Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
06-02-2019, 01:07 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
संजू ने धीरे से उसके कंधे पर अपना हाथ रखा.., वो लड़की उसका हाथ रखते ही बुरी तरह से काँप गयी.., सिर उठाकर देखा तो संजू बोला

– घबराओ नही.., वो लोग भाग गये अब तुम्हें डरने की कोई ज़रूरत नही है…!

लड़की उठकर उसके सीने से लिपट गयी और फुट-फुट कर रो पड़ी.., संजू ने उसकी पीठ सहलाते हुए कहा – कॉन हो तुम और यहाँ क्या कर रही थी…?

लड़की – मे कोचिंग से आ रही थी.., कि तभी ये गुंडे मेरे पीछे लग लिए.., मेने तेज-तेज कदम बढ़ाकर बचने की कोशिश की लेकिन यहाँ अंधेरे में आते ही उन्होने मुझे ज़बरदस्ती पकड़ लिया और मेरे साथ….सू..सू…सू..!

संजू – कहाँ रहती हो, आओ मे तुम्हें छोड़ देता हूँ..,

लड़की – मे कुछ दूर पर एक कमरा किराए पर लेकर रहती हूँ, गाओं से यहाँ पढ़ने आई थी.., भगवान आपका भला करे..,


समय पर आकर आपने मेरी इज़्ज़त बचा ली.., वरना मे कहीं मूह दिखाने लायक नही रहती..!

संजू – चलो मे तुम्हें तुम्हारे कमरे तक छोड़ देता हूँ.., इतना कहकर वो अपनी बाइक पर जा बैठा, पीछे वो लड़की भी बैठ गयी…!

कुछ देर बाद वो एक मामूली सी बस्ती के एक कोने में बने एक छोटे से मकान के एक बाहरी साइड बने कमरे में बैठे थे…!

लड़की – मे आपको क्या कहकर बुलाऊ..?

संजू – मेरा नाम संजू है.., तुम मुझे अपना भाई मान सकती हो..,

लड़की – मेरा नाम निर्मला है.., और सच कहूँ तो आप मुझे मेरे भाई ही लगे.., जिसने अपनी जान जोखिम में डाल कर आज एक अंजान लड़की की इज़्ज़त बचाकर अपने भाई होने का सबूत दिया है…!

वैसे आप करते क्या हैं…?

संजू उसके इस सवाल पर चुप रह गया.., जब कुछ देर उसने कुछ नही बोला तो निर्मला बोली – कोई बात नही अगर आप नही बताना चाहते तो ना सही..,

वैसे भी इस अंजान शहर में आपको भाई मानकर मेने कोई तो अपना पाया है.., अब काम जो भी हो उससे हमारे नये रिश्ते पर क्या फरक पड़ना है…?

संजू – ऐसी बात नही है निर्मला.., दरअसल मे जो करता हूँ, उसे जानकर कहीं तुम मुझसे नफ़रत ना करने लगो..,

ना जाने मेरे मूह से क्यों तुम्हारे लिए बेहन शब्द निकल गया.., वरना मे तो इतना गिरा हुआ इंसान हूँ.., जिसने अपनी खुद की सग़ी बेहन को अपनी नाकामियों की बलि चढ़ा दिया…!

इतना कहते कहते संजू का गला भर आया.., लाख रोकने पर भी उसकी आँखों में दो बूँद पानी की तैर गयी…!

निर्मला ने उसके पास जाकर अपना सिर उसके कंधे पर टिका दिया.., हाथ से उसकी पीठ पर बड़े स्नेह से सहलाते हुए बोली –


मे ये कभी नही मान सकती कि तुम्हारे जैसा भाई अपनी बेहन के साथ कुछ भी ग़लत कर सकता हो या किया हो…!

ज़रूर कुछ ऐसे हालत रहे होंगे.., जिनके हाथों इंसान हमेशा मजबूर होता आया है.., अगर चाहो तो अपना गम इस बेहन के साथ शेयर कर सकते हो, मन हल्का हो जाएगा….!

संजू ने एक लंबी साँस लेकर अपनी आप बीती उसे सुनाई.., जिसे सुनकर उन दोनो की आँखें झर-झर बरसने लगी.., फिर माहौल को हल्का करते हुए निर्मला बोली…!

आज से ये बेहन हमेशा अपने भाई के साथ खड़ी होगी.., अब तुम अपने आपको अकेला मत समझना भाई…, मुझे तुम्हारे इन कामों से कोई गिला नही है..,

बस में ये चाहूँगी कि हो सके तो मुझे भी ऐसे हालातों से लड़ने लायक बना दो, जिससे फिर एक बार अपनी बेहन को हालातों की वजह से खोना ना पड़े…!

चार पैसे कमाने के लिए कोई भी काम ग़लत नही होता.., ग़लत होता है सही के साथ ग़लत करना.., अगर तुम चाहो तो मे भी तुम्हारे इस काम में हाथ बँटाना चाहूँगी.., जिससे तुम्हें ये ना लगे कि तुम कुछ ग़लत करते हो…!

कुछ देर तक उसे संजू ये सब ना करने की सलाह देता रहा.., फिर जब निर्मला ने कहा कि अगर तुम समझते हो कि ये काम मेरे लिए ग़लत है, तो फिर तुम भी छोड़ दो…!

उसके तर्क सुनकर संजू को झुकना ही पड़ा.., और उसे अपने साथ शामिल करने का प्रॉमिस करके वो वहाँ से चला गया…!

दूसरे दिन लीना ने भानु को अपने गॅंग के मेन मेन लोगों से मिलवाया.., युसुफ उससे पहले ही मिल चुका था.., लेकिन संजू आज ही मिला था..!

भानु की एहमियत लीना के लिए अपने से ज़्यादा देखकर संजू को कुछ अट-पटा सा लगा.., लेकिन अपने में मस्त रहने वाला संजू इस बात को नज़रअंदाज कर गया..!

बहरहाल कुछ दिन और ऐसे ही निकल गये.., इस बीच संजू निर्मला को कुछ लड़ाई के दाँव-पेंच सिखाने लगा..,

फिर एक दिन उसने उसे लीना से भी मिलवाया, और उसकी इच्छा उसे बताई.., लीना को स्टूडेंट्स की तो वैसे ही ज़रूरत रहती थी.., क्योंकि सबसे ज़्यादा ड्रग्स सप्लाइ कॉलेजस में ही होती है…!

तो भला उसे क्या एतराज हो सकता था.., लिहाजा निर्मला और संजू ज़्यादातर साथ साथ रहने लगे…, दोनो एक दूसरे की बहुत इज़्ज़त करते थे,

दोनो में भाई-बेहन का पाक रिस्ता था.., दोनो के बीच किस तरह का रिस्ता है ये बात संजू ने अपने वाकी साथियों को भी बता दी थी..!

फिर भला उसके गॅंग में किसकी मज़ाल जो उसे गंदी नज़र से देख भी सके…, धीरे-धीरे निर्मला के और दोस्त भी उसके साथ आगये और धंधे में संजू का हाथ बंटाने लगे..!

धंधे की बातों के अलावा लीना उर्फ कामिनी और भानु के बीच अक्सर ये बातें होती रहती थी कि कैसे और किस तरह से अंकुश से कुछ इस तरह से बदला लिया जाए कि वो जिंदा रहते हुए भी तिल-तिल कर मरे…!

उधर इन सारी साज़िशों से दूर शरमा फॅमिली में खुशियों की नित नयी कहानियाँ जनम लेती रहती थी.., सब लोग मिल-जुलकर शहर वाले बंगले में रहने लगे थे…!

हफ्ते में दो एक बार प्राची और एसएसपी कृष्ण कांत आकर परिवार के साथ समय बिताते थे.., वहीं बाबूजी महीने में एक दो बार गाओं जाकर दोनो चाचियों के साथ समय व्यतीत कर लेते थे..,

मे भी कभी कभार छोटी चाची से मिलने चला जाता था, वो भी अपने बेटे को मिलने चाचा के साथ शहर आ जाती थी…!

भाभी और निशा दोनो बहनें मेरे लिए कभी-कभी जन्नत भरा माहौल पैदा कर देती..,

कुल मिलाकर कुछ किलोमीटर की दूरियाँ भी हम सबके बीच ना के बराबर ही थी…!
Reply
06-02-2019, 01:07 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
मेरी वकालत का काम अच्छा चल रहा था.., जिसमें मुझे ज़्यादा कुछ नही करना पड़ता था.., ज़्यादातर क्लाइंट्स उध्योग्जगत से थे, फिक्स काम था जिसे स्टाफ के लोग संभाल लेते थे…!

उधर दूसरे शहर में तेज़ी से पनप रही अपराधिक गतिविधियों पर हमारी नज़र बराबर बनी हुई थी.., जिसमें हाल ही के कुछ दिनो में एक अभूतपूर्व सफलता हाथ लगी थी…!

प्राची की बहुत दिनो से चल रही कोशिश कामयाब रही थी.., बस अब हमें इंतेजार था तो सही मौके का जिसमें एक ही बार में सारी बुराइयाँ ख़तम हो जानी थी…!

प्राची के मूह से संजू के बारे में इतना कुछ सुन सुनकर उससे एक बार मिलने की मेरी उत्सुकता जाग उठी..,

प्राची जो कि ज़्यादातर उसी शहर में रहकर अपने मिशन को अंजाम दे रही थी उसे सारी योजना समझाकर एक दिन मेने संजू से मिलने का मन बना ही लिया……….!

संजू और निर्मला अक्सर शाम के वक़्त शहर से दूर, खुले में घूमने निकल जाया करते थे..,

उस दिन भी वो कुछ देर एक पार्क में घूमकर लौट रहे थे कि तभी एक युवक ने जो देखने में किसी फिल्मी हीरो जैसा दिखता था..,

लाल सुर्ख चेहरे पर हल्की हल्की दादी मून्छे बहुत ही फॅब रही थी उस युवक पर.., संजू और निर्मला जैसे ही पार्क से बाहर आकर सड़क पर चलने लगे…

पीछे से उन दोनो पर फबती कसते हुए वो युवक बोला – वाह क्या जोड़ी है लैला-मजनूं की.., ऐसा लगता है लंगूर के हाथ हूर आ गयी हो…!

संजू ने मुड़कर उस युवक को देखा जो उसे ही देख कर मुस्करा रहा था.., अपने को लंगूर कहे जाने पर ही संजू को उसपर गुस्सा आ रहा था.., उसपर उसकी मुस्कराहट ने आग में घी का काम कर दिया…!

वो उसे खा जाने वाली नज़रों से घूरते हुए बोला – बेटा अभी लंगूर का हाथ नही पड़ा है वरना यहाँ दिखाई भी नही देता…,

और ये लैला मजनूं किसे बोला रे हराम खोर साले ये मेरी बेहन है.., अपने दिमाग़ की गंदगी सॉफ कर जिसमें हर लड़के लड़की के लिए ग़लत ही भाव भरे हैं…

युवक उसकी बात पर ताली बजाते हुए बोला – अरे वाह…पहली बार किसी भाई को इतने अंधेरे में अकेले एकांत में अपनी बेहन को पार्क में घूमते देखा है…!

संजू उसकी बात पर भड़कते हुए बोला – तुझसे मतलब…अपने काम से काम रख वरना….!!!!

वो युवक भी भड़कते हुए बोला – वरना क्या झान्ट उखाड़ेगा तू..?

युवक के मूह से ये शब्द निकलते ही संजू का गुस्सा सातवें आसमान पर जा पहुँचा.., इतना उसे गम कहाँ था सो छूटते ही उसने उस युवक पर हाथ छोड़ दिया…!

युवक को उसके इस दुस्साहस की उम्मीद नही थी, संजू का भरपूर मुक्का उसकी कनपटी पर पड़ा.., युवक की आँखों के सामने लाल-पीले तारे जगमगा उठे..,

उसे संजू के मुक्के ने बता दिया कि सामने वाला भी कम नही है.., अभी वो अपने सिर को झटक कर अपने होश ठिकाने लाने की कोशिश कर ही रहा था कि तभी संजू की आवाज़ उसके कानों में पड़ी…!

क्यों पता चला कि मे क्या कर सकता हूँ, अब चलता बन यहाँ से वरना वो गत बनाउन्गा की घरवाले भी पहचानने से इनकार कर देंगे….!

लेकिन उसके ठीक उलट वो युवक मुस्कराते हुए बोला – मानना पड़ेगा कि तू भी कम खिलाड़ी नही है लेकिन अब मुझे भी तो झेल….!

ये कहते ही उसने संजू के उपर छलान्ग लगा दी.., इससे पहले कि संजू सम्भल पाता, युवक की दोनो टाँगें हवा में उछली, और भड़ाक से उसके दोनो पैर संजू की छाती से जा टकराए….!

लाख संभालने की कोशिश के बावजूद संजू अपनी जगह से 10 फुट पीछे जाकर गिरा.., चोट बहुत तेज लगी थी.., कुछ पल के लिए वो उस चोट से पड़ा रह गया…,

लेकिन जल्दी ही अपने पैरों पर खड़ा होते हुए किसी चीते की तरह उसने युवक पर छलान्ग लगा दी.., उधर वो युवक भी अब पूरी तरह से सतर्क था..,

उसने भी संजू पर ठीक उसी समय छलान्ग लगाई.., नतीजा बीच में ही दोनो के सिर भड़ाक से एक दूसरे से जा टकराए.., दोनो ही अपनी विपरीत दिशा में ज़मीन पर जा गिरे…!

गिरते ही वो दोनो उछल्कर अपने पैरों पर खड़े थे.., जहाँ संजू उसे खा जाने वाली नज़रों से घूर रहा था वहीं उस युवक के चेहरे पर वही प्यारी सी मुस्कान थी..,

जिसे संजू सहन नही कर सका और किसी बिगड़ैल भैंसे की तरह हुन्कार्ते हुए उससे जा भिड़ा…!

पास में खड़ी निर्मला उन दोनो की लड़ाई बड़ी तन्मयता से देख रही थी…, कभी संजू उस युवक पर भारी पड़ता दिखाई देता तो दूसरे ही पल वो युवक संजू पर…!

लड़ते लड़ते उन दोनो को काफ़ी वक़्त हो गया था.., दोनो के ही कयि जगह गहरी चोटें भी आ चुकी थी.., जगह जगह चेहरे पर खून झलकने लगा था…,

लेकिन उन दोनो में से कोई किसी से कम पड़ता नज़र नही आ रहा था.., फिर एक पल ऐसा आया कि संजू ने उस पर छलान्ग लगाई.., चीते की फुर्ती से युवक अपनी जगह से थोड़ा सा हटा…!

हवा में ही उसने एक हाथ से संजू की गर्दन दबोच ली और उसे पूरी ताक़त से ज़मीन पर दे पटका.., फोर्स इतना ज़्यादा था कि संजू की रीड की हटी कड़क गयी..,

लाख संभलने के बावजूद एक क्षण को उसकी चेतना जबाब दे गयी.., और वो वहीं पड़ा रह गया.., उठने की शक्ति जबाब दे गयी…!

युवक ने उसे चिडाने की कोशिश करते हुए कहा – चल बच्चे उठ.., क्या हुआ निकल गयी सारी हेकड़ी…, तब तो बड़ी बड़ी डींगे हांक रहा था…!

याद रखना शेर को सवा शेर मिल ही जाता है.., इतना कहकर वो युवक अपने कपड़े झाड़ता हुआ वहाँ से जाने लगा…!
Reply
06-02-2019, 01:08 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
तभी पीछे से निर्मला ने अपने बॅग से रेवोल्वर निकाला और उस युवक की पीठ को अपने निशाने पर ले लिया…!

इससे पहले कि वो उस पर गोली चलाती.., संजू अपनी शक्ति बटोरकर उठा और उसने निर्मला का हाथ उपर कर दिया..,

आनन फानन में घोड़ा दब गया और फाइयर की आवाज़ दूर दूर तक गूँज उठी…!

युवक ने पीछे मूड कर देखा.., निर्मला की गन की नाल से धुआँ निकल रहा था.., वो अपनी गन वाली कलाई संजू की गिरफ़्त से छुड़ाते हुए बोली-

छोड़ो भाई मुझे.., उसने तुम्हें शिकस्त दी है.., मे उसे छोड़ूँगी नही…!

संजू – नही बेहन, मे किसी बहादुर आदमी को यूँ धोके से मरता हुआ नही देख सकता.., उसने मुझे अपनी ताक़त और हुनर से शिकस्त दी है.., जिसे में दिल से स्वीकार करता हूँ…!

संजू की बात सुनकर वो युवक पलटा और संजू के कंधे पर हाथ रख कर बोला – तुम सच में एक बहादुर इंशान हो..,

बहुत दिनो बाद मुझे कोई मर्द मिला है.., एक बहादुर ही दूसरे बहादुर की कद्र कर सकता है…!

आशा करता हूँ, कि भविश्य में अगर हम कभी मिलें तो इस तरह से ना मिलें, बल्कि दोस्तों की तरह मिलें…!


बाइ…ये कहकर वो युवक अपने रास्ते बढ़ गया……!

सब कुछ हमारे रडार पर ही चल रहा था, इस शहर को हमारी पोलीस अच्छे से संभाले थी, और उस शहर का हर काम हमारी निगाह में था…!

लेकिन कहते हैं, कि अमृत मंथन में जहर भी निकलता है जिसे खुद को ही पीना पड़ता है…ऐसा ही कुछ आने वाले समय में होने वाला था..,

एक बहुत फेमस कहावत है, दीपक तले अंधेरा, यही हमारे साथ भी हुआ…, हम लोग अपराध रोकने के लिए यता संभव प्रयास में लगे थे, लेकिन हमारे साथ ही एक ऐसा वाक़या हो गया जिसे हम रोकने में नाकामयाब रहे…!

रूचि 11थ में पढ़ रही थी.., उसका स्कूल, शहर से बाहर एक इंटरनॅशनल स्टॅंडर्ड का स्कूल था.., स्कूल तक लाने ले जाने के लिए स्कूल की तरफ से ही बस की सुविधा थी…!

आज उसके स्कूल में पेरेंट्स मीटिंग रखी थी.., भैया को अपने कॉलेज से फ़ुर्सत नही थी सो मीटिंग अटेंड करने के लिए मोहिनी भाभी को ही जाना पड़ा…!

ड्राइवर को साथ लेकर वो अपनी कार से रूचि के स्कूल गयी, तय हुआ था कि लौटने पर वो रूचि को भी अपने साथ लाने वाली थी..!

पेरेंट्स मीटिंग ख़तम होते होते लगभग 3 बज गये.., माँ-बेटी कार से लौट रही थी कि अचानक से उनकी कार पन्चर हो गयी…!

पन्चर क्या, उसके चारों व्हील एक साथ बैठ गये.., बड़ी मुश्किल से ड्राइवर ने गाड़ी को कंट्रोल किया.., फिर भी वो रोड से नीचे तक घिसती चली गयी…!

अभी उन लोगों की कुछ समझ में आया भी नही था कि आख़िर ये हुआ कैसे.., ड्राइवर गाड़ी संभालने के बाद एंजिन बंद करके उतरकर नीचे देखने के लिए गेट खोल ही रहा था…,

कि तभी ना जाने कहाँ से 5-6 हथियार बंद नकाबपोषों ने उनकी गाड़ी को चारों तरफ से घेर लिया..!

बदमाशों ने ड्राइवर के हाथ पैर बाँधकर उसी गाड़ी की सीट पर डाला और जबरन भाभी और रूचि को घसीटकर गाड़ी से बाहर निकाला..,

तभी वहाँ एक काले रंग की स्कॉर्पियो आकर रुकी, दोनो को जबरन उसमें ठूंस दिया.., चिल्लाने की कोशिश की तो मूह पट्टियों से कस दिया…, और देखते ही देखते वो स्कॉर्पियो उन दोनो को लेकर वहाँ से नौ-दो-ग्यारह हो गयी…!

जैसे तैसे किसी तरह ड्राइवर ने किसी रास्तागीर की मदद से अपने बन्धनो को आज़ाद करवाया, और घर पर फोन किया…!

घर पर उस समय निशा अकेली ही थी, सुनकर उसके होश गुम हो गये.., बेचारी सिवाय रोने-धोने के और क्या करती..,

फिर अपने आपको संभालकर उसने रोते-रोते मुझे फोन किया.., मेने फोन पर ही उसे सांत्वना देते हुए धीरज रखने को कहा…!

मेरे लिए ये घटना किसी गाज गिरने से कम नही थी.., अपने परिवार पर किसी तरह का संकट मेरे लिए असहनीय था..,

वो भी ख़ासकर अपनी प्यारी भाभी और सबकी दुलारी मेरी भतीजी को इस तरह के संकट में फँसा सुनकर एकपल को तो मेरे भी होश गुम हो गये.., दिमाग़ ने काम करना बंद कर दिया…!

चारों तरफ अंधेरा सा छा गया.., किसी तरह मेने अपने आप को संभाला और फिर कृष्णा भैया को इस बात की सूचना दी..,!

सुनते ही उनकी पूरी फोर्स एक्शन में आगयि.., और इलाक़े में उस काली स्कॉर्पियो की तलाश में जुट गयी…!

मेने प्राची को कॉंटॅक्ट करके सारी बातें बताई.., एक बार को वो भी सुनकर बैचैन हो उठी.., लेकिन उस समय वो जहाँ थी वहाँ अपने आस-पास अपने एक्सप्रेशन को शो नही कर सकती थी…!

कुछ देर बाद सामने से उसका फोन आया.., और डीटेल्स में सारी बातें हुई.., लेकिन वो ये पता नही लगा पाई कि ये काम उसी गॅंग के द्वारा किया गया है या नही…!

जिस तरह की जानकारी प्राची ने बीते दिनों में जुटाई थी.., उससे ये तो तय था कि भानु किसी औरत के लिए काम करता है..,

चूँकि प्राची ने कामिनी को कभी देखा नही था सो उससे मिलने के बाद भी वो ये नही जानती थी कि वो जिंदा है और फिरसे अपना धंधा खड़ा कर चुकी है…!

लेकिन ना जाने क्यों मुझे बार-बार ये शक़ हो रहा था कि हो ना हो ये काम भानु ने ही अंजाम दिया है.., क्योंकि उसके अलावा ऐसा मोटिव किसी और के पास हो ही नही सकता…!

बार बार की डिफीट के बाद वो तिलमिलाए बैठा होगा.., अब जब उसे किसी पवरफुल गॅंग का साथ मिल गया है तो वो मेरे उपर चोट ज़रूर ही करेगा…!
Reply
06-02-2019, 01:08 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
शाम देर तक मे अपने ऑफीस में बैठा यही सोचता रहा.., प्राची को मेने यथा संभव जानकारी जुटाने में लगा दिया था, लेकिन वो अब तक कोई सुराग नही दे पाई थी……!

उधर वो स्कॉर्पियो मोहिनी भाभी और रूचि को किडनप करके पहले अपने ही शहर की तरफ बढ़ी.., लेकिन कुछ दूर जाकर जैसे ही ड्राइवर की नज़रों से ओझल हुई.., अगले ही मोडसे उसने विपरीत दिशा में टर्न ले लिया…!

अब वो अली** की तरफ तेज़ी से बढ़ी चली जा रही थी.., उनमें से एक नक़ाबपोश ने मोहिनी के गालों को दबाते हुए कहा – क्यों झाँसी की रानी.., निकल गयी सारी हेकड़ी तेरी..?

यही सोच रही है ना कि हम लोग कॉन हैं..? और कहाँ ले जा रहे हैं तुझे..? तो देख…, ये कहकर उसने अपना नक़ाब हटा दिया.., मूह बँधा होने के कारण वो कुछ बोल तो सकती नही थी.., लेकिन भानु को देखकर बुरी तरह से चोंक ज़रूर पड़ी…!

उन्हें तो अब तक यही पता था कि श्वेता के साथ साथ वो भी मर चुका है…,

तभी भानु जहर बुझे स्वर में बोला – क्यों झटका खा गयी ना.., मे तो मर चुका था फिर जिंदा कैसे हूँ.., यही सोच रही है ना…!

अभी तो तुझे इससे भी बड़ा झटका लगने वाला है हरम्जादि.., तेरे और तेरे उस मदर्चोद देवर की वजह से मेरा जीना हराम हो गया है.., अब देखना कैसे गिन-गिनकर बदले लेता हूँ तुम लोगों से…हाहहाहा….!

फिर उसने प्राची के नाज़ुक अनछुए बदन पर अपने खुरदुरे हाथ से सहलाते हुए कहा – पहले तेरी आँखों के सामने तेरी इस नाज़ुक कली को फूल बनाउंगा.., फिर तुम दोनो को किसी कोठे पर बिठाकर धंधा कर्वाउन्गा…!

उसके खुरदुरे कठोर हाथों को अपने नाज़ुक बदन पर पाकर रूचि बस कसमसा कर रह गयी.., उसकी आँखें झर-झर बहने लगी…!

तुम दोनो को ढूड़ने के लिए वो हरामज़ादा वकील एडी-चोटी का ज़ोर लगा देगा.., लेकिन पता नही कर पाएगा.., फिर तुम दोनो की न्यूड रील बनाकर उससे गिन-गिन कर अपने बदले लूँगा…हाहहाहा….!

भानु की जहर बुझे तीर के माफिक बातें सुनकर मोहिनी की आँखें सिवाय बरसने के और कुछ नही कर पा रही थी.., बेबसी में वो बस अपने आँसू बहाए जा रही थी…!

लंबे सफ़र के बाद अचानक उनकी गाड़ी शहर से बाहर किसी फार्म हाउस में जाकर रुकी.., दोनो को हाथ पैर और मूह बाँधकर एक अंधेरे से कमरे में डाल दिया..!

दरवाजे पर चार गुण्डों को पहरे पर बिठाकर भानु वहाँ से निकल गया….!

उसी दिन 5 बजे लीना ने अपने सभी खास खास लोगों को अपने अड्डे पर बुलाया, उस समय संजू के साथ निर्मला भी थी..!

आते ही लीना ने युसुफ और संजू से कहा – आज रात की मीटिंग तुम लोग संभाल लेना…, सारा हिसाब किताब करके कल मुझे रिपोर्ट देना.., आज की रात मुझे कुछ अर्जेंट काम से बाहर जाना है…!

युसुफ ने जानने की कोशिश भी की लेकिन उसने बहाना बनाकर उसे टाल दिया…!

लीना के जाते ही संजू ने युसुफ से कहा – ये मेडम का व्यवहार कुछ दिनो से मेरी तो समझ में आ नही रहा.., ये सरदार ना जाने कब का पहचान वाला निकल आया…!

जब देखो वो उसी को भाव देती रहती है.., धंधा खड़ा हम लोगों ने किया है और मज़े वो मदर्चोद सरदार लूट रहा है..,

युसुफ – छोड़ ना यार, क्या इतनी सी बात के लिए टेन्षन ले रहा है.., चल फिर भी किसी दिन मेडम से बात कर लेते हैं.., तू चिंता ना कर…!

संजू – तुम्हें तो पता ही है भाई.., मुझे पैसों वैसो की तो पड़ी नही है.., लेकिन जब वो हमें इग्नोर करती है तो दुख होता है…!

युसुफ ने उसे समझा बुझा कर अपने घर चलने को कहा.., तभी निर्मला बोली – संजू भैया.., मुझे तुमसे कुछ ज़रूरी काम है.., थोड़ा मेरे साथ आओ ना…!

युसुफ – ठीक है अभी तू निर्मला के साथ जा, रात को यहीं मिलते हैं.., ये कहकर वो अड्डे से बाहर निकल गया…!

निर्मला उसे वहीं सोफे पर बिठाकर उससे बातें करने लगी…!

निर्मला – भाई.., तुम सही कह रहे थे.., मुझे भी मेडम की हरकतों से ऐसा लग रहा है कि वो आप लोगों को दरकिनार करके उस सरदार को आगे करती जा रही है..!

अगर हमने जल्दी कुछ नही किया तो एक दिन वो सरदार सब कुछ अपने हाथ में ले लेगा.., मेडम को तो कोई ना कोई मोहरा चाहिए.., तुम ना सही सरदार सही…!

संजू – मुझे भी कुछ ऐसा ही लग रहा है.., अब तुम ही बताओ मुझे क्या करना चाहिए..?

निर्मला – देखो भाई.., मुझे लगता है.., युसुफ भाई जान तो एक किस्म के दब्बु टाइप के इंसान हैं.., उन्हें तो बस पैसे मिलते रहें भले ही उन्हें कोई भी काम ले..!

लेकिन ये सब कुछ खड़ा हुआ है तुम्हारे दम पर.., तो इसे यूँ ही अपने हाथ से खिसकने देना मूर्खता ही होगी…!

मुझे लगता है, मेडम आज उस सरदार से कहीं एकांत में मिलने वाली है.., क्योंकि वो यहाँ आज आया नही..,

संजू – हुउंम्म…शायद तुम्हारा अंदाज़ा सही है, लेकिन अब कैसे पता करें कि वो उससे कहाँ और क्यों मिलने वाली है…?

निर्मला – क्यों ना हम लोग मेडम का पीछा करें.., अभी भी हमारे पास समय है.., उसके बंगले से ही हम उसका पीछा करते हैं..,

संजू – वाह निर्मला तुम वाकाई में इस लाइन में मास्टर होती जा रही हो.., चलो अभी चलते हैं उसके बंगले पर…!

निर्मला – रूको मे एक मिनट में आई.., ये कहकर उसने अपनी सबसे छोटी उंगली दिखाकर वॉशरूम में घुस गयी..,

कुछ देर बाद वो अपनी उसी फेवोवरिट बाइक पर लीना के बंगले के पास वाले एक रेस्तरा में बैठे उसके बाहर निकलने का इंतेजार कर रहे थे…!
Reply
06-02-2019, 01:08 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
लगभग रात 9 बजे वो अपने बंगले से बाहर निकली.., और गाड़ी में बैठकर शहर से बाहर जाने वाले रास्ते पर निकल पड़ी……..!

शहर के बाहर स्थित उस फार्म हाउस जहाँ भानु ने मोहिनी और रूचि को लाकर क़ैद किया था, रात 8 बजे वो वहाँ लौटा…!

उसके साथ इस समय उसके कुछ खास लोगों के अलावा ऐसा कोई भी सदस्य नही था जो संजू या युसुफ का विश्वासपात्र कहा जा सके…!

आते ही उसने उन दोनो को हॉल नुमा कमरे में लाने के लिए कहा…, उसके चार आदमियों ने लगभग घसीटते हुए मोहिनी और उसकी बेटी को हॉल के बीचो-बीच ला पटका…!

दोनो के हाथ और पैर नाइलॉन की पतली सी डोरियों से कसे हुए थे.., लेकिन मूह से पट्टियाँ हटा दी गयी थी…!

पहले भानु बहसियाना हसी हँसते हुए मोहिनी के पास जाकर बैठ गया.., उसके गदराए बदन को सहलाते हुए बोला…!

आअहह…इस उमर में भी तू क्या मस्त माल है मोहिनी.., जी तो कर रहा है कि तेरी इस जानलेबा जवानी का रस तेरी बेटी से पहले जी भरके पीऊँ…!

फिर तुझे अपने आदमियों में बाँट के तेरी आँखों के सामने तेरी बेटी की कोरी जवानी को तार तार करूँ…!

काश मेडम ने मुझे संयम रखने को ना कहा होता…!

भानु के मूह से किसी मेडम का नाम सुनकर मोहिनी ने उत्सुकता भरी नज़रों से घूरा.., फिर जल्दी ही एक घृणा भरी नज़र डालकर अपना मूह उसकी तरफ से फेर लिया…!

वो अच्छी तरह से मोहिनी के गदराए बदन को सहला कर मज़े लेता रहा.., वो बेचारी बस बेबसी में अपने आँसू बहाने के अलावा कुछ नही कर पाई…!

फिर वो रूचि की तरफ घूम गया.., उसके नापाक हाथ रूचि की तरफ बढ़ने लगे.., तभी मोहिनी के सब्र का बाँध टूट गया.., वो किसी शेरनी की तरह दहाड़ते हुए बोली…

मेरी बेटी को अपने नापाक हाथों से छूने की कोशिश भी मत करना हराम्जादे कायर.., थू है तेरी मर्दानगी पर.., जो एक औरत को बेबस करके अपने गंदे मंसूबों को पूरा करना चाहता है…!

भूल गया.., बार बार मेरे देवर ने तुझे समझाने की कोशिश की.., तुझे सुधरने का मौका दिया…, लेकिन तू एक ऐसे गंदे खून की पैदाइश है कि तुझसे इससे ज़्यादा और उम्मीद ही क्या की जा सकती है..,

अपने खून को गाली सुनकर भानु का गुस्सा सातवे आसमान पर जा पहुँचा.., घूमकर उसने इतना करारा तमाचा मोहिनी के गाल पर मारा कि वो बेचारी त्यौराकर वहीं ज़मीन पर गिर पड़ी..,

उसके होठों के कोरे से खून की धार बह निकली…, कराह कर बोली – मार साले नमार्द और मार.., और तुझसे उम्मीद ही क्या की जा सकती है हरम्जादे…!

मोहिनी की बातों से भानु का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा था.., उसने उसके पैरों की डोरी खोल दी.., जबरन पैरों पर खड़ा करके वो उसके गालों पर चान्टे बरसाने लगा..!

अपनी बेटी से दूर रखने की गार्ज से वो उसे लगातार गुस्सा दिलाए जा रही थी, बदले में भानु उसे पीट’ता रहा.., फिर उसने उसके गुदाज उभारों पर हाथ डालकर उसके ब्लाउस को फाड़ दिया…!

कसी हुई ब्रा में क़ैद मोहिनी के सुडौल दूधिया उभारों की झलक पाते ही भानु का संयम जबाब दे गया..,

झपटकर उसने उसकी सारी का आँचल थाम लिया.., और उसे खींचता ही चला गया..,

ब्रा और पेटिकोट में वो बीच हॉल में खड़ी.., अपने बँधे हाथों से अपनी छाती को धान्पने की नाकाम कोशिश करते हुए सिसक पड़ी…!

उसकी प्यारी बेटी अपनी माँ की आबरू को बेपर्दा होते देखती रही.., और सूबक सूबक कर रोती रही.., लेकिन वहाँ उसे एक भी ऐसा चेहरा नज़र नही आया जो उनके लिए थोड़ी सी भी सुहान्भुति रखता हो…!

वो सबके सब खड़े-खड़े उसकी माँ की जवानी को खा जाने वाली नज़रों से घूर रहे थे और बहशियानी हसी हँसते रहे…!

भानु ने मोहिनी की सारी उतारकर एक तरफ को फेंक दी.., उसके बाद वो अपनी जीभ को होठों पर फिराते हुए किसी हवसि कुत्ते की तरह उसकी तरफ बढ़ा…!

उसका हाथ उसकी ब्रा की तरफ बढ़ने लगा.., इससे पहले कि वो उसकी ब्रा को उसके बदन से अलग करने के लिए अपना हाथ उस तक ले जा पाता कि तभी हॉल में घुसते हुए लीना की आवाज़ उसके कानों में पड़ी…!

ठहरो भानु…, इतने उताबले मत बनो.., थोड़ा ठंडा करके खाओ…!

आवाज़ सुनते ही मोहिनी फिरकी की तरह उस दिशा में घूम गयी.., अपने सामने कामिनी को देख कर मोहिनी का मूह खुला का खुला रह गया…!

कामिनी सधे हुए कदम बढ़ाती हुई मोहिनी के सामने जाकर खड़ी हो गयी.., उसके चेहरे पर जमाने भर की मक्कारी व्याप्त थी..,

मंद मंद मुस्कराते हुए बोली – कैसी हो जेठानी जी.., मुझे जिंदा देखकर दिल पर साँप लॉट गये होंगे तुम्हारे.. है ना…!

लेकिन क्या करूँ.., मेरे हाथ में मौत की लकीर बनाना ही भूल गया उपरवाला.., तुम्हारे लाडले देवर ने तो अपनी तरफ से पूरी कोशिश करी थी मुझे उपर भेजने की..!

फिर उसने एक बार मोहिनी के शानदार हुश्न पर उपर से नीचे तक नज़र डाली…!

उसके उभारों पर हाथ फेरते हुए बोली – बेचारा भानु भी क्या करे.., इस उमर में भी तुम किसी भी मर्द का खड़े-खड़े पानी निकाल दो ऐसा मादक बदन है तुम्हारा…!

कहीं वो लाड़ला तो सेवा नही करता इसकी..? क्योंकि जेठ जी तो ऐसे लगते नही कि इस जवानी का ख्याल रख पाते हों…?
Reply
06-02-2019, 01:09 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
मोहिनी ने हिकारत भरी आवाज़ में उसे जबाब देते हुए कहा – एक बार तो तुझे जिंदा देख कर मुझे आश्चर्य के साथ साथ खुशी भी हुई कि चलो तू जिंदा है..,

लेकिन ये जानकर बड़ा दुख हुआ कामिनी कि तू आज भी रिश्तों की एहमियत को नही समझ पाई.., अरे कम से कम नया जीवन मिला है तुझे.., इसे तो कम से कम अच्छे कामों में लगाती…!

लेकिन सच ही कहा है किसी ने.., नागिन बस जहर ही उगलना जानती है.., मे तो कहती हूँ.., अभी भी वक़्त है.., सुधर जा और इस भाग्यबस मिले जीवन को अच्छे कामों में लगा…!

हमेशा ही इत्तेफ़ाक़ नही होते.., किसी दिन या तो जैल में पड़ी सड़ रही होगी या तेरी लाश किसी गटर में पड़ी सड़ रही होगी.., और उसमें कीड़े बिज-बिजा रहे होंगे…!

मोहिनी की ऐसी जैल-कटी बातें सुनकर भी कामिनी पर कोई असर नही हुआ.., वो उसके यौवन का मर्दन करते हुए बोली…

मेरा तो जो होगा सो होगा मोहिनी पर इस समय तू अपनी और अपनी इस कच्ची कचनार की कली का ख़याल कर..,

क्योंकि मेरे एक इशारा पाते ही मेरे ये आदमी तुम दोनो माँ बेटी को भूखे भेड़ियों की तरह भनभॉड़ देंगे..,

यही नही…उसके बाद तुम दोनो को किसी रंडी खाने में डाल दिया जाएगा.., जहाँ रोज़ अनगिनत ग्राहक तुम दोनो की जवानियों से खेलेंगे..,

मरना चाहोगी.., लेकिन मर नही सकोगी.., तुम्हारी पिक्चर बनाकर तेरे घर वालों को परोसी जाएगी…

हाहाहा…क्या देखने लायक सीन होगा जब तेरा वो लाड़ला देवर अपनी माँ समान भाभी और प्यारी भतीजी को नये नये मर्दों से चुदते हुए देखेगा…!

शर्म कर कमीनी…, ये तेरी बेटी जैसी है.., क्या तेरे अंदर इंसानियत का ज़रा सा भी कतरा नही बचा है..लगभग रोते हुए मोहिनी ने उसे धिक्कार्ते हुए कहा…!

कामिनी - हाहाहा…इंसानियत.., ये किस चिड़िया का नाम है.., मेरे सब कुछ पैसा है.., आज मे इस शहर पर राज करती हूँ समझी.., और कल दूसरे शहर..फिर तीसरे..!

और फिर तू किस रिस्ते की बात कर रही है हां…, तेरे देवर ने मुझे किस तरह से दुतकार दिया था याद है..?

मेरे सीने पर गोली दागते हुए उसके हाथ ज़रा भी नही काँपे.., तब कोई रिस्ता नही था उसका मेरे साथ…बात करती है रिश्तों की…!

उधर पीछा करते हुए संजू और निर्मला भी वहाँ जा पहुँचे थे.., जो इस समय छुप्कर ये सब देख और सुन रहे थे…!

निर्मला की आँखों में नमी तैर आई थी.., जिसे वो संजू से छुपाकर अपने आप को किसी तरह संभालते हुए फुसफुसा कर बोली…

कितना घिनौना रूप है इस मेडम का.., औरत होकर दूसरी औरत के लिया ज़रा भी सम्मान नही है इसके दिल में…, औरत के नाम पर कलंक है ये…!

संजू ने निर्मला की बात सुनकर उसकी तरफ गौर से देखा.., उसे यूँ अपनी तरफ देखते पाकर एक पल को तो वो सकपका गयी.., लेकिन फिर जल्दी ही अपने आप पर काबू करते हुए बोली…

ऐसे क्यों देख रहे हो भाई.., क्या कुछ ग़लत कह दिया मेने..?

संजू – नही वो बात नही है.., बस सोच रहा था.., कि तुम क्या सोचकर इस धंधे में चली आई.., तुम्हारे विचार इस काम से कतयि मैल नही खाते..!

निर्मला – तो क्या ऐसे धंधे वालों में इंसानियत का जज़्बा होगा ग़लत है..?

ना जाने निर्मला की बातों में कैसा जादू था.., उसकी बातें उसे दिल की गहराई तक असर कर गयी.., उसने बड़े दुलार से उसका चेहरा अपने हाथों में लिया और उसका माथा चूमते हुए बोला…,

बिल्कुल नही.., धंधा कैसा भी हो इंसानियत हमेशा कायम रहनी चाहिए.., मेरी नज़र में ये लीना..ओह्ह्ह्ह…नही..अब तो ये कोई और ही निकली..निहायत ही गिरी हुई औरत है…!

शायद मुझमें इंसान को परखने की काबिलियत ही नही है.., तभी तो एक झूठी मक्कार औरत के झाँसे में पड़ा रहा…!

निर्मला – तो कुछ करो भाई.. वरना हमारे होते हुए एक इज़्ज़तदार औरत की इज़्ज़त दागदार हो जाएगी…!

संजू निर्मला के ये वाक्य सुनकर कुछ देर असंजस की स्थिति में पड़ गया…, अचानक से हुए इस घटनाक्रम से वो अभी तक ये डिसाइड नही कर पाया कि इतने दिन से जिस औरत का साथ देता आ रहा था..,

अचानक उसके विरोध में कैसे खड़ा हो.., और फिर यहाँ उसका साथ देने वाला सिवाय निर्मला के और कोई भी नही था…, जो थी तो एक लड़की ही ना…!
Reply
06-02-2019, 01:09 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
निर्मला अभी संजू के चेहरे पर बदल रहे भावों को पढ़ने की कोशिश कर ही रही थी कि तभी उसके कानों में कामिनी की अट्टहास लगाती आवाज़ सुनाई दी…!

जाओ भानु.., तुम्हें खुली छूट है.., कर लो अपनी मन मानी.., रौंद डालो इस मोहिनी की मन मोहिनी कंचन काया को.., जी भरके इसका रस निकालो…,

उसके बाद इसकी बेटी को इसके सामने खूब जमके रौंदना.., याद रहे जब इसकी सील टूटे तो उसकी चीखें इस पूरे फार्म हाउस में गूँजनी चाहिए…!

भानु खुश होते हुए बोला – आप चिंता मत करो मेडम.., जैसा आप चाहती है वैसा ही होगा..ये कहते हुए उसने बड़ी फुर्ती के साथ अपने कदम मोहिनी की तरफ बढ़ा दिए…!

भानु को मोहिनी की तरफ बढ़ते देख निर्मला की धड़कनें तेज हो उठी.., उसने एक लंबी साँस लेकर मन ही मन कुछ निर्णय लिया..,

जैसे ही भानु ने अपना हाथ मोहिनी के यौवन पर रखा.., अंधेरे से एक गोली चली जो सीधी उसके उस कंधे को चीरती हुई चली गयी…!

चीख मारते हुए भानु अपना कंधा पकड़ कर ज़मीन पर बैठता चला गया.., कामिनी दहाड़ते हुए बोली – कॉन है वहाँ..? पकड़ लो हरजादे को…!

एक मिनट के सौबे हिस्से में ना जाने कहाँ कहाँ से निकल कर कामिनी के गुर्गों ने निर्मला को अपने घेरे में ले लिया…!

तभी संजू दहाडा – छोड़ दो उसे.. वरना ठीक नही होगा…!

इस नमक हराम को भी पकड़ लो.. कामिनी ने आदेश देते हुए कहा – जिस थाली में ख़ाता रहा है उसी में छेद करना चाहता है हरामज़ादे…!

अब नज़ारा ये था कि कामिनी के आदमियों ने निर्मला और संजू को भी अपनी बंदूकों के निशाने पर ले लिया.., और उन्हें धकियाते हुए वहीं बीच हॉल में ले आए….!

निर्मला पर नज़र पड़ते ही मोहिनी आश्चर्य के सागर में गोते लगाने लगी.., वो उसकी तरफ हाथ उठाकर कुछ कहने ही वाली थी कि तभी निर्मला ने उसे चुप रहने का इशारा किया….!

उधर भानु दर्द से बुरी तरह तड़प रहा था.., फिर भी अपने दर्द पर काबू करते हुए बोला – अब जल्दी से कोई फ़ैसला लो मेडम…!

कामिनी – तुम जल्दी से यहाँ से निकलो भानु.., अपनी गोली निकलवाने का इन्तेजाम करो.., फिर अपने आदमियों को आदेश देते हुए बोली…!

ये जगह सेफ नही है, इन दोनो औरतों के साथ इन नमक हरामों को भी बाँध लो और फ़ौरन ये जगह खाली करो…!

कामिनी का आदेश पाते ही उसके आदमी उन दोनो को भी बंधनों में जकड़ने के लिए आगे बढ़े.., तभी वहाँ एक गरजदार आवाज़ गूँज उठी….!


भागने की इतनी जल्दी भी क्या है कामिनी देवी…, ज़रा हमसे भी तो मुलाकात करती जाओ.., फिर मौका मिला ना मिला…!

एक थम्ब के पीछे से आती इस आवाज़ को सुनकर जहाँ कामिनी के रोंगटे खड़े हो गये वहीं मोहिनी के मूह से एक खुशी से भरी किल्कारी निकली…

ले कमीनी औरत…, आ गया मेरा लाड़ला.., बच सकती है तो बच ले…!

कामिनी हक्की बक्की सी चारों तरफ घूम घूम कर अपने आदमियों के उपर दहाड़ते हुए बोली – हरामज़ादो पकडो उसे.., यहीं कहीं होगा…, भून डालो..साले को, बचने ना पाए…!

उसके आदमियों ने उस थम्ब की तरफ गोलियाँ दाग दी.., लेकिन कोई फ़ायदा नही.., फिर किसी नयी जगह से गोलियों की बाढ़ सी उनपर झपटी और पलक झपकते ही वहाँ कामिनी के सभी आदमियों की लाशें हॉल में नज़र आने लगी…!
Reply
06-02-2019, 01:09 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
अब हॉल में मात्र मोहिनी, रूचि, कामिनी, घायल भानु, संजू और निर्मला ही रह गये थे…,

अपने तमाम आदमियों का हश्र देख कर कामिनी तिलमिला उठी.., भानु ने मौका देख कर ज़मीन पर पड़ी अपने आदमी की बंदूक उठा ली..,

निशाना साध कर पास खड़ी निर्मला पर गोली चलाने ही वाला था कि अंधेरे से निकल कर बाहर आते हुए अंकुश की रिवोल्वर ने एक बार और ज़ोर्से खांसा और गोली उसका भेजा उड़ाते हुए पार हो गयी…!

पलक झपकते ही उसकी आत्मा ईश्वरपुरी की सैर को निकल पड़ी.., इस बार उसके साथ ऐसा कोई इत्तेफ़ाक़ नही हुआ.., और ना ही उसे एक बार फिर सुधरने का मौका मिल पाया…!

क्योंकि वो एक ऐसा बिच्छू था.., कि जिसे जितनी बार मौका मिला अपना ज़हरीला डंक मारे बिना नही माना…!

इधर जैसे ही संजू की नज़र अंकुश पर पड़ी.., वो बुरी तरह से चोन्क्ते हुए बोला – तुम और यहाँ…!

मेने उसके कंधे पर हाथ रखते हुए कहा – हां दोस्त मे.., याद है मेने क्या कहा था.., कि अगली बार जब हम मिलें तो दोस्त बनकर…!

अब कामिनी के पास कोई चारा नही बचा था.., सो अपना पैंतरा बदलते हुए मोहिनी भाभी के पैरों में गिर पड़ी.., गिडगिडाते हुए बोली – मुझे माफ़ कर दो दीदी…!

आपने सही कहा था.., मेरा खून ही गंदा है.., दूसरी जिंदगी मिलने पर भी में नही सुधर पाई..,

अब में वादा करती हूँ आपसे, सब कुछ छोड़-छाड़ कर बस आपके चरणों में पड़ी रहूंगी…, फिर आप जैसा चाहें मेरे साथ सलूक करना…!

मेने ज़मीन पर पड़ी अपनी भाभी की सारी को उठाकर उनके बदन को देखते हुए कहा- ये तो बड़ी गड़बड़ हो जाएगी भाभी.., ये अब हमारे साथ किस हैसियत से रहेगी..?

मोहिनी – लल्ला पहले मेरे हाथ तो खोलो.., फिर सोचते हैं आगे क्या करना है इसका…!

कामिनी – देवर्जी…मेने तो पहले भी आपसे रिक्वेस्ट की थी सुलह कराने की लेकिन आपने नही मानी.., इसमें ग़लती मेरी ही थी, मे ही अपने आपको इस काबिल नही बना पाई…

लेकिन अब में प्रॉमिस करती हूँ, एक आदर्श बहू और पत्नी बन कर रहूंगी…!

मे – पत्नी..? किसकी…?

कामिनी – आपके मनझले भैया की…, और किसकी…?

भाभी कामिनी की बात पर मुस्कराते हुए निर्मला के पास जाकर प्यार से उसका हाथ अपने हाथ में लेकर सहलाते हुए बोली – फिर मेरी इस प्यारी सी छोटी बेहन का क्या होगा…?

कामिनी उनकी तरफ चोन्कते हुए बोली – क्या मतलब.., ये तो…मेरे……

भाभी – ये प्राची है.., मेरी देवरानी.., एसएसपी साब की पत्नी..., जिसकी उनके साथ शादी हुए भी 3 साल हो गये.., अब बाताओ तुम कहाँ और किस हैसियत से रहोगी…?

मेरी मानो तो अब तुम्हारे लिए एक ही ससुराल सही रहेगी.., वहीं वाकी का जीवन आराम से बिता सकोगी…!

कामिनी – कहाँ..? कॉन सी ससुराल…?

भाभी – जैल…

ये सुनते ही कामिनी सन्न्न…रह गयी.., उसने समझ लिया कि अब बचने का कोई रास्ता शेष नही है..,

फिर भी अपनी बातों का जाल बुनने की कोशिश करते हुए चुपके से उसने अपने बॅग से एक छोटा सा रिवॉल्वर निकाला..,

मोहिनी भाभी पर निशाना साधते हुए बोली – इतनी आसानी से काबू में आने वाली नही हूँ..जेठानी जीिइईई……आअहह…..संजूऊू…..!

धडाम से लहू लुहान कामिनी फर्श पर गिर पड़ी…!

किसी की कुछ समझ में नही आया.., लेकिन जब समझ में आया तो देखा कि संजू के हाथ में एक लंबा सा चाकू खून से सना था, और कामिनी अपना पेट पकड़े फर्श पर पड़ी, जल बिन मछलि की तरह तड़प रही थी…!

भाभी – तुमने ऐसा क्यों किया संजू.., मेरी जान बचाने के लिए तुमने अपनी ही मालकिन को मार डाला…!

प्राची – नही दीदी.., संजू ने अपनी बड़ी बेहन की जान बचाने के लिए एक बेगैरत मक्कार औरत को उसके जीवन से मुक्त किया है…!

फिर प्राची ने संजू के बारे में भाभी को सब कुछ बता दिया.., उन्होने स्नेह से आगे बढ़कर उसे अपना छोटा भाई कहकर गले से लगा लिया…!
Reply
06-02-2019, 01:09 PM,
RE: Bhabhi ki Chudai देवर भाभी का रोमांस
संजू भाभी से अलग होते हुए बोला – इसका मतलब निर्मला ओह्ह्ह.. सॉरी प्राची बेहन, तुमने फिर उस दिन अंकुश भाई को गोली क्यों मारनी चाही…!

मेने मुस्कराते हुए उसका कंधा थपथपाते हुए कहा – हम देखना चाहते थे कि तुम्हारे अंदर का इंसान अभी भी जिंदा है या बदले की भावना ने तुम्हें अँधा कर दिया है…!

संजू – लेकिन प्राची तो गोली चला चुकी थी.., वक़्त रहते मे इनका हाथ नही पकड़ता तो वो आपको गोली मार ही चुकी थी…!

प्राची – मेने तुम्हें उठाते हुए देख लिया था भाई.., मे जानती थी तुम मुझे ज़रूर रोक लोगे…!

संजू – इतना बड़ा रिस्क…???

मे- हमारा काम ही रिस्क लेने वाला है मेरे भाई…!

संजू चुप रह गया, तभी मोहिनी बोली – लेकिन प्राची तुम और लल्ला यहाँ पहुँचे कैसे…?

प्राची – आपको तो पता ही है दीदी, हमने प्राइवेट डीटेक्टिव एजेन्सी खोल ली थी..,

भैया को पहले से ही पता था कि भानु जिंदा है.., सो उसकी टोह में अपने आदमी इस शहर में उसे खोजने में कामयाब हो गये…!

उसी के कारण हमें पनप रहे इस गॅंग के बारे में पता चला.., फिर वो इस गॅंग की लीडर जो एक औरत थी उससे मिला…!

गॅंग की थाह लेते लेते मेने संजू भाई की सहनभूति लेने का ड्रामा रचा…

प्राची की बात सुनकर संजू ने घूरकर उसकी तरफ देखा…, प्राची संजू से बोली – सॉरी भाई.., हां अपने उपर अपने ही आदमियों से अटॅक करवाने का मेरा ड्रामा था..,

क्योंकि जब मुझे ये पता लगा कि तुम बस युसुफ का साथ देने के लिए इस धंधे में हो.., लेकिन दिल में इंसानियत अभी तक बाकी है…!

जब मेने ये बात अंकुश भैया को बताई तो ये प्लॉट इन्होने ही मुझे सुझाया.., आगे की सब कहानी तुम्हें पता ही हैं…!

इस तरह से मे गॅंग में शामिल हो गयी.., जब आपके किडनप की खबर भैया ने मुझे दी.., तब तक हम में से किसी को इस बारे में पता नही था..,

क्योंकि ये काम कामिनी ने अपने गॅंग के लोगों से ना कराकर भानु के द्वारा कराया था.., संजू भाई भानु से पहले से ही चिड़े बैठे थे…!

फिर जब कामिनी ने मीटिंग करके ये बताया कि आज वो रात की मीटिंग में शामिल नही रहेगी.., तब संजू ने युसुफ से मेडम को हमसे राज छुपाने की बात कही…!

अकेले होते ही मेने संजू को चढ़ाया.., और कामिनी का पीछा करने के लिए उकसाया.., मुझे अंदाज़ा तो हो गया था.., कि आज रात वो क्यों नही आने वाली..!

फिर जैसे ही संजू भाई पीछा करने को तैयार हुए मेने वॉशरूम का बहाना करके अंकुश भैया को सारी बातें बता दी…!

संजू – लेकिन अंकुश भाई इतनी आसानी से हम तक पहुँच कैसे गये…?

प्राची अपनी उंगली में पहनी हुई एक मामूली सी अंगूठी दिखाते हुए बोली – इसके ज़रिए…!

देखने से ये एक मामूली सी अंगूठी दिखती है लेकिन असल में ये एक मिनी ट्रांसमीटर है जो हम दोनो को एक दूसरे की लोकेशन बताता है…!

तो बस इसी के ज़रिए वक़्त रहते ये हम तक पहुँच गये…!

संजू को ये लोग किसी अजूबे से कम नही लग रहे थे.., लेकिन जो भी था.., इन लोगों को पाकर उसे ना जाने क्यों बड़ा सकुन सा मिला…!

मोहिनी भाभी उसे सोच में डूबा देख कर उसके कंधे पर हाथ रखते हुए बोली – क्या हुआ मेरे भाई.., ये नया परिवार पसंद नही आया…?

दीदी…कहते हुए संजू सजदा से उनके पैरों में झुकता चला गया.., आधे से ही भाभी ने उसे उठाकर अपने गले से लगा लिया…!

आज संजू को बुराई का रास्ता छोड़ते ही एक नया परिवार मिल गया था.., जिसमें उसे वो सारी खुशियाँ मिल गयी.., जिन्हें वो कभी खो चुका था…!

किसी ने सच ही कहा है.., बुराई कितनी भी बड़ी क्यों ना हो जाए, सच्चाई के सामने बौनी ही रहती है..,


हां कुछ समय ज़रूर लग सकता है सच्चाई की राह पर चलते हुए…………!

“समाप्त”

ये कहानी आप लोगों को कैसी लगी.., अपनी राय ज़रूर देना..,
धन्यवाद…
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Hindi Kamuk Kahani वो शाम कुछ अजीब थी sexstories 334 51,499 07-20-2019, 09:05 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Porn Kahani कहीं वो सब सपना तो नही sexstories 487 211,647 07-16-2019, 11:36 AM
Last Post: sexstories
  Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन sexstories 101 201,734 07-10-2019, 06:53 PM
Last Post: akp
Lightbulb Sex Hindi Kahani रेशमा - मेरी पड़ोसन sexstories 54 46,139 07-05-2019, 01:24 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani वक्त का तमाशा sexstories 277 96,344 07-03-2019, 04:18 PM
Last Post: sexstories
Star vasna story इंसान या भूखे भेड़िए sexstories 232 72,204 07-01-2019, 03:19 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Incest Kahani दीवानगी sexstories 40 51,654 06-28-2019, 01:36 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Bhabhi ki Chudai कमीना देवर sexstories 47 66,380 06-28-2019, 01:06 PM
Last Post: sexstories
Star Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली sexstories 65 63,021 06-26-2019, 02:03 PM
Last Post: sexstories
Star Adult Kahani छोटी सी भूल की बड़ी सज़ा sexstories 45 50,500 06-25-2019, 12:17 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 4 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


कंठ तक लम्बा लन्ड लेकर चूसतीlarki ko bat karke ptaya ke xxxvidiosixbaba tamanasexbabagaandeesha rebba fake nude picsमीनाक्षी GIF Baba Xossip Nudebete ka land bachhedani se takra raha thajabrjastiwww. beshiSxey kahneyahindiSexy mom ko hostal me bulaker chodhameenakshi Actresses baba xossip GIF nude site:mupsaharovo.ruGhar diyan fudiya xossipy xxx hindi kudiya ya mere andar ghusne ki koshi kirakhail banaya mausi koमाँ बेटी कि चुत मे बेटे ने लँड घुसायxxxcom hert sex pkng todबीटा ne barsath मुझे choda smuder किनारे हिंदी sexstoryसंजना दीदी सेक्स स्टोरीladka ladkiander dala kar kasay lagya hay gatka xxxJabrdasti bra penty utar ke nga krke bde boobs dbay aur sex kiya hindi storymaa ka khayal sex baba page 4Aannya pandye Chout Xxx Photosअसल चाळे मामी चुतसबसे ज्यादा बार सेक्स कराने वाली महिला की योनि पर क्या प्रभाव पङा था?www.taanusex.commarathi bhabhi brra nikarvar sexpehle vakhate sexy full hdSwara Bhaskar latest hd nudeporn imageshalwar khol garl deshi imagekahani piyasi bhabhi hoo patni nhi aa aammm ooh sex.comrashi khanna fantasy sexbabama chutame land ghusake betene usaki gand mariLatest Nude boobs fakes showthread 1118नर्स को छोड़ अपने आर्मी लैंड से हिंदी सेक्स कहानीungl wife sistor sex tamil videoसुन सासरा चूदाईbur me teji se dono hath dala vedio sexdeepfake anguri bhabhipapa aor daubar femaliy xnxxJaberdasti ladki ko choud diya vu mana kerti rhi xxxladski ko chod kar usake pesab se land dhoyaDIVYANKA TRIPATHI FAKES. inmazboot malaidar janghen chudai kahaniहिनदी सेकस ईसटोरी मेरी और ननद कि चुत चुदाई हबशी के सातdeeksha Seth ki jabarjasti chudaiनगी सेकसी चूचे वाईफाईNasheme ladaki fuking wwwxxx bhipure moNi video com www.fucking ke liy colledg girl ka numberswww.dhal parayog sex .comBhabhi Ko heat me lakar lapse utar kar chodaसमलिंगी मालिशवाला गोष्टtelugu heroins sex baba picsदीदी सोनम Kapoor sxey imagexnxxchoti bachi ke sath me 2ladke chod raheishita ganguly xxx sex babahindi havili saxbabaगान्दू की गान्ड़ विडिओमम्मी ने मुझे पूरे परिवार से चुदवाया अन्तर्वासना.comलडन की लडकी की चूदाई phostmain.and.garl.xxxgand our muh me lund ka pani udane wali blu film vidioचूतडो की दरारaishwaryaraisexbabaलहनगे मे चुदिxxnxxaliyabhatasexbaba net sex khaniyahindi fountBete sy chot chodai storixxx maa kapda chenj kart hai kahaniदिदि एकदम रन्डी लगती आ तेरी मूह मे चोदुKiya advani nued photos in sex babama ki bdi gand m slex phnaya कारखाने पे औरतका सेकसी विडिव xxnxBadala sexbabaaltermeeting ru Thread ammi ki barbadiMajedar fuming gand meVidhwa SaaS ke petikot me ghuskar uska bhosda chatanangi nude disha sex babaSexbaba story