Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
03-15-2019, 03:14 PM,
#41
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कुछ सन्नाटे के बाद मनीषा बेहताशा हँसने लगी- “तो ये बात है… तुम जल रही हो… तुम्हारी इतनी हिम्मत कि यहाँ आकर मुझे शिक्षा दो जबकि तुम खुद अपने बेटे को चोद रही हो… लोगों को क्या ज्यादा बुरा लगेगा… मेरा सजल को चोदना या तुम्हारा…”

“हम घर जा रहे हैं…” कोमल बोली।

“नहीं, तुम कहीं नहीं जा रही हो… जब तुम यहाँ आई हो तो मेरी भी सुनती जाओ… तुमने सालों से मुझे कचरे की तरह समझा है, जबसे मेरा पति मुझे छोड़कर चला गया। तुम्हें हमेशा यह डर रहा कि मैं तुम्हारे पति को न चोदूं। मैं तुम्हें एक अच्छी खबर देना चाहती हूँ… न सिर्फ मैंने सजल को चोदा है बल्कि मैं सुनील को भी चोद चुकी हूँ… क्या तुम्हें इस बारे में कुछ कहना है…”

“हरामजादी…” कोमल ने गुस्से से हाथ घुमाया, पर सजल ने अपनी फुर्ती दिखाई और उसे बीच में ही पकड़ लिया।

“अब इतनी भोली न बनो, कोमल…” मनीषा ने व्यंग्य किया- “तुम जो सजल को चोदती हो, और उस दिन तुम्हारे घर से सजल के कालेज का प्रिन्सिपल जो जा रहा था…”

“वो तो सजल से मिलने आया था, हमारे बीच में कुछ नहीं हुआ…”

पर सजल की शक भरी निगाहें उसे भेद रही थीं- “तुमने मुझे बताया नहीं कि कर्नल मान आए थे…” सजल ने पूछा।

“इसीलिये नहीं बताया क्योंकी इसने उसे चोदा था, सजल…” मनीषा ने मुश्कुराते हुए कहा- “मुझे पता है क्योंकी उस दिन ये परदे डालना भूल गई थी और मैंने पूरी चुदाई इन आंखों से देखी थी…”

कोमल को यह पता नहीं था कि मनीषा ने कुछ देखा नहीं था, पर अंधेरे में तीर मार रही थी। पर मनीषा ने बात कुछ इस अंदाज़ में कही थी जैसे कि वह सच ही बोल रही हो। मनीषा ने अब अपने वार को और तीखा करने की ठानी। उसने अपने नहाने वाले गाऊन का नाड़ा खोलकर उसे उतार फेंका और अब वो सिर्फ सैंडल पहने उसी अवस्था में आ गयी जिस अवस्था में थोड़ी देर पहले सजल ने उसे चोदा था। उसका नंगा तन चमकने लगा।

“मुझे आश्चर्य है कि सजल मुझे चोदने के लिये क्यों आया… क्या वो तुम्हें चोदने से ऊब गया है…” उसने अपने शरीर को सजल के जिश्म से रगड़ते हुए कहा।

वो दोनों मम्मी बेटे कुछ कहने की हालत में नहीं थे।

मनीषा ने कोमल को और छेड़ते हुए इठलाते हुए कहा- “अब तुम समझ सकती हो कि सजल और सुनील दोनों को मेरे पास आने की ज़रूरत क्यों पड़ी। मेरे पास वो सब कुछ है जिसकी उन्हें आस है। बड़े मम्मे और एक तंग गाण्ड… अब जब तुम यहीं हो सजल तो क्यों न हम उस काम को अंजाम दें जो हमने शुरू कर दिया है… मेरे ख्याल से तुम्हारी मम्मी यह जानने को उत्सुक होगी कि मैं कैसे चुदवाती हूँ…”
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:14 PM,
#42
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
सजल अपनी मम्मी से नाराज़ अवश्य था पर वह उसके अपमान में मनीषा का साथ देने को तैयार नहीं था। उसने मनीषा को दूर धकेलने की कोशिश की पर इतने में ही उसकी मम्मी की एक हरकत पर वह ठगा सा रह गया।

“तुम अपने आपको बड़ा गर्म और सेक्सी समझती हो न मनीषा… मैंने तुम्हें अपने शरीर की नुमाइश करते हुए कई बार देखा है। पर अब मैं तुम्हें बताती हूँ कि सजल और सुनील क्यों हमेशा मेरे पास ही वापस आएंगे…”
मनीषा को भी गहरा आश्चर्य हुआ जब उसकी पडोसन ने अपने कपड़े उतारने आरंभ किये। उसने भी यह माना कि कोमल के पास अत्यंत ही लुभावना और आकर्षक जिश्म था। कोमल ने नंगे होने में अधिक देर नहीं लगाई। वो सिर्फ अपनी बात सिद्ध करना चाहती, किसी पर विजय नहीं।

“किसका शरीर ज्यादा सुंदर है, सजल…” उसने मनीषा की तारीफ भरी नज़रों में नज़रें डालकर सजल से पूछा।

सजल को अपनी यह स्थिति पसंद नहीं आ रही थी। अपनी कम उम्र के बावजूद वह समझ गया था कि इन दोनों औरतों की लड़ाई बंद करानी होगी- “आप दोनों रुकिये। आप पर जो पागलपन सवार हो रहा है उसे रोकिये। आप लोग इतने सालों से पडोसी हैं पर एक दूसरे के बारे में आपके खयालात कितने गलत हैं…”

वो दोनों सजल की बात सुन रही थीं। उन्हें इस बात से थोड़ी संतुष्टि हुई कि सजल ने स्थिति पर काबू कर लिया था।

सजल ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा- “मैं इस बात पे कोई वोट नहीं डालूंगा कि आप दोनों में से किसका जिश्म ज्यादा सुंदर है। जहाँ तक मेरा ताल्लुक है, मुझे इससे कोई सरोकार नहीं है। आप दोनों बेहद सेक्सी औरतें हैं। बस…” यह कहते-कहते सजल ने अपने लण्ड को खड़ा होते महसूस किया। उसकी दोनों विजय-पताकाओं के बीच में रहने से उसका झंडा बिना खड़ा हुए न रह सका। सजल ने अपनी बांह अपनी मम्मी की कमर में डाली, उसने मनीषा के साथ भी ऐसा ही किया।

“मैं हमेशा सोचा करता था कि दो औरतों को एक साथ चोदने में कैसा लगेगा। क्या आप दोनों अपनी लड़ाई छोड़कर मुझे यह बात समझायेंगी…” बिना उनके उत्तर का इंतज़ार किये, उसने अपने वस्त्र उतारने शुरू कर दिये। उसका हौसला इस बात से भी बढ़ा कि उन दोनों ने कोई जवाब नहीं दिया। उनकी चुप्पी ने उसे यह समझा दिया कि वो उससे सहमत हैं।

“तुम्हें मनीषा आंटी से जलन नहीं होनी चाहिये मम्मी… अगर मैं इन्हें चोदता हूँ तो इसका यह अर्थ नहीं कि मैं आपको चोदना बंद कर दूँगा…” सजल एक हाथ से अपनी मम्मी और दूसरे हाथ से मनीषा के मम्मों को दबाते हुए बोला।

कोमल ने सजल को मनीषा के मोटे मम्मों से खेलते हुए देखा। उसे ईर्ष्या की जगह एक अभूतपूर्व रोमांच का एहसास हुआ।

सजल ने अपनी मम्मी से कहा- “मम्मी मैं आप दोनों को चोदना चाहता हूँ…” यह कहकर उसने अपनी मम्मी का एक प्रगाढ़ चुम्बन लिया। उसका दूसरा हाथ कोमल की गाण्ड दबाने लगा।

मनीषा जान गई कि आज की दोपहर निराली होगी। उसने अपने स्तन सजल की पीठ पर लगा दिये। उसने अपना हाथ मम्मी-बेटे के बीच से सजल के लण्ड पर पहुंचा दिया और उसे दबाने लगी।

कोमल उसके हाथ को हटाने की कोशिश करने लगी। पर फिर उसने अपने बेटे के शानदार लण्ड को इस औरत के साथ बांटने का निर्णय लिया।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:14 PM,
#43
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
सजल ने अपने आपको वहीं कारपेट पर लिटा लिया और अपनी मम्मी को अपने ऊपर इस तरह खींचा कि उसकी चूत उसके मुँह पर आ लगी। उसने अपनी जीभ उसकी चूत में घुसेड़ दी। अब वह इस बात का इंतज़ार कर रहा था कि मनीषा उसका लण्ड चूसने लगेगी।

मनीषा के चेहरे पर मुश्कुराहट फैल गई। उसने झुककर उस झुलते हुए लण्ड को अपने हाथ में लिया और झट से मुँह में भर लिया। और बोली- “इसका लण्ड बहुत स्वादिष्ट है, कोमल…” उसने कोमल को हिम्मत देते हुए कहा।

इससे कोमल का यह डर कि वह उसके लड़के को काबू में ले लेगी शांत हो गया। कोमल ने भी देखा कि मनीषा सजल के लण्ड से जलपान कर रही थी। हालांकि वो इस दृश्य को देखना चाहती थी पर उसकी चूत में छाए तूफान पर उसका बस नहीं था।

“मुझे ज़रा मुड़ने दो सजल…” कहकर कोमल तेजी से घूम गई जिससे उसका मुँह मनीषा की ओर हो गया- “अब मेरी चूत चाटो सजल…”

उसने अपना चेहरा नीचे झुकाया जिससे उसका सिर मनीषा के सिर से जा टकराया। कोमल भी उस लण्ड का स्वाद लेना चाहती थी। मनीषा ने भी दरियादिली दिखाई और अपने मुँह से उस चिपचिपाते लण्ड को निकालकर कोमल के मुँह की ओर कर दिया।

मनीषा- “इसका स्वाद लो कोमल, तब तक मैं इन टट्टों का स्वाद लेती हूँ…”

कोमल ने अपनी जीभ सजल के लण्ड के सुपाड़े पर फिराई और फिर धीरे से उसे अपने मुँह में भर लिया। इस समय उसे खाने और खिलाने का दोहरा मज़ा आ रहा था।

सजल उन दोनों सुंदरियों की जिह्वाओं के आघात से तड़प रहा था। उसकी तमन्ना पूरी हो गई थी। पर उसका अपने ऊपर काबू खत्म हो गया था। कुछ ही मिनटों की चुसाई और चटाई से उसके लण्ड ने पिचकारी छोड़ दी। कोमल ने अपने मुँह में छूटते हुए रस को पीना शुरू कर दिया। मनीषा ने कोमल को हटाने के उद्देश्य से उसके मम्मों को पकड़कर धक्का सा दिया। पर कोमल इसका कुछ और ही अर्थ समझी।

“और जोर से भींचो इन्हें मनीषा… और तुम मुझे खाओ सजल…” यह कहते समय उसे भी शिखर प्राप्ति हो गई।

मनीषा उन दोनों को झड़ते हुए बस देखती ही रह गई। पर उसे यकीन था कि इंतज़ार का फल मीठा होगा। पर उसको मम्मी-बेटे के प्यार की गहराई का अनुभव जरूर हो गया था।

जब कोमल झड़कर शांत हुई तो मनीषा उसकी ओर देखकर बोली- “मैं तुम्हारे मम्मों को तुमसे पूछे बिना नहीं दबाना चाहती थी। शायद तुम्हें ये पसंद न आया हो…”

“कोई बात नहीं, मनीषा, मुझे वाकई अच्छा लगा था। मैं हमेशा अचरज करती थी कि दूसरी औरत के साथ यह सब करना कैसा लगेगा…” उसने मनीषा के तने हुए मम्मों पर आंखें जमाते हुए जवाब दिया।

“हम दोनों भी नमूने हैं, कोमल… कुछ देर पहले हम एक दूसरे की जान लेने पर आमादा थे और अब प्रेमी बनने की बात कर रहे हैं…” दोनों औरतें साथ-साथ हँसने लगीं।

“शायद मैं तुमसे इसीलिये दूर रहना चाहती थी। मुझे डर था कि मैं कहीं तुम्हारे साथ सम्बंध ना बना लूँ…” कोमल बोली।

सजल का लण्ड सामने के दृश्य को देखकर फिर से तनतना गया था। उसने अपने सामने नाचती हुई अपनी मम्मी की गाण्ड देखी तो वो उसके पीछे झुका और अपना दुखता हुआ लौड़ा अपनी मम्मी की चूत में पेलने लगा।

“नहीं सजल…” कोमल ने अपनी चूत से उसका लण्ड बाहर निकालते हुए कहा- “मैं तुम्हें मनीषा को चोदते हुए देखना चाहती हूँ। उसके पीछे जाओ और उसे चोदो… जाओ…”

सजल का लण्ड इस समय इतना अधिक दुख रहा था कि उसे इस बात से कतई मतलब नहीं था कि उन दोनों में से किसे उसके मोटे लण्ड का आनंद मिलेगा। उसने मनीषा के चूतड़ों को दोनों हाथों से पकड़ा और अपना लम्बा लण्ड जड़ तक, एक ही धक्के में ठोंक दिया।

मनीषा की पनियाई हुई चूत ने भी आसानी से पूरे मूसल को अपने अंदर समा लिया। हालांकि मनीषा अभी ही झड़ के निपटी थी, पर वो एक बार फिर तैयार थी। बोली- “धन्यवाद, कोमल, जो तुमने मुझे इसे चोदने दिया। मुझे खुशी है कि अब तुम सारी बात को समझती हो। मैं इतनी अकेली थी, इतनी चुदासी… मुझे इसके लण्ड की सख्त जरूरत थी…”

कोमल की चूत में भी आग बदस्तूर लगी हुई थी। उसने अच्छे पड़ोसी का कर्तव्य तो निभा दिया था पर वो इंतज़ार कर रही थी कि सजल मनीषा को निपटाकर उसकी चूत की प्यास बुझाए। कुछ ही देर की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद सजल के झड़ने की बारी आखिर आ ही गई।

“मैं झड़ रहा हूँ, मम्मी…” सजल चीखा और अपना रस मनीषा की चूत में भरना शुरू कर दिया।
कोमल अपने सामने का दृश्य देखकर ही झड़ गई। मनीषा आखिर में झड़ी। मम्मी-बेटे के बीच में सैंडविच की तरह चुदने का आनंद अपरंपार था।

“मेरे साथ झड़ो, तुम दोनों… दोनों… सजल… कोमल… मैं तुम्हारी चूत के स्वाद से प्यार करती हूँ। मैं तुम्हारी घनघोर चुदाई से भी प्यार करती हूँ। सजल, चोदो मुझे… चो…दो… मैं झड़ी रे… हाय रे… मैं मरी…”

जब सब शांत हुए तो मनीषा को ऐसा महसूस हुआ जैसे कि वो भी सिंह परिवार का हिस्सा हो गई हो। 

क्रमशः.....................................
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:15 PM,
#44
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
सुनील एक बड़ा खतरा उठाने के बारे में सोच रहा था। ये पागलपन था और ये उसे भी पता था, पर वो कुछ रोमांचक करने के मूड में था। उसने अपना गोल्फ का खेल खत्म ही किया था और उसका ग्राहक मित्र राकेश उसे घर छोड़ने जा रहा था। उसने अगली सीट पर बैठे हुए अपने शरीर को मोड़ा, जब उसने अपने लण्ड को खड़ा होते हुए महसूस किया। उसका लण्ड मनीषा को चोदने के ख्याल से सख्त हो रहा था। उस सुंदर चुदक्कड़ औरत को चोदने के बारे में सोचने के कारण आज उसका खेल बहुत बेकार रहा था।

राकेश की गाड़ी से उतरकर सीधा मनीषा के घर में घुसने में खतरा था और कोमल घर पर थी तो ये खतरा और भी बढ़ जाता था। वो अपने खेल का सामान मनीषा के घर ले जायेगा और वहाँ से अपने घर चला जायेगा और ऐसे दिखायेगा जैसे वो खेल कर लौटा है। सुनील ने ये सोचते हुए अपने दुखते हुए लण्ड को एडजस्ट किया और मनीषा की रसीली चूत में डालने का इंतज़ार करने लगा।

उधर कोमल, मनीषा और सजल ड्राईंग रूम में बैठकर बातें कर रहे थे। अब उनमें किसी तरह का मलाल नहीं था। हँसना और मज़ाक करना भी अब आसान था, चूंकि पिछले कुछ घंटों में वो काफी करीब आ चुके थे। तीनों नंगे ही बैठे थे।

“तुम दोनों रुक कर मेरे साथ खाना खाकर क्यों नहीं जाते। मेरे पास एक मोटा मुर्गा है जो मैं अकेले तो बिल्कुल नहीं खा पाऊँगी…” मनीषा बोली।

कोमल- “धन्यवाद… आज इतना कुछ होने के बाद मैं अब घर जाकर खाना बनाने के मूड में भी नहीं हूँ…”

“सुनील का क्या होगा… क्या हम उसे भी खाने के लिये आमंन्त्रित कर लें…” मनीषा ने एक नटखट मुश्कुराहट के साथ पूछा।

कोमल बोली- “मुझे ये समझ में नहीं आ रहा कि मैं सुनील को ये बदला हुआ माहौल कैसे समझा पाऊँगी… मेरी तो हँसी ही निकल जायेगी…”

“तुम क्या सोचती हो कोमल… क्या ये समझदारी होगी कि हम उसे बता दें कि तुम सजल से चुदवाती हो…” मनीषा ने पूछा- “उसके लिये शायद ये स्वीकार करना मुश्किल हो कि उसकी बीवी अपने ही बेटे से चुदवाती है…”

कोमल ने अपने एक मम्मे को खुजलाते हुए कहा- “इतना जो इन कुछ दिनों में हुआ है, उसे देखकर लगता है कि मैं सब कुछ संभाल सकती हूँ, चाहे वो एक बेहद नाराज़ पति क्यों न हो… और फिर उसके पास भी तुम्हें चोदने के बाद ज्यादा बात करने का मुँह नहीं है…”

“हाँ… पर मेरा क्या होगा, मम्मी…” सजल के चेहरे पर गहरी चिंता के भाव थे।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:15 PM,
#45
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कोमल ने सजल के सिकुड़े हुए लण्ड को थपथपाते हुए कहा- “अपने पापा को संभालने का काम तुम मुझ पर ही छोड़ दो तो बेहतर है… मैं अब पीछे हटने वाली नहीं हूँ… उसे या तो सब स्वीकार करना होगा… या चाहे तो वो तलाक ले सकता है…”

“मम्मी…” सजल अपने मम्मी-बाप के अलग होने की बात से आहत हो गया- “तुम्हारे ख्याल से ऐसा नहीं होगा। है न… मैं आप दोनों के बीच में नहीं आना चाहता…”

“नहीं… मेरे ख्याल से ऐसी नौबत नहीं आयेगी। कम से कम तुमसे चुदवाने से तो नहीं। इससे हमारी शादी में और दृढ़ता आयेगी। तुम्हें सोचकर आश्चर्य होगा पर तुम्हारे पापा ने मुझे एक बार कहा था कि बचपन में उनकी अपनी मम्मी को चोदने की बड़ी हसरत थी…”

“दादी को… पर वो तो…” सजल चौंक गया।

कोमल ने उसे झिड़कते हुए कहा- “अरे… वो अब बूढ़ी हुई हैं… पर अपने दिनों में वो बेहद हसीन थी… उस बात को छोड़ो… मेरा मतलब है कि ये कोई नई बात नहीं है कि कोई लड़का अपनी मम्मी को चोदने की इच्छा रखता हो। शायद पापा ये बात तुमसे ज्यादा अच्छे से समझ सकते हैं और इस बात का मुझे विश्वास है…”

उसी समय सामने के दरवाज़े की घंटी बजी। मनीषा घबरा गयी- “इस समय कौन हो सकता है…”

“हम तुम्हारे अतिथि शयन कक्ष में रहेंगे जब तक कि तुम इस आगंतुक को नहीं निपटा देतीं। सजल… अपने कपड़े उठाओ और मेरे साथ आओ…” कोमल ने कहा।

कोमल और सजल को उस कमरे में गये अभी कुछ ही क्षण हुए थे कि मनीषा घबराई हुई अपने ऊँची एंड़ी के सैंडल खटकाती अंदर आयी।

मनीषा- “अरे बाहर तो सुनील है… अब मैं क्या करूँ…”

“रूको…” कोमल ने कहा। उसका दिमाग तेज़ी से एक नतीज़े पर आया। फिर बोली- “उसे पता नहीं कि सजल और मैं यहाँ हैं। उसे अंदर आने दो और अपने शयनकक्ष में ले जाओ। शायद सब कुछ ठीक हो रहा है। अगर तुम उसे अपने शयनकक्ष में लेजाकर चोदने में सफल हो जाती हो तो हम बीच में आकर तुम्हें रंगे हाथों पकड़ लेंगे… उसके बाद… समझीं…”
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:15 PM,
#46
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
मनीषा के चेहरे पर रंगत वापस आ गयी। उसे कोमल का प्लान समझ में आ गया- “हम्म्म्म… तब सुनील बहुत ही अजीब सी हालत में होगा… उसे हमारे बारे में कुछ भी कहने की हिम्मत नहीं होगी… है न…”

“एकदम सही…” कोमल ने एक विषैली मुसकराहट से कहा- “अब जाओ और जैसा मैंने कहा है… वैसा करो। हम यहाँ छुपते हैं, तुम जाकर उसके लण्ड को अपनी चूत में घुसवाओ…” ऐसा कहकर कोमल ने मनीषा की नंगी गाण्ड पर प्यार भरी एक चपत लगाई।

कोमल ने एक झिरी सी रखकर कमरे का दरवाज़ा बंद कर दिया। इसमें से वो बाहर चल रहे प्रोग्राम को देख-सुन सकती थी। उसने सुनील के गोल्फ के सामान की आवाज़ सुनी। कुछ ही देर में उसने मनीषा को अतिथि कक्ष के सामने से सुनील को अपने शयन कक्ष में हाथ पकड़कर जाते हुए देखा।

उसने मनीषा की बात सुनी- “मैंने सोचा था कि आज सुबह की चुदाई से तुम्हारा दिल भर गया होगा… तुम्हें कोमल के घर में रहते हुए यहाँ आने में कोई खतरा नहीं महसूस हुआ…”

“मेरे ख्याल से उसने राकेश को मुझे छोड़ते हुए नहीं देखा… पर अब इस बात की चिंता करने से कुछ नहीं होगा। मैं अगले हफ्ते काफी व्यस्त हूँ। इसलिए आज कुछ समय तुम्हारे साथ बिता लेता हूँ। सारे समय मैं गोल्फ की जगह तुम्हारे बारे में सोचता रहा…”

कोमल ने ये सुना तो उसे अपने पति पर गुस्सा आ गया और अब वो उस वक्त का इंतज़ार करने लगी जब वह उन दोनों को रंगे हाथ पकड़ेगी। उसने सजल की और मुखातिब होकर कहा- “देखना जब हम तुम्हारे पापा को पकड़ेंगे… वो हर बात जो हम कहेंगे, उसे मानेंगे…”

कुछ देर सुनील और मनीषा की चुदाई शुरू होने के बाद वो बोली- “अब और नहीं ठहरा जा रहा। चलो हम हमला बोलते हैं…”

जब कोमल ने मनीषा के शयनकक्ष में झाँका तो कुछ समय के लिए वो सामने का मंजर देखकर ठिठक गयी। उसने सजल को अपने पास खींचा जिससे कि वो भी देख सके। उसके मन में एक बार ईर्ष्या आ गयी।

“वाह… अपनी चूत को मेरे लण्ड पर और जोर से दबाओ… मनीषा…” सुनील कह रहा था। उसका मोटा लण्ड मनीषा की चूत में गड़ा हुआ था। मनीषा के सैंडल युक्त पाँव आसमान की ओर थे और सुनील उसे पुराने तरीके से ही ऊपर चढ़कर चोद रहा था। दोनों पसीने से तरबतर हो चुके थे।

“मुझे जोर से चोदो सुनील… और जोर से…” मनीषा अब सब भूलकर अपनी चूत का भुर्ता बनवाने में मशगूल थी। उसी समय उसकी नज़र दरवाज़े पर पड़ी और उसके मुँह पर एक शैतानी मुश्कान आ गयी।

वहाँ सजल और कोमल उनका ये चुदाई का खेल देख रहे थे।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:15 PM,
#47
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
उसने उन दोनों का थोड़ा मनोरंजन करने की ठानी- “जोर से चोदो मुझे सुनील… बिल्कुल रहम मत करो… फाड़ दो मेरी चूत को अपने मोटे लौड़े से…” ये कहकर मनीषा ने सुनील की गाण्ड भींचते हुए उसकी गाण्ड में एक अँगुली घुसा दी।

“हरामजादी…” सुनील के मुँह से गाली निकली- “अगर ऐसा किया तो मैं झड़ जाऊँगा…”

कोमल के संयम का बांध टूट गया। हालांकि देखने में बहुत मज़ा आने लगा था, पर वो अपने हाँफते और काँपते पति को रंगे हाथों पकड़ने का मौका नहीं छोड़ना चाहती थी।

“क्या हुआ सुनील… घर पर मेरी चूत चोदकर मन नहीं भरता क्या…” कोमल ने अंदर घुसकर बिस्तर की ओर कदम बढ़ाते हुए सवाल किया। उसकी आवाज़ माहौल के विपरीत काफी शाँत स्वर में थी।

कोमल की आवाज़ सुनकर, सुनील को काटो तो खून नहीं। उसका जिश्म जैसे जड़ हो गया और धक्के बंद हो गये। उसका मुँह खुला का खुला रह गया जब उसने अपनी पत्नी और बेटे, दोनों को वहाँ नंगा खड़ा देखा। उसके दिमाग ने काम करना बंद कर दिया। शायद ये कोई सपना ही था।

“तुम्हें शायद मुझे देखकर आश्चर्य हो रहा है… प्रिय पति महाराज…” कोमल मुश्कुराई और बिस्तर के पास जाकर खड़ी हो गयी।

सजल को अपने पापा से डर लग रहा था और वो अपनी मम्मी के दो-तीन फीट पीछे ही खड़ा रहा।

“पर आश्चर्य तो मुझे होना चाहिये… है न… ये देखकर कि तुम मेरी पीठ पीछे क्या गुल खिला रहे हो…”

सुनील ने मनीषा की चूत से अपना तना हुआ लौड़ा बाहर खींच लिया। उसने बिस्तर पर बैठकर कुछ समय सोचकर अपनी आवाज़ को पाया- “पर तुम यहाँ पर क्या कर रही हो कोमल… और वो भी सजल के साथ… और फिर तुम दोनों नंगे क्यों हो…” वो अपनी आवाज़ में कठोरता पैदा करने की असफल कोशिश कर रहा था।

“मेरे साथ ज्यादा होशियार बनने की कोशिश मत करो…” कोमल उसे ऐसे नहीं बख्शने वाली थी, न वो अपने ऊपर कोई बात लेने वाली थी। सुनील उस समय उसी परिस्थिति में था जैसा वो उसे चाहती थी- “वो तुम हो जो गलत चूत में अपने लण्ड के साथ पकड़े गये हो… मैं नहीं…”

“ठीक है कि मैं पकड़ा गया हूँ और मेरे पास कोई सफाई भी नहीं है। पर सजल तुम्हारे साथ यहाँ क्यों आया है और तुम दोनों नंगे क्यों हो…” सुनील ने अपने नंगे बेटे की ओर देखते हुए पूछा।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:15 PM,
#48
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
सजल का लण्ड इस समय खड़ा था।

“ये मत समझो कि सजल ये सब देखने समझने के लिये बड़ा नादान है… सजल, इधर आओ…”

जब सजल अपनी जगह से हिला भी नहीं तो कोमल ने दोबारा कहा- “सजल, इधर आओ… तुम्हारे पापा तुम्हें छुयेंगे भी नहीं, ये मेरा वादा है…”

सजल धीमे कदमों से अपनी मम्मी के साथ आकर खड़ा हो गया पर उसकी सहमी नज़र अपने पापा के चेहरे पर ही रही। कोमल ने मनीषा की ओर आश्वासन के लिये देखा। उसकी नई सहेली ने गर्दन हिलाकर अपना समर्थन दिया।

“तुम्हें याद है सुनील… जब तुमने मुझे अपनी मम्मी को चोदने की इच्छा के बारे में मुझे बताया था…” कोमल ने सँयत शब्दों में भूमिका बाँधी।

“कोमल…” सुनील चिल्लाया- “तुम ऐसे समय वो बात यहाँ कैसे कर सकती हो… मैंने तुम्हें वो बात दुनिया को बताने के लिये थोड़े ही बताई थी…”

कोमल ने अपना हाथ उठाकर उसे शाँत रहने का इशारा किया। उसने सजल की ओर अपना हाथ बढ़ाया और उसे अपनी ओर खींचा।

“मैं सिर्फ तुम्हें उस समय की याद दिला रही थी जब तुम सजल की उम्र के थे। इससे तुम्हें वो समझने में आसानी होगी जो मैं तुम्हें बताने वाली हूँ…” कोमल ने एक गहरी साँस भरी और अपने स्वर को संयत किया- “मैं सजल से उसकी छुट्टियों के कुछ समय पहले से चुदवा रही हूँ…”

कमरे में एक शाँती छा गयी। अगर सुंई भी गिरती तो आवाज़ आती।

फिर सुनील ने हिकारत भरे स्वर में कहा- “कितनी घृणा की बात है ये… तुम अपने बेटे से कैसे…”

मनीषा, कोमल का साथ देने के लिये, सुनील की बात काटते हुए बोली- “अब ऐसे मर्यादा वाले मत बनो तुम सुनील। तुम भी कोई बड़े भले मानस नहीं हो। अगर कोमल को तुम घर में उसके मन मुताबिक चोदते रहते तो वो क्यों सजल की ओर जाती… हो सकता है कि शायद वो फिर भी सजल से चुदवाती ही, कौन कह सकता है… अगर मेरा सजल जैसा लड़का होता तो मैं तो उसको जरूर चोदती…”

“पर मुझे यह मंजूर नहीं…” सुनील बोला।

“बकवास…” मनीषा ने जवाब दिया- “तुम्हारे पास कोई विकल्प भी नहीं है सुनील… कोमल क्षमा नहीं माँग रही है… वो तुम्हें बता रही है कि या तो तुम इसे स्वीकार करो या…” मनीषा ने अपने शब्द अधूरे छोड़कर अर्थ साफ कर दिया।

“अरे ये सब बेकार की बातें छोड़ो… हम सब चुदासे हैं और एक दूसरे की चुदाई क्या गलत, क्या सही की बातें चोदने में लगे हैं… इधर आओ सुनील और मुझे चोदो, जो तुम कह रहे थे… अपने लौड़े को देखो, ये अब पहले से भी ज्यादा तना हुआ है। मैंने इतना सख्त पहले इसे नहीं देखा…” ये कहते हुए मनीषा ने अपने हाथों से सुनील का विशाल मोटा लण्ड हाथ में ले लिया और उसे सहलाने लगी।

“इसे यूँ ही चलने दो सुनील… कोमल और मेरे पास तुम्हारे लिये बहुत कुछ विशेष है…” ये कहकर मनीषा ने सुनील का हलब्बी लौड़ा अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:15 PM,
#49
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कोमल ने भी अपना तीर फेंका। उसने बिस्तर पर झुकते हुए अपनी बांहें उसकी गर्दन में डाल दीं। उसके विशाल मम्मे अब सुनील के चेहरे के पास थे। बोली- “बोलो मत सुनील… मेरे मम्मों को चूसो… मनीषा को अपना लण्ड चूसने दो। हम दोनों को तुम्हें चोदने चाटने दो… मेरी जान, अब चीज़ें दूसरे नज़रिये से देखो। अब तुम्हें छुपकर अपने पड़ोस में आने की जरूरत नहीं पड़ेगी। तुम्हारी जब इच्छा हो, हम दोनों तुमसे चुदवाने के लिये तैयार रहेंगी…”

सुनील अपने दोनों ओर फैले हुए नंगे गर्म जिस्मों में खो गया। कोमल ने अपने मम्मों को उसके मुँह में डाल दिया। सुनील इतना ताकतवर था कि इन दोनों औरतों को परे धकेल सकता था, पर उसने ऐसा किया नहीं। उसे दोगुने आनंद की प्राप्ति हो रही थी।

“ठीक है… मैं हार मानता हूँ…” सुनील ने अपना मुँह कोमल के मम्मों से हटाते हुए कहा- “हम बाद में बात करेंगे… पर मुझे अभी भी सजल और तुम्हारे बीच का…”

“अपना मुँह बंद रखो, सुनील, अगर खोलना है तो मेरे मम्मों को चूसने के लिये… हाँ अब ठीक है… जोर से चूसो…”

“अब ये सब बहुत हो चुका…” मनीषा सुनील के लण्ड की चुसाई रोकती हुई बोली- “अब मुझे इस मोटे लण्ड से अपनी चूत चुदवानी है। इस पूरे सीन से मेरी चुदास बेइंतहा बढ़ गयी है। अरे सुनील तुम्हारा लण्ड तो जबर्दस्त फूल गया है। हम्म्म… अब ये मत कहना कि तुम्हें मज़ा नहीं आ रहा…” ये कहकर मनीषा ने पूरा लौड़ा एक ही झटके में अपनी चूत में पेल डाला।

अब चूंकि सुनील का लण्ड एक समय में एक ही चूत चोद सकता था, कोमल को अपनी प्यासी चूत के लिये कोई दूसरा इंतज़ाम करना लाज़मी हो गया। वो बिस्तर से खड़ी हो गई और अपने बेटे से बोली- “ज़मीन पर लेटो सजल… मैं तुम्हें वैसे ही चोदना चाहती हूँ, जैसे मनीषा तुम्हारे पापा को चोद रही है…”

सजल की हिम्मत अब धीरे-धीरे वापिस आ रही थी। अब जब उसने अपने पापा को चुसाई और चुदाई में मशगूल देखा तो वो जाकर ज़मीन पर चौड़ा होकर अपनी पीठ के बल लेट गया और अपनी चुदासी मम्मी का अपने तन्नाये लौड़े की सवारी के लिये इंतज़ार करने लगा।

सुनील स्तब्ध होकर अपनी पत्नी को अपने बेटे के तनतनाये हुए लण्ड पर सवार होते हुए देख रहा था। उसने कोमल को सजल से चुदवाने से रोकने के लिये एक शब्द भी नहीं कहा। इस समय वो इतना रोमाँचित था कि उसके लिये ऐसा करना संभव ही नहीं था। नाराज़गी की जगह उसके मन में विस्मय अधिक था।

“ये मेरे लिये ही खड़ा है न, बेटे…” कोमल ने अपनी गर्म प्यासी चूत को सजल के लण्ड पर सरकाते हुए सरगोशी की। उसने सजल के लण्ड को पकड़कर अपनी चूत को उसपर आहिस्ता से उतार दिया- “मुझे तुम्हारा लण्ड अपनी चूत में फुदकता हुआ लग रहा है। मेरे लाडले बेटे…”

सजल ने अपने हाथ बढ़ाकर अपनी मम्मी के फुदकते हुए मम्मों को पकड़ लिया। कोमल की गर्म चूत अब उसके गर्माये हुए लण्ड पर नाच रही थी। उसने अपने पापा की ओर देखा तो वो इस नज़ारे से बहुत मज़ा लेते हुए लगे।

“है न देखने लायक सीन, सुनील…” मनीषा ने अपने विशाल मम्मों को पकड़कर सुनील के लण्ड पर अपनी चूत सरकाते हुए पूछा- “तुमने सोचा भी न था कि ये देखकर तुम्हें इतना मज़ा आयेगा…”

कोमल ने अपना सिर घुमाकर अपने पति की आँखों में देखा- “देखो, कितना बढ़िया है ये सब… अब तुम्हें ये बुरा नहीं लग रहा होगा… है न मेरी जान… ज़रा सोचो तो कि अब हम लोग क्या-क्या और कर सकते हैं… सजल को चोदते हुए देखो सुनील… देखो मैं अपने बेटे को कितना सुख दे रही हूँ…”
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:15 PM,
#50
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
“मेरे मम्मों को और जोर से दबाओ सजल। और मुझे जोर से नीचे से झटके मारकर चोदो…” उसकी चूत को अब तेज़ और दम्दार चुदाई की इच्छा थी।

सुनील मनीषा की गर्म चूत की भट्ठी में अपने लण्ड से पूरे जोर से चुदाई कर रहा था। उसने मनीषा की दोनों गोलाइयों को अपने हाथों से पकड़ रखा था और दबा रहा था। पर उसकी नज़रें पूरे समय अपनी पत्नी और बेटे की चुदाई पर टिकी हुई थीं। अब उसे कोई जलन नहीं थी। उसने उस उम्र को याद किया जब वो सजल की उम्र का था। उसके मन में भी अपनी माँ को चोदने की बड़ी इच्छा थी। आज वो अपनी उस हसरत को अपने बेटे सजल के रूप में पूरी होते देख रहा था।

उसने मनीषा की चुदाई की रफ्तार बड़ाते हुए आवाज़ दी- “चोदो उसे कोमल…” ये कहकर उसने अपना रस मनीषा की प्यासी चूत में भर दिया।

कोमल ने अपने झड़ते हुए पति को शाबाशी दी- “भर दो उसकी चूत को सुनील। आज हम रात भर चुदाई करेंगे…”

कोमल और सजल को चोदते देखना ही मनीषा के लिये काफी था पर अपनी चूत में सुनील के रस के फुहारे से तो वो बेकाबू हो गई। बोली- “कोमल मुझे देखो… मैं तुम्हारे पति को चोद रही हूँ। मैं उसके साथ झड़ रही हूँ। आआआ… आआआआ… ईईईई… ईईईईईईई…”

सुनील और मनीषा थोड़ी देर के लिये शाँत हो गये और दोनों माँ बेटे का खेल देखने लगे।

“जल्दी करो तुम दोनों, सजल भर दे अपनी माँ की चूत…” मनीषा ने उन्हें बढ़ावा दिया।

सुनील को अपनी आवाज़ सुनकर आश्चर्य हुआ- “चोद उसकी चूत को जोर से, सजल…”

कोमल ने भी अपने पति की बात सुनी। उसे खुशी हुई कि सुनील ने सब कुछ स्वीकार कर लिया है। उसने सुनील की ओर मुश्कुराकर देखा और अपना ध्यान अपनी चुदाई की ओर वापिस लौटा लिया। वो भी अब झड़ने के करीब थी।

“मैं झड़ रही हूँ सजल… सुनील…” सजल के लंबे मोटे लौड़े पर उछलते हुए कोमल चींखी। अचानक वो ठहर गई। उसकी चूत में अजीब सा संवेदन हो रहा था।

सजल भी अब झड़ रहा था। वो भी चींखने लगा- “मम्मी… मैं भी… आआआह…” पर उसने अपने धक्कों की रफ्तार कम न की। कोमल को यही पसंद था। उसके झड़ने के बाद भी अपनी चूत में मोटे लण्ड से घिसाई- “चोद मेरे लाडले… वा…आआआआ…ह…”

मनीषा और सुनील दोनों देख रहे थे कि कैसे कोमल, सिर्फ ऊँची एंड़ी की सैंडल पहने बिल्कुल नंगी, अपने बेटे के लण्ड पर उछलती हुई झड़ रही थी। मनीषा के मन में आया कि काश उसे भी वही सुख मिले जो अभी कोमल को मिल रहा था। सुनील को भी समझ में आया कि क्यों उसकी बीवी अपने बेटे से चुदवाने लगी थी। कोमल एक बार और झड़ी और निढाल हो गई।

“काश मैं तुम्हें समझा पाती मनीषा… जो मैं इस वक्त महसूस कर रही हूँ… इसमें इतना सुख है की मैं नहीं समझा सकती…”

“इस सुख को भोगो… बोलो मत…” मनीषा ने ठंडी साँस लेते हुए कहा।

थोड़ी देर बाद ही सजल और सुनील के लण्ड दोबारा तनकर खड़े हो गये। अब उन्हें फिर चुदाई की इच्छा हो रही थी। चूंकि वो अभी मनीषा को चोदकर हटा था तो सुनील ने कोमल की ओर अपना रुख किया। कोमल इस समय झुक कर मनीषा की चूत चाटने में व्यस्त थी। सुनील ने पीछे से जाकर एक ही झटके में अपना पूरा लौड़ा कोमल की चूत में पेल दिया।

“ऊँओंफ्ह…” कोमल के मुँह से अजीब सी चीत्कार निकली। कई साल बाद उसके पति ने उसे इतनी बेरहमी से चोदने की कोशिश की थी। उसने अपनी कमर हिलाते हुए सुनील को उत्साहित किया- “मुझे यूँ ही बेरहमी से चोदो सुनील… मुझे खुशी है कि तुम मुझे आज ऐसे चोद रहे हो… फाड़ दो मेरी चूत…”

मनीषा यूँ ही छोड़ने वालों में से तो थी नहीं। वो अपनी ऊँची एंड़ी की सैंडल में गाण्ड मटकाती सजल के पास आयी और बोली- “देख अपने मम्मी-पापा की चुदाई… और मेरी चूत का भोंसड़ा बना…”

सजल आगे बढ़ा और मनीषा के ऊपर चढ़ाई कर दी। अपने लण्ड को उसने मनीषा की गीली चूत में पेल दिया। उसने अपने पापा को देखा जो कोमल की ताबड़तोड़ चुदाई कर रहे थे। उसकी मम्मी उन्हें और बढ़ावा दे रही थी। सजल ने तेजी से मनीषा कि चुदाई की और कुछ ही समय में दोनों का पानी छूटने लगा। उधर सुनील और कोमल का भी खेल खत्म हो गया था और दोनों लण्ड अपनी चूतों को पानी पिलाकर शाँत हो गये थे। चारों थक भी गये थे।

मनीषा ने सबको खाना खिलाया और बीयर पिलायी और एक बार फिर सबने मिलकर चुदाई की। दोबारा फिर मिलने के वादे के साथ सिंह परिवार अपने घर चला गया।

कोमल सोने के पहले यही सोच रही थी कि अब उसके जीवन में एक नया अध्याय शुरू हो गया है।

ये सोचकर वो सुनील से चिपककर सो गयी।

.

END
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Exclamation Maa Chudai Kahani आखिर मा चुद ही गई 38 152,171 3 hours ago
Last Post:
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 360 115,315 11 hours ago
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 210 804,509 01-15-2020, 06:50 PM
Last Post:
  चूतो का समुंदर 662 1,757,355 01-15-2020, 05:56 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Porn Kahani एक और घरेलू चुदाई 46 49,177 01-14-2020, 07:00 PM
Last Post:
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार 152 696,913 01-13-2020, 06:06 PM
Last Post:
Star Antarvasna मेरे पति और मेरी ननद 67 208,228 01-12-2020, 09:39 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 100 146,191 01-10-2020, 09:08 PM
Last Post:
  Free Sex Kahani काला इश्क़! 155 232,085 01-10-2020, 01:00 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर 87 44,941 01-10-2020, 12:07 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


malvika sharma xxx sex baba netहिरोईन काजोल और करीना कपुर को नगि दिखायेLadki ko kamutejna ki golihttps://mupsaharovo.ru/badporno/Thread-amisha-patel-ki-madmast-jawaanimajbur aurat sex story thread Hindi chudai ki kahani HindiRamu kaka maa bati xxx khani hindichud pr aglu ghusane se kya hota hrandini ki jor se chut chudaiइंडियन गरल हाँट कि चुत के फोटोwww.kombfsexwww.big boobs fake blause photosMerate.dese.sexy.videoSex enjoy khaani with boodhe aadmixxx image tapsi panu and disha patni sex babsचुद सेक्सबाब89xxx। marathi aatiBhi.bhan.sex.story.balkeniBaba ke ashirwad se chudwayatanuja gowda nudesunny leone xxxxbra penty videochodkar paniniklna xxx hd video hindiPreity Zinta sex HD video Khoon nikalne wali chodne walianita of bhabhi ji ghar par h wants naughty bacchas to fuck herkajal agarwal nude xossip printablesubse jyada fucking kaunsi heroene karvati haiXxx video bhabhi huu aa chilaiBiwe ke facebook kahanyanayi Naveli romantic fuckead India desi girlXxxxxxx Jis ladki ke sath Pehli Baar sex karte hain woh kaise sharmati hai uska video Bataye Hindihindi saxbaba haviliantarvasnameri gar ki cut story ma betaPorn panoom xxin suhaag raatbarish woman nunde photowww.actress harija nude fucking nangi imagesPati ke rishtedar se kitchen me chudi sex storieMeri bivi kuvari time se chudkd hlahan mulila mandivar desi storiesland cusana video xxxaunty ko mst choda ahhhh ohhhhh ahhhek pagel bhude ne mota lund gand me dal diya xxx sex storykajol sexbababahen ne chodva no vedioईनडीयन सेकस रोते हुयेbahanchod apni bahan ko chodega gaand mar bhaiSex stories randi ladki ka nipple nichoraरडी ने काहा मेरी चुत झडो विडीयोsonakshi sinha ne utare kapde or kiya pronkatrina zsexjism xxx hindi mooves fullDidi ko chudwaya netaji seसोल्लगे क्सनक्सक्स नईhandkyr.xxx.deshi.videoman to man xxx मुठ से लड खीचते बुढो का विडियोआम दबाके दुध xxxnxTelugu actores krithi kharbanda fake sexbabasex pussy pani mut finger saree aanty sex vidiopornsex कहानी मराठीrakul preet singh fuck ass hole naked photoes hot sex baba photoesmother batayexxxपुचची त बुलला sex xxxNaika Saxbaba.netbudhe vladki ki xx hd video3 kadi apn pariwar walo k liye kya krogi welamma episode hindi .six khaniyawww.comछोटी चूत सेक्सबाब राजशर्माmuse chusne wala seexsex baba net pirya pusi nudex chut simrn ke chudeyeHot nude sex anushka babaPass hone ke ladki ko chodai sex storyFull hd sex download daisy shah sex baba page Photosghopdi me x porn tvकुआरी गांड का उद्घाटनmujhe mere bhatije ne choada sote huyeखूशबू की गांड मे मेरा लौडा vedioपूजा सारी निकर xnx६५साल बुढी नानी को दिया अपना मोटे लन्ड से मजाफारग सेकसी sexbaba south act chut photosaxbaba havili antarvasnabina ke behakate kadam - 3 kamuktasax video xxx hinde जबर्दस्ती पकर कर पेलेmery bhans peramka sex kahanieesha rebba nude puku fakesDesi haweli chuodai kasakshi tanwar nangi k foto hd mHindhi bf xxx ardio mmssexbaba.com bhesh ki chudaiindian sexbaba photo