Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
09-21-2018, 01:53 PM,
#31
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
जयसिंह ने जानबूझकर मनिका को बाहर पार्क में घूमने चलने को कहा था, ताकि उसे यह न लगे के वे उसके जिस्म के पीछे पागल हैं. मनिका ने तो यही सोच रखा था कि वे इतना लेट (देरी से) लंच करने के बाद रूम में ही जाएंगे. लेकिन जयसिंह के प्रस्ताव ने उसे भी सरप्राइज कर दिया था. किन्तु उनके साथ घूमते-घूमते उसे बड़ा मजा आ रहा था और हर एक पल ने उसकी तृष्णा को बढ़ाने का ही काम किया था. अब वह रूम में आने के बाद थोड़ी सहमी सी लग रही थी और सोफे के पास खड़ी हुई कुछ-कुछ देर में उनसे नज़र मिला कर शरम से मुस्का दे रही थी.

जयसिंह ने कमरे में आकर अपने मीटिंग के दस्तावेज़ संभाल के रखे, वे यूँ जता रहे थे जैसे सब कुछ नार्मल ही था. फिर वे चल कर मनिका के पास आ कर खड़े हो गए व उसके दोनों हाथों को अपने हाथों में ले लिया. मनिका ने सकुचाते हुए नज़र ऊपर उठाई.

'ह्म्म्म...' जयसिंह ने हुंकार भरते हुए कहा, 'खुश है मेरी जान?'

'हूँ...ज..जी...' मनिका ने हामी में सर हिलाते हुए कहा.

'अच्छा है, अच्छा है...' जयसिंह ने मुस्कुराते हुए कहा, फिर अपना स्वर जरा नीचे कर बोले, 'आज बिस्तर में जरा जल्दी चलें...कल तो सुबह ट्रेन है ही, हम्म?'

मनिका उनके सवाल से तड़प उठी थी, 'पापा को तो बिलकुल भी शरम नहीं है..!', उस से कुछ कहते न बना, बस उसने अपना शरम से लाल मुहं झुका लिया था. जयसिंह ने इसे उसकी हाँ समझ आगे कहा,

'मैं तो आज सिर्फ नाईट-ड्रेस में चेंज करने के मूड में हूँ...तुम देख लो क्या करना है.' और मनिका का हाथ छोड़ एक पल रुके रहे फिर मुस्का कर अपने सूटकेस से अपना बरमुडा और टी-शर्ट लेकर बाथरूम में चले गए. मनिका धम्म से सोफे पर बैठ गई थी. पर इस से पहले कि वह अपने आप को इस नई परिस्थिति में ढाल पाती, जयसिंह कपड़े बदल कर बाहर भी आ चुके थे.

उसने उनकी तरफ देखा, वे मुस्कुरा रहे थे, फिर उसकी नज़र बरबस ही उनके लंड पर चली गई, बरमुडे का तम्बू बना हुआ था. उसने एक पल जयसिंह की तरफ देखा और पाया कि वे यह सब देख रहे थे, उसकी जान गले में अटक गई थी, वह तेज़ क़दमों से चलती हुयी अपने बैग के पास पहुँची और अपनी नाईट-ड्रेस निकालने लगी.

मनिका बाथरूम के गेट के पास खड़ी थी, वह नहा ली थी और कपड़े बदल लिए थे. लेकिन अब बाहर जाने की हिम्मत जुटाने की कोशिश कर रही थी. कुछ देर खड़ी रहने के बाद उसने हुक पर से अपना पहले पहना हुआ सूट उतरा और अपनी नाईट-ड्रेस उतार उसे पहन लिया और जा कर वॉशबेसिन पर मुहं धोने लगी. लेकिन कुछ वक्त और बीत गया और वह फिर भी बाहर न निकली, और एक बार फिर सूट उतार कर नाईट-ड्रेस पहन ली. एक दो बार ऐसा रिपीट करने के बाद भी जब उससे कोई फैसला न हो सका. वह अब नाईट-ड्रेस में थी. यंत्रवत सी मनिका ने बाल्टी में पानी चलाया और इस बार सूट को हुक पर टांगने की बजाय बाल्टी में डाल दिया. उसके हाथ कांप रहे थे. अब एक बार फिर वह बाथरूम में लगे शीशे के सामने जा खड़ी हुई और अपने साथ लाया छोटा किट (बैग) खोला.

'कहाँ मर गई कुतिया?' जयसिंह ने झुंझलाते हुए सोचा. वे बेड पर लेटे हुए थे, कमरे की लाइट जल रही थी. जयसिंह अपना फोन हाथ में लिए ऐसा जता रहे थे कि वे उसमे व्यस्त हैं, ताकि मनिका के बाहर निकलने पर उन्हें ऐसा न लगे कि वे बस उसे ही तवज्जो देने के लिए बैठे हैं.

'खट' बाथरूम के दरवाजे की कुण्डी खुलने की आवाज़ आई.

जयसिंह ने झट नज़रें मोबाइल में गड़ा लीं थी. पर कनखियों से उन्हें मनिका के सधे हुए क़दमों से कमरे में आने का आभास हुआ, और एक ही पल में वे आश्चर्य से भर उठे थे. उन्होंने मनिका की तरफ देखा.

जब वे लोग दिल्ली आए थे एक वह दिन था और एक आज का दिन था. मनिका ने वही शॉर्ट्स और गंजी पहन रखी थी जो वह उनकी साथ बिताई पहली रात को पहन कर आई थी. जयसिंह आवाक रह गए थे.

***
मनिका हौले से बेड के उपर चढ़ी, कम्बल उसी की तरफ तह करके रखा था, मनिका ने धीरे से उसे खोला और ओढ़ कर लेट गई. उसने अपने पिता की तरफ एक नज़र देखा तो पाया के वे अपना फोन बेड-साइड टेबल पर रख रहे थे, उसकी नज़र उनके अर्धनग्न बदन पर फिसलती हुई उनके बरमुडे पे जा टिकी. पापा का लंड तन चुका था. मनिका ने बरबस ही आँखें मींच लीं.

'मनिका?' जयसिंह की आवाज़ आई. मनिका ने आँखें खोलीं, उसके पिता ने अब उसकी तरफ करवट कर रखी थी और खिसक कर उसके करीब आ गए थे. मनिका उन्हें इतना करीब पा असहज हो उठी, उसने अपनी बड़ी-बड़ी आँखों से एक पल के लिए जयसिंह को देखा और फिर नज़र नीची कर ली. नीचे देखते ही उसने अपने आप को अपने पिता के बरमुडे में फनफनाते लंड से मुखातिब पाया, उसकी कंपकंपी छूट गई.

जयसिंह ने अपना हाथ आगे बढ़ा कर मनिका के कंधे पे रखा और सहलाने लगे. 'क्या हुआ मनिका? चुप-चुप कैसे हो?' उन्होंने बात बनाने के बहाने से पूछा. मनिका से कुछ बोलते नहीं बन रहा था, उसे अहसास हुआ के जयसिंह का हाथ धीरे-धीरे उसके कंधे से कम्बल को नीचे खिसका रहा था.

'हूँ?' जयसिंह ने अपने सवाल का जवाब चाहा.

'कुछ नहीं पा..?' मनिका ने हौले से मुहं नीचे किये हुए ही जवाब दिया.

'पैकिंग वगैरह कर ली तुमने?' जयसिंह ने पूछा, कम्बल अब मनिका की बगल से थोड़ा नीचे तक उतर चुका था.

'जी पापा.' मनिका ने बिल्कुल मरी सी आवाज़ में कहा. उसे अपने बदन से उतरते जा रहे कम्बल के आभास ने निश्चल कर दिया था. जयसिंह ने अब कम्बल उसकी कमर तक ला दिया था.

मनिका का दिल जैसे उसके मुहं में आने को हो रहा था. यकायक उसे अपने फैसले पर अफ़सोस होने लगा, 'हाय ये मैंने क्या कर लिया. क्यूँ पहन ली मैंने ये बेकार सी नाईट-ड्रेस..? पापा तो रुक ही नहीं रहे, कम्बल हटा कर ही छोड़ेंगे...' मनिका ने अपने आप को कोसा, फिर उसने धीरे से अपने हाथ से कम्बल पकड़ कर ऊपर करने की कोशिश की.

जयसिंह मनिका की मंशा ताड़ गए थे, जैसे ही मनिका ने कम्बल को धीरे से पकड़ कर ऊपर खींचने की कोशिश की जयसिंह ने अपना हाथ ऊपर उठा लिया और साथ ही उसमे कम्बल का एक सिरा भी फंसा लिया था. एक ही पल में मनिका अब अपने पिता के साथ अर्धनग्न अवस्था में पड़ी थी.

'उन्ह...' मनिका के गले से घुटी सी आवाज़ निकली.

जयसिंह ने कम्बल एक तरफ़ कर दिया. मनिका की नज़र उठने को नहीं हो पा रही थी. उसने अपनी टाँगे भींच कर अपनी मर्यादा बचाने की कोशिश की. पर जयसिंह का पलड़ा आज भारी था. उन्होंने अपना हाथ अपनी बेटी की कमर पर रखा और उसे ऊपर से नीचे तक देखने लगे, जब मनिका ने एक पल के लिए नज़र उठा उनकी तरफ़ देखा तो पाया के वे उसके वक्श्स्थ्ल को ताड़ रहे थे. मनिका की नज़र उठते ही जयसिंह ने भी उसके चेहरे की तरफ़ देखा और मुस्कुराते हुए अपना हाथ उसकी कमर से उठा कर उसके गले पर ले आए और सहलाते हुए कहा,

‘क्या बात है मनिका, आज तो दिल जीत लिया तुमने.’ मनिका क्या कहती, जयसिंह ही आगे बोले, ‘आज ये वाली नाइट ड्रेस कैसे पहन ली?’

मनिका एक बार फिर नज़र झुकाए रही तो जयसिंह थोड़ा उसके ऊपर झुक आए, उनके ऐसा करते ही, मनिका ने पाया के उसके पिता का लंड भी उसे छूने को हो रहा था. ‘बोलो ना?’ जयसिंह ने हमेशा की तरह उसपर दबाव बनाने के लिए पूछा.

‘वो…वो…आपने कहा न पापा कल…’ मनिका ने अटकते हुए कहा.

‘काश पहले पता होता…कि मेरे कहने पर तुम इस तरह…तो पता नहीं कब का कह देता.’ जयसिंह की आवाज़ पूरी तरह बदल गयी थी, उसमें सिर्फ़ हवस और वासना थी.

‘क्या…आह्ह…क्या बोल रहे हो आप पापा…’ मनिका उनके इस रूप से सहम गयी थी.

‘यही कि काफ़ी जवान हो गयी हो तुम…’ जयसिंह ने एक बार फिर उसे ऊपर से नीचे तक देखते हुए कहा, और अपना हाथ अपनी बेटी की नंगी जाँघ पर ले जा कर सहलाने लगे, ‘पर आज तो मज़ा नहीं आया उतना.’

‘पापा आप ऐसे क्यूँ बोल रे हो? क्या…क्या…मज़ा नहीं आया…?’ मनिका ने और ज़्यादा सहमते हुए कहा. दरअसल मनिका ने अभी तक सिर्फ़ जयसिंह की हरकतों को एक दीवाने इंसान की हरकतों की तरह ही देखा था. लेकिन अब उनके अंदर की हवस को पूरी तरह बाहर आते देख उसकी सिट्टी-पिट्टि गुम हो गयी थी.

जयसिंह ने इस बार सीधे जवाब न देकर पहले उसकी जाँघ को अपने हाथ से पकड़ कर दबाया, और फिर अपना मुँह उसके चेहरे से सटाते हुए भरभराती आवाज़ में बोले, ‘अरे डार्लिंग, पिछली बार तो अंदर बिना ब्रा-पैंटी पहने आई थी तू…या वो भी मैं कहूँगा तो उतारेगी आज…हूँ?’

मनिका की सारी इज़्ज़त तार-तार हो गयी थी. उसने एकदम से अपने उन्मादी बाप को धक्का दिया और पीछे खिसकते हुए तेज़ी से बिस्तर से उतर कर बाथरूम की तरफ़ भागी. जयसिंह को उसकी इस प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं थी, परंतु वे क्या समझते, वासना ने एक बार फिर उनकी बुद्धि को मात दे दी थी. लेकिन मनिका को इस तरह भागते देख वे भी उसके पीछे लपके थे और बेड से नीचे उतर कर मनिका जैसे ही सीधी होकर भागने लगी थी, जयसिंह ने एक ज़ोरदार थप्पड़ मनिका की अधनंगी गाँड पर जड़ दिया था.

‘तड़ाक’ जयसिंह के हाथ के मनिका की गाँड पर लगते ही एक तेज़ आवाज़ हुयी.

मनिका एक पल लड़खड़ाई थी और उसके मुँह से कराह निकली थी, ‘आह्ह्ह्ह…’ और फिर अगले ही पल वह बाथरूम में जा घुसी और एक सिसकी के साथ दरवाज़ा बंद होने की आवाज़ आई.

‘आऽऽऽऽ…हाए माऽऽऽऽ…’ मनिका अपने हाथों में मुँह छुपाए रो रही थी. हर एक पल बाद उसका अधनंगा जिस्म भय और शर्म से कंपकंपा जाता था. उसे समझ नहीं आ रहा था कि क्या सोच कर उसने अपने आप को इस स्थिति तक आने दिया था. जब उसे साफ़ पता चल चुका था कि उसके पिता के इरादे नेक नहीं है, फिर भी उसने उनका प्रतिकार करने के बजाय उनको उकसाया था. अपनी इस लाचार अवस्था पर विचार कर-कर के बार-बार उसकी रूलाई फूट रही थी. उसे अपने पिता, जयसिंह, पर भी बेहद ग़ुस्सा आ रहा था. उन्होंने अपने धर्म का निर्वाह करने के बजाय उसके साथ इस तरह का कुकर्म करने की कोशिश की थी. आख़िर में तो सब उन्हीं की चालबाज़ी का नतीजा था.

‘बस किसी तरह घर वापस पहुँच जाऊँ, सब बता दूँगी मम्मी को.’ मनिका बैठी हुई ख़ैर मना रही थी, ‘कितने कमीने हैं पापा, कितनी गंदी बात बोल रहे थे मुझे, और मेरेको कैसे गंदा टच कर रहे थे.’ मनिका ने सिहरते हुए सोचा, ‘हे भगवान, ये क्या हो रहा है मेरे साथ? पापा को तो मैं कितना अच्छा समझती थी, कितना प्यार करते थे मुझे वे घर पे…और अब तो मुझे सिर्फ़ गंदी नज़रों से देखते हैं…’ मनिका के दिमाग़ में एक के बाद एक ख़याल आते जा रहे थे, ‘पर मैंने भी तो उनको बढ़ावा दिया…पता नहीं मेरा भी कैसे माथा ख़राब हो गया था…हाय…आज के बाद उनसे कभी बात नहीं करूँगी…ऐसा बाप किसी को न दे भगवान…’

जयसिंह की पाप की लंका का दहन हो चुका था, कुछ पल तो वे अपनी वासना के उन्माद से ऊबर ही न सके थे, लेकिन फिर उन्हें अपनी परिस्थिति की नाजुकता जा अंदाज़ा होने लगा. वे उठ कर बिस्तर पर बैठ गए, उनका लिंग भी अब शांत हो कर सुस्त पड़ गया था. कुछ देर बैठे रहने के बाद वे उठ कर दबे पाँव बाथरूम के दरवाज़े के पास गए. अंदर से मनिका के सिसकने की आवाज़ आ रही थी, वे कुछ पल सुनते रहे और फिर वापस बिस्तर पर जा बैठे. उनका सिर झुका हुआ था और वे हार मान चुके थे.

‘पता नहीं क्या होगा, यह तो सब दाँव उलटे पड़ गए…साली मनिका इस तरह पलटी मार जाएगी, यह तो मेरे दिमाग़ में ही नहीं आया.’ वे अपनी हार पर निराशा और भय से भर चुके थे, ‘कहीं इसने किसी के सामने मुँह खोल दिया तो मैं तो कहीं का नहीं रहूँगा…हे भगवान मेरी भी मत मारी गयी थी, इतने मौक़े आए जब मैं संभल सकता था लेकिन इस वासना के भूत ने मुझे बर्बाद करके ही छोड़ा…’

सुबह होते-होते मनिका की आँख लग गयी थी, वह बाथरूम के ठंडे फ़र्श पर ही निढ़ाल हो कर पड़ी हुई थी.*उधर जयसिंह भी अपनेआप को कोसते-कोसते सो गए थे. वह तो शुक्र था कि उनकी ट्रेन का रेज़र्वेशन होटेल के फ़्रंट-डेस्क वालों ने कराया था, क़रीब सवा-सात बजे उन्होंने वेक-अप कॉल किया. जयसिंह हड़बड़ा कर उठ खड़े हुए.

‘हेल्लो?’ उन्होंने रिसीवर उठाते हुए कहा.

‘सर, होटेल फ़्रंट-डेस्क, दिस इज अ वेक अप कॉल फ़ोर योर कन्वीन्यन्स.’ उधर से आवाज़ आयी.

‘ओह! थैंक-यू…थैंक-यू.’ कहते हुए जयसिंह ने फ़ोन रख दिया.

अब जयसिंह को पिछली रात की अपनी करतूत के सही मायने समझ आने लगे थे. वे अब अपनी बेटी से बात करने लायक भी नहीं रहे थे. वे कुछ देर इसी असमंजस में बैठे रहे कि मनिका को बाथरूम से बाहर आने को कैसे कहें. उनकी ट्रेन सवा-नौ बजे की थी. जब घड़ी में पौने-आठ होने लगे, तो उन्होंने किसी तरह हिम्मत जुटायी और बाथरूम के गेट के पास गए.

जयसिंह ने एक पल रुक कर दरवाज़ा खटखटाया.

मनिका अंदर सोई पड़ी थी ‘वह अपने घर की गली में थी, और एक आदमी उसका पीछा कर रहा था. मनिका ने अपनी चाल तेज़ कर दी, उसका घर अभी भी थोड़ी दूरी पर था. एक बार फिर जब उसने पलट कर उसका पीछा कर रहे इंसान को देखना चाहा तो पाया कि वह बहुत क़रीब आ चुका था और उसे पकड़ने ही वाला था. मनिका का कलेजा मुँह में आने को हो गया, यकायक ही वह दौड़ पड़ी. उसका घर अब कुछ ही क़दम की दूरी पर रह गया था, लेकिन वह आदमी भी अब उसके पीछे भागते हुए आ रहा था. मनिका भागते हुए अपने घर में जा घुसी और मुड़ कर देखा — वह आदमी अभी भी नहीं रुका और उसकी ओर आता चला जा रहा था, मनिका अब भाग कर घर के अंदर जा पहुँची, उसने पाया कि घर में कोई नहीं था. डर के मारे उसकी टाँगें काँप रही थी, वह धड़धड़ाते हुए सीढ़ियाँ चढ़ अपने कमरे में जा पहुँची और दरवाज़ा बंद कर लिया. कुछ पल की शांति के बाद, अचानक दरवाज़ा कोई दरवाज़ा खटखटाने लगा.’ मनिका एक झटके के साथ उठ बैठी. कोई बाथरूम का दरवाज़ा खटखटा रहा था.

सपना टूटने के साथ ही मनिका को अपनी इस अवस्था में होने का कारण भी याद आ गया था. वह बिना बोले बैठी रही.

‘ट्रेन का टाइम हो गया है.’ जयसिंह की आवाज़ आयी और दरवाज़े पर खटखटाहट बंद हो गयी.

अब असमंजस में पड़ने की बारी मनिका की थी. क्या करे कैसे बाहर जाए, वह अभी भी पिछली रात वाली अधनंगी हालत में थी. एक सूट था जो उसने बालटी में भिगो दिया था. उसने उठ कर बाथरूम के शीशे में देखा, रोने की वजह से उसका मेक-अप उसके चेहरे को बदरंग कर चुका था. फिर उसने पीछे घूम कर शॉर्टस को नीचे करने का व्यर्थ प्रयास किया - उसने देखा कि उसके एक कूल्हे पर लाल निशान पड़ गया था, जयसिंह के ज़ोरदार थप्पड़ को याद कर उसके रोंगटे खड़े हो गए थे. थोड़ी देर इसी तरह खड़ी-खड़ी वह अपने आँसू रोकने की कोशिश करती रही, पर कब तक वह बाथरूम में छुपी रहती, आख़िर बाहर तो निकलना ही था.
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:53 PM,
#32
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
जयसिंह बाहर बैठे सोच ही रहे थे कि रेज़र्वेशन कैन्सल करवाएँ या क्या करें जब बाथरूम का दरवाज़ा खुला. उन्होंने ऊपर देखा तो पाया कि मनिका अपने हाथों से अपनी योनि छुपाए बाहर निकली थी.

‘मेरे पास मत आना!’ मनिका ने उन्हें देखते ही चेतावनी दी, और एक पल उन्हें घूरा, जब जयसिंह उसी तरह जड़वत बैठे रहे, तो वह तेज़ी से अपने सामान के पास गयी और कुछ कपड़े लेकर भाग कर वापस बाथरूम में घुस गयी. इस पूरे वाक़ये में कुछ दस से पंद्रह सेकंड ही लगे होंगे.

जब वह वापस बाहर आयी तो पाया के जयसिंह अपना सूट्केस ले कर कमरे के गेट के पास खड़े हैं, उनकी नज़र झुकी हुई थी. मनिका ने बाथरूम में घुस कर कपड़े बदल लिए थे, अब उसने भी अपने कपड़े बैग में रखे, और अपने भीगा सूट जो वह निचोड़ कर लायी थी, एक प्लास्टिक के लिफ़ाफ़े में डाल कर पैक कर लिया. उसने देखा कि जयसिंह अभी तक अपनी जगह से हिले भी नहीं थे. उसने अपना बैग और सूट्केस लिया और दरवाज़े की तरफ़ थोड़ा सा बढ़ी, जयसिंह की इतनी भी हिम्मत नहीं हो रही थी की अपनी बेटी की तरफ़ देख सकें, वे मुड़ कर दरवाज़े से बाहर निकलने को हुए.
‘अगर आपने मुझे हाथ भी लगाने की कोशिश की तो ठीक नहीं होगा!’ मनिका की तल्ख़ आवाज़ उनके कानों में पड़ी. वे बिना कुछ बोले बाहर निकल गए.

मनिका एक पल वहीं खड़ी हुयी ग़ुस्से और दर्द से काँपती रही थी.

बाहर होटेल का हेल्पर उनका सामान लेने आ गया था, जयसिंह ने उसे अंदर से सामान ले आने को कहा और नीचे चले गए. कुछ देर बाद मनिका भी रूम से बाहर आयी और नीचे होटेल की लॉबी की तरफ़ चल दी.

होटेल से वापस राजस्थान तक के सफ़र में मनिका और जयसिंह के बीच एक लफ़्ज़ की भी बातचीत नहीं. कैब से रेल्वे-स्टेशन पहुँचने और अपने ए.सी. फ़र्स्ट-क्लास के कम्पार्ट्मेंट में, वे दोनों एक दूसरे से दूरी बनाए रहे थे. आज न तो उन्हें भूख लग रही थी न ही प्यास — एक तरफ़ मनिका जयसिंह को मन ही मन कोस रही थी और दूसरी तरफ़ जयसिंह ख़ुद अपने पाप की आग में जल रहे थे.

आख़िरकार सफ़र का अंत आ गया, जब ट्रेन बाड़मेर स्टेशन में घुसने लगी, तो लोग उठ-उठ कर अपना सामान दरवाज़ों के पास जमा करने लगे. जयसिंह ने उठ कर अपना सूट्केस बर्थ के नीचे से निकाला, और फिर मनिका के सामान की तरफ़ हाथ बढ़ाया.

‘कोई ज़रूरत नहीं है एहसान करने की…’ मनिका बेरुख़ी से बोली.

वे रुक गए.

‘अभी घर जाते ही सब को बताऊँगी कि आप का असली रूप क्या है!’ मनिका ने रुआंसी हो कर कहा.

जयसिंह ने एक दफ़ा उसकी तरफ़ मिन्नत भरी नज़रों से देखा, पर उनसे कुछ कहते न बना. तभी ट्रेन एक झटके के साथ रुक गयी. 

स्टेशन पर मनिका का पूरा परिवार उन्हें रिसीव करने आया हुआ था. मनिका पहले बाहर निकली थी, और अपने छोटे भाई-बहन को देख उसके चेहरे पर भी एक मुस्कान आ गयी थी. फिर वह थोड़ा सकुचा कर अपनी माँ की तरफ़ बढ़ी,

‘आ गये वापस आख़िर तुम दोनों…’ मनिका की माँ ने मुस्कुरा कर कहा, लेकिन उनकी आवाज़ में हल्का सा व्यंग्य भी था, ज़ाहिर था कि वे मनिका का व्यवहार भूली नहीं थी.

मनिका का दिल भर आया, उसने अपनी माँ को कितना ग़लत समझा था. वह आगे बढ़ी और मधु के गले लग गयी,

‘ओह, मम्मा…’ उसने अपने माँ को बाँहों में भरते हुए कहा, ‘आइ एम सो सॉरी…’

‘अरे…’ मनिका की माँ उसके बदले स्वरूप से अचंभे में थी, फिर संभल कर मुस्कुराई और उसे फिर से गले लगाते हुए बोली, ‘कोई बात नहीं…कोई बात नहीं, चलो भी अब, घर नहीं चलना?’

जयसिंह का यह डर के मनिका घर पहुँच कर उनकी सारी पोल खोल देगी, ग़लत साबित हुआ. हालाँकि शुरू के चार-पाँच दिन तो वे धड़कते दिल से रोज़ घर से अपने ऑफ़िस जाया करते थे, लेकिन फिर धीरे-धीरे वे थोड़ा आश्वस्त हो चले कि अगर मनिका से आगे छेड़-छाड़ न की तो शायद वह किसी से कुछ ना बोले. उधर मनिका ने भी अपना इरादा बदल लिया था, उसने सोचा तो था कि वह अपनी माँ से सब सच-सच बोल देगी, लेकिन जब उसने घर पर इतनी ख़ुशी का माहौल देखा तो उस से कुछ कहते न बना. और बात टलते-टलते टल गयी. जयसिंह का अंदाज़ा सही था, मनिका ने सोच लिया था कि अगर जयसिंह आगे कोई भी गंदी हरकत करेंगे तो वह सबकुछ उगलने में एक पल की भी देरी नहीं करेगी. मनिका को एक और बात भी खल रही थी, उसका अड्मिशन तो दिल्ली में हो गया था लेकिन अब वह जयसिंह के पैसों से वहाँ पढ़ना नहीं चाहती थी. परंतु इस बात पर काफ़ी गहरायी से सोचने के बाद उसने दिल्ली ही जाने का फ़ैसला कर लिया - उसका तर्क था कि वहाँ जा कर एक तो वह हर वक़्त जयसिंह का सामना करने से बच सकेगी - उसे अब वे फूटी आँख नहीं सुहाते थे - और दूसरा, ग़लती जयसिंह की थी और अगर उनका पैसा ख़र्च होता भी है तो अब उसे फ़र्क़ नहीं पड़ना चाहिए, यह उसका हक़ था कि जयसिंह से दूर रहे, भले ही इसके लिए उनका ख़र्चा हो रहा हो.

दो एक हफ़्ते बाद, मनिका के फिर से दिल्ली जाने का समय आ गया. इस बार जयसिंह ने अपनेआप ही उसके साथ जाना यह कह कर टाल दिया के ऑफ़िस में पहले ही काफ़ी काम बाक़ी पड़ा है, सो वे नहीं जा सकेंगे. उधर मनिका ने भी अपनी माँ को इस बात की फ़िक्र में देख उन्हें आश्वासन दिया कि अब उसे दिल्ली में कोई परेशानी नहीं होगी, उसने सभी ज़रूरत की जगहें देख लीं है और वह आराम से आने-जाने में समर्थ है. घर में इस बात को लेकर काफ़ी दिन डिस्कशन चला परंतु अंत में यही तय हुआ कि मनिका अकेले ही दिल्ली जाएगी. वापस आने के बाद से ही मनिका और उसकी माँ में घनिष्टता बढ़ गयी थी, और उसकी माँ ने कई बार उसके समझदार हो जाने कि दाद दी थी. इसी तरह, कुछ अपनों का प्यार और कुछ अपने कल के बुरे अनुभवों से बाहर निकलने के सपने लिए मनिका दिल्ली के लिए रवाना हो गयी.

उस दिन भी, जयसिंह काम का बहाना ले कर, उसे रेल्वे-स्टेशन छोड़ने नहीं आए थे.

एक साल बीत चुका था. मनिका को दिल्ली रास आ गयी थी, उसके बहुत से नए दोस्त बन गए थे और पढ़ाई में तो वह अव्वल रहती ही थी. कॉलेज शुरू होने के बाद से वह वापस बाड़मेर नहीं गयी थी. घर से फ़ोन आता था तो वह कोई न कोई बहाना कर के टाल जाती, बीच में एक दफ़ा मनिका की माँ और उसके भाई-बहन उसके मामा के साथ दिल्ली आ कर उस से मिल कर गए थे. परंतु न तो जयसिंह उनके साथ आए न ही उनसे उसकी कोई बात हुयी. अगर उसकी माँ कभी फ़ोन पर उस से पूछ भी लेती कि ‘पापा से बात हुई?’ तो वह झूठ बोल देती कि हाँ हुई थी. उधर जयसिंह भी इसी झूठ को अपनी बीवी के सामने दोहरा देते थे कि मनिका से बात होती रहती है. मनिका के बिना कहे ही उसके अकाउंट में हर महीने पैसे भी वे जमा करवा देते थे और अगर मनिका को किसी और ख़र्चे के लिए पैसे चाहिए होते थे तो वह अपनी माँ से ही कहती थी.

कॉलेज का पहला साल ख़त्म हो चुका था, लेकिन मनिका एक्स्ट्रा-क्लास का बहाना कर दिल्ली में ही रुकी हुयी थी. उसके कॉलेज के हॉस्टल में कुछ विदेशी स्टूडेंट्स भी रहती थी, सो हॉस्टल पूरे साल खुला रहता था.

आज मनिका का जन्मदिन था.

मनिका ने अपनी माँ से कुछ दिन पहले ही कुछ पैसे भिजवाने को कहा था, लेकिन वे भूल गयी थी. मनिका ने अपनी कुछ लोकल फ़्रेंड्ज़ को पार्टी के लिए बुलाया था. पर जब उसने अपने अकाउंट में बैलेन्स चेक किया तो पाया कि पैसे अभी तक नहीं आए थे. हालाँकि उसके पास पैसे पड़े थे लेकिन वे उसके महीने के नॉर्मल ख़र्चे वाले पैसे थे. ‘शायद मम्मा भूल गयी, चलो कोई बात नहीं, उनसे बाद में डिपॉज़िट कराने को कह दूँगी.’ मनिका ने सोचा और पार्टी करने फ़्रेंड्ज़ के साथ साकेत मॉल चल दी.

उन्होंने उस दिन काफ़ी मज़ा-मस्ती की. मनिका की सहेलियाँ उसके लिए एक केक लेकर आयीं थी —अपना फ़ेवरेट चोक्लेट केक देख वह बहुत ख़ुश हुई. पूरा दिन इसी तरह हँसते-खेलते और शॉपिंग करते बीत गया, कब शाम हो गयी उन्हें पता भी न चला. वे सब अब अपने-अपने घर के लिए निकलने लगीं. आख़िर में मनिका और उसकी फ़्रेंड रश्मि ही रह गए.

‘आर यू नॉट लीविंग?’ मनिका ने रश्मि को जाने का नाम न लेते देख पूछा. वह आज की पार्टी की होस्ट थी सो उसने सोचा था सब के चले जाने के बाद हॉस्टल के लिए निकलेगी.

‘या या…यू गो मणि, आइ विल गो बाय मायसेल्फ़.’ रश्मि बोली.

‘अरे, हाउ केन आइ गो लीविंग यू हियर?’ मनिका बोली, ‘तुम सब सेफ़्ली घर चले जाओ उसके बाद ही मैं जाऊँगी…’

‘हाहाहा…आइ एम नॉट गोइंग होम सिली (बेवक़ूफ़).’ रश्मि ने खिखियाकर कहा.

‘वट डू यू मीन?’ मनिका ने आश्चर्य से पूछा.

‘अरे यार, राजेश आ रहा है मुझे लेने, मैंने घर पर तेरे बर्थ्डे का बहाना किया है और बोला है कि आज तेरे पास रुकूँगी…’ रश्मि ने मनिका को आँख मारते हुए कहा. राजेश उसका बॉयफ़्रेंड था.

‘हैं…’ मनिका ने बड़ी-बड़ी आँखें कर के पूछा, ‘तुम उसके साथ रहोगी रात भर?’

‘हाहाहा…हाँ भयी हमारी बाड़मेर की सावित्री…वी विल हैव सम फ़न टुनाइट…’ रश्मि ने उसे फिर आँख मारी. सब जानते थे कि मनिका का कोई बॉयफ़्रेंड नहीं था.

‘हे भगवान…’ मनिका से और कुछ कहते न बना.

तभी रश्मि का फ़ोन बज उठा, राजेश बाहर आ गया था. रश्मि मुस्कुराते हुए उठ खड़ी हुयी,

‘ओके मणि, थैंक्स फ़ोर द ओसम ट्रीट. अब तुम जा सकती हो…बहुत मज़ा आया आज…काफ़ी पैसे भेजे लगते हैं तुम्हारे पापा ने उड़ाने के लिए इस बार.’

‘हुह…’ अपने पिता का ज़िक्र सुन मनिका ने मुँह बनाया, फिर मुस्का कर बोली, ‘थैंक्स फ़ोर कमिंग रशु.’

रश्मि के जाने के बाद मनिका ने अपने गिफ़्ट्स समेटे और एक कैब लेकर अपने हॉस्टल आ गयी. रास्ते में वह यही सोच रही थी कि रश्मि कितनी चालू निकली, अपने बॉयफ़्रेंड के साथ ‘फ़न’ करेगी मेरा बहाना लेकर. ‘चलो जो भी करे मुझे क्या करना है.’ तब तक उसका हॉस्टल आ गया था.

मनिका ने अपने रूम में पहुँच कर कपड़े बदले और हाथ-मुँह धो कर बेड पर जा बैठी व एक-एक कर अपने गिफ़्ट देखने लगी. सब लड़कियों को अमूमन मिलने वाली ही चीज़ें थी — दो स्कर्ट्स थे, जो अदिति लायी थी, एक मेक-अप किट था, रवीना की तरफ़ से, और एक क्रॉप-टॉप था, रश्मि की तरफ़ से. ‘अपने जैसा ही गिफ़्ट लाई है मुयी.’ मनिका ने क्रॉप-टॉप देख कर सोचा.

तभी उसका फ़ोन बज उठा. देखा तो उसकी माँ का फ़ोन था.

‘हाय मम्मा..’ मनिका ने उत्साह से फ़ोन उठाते हुए कहा.

‘कैसा रहा बर्थ्डे?’ उसकी माँ ने पूछा.

‘बहुत अच्छा मम्मा…’ मनिका उन्हें दिन भर की बातें बताने लगी.

कुछ देर माँ-बेटी की बातें चलती रहीं. तभी मनिका को याद आया,

‘माँ, आपको पैसे ट्रान्स्फ़र के लिए बोला था ना बर्थ्डे के लिए? आपने भेजे ही नहीं…सारी पार्टी अपने नॉर्मल वाले बैलेन्स से करी है आज मैंने…’

‘अरे, तेरे पापा को बोला था, कुछ याद नहीं रहता इन्हें भी, ले तू ही बोल दे…’ उसकी माँ ने कहा.

मनिका कुछ बोल पाती उस से पहले ही दूसरी तरफ़ से फ़ोन किसी और के पकड़ने की आवाज़ आयी. मनिका की धड़कनें बढ़ गयी थी.

‘हेल्लो?’ उसके पिता की आवाज़ आइ.

मनिका कुछ नहीं बोली.

‘अच्छा हाँ, हैपी बर्थ्डे वन्स अगैन मणि…हाँ हाँ सॉरी, वो पैसे मैं सुबह ही भेज देता हूँ.’ जयसिंह मधु के सामने झूठ-मूठ ही बातें कर रहे थे. ‘लो हाँ भयी, मम्मी से बात कर लो.’

उसके पिता ने बड़ी ही चतुरायी से फ़ोन वापस उसकी माँ को दे दिया था.

मनिका की माँ ने कुछ देर और बातें करने के बाद फ़ोन रख दिया था. मनिका अपना सामान एक ओर रख बेड पर लेटी हुयी थी, उसके मन में एक उथल-पुथल मची हुयी थी. आज एक अरसे बाद जयसिंह की आवाज़ सुनी थी, उन्होंने उसे ‘मणि’ कह कर पुकारा था. मनिका ने उस भयानक रात के बाद काफ़ी वक़्त यह सोचते हुए बिताया था, कि आख़िर क्यूँ, कब और कैसे उसके पिता ने उसे बुरी नज़र से देखना शुरू किया था. उसे एहसास हुआ कि जब से जयसिंह ने उसे मनिका कह कर बुलाना शुरू किया था, तभी से उनके आचरण में बदलाव आ गया था. और आज उनका उसे उसके घर के नाम से बुलाना उसे थोड़ा विचलित कर गया था — ‘क्या पापा अपने किए पर शर्मिंदा हैं?’ उसने मन ही मन सोचा. धीरे-धीरे उसे पुरानी बातें याद आने लगीं, जिनके बारे में सोचना वह छोड़ चुकी थी — कि कैसे जयसिंह उस रात के बाद उस से दूर रहने लगे थे और उस से आँखें तक नहीं मिलते थे. लेकिन उनसे सामना हुए एक साल बीत चुका था — ‘तो क्या पापा सच में बदल गए हैं?’ मनिका ने ख़ुद से एक और सवाल किया. सोचते-सोचते उसने करवट बदली और उसकी नज़र सामने कुर्सी पर रखे उस क्रॉप-टॉप पर गयी जो आज उसे गिफ़्ट में मिला था.

‘रश्मि भी ना ज़्यादा मॉडर्न बनती है…क्या कह रही थी आज, बाड़मेर की सावित्री…एक बॉयफ़्रेंड क्या बना लिया. सब मुझे इसी तरह चिढ़ाते हैं…उन्हें क्या पता मेरे साथ क्या हो चुका है, मेरे अपने पापा ने मुझे…हाय…कितनी बेवक़ूफ़ थी मैं, सब जान कर भी अनजान बनी रही…और पापा ने कितना फ़ायदा उठाया मेरा. स्कूल की सब फ़्रेंड्ज़ तो पापा को मेरा बॉयफ़्रेंड तक कहती थीं…और यहाँ सब सोचतीं है कि मुझे कुछ पता नहीं लड़कों के बारे में…उन्हें क्या पता है..? उनके ऐसे गंदे पापा जो नहीं है…जो उन्हें अपने साथ रूम में सुला कर गंदी हरकतें करते हों और अपना…डिक…दिखाते हों…हाय राम, कितना बड़ा और काला डिक था पापा का…और वे मुझे दिखा दिए…ज़रा भी शर्म नहीं आइ. कैसे चमक रहा था उनके पैरों के बीच, और पापा के बॉल्ज़ (टट्टे) भी कितने बड़े-बड़े थे…’ मनिका को एहसास भी नहीं हुआ था कि कब यह सब सोचते-सोचते उसने अपनेआप को अपनी बाँहों में कस लिया था और अपनी टाँगें भींच ली थी. अचानक उसकी तन्द्रा टूटी, उसके पूरे बदन में एक अजीब सी लहर उठ रही थी. कुछ पल तक उसने हिलने-डुलने की कोशिश की, लेकिन उसपर एक मदहोशी सी छाने लगी थी और थोड़ी ही देर में वह गहरी नींद के आग़ोश में समा गयी.

उधर जयसिंह ने आज अपनी बीवी के अचानक से उन्हें फ़ोन पकड़ा देने पर बड़ी ही होशियारी से स्थिति को संभाल लिया था. वे यही सोचते-सोचते सो गए थे कि कहीं मनिका बुरा न मान गयी हो और यह न सोच ले कि उन्होंने जान-बूझकर फ़ोन लिया था.

अगली सुबह जब मनिका उठी, तो कुछ पल के लिए वह समझ नहीं पाई कि वह इतनी विचलित क्यूँ है. पर फिर उसे पिछली रात की बातें याद आने लगी, उसने कल एक साल में पहली बार अपने गंदे बाप की आवाज़ सुनी थी. और यही सोचते-सोचते उसकी आँख लग गयी थी, वह अब उठने को हुई, लेकिन कॉलेज की तो छुट्टियाँ चल रहीं थी, आलस के मारे उसने फिर आँखे मींच ली और सुस्ताने लगी. धीरे-धीरे उसके अवचेतन मन में फिर से वही बातें आने लगीं — ‘सब को लगता है, बॉयफ़्रेंड ही सबकुछ होते हैं…क्या तो बॉयफ़्रेंड है रश्मि का, राजेश, न कुछ काम करता है न कुछ और…बस बाइक लेकर आवारगर्दी करता है पूरे दिन…उस पर इतना इतराती और है, और मुझे ताने मारती है…सब पता है मुझे इन मर्दों का, पापा ने भी तो यही कह कर फँसाया था…कि वो मेरे बॉयफ़्रेंड हैं, क्यूँकि मैंने उनको बता दिया कि मेरी बेवक़ूफ़ फ़्रेंड्ज़ उनके लिए ऐसा बोलती हैं…तो क्या तभी से वे मुझे गंदी नज़र से देखने लगे होंगे? हो सकता है…पर वे तो कहते थे कि बॉयफ़्रेंड्ज़ और मर्दों में डिफ़्रेन्स होता है…मे बी…मर्द काम करते हैं, सकक्सेस्फुल होते हैं, बॉयफ़्रेंड्ज़ की तरह आवारा नहीं होते…जैसे राजेश है…कितना इम्प्रेस हो गये थे वे लोग पापा से जिनके साथ हमने पूल खेला था…और रश्मि अवेंयी इतना इतराती है राजेश पर…क्या बोल रि थी कल, वी विल हेव सम फ़न?…उस लंगूर का क्या तो फ़न करेगी…उसका तो किसी मर्द जितना बड़ा भी नहीं होगा…पापा के डिक जैसा…ओह गॉड…कैसे हिलाया था पापा ने उसे…मुझे तो लगा था कि उछल कर मुझे टच करने वाला है…इतना लम्बा…’ मनिका बिस्तर में पड़ी-पड़ी कसमसा उठी थी और उलटी हो कर लेट गयी, पर उसके अंतर्मन की बातें फिर भी चलती रहीं, ‘आइ ईवेन ड्रीम्ड अबाउट ईट…कैसे पापा मेरे रूम में बेड पर आ गये थे…और मुझे बोले कि मैं तो नंगी हूँ…और पापा भी नंगे थे…मुझे कैसे अपनी बाँहों में दबा-दबा कर…ओह्ह्ह्ह…एंड आइ वास होल्डिंग हिज़ डिक…हाथ में पूरा ही नहीं आ रहा था…कैसे दबा रही थी मैं उसको…पापा का बड़ा सा डिक…कैसा गंदा बोल रहे थे फिर…जवान हो गयी हो…एंड मेरे बूब्स को घूर रहे थे, एंड हिज़ हैंड वास ऑन माई नेकेड थाइज़. बोले ब्रा और पैंटी उतार दो…बरमूडा शॉर्ट्स में से ही उनका डिक मुझे टच कर रहा था…’

‘उन्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह…’ एक ज़ोरदार सिसकी के साथ मनिका ने अपना अधोभाग ऊपर उठाया था, ‘उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़…’ एक दो बार और उसका शरीर थरथर्राया और फिर वह शांत हो गयी, उसकी गाँड अभी भी ऊँची उठी हुयी थी.

जब थोड़ी देर बाद मनिका होश में आयी तो उसके होश फ़ाख्ता हो गए, ‘ओह गॉड, ये अभी मैंने क्या किया…?’ वह थोड़ा सा हिली तो उसे अपने पैरों के बीच कुछ गीलापन महसूस हुआ. ‘ओफ़्फ़्फ…डिड आइ जस्ट केम?’ (क्या मैं अभी-अभी झड़ गयी हूँ?)

मनिका जल्दी से उठने को हुई लेकिन उसके बदन में जैसे बुखार आ गया था. वह निढ़ाल हो कर फिर से बिस्तर पर गिर पड़ी.
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:53 PM,
#33
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
जब थोड़ी देर बाद मनिका होश में आयी तो उसके होश फ़ाख्ता हो गए, ‘ओह गॉड, ये अभी मैंने क्या किया…?’ वह थोड़ा सा हिली तो उसे अपने पैरों के बीच कुछ गीलापन महसूस हुआ. ‘ओफ़्फ़्फ…डिड आइ जस्ट केम?’ (क्या मैं अभी-अभी झड़ गयी हूँ?)

मनिका जल्दी से उठने को हुई लेकिन उसके बदन में जैसे बुखार आ गया था. वह निढ़ाल हो कर फिर से बिस्तर पर गिर पड़ी.

शाम होते-होते मनिका का आवेग थोड़ा कम हुआ, वह बिस्तर से निकली और अपना कमरा ठीक करने लगी, लेकिन उसके दिमाग़ में सिर्फ़ एक ही बात थी — ‘आइ केम थिंकिंग अबाउट पापा…एंड हिज़ डिक.’ जयसिंह के लंड का ख़याल आते ही मनिका नए सिरे से सिहर उठती थी. वह जैसे-तैसे करके नीचे हॉस्टल के डाइनिंग हॉल में जा कर डिनर कर के आइ और वापस आ कर फिर से लेट गयी. कुछ देर लेटे रहने के बाद उसने अपने सिरहाने रखे फ़ोन को टटोला. उसने पाया कि दो नए मेसेज आए हुए थे, एक तो बिलेटेड हैपी बर्थ्डे विश का था और दूसरा उसके बैंक से था. उसके अकाउंट में बीस हज़ार रुपए जमा हुए थे, एक बार फिर उसका बदन तप उठा, उसने तो अपनी माँ से सिर्फ़ पाँच हज़ार के लिए कहा था, ‘तो क्या पापा ने…?’

मनिका को उस रात देर तक नींद नहीं आयी, और सुबह होते-होते वह एक बार फिर अपने पिता के काले-मोटे लंड के ख़यालों में खो गयी थी. अगले कुछ दिन मनिका की हालत बेहद ख़राब रही, अचानक अपने अंदर जगी इस आग को बुझाने का उसका हर प्रयत्न विफल रहा था. हर बार वह अपने आप को कोसते हुए अगली बार ऐसा ना होने देने का प्रण करती और हर बार अपनी इच्छाओं के सामने बेबस हो जाती. इसी तरह एक रात जब उसकी कामिच्छा अपने चरम पर थी तो वह मस्ती में सिसकती-सिसकती बोल पड़ी,

‘उम्ह्ह्ह्ह्ह पापाऽऽऽऽऽऽऽ…..पापाऽऽऽऽऽऽऽ…योर डिक पापा…स्स्स्स्स्स्साऽऽऽऽ सो बिग…’

और जब उसे होश आया तो उसकी ग्लानि की कोई सीमा नहीं थी. ‘ओह गॉड, ये मुझे क्या होता जा रहा है? पापा का डिक…उम्मम्म…क्यूँ मैं उसके बारे में ही सोचती रहती हूँ?’

इधर मनिका का कॉलेज शुरू होने में कुछ ही दिन बचे थे, वह नए समेस्टर की फ़ीस वगरह जमा करवाने के बाद ज़्यादातर वक़्त अपने कमरे में ही बिताने लगी थी. उसने जयसिंह के साथ बितायी आख़िरी रात के बाद ही अपने लैप्टॉप से उनकी सारी फ़ोटोज डिलीट कर दी थी. पर फिर एक दिन उसने ऑनलाइन सर्च किया कि डिलीट हुयी फ़ाइल्ज़ कैसे वापस लाई जा सकती है. थोड़ा ढूँढने पर उसे एक प्रोग्राम मिला जिस से डिलीट कर हुआ डेटा रिकवर किया जा सकता था. धड़कते दिल से उसने वो प्रोग्राम चलाया, लेकिन उसे अपने पिता की फ़ोटोज डिलीट किए काफ़ी अरसा हो गया था, सो प्रोग्राम से सिर्फ़ एक दो फ़ोटो ही रिकवर हो सके. पर मनिका के हाथ तो मानो सोना लगा गया था, जो फ़ोटो उसने रिकवर किए थे, उनमे से एक फ़ोटो तो ऐसे ही था जिसमें जयसिंह की पीठ उसकी तरफ़ थी और वह सेल्फ़ी ले रही थी, लेकिन दूसरे तब का था जब उसने रूम में अपनी नयी-नयी ड्रेसेज़ पहन कर उन्हें दिखाई थी और इस में वह वो बदन से चिपकी काली ड्रेस पहन कर उनकी गोद में बैठी थी. फ़ोटो को देखते ही मनिका, बेड पर उलटी लेट गयी और लैप्टॉप अपने सिरहाने रख उस फ़ोटो को देख-देख मस्ताने लगी. ‘उम्मम्म पापा…उम्मम्म…’ करते हुए उसने लैप्टॉप स्क्रीन पर ही एक दो किस कर दिए थे.

मनिका का कॉलेज शुरू हो गया था. लेकिन पिछले समेस्टर की तरह इस बार न तो मनिका क्लास में फ़र्स्ट-बेंच पर बैठी दिखायी देती थी और ना ही उसकी पढ़ाई की पर्फ़ॉर्मन्स इतनी अच्छी थी. एक दो बार जब किसी प्रोफ़ेसर ने उसे टोका भी, तो उसने अनसुना कर दिया था. कुछ दिन बाद उसने कॉलेज से बंक मारना भी शुरू कर दिया और अपने कमरे में ही ज़्यादातर वक़्त बिताने लगी. यूँ ही करते-करते सितम्बर का महीना आ गया. ९ सितम्बर को जयसिंह का जन्मदिन था.

आठ की रात को मनिका धड़कते दिल के साथ जगी हुई थी. उसके मन में एक उपाहपोह की स्थिति थी, कि क्या वह अपने पिता को बर्थ्डे विश करे या न करे. जब रात के १२ बजने में कुछ ही मिनट रह गए तो मनिका ने कांपते हाथों से अपने फ़ोन में एक मेसिज टाइप किया,

“Happy Birthday Papa”

पर फिर जब उसने कुछ देर सोचा तो उसे लगा कि हो सकता है उसके पापा यह रिप्लाई कर दें,

“Thank You Mani”

यह सोच कर उसका मन थोड़ा खिन्न हो गया था, उसने एक दो बार फिर ट्राई किया और आख़िर एक मेसेज लिखा,

“Happy Birthday My Dear Papa
From: Manika”

उस मेसेज को पढ़-पढ़ कर ही मनिका की अंगड़ाई टूट रही थी. बारह बजने में सिर्फ़ कुछ ही सेकंड बचे थे, मनिका ने डर के मारे एक बार मेसेज एप बंद कर दिया. पर फिर हड़बड़ाते हुए जल्दी से एप वापस खोला और सेव हुए मेसेज के सेंड बटन को दबा दिया. सिर्फ़ इतना सा करने के साथ ही मनिका एक बार फिर तड़पते हुए तकये में मुँह दबा कर आनंदित चीतकारें मारने लगी,

‘पापाऽऽऽऽऽऽ, उम्ममा…हैपी बर्थ्डे फ़्रम योर मनिका…हैपी बर्थ्डे टू योर बिग डिक पापा…उन्ह्ह्ह्ह…’

जयसिंह जगे हुए थे. उनकी बीवी और बच्चे पहले ही उन्हें उठा चुके थे. घर में ख़ुशी का माहौल था. वे भी अपने परिवार को गले लगा कर उन्हें बर्थ्डे विश के लिए धन्यवाद कह रहे थे. पर क्यूँकि रात काफ़ी हो चुकी थी, और जन्मदिन अगले दिन मनाना था, तो कुछ देर बाद वे सब अपने-अपने कमरे में सोने चले गए.

जयसिंह अपने कमरे में आ कर लेट गए. मधु बाथरूम में थी. तभी उनकी नज़र अपने फ़ोन पर गयी, जिसकी नोटिफ़िकेशन लाइट जल रही थी. यह सोच कर कि देखें किस-किस मेसेज किए हैं उन्होंने फ़ोन उठा कर देखा. सिर्फ़ एक ही मेसेज था.

मेसेज पढ़ते ही जयसिंह का बदन शोला हो उठा था. वे कुछ समझ नहीं पा रहे थे क्या करें, उनके माथे पर पसीने की बूँदें छलक आयीं थी. तभी मधु बाथरूम से निकल आयी, जयसिंह ने आनन-फ़ानन में फ़ोन एक तरफ़ रख दिया और लेट गए.

मधु आकर उनके बग़ल में लेट गयी. उनका जन्मदिन था सो मधु ने अपने पति को कुछ सुख देने का सोचा था, लेकिन एक दो बार जब जयसिंह ने मधु के उकसावे का जवाब नहीं दिया तो वह चुपचाप लेट कर सोने लगी. तीन बच्चे हो जाने के बाद अब उनके बीच कभी-कभार ही गहमा-गहमी होती थी, वरना दोनों आपसी समझ से सो जाया करते थे.
कुछ देर बाद जब जयसिंह आश्वस्त हो गए कि उनकी बीवी सो चुकी है तो उन्होंने एक बार फिर अपनी जवान बेटी का रूख किया. उनका लंड अब तन चुका था. मनिका का मेसेज काफ़ी उत्तेजक था, जयसिंह मेसेज देखते ही यह तो नहीं समझ सके थे कि मनिका ने ऐसा मेसेज क्यूँ किया लेकिन उसके पीछे दबी बात उनके समझ ज़रूर आ गयी थी. लेकिन वे इस बार अंधेरे में कोई तीर नहीं चलाना चाहते थे सो उन्होंने मनिका को रिप्लाई किया,

“Thank You Mani Dear”

मनिका फ़ोन के पास पड़ी आहें भर रही थी जब जयसिंह का रिप्लाई आया. उसने झट फ़ोन उठा कर देखा, और उसका सारा नशा उतार गया. उसके पापा ने उसे मणि कह कर बुलाया था. ‘क्या पापा सच में बदल चुके है? और मैं ही ऐसी गंदी बातें सोचने लगी हूँ?’ मनिका अंतर्द्वंद्व से घिर चुकी थी, उसने अपने आप को ऐसा क़दम उठाने के लिए कोसा और शर्म से पानी-पानी हो गयी.

अगला दिन मनिका का पिछले कुछ महीनों का पहला ऐसा दिन था जब उसने एक बार भी अपने पिता के बारे में ग़लत नहीं सोचा था. वह आत्मग्लानि से भरी काफ़ी दिन बाद आज कॉलेज भी आई थी. पूरे दिन पश्चाताप की आग में जलने के बाद वह अपने हॉस्टल रूम में लौट आई. उसका मन भारी था, जिस पाप के लिए उसने अपने पिता को नकारा था, आज वही पाप उसके ख़ुद करने का एहसास उसे दबाता जा रहा था. उसे समझ नहीं आ रहा था कि कैसे वह इतने महीनों से इस उन्माद का शिकार हो गयी थी.

अगला दिन मनिका का पिछले कुछ महीनों का पहला ऐसा दिन था जब उसने एक बार भी अपने पिता के बारे में ग़लत नहीं सोचा था. वह आत्मग्लानि से भरी काफ़ी दिन बाद आज कॉलेज भी आई थी. पूरे दिन पश्चाताप की आग में जलने के बाद वह अपने हॉस्टल रूम में लौट आई. उसका मन भारी था, जिस पाप के लिए उसने अपने पिता को नकारा था, आज वही पाप उसके ख़ुद करने का एहसास उसे दबाता जा रहा था. उसे समझ नहीं आ रहा था कि कैसे वह इतने महीनों से इस उन्माद का शिकार हो गयी थी.

इधर रात में जयसिंह भी ये सोचकर परेशान था कि "मनिका ने ऐसा मेसेज क्यों किया? हो सकता कि समय के साथ मनिका के मन मे मेरे लिए नफ़रत थोड़ी कम हो गई हो। या फिर ऐसा भी हो सकता है कि वो बस मेरे जन्मदिन की वजह से बस मुझे विश कर रही हो। पर उसने मेसेज में अपने आपको मनिका क्यों कहा ? उसे अपना नाम लिखने की क्या जरूरत थी? "

इस तरह सोचते सोचते ही जयसिंह की आंखे भारी होने लगी थी। पर कोई फैसला न कर पाने की वजह से आखिरकार हारकर वो चुपचाप सो गए थे। 

जब से मनिका के साथ उनका वो दिल्ली वाला कांड हुआ था, जयसिंह उदास उदास रहने लगा था। वो घर मे किसी से ज्यादा बात भी नही करता ।उसने अपने आपको पूरा व्यापार में झोंक दिया था। उसकी पीड़ा और ग्लानि उसको मन ही मन खाये जा रही थी।

उसे लगभग एक साल हो गया था मनिका से मिले हुए। यहां तक कि उसने उससे बात भी नही की थी। वो मनिका के गुस्से को जानता था। उसको पता था कि शायद मनिका उसे कभी माफ न करे। इस बात का दुख हमेशा उसके मन मे रहता । कभी कभी वो सोचता कि उसे कभी दिल्ली जाना ही नहीं चाहिए था। ना वो दिल्ली जाता और ना उसके मन मे मनिका के लिए कोई बुरा ख्याल आता।


पर होनी को कौन टाल सकता था। जो हुआ सो हुआ। पर अब जयसिंह ने मन ही मन ये निश्चय कर लिया कि वो अपनी गलती का पश्चाताप करेंगे। वो मनिका से जितना दूर हो सकता है, रहेंगे।

और इसीलिए अब वो मनिका से ना कभी बात करने की कोशिश करता और ना ही उसे कभी मेसेज करता।बस जब कभी उसे पैसो की जरूरत होती, तो उसके एकाउंट में डलवा देता।
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:54 PM,
#34
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
जयसिंह अब घर कम ही आता था। उसने अपने ऑफिस में ही ज्यादा वक्त बिताना शुरू कर दिया था। रात रात भर वही रुकता. इसका एक फायदा तो ये हुआ कि उसका बिज़नेस दिन दूनी रात चौगुनी गति से बढ़ रहा था। पर नुकसान ये कि अब वो पहले जैसा हसमुंख इंसान नही रहा था। 

जयसिंह की पत्नी मधु भी उसकी उदासी का कारण नही जान पायी।जब वो कभी उससे उदासी की वजह पूछती तो जयसिंह बस बिज़नेस का बहाना बना देता। दिल्ली वाली घटना के बाद से ही जयसिंह ने मधु के साथ कभी भी शारीरिक संम्बंध नहीं बनाए थे। हालांकि वो लोग पहले भी महीने में एक या दो बार ही सेक्स करते थे पर अब तो वो भी बिल्कुल बन्द हो चुका था। मधु अपनी तरफ से भी कभी कोशिश करती तो भी जयसिंह का ठंडा रेस्पांस देखकर वो भी ठंडी हो जाती। वो सोचती की शायद बिज़नेस की वजह से जयसिंह की रुचि सेक्स में कम हो गयी है पर उसे क्या पता था कि जयसिंह कौनसी चोट खाये बैठा है।

उधर लाख कोशिशों के बाद भी मनिका के मन मे जयसिंह के प्रति प्रेम दिनोदिन बढ़ता ही गया। उसकी वासना ने उसके दिमाग को पूरी तरह से वश में कर लिया था।

परन्तु उसके मन मे डर था कि

"" उसने इतने महीने तक अपने पिता के साथ जैसा सलूक किया, उसके लिए वो उसे माफ करेंगे ? कहीं इतने महीनों में पापा सब कुछ भूल तो नही गए? कहीं वो बिल्कुल बदल तो नही गए?
क्योंकि अगर वो बदल चुके हैं, और मुझे अब एक बेटी के रूप में देखते है तो मैं किस तरह उनका सामना कर पाऊंगी जबकि मेरा मन उन्हें अपना मानने लगा है ... मैं कैसे उनके सामने जा पाऊंगी, कैसे उनसे बात कर पाऊंगी, कहीं उन्होंने मुझे ठुकरा दिया तो, नहीं नहीं मैं बर्दास्त नही कर पाऊंगी.....मैं किसी भी हाल में अपने पापा को दोबारा पाकर रहूंगी" मनिका यही सब सोचती रहती।

दिनों दिन मनिका की वासना बढ़ती जा रही थी। मनिका 1 साल से अपने घर नही गयी थी ताकि उसे अपने पापा का सामना न करना पड़े। पर अब वो जल्द से जल्द घर जाना चाहती थी। लेकिन उसे मौका ही नही मिल पा रहा था।
दिन ऐसे ही कटते गए,पर न तो मनिका को घर जाने का मौका मिला और ना ही इस दौरान उसकी जयसिंह से बात हो पाई। उसने एक दो बार कोशिश भी की जयसिंह से बात करने की पर मोबाइल में नम्बर डायल करने के बाद भी कभी वो कॉल न कर पाती और तुरन्त काट देती।

दिसम्बर के महीने में उसके सेमेस्टर एग्जाम थे। इस बार उसका ध्यान पढ़ाई पे कम ही था, इसलिए उसके एग्जाम भी ज्यादा अच्छे नहीं हुए पर उसे इस बात की ज़रा सी भी परवाह नही थी। वो तो ये सोचकर खुश थी अब उसकी 1 महीने की छुट्टियाँ पड़ने वाली थी।

उसने लास्ट पेपर खत्म होते ही होस्टल जाकर सीधा मोबाइल निकाला और अपनी मम्मी को फ़ोन किया- 

मनिका - हेलो, मम्मी ,मैं मनिका बोल रही हूं

मधु - हां मणि , कैसी है बेटा, आज तेरा लास्ट पेपर था ना, कैसा हुआ पेपर ?

मनिका - पेपर तो ठीक ही हुआ है मोम

मधु - अच्छा तो अब दोबारा कब शुरू होगी तेरी क्लासेस

मनिका - क्या मम्मी ,अभी तो पेपर खत्म हुए है और आप अभी से मुझे दोबारा क्लासेज के बारे मे पूछ रहे हो।

मधु - तो क्या करूं, तुम तो घर आती नही जो मैं तुमसे छुट्टियों के बारे में पूछुं। तुम तो दिल्ली जाकर ऐसी रम गई हो कि घर आना ही नही चाहती

मनिका - सॉरी मम्मी, पर इस बार मैं आपको शिकायत का मौका नहीं दूंगी


मधु(खुश होते हुए) - मतलब तू घर आ रही है

मनिका - हाँ मम्मी , और इस बार मैं एक महीना रुकने वाली हूं.

मधु ने जब ये सुना तो वो तो खुशी के मारे फुले ना समाई।

मनिका - मम्मी आप मेरी कल की ही ट्रेन की टिकट करा दो,

मधु - हाँ बेटा, मैं अभी तुम्हारे पापा से कहकर टिकट करवाती हूँ
और तू कल आराम से आना, मैं तुझे लेने तेरे पापा को भेज दूंगी।

मनिका - ok मम्मी, bye


जब मनिका ने अपने पापा का नाम सुना तो उसके बदन ने एक जोर की अंगड़ाई ली और उसका शरीर गरम होने लगा।
इसे अपनी पेंटी थोड़ी गीली सी महसूस हुई। 
वो मन ही मन सोचने लगी कि वो अपने पापा का नाम सुनकर ही गीली हो गई तो जब कल वो उसे लेने स्टेशन पर आएंगे तो क्या होगा।
वो अपनी ही सोच से शर्मा उठी। अब बस उसे कल का इंतज़ार था।

रात को जब जयसिंह घर आया तो डिनर की टेबल पर मधु उससे बोली

मधु - सुनिए, आज मणि के सारे पेपर खत्म हो गए है, उसकी 1 महीने की छुट्टियां हैं, इसलिए वो घर आ रही है , मैन आपको दिन में फ़ोन किया था ,पर आपका फ़ोन बन्द आ रहा था, इसलिए मैंने खुद ही उसकी ट्रैन की टिकर कर कर उसे मेसेज कर दिया है।

जयसिंह ने जब ये सुना कि मनिका 1 साल बाद कल घर आ रही है, तो उसके मुंह का निवाला गले मे ही अटक गया, और वो जोर जोर से खांसने लगा।

मधु ने उसे पानी दिया और बोली

मधु - मुझे लगता है कि मणि के आने की बात सुनकर खुशि से आपका निवाला गले मे ही अटक गया है,

और ये बोलकर वो हसने लगी। उसके साथ साथ उसकी छोटी बेटी कनिका ओर बेटा भी हसने लगे।

उनको यूँ हसता देख जयसिंह भी बेमन से मुस्कुरा दिया पर उसके मन मे एक अजीब सा डर बैठ गया था।


वो सोचने लगा " मैं मणि का सामना कैसे कर पाऊंगा, कैसे मैं उससे अपनी नज़रे मिला पाऊंगा, अब तक तो मैं मधु को झूठ बोलता था कि मैं मणि से बातें करता रहता हूँ पर उसके सामने मैं कैसे उससे बातें कर पाऊंगा, मेरी पुरानी गलती की सज़ा मैं अब तक भुगत रहा हूँ, मैं अपनी ही बेटी की नज़रों में गिर गया हूँ, अगर अब कुछ गलत हो गया तो कहीं मैं सबकी नजरों में न गिर जाऊं, नहीं नहीं मैं ऐसा नहीं होने दूंगा, मैं मणि से जितना दूर हो सके रहूंगा ताकि मुझसे कहीं दोबारा कोई गलती न हो जाये "

जयसिंह यही सोचते सोचते पहले ही परेशान था कि मधु ने उस पर एक और बम फोड़ा

मधु - आप कल मणि को रिसीव करने स्टेशन चले जाना, उसकी ट्रैन शाम 5 बजे यहां पहुंच जाएगी

अब जयसिंह को मारे डर के पसीना निकलने लगा, वो तो मणि के सामने आने से भी बचना चाहता था और अब मधु तो उसे स्टेशन भेज रही थी मणि को पिक अप करने

जयसिंह सकपका कर बोला - नही मधु, मैं नही जा सकता, कल मेरी बहुत ज़रूरी मीटिंग है, तुम खुद ही उसे रिसीव करने चली जाना

मधु - आप तो हमेशा ही बिज़ी रहते हो, कभी तो घर परिवार का ख्याल किया करो, पैसे बनाने के चक्कर मे आप तो हमे जैसे भूल ही गये हो

जयसिंह - plz मधु समझा करो ना ,ये सब मैं तुम लोगो के लिए ही तो कर रहा हूँ

मधु - पर ऐसा भी क्या बिज़नेस की घर परिवार को ही समय न दे सको, पहले भी तो अच्छा चलता था बिज़नेस, पर पहले आप कितने खुशमिज़ाज़ हुआ करते थे और अब तो बिल्कुल ही.....
मधु को सचमुच गुस्सा आने लगा था

बात आगे बढ़ती इससे पहले ही जयसिंह वहां से उठा और हाथ धोकर सोने के लिए चला गया।मधु भी बेचारी हारकर चुप हो गई।

इधर मनिका अपने होस्टल में कल के लिए पैकिंग कर रही थी । वो बड़ी खुश थी कि " कल उसके पापा उसे स्टेशन पर लेने आएंगे। वो उन्हें 1 साल के बाद देखेगी, पर उनसे कहेगी क्या ?"

"वो सब बाद में देखा जाएगा" मनिका खुद ही अपने सवाल का जवाब देते हुए सोचने लगी।

वो पैकिंग कर ही रही थी कि उसकी नज़र अपनी अलमारी में रखे उन ब्रा पेंटी पर पड़ी जो उसके पापा ने उसे दिलाये थे, नफरत ओर गुस्से की वजह से उसने आज तक इनको पहना ही नहीं था, पर आज इनको सामने देखकर उसका रोम रोम रोमांचित हो उठा,
वो उन ब्रा पैंटी को अपने हाथों में लेकर सहलाने लगी, धीरे धीरे उसका शरीर गरम होने लगा, उसने तुरंत अपनी स्कर्ट उठाकर अपनी प्यारी सी पुसी पर अपनी अंगुलियां घुमाना शुरू कर दी।
वो मन ही मन उस पल को सोचने लगी जब उसने जयसिंह के काले लम्बे डिक को पहली बार देखा था, ऐसे ही सोचते सोचते उसके शरीर मे एक सिहरन सी दौड़ गयी और वो " ओह्हहहहहह पापा , आई लव यू" कहते हुए भलभला कर झड़ गयी।

कुछ देर बाद उसके वासना का तूफान शांत होने के बाद उसने शरम के मारे अपने मुंह को अपने हाथों से छिपा लिया। उसने वो ब्रा पैंटी भी अपने बैग में डाल ली।

जब उसकी पैकिंग खत्म हो गयी तो वो कल जयसिंह से मिलने के सपने संजोते हुए नींद के आगोश में चली गई।
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:54 PM,
#35
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
अगले दिन सुबह जल्दी ही मनिका को ट्रैन पकड़नी थी। वो जल्दी से तैयार होकर स्टेशन के लिए रवाना हो गयी। ट्रैन में बैठकर उसने अपनी मम्मी को मैसेज कर दिया कि वो ट्रैन में सही सलामत बैठ गयी है।

उसकी मम्मी ने उसे अब तक नहीं बताया था कि उसके पापा उसे लेने नही आएंगे। मधु खुद ही उसे रिसीव करने जाने वाली थी। 

इधर पूरे रस्ते मनिका अपने और जयसिंह के बीच दिल्ली में हुई घटनाओं के बारे में सोच सोच कर गरम होती रहती, "कैसे उसके पापा ने उसे पहली बार मनिका कहकर बुलाया था, कैसे वो उसे अपनी गर्लफ्रैंड की तरह ट्रीट करते थे, कैसे बहाने से उन्होंने अपना लंबा डिक उसे दिखाया था, "
मनिका के शरीर मे अकड़न सी हो जाती और वो बार बार अंगड़ाई लेती रहती।

" ये सफर भी कितना लंबा लग रहा है"मनिका मन ही मन उदास सी हो जाती।

" कब ये सफर खत्म होगा और कब मैं अपने प्यारे पापा से मिल पाऊंगी, जब वो मुझे स्टेशन पे देखेंगे तो क्या कहेंगे, कहीं वो मुझे मणि कहकर तो नही बुलाएंगे, नहीं नहीं " पल पल मनिका के चेहरे के भाव बदल रहे थे, कभी वो खुश होती तो कभी वो जयसिंह के बदलने की बात सोचकर खिन्न हो जाती।

यही सब सोचते सोचते उसका सफर लगभग खत्म होने वाला था। शाम के 4.30 हो चले थे। मनिका ने अपना सारा सामान सम्भाला। 
अचानक उसको न जाने क्या सूझी की उसने बैग में से अपना मेकअप किट निकाला और उसमें से थोड़ा सा मेकअप का सामान लेकर बाथरूम में चली गयी, मनिका ऐसे सज रही थी जैसे वो घर नही अपने बॉयफ्रेंड से मिलने जा रही हो, उसने फटाफट अपना मेकअप फिनिश किया।
वो तो अब बला की खूबसूरत लग रही थी।

"पापा मुझे ऐसे देखेंगे तो उनके दिल पे तो छुरियाँ ही चल जाएगी " मनिका मन ही मन खुश होती हुई बोली।

आखिरकार लास्ट स्टेशन आ ही गया, उसका दिल अब जोर जोर से धड़कने लगा, उसने अपना बैग उठाया और ट्रैन से नीचे उतरी, उसने इधर उधर नज़र दौड़ाई , पर उसे जयसिंह नज़र नही आ रहा था, वो अपना सामान लेके मेन गेट की तरफ बढ़ने लगी, वहां पर काफी लोग अपने रिश्तेदारों को रिसीव करने आये हुए थे, मनिका उन चेहरों में अपने पापा का चेहरा तलाशने लगी, उसकी हार्टबीट बढ़ती ही जा रही थी,

"मणि, बेटा इधर देख, मैं इधर हूँ" अचानक मनिका को अपने कानों में आवाज़ सुनाई दी

उसने जब एक कोने में देखा तो वहाँ उसकी मम्मी उसकी ओर हाथ उठाकर इशारे कर रही थी, वो तुरंत अपनी मम्मी की ओर तेज़ गति से बढ़ने लगी, उसे लगा कि शायद उसे रिसीव करने उसके मम्मी पापा दोनों आये होंगे, पर अब भी उसे जयसिंह कहीं नजर नही आ रहा था, जैसे जैसे वो अपनी मम्मी के नज़दीक जा रही थी, उसका दिल बैठने लगा, जिसके लिए वो इतना सज धज कर आई वो तो उसे लेने ही नही आया, ये सोचकर ही मनिका को दुख सा होने लगा,पर उसने इसे अपनी मम्मी पर ज़ाहिर नहीं होने दिया।

"आ गई मेरी बेटी, कैसी है तू, सफर में कोई तकलीफ तो नही हुई" ये कहते हुए मधु ने उसे अपने गले लगा लिया।

"मैं बिल्कुल ठीक हूँ, और सफर भी बिल्कुल अच्छा रहा मम्मी" मनिका की आंखे अभी भी जयसिंह को ढूंढ रही थी।

"शायद वो कार में होंगे, पार्किंग की जगह नही मिली होगी, इसलिए बाहर गाड़ी में ही हमारा इंतेज़ार कर रहे होंगे" मनिका मन ही मन खुद को दिलासा देते हुए सोचने लगी।

"अरे कहाँ खो गयी बेटा, देख 1 साल में कितनी दुबली हो गयी है, वहाँ तुझे खाना नही देते क्या वो लोग" मधु बोली

"कहाँ दुबली हो गयी हूँ मम्मी, आप तो बस ऐसे ही मेरी टांग खींचते रहते हो" मनिका थोड़े मुस्कुराते हुए बोली

"तू घर चल, इस बार 1 महीने में तुझे खिला पिला कर तन्दरुस्त न कर दिया तो बोलना" ये बोलकर मधु और मनिका दोनों हसने लगी।


अब मनिका और मधु पार्किंग की तरफ बढ़ने लगे, जब वो लोग अपनी कार के पास पहुंचे, तो अब मनिका की आखरी आस भी टूट गयी, कार में कोई नही था, उसका दिल भर आया,

" शायद पापा मुझसे नाराज़ हैं , मैंने 1 साल तक उन्हें इतना परेशान किया, इसीलिए मुझे रिसिव करने नही आये, वरना पापा ही हमेशा सबको रिसिव करने आते है, अब मैं कैसे उन्हें अपने दिल की बात बता पाऊंगी, शायद वो बिल्कुल बदल गए है, नहीं नहीं मैं अपने पापा को अपने से दूर नहीं जाने दूंगी, नहीं जाने दूंगी " मनिका अपने अन्तर्मन को समझा ही रही थी कि मधु बोली
" अरे अब यहीं खड़े रहना है या फिर घर भी चलोगी "

मनिका - हां मम्मी, चलो
मधु - तो बैठो न गाड़ी में
फिर वो दोनों कार में बैठकर घर की तरफ रवाना हो गयी।

"मम्मी, आप तो बोल रही थी कि पापा मुझे रिसिब करने आएंगे" मनिका ने ये पूछने के लिए अपनी पूरी हिम्मत लगा दी थी

"बेटा, उनकी कोई जरूरी मीटिंग थी आज, इसलिए वो नही आ पाए, रात को शायद डिनर पे आ जाएं" मधु ने बड़े ही सामान्य तरीके से जवाब दिया।

उसके बाद मनीका और मधु ऐसे ही गप्पे लड़ाते हुए घर पहुंच गई।

घर पर मनिका की छोटे भाई बहन ( कनिका और हितेश) उसका बेसब्री से इंतेज़ार कर रहे थे, 1साल बाद अपनी बड़ी बहन से मिलकर वो दोनों बहुत खुश हुए, उन्होंने आते ही मनिका को बातो में लगा लिया, वो उससे दिल्ली के बारे में पूछने लगे, मनिका भी बड़े प्यार से उनको शहर की चमक धमक के बारे में बताती, 

मनिका ने फ्रेश होकर दोबारा उनसे बातें करना शुरू कर दिया, मधु डिनर की तैयारियों में लग गई थी, मनिका अपने छोटे भाई बहन के लिए कुछ गिफ्ट्स लायी थी, गिफ्ट्स पाकर वो दोनों बड़े खुश हो गए, मनिका बाहर से तो बड़ी खुश थी पर उसकी आंखे अभी भी अपने पापा को देखने के लिए तरस रही थी, 
( यहां मैं आप लोगो को उनके घर की बनावट बता देता हूँ।

उनका दो मंज़िल का शानदार घर था, दोनों मंज़िल पर तीन - तीन कमरे थे, हर कमरे में अटैच लेट-बाथ था, किचन नीचे ही था, एक बड़ा सा हॉल, जो सुख सुविधाओं की सभी चीज़ों से सम्पन्न था

ग्राउंड फ्लोर पर कोने के कमरे में जयसिंह और मधु रहते थे, दूसरे कमरे में कनिका और लास्ट वाले में हितेश रहता था,

मनिका पहले कनिका के साथ ही रहा करती थी पर बाद में उसने अपना सामान ऊपर वाली मंजिल पे शिफ्ट कर लिया था, ऊपर बीच वाला कमरा स्टोर रूम और सबसे लास्ट वाला गेस्ट रूम था )

मनिका अपने अपने भाई बहन से बातें कर तो रही थी पर उसका मन तो अपने पापा को देखने मे अटका था, जब उससे रहा न गया तो उठ कर किचन में अपनी मम्मी के पास चली गई,

" आज खाने में क्या बना रही हो ममा" मनिका बात शुरू करते हुए बोली

" बेटा, आज मैं तेरी मनपसन्द चीज़े बना रही हूं, मटर पनीर की सब्जी, राजमा ,पूड़ी और मीठे में खीर भी बना रही हूं" मधु ने जवाब देते हुए कहा

" वाव मम्मी, मुझे तो अरसा हो गया है अच्छा खाना खाएं, आज तो मैं जी भर के खाऊँगी" मनिका चहकते हुए बोली

" तू चिंता मत कर, तू जितने दिन यहां है मैं तुझे रोज़ अच्छी अच्छी चीज खाने को दूंगी, देखना एक महीने में तुझे बिल्कुल तन्दरूस्त न कर दिया तो बोलना" ये बोलकर दोनों हसने लगी।

"अच्छा मम्मी, पापा कब तक आएंगे" आखिर कार मनिका ने अपने दिल की बात पूछ ही ली 

"शायद डिनर के टाइम तक आ जाएंगे, चल अब तू बाहर जा, मुझे बहुत से कम बाकी है" ये बोलते हुए मधु वापस खाना बनाने में बिजी हो गई।

मनिका सीधा अपने रूम में गई, उसने सोचा कि पापा के आने से पहले नहाकर रेडी हो जाती हूँ, मनिका ने अपना टॉवल लिया, और अलमारी में से अपनी ब्रा पैंटी ढूंढने लगी।

तभी उसके दिमाग मे एक आईडिया आया, उसने तुरंत अपने बैग में खोजना शुरू किया और थोड़ी ही देर में उसके हाथों में वो ब्रा पैंटी थी जो उसके पापा ने उसे दिलाई थी। वो तुरन्त उनको लेकर अपने बाथरूम में घुस गई। 

उसने पलक झपकते ही अपनी टीशर्ट और नाइटी उतार दी, ब्रा पैंटी में समाए अपने गोरे बदन को देखकर वो शर्मा ही गई, धीरे धीरे उसका शरीर गरम होने लगा, अब उसने हल्के से अपनी काली ब्रा के हुक खोलना शुरू कर दिया, ब्रा की कैद से आज़ाद होते ही उसके छोटे छोटे दोनों उरोज स्पंज की भांति उछलकर बाहर आ गये, वो अपने हाथों से उनको पकडर सहलाने लगी, बीच बीच में वो अपने नाखूनों से अपने ब्राउन कलर के निप्पलों को कुरेद देती, 

"ओह्हहहहहह पापाअअअअअ, मसलो इन्हें,,,, " मनिका मन ही मन कल्पना करने लगी कि उसके पापा ही उसके उरोज़ो को हाथों में लेकर मसल रहे हैं, 

धीरे धीरे मनिका की उत्तेजना चरम पर पहुंचती जा रही थी, उसने अपनी पैंटी के इलास्टिक को पकड़ा और एक झटके में पैंटी को अपने पैरों के चंगुल से मुक्त कर दिया, अब उसका एक हाथ उसके उरोजों को मसल रहा था तो दूजा हाथ उसकी पुसी की क्लीट को,

"ओह यस्सससस, ओह्हहहहहह पापा
उन्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह… एक ज़ोरदार सिसकी के साथ मनिका जोर जोर से अपनी उंगलिया चलाने लगी

"उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़… ओहहहहहह यस ओहहहहहहह यस"
मनिका के शरीर ने एक जोर की अँगड़ाई ली, उसके बदन में एक आनन्द की एक लहर दौड़ गई और थोड़ी ही देर में उसकी टांगो के बीच एक सैलाब सा आ गया, उसके पैरों की हिम्मत जवाब दे गई और वो वही बाथरूम में ज़मीन पर बैठ गई,
थोड़ी देर बाद उसने अपनी बिखरी हुई सांसो को समेटा और अपने बाथ टब में जाके लेट गई, उसका चेहरे पर अब सन्तुष्टि के भाव झलक रहे थे

उसने जल्दी से बाथ लिया और फिर एक वही ब्रा पैंटी पहनी,उसने एक बहुत ही महीन सिल्की टीशर्ट पहनी ओर उसके नीचे एक कैपरी डाल ली, ध्यान से धन पर उसकी ब्रा की स्ट्रिप्स को उसकी टीशर्ट में से महसूस किया जा सकता था, उसने फिर हल्का सा मेकअप किया और फिर नीचे हॉल में आकर कनिका और हितेश से बाते करने में मशगूल हो गई।
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:54 PM, (This post was last modified: 09-21-2018, 01:54 PM by .)
#36
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
मनिका के शरीर ने एक जोर की अँगड़ाई ली, उसके बदन में एक आनन्द की एक लहर दौड़ गई और थोड़ी ही देर में उसकी टांगो के बीच एक सैलाब सा आ गया, उसके पैरों की हिम्मत जवाब दे गई और वो वही बाथरूम में ज़मीन पर बैठ गई,
थोड़ी देर बाद उसने अपनी बिखरी हुई सांसो को समेटा और अपने बाथ टब में जाके लेट गई, उसका चेहरे पर अब सन्तुष्टि के भाव झलक रहे थे

उसने जल्दी से बाथ लिया और फिर एक वही ब्रा पैंटी पहनी,उसने एक बहुत ही महीन सिल्की टीशर्ट पहनी ओर उसके नीचे एक कैपरी डाल ली, ध्यान से धन पर उसकी ब्रा की स्ट्रिप्स को उसकी टीशर्ट में से महसूस किया जा सकता था, उसने फिर हल्का सा मेकअप किया और फिर नीचे हॉल में आकर कनिका और हितेश से बाते करने में मशगूल हो गई।

उधर जयसिंह सुबह से ही मनिका के आने की खबर से परेशान सा था, उसने मधु को किसी तरह बहाने से स्टेशन जाने से तो मना कर दिया पर अब उसे घर पर तो जाना ही पड़ेगा, और घर जाते ही उसे मनिका से सामना करना पड़ेगा,

" मैं घर जाकर मनिका से कैसे नज़रें मिला पाऊंगा, क्या उसने मुझे माफ़ किया होगा, नहीं नहीं वो बचपन से ही गुस्सा करने वाली लड़की रही है, और मैने जो किया उसके लिए तो वो मुझे कभी माफ कर ही नही सकती, अगर मैं उसके पास गया और उसने मेरे साथ कहीं अजीब व्यवहार किया तो मधु को पक्का शक हो जाएगा, वो जरूर मनिका से इसकी वजह पूछेगी, अगर मनिका ने उसे सब कुछ बता दिया तो, मेरा बसा बसाया घर बर्बाद न हो जाये, कहीं मधु बच्चो को लेकर मुझे छोड़ कर चली गयी तो, नहीं नहीं मैं ऐसा नही होने दूंगा, मैं मनिका के सामने ही नही जाऊंगा,, लेकिन घर भी तो जाना पड़ेगा ,, अब मैं क्या करूँ " - जयसिंह दिन भर इसी उधेड़बुन में लगा रहा, पर लाख कोशिशों के बावजूद भी वो किसी निष्कर्ष पर ना पहुंच सका,

अब शाम के 8:00 बजने को आये थे, जयसिंह के घर जाने का समय भी हो गया था, उधर मनिका पलकें बिछाए अपने पापा का इंतजार कर रही थी और इधर जयसिंह घर जाने या ना जाने की ऊहापोह स्तिथि में फंसा हुआ था।
आखिरकार हारकर जयसिंह अपनी कार में बैठा और घर की तरफ रवाना हो गया, 

घर पर मधु ने खाना तैयार कर लिया था, उसने सोचा कि एक बार जयसिंह को फ़ोन करके पूछ लेती हूँ कि वो कब तक आएंगे, उसने अपना फोन निकाला और जयसिंह का नम्बर डायल करके कॉल लगा दिया, 

इधर जयसिंह ने जब फोन की स्क्रीन पर मधु का नम्बर देखा तो उसका दिल जोरो से धड़कने लगा

" मैं मधु से क्या कहूँ, मुझे घर जाना चाहिए या नहीं, अगर मैं काम का बहाना बना दूँ तो, नहीं नहीं कल ही मधु ने मुझसे काम की वजह से झगड़ा किया था, और आज तो मनिका भी घर आ गई है, ऐसे में अगर मैंने घर जाने से मना किया तो मधु जरूर मुझसे गुस्सा हो जाएगी, पर अगर घर गया तो मनिका का सामना कैसे करूँगा " जयसिंह इसी असमंजस की स्तिथि में फंसा था, पर अब तक उसे कोई हल नही सूझ रहा था। आखिर उसने डरते डरते फ़ोन उठाया


जयसिंह - हेलो,
मधु - क्या हुआ, इतना टाइम क्यों लगाया फ़ोन उठाने में

जयसिंह - वो वो अम्म्म मैं ममम ड्राइव कर रहा था इसलिए जल्दी नही उठा पाया

मधु (खुश होते हुए)- अरे वाह, इसका मतलब आज आप टाइम पर घर आ जाओगे , कितना अच्छा लगेगा आज सब लोग साथ मे खाना खाएंगे

जयसिंह(घबराते हुए) -- अरे नहीं अम्म्म मधु , मैं कार में जरूर हूँ पर मैं घर नही आ रहा, जरासल मुझे एक क्लाइंट से मिलने जाना तो अभी उसी के घर जा रहा हूँ, मुझे घर आते आते देर हो जाएगी, तुम लोग खाना खा लो, मैं घर आकर बाद में खा लूंगा,

मधु (गुस्से में) - काम,काम,काम बस आपको तो काम ही सूझता है, हम लोगो के लिए तो आपके पास वक्त ही नहीं है, घर पे बेटी साल भर बाद आई है और आप है कि मिलने के बजाय बाहर बिज़ी रहते है, 

" अब मधु को कैसे समझाऊं की मनिका की वजह से ही घर नही आ रहा " जयसिंह मन ही मन सोचता है

मधु - अब चुप क्यों हो गए जवाब दो
जयसिंह - plz मधु समझा करो ना, अगर ज़रूरी काम ना होता तो मैं जरूर आ जाता, पर क्या करूँ क्लाइंट से आज मिलना ज़रूरी है

मधु (गुस्से से)- ठीक है फिर, खाना भी बाहर ही खा लेना, यहां तो अगर खाना बचा भी तो मैं डस्टबिन में फेंक दूंगी,

जयसिंह - मधु सुनो तो सही, हेलो, hellllo......

मधु ने गुस्से से फ़ोन बीच मे ही काट दिया, मधु हमेशा उसे खाना फेंकने की धमकी देती थी, पर ये जयसिंह भी जानता था कि वो ऐसा कभी नही करती, क्योंकि गुस्सा शांत होने पर मधु को समझ आ जाता था कि ये सब वो उनके लिए ही कर रहा है, इसलिए जयसिंह थोड़ा निश्चिन्त हो गया और वापस गाड़ी को आफिस की तरफ मोड़ दिया,उसने सोचा था कि सबके सोने के बाद घर चला जायेगा और सुबह मनिका के उठने से पहले ही वापस आफिस आ जायेगा, 

इधर मधु का मूड खराब हो चुका था, पर वो कर भी क्या सकती थी,

"मणि , हितेश, कनिका , आओ सब लोग खाना खाने का टाइम हो गया है " उसने बच्चों को आवाज़ लगाई

तीनो लोग मनिका के रूम में बैठकर बाटे कर रहे थे, मधु की आवाज़ सुनकर तीनों एक स्वर में बोले - "अभी आये मम्मी"


कनिका और हितेश तो तुरंत नीचे भाग गए पर मनिका अब भी अपने रूम में थी,

मनिका को लगा कि शायद पापा आ गए है, तभी मम्मी उन्हें खाना खाने बुला रही है, ये सोचकर ही मनिका के मन मे सिहरन सी उठ गई, 

"आज साल भर बाद मैं पापा से मिलूंगी, हाय कितना मज़ा आएगा उनसे मिलकर, बहुत सताया है मैंने अपने पापा को, पर अब मैं उनकी सारी शिकायत दूर कर दूंगी" मनिका मन ही मन सोचने लगी,

वो जल्दी से उठी और आईने में खुद को निहारने लगी, उसने अपने गुलाबी होंठों पर हल्की सी ग्लास लिपिस्टिक लगाई और बालों को थोड़ा सा संवारा,
और एक हल्की सी मुस्कुराहट उसके चेहरे पर फैल गयी,

अब वो धीरे धीरे कमरे से बाहर निकलकर सीढ़ियों पर नीचे की ओर जाने लगी,उसका दिल जोरो से धड़कने लगा, उसकी नज़रें झुकी हुई थी और उसकी चाल ऐसी लग रही थी मानो कोई नई नवेली दुल्हन अपनी सुहागरात की सेज की तरफ बढ़ रही हो,

पर जैसे ही उसने अपनी नज़र उठाकर हॉल की ओर देखा , उसके सारे अरमान धरे के धरे रह गए, वहां डाइनिंग टेबल पर सिर्फ मनिका ओर हितेश बैठे थे और मधु वहां पर खाने की प्लेट्स लगा रही थी, 


मनिका को जैसे जोर का झटका लगा हो, जयसिंह को वहां ना पाकर तो जैसे उसके पैर वहीं के वहीं जम गए हों, उसने न जाने कैसे कैसे सपने संजोये थे, पर उसके सारे सपने उसे मिट्टी में मिलते नज़र आ रहे थे,

अब वो भारी कदमों से नीचे की ओर बढ़ रही थी, 

उसको नीचे आते देख मधु बोली- आजा मणि जल्दी आ, देख तेरी पसन्द की सारी चीज़ें बना दी है, ज़रा टेस्ट करके तो बता की कैसी बनी है?

अब मनिका उसको क्या जवाब देती, उसकी तो जैसे भूख ही मर गयी थी, वो भारी मन से टेबल पर आकर बैठ गयी।

मधु ने उसके लिए एक प्लेट लगाई और फिर उसमें सारी डिशेज़ सर्व कर दी।

कनिका और हितेश तो खाने का लुत्फ उठा रहे थे, पर मनिका बिल्कुल धीरे धीरे खा रही थी, 

उसको ऐसे कहते देख मधु बोली - क्या हुआ मणि, खाना अच्छा नही बना क्या

मनिका - नहीं मम्मी, ऐसी कोई बात नहीं, खाना तो बहुत ही स्वादिष्ट बना है

मधु - तो फिर ऐसे धीरे धीरे क्यों कहा ल है, पहले तो कैसे फटाफट खाना खाती थी, और अब देखो कैसे स्लो मोशन में खाना खा रही है

उसकी बात सुनकर कनिका और हितेश भी हसने लगे, 

मनिका - ऐसा तो कुछ नही है मम्मी

मधु - मुझे लगता है कि तेरा ध्यान कहीं और है, कहीं तू अपने पापा के बारे मव तो नहीं सोच रही हो

मधु की बात सुनकर तो मनिका को इस लगा जैसे मधु ने उसकी कोई चोरी पकड़ ली हो, वो घबरा सी गई।

मनिका (घबराते हुए) - नही म्म्म्मम्म मम्मी, ऐसी तो कोई बात नहीं 

मधु - झूट मत बोल, मैं जानती हूँ कि मुझसे ज्यादा तू तेरे पापा को ही प्यार करती है, और वो अब तक तुझसे मिलने घर नही आये, इसलिये तू परेशान है

प्यार की बात सुनकर एक बार तो मनिका घबराई फिर उसे लगा कि मम्मी तो बाप बेटी वाले प्यार की बात कर रही है।

मनिका थोड़े शांत होते हुए बोली - पर मम्मी पापा अभी तक आये क्यों नहीं

मनिका ने ये सवाल पूछ तो लिया था पर शायद वो उसका जवाब पहले से जानती थी, उसे पता था कि उसके पापा शायद उसकी वजह से घर नहीं आ रहे है। अब उसे पक्का भरोसा हो गया था कि " पापा उसके सामने आने से कतरा रहे है, वो बदल चुके है और अपने किये पर सचमुच शर्मिंदा है, पर अब मैं उनके बिना नहीं रह सकती, मैं अपने पापा को वापस पाकर रहूंगी, चाहे इसके लिए मुझे कुछ भी करना पड़े" मनिका ने मन ही मन कुछ निश्चय कर लिया था।

जयसिंह वापस अपने ऑफिस की तरफ चल पड़ा, वो मन ही मन बड़ा खुश था कि अब उसे मनिका का सामना नहीं करना पड़ेगा, ऑफिस पहुंचकर वो वही थोड़ी देर टाइम पास करने लगा,

मनिका खाना खाकर वापस अपने रूम में आ चुकी थी, वो अंदर से बहुत दुखी थी।

" मैंने अपने पापा को बहुत दुःख दिए ,इसीलिए मुझे ये सज़ा मिल रही है, मुझे कुछ भी करके अपने पापा को वापस अपने करीब लाना होगा, पर कैसे, मैं ये कैसे करूंगी, दिल्ली में हम दोनों अकेले थे , पर यहां तो सब लोग हैं " मनिका अंदर ही अंदर बड़ी बैचैन सी होने लगी,

लेकिन कुछ भी हल ना निकलता देख वो थक हारकर लेट गई, सफर की थकान की वजह से वो जल्दी ही नींद के आगोश में चली गई,

रात के लगभग 11:00 बज चुके थे, जयसिंह को लगा की अब तक घर मे सब लोग सो चुके होंगे, उसने अपनी गाड़ी निकली और घर की तरफ चल पड़ा, 

जल्दी ही वो घर पहुंच गया, चूंकि वो अक्सर लेट ही आता था, इसलिए उसके पास घर की डुप्लीकेट चाबी रहती थी, उसने हल्के से दरवाज़ा खोला ताकि उसकी आवाज़ सुनकर कोई जाग न जाये,

उसे बड़े जोरों की भूख लग रही थी, वो सीधा किचन में गया और वहीं सिंक में हाथ धोकर अपने लिए प्लेट में खाना डाल लिया, प्लेट लेकर वो डाइनिंग टेबल की ओर बढ़ ही रह था कि उसे लगा की इस वक्त हॉल की लाइट जलाना सही नही होगा,


 
 
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:54 PM,
#37
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
ये सोचकर वो सीधा अपने रूम की ओर ही बढ़ गया, अपने रूम में जाकर उसने खाना खाना शुरू किया ही था कि मधु की नींद खुल गयी, जयसिंह को अपने सामने देखकर उसने नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा - " आ गए आप, थोड़ा और लेट आ जाते, या फिर आते ही नही, घर मे बेटी साल भर बाद आई है और इनका कोई अता पता नहीं, बेचारी खाना भी ढंग से ना खा पाई "

" पहले तो तुम धीरे बोलो, इतनी जोर से चिल्लाओगी तो बच्चे जग जाएंगे, और मैने पहले ही कहा था ना कि मीटिंग ज़रूरी है वरना मैं ज़रूर आ जाता, और हाँ सुबह भी मुझे जल्दी ही जाना होगा, कल बहुत इम्पोर्टेन्ट मीटिंग है" जयसिंह बड़े ही शांत तरीके से बोला

"अरे तो क्या कल भी मणि से नही मिलोगे" मधु थोड़ी नाराज़ होकर बोली

"शाम को मिल लूंगा ना, तुम चिंता क्यों करती हो, वैसे भी उसकी 1 महीने की छुट्टी है " जयसिंह बोला

"आप इतना भी काम मे बिज़ी मत हो कि बच्चों से मिलने का भी समय ना निकाल सको" मधु बोली

"मधु तुम जानती हो कि ये सब मैं तुम लोगो के लिए ही तो कर रहा हूँ , अब तुम ज्यादा चिंता मत करो और सो जाओ" जयसिंह ने उसे समझाते हुए कहा

"ठीक है जो मन मे आये करो" अब हारकर मधु ने कहा और चुपचाप सो गई

जयसिंह ने भी जल्दी से खाना खाया और फिर आकर मधु के बगल में लेट गया, उसने पहले ही डिसाइड कर लिया था कि कल मनिका के उठने से पहले ही ऑफिस चला जायेगा, इसलिए उसने मोबाइल में 5 बजे की अलार्म लगाई और फिर आराम से सो गया।
सुबह अलार्म की पहली घण्टी के साथ ही जयसिंह की आँखे खुल गयी, उसने बगल में देखा तो मधु अभी तक सो रही थी, अक्सर वो 6 बजे ही उठा करती थी , इसलिए जयसिंह ने उसको अभी उठाना ठीक नही समझा और फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चला गया, लगभग 45 मिनट में वो नहा धोकर बिल्कुल तैयार हो गया, मधु अभी भी सो रही थी, इसलिए जयसिंह खुद ही किचन में अपने लिए चाय बनाने चल पड़ा, 

किचन में खटपट की आवाज़ से मधु की नींद टूट गई, उसने साइड में देखा तो उसे जयसिंह वहां नज़र नही आया, वो समझ गई कि शायद वो अपने लिए चाय बनाने किचन में गया है,

मधु तुरन्त उठी और किचन की तरफ चल दी, जयसिंह ने चाय बना ली थी 

मधु - अरे आपने चाय क्यों बनाई, मुझे उठा दिया होता मैं बना देती


जयसिंह - कोई बात नही मधु, वैसे भी तुम्हे 6 बजे जगने की आदत है, इसलिए सोचा कि थोड़ी देर और सोने देता हूँ, वैसे भी मैं ठीक ठाक चाय बना लेता हूँ,

मधु - अच्छा सुनो, आज घर पक्का जल्दी आ जाना, आप अभी तक मनिका से मिले भी नही है, उसको बुरा लगेगा

{जयसिंह (मन मे) - अब इसको क्या बताऊँ कि मनिका से सामना न हो इसीलिए तो सुबह सुबह भागदौड़ करनी पड़ रही है}

मधु - अरे क्या सोचने लगे, आज पक्का जल्दी घर आओगे ना?

जयसिंह - हाँ, कोशिश करूंगा, पर वादा नही कर सकता , अगर कोई काम निकल आया तो शायद दोबारा लेट आना हो

मधु (थोड़े गुस्से से) - मुझे अब कोई बहाना नहीं चाहिए, आज शाम को तो आपको जल्दी घर आना ही पड़ेगा, वरना इस बार सच्ची में खाना फेंक दूंगी

जयसिंह - गुस्सा क्यों होती हो, सुबह सुबह मूड खराब नही करना चाहिए किसी का

मधु - आपको तो अपनी ही पड़ी रहती है , हम लोगो की तो ..........

जयसिंह - अच्छा ठीक है बाय

(जयसिंह ने मधु को बीच मे ही टोका, और इससे पहले की खिटपिट और बढ़े वो अपना सूटकेस लेकर आफिस के लिए रवाना हो गया)

इधर मधु ने घर के बाकी काम करने शुरू कर दिए, 

[ चूंकि दिसम्बर का महीना था इसलिए कनिका और हितेश की स्कूल 10:00 बजे लगती थी ]

मधु ने 8:00 बजे के आस पास दोनों को उठाया और उन्हें स्कूल के लिए तैयार करने लगी, कल थकान की वजह से मनिका अभी भी सोई हुई थी, मधु ने भी उसे उठाना ठीक नही समझा।

दोनों बच्चे ब्रेकफास्ट कर स्कूल जा चुके थे, मधु अब मनिका को उठाने के लिए उसके रूम की तरफ जाने लगी,

इधर मनिका अपने पापा के मधुर सपनों में खोई थी, 

"मणि, बेटा उठ जा, देख सूरज भी सर पर चढ़ आया है, चल जल्दी खड़ी हो और हाथ मुंह धोकर नाश्ता कर ले" मधु ने मनिका की कम्बल को हटाते हुए कहा

"बस 5 मिनट और मम्मी" मनिका नींद में कसमसाते हुए बोली

"क्या 5 मिनट, देख कनिका और हितेश तो स्कूल भी जा चुके और तेरे पापा तो सुबह 6 बजे ही ऑफिस के लिए निकल गए और तू है कि अब तक मजे से सो रही है" मधु ने थोड़ा डांटते हुए कहा

जयसिंह के जाने की बात सुनकर जैसे मनिका आसमान से जमीन पर आ गई हो, वो तुरंत चौंककर बोली - पर पापा इतनी जल्दी कैसे जा सकते है, मेरा... मतलब है कि पहले तो वो 9 बजे जाते थे न आफिस तो फिर इतनी जल्दी कैसे


" आज उनको कोई जरूरी काम था इसलिए निकल गए, पता नही शाम को आएंगे या नहीं, उनकी छोड़ तू जल्दी से फ्रेश हो जा और नीचे आकर नाश्ता कर ले" मधु उसके कमरे से निकलती हुई बोली

"वो शायद मेरी वजह से ही इतनी सुबह निकल गए ताकि उन्हें मुझे फेस न करना पड़े, अब मुझे पक्का यकीन हो गया है कि पापा मुझसे दूर दूर रहने की कोशिश कर रहे है, पर पापा आप चाहे जितनी कोशिश कर लो, मैं आपको पाकर ही रहूंगी, जो काम आपने अधूरा छोड़ा था वो मैं पूरा करूंगी, जितना दुख मैंने आपको दिया हैं उससे कई गुना मज़ा मैं आपको दूंगी मेरे प्यारे पापा" मनिका मन ही मन फैसला करने लगी

अब वो खड़ी हुई और फ्रेश होने के बाद नीचे नाश्ता करने चली गई, उसके दिमाग ने अब अपने पापा को वापस अपने करीब लाने की योजना बनाना शुरू कर दिया था।

वो अभी नाश्ता करते हुए सोच ही रही थी कि उसकी मम्मी उसके पास आकर बैठ गयी,

"अच्छा बेटी, दिल्ली में तुम्हे कोई परेशानी तो नहीं है ना" मधु ने चाय पीते हुए पूछा

"नहीं मम्मी, मुझे वहां कोई परेशानी नही है, इन फैक्ट मैं तो वहां बहुत खुश हूं, पापा ने मेरा एडमिशन बहुत ही अच्छी कॉलेज में करवाया है, वहां मेरी काफी सहेलियां है, होस्टल में भी किसी बात की कमी नही है" मनिका चहकते हुए बोली

"हम्ममम्म तभी तो तू इतने महीने से घर नहीं आयी" मधु हल्का सा मुस्कुराते हुए बोली

"ऐसी कोई बात नही मम्मी ,वो बस पहला साल था इसलिए पूरा ध्यान पढ़ाई पर लगाना चाहती थी ताकि अच्छे मार्क्स आये" मनिका ने सफाई से झूठ बोल दिया था



"अच्छा तो फिर इस बार तो 1 महीने पूरा रुकेगी ना" मधु ने पूछा

" बताया तो था आपको, इस बार में 1 महीने से पहले कहीं नही जाने वाली, पूरा 1 महीना मैं आपके, कनिका, हितेश और अम्मममम पापा के साथ ही रहने वाली हूँ" मनिका बोली

मधु - बेटा हमारा तो ठीक है पर मुझे नही लगता कि तुझे तेरे पापा के साथ ज्यादा टाइम स्पेंड करने को मिलेगा

मनिका- ऐसा क्यों मम्मी

मधु - अब मैं क्या बताऊँ मणि, तेरे पापा को तो बस चौबीस घण्टे काम ही काम सूझता है, हमारे लिए तो वक्त ही नही है उनके पास, अब तेरी ही बात करले, तू 1 साल बाद आई है और वो अब तक तुझसे मिले तक नहीं है, सारा दिन बस काम काम काम

मनिका - पर मम्मी काम तो पहले भी अच्छा ही चलता था ना , पर पहले तो घर पर अच्छा खासा टाइम स्पेंड करते थे 

मनिका की बात सुनकर मधु थोड़ी उदास सी हो गई।

मधु - अब तुझसे क्या छिपाना मणि, पिछले एक साल से तेरे पापा बिल्कुल ही बदल गए है, वो पहले जैसे इंसान नही रहे, ना ढंग से खाते है, ना ही ढंग से सोते है, उनके चेहरे पर अजीब सी उदासी छाई रहती है, मैंने कई बार इनसे कारण भी पूछा पर हर बार बस काम का बहाना बना कर मेरी बात को टाल देते है, काम का इतना बोझ अपने ऊपर ले लिया है कि घर परिवार को तो जैसे भूल ही गये है, पहले बच्चो से कितना हँसी मजाक किया करते थे, उनसे बातें करते थे, अब तो ना बच्चो से ज्यादा बातें करते है और न ही मुझसे, सच पूछो तो ये जीना ही भूल गए है, पहले कितने हसमुंख हुआ करते थे, पर अब तो मुझे भी याद नही कि उन्हें लास्ट टाइम हसते हुए कब देखा था, मणि कई बार तो मुझे ऐसा लगता है जैसे वो वो नहीं कोई और है, मैं भी पहले उनसे हमेशा झगड़ा किया करती थी कि अगर वो थोड़ी मेहनत और करें तो हमारे पास और ज्यादा पैसे आ जाएंगे पर मुझे क्या पता था कि पैसो के बदले मेरा असली सुख ही मुझसे छीन जाएगा

ये बोलते हुए मधु रुआंसी सी हो गई और उसकी आँखों मे आंसू आ गए,

"आप चिंता मत करो मम्मी , सब ठीक हो जाएगा" मनिका उसे सांत्वना देते हुए बोली

"क्या ठीक हो जाएगा बेटी, उनको देखकर लगता है जैसे उन्हें किसी चीज़ की चाहत ही नही है, बस सारा दिन काम ही काम" मधु सुबकती हुई बोली

मधु की बात सुनकर मनिका को समझ आ चुका था कि ये सब उसकी वजह से हो रहा है, उसकी वजह से उसके पापा को इतना सदमा पहुंचा है, पर अब उसने अपने पापा को इस दुख से बाहर निकालने का संकल्प ले लिया था

"आप बिलकुल भी फिक्र मत करो मम्मी, अब मैं आ गयी हूँ ना, सब पहले जैसा हो जाएगा, मैं पापा को बिल्कुल पहले जैसा हँसता खेलता इंसान बना दूंगी" मनीका बोली

" हां बेटी, एक तू ही है जो ये कर सकती है, उन्होंने तुझे हमेशा सबसे ज्यादा प्यार किया है वो तेरी बात कभी नही टालेंगे" मधु थोड़ी शांत होती हुई बोली

अब तो मनिका के मन मे अपने पापा को पाने की इच्छा और भी ज्यादा बढ़ गई थी, उसने खुद से ये प्रोमिस किया कि वो हर हाल में अपने पापा को पहले जैसा बना कर रहेगी,

नाश्ता करने के बाद मनिका अपने रूम में आ गई, उसे आखिर काफी प्लानिंग भी तो करनी थी, पर पहले उसने नहाने का सोचा, वो टॉवल लेकर बाथरूम की तरफ बढ़ने लगी कि तभी उसे याद आया कि उसने काफी टाइम से अपने बालों की सफाई नही की है,

उसने अपने बैग से वीट की क्रीम निकाली और बाथरूम में आ गई, उसने अपनी नाइटी को घुटनों तक उठाया और धीरे धीरे अपनी टांगों पर वीट क्रीम लगाने लगी, उसकी गोरी चिकनी टांगो पर हल्के रेशम जैसे छोटे छोटे बाल उग आए थे, 

ऐसे तो वो हमेशा अपने शरीर का ख्याल रखती थी, रेगुलरली वेक्सीन भी करा लेती थी, पर इस बार एग्जाम की वजह से उसने अपने बालों की सफाई नही की थी,


थोड़ी देर वीट लगाए रखने के बाद उसने धीरे धीरे सारे बाल हटा दिए, ट्यूबलाइट की दुधिया रोशनी में उसकी गोरी सूंदर टांगे और भी ज्यादा खूबसूरत लग रही थी, 

टांगो की सफाई के बाद अब बारी थी उसकी अनछुई गुलाबी चुत की, मनिका ने धीरे धीरे अपनी नाइटी को अपने पैरों की गिरफ्त से आज़ाद कर दिया, अब वो सिर्फ अपनी खूबसूरत छोटी सी गुलाबी पैंटी में थी, उसके सुडौल नितम्ब उस छोटी सी पैंटी में उभरकर सामने आ रहे थे, जिन्हें देखकर मनिका ने शर्म के मारे अपनी आंखें ही बन्द कर ली, 
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:55 PM,
#38
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
टांगो की सफाई के बाद अब बारी थी उसकी अनछुई गुलाबी चुत की, मनिका ने धीरे धीरे अपनी नाइटी को अपने पैरों की गिरफ्त से आज़ाद कर दिया, अब वो सिर्फ अपनी खूबसूरत छोटी सी गुलाबी पैंटी में थी, उसके सुडौल नितम्ब उस छोटी सी पैंटी में उभरकर सामने आ रहे थे, जिन्हें देखकर मनिका ने शर्म के मारे अपनी आंखें ही बन्द कर ली, 

धीरे धीरे उसकी उत्तेजना बढ़ने लगी, उसका शरीर गर्म होने लगा और उसकी अंगुलिया उसकी पैंटी में से रास्ता बनाते हुए उसकी चुत के दाने को मसलने लगी, 

" उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़… ओहहहहहह यस ओहहहहहहह यस"
ओह्हहहहहह पा्ह्ह्ह्हपा फ़क मी पापाआआआ,, मैंने आपको बहुत रुलाया अब आप मेरी इस प्यारी सी चुत को मत रुलाओ पापाआआआ,
उन्ह्ह्ह्ह देखिए कैसे मेरी ये गुलाबी चुत आपके उस लम्बे लन्ड को याद करके टेसुए बहा रही है,ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़ इसे और मत तड़पाओ ........ इस निगोड़ी चुत को अपने लंड से भर दीजिये पापाआआआ.......बुझा दीजिये इसकी प्यास, उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़… ओहहहहहह यस , मैं आपके उस काले लम्बे लंड को अपनी चुत में लेकर रहूंगी.....ओह्हहहहह ....पापाआआआ आपके लिए मैं कुछ भी करूंगी पापाआआआ..... लौट आइए अपनी मनिका के पास, बुझा दीजिये मेरी चुत की आग को पापाआआआ" 

मनिका के हाथ अब तेज़ी से अपनी चुत के दाने को मसल रहे थे, वो पहली बार खुल कर चुत और लंड जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर रही थी, अब उसकी उत्तेजना चरम पर पहुंचने वाली थी, उसकी अंगुलिया सरपट उसकी चुत की सड़क पर दौड़ी जा रही थी

"उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़… ओहहहहहह यस ओहहहहहहह यस"
ओह्हहहहहह पा्ह्ह्ह्हपा मैं गईईईई आहहहहहहहह पापाआआआ"
कहते हुए मनिका के बदन ने एक जोर की अँगड़ाई ली और उसकी चुत से फवारा फुट पड़ा, उसका पानी उसकी चुत से निकलकर उसकी सुडौल जांघो को गीला कर रहा था, उसकी अंगुलिया अभी भी उसकी चुत में फंसी थी, उसने धीरे से अपनी चुत के पानी को अपनी अंगुलियो पर लपेटा और फिर स्लो मोशन में अपने मुंह के अंदर लेकर जीभ से चाटने लगी, 

"उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़… ओहहहहहह पापाआआआ कब इन अंगुलियो की जगह आपका प्यार लंड होगा, मैं आपके प्यारे लन्ड को अपने मुंह मे लेकर खूब चुसुंगी, उसे खूब प्यार करूंगी, उसे जन्नत के दर्शन करवाउंगी, बस आप एक बार मेरे पास आ जाइए न पापाआआआ"
झड़ने के बाद मनिका की उत्तेजना थोड़ी शांत हुई, पर अपने पापा को पाने की हवस अब और भी ज्यादा उग्र हो चुकी थी, 

अब उसे याद आया कि उसे तो अपनी प्यारी सी मुनिया को सजाना भी है, अपनी फुलकुंवारी के बालों की सफाई कर उसे बिल्कुल चिकनी चमेली बनाना है, उसने वीट क्रीम उठाई और अपनी मुनिया के बालों की सफाई करने में मशगूल हो गई,

सफाई करने के बाद उसने बाथ लिया,
कुछ देर बाद जब मनिका नहा चुकी थी, तो उसने पास रखे तौलिए की तरफ हाथ बढाया और अपना तरोताजा हुआ जिस्म पोंछने लगी. तौलिया बेहद नरम था और मनिका का बदन वैसे ही नहाने के बाद थोड़ा सेंसिटिव हो गया था सो तौलिये के नर्म रोंओं के स्पर्श से उसके बदन के रोंगटे खड़े हो गए व उसकी जवान छाती के गुलाबी निप्पल तन कर खड़े हो गए. मनिका को वो एहसास बहुत भा रहा था और वह कुछ देर तक वैसे ही उस नर्म तौलिए से अपने बदन को सहलाती खड़ी रही. 
फिर उसने तौलिया एक ओर रखा और अपने अन्तवस्त्रों की तरफ हाथ बढ़ाया, आज उसने एक बिल्कुल महीन पारदर्शी कपड़े की ब्लू पैंटी पहनी और हल्के आसमानी कलर की सी ब्रा...
उसने आज नाइटी की बजाय ब्लैक लिंगरी पहन ली, उसकी लिंगरी उसकी सुडौल झांगो से ऐसे कसकर चिपकी हुई थी, कि मानो उसके झुकते ही लिंगरी का कपड़ा तार तार हो जाएगा, ध्यान से देखने पर उसकी लिंगरी के अंदर से उसकी ब्लू पेंटी की लाइन साफ देखी जा सकती थी, वो जानती थी कि अगर वो इस तरह अपनी मम्मी के सामने गई तो उसे पक्का डांट पड़ेगी इसलिए उसने लिंगरी के ऊपर एक कुर्ती पहन ली जो उसके घुटनो तक आती थी,

रेडी होने के बाद मनिका हॉल में आकर बैठ गयी,और टीवी ऑन कर लिया, उसकी मोम किचन में काम रही थी

इधर जयसिंह अब काफी परेशान से लग रहा था, उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो घर कैसे जाए

"मैं मधु को बोल देता हूँ कि आज बिज़ी हूँ, कोई मीटिंग है इसलिए लेट हो जाऊंगा.......नहीं नहीं वो सुबह सुबह ही मुझ पर गुस्सा हो गयी थी.... अब अगर मैने मीटिंग का बहाना किया तो वो पक्का मुझसे झगड़ा करेगी...... अब मैं क्या करूँ......लगता है आज तो मुझे घर जाना ही पड़ेगा.....हो सकता है मुझे देखकर मनिका अपने कमरे में रहे.....बाहर ही न आए....ना वो बाहर आएगी न ही मुझे उसका सामना करना पड़ेगा......पर मनिका 1 महीने रुकने वाली है... ऐसे में कभी न कभी तो उससे मिलना ही पड़ेगा..." जयसिंह इसी असमंजस में फंसे थे 


"Sir, may i come in " जयसिंह की सेक्रेटरी ने उससे अंदर आने की इज़ाज़त मांगी

"यस सारिका , बोलो क्या काम है" जयसिंह बोला

"Sir, i have a good news" सारिका बोली

"अच्छा और वो क्या" जयसिंह ने पूछा

"सर, दो महीने पहले सिंगापुर की जिस कंपनी ने हमारे साथ बिज़नेस में हाथ मिलाया था, उसे हमारी वजह से काफी फायदा हुआ है, और इसीलिए उन्होंने आपको सम्मानित करने का फैसला किया है, 4 दिन बाद आपको सिंगापुर जाना है सर " सारिका खुश होते हुए बोली

जयसिंह पहले से ही मनिका की वजह से परेशान था इसलिए वो बिना किसी उत्साह के जवाब देते हुए बोला
"वेल , ये तो अच्छी बात है, पर मैं सिंगापुर नही जा सकता, मुझे यहां भी बहुत सारे काम है, तुम एक काम करो, हमारे मैनेजर माथुर साहब को हमारी तरफ से भेज देना"
"बट सर....अगर आप जाते तो.........ओके मैं माथुर साहब के जाने का ही इंतेज़ाम कर देती हूं " सारिका ने जवाब दिया

सारिका वापस बाहर जाने के लिए मुड़ी ही थी कि जयसिंह के दिमाग मे एक आईडिया बिजली की तरह कौंधा

जयसिंह - रुको सारिका

सारिका - क्या हुआ सर

जयसिंह - तुम माथुर साहब को रहने दो और मेरे ही जाने का प्रबंध कर दो

सारिका (चोंकती हुई) - पर सर अभी तो आपने कहा था कि आप नही जा पाएंगे, आपको यह कुछ काम है तो फिर अब........?????

जयसिंह - मैने अपना इरादा बदल दिया है, तुम मेरे जाने का इंतज़ाम करो, और ये बताओ कि प्रोग्राम कितने दिन का है

सारिका - सर वैसे तो पूरी इवेंट 3 दिन की है, बहुत सारी और भी कम्पनियां आ रही है वहां , पर आप चाहे तो हम उनसे बात करके आपको सम्मानित करने वाली इवेंट पहले दिन भी करवा सकते है

जयसिंह - नहीं नहीं उसकी कोई जरूरत नहीं, 

सारिका - ओके सर, मैं अभी आपके जाने का इंतज़ाम करती हूं, आपको 4 दिन बाद निकलना होगा

सारिका के जाने के बाद जयसिंह मन ही मन मुस्कुराने लगा

" हम्ममम्म , कम से कम 3-4 दिन के लिए तो हमें एक दूसरे का सामना नहीं करना पड़ेगा, शायद वो भी यही चाहती होगी" जयसिंह मनिका के बारे में सोचने लगा


इधर घर में कनिका और हितेश स्कूल से आ चुके थे, आते ही वो मनिका के साथ बातों में बिजी हो गए, मनिका बेमन से उनका साथ दे रही थी जबकि उसका मन तो अपने पापा में अटका था, फिर वो उठकर अपनी मम्मी के पास किचन में चली गयी जहां मधु रात के खाने की तैयारी कर रही थी,

शाम के 7:00 बजने वाले थे, जयसिंह ने सोचा कि मधु को फ़ोन करके आज टाइम पर घर आने की बात देता हूँ, वरना वो यूँ ही गुस्सा होगी, ये सोचकर जयसिंह ने अपना मोबाइल निकाला और मधु को कॉल लगा दिया

मधु - हेलो


जयसिंह - हेलो, हाँ मधु क्या कर रही हो

मधु - कुछ नहीं बस खाना बना रही हूं

जयसिंह - अच्छा सुनो, मैने इसलिए फ़ोन किया था कि तुम्हे बता दूँ , आज मैं जल्दी घर आ जाऊंगा, इसलिए कहीं खाना फेंक मत देना ....हा हा हा

मधु - अरे वाह आज सूरज पश्चिम से उग आया क्या, जो टाइम पर घर आने की बात कर रहे हो

जयसिंह - अरे ऐसी बात नहीं, आज ऑफिस में काम कम था इसलिए सोचा जल्दी घर चला जाता हूँ वरना जाते ही तुम्हारी डांट सुननी पड़ेगी, अच्छा सुनो मैं 8:00 बजे तक आ जाऊंगा


मधु - चलो ठीक है, बाय
जयसिंह - बाय

"बेटी आज तो कमाल हो गया, तेरे पापा इतने दिनों बाद टाइम पर घर आ रहे है" मधु ने मुस्कुराते हुए पास खड़ी मनिका को कहा

जब मनिका को पता चला कि आज फाइनली उसकी और उसके पिता की मुलाक़ात होने वाली है, तो वो तो ख़ुशी के मारे फूलि ना समाई, उसकी आँखों के सामने उस रात का मंज़र आ गया जब उसके पापा और उसके बीच सब कुछ होने ही वाला था, उस रात को याद कर मनिका गर्म होने लगी
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:55 PM,
#39
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
जब मनिका को पता चला कि आज फाइनली उसकी और उसके पिता की मुलाक़ात होने वाली है, तो वो तो ख़ुशी के मारे फूलि ना समाई, उसकी आँखों के सामने उस रात का मंज़र आ गया जब उसके पापा और उसके बीच सब कुछ होने ही वाला था, उस रात को याद कर मनिका गर्म होने लगी

"अरे मणि कहाँ खो गयी बेटी, आज तो आखिर तेरी मुलाकात हो ही जाएगी तेरे पापा से" मधु मनिका को टोकते हुए बोली

"जी मम्मी....." मनिका थोड़ी सकपकाते हुए बोली और फिर तुरन्त अपने कमरे की तरफ चल 
दी


मनिका ने कमरे में आकर अंदर से कमरे को बंद किया और फिर सीधा बेड पर आकर गिर गई, पापा के आने की खुशि से उसकी सांसे भारी होने लगी, उसका रोम रोम रोमांचित हो उठा,
"उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़…ओह्ह पापाआआआ, अब जाकर मेरी तमन्ना पूरी होगी, 1 साल बाद आपको देखूंगी, हाय कैसा होगा वो पल " मनिका अपने पापा से मिलने के सपने संजोते हुए अपने आपको आईने में देख सजने संवरने लगी, ऐसा लग रहा था जैसे वो अपने पापा से नही अपने लवर से मिलने वाली हो,

इधर जयसिंह अब घर जाने के लिए रवाना हो गया, उसके मन मे हल्का हल्का डर तो था पर उसके पास और कोई विकल्प भी नहीं था, आज नहीं तो कल उसे मनिका का सामना करना ही पड़ेगा, इसी उधेड़बुन में लगा जयसिंह जल्दी ही अपने घर पहुंच गया, उसने अपनी गाड़ी गेराज में खड़ी की ओर घर के अंदर आ गया, 

जैसे ही मनिका ने घर के बाहर गाड़ी की आवाज़ सुनी, उसका दिल जोरो से धड़कने लगा, उसके शरीर मे हज़ारो चींटिया सी रेंगने लगी, वो धड़कते दिल के साथ अपने कमरे से बाहर निकली, और सीढ़ियों से नीचे उतरते हुए हॉल की तरफ बढ़ने लगी,

जयसिंह सोफे पर दूसरी तरफ मुंह करके बैठा था, उसकी पीठ मनिका की तरफ थी, इसलिए वो मनीका को आते हुए नही देख पा रहा था, कनिका और हितेश अपने पापा के साथ बैठकर अपनी स्कूल की बाते बता रहे थे,

मनिका शर्म के मारे आंखे झुकाए हुए स्लो मोशन में ऐसे आगे बढ़ रही थी कि मानो वो अपनी सुहागरात की सेज की तरफ बढ़ रही हो, जैसे जैसे वो नज़दीक जा रही थी उसे अपनी सांसे भारी होती महसूस हो रही थी,
अब वो सोफे के बिल्कुल पास आ गई थी


"पापाआआआ.............." मनिका ने कांपते होठों से जयसिंह को पुकारा

जयसिंह ने जैसे ही नज़रें घुमाई, उनके सामने मनिका अपनी पलके झुकाए खड़ी थी, 
"शहर जाकर उसकी सुंदरता में चार चांद लग गए थे, उसकी काली झील जैसी आंखे , तीखे नैन नक्श, पतले गुलाबी होंठ जिनका जयसिंह दीवाना हुआ करता था, वो ऐसे खड़ी थी मानो अजंता की कोई मूरत " जयसिंह ने जब उसे देखा तो देखता ही रह गया, उसके मुंह से शब्द ही नही निकल रहे थे,अभी थोड़ी देर पहले जिस मनिका से वो दूर रहने की सोच रहे थे, उसके चांदी जैसे खूबसूरत बदन को देखकर जयसिंह का मन एक पल के लिए डोल गया पर दूसरे पल ही उन्हें अपने से किया हुआ वादा याद आ गया कि अब वो मनिका से जितना दूर हो सके रहेंगे, और उन्होंने तुरंत अपनी धोखेबाज़ नज़रो को उस पर से हटा लिया,

"पापाआआआ......आप कैसे हो............???? " मनिका ने दोबारा अपनी पलके झुकाए ही पूछा

"ममम्मम मैं......ठीक हूँ.... मणि......तुम्म्म्म्म कैसी हो....." जयसिंह ने अपनी पूरी हिम्मत समेटकर पूछा

"मैं भी ठिक्क हूं... पापा" मनिका ने जवाब दिया

"तुम्म्म्म्म बैठो, मैं थोड़ा हाथ...मुंह धोकर आता हूँ मणि......." जयसिंह ने कांपते हुए कहा और बिना नज़रे फेरे ही सीधा अपने रूम में चले गए

अंदर आकर वो सीधा बाथरूम में घुस गए.....और हथेलियों से पानी अपने मुंह पर मारने लगे, उन्हें ऐसा महसूस हो रहा था मानो कहीं दूर से भागकर आ रहे हो, उनकी हार्ट बीट तेज़ हो गई थी, उन्हें पसीना आने लगा, उन्होंने तुरंत अपने कपड़े निकाले और शावर के नीचे आकर खड़े हो गए


शावर से निकलती पानी की बूंदे जब उनके शरीर को भिगोने लगी तो उनको कुछ रिलैक्स महसूस होने लगा

" चिंता मत कर जयसिंह, सब ठीक हो जाएगा.... देख उसने खुद तेरे से आकर बात की, इसका मतलब शायद वो तुझे माफ कर चुकी है...... हो सकता है समय के साथ उसकी नफरत कम हो गई हो........तू बस उससे आराम से बात कर...... जितना कम हो सके उतनी ही बात कर ....हो सकता है वो तुझे एक और मौका दे दे अपनी गलती सुधारने का.....नहीं नहीं वो हमेशा से गुस्सेल रही है.... वो मुझे कभी माफ नही करेगी.....अगर उसने मधु को बता दिया तो........नहीं वो मधु को नही बताएगी....अगर बताना होता तो अब तक बता चुकी होगी.....शायद वो तुझे सुधरने का एक मौका दे रही है....इस मौके को मत गंवाना ....." जयसिंह अपने अन्तर्मन से बाते कर रहा था
नहाने के बाद उसने अपना पजामा पहना ओर ऊपर टीशर्ट डालकर वापस हॉल की तरफ बढ़ने लगा, मधु ने अब तक खाना लगा दिया था, सभी लोग जयसिंह का ही इंतेज़ार कर रहे थे,

जयसिंह आकर सीधा अपनी कुर्सी पर बैठ गया ( जहाँ अक्सर घर का मुखिया बैठता है ) उसके एक तरफ मधु और कनिका थी तो दूसरी तरफ मनिका और हितेश

मधु ने सबकी प्लेट्स में खाना सर्व किया, सबने खाना खाना शुरू कर दिया....मनिका और जयसिंह दोनों ही बिल्कुल धीरे धीरे खाना खा रहे थे, जयसिंह के तो निवाला बड़ी मुश्किल से गले से नीचे उतर रहा था...

इधर मनिका अपने पापा के इतने पास बैठकर उनके जिस्म से निकलती गर्मी को महसूस करने की कोशिश कर रही थी, जयसिंह को आज इतने दिनों बाद अपने नज़दीक पाकर उसके बदन में हल्की हल्की चिंगारियां सी फुट रही थी ...वो प्यासी निगाहों से अपने पापा को देख रही थी, 

अजीब सी विडंबना थी कि ठीक 1 साल पहले उसके पापा उसको प्यासी निगाहों से देखते थे और वो बचने की कोशिश करती थी पर आज मनिका उन्हें प्यासी निगाहों से देख रही थी और जयसिंह बचने की कोशिश कर रहे थे,
सही बात ही है " जैसा बाप वैसी बेटी"

"अरे तुम दोनों इतने चुप क्यों हो, कोई झगड़ा हुआ है क्या तुम दोनों का" मधु ने जयसिंह और मनिका को इशारा करते हुए कहा

" नहीं....तो मम्म्म्ममी..... ऐसी तो कोई बात नही" मनिका झिझकते हुए बोली

"हां मधु ऐसी कोई बात नही है" जयसिंह भी लगभग मनिका के साथ ही बोल पड़ा

"तो फिर इतनी चुप्पी क्यों है , पहले तो आप लोगो की चपर चपर बन्द ही नही होती थी और अब देखो जैसे एक दूसरे को जानते ही नही हो" मधु ने उन्हें चिढ़ाते हुए कहा

जयसिंह तो बिल्कुल सुन्न हो चुका था, उसे समझ नही आ रहा था कि क्या बोले, पर इससे पहले की वो कुछ बोले, मनिका बीच मे बोल पड़ी


" अरे मम्मी, हम लोग तो वैसे भी हमेशा फ़ोन पर काफी बात कर लेते है, ओर वैसे भी खाते टाइम ज्यादा बात नहीं करनी चाहिए, आप चिंता मत करो, मैं पापा को इतना सताऊंगी, इतनी बाते करूंगी कि इन्हें खुद मुझे चुप कराना पड़ेगा" मनिका ने बात सम्भालते हुए बड़े ही शातिर तरीके से जवाब दिया और जयसिंह की तरफ तिरछी नज़रो से देखने लगी

मनिका की बात सुनकर बाकी लोग तो हसने लगे पर जयसिंह की हालत खराब हो गई, उसे समझ नही आ रहा था कि वो क्या करे इसलिए वो भी बेमन से थोड़ा सा मुस्कुरा दिया, पर उसके माथे पर शिकन की लकीरें उभर आई,
अब जयसिंह ने खाना खा लिया था, ऐसे भी वो अक्सर कम ही खाता था, सो वो उठकर किचन की तरफ हाथ धोने बढ़ा, पर इससे पहले की वो आगे बढ़े मनिका ने भी उठकर बोला कि उसका खाना हो गया है और वो तेज़ तेज़ कदमों से चलते हुए जयसिंह से पहले ही किचन में घुस गई,

उसे किचन में जाता देख एक बार तो जयसिंह ठिठका पर उसे हाथ तो धोने ही थे सो वो अंदर की ओर चल पड़ा,

मनिका किचन में हाथ धो रही थी, जयसिंह उससे थोड़ा दूर जाकर ही खड़ा हो गया
मनिका ने वाशबेसिन में हाथ धोने से पहले अपनी कुर्ती को चुपके से साइड में कर लिया था, जिससे उसकी सुंदर सी गांड उभरकर सामने आ रही थी, जयसिंह की धोकेबाज़ नज़रे तुरंत उसकी ठुमकती गांड की तरफ उठ गई, उस पर जैसे बिजली सी गिर पड़ी,
उधर मनिका जान बूझकर हाथ धोते समय अपनी कमर और गांड को होले होले हिला रही थी, 

जयसिंह ने तुरंत अपनी नज़रे दूसरी तरफ फेरनी चाही पर इससे पहले की वो अपना चेहरा घुमा पाता, उस पर एक और गाज गिर पड़ी, मनिका ने जानबुझकर अपना रुमाल नीचे गिरा दिया था और अब वो उसे हटाने के लिए झुकी हुई थी


उसकी पतली सी लिंगरी उसकी मांसल जांघो से बिल्कुल चिपक गयी थी, और स्ट्रेच होने की वजह से लिंगरी हल्की सी पारदर्शी हो गयी थी, जिसमे से उसकी ब्लू कलर की छोटी सी खूबसूरत पैंटी जयसिंह की आंखों के सामने आ गयी, उसकी मोटी सी मांसल गदरायी गांड पर उस छोटी सी पैंटी को देखकर जयसिंह की सांसे ऊपर की ऊपर और नीचे की नीचे रह गयी, उसका चेहरा गरम होने लगा, उसे अपने लन्ड में तनाव महसूस होने लगा,और जल्द ही उसने विकराल रूप ले लिया जिससे उसके पाजामे में उभार बन गया, मनिका जानबुझकर रुमाल उठाने में ज्यादा वक्त लग रही थी, उसने कनखियों से जयसिंह की ओर देखा तो पाजामे में उसके लन्ड का उभार उसकी आँखों से छुप नहीं पाया, उसके चेहरे पर एक शातिर हंसी आ गयी

जयसिंह से अब ओर ज्यादा बर्दास्त नही हो रहा था, उसका लन्ड पूरा उफान पर आ चुका था पर वो ये जनता था कि अगर मनिका ने उसे इस हालत में देख लिया तो गज़ब हो जाएगा, उसकी नफरत जो थोड़ी बहुत कम हुई है वो दोबारा बढ़ जाएगी, इसलिए इससे पहले की मनिका उसे देखे जयसिंह तुरन्त वहां से हटा और अपने उभार को छुपाते हुए अपने कमरे की तरफ चल पड़ा
कमरे में आते ही वो सीधा बाथरूम में घुस गया, और जल्दी जल्दी अपने हाथ धोने लगा
-  - 
Reply
09-21-2018, 01:55 PM,
#40
RE: Baap Beti Chudai बाप के रंग में रंग गई बेटी
"तू पागल है क्या जयसिंह, एक बार जो गलती की थी अभी तक उसकी सजा भुगत रहा है और अब दोबारा वही गलती करने जा रहा था, अगर वो तुझे देख लेती तो" जयसिंह के अन्तर्मन से आवाज़ आई

अब डर के मारे जयसिंह का खड़ा हुआ लन्ड वापस बैठने लगा पर आज मनिका के इस गांड दर्शन ने उसके अंदर के मर्द को दोबारा जगा दिया था,

इधर बाकी लोगों ने भी खाना खा लिया था और अपने अपने रूम में चले गए, मधु ने बर्तन साफ किये और बाकी छोटा मोटा काम खत्म करके रूम में आ गयी,


आज जयसिंह की महीनों से दबी वासना बाहर निकल चुकी थी और वो जनता था कि अगर ये वासना शांत न कि तो दोबारा कहीं वो कुछ गलत न कर दे, 

मधु ने कमरे के अंदर आकर अपनी साड़ी उतारी और नाइटी पहनने लगी, वो अक्सर सोते समय अपनी ब्रा उतार देती थी सो उसने अपनी ब्रा भी निकाल दी और टीशर्ट पहन ली

वैसे तो मधु लगभग 42 साल की थी पर उसने अपने आपको बिल्कुल मेंटेन किया हुआ था, दिखने में लगभग 30-32 साल की महिला ही लगती थी, कसा हुआ बदन, तीखे नैन नक्श, कजरारी आंखे, सांचे में ढली हुई कमर, भारी नितम्ब और सुडौल जाँघे , जिन्हें देखकर कोई भी दीवाना हो जाये
"आज बहुत खूबसूरत लग रही हो तुम" जयसिंह ने उसकी ओर देखकर कहा

"मैं तो हमेशा जैसी लगती हूं वैसी ही हूँ" मधु ने जवाब दिया

"पर आज तुम कुछ अलग सी लग रही हो" जयसिंह ने मादक आवाज़ में कहा

"हम्म्म्म, चलो कभी तो आपने ध्यान दिया, वैसे आज क्या अलग रह है आपको मुझमे" मधु ने इठलाते हुए कहा और आकर जयसिंह के साथ बेड पर लेट गयी

"पता नहीं पर आज तुम्हें देखकर मन में अजीब से ख्याल आ रहे है" जयसिंह ने ट्यूबलाइट के स्विच बन्द करते हुए कहा...अब सिर्फ उसके टेबल लैंप की हल्की हल्की रोशनी हो रही थी

"और वो अजीब से ख्याल क्या हैं भला" मधु भी अब जयसिंह की मंशा समझ चुकी थी और सच पूछो तो वो तो कई दिनों से इसके लिए तड़फ रही थी पर कभी उससे बोलने की हिम्मत ही नही हुई और कभी हिम्मत होती तो जयसिंह की नीरसता देखकर मन मार लेती, पर आज जयसिंह के बदले मूड को देखकर उसके शरीर मे चींटिया सी रेंगने लगी

"मुझे ऐसा लग रहा है कि तुम्हे कच्चा ही खा जाऊं, क्योंकि आज तुम बहुत सुंदर लग रही हो" जयसिंह ने मधु की टीशर्ट के अंदर हाथ डालते हुए कहा

"अच्छा अगर हिम्मत है तो खाकर दिखाइए " मधु ने इतराकर जवाब दिया

अब जयसिंह ने टीशर्ट के अंदर से ही उसकी खरबूजे जैसी चुंचियो को अपने हाथों में भर लिया और तुरंत उसके ऊपर आकर उसके होठों को चूमने लगा, महीनों बाद अपने पति के स्पर्श से मधु एकदम से उत्तेजित हो गयी, उसके निप्पल हार्ड होकर तन गए जयसिंह बीच बीच में अपनी अंगुलियों से उसके निप्पलों को कुरेद देता जिससे मधु के शरीर मे आनन्द की एक लहर सी दौड़ जाती, अब वो दोनों पागलो की तरह एक दूसरे को चूम रहे थे, जयसिंह अपने मुंह से मधु की जीभ को पकड़कर चूसता ओर मधु भी ठीक वैसा ही करती,

जयसिंह का लन्ड अब तनकर बिल्कुल खड़ा हो गया था जो मधु की जांघो के बीच आ रहा था 
जयसिंह को अब बर्दास्त करना मुश्किल हो रहा था ,,

उसने पलक झपकते ही मधु की टीशर्ट और नाइटी को उसके शरीर की गिरफ्त से आज़ाद कर दिया , अब मधु एक छोटी सी पैंटी में थी जिसमे उसके भारी भरकम नितम्ब बड़ी मुश्किल से समय हुए थे, जयसिंह ने उसकी पैंटी की इलास्टिक में अपनी अंगुलिया फ़साई और एक झटके में उसे निकालकर फेंक दिया, आज महिनों के बाद जयसिंह ने उसकी चुत के दीदार किये थे

मधु हमेशा अपने शरीर की साफ सफाई करती थी, हालांकि उसे चुदाई किये हुए काफी वक्त हो गया था पर फिर भी वो रेगुलरली अपनी चुत के बालों की सफाई करती रहती थी।

जयसिंह ने जब उसकी गुलाबी चुत को देखा तो उसके सब्र का बांध टूट गया, वो उस प्यारी सी चुत पर पागलो की तरह टूट पड़ा और उसे अपने मुंह मे भरकर चूसने लगा, मधु की चुत से निकलती मादक खुसबू उसके नथुनों में भर गई,


इतने दिनों बाद अपनी चुत पर जयसिंह के होठों का स्पर्श पाते ही मधु के शरीर मे सिहरन सी दौड़ गयी, जयसिंह ने अपना मुंह मधु की चुत में घुसा रखा था और अपने दोनों हाथों से उसकी दोनों चुचियों को मसल रहा था, इस दोतफ हमले के सामने मधु ज्यादा देर न टिक पायी और एक जोरदार अँगड़ाई के साथ उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया, जयसिंह सारे पानी को अपनी जीभ से चाट गया, अब जयसिंह ने अपनी जीभ को गोल करके मधु की चुत की गहराइयों में घुसाना शुरू किया, मधु तो जैसे जन्नत की सैर कर रही थी, उसने अपने दोनों हाथों से जयसिंह के सर को पकड़ा और उसे अपनी चुत की तरफ धकेलने लगी, लगभग 10 मिनट के अंदर ही वो दोबारा झड़ गई,

अब जयसिंह ने उसकी चुत पर से अपना मुंह उठाया और अपना पाजामे और टीशर्ट उतारना लगा, पाजामे उतरते ही उसका लम्बे लन्ड स्पंज की भांति उछलकर मधु के चेहरे के सामने आ गया, मधु ने जब लंड को इस तरह ठुमकते हुए देखा तो उससे बर्दास्त न हुआ और उसने लपककर लंड को अपने मुंह मे भर लिया और अंदर ही अंदर उसके सुपाडे पर अपनी जीभ फेरने लगी, जयसिंह को अपने लन्ड के इर्द गिर्द इतनी गर्माहट पाकर असीम आनन्द की अनुभूति होने लगी, वो मधु का सर पकड़कर अपने लंड को और अंदर घुसाने लगा, अब मधु का मुंह पूरी तरीके से जयसिंह के लन्ड से भरा हुआ था, 

थोड़ी देर इसी तरह लंड चुसवाने के बाद जयसिंह ने अपना लन्ड बाहर निकाला और मधु की चुत के मुहाने पर सेट करके एक जोरदार धक्का दिया जिससे उसका आधा लन्ड चुत के अंदर घुस चुका था, महीनों से अनचुदी चुत में जब लन्ड का प्रवेश हुआ तो मधु के बदन में एक टिश सी उठी पर उसने अपने होंठों को बंद करके अपनी आवाज़ बाहर नही निकलने दी

जयसिंह ने दोबारा अपने लैंड को थोड़ा बाहर निकाला और इस बार पूरी ताकत के साथ दोबारा चुत में घुसा दिया, उसका पूरा का पूरा लंड चुत में घुस चुका था, इस बार मधु सम्भाल न सकी और उसके मुंह से हल्की सी चीख निकल गयी,

जयसिंह ने अब ताबड़तोड़ धक्के लगाना शुरू कर दिया था, हर धक्के में उसका लन्ड मधु की बच्चेदानी से टकरा रहा था,

मधु तो मजे के मारे दोहरी हो गयी, उसके मुंह से हल्की हल्की आवाज़े निकलनी शुरू हो गई,
उन्ह्ह्ह्ह…ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़… ओहहहहहह यस ओहहहहहहह यस"
ओह्हहहहहह कितना तड़पाया है आपने........ओह्हहहहहह ह्म्प्फ़्फ़्फ़्फ़

लगभग 20 मिनट के घमासान के बाद जयसिंह और मधु साथ साथ झाड़ गए, उनके पानी का मिश्रण मधु की चुत से होता हुआ बेडशीट के ऊपर टपक रहा था, दोनों अभी भी बुरी तरह हांफ रहे थे, और जयसिंह का लंड अभी भी मधु की चुत में ही घुस था, पर अब दोनो की वासना सन्तुष्ट हो चुकी थी, इसलिए वो दोनों नंगे ही चुत में लंड घुसे हुए एक दूर की बाहों में मजे से सो गए।
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 687 307,664 Yesterday, 12:50 PM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 211 822,930 01-23-2020, 03:28 PM
Last Post:
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) 661 1,510,620 01-21-2020, 06:26 PM
Last Post:
Exclamation Maa Chudai Kahani आखिर मा चुद ही गई 38 173,470 01-20-2020, 09:50 PM
Last Post:
  चूतो का समुंदर 662 1,787,493 01-15-2020, 05:56 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Porn Kahani एक और घरेलू चुदाई 46 63,984 01-14-2020, 07:00 PM
Last Post:
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार 152 708,216 01-13-2020, 06:06 PM
Last Post:
Star Antarvasna मेरे पति और मेरी ननद 67 221,158 01-12-2020, 09:39 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 100 153,874 01-10-2020, 09:08 PM
Last Post:
  Free Sex Kahani काला इश्क़! 155 235,992 01-10-2020, 01:00 PM
Last Post:



Users browsing this thread:
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


mom choot ka sawad chataya sex storyHot Bhabhi ki chut me ungali dala fir chodaexxxमाँ बेटे का अनौखा रिश्तापापा कहते हैं चुदाईkarwa chauth suhagin bhabhi tits xxx क्वट्रीना कैफ नुदे randiantarvasanasexbabamastramsexkahani.comdesi byutigirls xxxcomMaa aur betexxxxhdÇhudai ke maje videosमां ने उकसाना चुत दिखाकरsavita bhabhi ki ugal malish 53 porn hindi comics freenxxn desi ghar me lejake pelame chudaikabile me storySamalapur xxx sexy Naked Danasrndi ko gndi gali dkr rat bitaya with open sexy porn picdipika kakar ke nange photoRadhika thongi baba sex videonanad xxx video bcuzxxxnx.sax.hindi.kahani.mrij.maa.ghar ka under muth cguate hua video hdanuska shetty 65sex photoसेकसि सुत विडिये गधि के सुत को केसे चोदे चोदने मे मोटी औरत मजा देती है कि पतलि औरतholi khelte aanty ho gai nangiमम्मी ला अंकल नी जबरदस्ती झवलं Wwwbhabi ki gand Chipke sex hd video comsabney leyon sexy xxchaci mera laend chucsa xnxxchaudaivideoxxxRicha Chadda sex babashuriti sodhi ke chutphotoRishte naate 2yum sex storiesmajabhur bhau bahin sex story hindisexbaba mom sex kahaniyaWwwbhabi ki gand chipake sex hd video comGeeta kapoor sexbababaratghar me chudi me kahaniउसका लंड लगभग 6 इंच का और काफी मोटाLadki ki Tatti ki pickarai xxxx comindian dhavni bhansuali heroen ki chutLadkibikni.sexsexbaba bhabhi nanad holiMummy chudai sexbaba.comxxx sex stories tmkoc sexbababadme xxxbfsexbabavedioKamini bete ko tadpaya sex storyXxx hot underwear lund khada ladki pakda fast sax online videoBaba ke ashirwad se chudwayadipika kakar hardcore nude fakesSUBSCRIBEANDGETVELAMMAFREE XX site:mupsaharovo.ruKAHANIYA FAKES NUDEsir ne meri chut li xxx kahaniXxxpornkahaniyahindewww.xxx hd panivala land photos. comमाया आणि मी सेक्स कथा mogambo sex karna chahiye na jayeरोज moty चाची को ब्रा deker बीटा gaand मार्ता nangi हिंदी कहानीनशेडी.औरतों.की.चुत.का.वीडियोXxxxxxx hot xxxx sex chikni chut chut kitne Prakar ki hoti hai tightपुचची त बुलला sex xxxBehan ki phudi dhoo wale ne leeKare 11 actor sex Baba netकहानी chodai की saphar sexbaba शुद्धpaas m soi orat sex krna cahthi h kese pta krexxx.bp fota lndniddeshi bhabhi unty bahan ko chodu hubsi ne chudai ki bf videoEk Ladki should do aur me kaise Sahiba suhagrat Banayenge wo Hame Dikhaye Ek Ladki Ko do ladki suhagrat kaise kamate hai wo dikhayeheroine Pannu bur land sexyसहेली बॉस सेक्सबाब राजशर्माsex me randi bnke chudwana videoaलङकीयो की चूटरAntarvashnaindian aunty xpicpashab porn pics .comskul me tera sal ka xxx vidhiyosxxx girls jhaat kaise mudti haibap betene ekach ma ko chodaRicha Chadda sex babaआंडवो सेकसीHidi sex kahniya now mabeta mastramnetरंडीला झवायला फोन नंबर पाहीजेदूध.पीता.पति.और.बुर.रगडताbhabi ke chutame land ghusake devarane chudai ki our gandmariWwwxxx sorry aapko Koi dusri Aurat Chod KeBigg Boss actress nude pictures on sexbabaMastram net anterwasna tange wale ka mota lundमराठिसकसwww.hostel girl ki gatam chut ki cjuda sex xxx!8girl.com