Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
06-28-2019, 01:03 PM,
#41
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
लग्भग १५ मीनट तक दोनों इसी तरह से पलंग पर पड़े रहते है दोनो ही इस लंबी चुदाई के बाद बूरी तरह से थक चुके थे। नेहा की ऐसी धमाकेदार चुदाई पहली बार हुई थी इससे पहले उसके साथ संजय ने जो भी किया था वो तो चुदाई के नाम पर उसके अंगो से खिलवाड़ भर था, और वो बेचारी इसे ही संभॊग समझती रही। किसी मर्द के कड़क लंड़ की ताकत का उसे पहली बार अहसास हुआ था और शायद आज की इस चुदाई के बाद उसे "मर्द"शब्द का अर्थ भी समझ में आ चुका था।

हांलाकि नेहा को इस बात का थोड़ा दु:ख और क्रोध जरूर था कि जो कुछ भी सनी ने उसके साथ किया उसमें उसकी मर्जी नहीं थी , लेकिन सनी ने इस बुरी तरह से अपने लंड़ से उसकी चूत में प्रहार किये कि कई महिनों से वासना की आग में भीतर ही भीतर जलते रहने के कारण स्खलन का जो पानी उसकी चूत से बाहर आने के लिये उबाल मार रहा था वो सनी के लंड़ के प्रहार से ही बाहर आया था और . एक स्त्री तभी स्खलित होती है जब वो संतुष्ठ होती है। स्खलन के इस पानी ने नेहा के न केवल दुख को समाप्त किया बल्कि उसने नेहा के हल्के से ही लेकिन क्रोध पर भी पानी फ़ेर दिया और वो परम संतुष्त के भाव से सनी की तरफ़ देखने लगी।

पति चाहे लाख कामाये या अपनी पत्नी को उपर से नीचे तक गहनों से लाद कर रखे लेकिन यदि वो बिस्तर पर अपनी पत्नी को संतुष्त नहीं कर सकता तो ऐसी धन दौलत और गहनों को पा कर भी वो कभी संतुष्त नहीं रह सकती और मर्द की यही कमजोरी या लापरवाही एक दिन उसकी पत्नी को पतिता बनने के लिये मजबूर कर देती है।ऐसा पति और उसका दौलतखाना किसी पत्नी के लिये "सोने" की जेल से कम नहीं होता।

संजय ने नेहा को सब कुछ दिया लेकिन वो उसकी शारीरिक जरुरतों के प्रति जागरुक नहीं रहा और अपनी पत्नी के शरीर में लगी अगन को समझ नहीं पाया और उसके प्रति उपेक्षित रवैया अपनाते रहा। वो सोचता रहा कि नेहा तो एक भारतीय स्त्री है जब पति के साथ रहेगी तभी वो ये सब काम करेगी। और वैसे भी नेहा का शर्मिला स्वभाव और कम बोलने की उसकी आदत के कारण संजय तो क्या कोई भी ये सोच भी नहीं सकता था कि उसके जैसी स्त्री भी अपनी सारी मर्यादायें ताक में रख कर किसी पुरुष से
संभोग करने जैसा काम कर सकती है। लेकिन दुनिया का इतिहास गवाह है कि रावण की लंका भी उसके अपने सगे भाई ने ही ढहाई थी और भी दुनिया में जितनी भी बड़ी सत्ताओं का पतन हुआ है उन सबमें आस्तिन के सापों का पूरा योगदान रहा है , दुनिया का इतिहास जयचंदो से भरा पड़ा है।

सनी ने भी यदि अपने बड़े भाई के घर में सेंध मारी थी और उसके साथ विश्वासघात किया था तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं थी . इसमें सबसे बड़ा दोष तो स्वयं "संजय" और उससे भी ज्यादा उसेके परिवार का था जिन्होंने एक जवान शरीर की जरुरतों को नजरांदाज किया और केवल शादी करवा कर अपने कर्तव्य की समाप्ति समझ ली।

घर की तीसरी मंजिल पर २३ साल की खूबसूरत जवान बहू का कमरा और ठीक उसके बगल में उसके २४ साल के जवान देवर का कमरा यानी आग और पेट्रोल साथ साथ। दुनिया के ९९.९% लोग अपने घर के लोगों को सच्चरित्र और शरीफ़ ही समझते हैं और वे तमाम बुराई अपने घर के बाहर ही देखते हैं।
Reply
06-28-2019, 01:04 PM,
#42
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
संजय की माँ यदि चाहती तो नेहा को अपने साथ अपने कमरे में सुला सकती थी लेकिन ६० साल की उम्र में भी वो अपने पति के साथ ही रहना चाहती थी। लेकिन उसे इस बात का तनिक भी विचार नहीं आया कि यदि वो ६० साल की उम्र में भी अपने पति से अलग नहीं हो सकती और उसके बिना नहीं रहना चाहती तो फ़िर २३ साल की जवान लड़्की अपने पति के बिना कैसे रह पायेगी?उसके मन पर क्या बीत रही होगी? परिवार के बुजिर्गों की इसी घनघोर लापरवाही और मूर्खता के कारण ना जाने ऐसे कितने ही चारित्रिक अपराध हुए होंगे और आगे भी होते रहेंगे जिनके बारे में ना तो कोई जानता है और ना ही कभी कोई जान पायेगा।

मर्द तो स्वभाव से ही पहलगामी होते हैं, उन्हें पृक्रति ने ही ऐसा बनाया है चंचल और उतावला,किसी जवान लड़की की तरफ़ आकर्षित होना और उससे सहवास का प्रयास करना या उसके सपने देखना ही उसका स्वभाव होता है। अगर औरतों के शर्मिलें स्वभाव की तरह ही यदि मर्द भी शर्मिले होते तो शायद ये संसार का चक्र कभी का रुक गया होता। क्योंकि ना तो तब औरतें अपनी शर्म के कारण कुछ कह पाती और ना ही मर्द पहल करते तब तो हो चुकी होती संसार की रचना। लेकिन ऐसा है नहीं,पृक्रति ने पुरुष को बनाया ही उतावला अधीर और बेशर्म और ये बात एक पुरुष होने के नाते संजय के पिता को समझनी चाहिये थी कि दो जवान जिस्मों को पास पास रखने के घातक परिणाम आ सकते हैं। लेकिन शायद खुद के बूढे हो जाने के कारण उनकी शारीरिक जरुरत समाप्त हो चुकी थी और वे यह भूल गये की दो जवान स्त्री पुरुष का एक दूसरे प्रति एक आकर्षण होता है और एक दूसरे की जरुरत भी और उनकी इसी भूल ने सनी और नेहा के ना(जायज) रिश्ते को जन्म दे दिया।

१५-२० मीनट के बाद नेहा के शरीर में थोड़ी हरकत होती है शायद चुदाई की उसकी थकान अब कम होने लगी थी,वो थोड़ा खड़ी होने का प्रयास करती है लेकिन सनी का दांयां पैर उसकी जांघो पर पड़ा हुआ था और उसका एक हाथ उसके स्तन पर . शायद उसे झपकि लग चुकी थी ।उसने पहले सनी के हाथ को अपने स्तन से हटाया और फ़िर उठ कर बैठ गई,फ़िर उसने उसकी जांघों को अपने उपर से हटाया और पलंग से उठ खड़ी हुई।

नेहा पूरी तरह से नंगी थी और बला की खूबसूरत लग रही थी . बाहर की तरफ़ निकली हुई उसकी गोल गोल भारों वाली उसकी गांड और बड़े बड़े विशाल स्तन उसे बेहद कामुक बना रहे थे। वो वैसे ही नंगी चलती हुई बाथरुम की तरफ़ जाने लगी लेकिन कमरे भीतर रखे ड़्रेसिंग टेबल के सामने से गुजरते हुए उसमें अपनी छाया देख कर वो रुक जाती है।

वो उस्के थोड़ा और करीब जाती है और अपने नंगे जिस्म को निहारने लगती है। अपने नंगे जिस्म को देखते हुए कभी तो वो शर्मा जाती और कभी गौरव और अहंकार से उसका मन भर जाता कि मेंरे इसी जिस्म को पाने के लिये सनी इतना ललायित रहता है। उसे इस बात के लिये खुद पर बेहद घमंड़ हो रहा था कि सनी मेंरे इस जिस्म के लिये पागल है। लेकिन ये अहंकार तो दुनिया की हर स्त्री को होता है कि पुरुष उसके जिस्म का दिवाना है और उसके पिछे पागल है।

अपने जिस्म पर घमंड़ करना हर स्त्री का स्वभाव होता है,और उसे भोगना हर पुरुष का। वो इस बात से शायद अन्जान होती है कि पुरुष का अंतिम लक्ष्य तो उसके जिस्म में बसी उसकी चूत होती है फ़िर शरीर चाहे किसी नेहा का हो या किसी सुनीता,अनिता या अंजली का हो।

कुछ देर तक इसी तरह अपने जिस्म को आईने में निहारने के बाद वो मंद मंद मुस्कुराते हुए एक निगाह पलंग पर पड़े नंगे सोये पड़े सनी पर ड़ालती है और बाथरुम में चली जाती है

बाथरुम में पहुंच कर नेहा ने शावर चालू किया और अपने शरीर की सफ़ाई करने लगी . दोनों जिस्मों के गुत्थम गुत्था होने से पैदा होने वाला पसीना और सनी के वीर्य ने उसके शरीर को चिपचिपा बना दिया था और चुदाई के दौरान हुई कसरत ने उसको काफ़ी थका दिया था। लेकिन पानी के बौछार के शरीर में लगने से उसे काफ़ी राहत महसूस हो रही थी और ताजगी का अह्सास उसके शरीर में नवीन उर्जा का संचार करने लगा।

लगभग १० मीनट तक नहाने के बाद नेहा पूरी तरह ताजगी महसूस करने लगी और अब उसने शावर बंद किया अपने बदन को पोंछने के बाद वो बिना तौलिया लपेटे नंगी ही वापस कमरे में आ गई . अब उसे सनी से शर्म जैसी कोई बात नहीं थी .

इधर सनी भी लगभग ३० मीनट की नींद पूरी करने के बाद जाग चुका था और काफ़ी तरोतजा मह्सूस कर रहा था . उसने अपनी आंखे खोली और पलंग पर ही पड़ा रहा।

पलंग पर लेटे हुए ही उसने एक नजर नेहा पर ड़ाली लेकिन वो बिस्तर पर नहीं थी , उसे बिस्तर पर ना पा कर उस्की निगाहें नेहा को खोजने लगी। नहाने के कारण नेहा के बदन में एक अलग ही चमक दिखाई दे रही थी और उसका गोरा बदन नंगा होने के वजह से और भी मादक लग रहा था ।रश्मी नहा कर कमरे में नग्न खड़ी थी उसका एक पैर स्टूल पर था और दूसरा पैर जमीन था और वो अब अपने पैरों को पोछ रही थी .
Reply
06-28-2019, 01:05 PM,
#43
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
उसके बाल खुले हुए थे और उसकी कमर तक लटक रहे थे।

अपनी खूबसूरत हसीना के चिकने नंगे बदन को देख कर सनी के लंड़ में फ़िर हरकत होने लगी . उसकी बड़ी बड़ी नग्न गांड़े ,मोटी जांघ और सुमेरु पर्वत की तरह विशाल लटकते हुए स्तन को देख सनी का लंड फ़िर अपने अकार में आने लगा और फ़िर से नेहा की चूत में जाने के लिये मचलने लगा। वो तुरंत हरकत में आता है और पलंग से खड़ा हो जाता है। उसका लंड़ अब फ़िर से बूरी तरह से कड़क हो चुका था और वो उसी अवस्था में नेहा के पीछे जा कर खड़ा हो जाता है और उसके बदन को पीछे से कामुक नजरों से घूरने लगता है।

नेहा इस बात से बेखबर थी की सनी जाग चुका है और उसके एकदम पिछे आ कर खड़ा हो चुका है, वो अपनी ही धुन में थी और पूरी तन्मयता से अपने नंगे बदन को पोछे जा रही थी . वो ये सोच रही थी की अब कपड़े पहनने के बाद तो नीचे पहुंचेगी और घर के बाकी सदस्यों के साथ बाजार जा कर सनी और नीता की सगाई का समान खरिदेगी . उसे पता था कि इस काम काफ़ी वक्त लगने वाला है।लेकिन सनी को इस बात की कोई भी जल्दी नहीं थी। और उसे तो कुछ और ही मंजूर था।

कुछ क्षणों तक नेहा के नंगे बदन को घूरने के बाद सनी ने नेहा को पिछे से पकड़ लिया और अपना लंड़ नेहा की नंगी गांड की दरारों मे जोर से दबा दिया और उसने अपने दोनों हाथों को आगे कर के उसके दोनों विशाल स्तनों को पकड़ लिया।

अचानक इस तरह पकड़ने से नेहा चौंक जाती है,वो पिछे मुड़ने कर देखने का प्रयास करती है लेकिन सनी ने उसे इतनी जोर से पिछे से भींच कर रखा था कि वो पलट नहीं पाती वो केवल अपनी गर्दन थोड़ी उपर उठा कर पिछे खड़े सनी की तरफ़ देखने का प्रयास करती है और कहती है "अरे ये क्या! छोड़ो मुझे, नीचे मम्मी,पापा इंतजार कर रहे होंगे बजार जाना है, अभी सगाई का सामान खरिदना और पूरी तैयारी करनी है और तुम हो कि फ़िर शुरु हो गये। अभी मन नहीं भरा क्या? छोड़ो मुझे प्लीज।
Reply
06-28-2019, 01:05 PM,
#44
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
सनी पर नेहा की इन बातों का कोई असर नहीं होता वो और भी जोर से नेहा को पकड़ लेता है और उसकी गांड पर अपने लंड़ का दबाव और भी बढ़ा देता है और उसके दोनों स्तनों को और भी ज्यादा जोरों से पकड़ लेता है और अपना लंड़ धीरे धीरे नेहा गांड़ मे उपर निचे रगड़ने लगता है। नेहा की नरम नरम विशाल गद्देदार गांड़ में अपना लंड़ रगड़ने से उसे एक अलग ही सुख का अहसास हो रहा था और उसकी उत्तेजना भी अपने चरम में पहुंच जाती है।

वो उसी तरह से उसकी गांड मे अपने लंड़ को रगड़ते हुए ही नेहा के गालों को चूमता है और कहता है "अभी क्या जल्दी है जान? अभी तो १० ही बजा है, और तुम्हें तो मम्मी ने ११:३० तक नीचे आने को कहा है। अभी नीचे जाओगी तो भी वो अपने समय से ही निकलेंगे और बेकार में तुम्हें किचन का काम बता देंगे। इसलिये ११:३० तक उपर ही रहॊ फ़िर दोनों देवर भाभी साथ ही नीचे उतरेंगे। नेहा प्रत्युत्तर में कुछ कहने के लिये मुंह खोलने का प्रयास करती है लेकिन सनी अपने होंठ नेहा के होठों से लगा देता है और उसकी मदमस्त जवानी का रस पीने लगता है।

सनी अब अपना लंड़ नेहा की गांड मे रगड़ रहा था , उसके दोनों हाथ नेहा के स्तनों को मसल रहे थे और उसके होठों से जवानी का रस चूम रहा था . नेहा चाह कर भी कुच बोल नहीं बोल पा रही थी और लगातार अपने बदन को मसले जाने के कारण वो भी धीरे धीरे गरम होने लगी और उसकी दमित वासना फ़िर उछाल मारने लगी।

अब सनी अपने दांये हाथ को नेहा के स्तन से हटाता है और धीरे धीरे उसके पेट को स्पर्श करते हुए वो अपना दांया हाथ नेहा की उभरी हुई जवान चूत पर रख देता है।

अपनी जवान चूत पर सनी का हाथ लगते ही नेहा पर मदहोशी छाने लगती है और वो सनी का लंड़ अपनी चूत में लेने के लिये मचलने लगती है।

सनी के हाथ अब नेहा की चूत की दरारों के उपर घूम रहे थे और इधर नेहा का बदन फ़िर से उत्तेजना के मारे थरथराने लगता है। कुछ देर तक नेहा की चूत को सहलाने के बाद त्षार अपनी एक उंगली नेहा की चूत के अंदर ड़ाल देता है और उसे हौले हौले अंदर बाहर करने लगता है।रश्मी मारे उत्तेजना के गरम हो जाती और उसकी चूत से पानी निकलने लगता है। उसके पैरों की शक्ति अब जवाब देने लगती है और अब खड़े रह पाना उसके लिये काफ़ी कठिन था।

चूत से निकलने वाले पानी के अपने हाथों से लगते ही तुशर समझ जाता है कि भाभी अब फ़िर से गरम हो चुकी है।अब वो और भी तेजी से उसकी चूत से खेलने लगता है और अपनी उंगली उसकी चूत से और भी तेजी से रगड़ने लगता है।

नेहा अब बेकाबू हो जाती है और उसके मुंह से आह्ह्ह आह्ह्ह्ह ओफ़्फ़्फ़ सीऽऽऽऽऽ सीऽऽऽऽऽऽऽऽ की अवाजें निकलने लगती है। उसके लिये अब उस पोजीशन में खड़े रहना अब संभव नहीं था सनी का लंड़ बुरी तरह से उसकी गांड़ से चिपका हुआ था और उसका एक हाथ नेहा के दोनों स्तनों को भीच रहे थे और उसे मसल रहे थे और दूसरा हाथ उसकी चूत से खिल्वाड़ कर रहा था। नेहा को बेहद आनंद आ रहा था लेकिन कुछ ही देर पहले वो सनी के लंड के स्वाद चख चुकी थी इसलिये अपनी चूत में केवल
एक छोटी सी उंगली से उसे वो सुख और संतुष्टी नहीं प्राप्त हो रही थी जो उसे कुछ देर पहले सनी के लंड़ से मिली थी।
वो बदहवास हो जाती है और अपना पूरा जोर लगा कर गोल घुम जाती है और सनी से लिपट जाती है . सनी भी उसे उसे अपनी बाहों में भीच लेता है और उसके चेहरे को बेतहशा चूमने लगता है। नेहा के विशाल स्तन अब सनी की छातियों से चिपके हुए थे और वो उसकी बाहों में . सनी उसे चूमे जा रहा था और अपने हाथों से उसकी दोनों बड़ी बड़ी गांड को मसलते जा रहा था।

कमरे का वतावरण अत्यंत ही कामुक हो चुका था कमरे में दो नंगे जवान स्त्री पुरुष एक दूसरे से गुत्थम गुत्था खड़े थे और उनके शरीरों की गर्मी भी बढती जा रही थी और कमरे मे उन दोनों के मुंह से निकलने वाली आंहे और कामुक अवाजें गूंज रही थी।थोडी थोडी देर में नेहा की चूड़ियों की खनक और पैर की पायल की छन छन की अवाज से माहौल और भी उत्तेजनापूर्ण होते जा रहा था।

सनी कुछ देर तक और नेहा को अपनी बाहों में थामे खड़ा रहा और उसके बदन की गर्मी का सुख लेते रहा तथा उसके नंगे जिस्म को सहलाते रहा लेकिन जब उसकी शक्ती जवाब दे जाती है तो वो अपने पैरों को ढीला छोड़ देता है और घुटनों के बल नीचे बैठ जाता है और अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को पकड़ लेता है और अपना मुंह उसकी चूत में लगा देता है।रश्मी खड़ी थी और सनी उसकी बुर चूस रहा था,नेहा के हाथ सनी के सर पर तेजी से घुम रहे थे,उसकी आंखे बंद थी और मुंह से सिसकियां निकल रही थी।रश्मी के आचरण से ऐसा लग रहा था कि उसे सनी का अपने जिस्म से खिलवाड़ मंजूर था और वो चाहती थी कि सनी उसके नंगे जिस्म से जी भर कर खेले।

कुछ देर तक खड़ी रह कर अपनी बुर चूसवाने के बाद नेहा का हौसला पस्त हो जाता है उसके पैरों में शकि नहीं बची थी कि वो उसके शरीर का भार उठा सके। उसके पांव ढीले पड़ जाते है और वो नीचे बैठ जाती है . उसके नीचे बैठते ही सनी उसे हौले से धक्का दे कर वहीं सुला देता है चूंकी जमीन पर कालीन बिछी थी जो कि अब बिस्तर का काम कर रही थी। सनी और नेहा दोनों में अब वो हिम्मत और धैर्य नहीं बचा था कि वो पलंग तक जाये लिहाजा नेहा भी बिना किसी विरोध के कालीन पर पीठ के बल सो जाती है। ये कालीन "संजय" ने अपनी खास पसंद पर कमरे में लगवाया था और वो उस बेहद पसंद था लेकिन इसे लगवाते हुए उसने कभी ये गुमान भी ना हुआ होगा कि इसी कालीन पर सो कर कभी मेंरी ही औरत पतिता बन कर मेंरे ही भाई का लंड़ अपनी चूत में ड़्लवायेगी।

नंगी नेहा नीचे सॊई पड़ी थी और अपने दोनों पैरों को उपर नीचे कर रही थी और अपने दोनों स्तनों को अपने ही हाथों से मसल रही थी थोड़ी थोड़ी देर में वो अपने होठों को अपने ही दातों से काट लेती और मुंह से सिसकारियां निकाल रही थी।रश्मी का मौन निमंत्रण पा कर पहले से ही उत्तेजित सनी और भी कामांध हो जाता है और वो उसकी दोनों जांघो को को फ़ैला कर उसके बीच में बैठ जाता है और अपने लंड़ में मुंह से थुक निकाल कर उसमें लगाता है और उससे अपने लंड़ को चिकना करता है और उसे नेहा की चूत में लगा कर एक हल्का सा धक्का देता है तो वो आधा नेहा की चूत मे घुस जाता है।
नेहा भी अपनी बुर में होने वाली वासना की खुजली से बचैन थी और इस बात का इंतजार कर रही थी सनी अब उसके जिस्म से खेलना छोड़ कर अपना लंड़ उसकी बुर में ड़ाले और उसकी बुर चोदना शुरु करे। सनी का लंड़ अपनी चूत में पा कर वो बेहद आनंद का अनुभव करने लगी और अपनी चूत को उपर उछाल उछाल कर वो सनी का पूरा लंड़ अपनी चूत मे लेने की कोशीश करने लगी।

सनी उसकी मंशा समझ जाता है और एक जोर के झटके के साथ अपना पूरा का पूरा लंड़ नेहा की चूत में ड़ाल देता है।
Reply
06-28-2019, 01:05 PM,
#45
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
लंड़ के झटके के साथ अंदर जाने के साथ ही नेहा के मूह से एक जोर की आह्ह्ह्ह्ह निकल जाती है . उसकी आंखे बंद थी लेकिन मुंह खुला हुआ था और वो बार बार अपनी जीभ अपने होठों पर फ़ेर रही थी . कामवासना के अतिरेक के कारण उसका सर कभी दाएं तो कभी बायें घूम रहा था। पूर्णत: उन्मुक्त और नंगी नेहा ने अपने जिस्म को पूरी तरह से ढ़ीला करके सनी को समर्पित कर दिया था और सनी के लंड़ के लिये अपनी चूत में प्रवेश को और भी असान बना दिया था। वो सनी के लंड़ को को अपनी चूत की गहराईयों तक महसूस करना चाहती थी। नंगी नेहा नागीन की तरह कमरे के कालीन में बलखा रही थी और उसके ऐसे बलखाने से वो और भी मादक लग रही थी और सनी को और तेजी से अपनी चूत में प्रहार करने के लिये उकसा रही थी।

सनी ने नेहा के जिस्म पर ऐसा अधिकार जमा लिया था कि उसे पाने और भोगने के लिये उसे नेहा की सहमति की भी जरुरत नहीं रह गई थी . आठ महीनों से अपनी कामवासना को लगातार दबाने और अपने मनोभावों को दबाने के कारण जो कुंठा उसके भीतर पैदा हो गई थी उसमें वो ये भी भूल चुकी थी वो एक जवान स्त्री है। शादी का मतलब उसके लिये केवल दो वक्त का खाना बनाना और अपने सास ससुर की सेवा करना भर रह गया था . पति से दूर संभोग विहीन स्त्री के लिये शादी एक बोझ बन गई थी और उसकी भावनाएं मुरझा गई थी और वो भी खुद को अपनी सास की तरह बूढी औरत समझने लगी थी और उसी तरह व्यवहार करने लगी थी। लेकिन सनी ने जबरन ही सही लेकिन जब उसे मजबूर करके नंगी किया और उसकी बूर को चोदा तब उसे अपने जवान होने का अहसास हुआ और उसे ये भी अहसास हुआ कि उसके जवान शरीर की भी कुछ जरुरत ऐसी हैं जिसे केवल एक मर्द ही पूरा कर सकता है।

नेहा की हालत ऐसी हो गई थी कि सनी का लंड़ पाने के लिये एक ही चीज की जरुरत थी और वो थी एकांत . दुनिया की नजरों से दूर किसी बंद कमरे में वो किसी भी रुप में सनी का लंड़ अपनी चूत में लेने के लिये तैयार थी।और इसके लिये न तो उसे किसी मखमली बिस्तर की जरुरत और ना ही पलंग की और इसीलिये सनी ने जब उसे कमरे के कालीन में चोदने के लिये सुलाया तो वो बिना किसी विरोध के उसी जगह चुदने के लिये तैयार हो गई।

रोटी का मतलब किसी भूखे इंसान से पूछो तो वो बतायेगा उसका मतलब या फ़िर उससे पूछो जो पाने के लिये जी तोड़ मेहनत करते हैं . किसी 5 स्टार होटल में अपने कुत्ते के साथ जाने वाला इंसान कभी भी रोटी का महत्व नहीं समझ सकता।

नेहा भूखी तो कई महिनों से थी लेकिन जैसे ज्यादा उपवास करने से भूख का अहसास खतम हो जाता है और इंसान का शरीर उस भूख के साथ समझौता कर लेता है,वैसे ही नेहा को भी कामवासना का अहसास खतम हो चुका था। वो खुद को बूढी समझने लगी थी लेकिन सनी ने उसकी बुर चोद कर उसे जवान होने का अहसास करा दिया था।

नेहा और सनी की अन्तरात्माएं तो पहले ही मौन धारण कर चुकी थी, सो पाप का अहसास जैसी कोई बात दोनों के मन में दूर दूर तक नहीं थी। और सनी तो वैसे भी ये मान कर चल रहा था कि अपनी भाभी को चोदना उसका धरम है, सो वो अपनी भाभी को चोदने का पुनित धार्मिक कार्य पूरे मनोयोग से कर रहा था।

नेहा भी सनी से एक बार चुदने के बाद काफ़ी हल्का महसूस कर रही थी,अपने शरीर में उसे एक अजीब बेचैनी जो महसूस होते रहती थी जिसे वो समझ नहीं पाती थी,उसकी वो बेचैनी और वो आकुलता शांत हो गई थी। एक बार की चुदाई ने ही उसके मन और मस्तिष्क को प्रसन्न कर दिया और sex उसके लिये एक दवा का काम कर रहा था क्योंकि इसने महिनों से चले आ रहे नेहा के अवसाद को खत्म कर दिया था। वो पुर्ननवीन हो गई थी और अपने जवान होने के अहसास ने उसे प्रसन्नचित्त कर दिया था।
Reply
06-28-2019, 01:05 PM,
#46
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
जैसे महिंनो की तपिश के बाद जब सावन की पहली बौछार धरती पर गिरती है तो धरती झूम उठती है और पेड़,पौधे झूम झूम कर सावन का स्वागत करते है,नेहा भी वैसे ही झूम रही थी और सनी के लंड़ का अपनी चूत में स्वागत कर रही थी।लेकिन सावन की केवल पहली बौछार ही धरती की प्यास नहीं बुझा पाती बल्की पहली बौछार के मिट्टी में लगते ही वतावरण में मिट्टी की सौंधी सौंधी खुशबु चारों तरफ़ फ़ैल जाती है और गर्मी की तपिश की बिदाई का संकेत दे देती है वैसे ही नेहा भी अपनी पहली
चुदाई से खुश जरूर थी लेकिन संतुष्*ट नहीं थी बल्कि इस चुदाई ने उसकी चुदने की भूख को और बढा दिया था और उसे और भी मादक बना दिया था। सनी उसकी इस मादकता को महसूस कर रहा था।

नग्न नेहा की मादक अदाओं ने सनी को उत्तेजना की चरम उंचाईयों तक पहुंचा दिया और उसका लंड़ और भी कड़क हो गया अब वो और तेजी से नेहा की चूत में प्रहार करने लगा उसने नेहा के दोनों विशाल स्तन अपने हाथों पकड़ लिये और उसे मसलने लगा नेहा भी वासना के सागर में तैरने लगी और अपनी कमर को झटके मार मार कर उछालने लगी और उसके लंड़ को अपनी चूत की गहराईयों तक पहुंचाने मे सनी का साथ देने लगी।

सनी एक तरफ़ तो नेहा की चूत में तजी से अपना लंड़ अंदर बाहर कर रहा था और दूसरी तरफ़ उसके स्तनों को मसले जा रहा था अब नेहा ने अपने हाथ उसके दोनों हाथ पर रख लिये और उसे मसलने लगी वो अपनी छातियों को और भी जोर मसलने के लिये उसे उकसा रही थी। कुछ देर के बाद उसने अपने हाथ उसके हाथों से हटाए और वो अपने हाथों से उसकी पीठ ,बाहों और सिर को सहलाने लगी।

नेहा के नरम हाथों के अपने बदन में घुमने से सनी को बेहद आनंद आ रहा था और अब मारे उत्तेजना के उसने नेहा के दोनों स्तनों को छोड़ दिया और उसके जिस्म पर लुड़क गया और उसे अपनी बाहों में भर लिया, दोनों के नंगे जिस्म एक बार फ़िर गुत्थम गुत्था हो गये और सनी अब नेहा के होठों पर अपने होठ रख देता है और उसे चूसने लगता है।

कुछ देर तक उसके होठों को चूसने के बाद सनी अपनी जीभ उसके होठों पर फ़िराने लगता है और फ़िर घिरे से उसके मुंह के अंदर अपनी जीभ ड़ाल देता है और उसकी जिभ से रगड़्ने लगता है। सनी की जीभ के अपनी जिभ से टकराने से नेहा को बेहद मजा आने लगता है और वो उसकी जीभ को चूसने लगती है। कुछ देर तक अपनी जीभ नेहा के मुंह में अपनी जीभ रखने के बाद वो उसे बाहर निकालता है और नेहा को उसकी जीभ अपने मुंह के अंदर ड़ालने के लिये कहता है। नेहा अपनी जीभ उसके मुंह में ड़ालती है तो सनी उसे चूसने लगता है। नेहा की जीभ चूसने से उसे ऐसा आनंद मिलता है की वो सब कुछ भूल कर उसी काम में लग जाता है।

नेहा के मुंह से निकलने वाले रस से सनी साराबोर हो जाता है और वो उसे पीने लगता है। दोनों ने एक दूसरे को जोर से भींच कर रखा हुआ था और बारी बारी एक दूसरे के मुंह मे अपनी जीभ ड़ालते और एक दूसरे को उसे चूसने का आनंद दे रहे थे। लगभग १५-२० मीनट तक इस क्रिया को दोहराने से दोनों के शरीर में ऐसी गर्मी पैदा हो जाती है कि दोनों ही पसीने से लथपथ हो जाते है। गर्मी इतनी बढ़ जाती है कि सनी को नेहा को अपनी बाहों से छोड़ना पड़्ता है और फ़िर से उकड़ू बैठ कर उसे चोदने लगता है।
Reply
06-28-2019, 01:06 PM,
#47
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
सनी ने अपने हाथ अब कालीन पर रखे हुए थे और वो नेहा की बूर में तजी से लंड़ पेल रहा था तभी नेहा सनी के हाथ को उठाकर अपने स्तन में रखने का प्रयास करती है सनी समझ जाता है कि वो अपने स्तन को मसलवाना चाहती है लेकिन वो अपने हाथ उसके स्तन पर नहीं रखता और उसे कहता है "जान, जैसा तुम मेंरे हाथों से इसे मसलवाना चाहती हो तुम वैसे ही इसे मसलो तभी मुझे समझ आयेगा कि तुमको क्या और कैसे इसे मसलवाना पसंद है। नेहा पहले तो मना करती है और कहती है "नहीं, मुझे शरम आती है" सनी कहता है "जब मसलवाने में शरम नहीं आती तो फ़िर खुद मसलने में कैसी शरम, प्लीज करो जो मैं कहता हुं तुमको ऐसा करते देख कर मुझे मजा आता है और मैं और भी
उत्तेजित होता हुं। अब नखरे मत करो और करो जो मैं कहता हुं sex करते समय शर्म मत किया करो नही तो इसका पूरा मजा कभी भी नहीं ले पाओगी।" नेहा उसकी बात मान लेती है और अपने हाथों से अपने स्तनों को मसलने लगती है।

अपने बड़े बड़े स्तनों को जब नेहा अपने ही हाथों से मसलने लगती है तो उस्के दोनों विशाल स्तन कभी उपर कभी नीचे तो कभी दांए बांए हिलने लगते है। ऐसे अपने ही हाथॊ से अपने स्तनों को मसलते हुए नेहा बला की कामुक लग रही थी और उसने सनी की उत्तेजना को और भी चरम शिखर तक पहुंचा दिया। सनी लगातार अपने लंड़ से नेहा की बुर में अपना लंड़ अंदर बाहर कर रहा था। कुछ देर तक ऐसे ही उसे चोदने के बाद वो अपना लंड़ उसकी चूत से बाहर निकालता है तो नेहा बेचैन हो जाती है और हवा में ही जोर जोर से अपनी कमर उछालने लगती है . वो दर असल कुछ और देर तक उसके लंड़ का मजा लेना चाहती थी वो अपने स्खलन पर पहुंचने ही वाली थी कि सनी ने अपना लंड़ उसकी चूत से बाहर निकाल लिया।

असल में सनी अब उसे घोड़ी बना कर चोदना चाहता था और इसी लिये उसने अपना लंड़ बाहर निकाला था। सनी उसे पलटने के लिये कहता है , नेहा अभी और चुदना चाहती थी इसलिये उसकी बात मानने के अलावा उसके पास कोई भी चारा नहीं बचा था और वो पलट जाती है, अब सनी उसे अपनी कमर को उपर उठाने के लिये कहता है नेहा अपनी कमर उठाकर घोड़ी बन जाती है .

अब नेहा के दोनों विशाल स्तन नीचे की तरफ़ लटक जाते है और उसकी दोनों विशाल बड़ी गांड़े सनी की तरफ़ खुली पड़ी थी। उसकी नंगी गांड को देखते ही सनी पागल हो जाता है और उसे जोरों से चूमने लगता है फ़िर वो अपना लंड़ उसकी गांड के पास ले जाता है और उसकी चूत को तलाशते हुए अपना लंड़ उसकी चूत में फ़िर से घुसा देता है और नेहा को पीछे से चोदने लगता है।

नेहा अब अपनी गांड को हिला हिला कर उसका लंड़ अपनी चूत में ले रही थी और सनी भी बड़ी तेजी से अपना लंड़ उसकी चूत में ड़ाल रहा था। गांड़ उठा कर चुदवाने के कारण सनी को नेहा की गांड़ साफ़ दिखाई दे रही थी। अब वो अपने मुंह में थोड़ा सा थूक भर कर उसकी गांड़ के छेद मे ड़ाल देता है और उसकी गांड़ के छेद को अपनी अंगूठे से दबा देता है और उसे धीरे धीरे मसलने लगता है।
Reply
06-28-2019, 01:06 PM,
#48
RE: Bhabhi ki Chudai कमीना देवर
अपनी चूत में सनी का लंड़ और गांड़ में अंगूठा रगड़े जाने से वो और भी उत्तेजित हो जाती है और अपनी गांड को और भी जोरों से हिलाने लगती है उससे उसकी बड़ी बड़ी गांड़ भी तेजी से हिलने लगती है जिससे उसकी कामुकता और भी बढ़ जाती है। अब सनी उत्तेजना के मारे अपनी एक उंगली उसकी गांड़ मे ड़ाल देता है और उसे अंदर बाहर करने लगता है और अपने लंड़ से उसकी बूर चोदना भी जारी रखता है।

अपने दोनों छेदों में लगातार प्रहार से नेहा उत्तेजना के मारे पागल हो जाती है और थरथराने लगती है। उसे ऐसा लगा कि यदि थोड़ी देर तक और उसके साथ ऐसा हुआ तो वो मारे उत्तेजना के बेहोश हो जायेगी . उसकी सांसे उखड़्ने लगती है और वो वो खुद पर पर काबू नहीं रख पाती और कुछ ही क्षणों में आह्ह्ह्ह्ह्ह ओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ आईमांऽऽऽऽऽऽ की अवाज निकालते हुए स्खलित हो जाती है।

स्खलित होते ही वो चैन की सांस लेती है और उसका शरीर ढीला पड़ जाता है वो निढाल हो कर वहीं करपेट पर ही सो जाती है लेकिन इधर सनी का माल अभी नहीं गिरा था इसलिये वो नेहा को फ़िर से खींच कर आने पास करता है उसको पीछे से थोड़ा उठा कर अपनी जांघो के पास रखता है और उसकी चूत में लंड़ ड़ाल उसे चोदने लगता है।

वो समझ जाता है कि अब ये झड़ चुकी है तो इस बार वो भी तेजी से अपना लंड़ अंदर बाहर करने लगता और कुछ ही देर में वो झड़ जाता है और जैसे उसका माल बाहर आता है तो वो अपना लंड़ उसकी चूत से बाहर निकालता है और अपना पूरा माल उसकी गांड़ में उंडेल देता है।और वो नेहा के उपर ही लेट जाता है।

कुछ देर तक नेहा के उपर सोये रहने के बाद सनी उठता है और घड़ी की तरफ़ देखता है . ११ बज चुके थे और आधे घंटे में उन्हें नीचे पहुंच जाना था इसलिये वो नंगी सोई पड़ी नेहा को हिलाता है जो अभी तक हांफ़ रही थी और लंबी सांसे रही थी। वो उसे धीरे से कहता है नेहा ११ बज चुके है हमें आधे घंटे में नीचे पहुंचना है।

११ बजने का नाम सुनते ही नेहा हड़्बड़ा कर खड़ी होती है और सीधे बाथरुम में पहुंच कर शावर चालू कर फ़िर से स्नान करने लगती है। उसे आज पूजा का सामान भी खरिदना था इसलिये वो इस हालत में बजार नहीं जा सकती थी। वो लग्भग दस मीनट तक नहाने के बाद बाहर आती है और जल्दी से अपने कपड़े पहनने लगती है। तभी उसका ध्यान सनी की तरफ़ जाता है लेकिन वो कमरे में नहीं था और उसके कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। दर असल वो नेहा की पिछे वाली बाल्कनी से अपनी बाल्कनी में कूद कर अपने कमरे में जा चुका था।

लगभग १५ मीनट में साड़ी पहन कर और तैयार हो कर नीचे की तरफ़ जाने लगती है . सनी के कमरे के पास निकलते हुए वो उसके कमरे के दरवाजे पर थपथपाते हुए नीचे उतर जाती है। जैसे ही नीचे पहुंचती है उसके आश्चर्य की सीमा नहीं रहती जब वो सनी को नाशते की टेबल पर बैठ कर नाश्ता करते हुए देखती है।

सनी उसकी तरफ़ देखता है और मुस्कुरा देता है और कहता है अब कैसी तबीयत है आपकी भाभी? यदि तबियत ठीक नहीम लग रही है तो थोड़ा और सो लिजिये और ऐसा बोल कर वो हल्के से अपनी एक आंख दबा देता है। नेहा भी प्रतुत्तर में ज्यादा कुछ नहीं कहती केवल इतना ही कहती है कि अब तबियत पहले से कफ़ी बेहतर है।

तभी उसके ससुर बोलते हैं " अरे बेटा टाइम खराब मत करो जल्दी से तुम भी नाश्ता कर लो तो हम चलें बाजार , आज सारा दिन लगने वाला इसी काम में . फ़िर वो सनी की मां से कहने लगते है अरे भई जब तक ये दोनों नाश्ता करते हैं तुम एक बार फ़िर से अपनी लिस्ट चेक कर लो कहीं कुछ छूट ना जाय , फ़िर आज के बाद हमें समय नहीं मिलने वाला बाजार वगैरह जाने के लिये। सनी की मां उन्हें कहती है आप चिंता मत करो सारी लिस्ट तैयार और कहीं कुछ भी नहीं छूटा है लिखने से हम पिछले तीन दिन से इस लिस्ट को तैयार् कर रहे हैं। उसके पिताजी आश्वस्त हो जाते हैं और कहते है "तो ठीक है अब मैं गाड़ी बाहर निकालता हूं और तुम लोग भी बिना देरी किये जल्दी से गाड़ी में आ कर बैठो। ऐसा बोल कर वो अपने घर् के गैरेज से गाड़ी निकालने के लिये निकल जाते हैं

इस तरह एक पतिव्रता और शर्मीली नारी को हवस के जाल में फसाकर लूट लिया और उसका अब हमेशा के लिए इस्तेमाल करता रहेगा पर नेहा भी अब इसमें खुश है कि उसे अब एक तगड़ा मर्द मिला जो उसकी हर सेक्सुअल जरूरत पूरी करेगा अब उसे सेक्स के लिए तरसना नही पड़ेगा कि कब उसका पति आएगा और उसके ऊपर अहसान करेगा बस दोस्तो इस कहानी में इतना ही


कहानी आपको कैसी लगी इस बारे में अपना कमेंट जरूर देना
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Porn Kahani हलवाई की दो बीवियाँ और नौकर sexstories 136 38,652 08-23-2019, 12:47 PM
Last Post: sexstories
  चूतो का समुंदर sexstories 659 862,135 08-21-2019, 09:39 PM
Last Post: girdhart
Star Adult Kahani कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास sexstories 171 61,450 08-21-2019, 07:31 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Sex Kahani दिल दोस्ती और दारू sexstories 155 35,020 08-18-2019, 02:01 PM
Last Post: sexstories
Star Parivaar Mai Chudai घर के रसीले आम मेरे नाम sexstories 46 81,984 08-16-2019, 11:19 AM
Last Post: sexstories
Star Hindi Porn Story जुली को मिल गई मूली sexstories 139 34,653 08-14-2019, 03:03 PM
Last Post: sexstories
Star Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार sexstories 45 72,960 08-13-2019, 11:36 AM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Incest Kahani माँ बेटी की मज़बूरी sexstories 15 27,155 08-13-2019, 11:23 AM
Last Post: sexstories
  Indian Porn Kahani वक्त ने बदले रिश्ते sexstories 225 114,934 08-12-2019, 01:27 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna तूने मेरे जाना,कभी नही जाना sexstories 30 47,294 08-08-2019, 03:51 PM
Last Post: Maazahmad54

Forum Jump:


Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Xxxbfxxnxxमग मला जोरात झवलीSexBabanetcomakka ku orgams varudhu sex storyvidhawa maa ke gand ki Darar me here ne lund ragadaPussy sex baba serials hina khanएक लडका था उसका नाम अलोक था और एक लडकी थी उसका नाम आरती थी अलोक बोला आरती अपने कपडे उतारो आरती बोलKAJAL AGGARWAL SEX GIF BABAGokuldham ki aurte babita ke sath kothe pe gayi sex storiesSex desi Randi ki cudaisexxxnahane ke bahane boys opan ling sexi hindi kahanisexvideo.inhindeschoolजबरदस्ती मम्मी की चुदाई ओपन सों ऑफ़ मामु साड़ी पहने वाली हिंदी ओपन सीरियल जैसा आवाज़ के साथमीनाक्षी GIF Baba Xossip Nude site:mupsaharovo.runewsexstory com hindi sex stories E0 A4 AD E0 A4 BE E0 A4 88 E0 A4 AC E0 A4 B9 E0 A4 A8 E0 A4 95 E0मुह मे मूत पेशाब पी sex story ,sexbaba.netmeri sangharsh gatha sex storyउठाया.पलग.सुहागरात.bahiya Mein Kasi ke mar le saiyan bagicha Gaya MMS videoचाट सेक्सबाब site:mupsaharovo.rurosni ka boor me pelokachha pehan kar chodhati hai wife sex xxxWww.sexkahaniy.comwww sexbaba net Thread indian sex story E0 A4 B9 E0 A4 B0 E0 A4 BE E0 A4 AE E0 A5 80 E0 A4 AC E0 A5वहिनी घालू का ओ गांडीत सेक्स कथाtelgu ledis sex vedio storysbiwi Randi bani apni marzi sa Hindi sex storysexbaba family incestटैलर किxxx Bhabhi ke sath sexy romance nindads bhojpuriचुतला विडियो www.sexbaba.net/Thread-बहू-नगीना-और-ससुर-कमीना मालनी और राकेश की चुदाईAdla badli sexbaba.commjedat desi wife shower bath porntv.अपने मामा की लडकी की गांड मारना जबरजशतीChut ki badbhu sex baba kahanixxx.sex.hd blackदेसीIndian tv acterss riya deepsi sex photosxxx girl berya nikal nakachhi ladki fadane ke tarikexxx khani hindi me bahan ko milaya jata banani skaiAunty ko jabrdasti nahlaya aur chodaThand ka din tha bus me khach khach bhid meri pichhe kadak lund sexki kahanibada land se tatti chhut gaee sunny xxx ypapa ka adha land ghusa tab boliBekaboo sowami baba xxx.comपुच्चीत लंडwwwmaa bete ki bf Jo Chut Mein Pani Gira dekhte hain.comदीदी को टी शर्ट और चड्डी ख़रीदा सेक्सी कहानीborobar and sistar xxxxvideosex chadana wali xxxhdvideosSexykahaniyachudaapne chote beteko paisedekar chudiSex story Ghaliya de or choot fadipukulo wale petticoat sex videos com HDNude bhai ky dost ny chodaganne ki mithas hindi kamuk incest sex story मि गाई ला झवल तर काय होईलnidhi agerwal ki chut photu xxxदूध और ममी सेक्सबाबDeepika chikh liya nude pussy picइतना बड़ा है तुम्हारा लंड भैया मेरी गांड को नष्ट मत करो - XNXX.COMहिप्नोतिसे की सेक्स कहानीमराठिसकसरकुल परीत सिह gad fotu hd xxxraj sharma maa bahan sex kahani page49Kriti sanon anterwasna khaniमाँ बेटी की गुलाम बनी porn storiesपती पतनी कि चडी खोलते हूएদেবোলীনা ভট্টাচার্যীMaa ke sath didi ko bhi choda xbombo.comमाझे आजीला माझे बाबा ना झवताना पाहीले कहानीsahar me girl bathroom me nahati kasey hai xxxpita ji ghar main nahin the to maa ko chodacudi potoNEWpriyamani boobs suck storyक्सक्सक्स बुआ ने चुड़ बया हिंदी स्टोरीलँङ खडा करने का कॅप्सुलxxx anty mom chodti hindi videoNimisha pornpicstoral rasputra faked photo in sexbabaXxxkaminibhabiindian south sex baba tv nudeTanyaSharma nude fakeआओ जानू मुझे चोद कर मेरी चूत का भोसङा बना दोKriti kharbanda pussy fucked hard sexbaba videosजाँघ से वीर्य गिर रहा थाpooja gandhisexbabachaudaivideoxxxगोऱ्या मांड्या आंटी च्याNuda phto सायसा सहगल nuda phto