस्सा निकालने के लिए कुछ गुण्डों को भेजा जिन्होंने मेरे पति को डराया और इतना प्रताड़ित किया कि वह पिछले 6 महीने से बिस्तर पर हैं और अभी कुछ और साल तक वह उठ कर बैठ नहीं सकेंगे उनकी कमर की हड्डी को काफी नुकसान पहुंचा है। वैसे तो हमें पैसे की कमी नहीं, ज़मीन से काफी पैसा आ जाता है मगर वह दुकान खाली नहीं रखना चाह रही, क्या पता उधर फिर कोई कब्जा कर ले खाली दुकान देखकर। 

वो दुकान तुम्हें किराए पर दे सकती हूँ, तुम वहाँ अपना काम करो, तुम मुझे शरीफ इंसान लगते हैं, हमारा अनुबंध होगा कि 5 साल से पहले हम तुम्हें दुकान खाली करने के लिए नहीं कहेंगे। उसके बाद अगर दुकान खाली करवानी हुई तो हम तुम्हें 3 महीने पहले बता देंगे ताकि आप अपनी व्यवस्था कर सको। लैला मेडम शांत हुईं तो मेरे जवाब का इंतजार करने लगीं। मैंने कुछ सोचते हुए कहा वह तो ठीक है मेडम मगर जितना किराया हैं शरीफ प्लाजा का में वह कैसे दूंगा ??? और फिर दुकान की पगड़ी भी होती है जो शरीफ प्लाजा में 5 लाख से कम नहीं। मेडम ने कहा उसकी तुम चिंता मत करो, हमे अभी में पैसे नहीं चाहिए, बस दुकान पर कोई काम होना चाहिए ताकि खाली दुकान देखकर उस पर कोई कब्जा न करे। पगड़ी तुम मत देना और दुकान किराया 15 हजार होगा मगर वह भी पहले 6 महीने आप कोई किराया मत देना। जब तुम्हारा काम चल पड़ेगा तो 6 महीने बाद आप 15 हज़ारा मासिक के हिसाब से किराया देते रहना। और दुकान का जो भी काम करवाना हो वह हम तुम्हें करवा देंगे। काफी देर सोचता रहा और फिर मेडम से पूछा मगर मेडम आप मुझ पर ही क्यों इतना ऐतबार कर रही हैं? हो सकता है मैं भी आपकी दुकान पर कब्जा कर लूँ। इस पर लैला मेडम मुस्कुराई और बोली तुम मेहनत करने वाले लड़के हो, नौकरी करते हो यहाँ, 8 से 10 हजार तुम्हारी वेतन होगी तुम हम लोगों से पंगा नहीं ले सकते। जिन्हें पहले दुकान दी थी वह बड़ी पार्टी थी और उनका राजनीतिक लोगों से संबंध था जिसकी वजह से हमें मुश्किल हुई। तुम जैसे शरीफ़ आदमी से हमें कोई खतरा नहीं। 

मैंने कहा ठीक है मेडम में आपको सोचकर बताउन्गा, तो मुझे दुकान बता दें कि मैं जाकर देख सकूं, उसके बाद घर वालों से परामर्श करके आपको बता दूँगा कि मेरा क्या कार्यक्रम है। मेडम ने मुझे अपना मोबाइल नंबर दिया और घर का पता बता दिया कि यहां आकर तुम दुकान की चाबी ले जाना ताकि दुकान देख सको और फिर सलाह करके मुझे बता देना। मैंने कहा ठीक है और उनका नंबर और पता मोबाइल में सेव किया और 8 बजे हाजी साहब से छुट्टी लेकर जल्दी जल्दी घर पहुंचा और अम्मी से इस बारे में बात की, अम्मी ने लैला मेडम को ढेरों आशीर्वाद दिए और कहा बेटा तुम्हें वह दुकान ले लेनी चाहिए इसमें तुम्हारा भी लाभ है ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम ) और तुम्हारी लैला आंटी की भी सहायता हो जाएगी। लेकिन अपने मुनब्बर अंकल से भी परामर्श कर लेना। फिर मैंने अम्मी से अपनी परेशानी व्यक्त करते हुए उन्हें बताया कि अम्मी वहां पर काम करने के लिए मेरे पास पैसे अभी भी कम हैं वहाँ कम से कम इतने ही पैसे और चाहिए होंगे क्योंकि सब कुछ अच्छी गुणवत्ता का सामान रखना होगा यह सुनकर अम्मी ने कुछ देर सोचा और फिर उठ कर अपने कमरे में गई और एक छोटी सी पोटली मेरे सामने रख दी और कहा बेटा यह मेरा छोटा सा गहना है जो मैंने मिनी के लिए रखा था कि जब उसकी शादी होगी तो दहेज बनाने के काम आएगा। मगर अब तुम अपना काम शुरू करने जा रहे हो तो इसका उपयोग करो। 

मैंने मना कर दिया कि नहीं अम्मी यह आप मिनी के लिए ही रखें मेरी कोई न कोई व्यवस्था हो जाएगी में बैंक से लोन ले लूँगा। अम्मी ने सख्ती से मना कर दिया कि नहीं बेटा ब्याज पर काम करना अच्छा नहीं, बैंक तो ब्याज लेगा और जो काम ब्याज से शुरू किया जाय उसमें बरकत नहीं होती। ये गहना हमारा अपना है, इसमे तुम्हारा भी हिस्सा है और तुम्हारे भाई बहनों का भी है। उसे अपने भाई और बहनों की अमानत समझकर इस्तेमाल करो, जब तुम्हारा काम चल पड़े तो पैसे जोड़ते रहना, मिनी के बड़े होने तक तुम्हारे पास इतने पैसे जमा हो जाएंगे कि तुम फिर से इतना जेवर बनवा कर सको। मैंने कुछ देर सोचा और फिर अम्मी से वह गहने ले लिया। अगले दिन मैंने हाजी साहब को जाकर अपने इरादे के बारे में बताया तो वे थोड़े परेशान हो गए क्योंकि उनकी दुकान इस समय मेरे सिर पर चल रही थी। उनका मुझ पर एहसान था इसलिए मैंने उन्हें पहले बता देना उचित समझा कि वे तब तक किसी और लड़के की व्यवस्था कर सकें, हाजी साहब ने मुझे मना तो नहीं किया मगर मुझे यह जरूर कहा कि बेटा कम से कम आप 2 महीने तक मेरे पास ही काम करो और अपनी जगह कोई अपने विश्वास वाला लड़का भी लेकर आओ जिसको तुम्हे खुद ही प्रशिक्षण भी देना होगा। उसके बाद तुम अपना काम भगवान का नाम लेकर शुरू करना ऊपर वाला आशीर्वाद देगा 

मैंने हाजी साहब को आश्वासन दिया कि यहां से रवाना होने से पहले अपनी जगह उन्हें कोई अच्छा लड़का दे दूँगा जो उनकी दुकान संभाल सके और फिर उस दिन की छुट्टी लेकर मेडम के दिए हुए पते पर चाबी लेने पहुंच गया। उनके घर के सामने जाकर मैंने मेडम के नंबर पर कॉल की तो उन्होंने चौकीदार को गेट खोलकर मुझे अंदर बुलवा लिया। यह एक आलीशान घर था, देखने से ही रहने वालों के ठाट-बाट का अनुमान हो रहा था। बड़े हॉल में चौकीदार ने मुझे बिठा दिया जहां 2 मिनट बाद ही लैला मेडम आईं और मुझे अंदर अपने बेड रूम में ले गई। बेडरूम में टीवी चल रहा था, अंदर गया तो सामने बेड पर एक व्यक्ति लेटा हुआ था, जबकि उसके साथ मेडम का छोटा बेटा खेल रहा था, मैं समझ गया कि यह मेडम पति होगा। मैंने उन्हें सलाम किया तो मेडम ने अपने पति को बताया कि सलमान है जिसके बारे में आपको बताया था। ये दुकान की चाबी लेने आया है। मेडम के पति ने कुछ देर मुझसे बातचीत की और मेरे से कुछ मेरे बारे में प्रश्न किए जैसे मैं कौन हूँ, कहाँ आवास है, पिताजी क्या करते हैं, घर में पिताजी के जाने के बाद किसने जिम्मेदारी ली आदि आदि। उनकी बातों से मैं समझ गया था कि वह जोखिम नहीं लेना चाह रहे और मेरे बारे मे पूरी तसल्ली करना चाह रहे हैं। 

कुछ देर की पूछताछ के बाद उन्होंने कहा लैला इसे चाबी दे दो, बल्कि ऐसा करो खुद साथ जाओ और उसे दुकान दिखाना है, और वहाँ जो कुछ काम करवाना है वह खुद समझ लेना हम जल्द ही वहां मिस्त्री लगवा कर काम करवा देंगे। लैला मेडम ने कहा ठीक है साथ चली जाती हूँ। फिर मेडम बाहर आईं और उन्होंने मेरे से पूछा किस पर बैठ कर आए हो तो मैं उन्हें बताया कि रिक्शा पर आया, तो मेडम ने पूछा गाड़ी चला लेते हो ??? मैं इनकार में सिर हिलाया तो मेडम ने खुद एक गाड़ी चाबी उठाई और मुझे लेकर बाहर आ गई जहां एक होंडा सिविक और एक छोटी सुजुकी कलटस खड़ी थी। मेडम ने कलटस का दरवाजा खोला और ड्राइविंग सीट पर बैठ गईं, मैंने पिछला दरवाजा खोला और बैठने लगा तो मेडम ने मुड़ कर मेरी तरफ देखा और बोलीं आगे आकर बैठ जाओ।

मैंने दरवाजा बंद किया और अगली सीट पर बैठ गया। कुछ ही देर बाद मेडम ने शरीफ प्लाजा में पहुँच कर गाड़ी रोक दी। शरीफ प्लाजा में प्रवेश करते ही सीधे हाथ पर यह आखिरी दुकान थी जो महत्वपूर्ण थी। बाहर एक कैंची गेट था और एक शटर लगा हुआ था। अंदर काफी काठ कबाड़ पड़ा था जो दुकान छोड़ने वालों का था। दुकान शुरू से करीब 12 फुट चौड़ी थी जो आगे तक इसी चौड़ाई थी मगर करीब 20 फीट आगे जाकर एक दम से 20 फुट चौड़ी हो गई थी। यानी फ्रंट पर एक ही दुकान थी जबकि दुकान के भीतरी भाग में दुकान चौड़ाई के आधार पर करीब 2 दुकानों के बराबर थी और भाग करीब 8 फुट लंबा था। 

दुकान मुझे खासी पसंद आई और मैंने अनुमान लगा लिया था कि इस दुकान को भरने के लिए कम से कम भी 7 से 8 लाख रुपये चाहिए होंगे। मैंने मेडम को यह बात कही तो उन्होंने कहा, तुम चिंता मत करो हम दुकान ऐसी करवा देंगे कि आप कम समान मे भी दुकान भर सकते हो, और जैसे ही आप के पास ज्यादा पैसे आएंगे तुम इसी सेटिंग से अनावश्यक अलमारी हटा कर उपकरणों के लिए जगह ले जा सकते हो। बस तुम यह बताओ तुम यहाँ दुकान बनाना पसंद करोगे या नहीं? मैंने कहा जरूर मेडम, भला इतनी अच्छी दुकान कौन छोड़ सकता है, तो आपका बड़ा आभारी रहूँगा आपने मुझे यह जगह डी काम शुरू करने के लिये। लैला मेडम मुस्कुराई और बोली बस तुम यहाँ काम शुरू कर दो तो हम भी तुम्हारे आभारी होंगे। मैंने आंटी को कहा बस में अंतिम बार अपने एक चाचा से परामर्श कर लूँ, मगर वह भी औपचारिक ही होगा मुझे यकीन है वह मना नहीं करेंगे आप मेरी ओर से 90 प्रतिशत हां ही समझें। फिर कुछ मैंने मेडम को समझाया कि मुझे कैसी सेटिंग चाहिए और कुछ मेडम ने मुझे सलाह दी, उनके सुझावों से लग रहा था जैसे वह काफी समझदार महिला हैं। उनका कोई सलाह नहीं था जो मुझे अनावश्यक लगा हो, मेडम ने अपनी कार से एक बड़ा कागज और पेंसिल भी निकाल ली थी जिससे वह हमारी होने वाली बातचीत के बारे में लिख रही थीं कि दुकान को कैसे सेट करना है। 

हम करीब आधा घंटा दुकान में रुके और आवश्यक बातचीत करने के बाद फिर से कार में बैठ कर केंट की ओर चल दिए। मैंने मेडम से पूछा कि मेडम यह हम कहाँ जा रहे हैं ?? तो उन्होंने कहा केंट में कुछ अच्छी दुकानें हैं जो अंडर गारमेंट्स ही बेचती हैं, आप इन दुकानों की आंतरिक सेटिंग देख लो ताकि तुम्हें पता रहे कि कितना माल लाना है और कैसा माल लाना है। कुछ ही देर में केंट की एक छोटी मगर अच्छी दुकान पर मौजूद थे, लैला मेडम मुझे अंदर लेकर गईं और कहा तुम ध्यानपूर्वक देख लेना दुकान। दुकान में गए तो लैला मेडम ने दुकानदार से बातचीत शुरू कर दिया और आभूषण देखनी शुरू कर दी, जबकि मैंने दुकान पर गहरी नजर डाली और उनकी सेटिंग देखी तो यह वास्तव में एक अच्छी दुकान थी जिन्होंने कम समान होने के बावजूद इस तरह रखा हुआ था कि दुकान भरी हुई लग रही थी। एक साइड पर प्लास्टिक स्त्री ढांचे यानी स्टेचू भी पड़े थे जिन पर महिलाओं की नाइटी पहना कर प्रदर्शन किया गया था ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम ), 3 से 4 पुतलो ने दुकान का बड़ा हिस्सा भर दिया था और आगे एक कोठरी में महिला के सीने की संरचनाओं के स्टेचू मौजूद थे जिन पर ब्रा ऐसे लटकाए गए थे जैसे कोई औरत पहन कर खड़ी हो। यह भी एक अच्छी बात थी कि महिलाओं को पता हो जाता था कि यह ब्रा उनके बदन पर कैसा लगेगा। 

कुछ देर बाद हम इस दुकान से निकल आए और ऐसी ही 2, 3 और दुकानों पर गए, हर जगह लगभग ऐसी ही बातें पड़ी थीं और एक जैसी ही सेटिंग थी बस छोटी मोटी बातों का अंतर था। यहाँ से हम करीब शाम 5 बजे फ्री हुए मेडम ने कहा चलो मैं तुम्हें तुम्हारे घर छोड़ आऊँ, मैंने शर्मिंदा होते हुए कहा नही मेडम आप घर जाएं आपके पति अकेले हैं खुद चला जाऊंगा। मेडम ने कहा उनकी चिंता तुम मत करो घर नर्स मौजूद है जो उनकी देखभाल करती है, और तुम्हें तुम्हारे घर छोड़ने का उद्देश्य तुम्हारा घर देखना और तुम्हारी माँ से मिलना है। इस पर मैंने कहा ठीक है मेडम और साथ ही अपने मोबाइल से अपनी पड़ोसी जो अक्सर ही मेरे लंड के नीचे होती थी उसको मैसेज कर दिया कि अभी मेरे घर जाकर अम्मी को मेडम के आने की सूचना दे ताकि वे मेडम के लिए व्यवस्था कर सकें। 20 मिनट के बाद हम घर पहुंचे और जैसी उम्मीद थी अम्मी ने थोड़े से समय में ही चाय भी रख दी थी और साथ ही मौजूद बेकरी से अच्छी गुणवत्ता वाले बिस्कुट, फ्रूट केक और सैंडविच आदि मंगवा लिया था। मैं अम्मी से मेडम परिचय करवाया तो अम्मी ने मेडम के सिर पर प्यार दिया और उनको बहुत बहुत आशीर्वाद दिया। मेडम करीब आधा घंटा मेरे घर बैठी रहीं, वह मेरी छोटी बहनों से भी मिलीं और उन्हें अपने पर्स से 500 के नोट निकाल कर दिए, मैंने मेडम को बहुत मना किया लेकिन उन्होंने जबरन मेरी तीनों छोटी बहनों को 500, 500 का एक नोट थमा दिया। इस दौरान मेरी अम्मी ने मेडम से आभूषण की भी बात की तो मेडम ने कहा आप मुझे जेवर दिखा दें और बेचने की बजाय मेरे पास रखवा दें, मैं उसकी कीमत के अनुसार सलमान पैसे दे दूंगी। क्योंकि अगर यह बाजार मे बेच देगा तो सोने की काट में काफी पैसे कम हो जाएंगे। ऊपर सोना मेरे पास गिरवी रख कर उसके बदले पैसे ले ले, और जब आपके पास पैसे आ फिर से तो मुझे पैसे देकर मेरे से अपनी अमानत वापस ले सकते हैं। 

अम्मी और मैंने एक मत होकर मेडम के इस ऑफर को स्वीकार कर लिया। मुझे काफी आश्चर्य हो रहा था कि मेडम मुझ पर इतनी मेहरबान क्यों हो रही हैं, मन में कुछ विचार भी आया कि कहीं मेडम बाद में मुझे कोई अवैध काम करवाने की कोशिश नहीं करेंगी , मगर जल्द ही मैंने इस विचार को अपने मन से झटक दिया और सकारात्मक सोचने लगा कि इस दुनिया में आज भी ऐसे लोग हैं जो गरीबों की हर संभव मदद करने को तैयार हैं। और आज भी इस बात पर कायम हूं कि मेडम ने बिना किसी लालच के मेरी मदद की, और आज मैं जो कुछ हूं अपनी लैला मेडम की मेहरबानियों की वजह से ही हूं।( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम ) अगले ही दिन मुनब्बर अंकल को मैंने न केवल दुकान दिखा दी थी बल्कि उनसे सलाह भी ले लिया था और उन्होंने कहा था कि बेफिक्र होकर शुरू करो काम। यह समस्या भी हल हो गया था अब। संक्षेप में मैं कुछ दिनों में ही अपने एक दोस्त जो मेरे मोहल्ले का ही था हाजी साहब के पास काम करने के लिए बुला लिया, उसे भी नौकरी की जरूरत थी, मैं दिन-रात एक करके हाजी साहब की दुकान पर अंतिम दो महीने बिताए और इस दौरान अपने दोस्त को सारा काम अच्छी तरह सिखा दिया और हाजी साहब भी इससे खुश थे क्योंकि वह पहले भी एक कपड़ों वाली दुकान पर काम कर चुका था इसलिए यहां भी वह बहुत जल्दी सीख गया था। इस दो महीने के दौरान पूरे दिन में हाजी साहब की दुकान पर काम करता और शाम को छुट्टी के बाद शरीफ प्लाजा जाकर वहां होने वाले काम की निगरानी करता, लैला मेडम ने अपने दो आदमी भी वहां पर रखे हुए थे जिनकी निगरानी में दुकान काम हो रहा था। 
-
Reply
06-09-2017, 12:50 PM,
#10
RE: ब्रा वाली दुकान
फिर इसी दौरान कराची गया और वहां से सस्ते दामों मेंअच्छी गुणवत्ता वाले, पेंट नाईटीज़, नाइट गाउन लीग स्टाकनग आदि खरीद लाया और मुल्तान से ही एक स्थानीय दुकान से कुछ गहने और सौंदर्य प्रसाधन का सामान खरीद लिया। दुकान मे नाइट डिस्ले गह लगाने को भी स्टेचू मुझे मुल्तान से ही मिल गए। लैला मेडम ने दुकान का शटर उतरवा कर एक ब्लैक शीशा लगवा दिया था फ्रंट और उसके सामने वही कैंची गेट मौजूद था, जबकि दुकान के अंदर सुरक्षा के लिए कैमराज़ भी लगाए गए थे और एक छोटा ट्राई रूम भी था। ट्राई रूम दुकान के अगले भाग में था जिसकी चौड़ाई 20 फुट थी और सामने से नजर नहीं आता था सीधे हाथ पर 3, 4 कदम चलकर छोटा केबिन बनाकर उसे ट्राई रूम का नाम दिया गया था। दुकान के प्रवेश द्वार पर ही एक स्टेचू रख दिया गया था जिस पर एक देवी को नाइट गाऊन पहनाया गया था ताकि बाहर से देखकर महिलाओं को अनुमान हो सके कि उस दुकान पर उनके अंडर गारमेंट्स उपलब्ध होंगे, जबकि 3 स्टेचू अंदर रखे गए थे जिनमें एक पर लाल नेट वाली नाइटी, दूसरे पर एक वायर्ड हरी नाइटी और तीसरे स्टेचू पर एक अरबी शैली का सेक्सी ड्रेस पहनाया गया था। दुकान का उद्घाटन तो नहीं किया गया लेकिन यहाँ पर मेरी पहली ग्राहक लैला मेडम ही थीं जिन्होंने मुझ से एक सेक्सी निघट्य खरीदी जिसकी कीमत 2000 रुपए थी और एक ब्रा और पैन्टी का 1500 रुपये का सेट खरीदा। पहले ही दिन मुझे काफी अच्छा रिस्पांस मिला और मैंने काफी कमाई कर ली थी। अच्छे घरों की मॉर्डन लड़कियों आंटी, स्कूल कॉलेज की किशोर लड़कियां मेरी ग्राहक थीं। पहले सप्ताह में ही इतना प्रॉफ़िट कमा चुका था जितना मुझे हाजी साहब से वेतन मिलता था। 

अम्मी की दुआओं धन्यवाद और लैला मेडम की मेहरबानी से काम अच्छा चल पड़ा था और मुझे उम्मीद थी कि लैला मेडम के दिए गए 6 महीने में कमाए गए प्रॉफ़िट से दुकान पूरी तरह से भर लूँगा और दुकान का किराया भी आसानी से निकल जाया करेगा। यहां एक बात बताता चलूं कि मैंने लैला मैम को बताए बिना ट्राई रूम में भी एक कैमरा लगवा लिया था। ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )इस कैमरे का कतई यह मतलब नहीं था कि मुझे लड़कियों को ब्रा पहनते हुए नंगा देखना है, बल्कि उसका उद्देश्य यह था कि अगर कोई लड़का और लड़की, या फिर दो लड़कियाँ ट्राई रूम में जाती हैं तो वह वहाँ गलत हरकतें न कर सकें मेरे बैठने की जगह पर काउन्टर के अंदर ही एक कंप्यूटर स्क्रीन थी जिस पर दुकान में मौजूद 4 कैमरों की वीडियो आती थी। दोपहर 2 बजे बाहर काले शीशे पर दुकान बंद है का साइन बोर्ड लगा देता था और 2 बजे से लेकर 4 बजे तक रेस्ट करता खाना ख़ाता और रात 11 से 12 बजे तक दुकान खुली रहती थी। 

सुबह 11 बजे शरीफ प्लाजा में दुकानें खुलना शुरू होती थीं, मैं भी 11 बजे से कुछ पहले ही आकर दुकान खोल लेता था। एक दिन जब मैं एक आंटी को उनकी पसंद का ब्रा दिखा रहा था तो दुकान में 3 युवा लड़कियाँ दाख़िल हुईं और मेरे फ्री होने का इंतजार करने लगीं। आंटी को ब्रा दिखाते हुए मैंने उनसे भी पूछा मिस आपको क्या चाहिए ??? उनमें से एक लड़की जो काफी तेज लग रही थी वो बोली पहले आंटी को फ्री कर लें तो फिर बताते हैं कि क्या चाहिए। मैं फिर से आंटी को ब्रा दिखाने में व्यस्त हो गया और वह कुछ ही देर में ब्रा पसंदीदा करके चली गईं। अब मैं उन लड़कियों के लिए उनके पास गया और उनका सरसरी नज़र से देखा ये कॉलेज की लड़कियां थीं। कचहरी चौक जो शरीफ प्लाजा के बिल्कुल करीब था वहीं लड़कियों के 2 कॉलेज थे शायद वहीं से ये लड़कियां आई थीं। इन तीनों की उम्र 18 या 19 के लगभग रही होगी, लेकिन उनके सीने देखने लायक थे कि आदमी एक बार नज़र डाल ले तो नज़रें हटाना मुश्किल हो जाए। इन लड़कियों में से एक लड़की खासी चिप चिप थी और उसने सिर पर चादर ली हुई थी, बाकी शेष 2 लड़कियों के सिर पर या गले में कोई चादर नहीं थी, बस एक दुपट्टा था जो गले में डाला हुआ था और उनके कॉलेज वर्दी की फिटिंग से उनके मम्मे स्पष्ट नजर आ रहे थे। यह शायद बीए की छात्राएँ थीं। 

तीनों लड़कियों की समीक्षा के बाद मैंने उनसे पूछा जी मिस क्या चाहिए आपको? उनमें से वही लड़की जिसने पहले कहा था वो बोली मुझे कोई अच्छा सा ब्रा दिखा दें इपोर्टेड 

मैंने उसके सीने पर नजर डालते हुए पूछा मिस आपका आकार ??? लड़की ने कहा 36 नंबर में दिखा दो। मैंने पूछा मिस कॉटन या फोम वाला ??? उसने कहा फोम वाला दिखाओ। यह सुनकर चादर वाली लड़की जो अब तक चुप थी वह हल्की सी आवाज में बोली नीलोफर अपने पास पहले ही इतने पड़े हैं फोम वाला ले क्या करोगी ??? इससे मुझे इतना तो पता लगा कि इस तेज तर्रार लड़की का नाम नीलोफर है और मम्मों का आकार तो उसने खुद ही बता दिया था 36 का अच्छा आकार। मैं इसे एक पॉइंट जहां मैंने लड़कियों के सीने के प्लास्टिक के स्टेचू रखे हुए थे। ये स्टेचू मेरे सामने यानी ग्राहकों की एक साइड पर बनी एक कोठरी में थे। मैंने नीलोफर को कहा मिस आप अपने पीछे यह शैली देख लें फोम वाले ब्रा की और मुझे शैली बता दें में और भी कलर आपको दिखा दूंगा। 

नीलोफर दूसरी ओर मुड़ी और अलमारी के पास होकर ब्रा देखने लगी, साथ ही उसकी दूसरी दोस्त भी उसके साथ ब्रा देखने लगी जबकि चादर वाली लड़की वहीं पर खड़ी रही। नीलोफर ने मुंह दूसरी तरफ किया तो मेरी नज़रें तो नीलोफर की गाण्ड में ही जम गईं। क्या गांड थी उसकी, गाण्ड का तो वैसे ही दीवाना था मैने अनुमान लगा लिया था कि उसकी गाण्ड 34 आकार की है जबकि उसकी दूसरी दोस्त गाण्ड भी थी तो मस्त, मगर इससे थोड़ी सी छोटी 32 आकार की थी। ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )कुछ देर ब्रा देखने के बाद नीलोफर वापस मुड़ी और उसने एक शैली की ओर इशारा करते हुए कहा इस शैली में दिखा दें ब्रा। यह एक काले रंग का फोम वाला ब्रा था, उसके कप्स के ऊपर कपड़े से ही 3 प्लेट्स बनी हुई थीं। और दोनों कप्स के बीच में एक छोटा सा गोल्डन कलर का नगीना लगा हुआ था। मैंने अपने पास मौजूद स्टॉक में वही ब्रा काले, लाल और नीले रंग में निकाल कर दिखा दिए नीलोफर ने मेरे हाथ से ब्रा पकड़ा तो मेरा हाथ नीलोफर की नरम और नाजुक हाथों की उंगलियों को छू गया जिसका स्पर्श बहुत ग्लैमरस था। शायद उसकी जवानी का ही असर था कि उसकी उंगलियों को छूते ही मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया था। नीलोफर ने ब्रा पकड़ा और उसका डिजाइन देखने लगी,


उसने ब्रा के कप को अपनी नाजुक उंगलियों से दबाकर उसकी मोटाई का अनुमान लिया और फिर खुश होते हुए अपने साथ खड़ी दूसरी लड़की से बोली शाज़िया देख यार, ब्रा तो कमाल का है। उसका नाम भी मुझे मालूम हो गया था, और देखने में उसका ब्रा आकार भी 36 ही लग रहा था। शाज़िया ने भी ब्रा हाथ में पकड़ कर देखा और बोली हां अच्छा है। फिर उन्होंने तीनों कलर को देखा और उनमें से पसंद करने लगीं। नीलोफर ने चादर वाली लड़की को बुलाया और कहा राफिया देखो यार कौन सा कलर लूँ? चादर वाली लड़की जिसका नाम राफिया था उसने तीनों कलर देखे मगर उनको हाथ लगाए बिना बोली तुम्हारी इच्छा जो इच्छा लो तीनों ही अच्छे हैं। फिर नीलोफर शाज़िया की ओर मुड़ी और बोली तुम बताओ कौन सा कलर लूँ। शाज़िया ने कहा ब्लैक और लाल में देख लो कोई सा। 

नीलोफर ने अब नीले रंग का ब्रा रख दिया और काले और लाल को देखने लगी तो मैंने उसे कहा मिस ब्लैक अधिक सूट करेगा ब्लैक ले, नीलोफर ने मेरी ओर आँख उठाकर देखा, मुझे लगा कि मेरे इस साहस पर अब वह मुझे 2, 3 मीठी मीठी गालियां देगी, मगर उसने आराम से कहा मेरा भी ब्लैक का ही मूड बन रहा है लेकिन यह कलर पहले भी है मेरे पास। मैंने पूछा पहले जो ब्लैक कलर है वह भी फोम वाला ही है ??? तो नीलोफर ने कहा नहीं वो तो कपास का है गंदा सा, माँ ने लाकर दिया था जरा भी कंफर्ट नहीं है। मैंने कहा अगर वह कंफर्ट नहीं तो जाहिर बात है वो तो अब नहीं पहनेंगी इस ब्लैक कलर में ले, और ये बहुत सुंदर है, वैसे भी आपका रंग काफी साफ है तो इस पर ब्लैक अच्छा लगेगा। मेरी इस बात पर राफिया मुझे खा जाने वाली नज़रों से देखा मगर नीलोफर ने ऐसी कोई अभिव्यक्ति नहीं दी और बोली चलो ठीक है। फिर नीलोफर ने शाज़िया को कहा तुम भी ले लो कोई ब्रा। इस पर शाज़िया ने कहा मेरे लिए भी दिखा दें, लेकिन नेट में दिखना फोम वाला नहीं। मैंने शाज़िया से उसका ब्रा नहीं पूछा तो उसने भी मेरे अनुमान के विपरीत 34 डी आकार बताया। 34 डी सुनकर मेरे दिल में शाज़िया के मम्मे देखने की इच्छा पैदा हुई। 34 डी का मतलब था कि शाज़िया की कमर नीलोफर की कमर से थोड़ी कम थी उसका बैंड 34 का था मगर उसका कप आकार बड़ा था। यानी शाज़िया के मम्मों का आकार नीलोफर के मम्मों से बड़ा था। कमीज के ऊपर से देखने में दोनों का आकार बराबर था लेकिन अगर मैं शाज़िया को भी 36 का आकार देता तो वह उसके मम्मों पर तो फिट आ जाता मगर उसकी कमर के आसपास ब्रा की पकड़ कमजोर रहती। 

ब्रा निकालने के लिए जैसे ही मैं मुड़ा तो शाज़िया की आवाज आई 36 ना दिखाएगा, 34 डी ही दिखाएँ 36 मुझे ढीली होगी। मैंने कहा मिस आप बेफिक्र हो जाएं जो आकार आपने बताया है वही दिखाऊंगा और अच्छी फिटिंग होगी उसकी। यह कह कर जब मैंने एक सफेद रंग का नेट का ब्रा निकाला जिस पर लाल और सफेद रंग के छोटे फूल बने हुए थे, एक काले रंग का ब्रा निकाला और एक स्किन कलर का कॉटन का ब्रा निकाल दिया। शाजिया ने सफेद रंग का ब्रा देखा जो उसे बहुत पसंद आया और उसके बाद उसने स्किन कलर का भी ब्रा देखा। दोनों को ध्यानपूर्वक देखने के बाद शाजिया ने सफेद रंग का ब्रा पसंद कर लिया और मेरे से पैसे पूछे, मैं ने दोनों के अलग पैसे बताए तो नीलोफर ने कंधे पर झूलता हुआ बैग खोला और उसमें से पैसे निकालने लगी, मैंने इस दौरान राफिया से पूछा मिस आपको भी दिखाऊ कोई ब्रा ??? मेरी बात पर राफिया ने मुंह दूसरी तरफ कर लिया और हल्की आवाज में बोली नहीं मुझे नहीं चाहिए। नीलोफर ने दोनों ब्रा का भुगतान किया और फिर मुझसे पूछा अगर आकार ठीक न लगे तो बदल तो जाएगा ना ??? मैंने कहा मिस ट्राई रूम मौजूद है आप ट्राई करना चाहें तो कर सकते हैं। नीलोफर ने शाजिया को देखा जैसे यह पूछना चाह रही हो कि ट्राई किया जाए या नहीं ??? शाजिया ने अपने कंधे उचकाये और बोली देख लो इच्छा है तुम्हारी में तो नहीं करूंगी, तो नीलोफर ने राफिया को देखा उसने सख्ती से मना कर दिया। मैं समझ गया कि ये यहाँ ट्राई नहीं करना चाह रही, तो मैं नीलोफर को कहा आप बेफिक्र हो जाएं अगर आकार ठीक न हुआ तो आप बदली भी करवा सकती हैं मगर ब्रा खराब नहीं होना चाहिए बस एक बार पहन कर देखें अगर सही न लगे तो तुरंत उतार दें और कल मुझे वापस कर के कोई और ले जाएं। इस पर नीलोफर संतुष्ट हो गई और तीनो लड़कियाँ दुकान से चली गईं। 

उनके जाने के बाद और भी महिलाए और लड़कियाँ ब्रा देखने आईं मगर मेरे मन में बार बार शाजिया के मम्मे देखने की तड़प थी, जबकि मेरा दिल राफिया के मासूम रूप को भी बार बार याद कर रहा था। वह लड़की बिल्कुल कुछ नहीं बोली थी और काफी अंतर्मुखी थी। उसकी आकृति बार बार मेरी आँखों में आ रही थी। रात को दुकान बंद करने से पहले एक बार मैंने अपने कंप्यूटर पर दोपहर के समय का वीडियो निकालकर वीडियो का वह हिस्सा देखा जहां यह तीनो लड़कियां अपने लिए ब्रा खरीद रही थीं। एक कैमरा उनके ठीक सामने लगा हुआ था जिसमें राफिया और नीलोफर काफी स्पष्ट दिख रही थी जबकि शाजिया तो नज़र नहीं आ रही थी( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम ) मगर उसके 34 डी मम्मे कैमरे में स्पष्ट थे। काफी देर तक राफिया को देखता रहा और 2 से 3 बार वीडियो देखने के बाद मैंने दुकान बंद की और घर वापस आ गया। रात भर मेरी सोच में कभी राफिया की मासूमियत घूमती रही तो कभी शाज़िया मम्मे। अगले दिन दुकान पर गया तो दुकान खोलने के थोड़ी देर बाद ही तीनों लड़कियां फिर से मेरी दुकान पर आ धमकी राफिया ने कल की तरह ही चादर ले रखी थी जबकि नीलोफर और शाज़िया के गले में महज दुपट्टा ही था। 

उनको देखकर मैंने एक मुस्कान से उनका स्वागत किया तो शाजिया ने कहा भाई यह नीलोफर का ब्रा तो ठीक था मगर मेरे ब्रा की थोड़ा फिटिंग सही नहीं कोई और दिखा सकते हैं ?? मैंने पूछा कि पहनने में जहां समस्या है बैंड छोटा है क्या? शाजिया कहा नहीं बैंड तो ठीक है मगर उसके कप एक समस्या कर रहे हैं, फिटिंग ठीक नहीं है उनकी। मैंने ब्रा पकड़ा और कहा आपने उसकी फिटिंग स्ट्रिप सेटिंग बदल कर चेक किया तो शाजिया कहा नहीं वो तो नहीं किया। मैंने पूछा कि फिटिंग सही न होने से आपका यही मतलब है न कि आपके बूब्स थोड़े लुढ़के हुए हैं इसमें ??? तो शाजिया ने थोड़ा शरमाते हुए और दबे होंठ मुस्कुराते हुए कहा हां यही मतलब है। मैंने ब्रा स्ट्रिप को सेट किया जो कंधे के पीछे मौजूद होती है। और शाज़िया को कहा अभी पहन कर देख लें अब यह सही रहेंगे शाज़िया ने कहा ठीक न हुआ तो मुझे फिर से आना होगा ??? मैंने कहा मिस मैंने आपको कल भी बताया था ट्राई रूम मौजूद है। आप बेफिक्र होकर ट्राई करें, मेरी और ग्राहक भी ट्राई कर ले जाती हैं। शाजिया ने नीलोफर को देखा जैसे उसकी सलाह लेना चाह रही हो नीलोफर ने कहा बंद रूम मे ट्राई इसमें कौन सी गलत बात है, चलो साथ चलती हूँ तुम्हारे शाजिया तुरंत चल पड़ी और उसने राफिया भी आवाज़ दी मगर राफिया कहा तुम जाओ मैं यहीं बैठी हूँ। 

वे दोनों ब्रा चेक करने चली गईं जबकि राफिया मेरे सामने सिर झुकाए खड़ी थी। मैंने कुछ देर उसको देखा तो उसको संबोधित किया कि आपको कुछ चाहिए ?? राफिया ने सिर उठा कर मेरी तरफ देखा और इनकार में सिर हिला कर पुनः नीचे सिर कर लिया। मैंने कहा कोई आभूषण आदि या सौंदर्य प्रसाधन का सामान? राफिया ने एक बार फिर ऊपर मेरी ओर देखा और बोली नहीं भाई मुझे कुछ नहीं चाहिए बस हम तीनों की दोस्ती है तो उनके साथ आ जाती हूँ, कुछ चाहिए होगा तो मैं बता दूंगी आपको। फिर मैंने राफिया को पीछे पड़े सोफे की ओर इशारा किया और कहा कि उन्हें थोड़ा समय लगेगा आप बैठ जाएं। राफिया ने छोटे सोफे देख कर जिसके दाएं और बाएं 2 स्टेचू पड़े थे जिनमें से एक पर सेक्सी अरबी पोशाक मौजूद था और दूसरे पर मॉर्डन नाइटी थी। राफिया ने कुछ सेकंड के लिए सेक्सी अरबी पोशाक वाले स्टेचू को देखा और फिर उससे कुछ दूरी रखते हुए सोफे के बीच में बैठ गई। मैंने पूछा मिस आपके लिए पानी मँगाऊ ??? राफिया ने अपने होंठों पर जीभ फेरी और बोली अगर सादा पानी पड़ा है तो वह पिला दें। मैंने साथ पड़े कूलर में से एक गिलास पानी भरा और काउन्टर से बाहर निकल कर राफिया के सामने आकर उसको पेश किया और खुद वहीं पर खड़ा उसको पानी पीते देखता रहा। राफिया ने आधा गिलास पानी पीकर पानी का गिलास वापस मुझे पकड़ा दिया और मैं वापस काउन्टर पर आकर खड़ा हो गया। 

फिर मैं राफिया से पूछा मिस आप कौन से कॉलेज में पढ़ती हैं ??? राफिया ने मेरी ओर देखा जैसे मुझे बताना न चाहती हो तो हल्की आवाज में बोली यहीं साथ ही कॉलेज है वहीं पढ़ती हैं हम। मैं ने भी पूछना उचित नहीं समझा। और अपने कंप्यूटर पर गेम खेलने बैठ गया। खाली समय में मेरा यही काम होता था। ट्राई रूम की मुझे कोई चिंता नहीं थी, क्योंकि मेरी आदत नहीं थी किसी भी ग्राहक को ब्रा ट्राई करते हुए देखने की, और दूसरी खास बात सभी कैमरों की रिकॉर्डिंग सुरक्षित होती थी मगर ट्राई रूम रिकॉर्डिंग में सुरक्षित नहीं करता था ताकि उसका मुझ सहित कोई दुरुपयोग न कर सके वह केवल लाइव देखने का विकल्प था और लाइव भी तब तक नहीं देखा था जब तक अंदर कोई गलत काम होने का शक न हो।


इसलिए शाजिया के मम्मे देखने की इच्छा होने के बावजूद मैंने ट्राई रूम गुप्त कैमरा ऑन नहीं किया और खेल खेलने में व्यस्त रहा। कुछ ही देर के बाद शाजिया और नीलोफर ट्राई रूम से बाहर आ गई तो मैंने पूछा जी अब सही है? तो शाजिया ने मुस्कुराते हुए कहा अब तो बहुत अच्छी फिटिंग बन गई है, बिल्कुल ठीक है। मैंने कहा यही फायदा होता है यहाँ पर ट्राई करने का अगर किसी को ब्रा फिट नहीं आता तो मैं उससे पूछ कर उसे यहीं फिटिंग कर देता हूँ और वही ब्रा जो पहले उन्हें फिट नहीं आ रहा होता वह फिट आ जाता है। उन दोनों को देखकर राफिया भी अपनी सीट से खड़ी हो गई और उसने भी पूछा कि ठीक हो गया, ( राजशर्मास्टॉरीजडॉटकॉम )नीलोफर ने उसके कान में हल्की आवाज में कहा अब तो बड़ी सेक्सी क्लीवेज़ भी बन रही है। राफिया ने उसे घूर कर देखा और दबे शब्दों में कहा धीरे बोलो। मगर वह खुद भी इतनी जोर बोली थी कि मुझे उसकी आवाज सुनाई दी थी। वह जाने लगी तो उनका शापर मेरे हाथ में ही था जिसमें वह ब्रा डाल कर लाई थीं, मैंने कहा मिस लाइए ब्रा इसी में डाल दूं, शाज़िया ने मुड़ कर मेरी तरफ देखा और फिर बोली वह तो मैंने पहना हुआ है तो यह पहले वाला इस मे डाल दो, यह कह कर उसने अपनी कमीज के नीचे हाथ डाला और वहाँ से ब्रा निकालकर मुझे पकड़ा दिया जो शायद उसने अपनी सलवार में फँसा लिया था यह देखकर मेरी हँसी निकलने को हो रही थी मगर मैंने बड़ी मुश्किल से हंसी पर काबू पाया लेकिन फिर भी मेरे चेहरे पर मुस्कान स्पष्ट थी जिसको महसूस करके भी शाजिया भी हल्की सी मुस्कुरा दी और खुद ही बोली कोई और जगह नहीं थी यह रखने के लिए। यह कह कर उसने मेरे हाथ से शापर पकड़ा और तीनों दुकान से चली गईं। फिर बहुत दिनों तक इन तीनों में से कोई मेरी दुकान पर नहीं आया लेकिन एक दिन फिर से सलमा आंटी फोन मुझे आया सलमा आंटी को तो भूल ही गया था और उनकी तरफ से काफी निराश था। सलमा आंटी ने एक बार फिर ब्रा लेने की फरमाइश की तो मैंने कहा आंटी अब तो आपकी अपनी दुकान है आप दुकान पर ही आकर देख लें। आंटी ने कहा नहीं बेटा तुम्हें तो पता ही है दुकानों पर नहीं जाती। मैंने कहा अरे आंटी यहाँ कोई गैर मर्द नही ही होगा, बस में होता हूँ और मेरी सभी ग्राहक औरतें हैं। और वैसे भी आप 2 बजे आ जाना , मैं 2 बजे ब्रेक करता हूँ और इस समय कोई ग्राहक नहीं होता दुकान पर तो तसल्ली से अपने लिए न केवल ब्रा देख सकती हैं बल्कि ट्राई रूम मे ब्रा पहनकर जाँच भी कर सकती हैं। सलमा आंटी ने कुछ देर सोचा और फिर कहा चलो कल ही आना होगा फिर, मैंने कहा जी जरूर आंटी आपकी अपनी दुकान है जब मर्जी आ जाना आप।


आंटी का फोन बंद हुआ तो मुझे एक बार फिर से बस वाली घटना याद आ गई जब सलमा आंटी ने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ कर अपनी गाण्ड में डाल लिया था। अगले दिन दुकान पर जाने से पहले मैंने विशेष स्नान किया और अपने लंड से अनावश्यक बालों की सफाई। की . न जाने क्यों मुझे लग रहा था कि आज सलमा आंटी की गाण्ड मारने का मौका मुझे मिलेगा। दुकान पर पहुंचकर मेरा लंड दोपहर तक खड़ा रहा। अलग अलग औरतें आती रहीं लेकिन मेरा लंड लगातार सलमा आंटी की चूत और गाण्ड को सलामी देने के लिए खड़ा ही रहा। दोपहर 2 बजने से कुछ देर पहले ही सलमा आंटी दुकान में आ गई तब दुकान में एक लड़की भी मौजूद थी जो अपने लिए एक नाइटी खरीद रही थी उसकी शायद शादी होने वाली थी इसलिए हनीमून के लिए वे अपने लिए सेक्सी नाइट खरीद रही थी। सलमा आंटी इस दौरान दुकान का निरीक्षण करती रहीं। कुछ देर बाद वह लड़की चली गई तो मैं काउन्टर से बाहर आया और काले शीशे का दरवाजा बंद करके मैंने दुकान बंद है का साइन बोर्ड लगा दिया। वापस आया तो सलमा आंटी वही स्टेचू देख रही थीं जो अरबी शैली की सेक्सी ड्रेस पहना हुआ था। मुझे वापस आता देखकर सलमा आंटी बोलीं, वाह भई तुम्हारे तो मजे हैं, कैसी कैसी जवान लड़कियाँ आपसे नाइटी खरीदने आती हैं। मैंने तुर्की ब तुर्की उत्तर दिया, क्या खाक मज़े हैं आंटी, वह बस वाली घटना अब तक नहीं भुला में, बस का आनंद तो तब होता जब आप फिर भी ........ यह सुनकर आंटी थोड़ा शर्मिंदा होते हुए बोलीं, वह तो बस में झटके काफी लग रहे थे इसलिए।
-
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Desi Sex Kahani दिल दोस्ती और दारू sexstories 155 8,119 Yesterday, 02:01 PM
Last Post: sexstories
Star Parivaar Mai Chudai घर के रसीले आम मेरे नाम sexstories 46 40,928 08-16-2019, 11:19 AM
Last Post: sexstories
Star Hindi Porn Story जुली को मिल गई मूली sexstories 139 24,596 08-14-2019, 03:03 PM
Last Post: sexstories
Star Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार sexstories 45 51,296 08-13-2019, 11:36 AM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Incest Kahani माँ बेटी की मज़बूरी sexstories 15 18,400 08-13-2019, 11:23 AM
Last Post: sexstories
  Indian Porn Kahani वक्त ने बदले रिश्ते sexstories 225 81,733 08-12-2019, 01:27 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna तूने मेरे जाना,कभी नही जाना sexstories 30 42,668 08-08-2019, 03:51 PM
Last Post: Maazahmad54
Star Muslim Sex Stories खाला के संग चुदाई sexstories 44 38,157 08-08-2019, 02:05 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Rishton Mai Chudai गन्ने की मिठास sexstories 100 78,639 08-07-2019, 12:45 PM
Last Post: sexstories
  Kamvasna कलियुग की सीता sexstories 20 17,663 08-07-2019, 11:50 AM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Butifull muslim lady xxxvidro Audio khala . comdesi aanti nhate hui nangi fotowww sexy indian potos havas me mene apni maa ko roj khar me khusi se chodata ho nanga karake apne biwi ke sath milake khar me kahanya handi comkatrina ki maa ki chud me mera lavramaa ke petikot Ka khajana beta diwana chudai storyaaaxxxbpbete ne maa ko saher lakr pata kr choda sabse lambi hindi sex storiesनई मेरे सारे उंक्लेस ने ग लगा रा चुदाई की स्टोरीज सेक्सी नई अंतर्वासना हिंदीMunna चोदेगा xnxxxXXX videos andhe bankar Kiya chuddai Hindi meledish aurat xxx dehati video bgicha meNude Esita datta sex baba picsxxxxx cadi bara pahanti kadaki yo kaChup Chup Ke naukrani ko dekh kar ling hilanaSil pex bur kesa rhta h Www.sex balholi. Commollika /khawaise hot photo download sax baba net .com / pranitha subhash naked saxe foto Sexbaba. Net biwi our doodhwalakajol porn xxx pics fuck sexbabamutrapan sex kahaniTujh chati chokhato मै सुन रहा था मामा मामी को चोद रहे थे सिसकारिया भर रही थी और चोदोvarsham loo mom sex storypapa bfi Cudi bf Xnxx com%A6%E0%A4%95%E0%A4%B0/gril gand marke chodama xxxAlingan baddh xxxdehatiApni ma ke bistar me guskar dhire dhire sahlakar choda video kuteyaa aadmi ka xxxfudi eeke aayi sex storyJuhi Parmar nude sex babaXxxxhd Ali umarbadde उपहार मुझे भान की chut faadi सेक्स तस्वीरDesi indian HD chut chudaeu.comxnxx.kiriti.seganaXXNXX COM. इडियन लड़की के चूत के बाल बोहुत हेkutta xxxbfhdxxx nypalcomJan bhcanni wala ki atrvasnaFILME HEROIN KE BOOR MEIN TEL MALISH KAR ANTARVASNA HINDI CHODAI NEW KHANIघर मे चूदाई अपनो सेxxxsax.mota.land.dikhkar.darni.ki.khaniChudai se bacche kaise peta hote hain xnxxtvBihar wali bhabhiyon ki desi chudai ki baate phone se saheliyon se karti hui adult se Dus Kahaniyaan in girls Baatein in Hindiमेरी आममी कि मोटी गांड राजसरमाsuhasi dhami ki nude nahagi imageshttps://forumperm.ru/printthread.php?tid=2663&page=2SUBSCRIBEANDGETVELAMMAFREE XXdiede ke chut mare xax khanebabhi saath chhodiy videoWww.Untervasn.com hindi sex story public busristedaro ka anokha rista xxx sex khaniallia bhatt sex photo nangi Baba.netBaba ka koi aisa sex dikhaye Jo Dekhe sex karne ka man chal Jaye Kaise Apne boor mein lauda daal Deta Hai BabaBuaa gai thi tatti me bhi chalagya xxx kahniSexbaba.nokarserial acters nude star pravah sex babawww..antarwasna dine kha beta apnb didi ka huk lgao raja beta comparidhi sharma xxx photo sex baba 887बुर मे लंड कैसे घुसेडा जाता Maa khet me hagane ke bahane choda hindi storyParivar mein group papa unaka dosto ki bhan xxx khani hindi maa chchi bhan bhuaBhaiyon ki tufani choda yum stories gand me khun kese nikaltaxxxgaand sungna new tatti sungna new khaniyadesi moti girl sari pehen ke sex xxxx HD photoChood khujana sex video Baby meenakshi nude fucking sex pics of www.sexbaba.netआअह्ह्ह बेटी तेरी चूत में मेरा लंड बेटी मेरा लंड पापैsex film darks ke nashe me chudaiझवल मला जोरात videomaza baiko cha rape kathaअनिता हस्सनंदनी ki nangi photodivyanka tripathi hot bude.sexybaba.inkacchi kali 2sex.comXxx behan zopli hoti bahane rep keylayuni mai se.land dalke khoon nikalna xxx vfxixxe mota voba delivery xxxcon .co.inXxxivideo kachhi Khan vaaliहलक तक लन्ड डालो