Free Sex Kahani चमकता सितारा
05-29-2019, 11:21 AM,
#31
RE: Free Sex Kahani चमकता सितारा
मैं- डॉली.. एक बात कहूँ?
डॉली- कहो।
मैं- आज एक गाना याद आ रहा है।
डॉली- कौन सा वाला।
मैं- मुझे और जीने की ख्वाहिश न होती.. अगर तुम न होते, अगर तुम न होते।
डॉली- किसी को अपने दिल में इतनी जगह भी मत दे दो कि उसके जाने से तुम्हारी दुनिया ही वीरान हो जाए।
मैंने उसे कस कर पकड़ते हुए कहा- मैं कहीं जाने दूँ तब न… वैसे ये सब क्यूँ बोल रही हो?
डॉली- परसों से मेरी नई फिल्म की शूटिंग स्टार्ट हो रही है। सो मैं तुम्हें अब ज्यादा वक़्त नहीं दे पाऊँगी। बस इसीलिए कह रही थी।
मैं- और तुम मुझे ये कब बताने वाली थी?
डॉली- अभी-अभी.. और मैंने बता दिया न.. अब उदास वाली सूरत मत बनाओ। वैसे भी हम मिलते रहेंगे।
मैं- मैं समझ सकता हूँ तुम्हारी परेशानी। सो चिंता मत करो और अपने कैरियर पर ध्यान दो।
सड़क किनारे लगे फ़ूड स्टाल्स का मज़ा लेते हुए हमने एक यादगार वक़्त साथ बिताया और फिर अपने-अपने घर चले गए।
मैंने उसे ज़रा सा भी एहसास नहीं होने दिया कि उसके दूर होने से मुझ पर क्या बीतेगी। मैं तो उसे यूं ही अपनी बांहों में ही रखना चाहता था.. पर उसे स्क्रिप्ट की तैयारी करनी थी। सो मैं अपने फ्लैट में आ गया।
डॉली की फिल्म की शूटिंग मलेशिया में हो रही थी और मेरी यहाँ मुंबई में ही।
अब तो कभी-कभार ही हमें वक़्त मिल पाता था। अक्सर शूटिंग के वक़्त उससे मुलाकात होती और शूटिंग ख़त्म होते ही एक गाड़ी.. उसे दूसरे लोकेशन पर ले जाने को खड़ी रहती।
मैं अक्सर उसे रोकने के लिए अपने हाथ आगे बढ़ाता.. पर वो शायद मुझे देख ही नहीं पाती थी।
हमारी आज की शूटिंग ख़त्म हो चुकी थी और अब एक आखिरी बार परसों हमें शूट करना था और काफी दिनों से मेरी डॉली से ढंग से बात नहीं हो पाई थी.. सो मैं पागल हुआ जा रहा था।
शूट ख़त्म होते ही सबके सामने मैंने डॉली का हाथ पकड़ा और उसे अपनी वैन में ले जाने लगा।
डॉली- विजय.. यह क्या कर रहे हो? सब क्या सोचेंगे?
मैं- यही कि हम दोनों एक-दूसरे के प्यार में पागल हैं और एक-दूसरे के बिना एक पल भी नहीं रह सकते।
डॉली ने वैन में आ गई पर मुझसे दूर बैठ गई।
‘मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता।’
मैं- क्या..? तुम्हें इस तरह अपने साथ लाना या मेरा तुम्हें हद से ज्यादा प्यार करना?
डॉली- हर चीज़ अपनी हद में ही रहे तो अच्छी लगती है.. वर्ना चुभने लगती है।
‘मेरा प्यार तुम्हें चुभने लगा है..!’
फिर मैंने उसके हाथ को थामते हुए आगे कहा- डॉली अगर मुझसे कोई भी गलती हुई हो.. तो प्लीज मुझे माफ़ कर देना। मैंने तुम्हें ही अपना सब कुछ माना है और तुम ही मुझसे रूठ जाओगी तो मैं सांस भी कैसे ले पाऊँगा।
डॉली- तुम अब बच्चे नहीं हो। जो हर बात को बताना पड़े। तुम समझदार हो और तुम्हारे सामने अपना कैरियर है.. उस पर फोकस करो।
वो गेट खोल बाहर जाते हुए बोली- बाय..!
ये आखिर इस तरह क्यूँ चली गई..? मुझसे क्या गलती हो गई..? ऐसा लग रहा था मानो कोई धीरे-धीरे मेरे दिल में सुई चुभो रहा हो.. और फिर उसी तरह बाहर निकाल रहा हो।
मेरे लिए तो सांस लेना भी मुश्किल हो रहा था।
मैंने वैन के दरवाज़े को बंद किया और खुद को शराब के नशे में डुबो दिया। मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूँ।
कोमल ने बहुत कोशिश की कि मैं उसके साथ घर चलूँ.. पर मैं सबके जाने के बाद अकेला ही सड़कों पर पैदल अपने घर की ओर निकल पड़ा।
एक हाथ में शराब की एक बोतल और दूसरे में गिलास। बरसात की हल्की फुहारें अब तेज़ हो गई थीं। मैं वहीं सड़क पर बैठ गया। बोतल से गिलास में पैग डालता और बारिस उस जाम को पूरा भर देती।
बरसात की बूंदों में.. मेरे आंसू भी खो गए थे जैसे.. तभी एक कार मेरे ठीक सामने आकर रुकी।
ड्राईवर नीचे उतरा और मुझे उठा कर उस कार में बिठा दिया। मैंने अपनी बोझिल होती आँखों से उसे पहचानने की कोशिश की..
काजल थी वो..
उसे देखा और बेहोश हो कर वहीं उसकी गोद में गिर पड़ा।
न जाने कितने वक़्त तक मैं ऐसे ही बेसुध पड़ा रहा। आखिरकार मुझे होश आया तो फिर से आज मेरे सर में तेज़ दर्द हो रहा था और टेबल पर सर दर्द की दवा और एक गिलास पानी रखा था। मैं दवा खा कर जैसे ही बिस्तर से उठने को हुआ कि चक्कर की वजह से फिर से गिर पड़ा।
‘लोगों के प्यार में गिरने की बात तो सुनी थी, पर आज देख भी लिया।’
यह कहते हुए काजल कमरे में दाखिल हुई।
मैं- मुझे पता था कि मेरे दोस्त मुझे थाम लेंगे.. थैंक यू..!
काजल- तोड़ दिया न दिल तुमने? ‘थैंक यू’ मत बोलो.. अब बताओ कि कल मरने का इरादा था क्या? मैं तुम्हें नहीं पहचानती.. तो पता नहीं क्या हो जाता!
मैं- वो डॉली की बातों ने बेचैन कर दिया था मुझे.. तुमने उसे तो कुछ भी नहीं बताई हो न? वो बेकार में ही परेशान हो जाएगी।
मैं बात कर ही रहा था कि कोमल वहाँ आ गई।
कोमल- काजल जी ने मुझे बताया कि कल तुम किस हाल में थे.. कैसे तुम किसी पर इतना भरोसा कर लेते हो..! वो तुम्हारे लायक नहीं थी.. सो तुमसे अलग हो गई। तुम भी बिल्कुल पागल हो।
मैं- अरे तुम लोग गलत समझ रही हो। ऐसी कोई बात नहीं है। बस उसे थोड़ा काम का टेंशन होगा.. इसीलिए मुझे इग्नोर कर रही होगी। मुझे पता है.. वो आज भी मुझे उतना ही चाहती है।
कोमल- तुम्हें कुछ भी नहीं कहा उसने?
मैं- तुम किस बारे में बात कर रही हो?
काजल- कल कुछ ख़ास लोगों को एक पार्टी दी गई थी। डॉली ने वो पार्टी होस्ट की थी.. ब्रेकअप पार्टी थी वो…
फिर से मेरी साँसें बढ़नी शुरू हो गईं।
मैं- कौन है वो?
काजल- वहीं जिसके साथ मेरी पार्टी में डॉली को देख कर तुम बेचैन हुए थे और उसी के साथ अभी उसने दो और फ़िल्में साइन की हैं।
मैंने कुछ भी नहीं कहा और बाहर जाने लगा।
कोमल ने मेरा हाथ पकड़ते हुए कहा- कहाँ जा रहे हो?.. अभी यहीं रुको.. तुम और कुछ भी बेवकूफी मत करो।
मैं जबरन अपना हाथ छुड़ाता हुआ बाहर आ गया। मैंने टैक्सी ली.. और उस स्टूडियो की ओर निकल पड़ा.. जिसने डॉली को साइन किया था। वहाँ अभी मीडिया वाले भी आए हुए थे। कोई प्रेस कांफ्रेंस हो रही थी शायद..
Reply
05-29-2019, 11:21 AM,
#32
RE: Free Sex Kahani चमकता सितारा
डॉली और उसका नया ब्वॉयफ्रेंड वहीं बैठा हुआ था।
मैं बेहद गुस्से में था। गेट कीपर को धक्का देता हुआ मैं अन्दर दाखिल हुआ। डॉली अब तक मुस्कुराते हुए हर सवाल का ज़वाब दे रही थी। मुझे वहाँ देखते ही उसकी हंसी जैसे गायब ही हो गई।
मैं सामने से लोगों को हटाता हुआ ठीक उसके सामने मेज़ पर हाथ रख कर खड़ा हो गया- एक्टिंग बहुत अच्छी कर लेती हो। अब ज़रा इन सब के सामने हंस कर दिखाओ।
उसका ब्वॉयफ्रेंड- अबे चल भाग यहाँ से। अपनी औकात में रह तू.. एक मिनट में यहाँ से गायब करवा दूँगा तुझे..।
मैंने उसके ब्वॉयफ्रेंड को इग्नोर करते हुए, डॉली से चिल्लाते हुए कहा- मैंने हंसने को कहा न.. दिखा न.. कितनी बड़ी एक्ट्रेस है तू..
उसका ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे धक्का दे दिया। मेरा गुस्सा अब सातवें आसमान पे था। मैंने पास में रखा माइक उसके सर पर दे मारा।
मेरा इतना करना था कि वहाँ खड़े कुछ लोग मुझे उनसे दूर करने की कोशिश करने लग गए।
मैं अब तक जोर-जोर से चिल्ला रहा था- अब दिखा न साली.. कितनी बड़ी एक्ट्रेस है तू..
पुलिस वहाँ आ गई थी और मुझे अपने साथ ले जाने लगी। मैं एक पजामे और गंजी में था.. जैसे-जैसे मैं आगे पुलिस की गाड़ी की ओर बढ़ रहा था.. प्रेस रिपोर्टरों के सवाल और भी तीखे होते जा रहे थे।
मैं लगभग गाड़ी की ओर पहुँच ही चुका था कि एक रिपोर्टर ने चिल्लाते हुए पूछा- तुझे आग क्यूँ लग रही है.. उसकी मर्ज़ी.. वो किसी के भी साथ सोए।
इतना सुनना था कि मेरे बदन में आग सी लग गई। मैंने उस रिपोर्टर को बालों से पकड़ कर ज़मीन पर गिरा दिया और लातें मारने लगा। मैं साथ में कह रहा था- साले तेरी बीवी.. किसी के साथ सो जाए तो तुझे फर्क नहीं पड़ेगा क्या?
अब पुलिस मुझे लगभग घसीटते हुए वहाँ से ले गई।
मैं थाने में था और पुलिस वाले एक-दूसरे से कह रहे थे ‘इसके तो स्टार बनने से पहले ही ऐसे तेवर हैं… बाद में क्या होगा..’
फिर मुझे कमिश्नर के ऑफिस में बिठा दिया गया।
कमिश्नर- जानता हूँ कि जवानी में खून कुछ ज्यादा ही खौलता है। तूने जिसे मारा है न.. वो इंडस्ट्री के सुपरस्टार का बेटा है। यहाँ से तो तू छूट भी जाएगा.. पर तेरे कैरियर का क्या होगा। ये तो सोच लेता।
मैं- लड़कियों का दलाल समझा है मुझे क्या? जो धंधे के लिए अपनी बीवी को भी कोठे पर बिठा दे। अब मार दिया तो मार दिया.. तू उपदेश मत दे मुझे।
इतने में कोमल वकील के साथ कमरे में दाखिल हुई। थोड़ी फॉर्मेलिटी के बाद मैं वहाँ से बाहर आ चुका था। काजल की लिमो कार वहाँ खड़ी थी। चिल्लाते हुए प्रेस रिपोर्टरों के बीच से मैं गुज़रता हुआ कार तक पहुँचा और गेट खोल कर खड़ा हो गया।
सब कार में बैठ गए। मैंने बहुत कोशिश की कि मैं किसी एक सवाल का जवाब तो दे दूँ.. पर सब एक साथ कह रहे थे तो बस शोर ही सुनाई दे रहा था।
बांयें हाथ से दो तीन रिपोर्टरों के माइक को पकड़ कर दांये हाथ से बीच वाली ऊँगली से इशारा किया और माइक के करीब जाकर बोला ‘फ़क ऑफ…’
अब मैं कार में बैठ चुका था। चारों तरफ से जैसे पूरी फ़ौज कार पर गिर रही हो। मुझे अन्दर से उनके बस चेहरे ही दिख रहे थे। अगर कुछ सुनाई दे रहा था तो अन्दर कार में बजने वाला धीमा संगीत।
मैं काजल के घर पर पहुँचा। काजल मुझे गले लगाते हुए बोली- मेरी सुनते ही कहाँ हो.. रुक जाते तो ये सब नहीं होता न।
मैं- आज रुक गया होता तो मेरी जिंदगी भी शायद यहीं थम गई होती। अब जाकर सुकून मिला है।
कोमल- हमारी फिल्म के निर्माता बहुत नाराज़ हैं। कितने लोग अब हमारी फिल्म का विरोध करेंगे.. उसका अंदाजा भी है तुम्हें?
काजल- या ये भी तो कह सकती हो कि आज के बाद कितने ही लोग तुम लोगों की फिल्म के बारे में जान जायेंगे और वैसे तो मुझे कुछ और ही पता चला है।
कोमल- क्या?
काजल- तुम्हारी इस फिल्म का ट्रेलर कब लांच होना था।
कोमल- परसों.. इस आखिरी शूट के ख़त्म होने के बाद।
काजल- वो ट्रेलर आज मीडिया को लीक कर दिया गया है और तुम तो जानती ही हो.. जब लांच से बेहतर मार्केटिंग लीक करके की जा सकती है.. तो कुछ भी ये ही करेंगे ही.. तुम निश्चिन्त रहो.. यशराज प्रोडक्शन में अभी भी वैसे लोग हैं.. जो इस इवेंट से पैसे बनाना जानते हैं।
मैंने टीवी ऑन किया। हर न्यूज़ चैनल पर बस मैं ही मैं था.. और मेरे लीक हो चुके फिल्म के ट्रेलर चल रहे थे। तभी मुझे ख्याल आया कि ये न्यूज़ मेरे घर पर भी तो सब देख रहे होंगे। अब वक़्त आ चुका था.. मुझे अब घर पर बात कर लेनी चाहिए थी।
मैंने अपना फ़ोन लिया और एक कोने में चला गया। मेरे हाथ कांप रहे थे.. मैं एक-एक बटन बड़ी मुश्किल से दबा पा रहा था।
आखिर फ़ोन लग ही गया.. पर दो रिंग के बाद मैंने फ़ोन काट दिया। मुझे बात करने की हिम्मत नहीं हो रही थी।
आज रविवार भी था.. मुझे पता था कि सब घर पर ही होंगे।
तभी मेरे घर से कॉल आ गया, मैंने रिसीव का बटन दबा दिया, पहली आवाज़ पापा की थी- हैलो.. ये किनका नंबर है..? अभी इस नंबर से एक मिस्ड कॉल आया था।
मैं- जी मैं बोल रहा हूँ।
उनकी आवाज़ अब भारी हो गई थी।
‘अब याद आई हमारी?’
मैं- मैं टिकट मेल कर रहा हूँ.. मैं आप सबको देखना चाहता हूँ। मैं फ़ोन पर ज्यादा बात नहीं कर पाऊँगा।
पापा- टीवी पर हमने न्यूज़ देखा है.. तुम परेशान मत होना। हम सब हैं तुम्हारे साथ और कल हम सब आ रहे हैं और बेटा.. दो टिकट एक्स्ट्रा भेज देना.. तुम्हारे चाचा-चाची भी तुमसे मिलना चाहते हैं।
मैं- ठीक है। आप सब अपना सामान पैक करें और एअरपोर्ट पर दो घंटे में पहुँचें, मैं प्राइवेट जेट भेज रहा हूँ।
पापा ने शायद फ़ोन लाउडस्पीकर पर किया हुआ था। तभी मम्मी की आवाज़ आई।
‘कैसे हो बेटा.. ठीक तो हो न..? और हम सब कल आ रहे हैं। तुम बिल्कुल भी चिंता मत करना।’
मैं- ठीक है। मैं अब बात नहीं कर पाऊँगा, आप सब बस आ जाईए..’
मैंने फ़ोन काट दिया।
ऐसा क्यूँ होता है कि जब भी कुछ बुरा होता है मेरे साथ.. तो मेरी हर बुरी याद फ़्लैश बैक की तरह मेरे सामने से गुज़र जाती है।
आज भी वैसा ही हो रहा था। मेरी आँखों से आंसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे और मैं पागल हुआ जा रहा था। जैसे-तैसे मैंने खुद को काबू में किया और अन्दर जहाँ काजल और कोमल बैठे थे.. मैं वहाँ पहुँचा।
काजल- क्या हुआ?
मैं- मेरी फैमिली आ रही है मुंबई.. उनके रहने का इंतजाम..?
काजल- मैं मैंनेज करवा देती हूँ।
मैं- और हाँ एक प्राइवेट जेट गया से उन्हें लाने के लिए भेज देना… मैं पैसे भर दूँगा और कोमल.. मैं अब से उनके साथ ही रहूँगा। तुम सब के साथ बिताए हर वक़्त की बहुत याद आएगी।
कोमल- तुम्हें इस वक़्त अपने परिवार की ज़रूरत भी है। हम सब वहाँ पर आते रहेंगे।
मैंने काजल से कहा- मैं थोड़ी देर आराम कर लूँ.. फिर सब लोग आयेंगे तो आज मुझे सोने को नहीं मिलने वाला है।
काजल- ह्म्म्म.. तुम आराम करो।
कोमल- इतना बड़ा कांड कर दिया है तुमने और अब भी अपनी नींद पूरी करने में लगे हो।
वो अपना हाथ जोड़ते हुए बोली- महान हो तुम..!
फिर सब हंसने लगे और मैं आराम करने चला गया।
मैं अब अपने सपने में था और मेरे सामने मेरा पहला प्यार डॉली थी.. किसी ऊँची बिल्डिंग की छत से नीचे लटक रही थी।
‘जय प्लीज मुझे बचा लो। मैं तुम्हारे साथ जीना चाहती हूँ..’
वो अपना हाथ मेरी तरफ बढ़ा रही थी और मैं कितनी भी कोशिश कर रहा था.. पर उसके हाथ को थामना तो दूर.. उसे छू भी नहीं पा रहा था।
जितना वो मुझसे दूर होती जा रही थी मेरे दिल की धड़कन उतनी ही तेज़ हो रही थीं।
तभी डॉली का हाथ छूट गया और वो नीचे गिरने लगी।
मैं जोर से ‘डॉली’ चिल्लाता हुआ बिस्तर से उठ कर बैठ गया।
मेरी धड़कन अब बहुत तेज़ थीं और पूरा शरीर पसीने से नहाया हुआ था। मैं लम्बी-लम्बी साँसें ले रहा था। तभी कोमल अन्दर दाखिल हुई।
‘तुम्हारी फैमिली यहाँ आ चुकी है.. तैयार हो जाओ।’
मेरी दिल की धड़कन शांत भी नहीं हुई थीं कि इसे बेचैन होने की एक और वजह मिल गई। मैं वैसे ही बिस्तर पर बैठा रहा.. जैसे-जैसे सब पास आते जा रहे थे.. मेरा गला सूखता जा रहा था और आँखें भरने लगी थीं।
दरवाज़ा खुला और सबसे पहले मम्मी पर नज़र पड़ी, फिर सब लोग आ गए।
मम्मी ने मुझे अपने सीने से लगाते हुए कहा- क्या हाल बना रखा है अपना.. एक बार भी हमारी याद नहीं आई तुम्हें?
पापा- अब ताने मत मारो.. मेरे बेटे को..
फिर उन्होंने भी मुझे गले से लगा लिया।
Reply
05-29-2019, 11:22 AM,
#33
RE: Free Sex Kahani चमकता सितारा
मेरी बहन ने भी हमें ज्वाइन कर लिया।
‘मैं भी हूँ इस परिवार में.. एक फ़ोन कॉल तो किया नहीं गया। सब कितने परेशान थे।’
मैंने कुछ बोलने की कोशिश की तो मेरे गले ने मेरा साथ नहीं दिया। आवाज़ अन्दर ही दब कर रह गई। बस हम सब एक-दूसरे को पकड़ के रोए जा रहे थे।
पापा- बस भी करो। तुम सबने तो रोने में सास-बहू वाले सीरियल को भी पीछे छोड़ दिया है.. अब हमारा बेटा सुपरस्टार बन गया है। कम से कम खुश तो हो जाओ।
मुझे सबसे अलग करते हुए मुझे शांत करने लग गए।
मैंने अपने जज्बातों को किसी तरह काबू में किया। अब सब मुझे घेर कर बैठ गए थे। मैंने सबको देखा.. पर चाचा और चाची वहाँ नहीं थे.. सो मैंने पूछ लिया- चाचा जी भी आने वाले थे न..?
पापा ने कोमल को इशारा किया और वो बाकी को कमरे में लाने चली गई। मैं सबसे बातें करने लग गया। थोड़ी देर में कोमल कमरे में दाखिल हुई।
मैंने पूछा- चाचा जी कहाँ हैं?
तभी कमरे में डॉली के मम्मी-पापा दाखिल हुए। मेरी आवाज़ गले तक ही आकर रुक गई।
डॉली की मम्मी- बेटा हम तुम्हारे गुनहगार हैं.. हमें जो सज़ा देना है दे दो। हममें इतनी हिम्मत नहीं कि हम तुमसे नज़रें भी मिला सकें।
वे दोनों अपने हाथ जोड़ते हुए कहने लगे- हमें माफ़ कर दो। जिन हाथों से अपनी बेटी का कन्यादान करना था हमें हमने उन्हीं हाथों से उसके हर अरमानों का गला घोंट दिया.. उसे मार डाला।
मैं बिस्तर से उठ कर उनके पास गया और उनके हाथ पकड़ कर बोला- अगर मैंने अपना प्यार खोया है.. तो आपने भी तो अपनी बेटी को खो दिया। मेरा प्यार तो महज़ चंद सालों का था.. पर आपके प्यार के सामने वो कुछ भी नहीं था। मैं जानता हूँ कि मैं जितना तड़पा हूँ.. डॉली के लिए.. उससे कई ज्यादा दुःख आपको हुआ है। मैं डॉली की कमी पूरी नहीं कर सकता.. पर आपका बेटा तो बन ही सकता हूँ। डॉली भी होती तो वो कभी ये नहीं चाहती कि उसकी वजह से आपकी आँखों में आंसू आयें और माँ-बाप तो बच्चों को आशीर्वाद देते हैं.. उनसे माफ़ी नहीं मांगते।
उसके मम्मी-पापा ने मुझे गले से लगा लिया। तभी काजल और कोमल कमरे में आईं।
कोमल- बहुत हुआ रोना-धोना सबका.. अब चलिए खाना तैयार है और विजय तुम्हें कल के लिए तैयारी भी करनी है। कल फिल्म का आखिरी शॉट है।
काजल- और जहाँ तक मुझे पता चला है कल वहाँ जाने-माने फिल्म क्रिटिक्स और मीडिया वाले होंगे.. सो कल गलती की कोई गुंजाइश नहीं है। अगर तुमने गलती की.. तो हो सकता है ये पहली फिल्म ही.. तुम्हारी आखिरी फिल्म बन जाए।
मेरे पापा- बेटा मैं तुमसे एक बात कहना चाहता हूँ।
मैं- हाँ कहिए।
‘आज़ जब मैंने टीवी पर तुम्हारी खबर देखा तो एक बार तो बहुत बुरा लगा कि तुमने यहाँ आकर मुझे एक कॉल भी नहीं किया.. पर जब उन्होंने तुम्हारे काम के बारे में बातें की और तुम्हारी फिल्म के कुछ सीन दिखाए.. तब मेरा सीना गर्व से चौड़ा हो गया। तुमने ऐसे वक़्त में ये मुकाम हासिल किया है.. जहाँ कोई दूसरा होता तो शायद फिर से खड़े होने की आस तक छोड़ देता। कल जो भी हो.. पर मेरे और हम सब के लिए तुम एक सुपरस्टार हो।
मैं- मैं तो आप सब का बेटा बन कर ही खुश हूँ।
फिर हम सब डिनर हॉल की ओर चल दिए। उस रात हमने खूब मस्ती की और जैसा कि मैंने सोचा था किसी ने मुझे सोने नहीं दिया।
दूसरे दिन सुबह सुबह मैं शूटिंग पर जाने के लिए तैयार हो गया। काजल की कार और ड्राईवर के साथ मैं लोकेशन की तरफ चल पड़ा। रास्ते में कहीं मेरे पुतले जलाए जा रहे थे.. तो कहीं मेरे नाम से नारेबाजियाँ हो रही थीं। लोकेशन के पास मीडिया वालों की पूरी फ़ौज खड़ी थी।
आज वहाँ यशराज से जुड़े सारे बड़े नाम मौजूद थे। मैं अन्दर दाखिल हुआ और अपनी वैन में बैठ गया। थोड़ी देर में कोमल मेरी वैन में दाखिल हुई।
कोमल- मेरी तरफ देखो।
मैं उसे दखने लगा।
‘पता है.. क्यों मैं तुम्हें अपने साथ यहाँ लाई थी..? क्यूँ मैंने तुम पर इतना भरोसा किया? क्यूँ तुम्हें एक्टिंग करने को कहती थी?’
मैं- क्यूँ?
कोमल ने मेरे सीने पर हाथ रखते हुए कहा- इस दिल की वजह से.. एक्टिंग दिल से की जाती है और जिसका दिल जितना साफ़ है.. उसकी एक्टिंग में उतनी ही गहराई होती है। फरेब से भरे दिल.. दिखावा तो कर सकते हैं.. पर कभी एक्टिंग नहीं कर सकते। खुद पर यकीन करो और सच्चे दिल से किरदार में डूब जाओ.. भूल जाना कि सामने जो खड़ा है.. उसके साथ विजय का कोई रिश्ता है। बस एक बात याद रखना कि तुम वो हो.. जो इन स्क्रिप्ट के चंद पन्नों में लिखा है। ये याद भी मत करना कि तुम्हारी कोई दुनिया है.. जो इस स्क्रिप्ट से बाहर है। तुम खुद को भूलने आए थे न यहाँ.. आज ही सही वक़्त है.. खुद को भूल जाने का..
Reply
05-29-2019, 11:22 AM,
#34
RE: Free Sex Kahani चमकता सितारा
मैंने लम्बी सांस लेते हुए कहा- और कोई बात?
कोमल- नहीं..
फिर मैं जाने को मुड़ा.. तभी कोमल ने मेरा हाथ पकड़ लिया।
‘एक और बात मैं कहना चाहती हूँ। मैंने तुम्हें दर्द में चिल्लाते हुए देखा है, ख़ुशी में मुस्कुराते हुए और अपने जज्बातों को जाहिर करते हुए भी देखा है। जब-जब इस फिल्म में तुम दर्द से चिल्लाए हो.. मेरी भी आँखें भर आई हैं। जब भी तुम यहाँ ख़ुशी में मुस्कुराए हो.. मेरे होंठ भी मुस्काये हैं.. और जब-जब तुमने यहाँ फिल्म के किरदारों को अपने जज़्बात दिखाए हैं.. तब-तब ऐसा लगा है कि उन किरदारों की जगह तुम मुझसे ही कुछ कह रहे हो। तुम मेरे लिए एक सुपरस्टार हो और हमेशा रहोगे। मैं आज तक किसी की फैन नहीं थी.. पर तुमने मुझे अपना मुरीद बना लिया है। जाओ और दिखा दो इस दुनिया को.. कि तुमसे बड़ा एक्टर न पैदा हुआ है.. ना ही कभी पैदा होगा।
मैं अब वैन से बाहर आ चुका था। सामने पत्रकारों और फिल्म क्रिटिक्स की पूरी फ़ौज खड़ी थी।
तभी चेतन जी आए- आज ये सब नहीं मानेंगे विजय.. इन्हें इंटरव्यू दे दो.. तब ही शूटिंग शुरू हो पाएगी।
मैं- ठीक है।
कुर्सियाँ लग गईं और मैं बैठ गया। तकरीबन सौ के आस-पास पत्रकार थे और लगभग तमाम चैनलों पर ये इंटरव्यू लाइव दिखाया जा रहा था।
मैं- आप सब अपने सवाल पूछ सकते हैं.. पर इतना ध्यान रखें कि आपके सवाल एक से नहीं हों और आप बारी-बारी से अपने सवाल पूछें। वर्ना आपको तो मालूम ही है कि मुझे इस माइक का इस्तेमाल हथियारों की तरह करना अच्छे से आता है।
वहाँ सब हंसने लग गए।
सवाल- क्या कल जो आपने किया वो बस अच्छी पब्लिसिटी का हथकंडा था?
मैं- अभी इस इंडस्ट्री में नया-नया हूँ.. पब्लिसिटी के टोटके मुझे नहीं आते।
मैंने अपने प्रोड्यूसर की ओर देखते हुए कहा- सर जी.. पब्लिसिटी के पैसे बच गए.. मेरी पेमेंट बढ़ा दो।
सवाल- डॉली किसी और को पसंद करती हैं.. तो इसमें दिक्कत क्या है आपको?
मैं- कलाकार हूँ मैं जनाब.. हमेशा ही डायरेक्टर की दिखाई झूठी दुनिया को सच मान कर जिया है मैंने.. सच्ची दुनिया की आदत नहीं है न मुझे.. बस इसीलिए थोड़ी दिक्कत हो गई।
सवाल- आपने इंडस्ट्री के सुपरस्टार से पंगा ले लिया। आपको अपने कैरियर की फ़िक्र नहीं है क्या?
मैंने हंसते हुए कहा- मेरे शहर में हर रोज़ एक मदारी आया करता था। उसके बन्दर की कलाकारी ने सबको अपना दीवाना बनाया हुआ था। एक दिन वो एक नए बन्दर को लेकर आता है। तो मैंने जाकर मदारी से पूछा कि चाचा पुराने वाले को क्यूँ छोड़ दिए..? तो उसने कहा कि वो अब बूढ़ा हो चुका है और कलाबाजियाँ लेने कहो तो अपने दांत दिखाता है। अब उसके लिए लोगों का मनोरंजन तो बंद नहीं कर सकता न.. इसीलिए इसे लाया हूँ। आप सब मौका दोगे तो ये उससे ज्यादा मनोरंजन करके दिखाएगा। नहीं तो रहो बिना तमाशा देखे।
सब चुप थे।
‘और कोई सवाल..?’
मैंने सबसे पूछा।
सवाल (महिला पत्रकार)- आपकी नज़रों में एक एक्टर की परिभाषा क्या है.?
मैं- पागल, बीमार और दर्द से तड़पता हुआ इंसान।
वही पत्रकार- मैं समझी नहीं।
मैं- जब आप दुखी हों और कोई आपको ख़ुशी से चिल्लाने को कहे.. तो आप क्या करोगी?
पत्रकार- थप्पड़ मार दूँगी उसे।
मैंने हंसते हुए कहा- फिर तो आपको आज खूब मसाला मिलने वाला है यहाँ.. यहाँ आज की शूटिंग में मुझे यही करना है।
‘तो हो गया इंटरव्यू… अब मैं जाऊँ?’
मैं उठ कर जाने को हुआ।
पत्रकार- डॉली जी के लिए कोई सन्देश?
मैं- एक गाना डेडीकेट करना चाहूँगा। एक पुराना गाना जिसे हनी सिंह ने रीमिक्स किया है।
‘मैंने ओ सनम तुझे प्यार किया, तूने ओ सनम मुझे धोखा दिया.. तूने किया ये क्यूँ?
मेरे महबूब क़यामत होगी.. आज रुसवा तेरी गलियों में मोहब्बत होगी।’
मैं हंसते हुए वहाँ से उठ कर शूटिंग वाली जगह पर आ गया।
आज का सीन था :
डॉली और पूजा को गुंडे उठा कर ले गए थे और मैं गुंडों को भगा चुका हूँ। फाइट सीन पिछली शूटिंग में ही ख़त्म हो चुका था। अब तक मैं इस फिल्म में आवारा वाले किरदार में ही हूँ.. सो मैं डॉली से अपने प्यार का इज़हार करता हूँ। उसे पाने की ख़ुशी से मेरी आँखें भर जाती हैं और मैं उसे चूमता हूँ.. तो उसकी आँखों में अपनी तस्वीर देख कर मेरे अन्दर का दूसरा किरदार बाहर आ जाता है और मैं पूजा (कांता) को अपनी बांहों में भर लेता हूँ।
मैं इस शॉट के लिए अब तैयार हो चुका था.. तभी हमारे डायरेक्टर ने मुझे किनारे में बुलाया।
डायरेक्टर- इस आखिरी सीन के लिए मैं सोच रहा था कि हम डॉली के डुप्लीकेट से सीन पूरा कर लेते हैं।
मैं- इस फिल्म के बहाने अब तक तो मैं अपनी जिंदगी जी रहा था.. आज मौका मिला है एक्टिंग का.. और मैं इस मौके का भरपूर इस्तेमाल करना चाहता हूँ। ले आईए उसे मेरे सामने.. आज कोई गलती नहीं होगी।
डायरेक्टर ने कोमल को इशारा किया और वो वैन से डॉली को बुला लाई। जिन नज़रों में प्यार का समन्दर दिखा करता था.. आज मेरे लिए वही नज़रें नफरत से भरी हुई थीं। मैं तो अब भी दुविधा में था, मैं ये तय नहीं कर पा रहा था कि वो कल एक्टिंग कर रही थी या आज..
Reply
05-29-2019, 11:22 AM,
#35
RE: Free Sex Kahani चमकता सितारा
सैट पर सब चीज़ें अपनी जगह पर पहुँच गई थीं। डॉली और पूजा को दो खम्बे से बाँध दिया गया था और दोनों के मुँह टेप से बंद किए हुए थे।
मैंने एक आखिर फाइट सीन ख़त्म किया और दोनों जहाँ बंधी हुई थीं.. वहाँ पर पहुँच गया।
लाइट.. कैमरा.. एक्शन..!
अभी अभी जो मैंने फाइट सीन किया था.. इस वजह से मैं अब तक गुस्से में लम्बी-लम्बी साँसें ले रहा था। अपने कदम बढ़ाता हुआ मैं उन दोनों की तरफ बढ़ रहा था।
कैमरे ने मेरे चेहरे को फोकस किया और मैं बस डॉली की ओर ही देखे जा रहा था, मेरी नज़रें उसकी नज़रों से जा मिली।
मेरे अन्दर जितनी भी नफरत थी.. उसके लिए वो आंसू बन मेरी आँखों में उभर आईं।
मैं दौड़ कर उसके पास पहुँचता हूँ और उसके बंधे हुए हाथ-पाँव को बंधन से आज़ाद करता हूँ। जहाँ-जहाँ रस्सियों के कसाव की वजह से कोमलन उभर आए थे.. उन जगहों को चूमता हुआ और अपनी आंसुओं से भिगोता हुआ.. उसे आज़ाद करके अपनी बांहों में भर लेता हूँ।
मैं- काश.. कि तुम्हारे ज़ख्मों का दर्द मुझे मिल जाता.. काश कि.. तुम्हारी हर तकलीफ मैं खुद पर ले पाता।
डॉली- मुझे तुम मिल गए.. तो ये सारा जहाँ मिल गया।
उसकी ये लाइनें मेरे ज़ज्बातों को उधेड़ कर रख देती हैं.. पर फिर भी मैं खुद पर काबू करता हूँ।
मैं- आज मैं तुमसे कुछ मांगना चाहता हूँ।
डॉली- मैंने तो अपनी जान भी तुम्हारे नाम कर दी है.. अब और बचा ही क्या है।
मैं अपने घुटनों पर बैठता हुआ बोला- तुम्हारी जिंदगी का हर लम्हा मैं अपना बना कर बिताना चाहता हूँ। तुम में खो कर खुद को पाना चाहता हूँ। बस मैं वो वक़्त चाहता हूँ.. जिसमें बस तुम मेरी बांहों में हो..
डॉली- तुम्हें इजाज़त है… मेरा हर लम्हा चुराने की।
डॉली की आँखों में आंसू थे, मैंने उन आंसुओं को पोंछ कर उसके होंठ चूम लिए।
मैं खो चुका था उसमें… फिर मैंने उसकी आँखें देखीं और हर वो कड़वी यादें.. जो उसके साथ जुड़ी थी’.. ताज़ा हो गईं।
गुस्से से मेरी साँसें फिर तेज़ हो गईं.. मैंने उसे धक्का दिया और चिल्लाने लगा..
मैं- कौन हो तुम? और तुमने इस तरह मुझे क्यूँ पकड़ा हुआ है?
डॉली अब अचम्भे में थी, मैंने अब पूजा को आज़ाद किया, पूजा आज़ाद होते ही मुझे एक जोर का थप्पड़ जड़ देती है।
मैं- मैं नहीं जानता उसे… मैंने तो बस अपने हर ख्वाब में तुम्हें ही सजाया है। मेरे हर सपने में बस तुम ही तुम बसी हो। मैं नहीं जानता कि वो कौन है और मेरे साथ ये सब क्यूँ कर रही थी।
पूजा- कौन हो तुम?
मैं- तुम आज मुझे नहीं पहचानती हो। जिंदगी की इतनी मुश्किलों के बाद मैंने तो जिंदगी की आस ही छोड़ दी थी। अपने जीने के एहसास को ही खो दिया था मैंने.. अगर आज मैं जी रहा हूँ तो मेरे जीने की वजह तुम ही तो हो और तुम्हीं मुझे ठुकरा रही हो। मैं वही हूँ.. जिसे तुमने और जिसने तुम्हें हमेशा के किए अपना मान लिया था।
मैं ये सब कह ही रहा था कि पीछे से विलन के एक आदमी ने मेरे सर पर रॉड से वार किया और मैं गिर पड़ा।
कट इट.. ज़बरदस्त शॉट.. !!
चारों तरफ से तालियों की गड़गड़ाहट गूंज उठी। शायद अब मैं एक्टिंग सीख गया था..!
मैं वहाँ से अपनी वैन में आया और आज मैंने आगे के और दो सीन पूरे कर लिए।
मेरे हर शॉट के साथ तालियों की गूंज बढ़ती ही चली गई। वहाँ मौजूद हर इंसान को मैंने अपना दीवाना बना लिया था।
मैं अब वापस घर की ओर निकल पड़ा। मैं जब गाड़ी की तरफ बढ़ रहा था.. तब फिर से रिपोर्टरों के हुजूम ने मुझे घेर लिया.. पर मैं अब और कोई सवाल नहीं चाहता था.. सो मैं उनसे खुद को दूर करता हुआ अपनी कार में बैठ गया।
मैं घर पर पहुँचा तो सब लोग टीवी के सामने ही बैठे थे।
मैंने कहा- क्या आ रहा है टीवी पे..? जो इतने गौर से देख रहे हो आप सब?
काजल- तुम खुद ही देख लो।
लगभग हर न्यूज़ चैनल पर मेरे और डॉली की हर तस्वीर को किसी फिल्म की तरह चलाया जा रहा था और बैकग्राउंड में वहीं गाना बज रहा था जो आज मैंने डॉली को डेडीकेट किया था।
पापा- लड़की अच्छी है.. पर इसमें रेखा जी जैसी बात नहीं है।
मैं- अपनी-अपनी नज़र है। वैसे मम्मी को बताऊँ कि आप रेखा जी से मिलने को कह रहे हो?
पापा- अरे तुम्हें अच्छा लगेगा.. कि तुम्हारा बाप तुम्हारे सामने पिट जाए?
फिर हम दोनों हंसने लग गए, मैंने पूछा- फिल्म की रिलीज़ तक आप हो न यहाँ?
पापा- हम सब को बस तुम्हें देखना था और अब हमारा बेटा सुपर स्टार बन गया है। यहाँ नहीं.. घर आओ फिर हम ढेर सारी बातें करेंगे।
मैं- बस पंद्रह दिनों की तो बात है.. आप रुक जाईए न..?
पापा- कुछ अधूरे काम हैं.. उन्हें पूरा करना है, घर पर आओ और तब हम साथ में जश्न मनाएँगे।
मैं- ठीक है आप जैसा कहें।
दो दिन बाद सब लोग चले गए, मैं फिर से अकेला हो गया था। अब प्रमोशन की बारी थी, वैसे तो मेरे और डॉली के काण्ड ने लगभग इस फेज का हर काम पूरा कर ही दिया था.. पर यशराज कोई भी कसर बाकी नहीं छोड़ना चाहते थे।
जितना भी मैं और डॉली साथ दिखते.. कैम्पेन उतना ही आगे बढ़ता जा रहा था।
फिल्म से जुड़े हर लोग हमें साथ ले जाते और हर जगह मेरे हर ज़ख्म कुरेदे जाते। अब तो दर्द का महसूस होना भी बंद हो गया था।
पूरे देश में इस फिल्म को लेकर जबरदस्त क्रेज हो गया था। आखिर वो रात आ ही गई जब अगले दिन मेरी फिल्म परदे पर आने वाली थी। उस रात मैं अपने अपार्टमेंट में था।
पायल- कैसा लग रहा है तुम्हें?
मैं- नींद आ रही है। प्लीज मुझे सोने दे।
ललिता- कुम्भकर्ण कहीं के.. आज तो तुम कुछ भी कहो.. हम सब तुम्हें सोने नहीं देंगे।
मैं- हाँ अब तुम तीन और मैं अकेला मासूम बच्चा.. कर लो अत्याचार मुझ पर..
तभी दरवाज़े पर दस्तक हुई।
ललिता ने दरवाज़े को खोला तो सामने डॉली हाथ में शराब की बोतल लिए खड़ी थी.. कंधे पे’ एक बैग भी था। वो आई और हम सबके साथ बैठ गईं।
मैं- मुझे आज कुछ ऐसा ही लग रहा था कि तुम आओगी ज़रूर।
डॉली- कल सिर्फ तुम्हारी ही नहीं बल्कि हमारी फिल्म भी रिलीज़ हो रही है। (मेरी ओर देखते हुए) साले तुमने मेरी इमेज की धज्जियाँ उड़ा दी हैं। प्यार का नाटक करना बंद भी कर दो। यहाँ सब बस मतलब के यार हैं.. यहाँ कोई किसी से सच्ची मुहब्बत नहीं करता..
मैं- तुम्हें कभी भी यह नहीं लगा कि मैं तुम्हें सच में प्यार करता हूँ..?
डॉली मेरे सवाल पर ध्यान ना देते हुए कहने लगी- आज उसने भी मुझे छोड़ दिया.. कहता है कि मेरे साथ अब जो भी रहेगा.. उसकी इमेज खराब हो जाएगी। मेरा तो मन करता है कि तुम सबकी जान ले लूँ।
मैं- अभी भी जान लेने में कोई कसर बाकी रह गई है क्या?
डॉली- तुम अब तक नहीं बदले। मुझ पर एक एहसान कर दो…. प्लीज आज मेरी जान ले लो तुम। जब-जब मैं तुम्हारी आँखों में देखती हूँ.. हर बार मुझे यह एहसास होता है कि कितनी बुरी हूँ मैं.. अपने आप से ही घिन सी होने लगी है मुझे..
मैं- तुमने ज्यादा पी हुई है, अभी यहीं आराम करो.. कल सुबह बात करेंगे।
Reply
05-29-2019, 11:23 AM,
#36
RE: Free Sex Kahani चमकता सितारा
डॉली- नहीं कल शायद मुझमें तुमसे नज़रें मिलाने की हिम्मत भी ना हो। आज मैं तुमसे एक बात कहना चाहती हूँ। बचपन से ही मैंने प्यार के हर रिश्तों को कैरियर और पैसों के सामने बिखरता हुआ देखा है। मुझे कभी भी सच्चे प्यार पर यकीन नहीं था.. जिंदगी में आगे बढ़ने की इतनी चाहत थी मुझमें कि मेरा सच्चा प्यार मेरे सामने होते हुए भी मैं उसे पहचान न पाई। आज मैं आईने के सामने खुद से नज़रें भी नहीं मिला पा रही हूँ। हर बार जब मैं खुद को देखती हूँ.. तो मुझे तुम्हारे साथ बिताएँ वक़्त की याद आती है।
मैंने उसके हाथ को अपनी हाथों में लेते हुए- मैं तो आज भी तुम्हें चाहता हूँ।
डॉली की आँखें भर आई थीं- तुम्हारी यही बात तो मुझे जीने नहीं दे रही। मैंने क्या नहीं किया तुम्हारे साथ, पर तुम्हारी आँखों में अब तक मुझे खुद के लिए प्यार ही दिखता है। मैं तुम्हारे लायक नहीं हूँ, मैं किसी के प्यार के लायक नहीं हूँ। तुम्हें अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना है, किसी दिन तुम्हें भी वो ज़रूर मिलेगी जो तुम्हें सच्चे दिल से चाहेगी। मुझे अपनी जिंदगी की बुरी याद की तरह भूल जाओ। मैं तुम्हारे प्यार के लायक नहीं हूँ। अगर मैं तुमसे आज कुछ मांगूं तो तुम मना तो नहीं करोगे।
मैं- मुझे तुम चाहिए और उसके बाद कुछ भी मांग लेना।
डॉली- मैं तुम्हारी थी, तुम्हारी हूँ और तुम्हारी ही रहूँगी। (उसका हर लफ्ज़ मुझे बीते दिनों में लिए जा रहा था) मैं तुम्हारे साथ एक आखिरी सीन करना चाहती हूँ।
मैं- कैसा सीन?
डॉली बैग से शादी का एक जोड़ा निकालते हुए- एक लड़की का उसकी जिंदगी का सबसे प्यारा सपना जीना चाहती हूँ मैं, तुम्हारे लिए इस जोड़े में सजना चाहती हूँ मैं। यह हर लड़की का अरमान होता है, शादी के जोड़े में सज़ के अपनी प्यार की आँखों में खुद के लिए प्यार देखना। शायद मैं कभी यह दिन न देख पाऊँ। कम से कम इस झूठ की दुनिया में तुम्हारे प्यार को महसूस कर लूँ। तुमने कभी भी मुझे चाहा होगा तो मुझे मना नहीं करोगे।
मेरी आँखों के सामने फिर से अन्धेरा सा छा रहा था। शादी के जोड़े वाली बात मैंने ना तो कोमल को ना ही इसे कभी बताई थी तो फिर से वही सब क्यूँ हो रहा था मेरे साथ। ऐसा लग रहा था कि मैं फिर से उसी मोड़ पे हूँ। मेरे गले से अब आवाज़ नहीं निकल रही थी।
मैंने कोमल की ओर देखा। पता नहीं वो क्या समझ बैठी, वो सब डॉली को कमरे के अन्दर ले गईं और थोड़ी देर में डॉली शादी के जोड़े में सजी मेरे सामने थी।
मेरी बेचैनी अब अपने चरम पे थी, मैं फिर से वो सब दोहराना नहीं चाहता था, मैं दूसरी ओर घूम गया।
‘जाओ यहाँ से, मैं नहीं देख सकता तुम्हें ऐसे!’ कहते हुए मैं चिल्लाया।
डॉली मुझसे वैसे ही लिपट गई।
डॉली- आज कितने दिनों बाद इस दिल को राहत मिली है।
मैंने अपनी आँखें बंद की हुई थीं।
डॉली मेरे सामने आई और उसने मेरे माथे को चूम लिया।
‘मुझे देखोगे नहीं..?’
मैं- नहीं देख पाऊँगा मैं.. मेरी जान ही ले लो न.. इतना दर्द क्यूँ देती हो।
मैंने धीरे-धीरे अपनी आँखें खोलीं.. डॉली की आँखें भरी हुई थीं.. ठीक वैसे ही जैसा पहले हुआ था। मैं इस बार उसे देख न पाया और वहीं घुटनों पे आ गया।
डॉली- मैंने अपना सपना जी लिया है। अब मुझे कुछ भी नहीं चाहये। बस तुम खुश रहना।
वो ते कह कर वैसे ही दरवाज़े के बाहर निकल गई। मैं अब तक सदमे में ही था।
तभी कोमल कमरे से बाहर आई।
कोमल- क्या हुआ तुम्हें..? कुछ तो बोलो।
इस बार फिर जैसे सपने की ही तरह डॉली का हाथ मुझसे छूट रहा हो जैसे.. पर मैं अब इस हाथ को छोड़ने वाला नहीं था। मैं कमरे से बाहर भागा। मेरी साँसें अब बहुत तेज़ गई थीं। मैं इस बार उसे जाने नहीं दे सकता था। तभी सामने सड़क पर डॉली अकेली बीच में चली जाती दिखाई दी। दूर से दो कारें उसकी ओर बढ़ रही थी। मेरे अन्दर जितनी भी जान बची थी मैं भागा उसे बचाने।
‘रुक जाओ डॉली..!’
चिल्लाता हुआ मैं उसकी ओर भाग रहा था। मैंने आखिरकार उसे पकड़ लिया …. पर शायद अब देर हो चुकी थी सामने से आती एक कार ने हमें टक्कर मार दी।
तीन दिनों बाद मुझे होश आया। मैं अस्पताल में था। धीरे-धीरे मैंने अपनी आँखें खोली सामने पापा थे।
‘डॉली कैसी है..?’ मैंने पूछा।
पापा- वो ठीक है, अभी दूसरे कमरे में है वो।
बाकी सब मुझसे बात करना चाह रहे थे पर मेरी आँखें तो बस डॉली को ही ढूंढ रही थी। मैं उठने की कोशिश करने लगा। तभी डॉक्टर ने एक व्हील चेयर मंगवाया और मुझे उस पर बिठा कर डॉली के कमरे में ले गए। हम दोनों की एक टांग और एक हाथ टूट गए थे.. साथ ही सर में भी चोट आई थी।
डॉक्टर ने वहीं एक बिस्तर मंगवा कर मुझे लिटा दिया। सब लोग उस कमरे में हमें घेर के बैठ गए।
कोमल- मैंने सुना था कि प्यार में बस दिल को खतरा होता है। हाथ-पैर भी टूटते हैं.. इसका पता मुझे आज ही चला।
सब हंसने लगे।
मम्मी- अब थोड़ी देर इन दोनों को अकेला छोड़ दो, हम आते हैं बेटा।
सब बाहर चले गए।
मैंने मुस्कुराते हुए डॉली को देखा- जानेमन कमरे में कोई नहीं है.. मौके पे चौका मार दिया जाए..
डॉली- कमीने.. हाथ-पैर टूटे हुए हैं। अब तो सुधर जाओ।
मैंने रिमोट से टीवी ऑन किया। न्यूज़ चैनल पे हमारी फिल्म के बारे में ही ख़बरें आ रही थीं।
‘बॉलीवुड के इतिहास में कभी ऐसा नहीं हुआ होगा कि बिना किसी फ़िल्मी इतिहास के एक लड़का यहाँ आता है और ना सिर्फ बॉलीवुड में मुकाम हासिल करता है.. बल्कि उसकी पहली फिल्म ओपनिंग में ही ऐतिहासिक कमाई करती है।’
उसके बाद देश भर के सिनेमा घरों से निकलती भीड़ से वो इस फिल्म के बारे में पूछते हैं। हर जगह बस हमारा ही नाम छाया हुआ था।
डॉली- लगता है तुम सुपरस्टार बन गए।
मैं- ऐसा है क्या? तब तो शायद कांता से सेटिंग हो जाएगी मेरी..
डॉली ने मुक्का मारते हुए कहा- दुबारा किसी और का नाम लिया न.. तो दूसरी टांग भी तोड़ दूँगी।
हम हंसते हुए एक-दूसरे के गले मिल लिए। कुछ दिनों के बाद हमें हॉस्पिटल से डिस्चार्ज किया जाना था। अब हम दोनों ही पूरी तरह से ठीक हो गए थे।
डॉली ने मुझे तैयार किया और हम बाहर जाने लगे।
डॉली- मैं बाकियों के साथ आती हूँ। तुम्हारे साथ गई तो यहाँ की भीड़ में निकलना भी मुश्किल होगा।
मैं- इन्हीं की चाहत ने आज हमें इस मुकाम तक पहुँचाया है और इनसे ही किनारा ले रही हो।
डॉली- सच कहूँ।
मैं- कहो।
डॉली- आज ये भीड़ तुम्हारे लिए आई है। ये भीड़ ही है जो हमें मिलाती है हमारी खुद की पहचान से। मैं इस दौर से गुज़र चुकी हूँ आज तुम्हारी बारी है। ये लम्हें तुम्हारी जिंदगी के सबसे यादगार लम्हे होने वाले हैं। इस हर पल को अपनी यादों में कैद कर लो.. अब जाओ भी।
मैं अकेला ही बढ़ चला दरवाज़े की ओर.. जैसे ही दरवाजा खुला..
चारों तरफ हज़ारों कैमरों की जगमगाती चमक, जहाँ तक नज़रें जाएँ बस पागल होती बेकाबू सी भीड़ और उस भीड़ को काबू करने में लगे हुए कितने ही पुलिस वाले। कानों में गूंजता हुआ बस आपका ही नाम। हर चौराहे पे आपकी बड़ी बड़ी तस्वीरें। हर खबर की सुर्ख़ियों में बस आपका ही ज़िक्र।
सच ही कहा है किसी ने…
यूँ तो हर मोड़ पे बहुत सी जिंदगियाँ साँसें लेती दिखाई देंगी, पर उन जिंदगियों में जान नहीं होती।
जीते तो सब हैं इस दुनिया में, पर यहाँ हर किसी की खुद की पहचान नहीं होती।
आज मेरी एक पहचान थी। हाँ मैं अब सुपर स्टार बन चुका था।

एंड

समाप्त
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Hindi Kamuk Kahani वो शाम कुछ अजीब थी sexstories 334 51,619 07-20-2019, 09:05 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Porn Kahani कहीं वो सब सपना तो नही sexstories 487 211,853 07-16-2019, 11:36 AM
Last Post: sexstories
  Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन sexstories 101 201,754 07-10-2019, 06:53 PM
Last Post: akp
Lightbulb Sex Hindi Kahani रेशमा - मेरी पड़ोसन sexstories 54 46,163 07-05-2019, 01:24 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani वक्त का तमाशा sexstories 277 96,358 07-03-2019, 04:18 PM
Last Post: sexstories
Star vasna story इंसान या भूखे भेड़िए sexstories 232 72,220 07-01-2019, 03:19 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Incest Kahani दीवानगी sexstories 40 51,663 06-28-2019, 01:36 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Bhabhi ki Chudai कमीना देवर sexstories 47 66,406 06-28-2019, 01:06 PM
Last Post: sexstories
Star Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली sexstories 65 63,041 06-26-2019, 02:03 PM
Last Post: sexstories
Star Adult Kahani छोटी सी भूल की बड़ी सज़ा sexstories 45 50,513 06-25-2019, 12:17 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


pakisthan randi booss girl xxxtopSex Baba net stroy Aung dikha keXnxx कपङा खोलत मेbra bechnebala ke sathxxxNand and bhabi xxx satoriकाजल की फोटो को चोदा उसका वॉलपेपर काजल कीanpadh mom ki gathila gandaunty ki ayashi yum storyआज इसकी चूत फाड़कर ही मानेंगेShalaj hindi kahani xxxxxxvidwa aaorat xxxvideoMalavika sharma new nude fuck sex babasasur bahu in hindi sexbaba.netananya pandey xxx naghiporn kajol in sexbabaPratima mami ki xxx in room ma chut dikha aur gard marawaचुत की आग गाली बक के बुजाई कहानियाsaliwwwxxxxxx sil Tod videos Bharti jabardasti pakad kar chodne wala Khoon Baha Rahaनानी बरोबर Sex मराठी कथाRamu kaka maa bati xxx khani hindiहां आजा चोदले जीभर के सैक्स विडियोNude Ramya krishnan sexbaba.comYes mother ahh site:mupsaharovo.ruChhunni girne ke bad uske donoxxxwww kachaa BURमाँ बेटि के चुदने क मन मै Page18कामतूरआर्फीकन सेक्सwww sxey ma ko pesab kirati dika ki kihaniलगडे कि चुदाइचोट बूर सविंग हद बफ वीडियो क्सक्सक्सAnanya Pandey xxx naghividhawa maa ke gand ki Darar me here ne lund ragadaमीनाक्षी GIF Baba Naked Xossip Nude site:mupsaharovo.ruमाँ की गांड़ पर लुंड रगड़ाXbombo Hindiक्सक्सक्स हिंदी ससि जमीxxx HD faking photo nidhhi agrual pashap.ka.chaide.hota.chudi.band.xxx.hindi.mahindi ma ki fameli me beraham jabardasti chut chudai storiAishwarya rai sexbaba.comWWW.Velamma Hindi Comics All Episode ImgFY.Netbra ಕಾಚ ಕಥೆAmmi ki jhanten saaf kidesi adult video forumsexbaba jaheer khaanxx sexihindi movis bhukhNimisha pornpicsचूतजूहीअसीम सुख प्रेमालाप सेक्स कथाएँmaa बेटी कि चुत मरवाति दोनो साथ stroyXxx 65sex video telugusex aunty Baba ne ganja pee k chudai choot faadiIndian desi ourat ki chudai fr.pornhub comsex baba net .com photo nargis kshubhangi atre fake gifआलिया भट की भोसी म लंड बिना कपडे मे नगी शेकसीsusmeeta sayn sexy nude nangi cudae potoswara bhaskar nude fuked pussy nangi photos download shilpa kaku porn vedioBhains Pandey ki chudaikarina kapoor sexbaba.comदेसी हिंदी राज शर्मा बड़े chuchi waali माँ बीटा हिंदी kaamuk सेक्स कहानीgarlfriend dost se chudbai porn hd englandxxx suhagrat tren me repDiwyanka tripathi imgfy.nersajal ali ky chudui pusySister Ki Bra Panty Mein Muth Mar Kar Giraya hot storyrone lagi ye actars sex karneseeesha rebba sexbabaNangi sex ek anokha bandhanhindi tv actress ridhima pandit nude sex.babachut chudty tame lund jab bacchedani ghista hai to kaisa lagta hota hai भाभियों की बोल बता की chudai कहने का मतलब वॉल्यूम को चोदोUrdu sexy story Mai Mera gaon family Trisha ki chudai kiJUHI CAWLA HINDI BASA WWW XXX SEX .COMwww. xbombo .com aliya bhattantarvasna desi storieseri maa kamini"madhuri dixit nude thread Soumay Tandon sexbabbhai se condom wali panty mangwayi