Hindi Sex Stories By raj sharma
07-18-2017, 12:20 PM,
#41
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
तीन सहेलियाँ 

मेरा नाम मिनी है. मेरी उमर 19 साल की है और मैं बहुत ही खूबसूरत हूँ. मेरी दो सहेलियाँ हैं जिसका नाम निशा और उषा है. वो दोनो मेरे साथ ही कॉलेज में पढ़ती थी. हम तीनो ही बहुत ही सेक्सी थे. कॉलेज में ही हमारा ढेर सारे लड़को से संबंध था. हम तीनो ही उनसे खूब चुदवाते थे. उषा चुदवाने में सबसे ज़्यादा तेज थी. उषा हमेशा ही खूब लंबे और मोटे लंड की तलाश में रहती थी. निशा को कयि लड़को से एक साथ चुदवाने में ज़्यादा मज़ा आता था लेकिन उसे ज़्यादा लंबा और मोटा लंड पसंद नहीं था. जहाँ तक मेरा सवाल है तो मुझे एक साथ चूत और गांद दोनो में लंड लेना पसंद था. 

पढ़ाई ख़तम होने के बाद निशा और मैं 2 साल के लिए दूसरे शहर में पढ़ने चले गये. हमारे जाने के 6 महीने के बाद ही उषा की शादी उसी शहर में जय के साथ हो गयी थी. जय बहुत ही अमीर आदमी था और अय्याश भी. उषा ने हम दोनो को भी शादी में बुलाया लेकिन हम उसकी शादी में नहीं आ सके. उषा ने अपनी शादी की दूसरी सालगिरह पर हम दोनो को बुलाया. मैं निशा के साथ उषा के पास आ गयी. उषा ने हम दोनो को देखा तो बहुत खुश हो गयी. हम सब ने आपस में खूब बातें की 

उषा ने मुझे बताया कि वो शादी के बाद से और ज़्यादा सेक्सी हो गयी थी और वो कयि आदमियों से चुदवा चुकी थी. उसकी एक दलाल से जान पहचान हो गयी थी जो कि अमीर औरतों को आदमी सप्लाइ करता था. मैं जानती थी कि ये मुंबई के लिए आम बात है. उषा ने हम दोनो को लगभग 150 आदमियों के फोटो दिखाए और बोली, मैं इन सब से चुदवा चुकी हूँ. वो सभी आदमी फोटो में एक दम नंगे थे. उन सब आदमियों का लंड एक से बढ़कर एक था. किसी का लंड 8" से कम लंबा नहीं था. मैने उषा से कहा, इन सब का लंड तो बहुत ही लंबा और मोटा है. वो बोली, तू तो जानती ही है कि मुझे तो खूब मोटा और लंबा लंड ही पसंद आता है और उसी से चुदवाने में मुझे मज़ा भी आता है. आज मैने एक पार्टी रखी है. आज हम सब सारी रात चुदाई का पूरा मज़ा उठाएँगे. 

उषा ने 6 मर्दो के फोटो हमारे सामने रखते हुए कहा, मैं आज इन सब को बुलाया है. मैने पूच्च्छा, अगर जय आ गया तो. वो बोली, वो तो महीने 25 दिन बाहर ही रहता है. इसी लिए तो मैने दूसरे आदमियों से चुदवाना शुरू किया है. मैने कहा, जय तुझे कुच्छ कहता नहीं. वो बोली, वो भी तो अय्याश है और तमाम लड़कियों को चोद्ता रहता है. मैं उसके सामने भी कयि बार चुदवा चुकी हूँ. मैने कहा, तो फिर तूने आज 6 मर्दो को क्यों बुलाया है. उषा बोली, क्या तुम सब को चुदवाना नहीं है. मैने कहा, चुदवाना तो है लेकिन 6 मर्द एक साथ. वो बोली, तो क्या हुआ, तभी तो चुदाई का असली मज़ा आएगा. मैने कहा, इन सभी का लंड 11" से कम नहीं है. वो बोली, इसी लिए में केवल इन्हें ही बुलाया है. मैं तो आज रात इन सब से कम से कम 1 बार ज़रूर चुदवाउन्गि. 

निशा बोली, उषा, तू तो जानती है कि मुझे कयि मर्दो से एक साथ चुदवाना पसंद है लेकिन मैं ज़्यादा लंबा और मोटा लंड पसंद नहीं करती. उषा बोली, छ्चोड़ यार, तूने लंबे और मोटे लंड का मज़ा कभी लिया ही नहीं फिर तू क्या जाने की खूब लंबे और मोटे लंड से चुदवाने का मज़ा क्या होता है. आज तो मैं तुझे इन सब ज़रूर चुदवाउन्गि. निशा बोली, तब मेरी हालत एक दम खराब हो जयगी क्यों की इसमें से किसी का लंड 11" से कम लंबा नहीं है. मैं तो सुबह तक बिस्तेर पर से हिलने डुलने के काबिल ही नहीं रहूंगी. उषा बोली, क्यों तुझे कल सुबह कहीं जाना है क्या. निशा बोली, नहीं यार, कहीं नहीं जाना है. हम दोनो तो तेरे पास कम से कम 10 दीनो तक रहेंगी. उषा बोली, फिर सारा दिन तू बिस्तेर पर ही आराम करना. 

उसके बाद उषा ने मुझसे कहा, तेरा क्या ख़याल है, मिनी. मैने कहा, तू तो जानती ही है मुझे एक साथ दो लंड अंदर लेना पसंद है. मुझे तो कोई दिक्कत नहीं है. मैं पहले भी 11" लंबा लंड अंदर ले चुकी हूँ. मैं तो इन सब से कम से कम 2 बार ज़रूर चुदवाउन्गि. उषा बोली, फिर ठीक है. आज रात हम सब को चुदवाने में खूब मज़ा आएगा. 

सारा दिन हम गॅप शॅप करते रहे. रात के 8 बजे एक सूमो आ कर खड़ी हुई. उसमें से 6 हत्थे कत्थे जवान मर्द बाहर आए. मैं उन्हें देखकर खुश हो गयी. निशा उन्हें देख कर थोड़ा उदास हो गयी. उषा ने निशा से पुचछा, तू क्यों उदास है. वो बोली, इन सब के लंड के बारे में सोच कर मैं परेशान हूँ. उषा बोली, फिर तो आज सबसे पहले मैं तेरी ही चुदाई कराउंगी. निशा बोली, नहीं, मैं सब से बाद में चुदवाउन्गि. उषा ने कहा, तू लाख कोशिश कर ले लेकिन आज मैं सबसे पहले तुझे ही इन सब के हवाले करूँगी. ये सब तेरी चुदाई कर कर के तेरी चूत को एक दम चौड़ा कर देंगे. निशा बोली, इसका मतलब आज तू मेरा कतल करवाने पर तुली है. उषा बोली, कुच्छ ऐसा ही समझ ले. निशा बोली, ये सब मेरी चूत की हालत खराब कर देंगे और साथ में मेरा भी. उषा बोली, मुझसे शर्त लगा ले. कल सुबह के पहले अगर तूने खुद ही अनिल से दोबारा नहीं चुदवाया तो मैं अपना नाम बदल दूँगी. निशा बोली, ये अनिल कौन है. उषा बोली, अनिल सबसे ज़्यादा देर तक चोद्ता है और बहुत ताकतवर भी. मैं सबसे पहले उसी से तेरी चुदाई कराउंगी. निशा चुप हो गयी. 

वो सभी अंदर आ गये. उषा ने कहा, तुम सब कुच्छ पियोगे. उसमें से एक बोला, आज रात बहुत मेहनत करनी है. हो सके तो कुच्छ ड्रिंक पीला दो. उषा ने उन सब को 1 बॉटल शराब ला कर दे दी. वो सब शराब पीने लगे. उषा ने निशा की तरफ इशारा करते हुए अनिल से कहा, ये मेरी सहेली निशा है. आज तक इसने 7" से ज़्यादा लंबे लंड से नहीं चुदवाया है. तुम सबसे पहले इसकी चुदाई करो. मैं नहीं चाहती कि इसे बार बार तकलीफ़ उठानी पड़े. तुम इसकी चूत में एक दम बेरहमी से अपना लंड घुसा देना. अनिल बोला, मेडम, फिर तो ये बहुत चिल्लाएगी. उषा ने कहा, तो क्या हुआ. एक बार ही तो चिल्लाएगी. उसके बाद इसे इन सब से चुदवाने में मज़ा आएगा. वो बोला, ठीक है मेडम, मैं एक दम रेडी हूँ, आप कहें तो मैं शुरू कर दूं. उषा बोली, हां, शुरू कर दो. 

निशा ने उषा से कहा, तू मुझे मरवाएगी क्या. उषा बोली, नहीं यार, मैं एक बार में ही तेरा काम तमाम कर देना चाहती हूँ जिस से हम सब एक साथ मज़ा ले सकें. इसी लिए तो मैं सब से पहले अनिल से ही तेरी चुदाई करने को कह रही हूँ. तब तक अनिल निशा के पास आ गया. उसका लंड एक दम टाइट हो चुका था. उसका लंड लगभग 11" लंबा और 3" मोटा था और वो बहुत ताकतवर भी लग रहा था. उसने निशा के सारे कपड़े उतार दिए और उसे बेड के किनारे लिटा दिया. उसके बाद वो निशा के पैरो के बीच में ज़मीन पर खड़ा हो गया. उसने निशा की चूत के मूह को फैला कर अपना लंड बीच में रख दिया. 

उषा ने बाकी के आदमियों को इशारा कर दिया तो वो सभी निशा के पास आ गये. उन सब ने निशा के हाथ ज़ोर से पैर पकड़ लिए. एक ने अपना लंड निशा के मूह में दे दिया. निशा उसका लंड चूसने लगी. तभी अनिल ने एक धक्का मारा. निशा ने उस आदमी का लंड अपने मूह से बार निकाल दिया और ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी. उस आदमी ने दूसरा धक्का लगाया तो निशा बुरी तरह से चीखने लगी. उषा बोली, तू इतना चीख क्यों रही है. 7" लंबा लंड तो तू पहले ही अंदर ले चुकी है. इसका लंड तो अभी तेरी चूत में केवल 5" ही घुसा है. निशा बोली, इसका मोटा भी तो बहुत है. अनिल जैसे ही रुका तो उषा ने उसे ज़ोर से डांटा, क्यों बे, रुक क्यों गया. घुसा अपना पूरा लंड इसकी चूत में. अनिल बोला, ग़लती हो गयी मेडम. अब मैं नहीं रुकुंगा. 

अनिल ने पुर ताक़त के साथ बहुत ही जोरदार दो धक्के लगाए. इन दो धक्कों के साथ ही उसका लंड निशा की चूत में 8" तक अंदर घुस गया. निशा की चूत से खून निकलने लगा और वो बहुत ही बुरी तरह से चिल्लाने और तड़पने लगी. निशा का सारा बदन पसीने से लथपथ हो चुका था. अनिल ने एक गहरी सांस लेते हुए 2 बहुत ही जोरदार धक्के और लगा दिए. इन दो धक्कों के साथ ही उसका लंड निशा की चूत में 10" तक अंदर घुस गया. निशा की चूत बुरी तरह से फैल चुकी थी. उसकी चूत ने अनिल के लंड को बुरी तरह से जाकड़ रखा था. तभी अनिल ने पूरी ताक़त के साथ बहुत ही ज़ोर का धक्का मारा. इस धक्के के साथ ही उसका पूरा का पूरा लंड निशा की चूत में समा गया. उसके बाद अनिल ने निशा की चुदाई शुरू कर दी. 

उषा ने निशा से कहा, आख़िर तूने इसका 11" लंबा लंड अंदर ले ही लिया. अब तो तुझे खूब मज़ा आ रहा होगा. वो बोली, मैं दर्द के मारे मरी जा रही हूँ और तुझे मज़ाक सूझ रहा है. उषा बोली, मेरी जान, बस 10 मिनट में ही तू एक दम पक्की चुड़क्कड़ बन जाएगी और तुझे वो मज़ा आएगा की तू भी मेरी तरह कभी छ्होटा और पतला लंड पसंद ही नहीं करेगी. वो बोली, ये तो है. लंबा और मोटा लंड अंदर लेने के बाद छ्होटा लंड भला किसे पसंद आएगा. अनिल निशा को चोद्ता रहा और निशा चिल्लाति रही. 10 मिनट की चुदाई के बाद जब निशा शांत हो गयी तो उषा ने अनलि से कहा, अब तू रहने दे. निशा बोली, अब मुझे मज़ा आ रहा है तो तू इसे मना क्यों कर रही है. उषा बोली, अब तुझे रमेश चोदेगा फिर उसके बाद राज शर्मा जब तक मैं नहीं कहूँगी तब तक कोई भी अपने लंड का जूस तेरी चूत में नहीं निकलेगा. निशा बोली, तू ऐसा क्यों कर रही है. उषा बोली, बस, तू केवल देखती जा. 

अनिल हट गया तो रमेश निशा को चोदने लगा. 15 मिनट की चुदाई के बाद राज ने निशा को चोदना शुरू किया. उसने भी लगभग 15 मिनट तक निशा की चुदाई की. उसके बाद कमाल, केशरी और शिव ने निशा को लगभग 15-15 मिनट तक चोदा. निशा को अब मज़ा आने लगा था और उसे अब ज़रा सा भी दर्द नहीं हो रहा था. उषा ने सभी को मना कर रखा था इस लिए किसी ने अपने लंड का जूस उसकी चूत में नहीं निकाला. 

उषा ने अनिल और रमेश से मुझे चोदने को कहा. उन दोनो का लंड एक ही साइज़ का था. मैं अनिल के उपर आ गयी और उसका लंड अपनी चूत में डाल लिया. रमेश मेरे पिछे आ गया और उसने अपना लंड मेरी गांद में डाल दिया. उसके बाद वो दोनो मुझे चोदने लगे. राज उषा को चोदने लगा. उषा भी खूब मज़े ले ले कर चुदवा रही थी. मुझे भी खूब मज़ा आ रहा था. बहुत दीनो के बाद मुझे बहुत अच्छे लंड से एक साथ चुदवाने का मौका मिला था. मैने ज़ोर ज़ोर से सिसकारियाँ भरते हुए उन दोनो के जोश को बढ़ा रही थी. वो दोनो भी बहुत ताकतवर थे और बहुत ही ज़ोर ज़ोर के धक्के लगा रहे थे. 

उधर निशा पूरी मस्ती के साथ कमाल, केशरी से चुदवा चुकी थी. अब उसे शिव चोद रहा था. उसे चुदवाते हुए लगभग 1 घंटे हो चुके थे. वो अब तक केयी बार झाड़ भी चुकी थी. अनिल और रमेश भी मुझे लगभग 30 मिनट तक चोद चुके थे. उन दोनो के हट जाने के बाद क्‍मल और केशरी मुझे चोदने लगे. वो दोनो मेरी चूत और गांद की बुरी तरह से धुनाई कर रहे थे. मैं भी एक दम मस्ती के साथ चुदवा रही थी. उषा ने सभी को मना कर रखा था कि किसी के लंड से जूस नहीं निकलना चाहिए. वो सभी जब झड़ने वाले होते तो हट जाते थे. जब थोड़ी देर में उनका जोश कुच्छ ठंढा पड़ जाता तो वो फिर से शुरू हो जाते थे. वो सभी बारी बारी से हम तीनो की चुदाई कर रहे थे. 

3 घंटे तक हम सब की चुदाई चलती रही. उषा ने उन सब से कहा, अब तुम सब रुक जाओ. वो सब हमारी चूत से अपना लंड बाहर निकाल कर खड़े हो गये तो उषा ने कहा, अनिल, अब तुम्हें मेरी गांद मारनी है. अनिल बोला, मेडम, आप ने आज तक कभी गांद नहीं मरवाई है. वो बोली, तो क्या हुआ. आज मेरे साथ मेरी सहेलियाँ भी हैं इस लिए आज मैं गांद भी मर्वाउन्गि. तुम मेरी गांद मारना शुरू कर दो. मुझ पर ज़रा सा भी रहम मत करना और पूरा का पूरा लंड मेरी गांद में घुसेड कर ही दम लेना. वो बोला, ठीक है मेडम. 

उसके बाद उषा ने रमेश से कहा, रमेश, तुम निशा की गांद मारो और अपना पूरा लंड उसकी गांद में ही घुसा कर ही रुकना. नहीं तो समझ लो कि मैं तुम्हारे साथ क्या सलूक करूँगी. वो बोला, मेडम, मैं कोई ग़लती नहीं करूँगा. निशा बोली, तू मुझे क्यों मारने पर तुली हुई है. उषा बोली, मैने इसी लिए 6 आदमियों को बुलाया था. अब तू रमेश का लंड अपनी गांद के अंदर लेगी और मिनी राज से गांद मरवाएगी. उसके बाद हम सब को 2-2 आदमी एक साथ चोदेन्गे. 

अनिल ने उषा की गांद में अपना लंड घुसाना शुरू कर दिया. उषा बहुत ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रही थी. रमेश भी अपने लंड का सूपड़ा निशा की गांद के छेद पर रख चुका था. निशा ने उषा से कहा, खुद तो दर्द के मारे मरी जा रही है और मुझे भी फसा दिया. तभी रमेश का बहुत ही ज़ोर का धक्का लगा. निशा ज़ोर ज़ोर से चीखने लगी. मैं खड़ी हो कर तमाशा देख रही थी. अनिल और रमेश पूरे ताक़त के साथ ज़ोर ज़ोर के धक्के लगा रहे थे. सारा रूम चीखों से गूँज रहा था. तभी राज ने मुझसे कहा, मेडम मैं भी शुरू कर दूं. मैने कहा, मैं तो आदि हूँ. ज़रा इन दोनो की गांद में पूरा लंड तो घुस जाने दो उसके बाद तुम मेरी गांद मारना. 

5 मिनट में ही उषा और निशा की गांद में उन दोनो का पूरा का पूरा लंड समा चुका था. वो दोनो अब उनकी गांद मार रहे थे. मैने राज से कहा, चलो अब तुम भी शुरू हो जाओ. राज ने मेरी गांद मारनी शुरू कर दी. उषा और निशा अभी भी बहुत ज़ोर ज़ोर से चीख रही थी. राज बहुत ही ज़ोर ज़ोर के धक्के लगाता हुआ मेरी गांद मार रहा था. मुझे खूब मज़ा आ रहा था. 10 मिनट के बाद उषा और निशा शांत हो गयी. अब उन दोनो की गांद में अनिल और रमेश का लंड सटा सॅट अंदर बाहर होने लगा था. उन दोनो ने 10 मिनट तक और गांद मरवाई. उसके बाद उषा बोली, अनिल और रमेश अब तुम दोनो रुक जाओ. उन दोनो ने अपना लंड उनकी गांद से बाहर निकाला और हट गये. 

उषा बोली, रमेश तुम लेट जाओ. मैं तुम्हारे उपर आ कर तुम्हारा लंड अपनी चूत में डाल लेती हूँ और कमाल पिछे से मेरी गांद मारेगा. उसके बाद उषा ने अनिल से कहा, तुम भी लेट जाओ. निशा तुम्हारे उपर आ कर तुम्हारा लंड अपनी चूत में डाल लेगी और केशरी उसके पिछे आ कर उसकी गांद मारेगा. उसके बाद उषा ने शिव से कहा, मिनी राज का लंड अपनी चूत में डाल लेगी और तुम पिछे से उसकी गांद मारना. इस बार तुम सब हमारी चूत और गांद को अपने लंड के जूस से भर देना. वो सब बोले, ठीक है मेडम. 

उषा ने जैसा कहा था ठीक उसी तरह से हम सब की चुदाई शुरू हो गयी. लगभग 1 घंटे तक हमारी खूब जम कर चुदाई हुई. निशा ने पूरी मस्ती के साथ 2-2 लंड का एक साथ मज़ा लिया. उषा ने भी पहली बार गांद मरवाने का पूरा मज़ा उठाया. उषा ने निशा से पुचछा, क्यों बेबी, मज़ा आया. निशा मुस्कुराते हुए बोली, कसम से बहुत मज़ा आया. मैं ज़्यादा लंबे और मोटे लंड से बहुत डरती थी लेकिन आज मेरा सारा डर ख़तम हो गया. आ तो मैं हेमशा केवल खूब लंबे और मोटे लंड से ही चुदवाउन्गि. तुम इन सभी से कह दो की बिना रुके ही खूब जम कर मेरी चुदाई करें और मेरी चूत और गांद को अपने लंड के जूस से एक दम भर दें. उषा बोली, ऐसा ही होगा, रानी जी. उषा ने उन सब से कहा, तुमने सुना कि ये क्या कह रही है. अब तुम सब शुरू हो जाओ और मेरी सहेली को एक दम मस्त कर दो. ये जब तक मना ना करे तुम सब इसे खूब जम कर चोदना. 
उन सभी ने सुबह होने तक निशा को तरह तरह के स्टाइल में खूब जम कर चोदा और उसकी गांद मारी. सुबह को निशा ने उन सभी को खुद ही मना कर दिया. वो एक दम मस्त हो चुकी थी और थक कर चूर भी. उसके बाद उषा ने उन सब से कहा, तुम सब 1-2 घंटे आराम कर लो. उसके बाद मिनी को भी इसी तरह से चोदना. मैने उषा से कहा, क्या तू ऐसे ही रहेगी. उषा बोली, मेरा क्या, मैं तो हमेशा ही चुदवाती रहती हूँ. तुम दोनो मेरी सहेली हो और मेहमान भी. पहले तुम दोनो का अच्छि तरह से स्वागत होना चाहिए. 

उन सब ने 2 घंटे तक आराम किया और फिर उसके बाद वो सब मुझ पर टूट पड़े. उन्होने 5 घंटे तक लगातार खूब जम कर मेरी चुदाई की और मेरी गांद भी मारी. मैं भी निशा की तरह से एक दम मस्त हो गयी. मुझे बहुत दिनो के बाद चुदाई का मज़ा मिला और वो भी जी भर के. 

दोपहर के 3 बजे वो सब जाने लगे तो उषा ने अनिल, रमेश और राज से कहा, तुम तीनो रात के 8 बजे आ जाना. उसके बाद वो सब चले गये. निशा ने उषा से कहा, अब जब मुझे चुदाई का असली मज़ा मिल गया है तो तूने आज केवल तीन को ही क्यों बुलाया है. उषा बोली, मेरी रानी, देखती जाओ. उषा ने अपने दलाल को फोन किया और उस से कहा कि रात के 8 बजे 6 आदमियों को और भेज देना लेकिन एक बात का ध्यान रखना की उन सभी का लंड 11" से कम नहीं होना चाहिए और साथ में खूब मोटा भी होना चाहिए. दलाल ने कहा की भेज दूँगा. 

रात के 8 बजे सूमो से 9 लोग आ गये. उन सभी का लंड एक से बढ़ कर एक था. उसमें से एक का नाम जयंत था. उसका लंड देखते ही निशा बहुत खुश हो गयी. उषा ने निशा से पूछा, क्या बात है, तू जयंत को देख कर बहुत खुश हो रही है. निशा बोली, मुझे इसका लंड बहुत ही शानदार लग रहा है. मैने तो आज सबसे पहले इसी से चुदवाउगी. उषा ने कहा, तू तो ज़्यादा लंबे और मोटे लंड से बहुत डरती थी. आज तुझे क्या हो गया. निशा बोली, तूने खूब लंबे और मोटे लंड से मेरी चुदाई करा कर मेरी चूत और गांद में आग लगा दी है. अब तो मुझे इस आग को बुझाना ही है. उषा बोली, शाबाश बेबी, आख़िर तू जान ही गयी कि असली मज़ा क्या होता है. 

जयंत का लंड लगभग 12" लंबा था और उन सभी के लंड से बहुत मोटा भी. जयंत ने निशा की चुदाई शुरू कर दी निशा ज़ोर ज़ोर से चीखने लगी. लेकिन आज वो ज़्यादा नहीं चीखी और थोड़ी ही देर में शांत हो गयी. उसे जयंत से चुदवाने में खूब मज़ा आया. जयंत से चुदवाने में मैं भी बहुत चीखी और चिल्लाई लेकिन बाद में मुझे भी खूब मज़ा आया. उषा का भी वही हाल हुआ. वो भी बहुत चीखी और चिल्लाई लेकिन बाद में उसे भी खूब मज़ा आया. सुबह तक उन सभी ने हमारी खूब जम कर चुदाई की और गांद भी मारी. हम सब पूरी तरह से मस्त हो चुके थे. उसके बाद वो सब चले गये. 

मैं निशा के साथ उषा के पास 10 दीनो तक रही. हम सब ने खूब जम कर चुदाई का मज़ा लिया. एक दिन तो उषा ने एक साथ 15 आदमियों को बुला लिया था. उन सभी ने तो हमारा चोद चोद कर बुरा हाल कर दिया. वो सभी रात के 8 बजे आए थे उन्होने दूसरे दिन दोपहर तक हमारी खूब जम कर चुदाई की और गांद भी मारी. उन सभी ने उस दिन हम तीनो को चोद चोद कर और हमारी गांद मार मार कर ऐसा बुरा हाल कर दिया था कि उनके जाने के बाद हम तीनो शाम तक बिस्तेर पर से उठने के काबिल ही नहीं रह गये थे. मेरी चूत और गांद का मूह पहले से भी ज़्यादा चौड़ा हो चुका था. निशा का तो पूच्छो मत, उसकी चूत और गांद भी एक चौड़े साइज़ की हो चुकी थी. उसे ही सबसे ज़्यादा मज़ा आया. उसके बाद मैं निशा के साथ वापस चली आई. वापस आते समय उषा ने कहा, जब कभी भी इच्छा हो आ जाना. मैने कहा, मैं ज़रूर आउन्गि. निशा बोली, क्या तू मुझे अपने साथ नहीं ले आएगी. मैने निशा से मज़ाक किया, तुझे तो ज़्यादा लंबा और मोटा लंड पसंद ही नहीं है. फिर तू आकर क्या करेगी. निशा ने मेरे गाल काट लिए और बोली, मेरी चूत और गांद में तो अभी भी आग लगी हुई है. मैने कहा, चल मैं तेरे लिए फाइयर बिग्रेड बुला दूँगी. मेरी बात सुनकर वो ज़ोर ज़ोर से हस्ने लगी. 
तो दोस्तो कैसी लगी ये मेरी दूसरी बकवास कहानी आपका दोस्त राज शर्मा 
समाप्त
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:20 PM,
#42
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
एक चूतिया कहानी पार्ट--1

-------------------- 

शादी के बाद सुषमा अपने ससुराल आई. उसके ससुराल मे उसकी 45 साल की सास 50 साल का ससुर रहते थे. उसका पति दब्बु किस्म का आदमी था उम्र उसकी 22 साल थी और कद काठी से ठीक ठाक थी मगर लोग उसके पति को मीठा कह के पुकारते थे जबकि उसका नाम सुरेश था. उसकी एक ही ननद थी जो शादी कर के ससुराल चली गयी थी. गाओं मे सुषमा का छ्होटा सा घर था और ज़मीन नहीं थी. उसके सास ससुर गाओं के ज़मींदार के खेत पेर काम करते थे जबकि उसका पति एक दूधवाले की गायों की देख रेख करता था. 

शुरू शुरू में वो घर के सारे काम करती और घर के पिछवारे बँधी अपनी तीन गायों की देखभाल करती और उनका दूध निकालती.. घरवाले तड़के घर से निकलते थे जो शाम को ही लौटते थे. एक दिन सुषमा ने सोचा कि वो अपने पति सुरेश को दोपहर में खाना दे आए. खाना बाँधकर वो निकली तो पता चला कि सुरेश गायों को चराने के लिए गाओं से बाहर गया है. वो भी पूछते पूछते उसी दिशा मे चल पड़ी. कोई दो कोस चलने के बाद उसे गाएँ दिखाई दी और एक झाड़ी के पास सुरेश के चप्पल और धोती दिखाई दी उसने झड़ी के पीछे देखा तो दंग रह गयी. उसे समझ मे नही आया ये क्या हो रहा है. सुरेश नंगा था और घोड़ी बना हुआ था एक 17-18 साल का लरका घुटनो के बल बैठ कर उसकी गांद मार रहा था. सुरेश की आवाज़ उसको साफ सुनाई दे रही थी,' चोद मुझे ज़ोर से चोद राजा, फाड़ दे मेरी गांद तेरे मूसल जैसे लंड से..' और वो ऊहह आ करता जा रहा था. सुनीता ने देखा कि वो लरका कुत्ते की तरह उसके पति की गांद मार रहा था उसका मोटा काला लंड बार बार उसके पति की गंद से बाहर आ कर अंदर जा रहा था. उसने देखा कि नीचे सुरेश की छ्होटी सी लुल्ली लटक रही थी जिसके पीछे चिपके हुए मूँगफली जैसे छ्होटे आँड थे. जबकि उसके पति को चोद रहे उस लरके के अंडकोष किसी सांड के जैसे भारी भरकम थे. सुषमा के मूह से चीख निकल पड़ी और उसको सुनते ही दोनो मूड गये लरके ने अपना लंड सुरेश की गांद से बाहर निकाला और सुरेश ने अपने हाथो से अपने गुप्तँग को ढक लिया,' क्या कर रहे थे आप ये?” सुषमा ने पूछा. “ कुछ नही रानी ये यासीन है मेरा दोस्त,' घबराया हुआ सुरेश बोला. उधर सुषमा की नज़र उस लरके के चिकने लंड से हट ही नही रही थी और ये देख कर उस लरके को लगा कि मौका अछा है और उसने तुरंत आगे बढ़ कर सुषमा को दबोच लिया.. सुषमा कुछ समझती उस से पहले तो उसने उसको मसलना शुरू कर दिया और उसके होठ खुद के होंठो मे दबा लिए. एक झटके मे उस लरके ने सुषमा की सारी उप्पेर कर दी चड्डी तो वो पहनती नही थी और उसकी चूत मे उंगली करने लगा. सुषमा के होश उड़ गये. उसे समझ मे नही आ रहा था ये क्या हो रहा है. 

सुषमा उस लरके से छुड़ाने की कोशिश कर रही थी तब तक सुरेश ने अपने कपड़े वापस पहन लिए थे और उसके सामने वो झुक कर उस लरके का लंड चूस रहा था. एक झटके मे उस लरके ने सुषमा को नीचे मिट्टी पर गिरा दिया उसकी सारी उप्पेर की और अपने लंड को उसकी चूत के मूह पर अड़ा दिया. सुषमा की बालो वाली चूत के मूह पर उसका मोटा काला कटा हुआ लंड दस्तक दे रहा था और सुरेश उसे पकड़ कर उसकी बीवी की चूत मे घुसा रहा था. घबराई हुई सुषमा एक झटके मे उस लरके की गिरफ़्त से छूटी और भाग छूटी. सरपट दौरती हुई पाँच मिनिट मे हफ्ती हुई घर पहुच गयी. सुषमा इतनी परेशान थी कि उसे कुछ समझ मे नही आया ये क्या हुआ. रात के आठ बजे तक उसका पति लौट कर घर नही आया. सुषमा से रहा नहीं गया उसने घबराते हुए सास को चुपचाप सारी बात बताई,' बेटा एक दिन तो तुझे ये सब पता चलना ही था,' सुषमा की सास रुक्मणी बोली. रुक्मणी ने कहा कि चिंता की बात नही सुरेश घर आ जाएगा. रुक्मणी सुषमा को छत पर ले गयी और बोली बेटा अब मे तुझे सारी कहानी बता देती हू. 


रुक्मणी ने सुषमा को बताया की सुरेश उसके ससुर से पैदा नही हुआ बल्कि ज़मींदार के भाई का बच्चा है,' शादी के बाद में ज़मींदार के घर का काम करने जाती तो उसकी पत्नी मुझे रोज़ अपने कमरे मे बुला कर अपनी चूत चटवाती और उसमे केला कद्दू वगेरह डलवाती. बाद मे ज़मींदार के छ्होटे भाई की पत्नी रानी भी मुझसे ये सब करवाने लगी. ज़मींदार के छ्होटे भाई विकलांग थे और वीलचेर पर बैठे रहते थे. मुझे बाद मे उन लोगो ने छ्होटे मलिक की ज़िम्मेदारी दे दी मे उनको नहलाती उनकी कपड़े बदलती और उनका पाखाना मूत वगेरह सॉफ करती ग़रीबी में और कोई चारा भी नहीं था'. रकमणी कहने लगी कि छ्होटे मालिक धीरे धीरे उसके बूब्स दबाने लगते और उसको किस करते,' उनका शरीर कमर से उप्पेर स्वस्थ था और वो मुझे बिस्तर के कोने पर लिटा कर मेरी चूत चाट कर मुझे मज़ा देते,' सास कहने लगी. रुक्मणी ने सुषमा को बताया कि धीरे धीरे छ्होटे मालिक को नहलाता समय वो उनके सुस्त और नरम लंड कि भी मालिश करती,' एक बार एक वैध्य उनके लिए एक दवाई लाया और मुझे कहा गया कि मैं उसको छ्होटे मालिक के लंड पर दिन में तीन बार लगाउ,' रुक्मणी बोली. “ एक दिन में मालिश कर रही थी कि छ्होटे मलिक के निर्जीव लंड मे हल्का सा तनाव आया और वो उसकसे ज़ोर ज़ोर से उसको हिलाने का कहने लगे. मैने उसको हिलाया तो दो चार बूंदे निकली मगर उनको बड़ा मज़ा आया. धीरे धीरे छ्होटे मालिक के लंड मे तनाव आने लगा और मे उनकी मूठ मारती रही. एक दिन उन्होने मुझे नीचे लिटा कर उप्पेर चढ़ कर लंड को अंदर डालने की कोशिश की मगर पूरी ताक़त नही होने से वो डाल नहीं पाए. उनको बहुत गुस्सा आया उन्होने अपनी पत्नी और तेरे ससुर को बुलाया साथ ही उनका भयंकर कुत्ता भी मँगवाया,' रुक्मणी बोली. सुषमा अवाक से सब सुन रही थी उसकी सास ने बताया कि उसके बाद सुषमा के ससुर यानी लल्लू लालजी रुक्मणी की चूत चाट कर गीली करते और छ्होटे मालिक की पत्नी छ्होटे मालिक का लंड चूस चूस कर बड़ा करती फिर लल्लू लाल रुक्मणी की टाँगे चौड़ी करता और छ्होटी मालकिन अपने पति का लंड पकड़ कर अंदर डालती,' ऐसे वो मुझे रोज़ चोद्ते रहे और बाद में तो अपने कुत्ते से मेरी चूत चत्वाते थे,' रुक्मणी बोली. छोटे मालिक ने सख़्त हिदायत दे रखी थी कि जब तक मुझे गर्भ नहीं ठहर जाए तब तक मेरा पति मुझे नहीं चोदेगा. कोई तीन महीने की इस चुदाई के बाद मुझे बच्चा ठहर गया तब कहीं जाकर छ्होटे मालिक खुश हुए बदले मे उन्होने मेरे पति यानी तेरे ससुर को छ्होटी मालकिन को चोदने की इजाज़त दी लेकिन मेरा बच्चा गिर ना जाए इसलिए वो मुझे छ्छू भी नहीं सकते थे,' रुक्मणी ने बताया. 

सुषमा साँस रोके ये सब सुन रही थी,' इसका मतलब हमारे पति सुरेश ससुरजी के वीर्य से नहीं पैदा हुए?' उसने पूछा.' नहीं बेटी सुरेश तो छ्होटे मिल्क की ही औलाद है ,' रुकमनि ने बताया. रुक्मणी आगे का हाल बताने लगी,' रात होते ही कमरे में मे तेरे ससुर छ्होटे मालिक छ्होटी मालकिन और उनका कुत्ता कमरे में आ जाते फिर सबसे पहले छ्होटी मालकिन उस कुत्ते का लंड चाट कर खड़ा करती फिर वो छ्होटे मालिक पर चढ़ कर उनको चोद्ता जब उसकी गाँठ छ्होटे मालिक की गंद मे फस जाती तब वो तेरे ससुर से कहते को वो छ्होटी मालकिन को चोदे,' रुक्मणी बोली. “ कभी कभी वो तेरे ससुर से भी अपनी गंद मरवाते उस से पहले छ्होटी मालकिन तेल लगा कर उनकी गंद के छेद को चिकना कर देती,' रुक्मणी बोली. “ तेरे ससुर जैसा लंड गाओं में शायद ही किसी का होगा बहू, पूरा 9 इंच का मोटा और काला और एक बार किसी पर चढ़ जाएँ तो उसको आधे घंटे चोदे बिना नीचे नहीं उतरते और उनके आँड तो सांड से कम नहीं एक बार वीर्य किसी चूत में डाल दे तो गर्भ तो ठहरा हुआ समझो बेटी,' ये सुन कर सुषमा की आँखों मे चमक आ गयी. रुक्मणी कहने लगी कि लल्लू लाल की चुदाई से छ्होटी मालकिन को भी गर्भ ठहर गया और उनका बच्चा जो अब 18 साल का है इसका नाम राहुल है असल में तुम्हारे ससुर का बेटा है. 


रुक्मणी बताने लगी कि बड़े मालिक यानी ज़मींदार गांद मरवाने के शौकीन थे और सुरेश के पिता उनकी गांद मारा करते थे बदले में वो भी उनको अपनी पत्नी को चुड़वाते थे,' मालकिन को एक लरका और एक लर्की हुए वो दोनो भी तुम्हारे ससुर के वीर्य से ही पैदा हुए बेटी,' रुक्मणी बताने लगी. “लेकिन सुरेश का लंड इतना छ्होटा कैसे मा?” सुषमा ने पुचछा,' बेटी इसकी बड़ी दुखद कहानी है एक दिन जब सुरेश 6 साल का था तो छ्होटी मालकिन नहाने के बहाने उसके छ्होटे लंड से खेलने लगी और छ्होटे मालिक ने देख लिया वो गुस्से में आग बाबूला हो गये और कपड़े धोने की सोटी लाकर सुरेश के छोटे से लंड पर ज़ोर से मारी और वो बेहोश हो गया सुरेश बच तो गया मगर डॉक्टर ने कह दिया अब वो कभी बाप नही बन पाएगा उसके आँड का कच्मर बन गया था,' रुक्मणी बोली. सुषमा रोने लगी बोली,' मा मेरा जीवन नरक क्यू बनाया मेरी शादी नपुंसक से क्यू की?' रुक्मणी ने उसे गले लगाया और बोली चिंता मत कर बेटी में हू ना तेरे ससुर मुझे बच्चा नहीं दे पाए तो क्या अपनी बहू को तो दे सकेंगे एक साथ वो बाप भी बनेंगे और दादा भी और घर की बात घर में रह जाएगी. सुषमा को कुछ समझ नही आया वो बोली ऐसा कैसे हो सकता है मा?' चिंता मत कर बेटी में हू ना और सुरेश की चिंता मत कर वो इस काम में सहयोग करेगा?” सुषमा चौंकी,' सहयोग वो कैसे मा?” उसने पूछा. “ अब तुझसे क्या छुपाना बेटा सुरेश गांद मरवाने का इतना आदि हो गया है कि उसने तुम्हारे ससुर का लंड भी नहीं छ्चोड़ा एक बार लिए बगैर रात में सोता तक नहीं वो,' रुक्मणी बोली.' क्या मा सच में?' उसने पूछा.' हां बेटा मेरे सामने ही तो होता है हर रोज़,' रुक्मणी बोली. सुरेश मेरी चूत भी चाट लेता है कई बार तुम्हारे ससुर का लंड चूस कर मेरे लिए कड़क करता है फिर मेरी चूत में भी डालता है और जब तुम्हारे ससुर मुझे चोद्ते है तो उनकी गांद और आंड चाट ता है फिर उनके झड़ने के बाद मा की चूत का सारा वीर्य चाट कर सॉफ कर देता है. सुषमा को अब कुछ कुछ समझ आने लगा था. “ आज रात तू नहा धो कर तय्यार रहना तेरी सुहाग रात मैं आज तेरे ससुर के साथ,' रुक्मणी आख मार कर बोली. 

रात को खाना वाना खाने के बाद सुषमा ने नयी सारी पहनी पर्फ्यूम लगाया और तय्यार हो गयी. दस बजे उसकी सास उसके रूम में आई,' चल बेटी घबराना मत में तेरे पास हूँ,' ये कह कर वो उसे ले गयी. सुषमा अंदर गयी तो देखा कि उसके ससुर बिस्तेर पर नंगे लेटे हैं और सुरेश भी नंगा होकर उनकी तेल मालिश कर रहा है. उष्मा ने आँखे इधर फेर ली. रुक्मणी ने सुषमा को बिस्तर पर लिटाया और धीरे धीरे उसके सारे कपड़े उतार दिए और खुद भी नंगी हो गयी सुषमा आँखे मुन्दे लेटी रही. थोड़ी देर में उसने देखा कि सुरेश उसकी तेल मालिश कर रहा है और बाद मे उसकी चूत को चाटने लगा.' चूत एकदम गीली होने के बाद सुरेश ने उस पर खूब सारा तेल लगाया. सुषमा ने देखा की नीचे चटाई पर रुक्मणी ससुर का लंड चूस रही है और उस पर तेल लगा रही है. सुषमा की आँखे ससुर के हथियार को देख फटी रह गयी,' सास सच कह रही थी ये लंड नही हाथोरा है,'उसने सोचा. थोड़ी देर में रुक्मणी उसके पास आई और बोली बेटी तय्यार हो जा. लल्लू लाल भी बिस्तर पर आ गये और सुषमा के बड़े बड़े गोल स्तन सहलाने और दबाने लगे. उधर रुक्मणी ने सुषमा की टाँगे चौड़ी कर दी और सुरेश उसकी चूत में पूरी जीभ डाल कर उसको कुत्तो की तरह चाट रहा था. 

सुषमा आँखे बंद कर लेटी हुई थी तभी उसको लगा उसके ससुर उसके उप्पेर आ गये हैं. उसके होठ ससुर के होंठो से मिले वो उसको पागलो की तरह चूमने लगे और अपने मज़बूत हाथो से सुषमा के बड़े बड़े स्तन दबाने और मसल्ने लगे सुषमा के स्तन पहली बार कोई मर्द इस तरह दबा रहा था. उसकी चूत धीरे धीरे एकदम गीली हो चुकी थी. ससुर को शायद इस बात का एहसास था उन्होने अपने मोटे लंड को सुषमा की चूत के मूह पर रखा और उस दिन की तरह सुरेश उसको पकड़ कर उसकी चूत मे घुसाने लगा.' सुषमा की चूत के दरवाज़े पर जैसे ही लल्लू लाल का मोटा तगड़ा लंड पहुचा उसको दर्द महसूस हुआ मगर उसकी सास उसकी दोनो टाँगे पकड़े हुए थी और दर्द से बचना नामुमकिन था. उधर तेल की वजह से लल्लू का लंड भीतेर सरकने लगा और सुषमा के होठ भिचने लगे,' बेटा चिंता मत करो सहयोग करो एक दो बार का ही दर्द है फिर मज़ा आएगा,' ससुरजी बोले. रुकमनि ने थोड़ी टाँगे और चौड़ी कर दी और ससुरजी से बोली आप तो एक झटके में पूरा लंड पेल दो फिर कुछ नही होगा मगर ससुरजी धीरे धीरे लंड सरकाते रहे सुषमा की चूत दर्द से फट रही थी टाँगे दुखने लगी थी. मगर लल्लू लाल अनारी नही थे चूमते रहे और धीरे धीरे लंड सरकाते रहे सुषमा चिल्लाति रही,' ससुरजी रहम कीजिए फिर कर लीजिएगा मेरी चूत फट जाएगी,' वो चिल्लाते चिल्लाते बोली. मगर लल्लू लाल कहा रुकने वाले थे 5 मिनिट बाद उन्होने अपने पूरा चिकना लंड बहू की चूत में पेल ही दिया अब सिर्फ़ आँड बाहर रह गये. जैसे ही सुषमा का दर्द थोडा कम हुआ और वो नॉर्मल हुई उन्होने लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया,' लल्लू लाल बहू की चूत के खून से रंगा लंड अंदर बाहर करते रहे सुषमा की चीखे सुनाई देती रहीं,' बेटा तू बापू की गांद चाट में आँड चाटती हू नही तो ये बहू को चोद चोद कर मार डालेंगे,' रुक्मणी बोली. सुषमा ने देखा कि उसका पति उसके ससुर की गांद चाट रहा था और सास ससुर के मोटे काले अंडकोष चाट रही थी. लल्लू लालजी उत्तेजना के शिखर पर थे,' बहू भर दू तुम्हारी कुँवारी चूत मेरे ताक़तवर वीर्य से?” उन्होने पूछा. सुषमा ने बोला ही था कि वो गर्र गर्र करते हुए झाड़ गये,' ओह ओह आपने तो कोई आधा कप पानी बहू की चूत में छोड़ दिया है बच्चा हो कर रहेगा,' रुक्मणी बोली. ससुरजी उप्पेर से हट कर बिस्तेर के कोने पर बैठ गये और सुषमा को सहलाने लगे. उधर सुरेश नीचे जाकर रुक्मणी की चूत चाट रहा था,' चाट मेरे लाल चाट मेरे बेटे तेरी जीभ तो लंड से भी ज़्यादा मज़ा देती है.' रुक्मणी बोल रही थी. उधर लल्लू लालजी भी नीचे पहुच गये उन्होने और सुरेश की गांद में तेल लगा कर उसको उंगली से चोदना शुरू कर दिया,' हा बापू फाडो मेरी गंद,' सुरेश गांद नचाते हुए बोल रहा था. ससुर ने सुषमा को नीचे खेंचा और उसका मूह अपने लंड से अड़ा दिया,' इसको चूस चूस कर बड़ा कर बहूरानी ताकि में तेरे पति की सेवा कर सकु,' उन्होने कहा. सुषमा ने उनके मोटे काले लंड को कस के पकड़ा और जीभ फेरने लगे धीरे धीरे लल्लू लालजी का सुपरा चीकू जितना बड़ा हो गया और लंड एकदम हाथोरे जैसा. ससुरजी ने बहू को धन्यवाद दिया और वापस से सुरेश की गंद पर अपने हथियार तान दिया. किसी मंजे हुए खिलाड़ी की तरह सुरेश ने गांद को अड्जस्ट किया और एक ही झटके में लल्लू लालजी का आधा लंड उसकी गांद में चला गया सुरेश ज़ोर से चीखा मर गया बापू,' अभी पूरा कहा मारा है अभी तो आधा ही मारा है,' लल्लू लालजी बोले और पूरा लंड पेल दिया. सुषमा सोचने लगी सुरेश की गांद क्या उतनी बड़ी है? उधर सुरेश अपनी मा की चूत चाट रहा था. रुक्मणी उछल रही थी,' बेटा में झड़ने वाली हू पूरी जीभ डाल दे तेरी मा के भोस्डे में,' वो बोली और दो मिनिट में हाफते हुए अपना पानी छ्चोड़ दिया. उधर लल्लू लालजी की रफ़्तार बढ़ गयी थी. 

रुक्मणी पीछे आ गयी,' मेरे बेटे की गांद फाड़ दोगे क्या अब रहम करो,' वो बोली और सुरेश के नीचे लेट गयी. सुषमा ने देखा कि रुक्मणी सुरेश की लुल्ली को चूस रही थी और अपने हाथो से ससुरजी के बड़े बड़े आंडो को मसल रही थी,' अब अपने बेटे की चूत अपने पानी से भर दो,' रुक्मणी बोली. ये सुनते ही लल्लू लालजी तेज़ हो गये और बोले,' हा जान ये ले तेरे बेटे की गांद में अपना पानी डालता हू,' कहकर वो झाड़ गये. सुषमा थक कर सो गयी.
क्रमशः.........................
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:20 PM,
#43
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
एक चूतिया कहानी पार्ट--2 

गतान्क से आगे................ 
सुषमा को पता चल गया था कि उसके ससुर उसकी सास को तो मा नही बना सके मगर ये कसर अब उसके साथ ज़रूर पूरी करेंगे. सुबह जब उसकी आँख खुली तो ससुर और पति दोनो काम पर जा चुके थे मगर सास नहीं गयी थी,' आज तेरी सेवा करूँगी बहू,' रुक्मणी बोली. खून से भरी चादर धूल गयी थी और रुक्मणी ने सुषमा से कहा कि नहाने से पहले वो उसकी तेल मालिश करेगी. रुक्मणी ने सुषमा के पूरे कपड़े खोल दिए थे और वो उसके पूरे बदन पर मालिश करने लगी. फिर उसने रेज़र लेकर सुषमा के झांट सॉफ किया और बोली,' बेटा यहा हमेशा सफाई रखनी चाहिए में तुम्हारे ससुर और सुरेश के झांट भी सॉफ करती हू हमेशा.' सफाई के बाद रुक्मणी ने तेल लेकर उसकी चूत पर लगाया और उंगली से सुषमा की चूत चोदने लगी,' बेटी इस से तेरा च्छेद बड़ा हो जाएगा ताकि आज रात तू आसानी से ससुर का लंड ले सकेगी,' वो बोली. उंगली की चुदाई में सुषमा को बहुत मज़ा आ रहा था और वो सास के साथ साथ अपनी गांद हिलाने लगी. कोई पाँच मिनिट बाद सास की तीन उंगलिया अंदर थी और सुषमा झाड़ गयी उसे पहली बार चरम सुख मिला था. सास उसको रात के लिए तय्यार कर रही थी. रात होते ही सुषमा वापस ससुर के कमरे में गयी ससुरजी वैसे ही नंगे लेटे हुए थे पास जाते ही उन्होने सुषमा को अपने पास खींच लिया और चूमने लगी. एक ही पल में उन्होने सुषमा को नंगा कर दिया और उसकी चूत चाटने लगे कोई पाँच मिनिट बाद सुषमा अपने ससुर की जीभ पर झाड़ गयी, उधर सुरेश अपने पिता का लंड कुत्तो की तरह चाट रहा था. सुषमा के झाड़ते ही लल्लू लालजी ने अपना लंड उसकी चूत से भिड़ाया और एक ही शॉट में भीतेर पेल दिया सुषमा चीखी मगर उसे आनंद भी आया. अब ससुरजी धीरे धीरे लंड अंडर बाहर करने लगे उसको अच्छा लग रहा था उसने अपने हाथो से ससुरजी की गंद कस कर पकड़ ली और उन्हे अपने उप्पेर दबाने लगी.' लल्लू लालजी ने धक्को की रफ़्तार बढ़ा दी और ज़ोर ज़ोर से सुषमा को चोदने लगे. उधर सुरेश अपने पिताजी के अमरूद समान आण्दियो को तेल लगा कर मसल रहा था और कह रहा था,' बापू इन आण्दियो का पूरा रस डाल दो इस रांड़ की चूत में ताकि इसको आपका बच्चा हो,' ‘ हा बेटा पूरा वीर्य खाली कर दूँगा,' लल्लू लालजी बोले. और एक चीख के साथ वो झाड़ गये सुषमा का भी पानी निकल गया. सुषमा को पहली बार चुदाई का मज़ा आया था. 

अगले दिन सुषमा ने देखा की उनकी एक गाय पागलों की तरह दौड़ रही थी. थोड़ी देर बाद उसने देखा कि लल्लू लालजी एक सांड लेकर आए हैं,' मा ये क्या है?” उसने रुक्मणी से पूछा. “ बेटा अब ये सांड तेरे ससुर हैं और ये गाय तू, सांड इसमे वीर्य छोड़ेगा तब इस गाय की चूत शांत होगी,' रुक्मणी बोली और सुषमा को बाड़े मे ले गयी. सुषमा ने देखा की सांड का ग़ज़ार जैसा लंड गाय की चूत में घुस गया और वो हुंकरते हुए उसको चोद रहा था. तभी रुक्मणी बोली देख इस सांड की आंड तेरेशसुर जैसे नहीं हैं क्या?' सुषमा शरमाते हुए बोली.' हा मा,' रुक्मणी सांड के नीचे पहुच गयी और सुषमा के हाथ मे उसका एक विशाल आँड पकड़ा कर दूसरा खुद मसल्ने लगी. एक मिनिट में सांड हुंकरते हुए गाय की चूत में झाड़ गया. 


सांड़ को लल्लू लालजी मालिक के पास छोड़ने चले गये. रुक्मणी बोली ,' बेटी हालाँकि तेरे ससुर का लंड शानदार है लेकिन तू मुझे कहेगी कि मैने तुझे जवान लंड का मज़ा नहीं दिया इसलिए आज एक जवान लंड के लिए तय्यार रहना,' वो आँख मारते हुए बोली. सुषमा कुछ समझती उस से पहले यासीन वाहा आ गया ये वही लरका था जिसको उसने अपने पति सुरेश की गंद मारते हुए देखा था. सुरेश उसको कमरे में लाया और अंडर से बंद कर दिया. सुरेश ने एक मिनिट में सुषमा के कपड़े उतार दिए यासीन को नंगा कर उसका लंड चूसने लगा. सुषमा ने देखा यासीन का लंड भी बहुत बड़ा था हालाँकि वो उसके ससुर के लंड से छोटा मगर मोटाई अच्छी थी और ससुर की तरह उसके लंड के आगे चमरी नहीं थी. यासीन तुरंत सुषमा के पास आया और उसके 38 इंच के बूब्स दबाने लगा, उधर सुरेश नीचे सुषमा की चूत और यासीन का लंड चाट रहा था. यासीन कामोत्तजना में पागल हो रहा था और उसने झटके से अपने लंड का गुलाबी सुपरा सुषमा की चूत में पेल दिया. सुषमा के मूह से हल्की सी चीख निकली चीख सुनते ही यासीन ने पूरा 7 इंच का लंड अंडर घुसा दिया सुषमा की साँस उप्पेर चढ़ गयी. सुरेश यासीन की गांद चाट रहा था और यासीन गालिया बोल रहा ,' भेन की लौदी आज तेरे हिजड़े पति के सामने तेरी चूत फाड़ दूँगा,' वो बोला. सुषमा को उसके मज़बूत झटको से आनंद आ रहा था. यासीन ज़्यादा देर तक चल नही पाया दो मिनिट में उसका फव्वारा सुषमा की चूत में छूट गया. मगर सुरेश कम नहीं था उसने यासीन का गीला लंड बाहर निकाला और उसको चाटने और चूसने लगा. दो मिनिट में यासीन फिर तय्यार था उसने सुषमा की गीली चूत में ही अपना लॉडा पेल दिया, चोदो मुझे ज़ोर से,' सुषमा बोली. इस बार कोई 5 मिनिट चोदने के बाद यासीन और सुषमा एक साथ झाड़ गये. यासीन के जाने के बाद रुक्मणी अंडर आई और बोली मैने ही इस लरके को सुरेश की गंद मारने की आदत डलवाई है.इसका चाचा और बाप दोनो मुझे चोद चुके है. रात को उन दोनो को बुलाउन्गि ये कह कर वो चली गयी. 

रात में सुषमा ने देखा कि दो बुड्ढे घर आए है दोनो साठ के आसपास होंगे. एक की दाढ़ी थी दूसरे के मुछ. उनकी उम्र देख कर लग नही रहा था उनका लंड काम भी करता होगा. एक तो हाथ में लाठी लिए हुआ था. कोई दस बजे रुक्मणी सुषमा को रूम में ले गयी,' बेटा ये युसुफ चाचा हैं और ये अकरम चाचा दोनो तेरे ससुर के दोस्त है,' वो बोली. दोनो आदमी एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे उधर रुक्मणी एकदम नंगी हो गयी और सुषमा को भी नंगा कर दिया. ये देख कर लल्लू लालजी भी नंगे हो गये. सुषमा ने देखा दोनो बूढो के औज़ार लटके हुए थे और आंड नीचे झूल रहे थे. दोनो बुड्ढे रुक्मणी के आगे खड़े हो गये और रुक्मणी उनके लंड कर के चूसने लगी, भाभी लंड चूसने में तुम्हारा मुक़ाबला नहीं बूढो को भी जवानी चढ़ जाए,' ये कह कर अकरम हसे. उधर लल्लू लालजी ने सुषमा के मूह मे अपना मोटा सुपरा थूस दिया. सुषमा मज़े से चूसने लगी. सुषमा ने देखा कि कोई 5 मिनिट की चुसाइ के बाद दोनो बूढो के लंड तन गये थे उसने देखा की एक बुड्ढे का लंड तो 6 इंच था मगर मोटाई उसकी कलाई जितनी थी दूसरे का पतला था मगर लंबाई पूरी नौ इंच थी,' अब देखो तुम्हारे लंड तैयार हैं मेरी बहू की चुदाई के लिए,' रुक्मणी बोली. सुषमा को लल्लू लालजी ने बिस्तेर पर लिटाया और उसके मूह मे अपना लंड डाल दिया उधर अकरम ने सुषमा की टाँगे चौड़ी की और अपना मोटा लंड भीतेर डाल कर सुषमा को चुदाई के मज़े देने लगा. सुषमा को मज़ा आ रहा था. ससुर उसके मूह की चुदाई कर रहे थे और अकरम चूत की. 


उधर सुषमा ने देखा कि युसुफ ने रुक्मणी को घोड़ी बनाया हुआ था. रुक्मणी जितनी बड़ी गांद सुषमा ने ज़िंदगी में नही देखी थी. ऐसा लगता था जैसे दो बड़े बड़े मटके हों. युसुफ रुक्मणी की गांद को उंगली से चोद रहा था साथ ही थूक भी लगा रहा था. सुषमा को अब समझ में आया कि उसकी सास पतले और लंबे लंड कहा लेती है,' भाभिजान आपकी गांद है या पहाड़,' युसुफ बोले और अपने लंड घुसाने लगे. रुक्मणी दर्द में चिल्ला रही थी,' चाचा मेरी मटकी आज फोड़ ही दो,' ये कह कर वो अपनी गंद हिलाने लगी. युसुफ धीरेधीरे रुक्मणी को चोदने लगे. उधर अकरम ने रफ़्तार बढ़ा दी थी,' चाचा इतना ज़ोर से नहीं,' सुषमा बोली. लल्लू लालजी ने अपना लंड सुषमा के मूह से निकाला और युसुफ के पीछे पहुँच गये. दो चम्मच तेल उन्होने युसुफ की गांद मे लगाया और एक ही झटके में अपने तगड़ा लंड युसुफ की गंद में पेल दिया. युसुफ दोनो तरफ से मज़े ले रहा था,' भाभी में झड़ने वाला हू,' कह कर उन्होने रुक्मणी की चूत अपने वीर्य से भर दी. उधर लल्लू लालजी ने भी ही स्पीड बढ़ा दी थी और उन्होने अपनी टंकी युसुफ की गंद मे खाली कर दी. इधर अकरम का पानी छूटने वाला था सुषमा को दो ऑर्गॅज़म हो चुके थे और अकरम का गरम फव्वारा उसके अंडर छ्छूट गया. चुदाई के बाद दोनो बुड्ढे बोले भाभी एक बार बहू को हमारे घर लाओ ताकि इनको पता चले हमारी औरतों को हमारे लंड क्यू नही अच्छे लगते हैं. 

अगले दिन रात को सुषमा और रुक्मणी युसुफ के घर गये. उनके चॉक में युसुफ, अकरम दोनो की बीवियाँ बैठी थी. सुषमा ने देखा कोने में एक गधा बँधा हुआ था. थोड़ी ही देर में वो चारो नंगे हो गये और रुक्मणी ने सुषमा को भी नंगा कर दिया. लल्लू लालजी ने भी सारे कपड़े उतार दिए थे. युसुफ की बीवी रुखसाना कोई 55 साल की थी. बूब्स कोई 42 इंच के थे और अभी भी सख़्त थे. चूत एकदम सॉफ थी और उसके होठ फूले हुए थे. अकरम की बीवी सलीमा 54 की थी रुखसाना गोरी थी तो वो काली. बूब्स छ्होटे ही थे कोई 32 के मगर गांद हाथी जैसी थी. काली मोटी गांद. सुषमा को समझ मे आ गया सलीमा की बड़ी गांद का राज़,' देख बेटा इसकी गांद मार मार कर हथिनी जैसी कर दी अकरम चाचा ने,' रुक्मणी सुषमा को दिखाते हुए बोली. तभी अंडर युसुफ का तेरह साल का पोता आया जिसका नाम था सलीम. “ आ गया मेरा चोदु बेटा,' कह कर रुखसाना ने उसको किस किया और धीरे धीरे उसके कपड़े उतार दिए. सुषमा ने देखा तो चकित रह गयी तेरह साल की उम्र में भी उसका लंड एकदम सीधा खड़ा था और मज़बूती में किसी मर्द से कम नही था,' आ रुक्मणी इस लंड से तेरी बहू को चुदवा ले फिर तू भी चुद लेना,' रुखसाना बोली. रुक्मणी ने आव देखा ना ताव बच्चे का लंड लेकर चूसने लगी और सुषमा को खाट पर लिटा दिया. एक ही मिनिट में सलीम सुषमा पर चढ़ गया और 180 की स्पीड से चोदने लगा, उसकी तेज़ चुदाई देख सब हँसने लगे,' बेटा इसको पाँच मिनिट बाद हटा देना ये छोटा है इसका वीर्य नही बनता,' रुखसाना बोली. कोई 3-4 मिनिट बाद सलीम सुषमा से हट कर रुक्मिणी पर चला गया और ससुरजी ने फिर से सुषमा की चूत में लंड पेल दिया. ये देख कर रुखसाना गधे को लाई और उसके दोनो पाव खाट के अगले सिरे पर बाँध दिए और उसके नीचे लेट गयी. उधर सलीमा पीछे से गधे के बड़े बड़े काले आँड मसल्ने लगी. गधे का लंड रुखसाना के हाथ और मूह से बढ़ कर कोई डेढ़ फुट हो गया था. रुखसाना ने गधे के लंड पर तेल लगाया और उसको अपनी चूत में सरका दिया बमुश्किल 8 इंच ही ले पाई उधर गधा अपनी गांद हिलाए जा रहा था और सलीमा उसकी गेंदे दबाए जा रही थी. 5 मिनिट बाद रुखसाना की जगह सलीमा नीचे चली गयी और रुखसाना गधे की आंड दबाने लगी. कोई दस मिनिट बाद गधे ने कोई आधी बाल्टी वीर्य उसकी चूत में छ्चोड़ दिया. उधर लल्लू लाल सुषमा की चूत में झाड़ गया. रात भर वाहा जम कर चुदाई चली. दो महीनो बाद सुषमा को उल्टिया आने लगी. गाओं भी खुश था लल्लू लालजी भी रुक्मणी भी सुरेश भी 
दोस्तो आपको कैसी लगी ये गंद फादू कोरी बकवास कहानी बताना मत भूलिएगा 
समाप्त
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:20 PM,
#44
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
शिकस्त--01





दोस्तों, राज शर्मा एक बार फिर हाज़िर है अपनी नई कहानी ले के. थोड़ी लंबी हो गयी है, पर इतमीनान से पूरी पढ़े. तब ही उसका सही स्वाद मिलेगा.

अनुपमा मेरे साथ पढ़ती थी. वो तब बहोट ही खूबसूरत हुआ करती थी. उसने कभी हिस्सा नही लिया, नही तो ब्यूटी क्वीन हो सकती थी. लेकिन उसकी पढ़ाई पूरी नही हो पाई थी. इस के लिए उसका साथ छूट गया था. कई साल बाद मुझे वो रास्ते मे मिल गई. पहले जैसा नूवर नही था. उसकी तबीयत ठीक नही लग रही थी. मैं उसे घर ले गया. वहाँ उसने मुझे जो कहानी बताई उसे मैं अनु की ज़ुबानी पेश कर रहा हू
मैं अनुपमा हू. अभी अभी 24 साल की हुई हू. दस साल पहले मेरी मया का देहांत हो गया. उसके डेढ़ साल बाद पिताजी ने दूसरी शादी कर ली. नई मया ने कुच्छ ही समय मे अपना रंग दिखाया और ढाई साल मे तो मुझे घर छ्चोड़'ने पर मजबूर कर दिया. उस वक्त मैं करीब 18 साल की थी. मुझे पढ़ाई भी छ्चोड़नी पड़ी. मैने वो शहर ही छ्चोड़ दिया.

मैं मुंबई आ गयी. नौकरी की तलाश शुरू की. जहाँ भी गयी, मुझे नौकरी तो टुरट ही ऑफर होती थी, लेकिन वो मेरी खूबसूरती का जादू था. कोई कोई तो पहले ही बेझिझक हो कर प्रपोज़ल रखता था, तो कोई इशारों मे समझाने की कोशिश करता था. लेकिन मतलब एक ही था, मुझे जॉब दे कर वो मेरे रूप को भोगना चाहते थे. ऐसी करीब बीस ऑफर मिले. मैने वो सारी ऑफर ठुकरा दी.

एक जगह जहाँ ऐसी बात नही हुई, तो मैने वो जॉब टुरट ले ली. लेकिन एक ही वीक मे वोही अनुभव हुआ. मैने वो भी छ्चोड़ दिया. एक और मिली तो वहाँ भी बीस दिन ठीक जाने के बाद वही बात हुई. मैने वो भी छ्चोड़ दिया, लेकिन अब मैं दर गयी थी. जान चुकी थी की मेरा ही रूप मेरा बैरी बन चुका है. लोगो पर से और ईश्वर पर से विश्वास उठता जेया रहा था. मान ही मान सोच'ने लगी की शायद यही इस दुनिया का दस्तूर हो. इसे स्वीकार कर'ने के ख़याल भी मान में आने लगे.

लेकिन तब मेरी किस्मत बदलने वाली थी. इत्तेफ़ाक़ से मैं एक ऑफीस मे जेया पहुँची. बड़ी साफ सुथरी ऑफीस थी. मेरा इंटरव्यू खुद बड़े सेठ ने लिया. राजन नाम था उनका. एकदम साफ इंटरव्यू रहा. मेरे रूप की और तो जैसे नज़र ही नही थी. मैं पास हो गयी और मुझे वो जॉब मिल गयी. सॅलरी भी मेरी ख्वाहिश से दुगनी थी. यहाँ कोई आल्टू फालतू बात नही होती थी. बस काम से काम रहता था. मैं राजन सिर की प.आ. थी.

वो करीब 45 की उमरा के थे. उनके तीन बेटे थे, मझला मेरी उमरा का था. सभी भाइयों मे 2 साल का अंतर था. वी पढ़ते थे लेकिन कभी कभी ऑफीस आ जया करते थे किसी काम से. मैं उन सब से परिचित हो गयी थी. राजन सिर की पत्नी पिच्छाले एक साल से बीमार रहा करती थी. उसे ले कर राजन सिर चिंतित भी रहते थे. कभी कभी मेरे पास भी वी अपनी चिंता व्यक्त करते थे. उनकी पत्नी के बच'ने के चान्स कम थे. मुझे राजन सिर से हमदर्दी होने लगी थी और शायद....... प्यार भी. कच्ची उमरा का पक्का प्यार....... आख़िर जीवन मे पहली बार कोई ऐसा आदमी मिला था जो संपूर्णा था, श्रीमंत था, स्वरूपवान था, शिक्षित था, अच्च्चे शरीर सौस्ठव का और बहुत ही अच्च्चे व्यव'हार वाला था. यूँ कह सकती हूँ, चुंबकिया व्यक्तित्वा था उनका. वक्त गुजरता जेया रहा था. यूँ ही चार महीने बीत गये. एक रोज़ शनिवार के दिन दोपहर को वो बोले,

"अनु चलो" ( अब वो मेरा पूरा नाम अनुपमा नही कहते थे, अनु से बुलाते थे). मैने पुचछा,

"कहाँ ?" वो कड़क टोने मे बोल उठे,

"चलो भी" और खुद चल दिए. मैं भी साथ हो गयी. नीचे आ कर वो अपनी नई होंडा क्र्व मे बैठे. मेरे लिए बाजुवाला दरवाज़ा खोल दिया. मैं भी बाजू मे बैठ गयी. पुचचाने की हिम्मत ही नही हुई कहाँ जेया रहे है. कार चल पड़ी और थोड़ी देर मे हम शहर से बाहर आ गये. वो गुमसूँ थे. मैं भी कुच्छ बोली नही. गाड़ी पहाड़ो मे होती हुई खंडाला जेया पहुँची और 'डूक्स' रिट्रीट मे एंट्री ली. बड़ी शानदार जगह थी. उन्हों ने एक सूट ऑफीस से फोन कर के बुक किया हुआ था. यहाँ उन्हे सब जानते थे. काउंटर पर रिसेप्षनिस्ट ने मुस्कराते हुए कहा,

"युवर सूट इस चिल्ड, सिर, आंड मिनी फ्रीज़ इस फुल वित स्टॉक". उसने रूम की की दे दी, राजन सिर ने कार की की वहाँ दे दी और हम अंदर चले गये. सूट आलीशान था और एकदम ठंडा भी. एर-कंडीशनर पहले से ही ओं था. रूम बॉय आ कर कार मे से राजन सिर की छ्होटी सी बाग ला कर रख गया और कार की चाबी छ्चोड़ गया. अंदर पहुँच के उन्होने कोट उतार फैंका और नेक्टिये ढीली करते हुए सोफे मे जेया गिरे, जुटे उतरे और पावं लंबा कर के सेंटर टिपोय पर रखते हुए बोले

" अनु, तुम सोच रही होगी , ये सब मैं क्या कर रहा हूँ, है ना ?" मैने मंडी हिलाई. उन्हों ने पास बैठने का इशारा किया. मैं बाजू मे जेया कर बैठी. उन्हों ने मुझे नज़दीक खींचते हुए कहा (मैं उनके इतने पास कभी नही बैठी थी पहले)

" अनु, आज डॉक्टर ने जवाब दे दिया. संगीता (उनकी पत्नी) अब 20-25 दिन की मेहमान है." गिड़गिड़ती आवाज़ मे आयेज कहा,

"हमारा 23 साल का साथ च्छुत जाएगा, मैं अकेला हो जौंगा". मैने सांत्वना दी,

" ये सब तो उपरवाले के हाथ मे है. लेकिन आप खुद को अकेला ना सम'झे. मैं जो साथ हूँ." वो आयेज झुके और मेरी आँखों मे झाँकते हुए कहा,

"सच ? क्या तुम वाकई मेरे साथ हो ?" मेरी आँखों मे झाँकति हुई उनकी आँखों मे कुच्छ अजीब से भाव मैने महसूस किए पर मैं समझ नही पाई और बोली,

"हन, सिर" उनका दूसरा प्रश्ना पिच्चे ही आया,

"संगीता की तरह ?" मैं चौंकी, पर बोल उठी,

"हन, सिर". वापस सोफे की बॅक का सहारा लेते हुए बोले,

"चलो अच्च्छा है..... ज़रा फ्रीज़ से विस्की और सोडा ला. और तुम भी सफ़र से ताकि होगी. जेया, नहा के फ्रेश हो जेया." मैने उनका पेग भरते हुए कहा,

"मैं तो कपड़ा भी नही लाई. नहा के क्या पहनूँगी ? मुझे नही नहाना." मुस्कराते हुए उन्हों ने अपनी बाग से कुर्ता और लूँगी निकल के फैंकते हुए कहा,

" ले, ये तुझ पर बहोट जाचेगा." मैं ने उसे उठाया और शरमाते हुए बोली,

"लेकिन आप की बाग मे ब्रा और पनटी थोड़ी होगी ?" विस्की की सीप लेते हुए वो बोल उठे,

" अब जेया भी, एक दिन ब्रा-पनटी नही पहनेगी तो नंगी नही दिखेगी" खिल खिल हंसते मैं कपड़े उठा के अंदर चली गयी. बातरूम बड़ा लग्षूरीयस था. पूरे कद का मिरर लगा हुआ था. मैने अपने कपड़े उतरे और अपने ही फिगर को आडमाइर करते हुए देख'टी रही. सोचा, वे सब लोग जो मुझे जॉब देते समय मेरे रूप के पागल होते थे....... आख़िर ग़लत तो नही थे !! मैं हूँ ही ऐसी.

फिर पानी भरे टब मे लेती और आज के बारे मे सोचने लगी. टुरट ख़याल आया, राजन सिर आज कुच्छ बदले बदले लग रहे है. वैसे भी औरत किसी भी मर्द की नियत को जल्दी ही समझ लेती है. मुझे भी वो पल याद आया, जब उन्हों ने मेरी आँखों मे अपनी आँखो से झाँकते हुए कहा था ;

"सच ? क्या तुम वाकई मेरे साथ हो ?" और दूसरा प्रश्ना था,

"संगीता की तरह ?" मुझे बात समझ मे आने लगी. भले ही इतने समय राजन सिर ने नेक व्यवहार किया हो, आज की बात कुच्छ और है. आज वो भी उसी लाइन पर है और मुझे भोगना चाहते है. लेकिन आश्चर्या !!!! पहले जहाँ मैं ऐसे हर मौके पर जॉब ठुकरा के भागी थी, इस बार मान मे कोई विरोध उठना तो दूर रहा, एक मीठी गुदगुदी सी हो रही थी. मैने टब मे अपने ही स्तन को सहलाते हुए अपने मान को टटोला. नतीजा सामने था. इन चार महीनो मे मैं मान ही मान उन्हे पसंद करने लगी थी. और संगीता की जान लेवा बीमारी की बात ने तो ये आशा भी जगाई थी की उसकी मृत्यु के बाद मैं म्र्स. राजन भी बन सकती हू.

ये ख़याल आते ही मान पुलकित हो उठा. फ्रेश हो के बाहर आई तो वो दूसरी ही अनु थी. मैं बाहर आई तो देखा की राजन सिर सोफे से बेड पर आ गये थे, कपड़े बदल के अब सिर्फ़ शॉर्ट्स मे थे. उपर का बदन खुला था, मैं उनके कसे हुए सिने को लोलूपता से देख रही थी. वो दो पेग पी चुके थे. उनकी नज़र मुझ पर पड़ी तो आँखे फाड़ कर देखते ही रह गये. कुर्ता लूँगी मे, बिना ब्रा-पनटी के, मैं बहोट ही सेक्सी लग रही थी. बालों से पानी तपाक रहा था, और मेरे स्तनों के उपर गिर के कुर्ते के उस भाग को गीला कर रहा था.

गीला कुर्ता मेरे स्तनों से चिपक कर , मुझे और सेक्सी लुक दे रहा था. मैं बेड पर उनके बाजू मे बाईं और जेया के लेती और एक गहरी साँस ले के मेरे स्तनों को उभरा. कुर्ते का उपरी बटन भी खुला छ्चोड़ रखा था मैने. मेरी आधी क्लीवेज सॉफ नज़र आ रही थी. उनके दिल मे हल्का सा तूफान तो उठा ही हुआ था. अब मेरी हरकत से उनके दिल मे खलभाली मची. उन्हों ने पेग साइड टेबल पर छ्चोड़ दिया और मेरी और मुड़े.
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:20 PM,
#45
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
एक ही झट'के मे उनका डायन पैर मेरी दोनो जाँघो पर आ गया, उनका डायन हाथ मेरे बाएँ मुममे पर आ गया, और उनके होत मेरे दाएँ कान के पास आ गये. वी बिना कुच्छ कहे, जैसे अपना अधिकार समझ कर, शुरू हो गये. मेरे कान की बूट्ती (र्लोबस) को अपने मूह मे ले कर छुआस'ने लगे, साथ ही जो हाथ मेरे मुममे पर था उस से उसे सहलाने लगे और जो पावं मेरी जाँघो पर आ चक्का था उसे उपर नीचे करने लगे.

उनके लिए यह सब नया नही था, सिर्फ़ पात्रा बदल गया था. पर मैं तो जीवन मे पहली बार किसी मर्द का अनुभव कर रही थी. बदन पर एक साथ तीन तीन जगह स्पर्श हो रहा था. कान, मुममे और जाँघ पर. मुममे और जाँघ पर तो कपड़े के उपर से हो रहा था, लेकिन कन-बूट्ती पर तो सीधा ही हो रहा था. एक झंझनाहट सी महसूस हो रही थी. यह कहानी आप याहू ग्रूप्स; देशिरोमंसे में पढ रहें हैं. मैं आँखे मूंद कर पड़ी रही. कान तो एकदम गरम हो रहा था. उतने मे उन्हों ने एक हल्की सी बीते ले ली, रलोब पर. मेरे मुँह से सिसकारी निकल गयी. दर्द हो रहा था... पर अच्च्छा भी लग रहा था.

जाँघो पर उनके वज़नदार पावं उपर नीचे हो रहे थे. उस वजन के नीचे सिल्की लूँगी का मुलायम स्पर्श मेरी लचीली जांघों को उत्तेजित कर रहा था. और साथ ही मेरा मुम्मा पहली बार किसी मर्द के हाथों दबाया जेया रहा था. (वैसे ये अनुभव पूरी तरह से नया नही था. हर लड़की यौवन प्रवेश पर अपने ही हाथों अपने स्तनों को दबा के ये अनुभव ले लेती है. मैने भी लिया था. पर मान'ना पड़ेगा... मर्द के हाथों स्तन दबाने पर जो अनुभव होता है, वो अपने हाथों चाहे कितना ही दबा लो, उस से अलग ही होता है). अब उनका मुँह मेरे कान छ्चोड़ कर गालों पर आ गया. उनकी साँसे मेरे गाल पर टकरा रही थी और उनके होत जो अब गीले हो चुके थे गाल पर किस कर रहे थे.

पूर गाल को चूमते हुए, वो थोड़े उपर उठे और मेरे रसीले होठों पर अपने गरम गीले होत रख दिए. वो पूरी तरह उपर नही उठे थे. सिर्फ़ सीना और मुँह उपर उठाया था. उपर उठ के आने की वजह से अब उनका खुल्ला सीना मेरे दाएँ मुममे को दबा रहा था. स्तनों पर मर्द का वजन कैसा रंगीन लगता है, ये तो लड़कियाँ ही जानती है. साथ ही बायन मुममे जो अब तक सहलाया जेया रहा था, अब मसाला जेया रहा था. जांघों पर पावं की मूव्मेंट भी थोड़ी तेज हो गयी. लूँगी सिल्की थी. इतनी लंबी और अब तो तेज मूव्मेंट से खुल गयी और नीचे की और उतार गयी. मैने आप'नी और से सह'योग देते हुए, अपने पावं चौड़े किए. अब पावं की मूव्मेंट के साथ उनका खुल्ला घुटना मेरी खुली छूट को टच करने लगा. उपर से नीचे तक सब जगह मज़ा आ रहा था....
मेरे कान छ्चोड़ कर गालों पर आ गया. उनकी साँसे मेरे गाल पर टकरा रही थी और उनके होठ जो अब गीले हो चुके थे गाल पर किस कर रहे थे.

पूर गाल को चूमते हुए, वो थोड़े उपर उठे और मेरे रसीले होठों पर अपने गरम गीले होत रख दिए. वो पूरी तरह उपर नही उठे थे. सिर्फ़ सीना और मुँह उपर उठाया था. उपर उठ के आने की वजह से अब उनका खुल्ला सीना मेरे दाएँ मुममे को दबा रहा था. स्तनों पर मर्द का वजन कैसा रंगीन लगता है, ये तो लड़कियाँ ही जानती है. साथ ही बायां मुममे जो अब तक सहलाया जा रहा था, अब मसाला जा रहा था. जांघों पर पावं की मूव्मेंट भी थोड़ी तेज हो गयी. लूँगी सिल्की थी. इतनी लंबी और अब तो तेज मूव्मेंट से खुल गयी और नीचे की और उतार गयी. मैने आप'नी और से सह'योग देते हुए, अपने पावं चौड़े किए. अब पावं की मूव्मेंट के साथ उनका खुल्ला घुटना मेरी खुली चूत को टच करने लगा. उपर से नीचे तक सब जगह मज़ा आ रहा था....

अचानक एक ख़याल मान मे उठा, `ये मैं क्या करने जा रही हू ? क्यों उन्हे रोकती नही हू? ऐसे तो मेरा यौवन भ्रष्टा हो जाएगा.' पर मन की कौन सुनता था ! अब तो दिल ही हावी था !! कहयाल जैसा उठा वैसा ही दफ़न हो गया. मैं वापस मज़ा लेने मे मगन हो गयी... अब उन्हों ने पूरा बदन उठाया और मेरे उपर आ गये. उनका पूरा बदन मेरे बदन पर ही था. मैं उनके भारी वजन के नीचे दबति जा रही थी. क्रश हो रही थी. और क्या मज़ा आ रहा था !! मैने अपने हाथ उनकी खुली पीठ पर फैलाए और पसारने लगी. कभी कभी नीचे शॉर्ट्स के उपर से हिप्स पर भी फिरा लेती थी. वो अब तेझी से मेरे पुर चह'रे पर किस किए जा रहे थे. मैं भी अब उन्हे किस मे साथ दिए जा रही थी. मैने उनके होठों पर मेरे होठ रख दिए और एक लंबी किस शुरू की. दोनो ने होठ थोड़े खोले और मैने अपनी जीभ उनके मुँह के अंदर डाल दी. अंदर चारो और फिरते हुए उनकी जीभ से जीभ टकराई. होठ से होठ तो मिल ही रहे थे.

उनका दायां हाथ जो अब तक मेरे बाएँ मुममे को मसले जा रहा था, तेज़ी से नीचे खिसका और कुर्ते के अंत तक पहुँच कर उस के नीचे घुसा और वापस उपर आ गया. आप को ये पढ़ने मे जितना वक्त लगा , उस से भी कम समय मे एक ही आक्षन मे ये सारा मूव्मेंट हो गया. अब उनका दायां हाथ कुर्ते के अंदर मेरे बाएँ स्तन पर सीधा स्पर्श कर रहा था. पहली बार मेरे मुममे को किसी मर्द ने च्छुआ था. वो तेज़ी से मसालने लगे उसे. अच्च्छा तो लग रहा था, पर कब से ये बायां मुममे ही मसला जा रहा था.... तो मेरे दाएँ मुममे मे भी एक कसक उठी, वो भी दबावाने के लिए बेताब हो उठा.

मैने शर्म छ्चोड़ कर उनका बायां हाथ थमा और उसे मेरे दाए मुममे पर ले गयी. वो समझे, और मुस्कराते हुए दोनो हाथ नीचे ले गये, और कुर्ता उपर की और उठाया. मैं भी सिर के बाल हल्की सी उपर हुई और उन्हों ने कुर्ता मेरे गले तक खिसका लिया. मैने बदन नीचा किया और मंडी उपर उठाई, उन्होने कुर्ता पूरा बाहर निकल दिया और फैंक दिया एक कोने मे. लूँगी तो पहले ही खुल के घुटनो तक उतार चुकी थी. उन्हों ने पावं उपर ले के उस मे उसे फसा के पावं जो नीचे किया तो वो भी मेरे सहयोग के साथ बाहर हो गयी.

अब मैं पूरी नंगी थी और उनके नीचे दबी हुई थी. वापस फेस पर किस करते हुए अब वो दोनो हाथो से मेरे दोनो स्तनों को मसल रहे थे. ऐसा लग रहा था, जीवन भर कोई ऐसे ही मसला करे इन्हे. ! लेकिन थोड़ी ही देर मे मैं बेचैन हो उठी.....!!!

पहले स्तनों को सहलाए जाने का मज़ा लिया, लेकिन फिर दबावाने की इच्च्छा हो रही थी, दबाए गये तो मसले जाने की कसक उठी, अब मसले गये तो चूसाए जाने की चाह उठी. और उसी चाह ने मुझे बेचैन कर दिया था... मैने उनका मुँह - जो मेरे फेस पर किस करने मे लगा हुआ था - पिच्चे से बालों से पकड़ के हल्के से नीचे मेरे स्तनों की और खींचा.

वो तो अनुभवी थे, इशारा समझे और नीचे उतार बाएँ मुममे की और लपके. पर मेरा तो डायन मुम्मा कब से भूखा था. मैने फिर बालों से मुँह को दाएँ मुममे की और खींचा. वो उसको चारो साइड से चूमने लगे. इस खेल के मंजे हुए खिलाड़ी जो थे ! निपल को केन्द्रा बना कर पुर मुममे पर निपल से डोर सर्क्युलर मोशन मे चूम रहे थे. धीरे धीरे सर्कल छ्होटा करते जा रहे थे. मेरी उत्तेजना बढ़ती जा रही थी. निपल मर्द के मुँह मे जाने के लिए उतावला हो रहा था. एक दो बार तो मैने उनका फेस निपल की और घसीटना चाहा. पर वो तो अपनी स्टाइल से ही चूमते रहे. मुझे टीज़ जो कर रहे थे. निपल मोटा और कड़क होता जा रहा था. सर्कल एकदम छ्होटा हो गया तब तो निपल से उनकी गर्म साँसे टकराने लगी, लेकिन उसे तो उनके मुँह का इंतेजार था. जब एकदम छ्होटा हो गया तो उन्हों ने जीभ निकली और अब तक कड़क हो चुके निपल पर टकराई. मेरे मुँह से आ निकल गई.

शरारती नज़र से मेरी और देखते हुए उन्हों ने जीभ झड़प से निपल की चारो और फिरा दी... और फिर लपक के निपल मुँह मे ले ली. मेरी धड़कन तेझ हो गई. जिस के लिए काब्से निपल बेताब हुए जा रहा था, वो अनुभव होना शुरू हो गया. वो मस्ती से उसे चूस रहे थे. आहा ! क्या फीलिंग थी !! निपल से जैसे करेंट बह रहा था और पुर बदन मे फैल रहा था......एक नशा सा च्छा रहा था ! कितना आनंदप्रद अनुभव होता है ये !!

यही सब दूसरे मुममे के साथ भी किया गया. बड़े आराम से वो लगे रहे, दोनो स्तनों पर. एक चूसाते थे तो डुअसरे को मसलते थे. मैं नारी तो जन्मा से थी लेकिन नारितवा आज महसूस कर रही थी. एक अरसे के बाद नशा तोड़ा कम हुआ तो मैने उनकी खुली पीठ पर रखे अपने दोनो हाथ से उन्हे अपनी और दबाते हुए एक आलिंगन दिया. उन्होने भी अपने हाथ मेरे स्तनों से हटा के साइड से होते हुए, मुझे हल्का सा उठाते हुए, मेरे बदन के नीचे पहुँचा दिए.. और आलिंगन दिया. मुझे साथ ले कर रोल ओवर हो के मेरी साइड मे आ गये और आलिंगन पर बड़ा ज़ोर दिया. आहहाअ....... मैं उनकी बाहों मे क्रश हो गयी...... बड़ा सुकून मिल रहा था......... लगता था वक़्त ठहर जाए तो कितना अच्च्छा होता.

उन्हों ने पकड़ ढीली कर के एक हाथ नीचे अपनी एलास्टिक शॉर्ट्स मे सरकया, और उसे नीचे खींचा. मैने देखा तो मैने भी शॉर्ट्स मे पावं फसा के उसे नीचे उतार दिया. पता नही मैने ये क्यों किया. उनका लंड बाहर निकल आया. फिर मुझे आलिंगन मे क्रश कर के वो रोल ओवर होते हुए वो मुझ पर आ गये. लेकिन अब दोनो बिल्कुल नंगे थे. वो पूरी तरह तैयार हो चुके थे. उन्हों ने अपने हिप्स उठाए और लंड को मेरी चूत के मूह पर ले आए. तब मुझे ख़याल आया , क्या होने जा रहा है. एक पल के लिए मैं सहमी और उनको कहा,
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:20 PM,
#46
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
शिकस्त ---02 लास्ट पार्ट

सर, अब आगे नही. किसी भी मर्द को इस मौके पर रुकावट पसंद नही. वो भी चिड़े हुए स्वर मे बोले

" क्या है". मैने खुलासा किया,

" मैं अभी तक कुँवारी हूँ, सर". झट से जवाब आया,

" हर लऱ'की पह'ले कुँवारी ही होती है और तब तक रह'ती है जब तक कोई मर्द उसे औरत न बना दे. " और बिना मेरे जवाब की दरकार किए , उन्हो ने अपना लंड अंदर घूसा दिया. आगे वही हुआ जो सब जानते है. कुच्छ ही पल मे मैं लड़की से औरत बन गयी.

जब मुझे आहेसास हुआ की क्या हो गया है तो इस तरह अपना कौमार्या खोने पर मैं थोड़ी उदास हो गयी. वो भी मेरे मूड को समझे. शाम हो रही थी. मुझे कहा ,

मैं ज़रा बाहर हो आता हूँ. उनके जाने के बाद मैं गुम सूम लेटी रही और अपने जीवन का मुआयना करती रही. घंटे भर मे वो वापस आए, एक थैली मुझे दी और कहा ये ले, तैयार हो जेया. मैने देखा तो अंदर नया ड्रेस था. चावी वाले पुतले की तरह, बिना कोई भाव'ना के, मैं उठी और ड्रसस पहन लिया. वो मुझे साथ लिए बाहर चल दिए. गाड़ी रुकी तो वो एक सुना मंदिर था. वो दर्शन करने गये, तो मैं भी गयी. दर्शन कर के आँखे खोली तो, ..... आश्चर्य चकित हो गयी. वो हाथ मे मंगल सट्रा लिए खड़े थे. मुझे भीने स्वर मे कहा,

"भगवान को साक्चि मान कर, मैं तुझे अपनी पत्नी स्वीकार करता हूँ". मैं देखती ही रह गयी... कहीं ये सपना तो नही?? उन्हो ने मेरे गले मे वो मंगल सट्रा पहना दिया. मैं खुश हो गयी. उस रात मैने बेड पर तूफान मचा दिया. वो भी पूरी तरह से खिले थे. ना जाने रात भर मे कितनी बार चुदाई हुई. सुबह होते होते नींद लगी और दोपहर को खुली. फिर एक बार हम'ने कामसुख भोगा. जब वापस चले तो हम दोनो पूर्णा टाइया तृप्त थे. मुझे लगा वो बादल है और मैं धरती. बादल रत भर बरसा और पानी बनकर धरती मे समा गया. खुद खाली हो गया और धरती को तृप्त कर दिया. मैं अपने आप को मिसिज. राजन समझने लगी थी. संगीता के बाद मेरा ही तो है सब.

वापस लौट के आने के बाद उन्हों ने मेरे लिए एक फ्लॅट ले लिया और मुझे वहाँ ठहरा दिया. डॉक्टर ने भले ही संगीता को 20-25 दिन की मेहमान होने का कहा था, उस की तबीयत कुच्छ सुध'री और हॉस्पिटल मे ही उसने चार महीने और खींचे. तब तक रोज, राजन सर मेरे फ्लॅट पर आते थे , मुझे भोगते थे और चले जाते थे. मैं कुछ बोल भी नही सकती थी. एक बार आत्म-समर्पण जो कर चुकी थी और उनकी पत्नी बनने के सपने भी देखती थी. संगीता की डेत के बाद वो बोले, हमारे घर्मे एक साल का शोक मानते है. तो एक साल शादी की बात फिर ताल गयी. साल भी बीत गया और दूसरा साल भी आ गया. राजन सर कोई ना कोई बहाना बना कर शादी टाल देते थे, पर मुझे चोदना नही भुलाते थे. मेरी जवानी का और सुंदरता का पूरा पूरा लुत्फ़ (आनंद) उठाया, मज़ा लिया.

मैं भी समझने लगी थी,... की .. पत्नी बनने के चक्कर मे मैं उनकी रखैल बन चुकी हूँ!! फिर अपना बॅकग्राउंड देख कर और जॉब ढूँढने के समय के अनुभवों को याद कर, मान को मनाती रही ; रखैल भी बन गयी तो ठीक ही है. फिर एक दिन एक नई बात बनी. उस रात ऑफीस की और से पार्टी थी. मैं भी तैयार हो के गयी थी और मेहमानों की देख भाल देख रही थी. ये सब मैं पहले भी कई बार कर चुकी थी. सारी व्यवस्था पर नज़र रख रही थी. जब पार्टी ख़त्म होने मे थोड़ी देर बाकी थी, तो राजन सर आए और मुझे एक कोने मे ले जेया के प्यार भरे सुर मे कहा,

" अनु, वो ब्राउन सूट मे मिस्टर. शरमा खड़े है, देख रही हो ?" मैने हामी भारी. आवाज़ और धीमी और गंभीर करते हुए कहा.

"हमारे लिए बहोट इंपॉर्टेंट गेस्ट है. उनसे हमे 25 करोर का कांट्रॅक्ट मिल सकता है. बड़े रंगीन मिज़ाज आदमी है. कांट्रॅक्ट पेपर्स को लड़की के खुले स्तन पर रख के साइन करने का शौक रखते है. तू ही इनको संभाल सकती है. उन को ओबेरोई मे ड्रॉप करने जेया और खुश कर के सुबह लौटना, समझी ??" और मेरे जवाब की परवाह किए बिना ही मुझे ले चले और मिस्टर. शर्मा से इंट्रोडक्षन करवा दिया,

"सर, यह है हमारी हॉट ब्यूटी क्वीन, अनुपमा." आँख विंक करते हुए आड किया,

"`हर काम' मे माहिर है. आप को होटेल पर छ्चोड़ने आ रही है. आप कांट्रॅक्ट पर दस्तख़त ज़रूर कर देना." शर्मा ने लोलुप नज़रों से मेरे स्तनों को देखा और बोला,

"साइन करने की जगह तो सही है" और गंदी तरह से हंस पड़ा. राजन सर भी उसकी हँसी मे शामिल हो गये और मुझे उसकी और पुश करते हुए कहा,

"गुड नाइट तो बोत ऑफ योउ". सब कुच्छ इतना फास्ट हो गया, की बिना कोई प्रतिक्रिया किए मैं ओबेरोई मे शर्मा की बेड पर पहुँच गयी. . मैने सोचा, अब आ ही गयी हूँ तो काम पूरा कर दूं. .. और मैने शर्मा को खुश कर दिया.... सुबह होते उसने कोंटर्कत पेपर्स निकले और मेरे नंगे स्तनों पर रख कर साइन कर दिया. वापस आ के पेपर्स राजन सर को दिए तो बहोट खुश होते हुए कह उठे,

"मैं जनता था, तुम ये काम ज़रूर कर सकती हो". उस के बाद तो ये सिलसिला ही बन गया. मैं रखैल से कब रंडी बन गयी पता ही नही चला. धीरे धीरे राजन सिर का मेरे फ्लॅट पर आना कम हो गया. और एक दिन देखा की उन्हों ने ऑफीस मे एक नई प. ए. भी रख ली थी. अब मेरा ऑफीस मे पहले जैसा रेस्पेक्ट भी नही रहा था. मुझे कहीं भी कुच्छ भी अच्च्छा नही लग रहा था. तो मैने राजन सर को एक दिन अपने फ्लॅट पर बुला लिया. वो आए. मैं साज धज के तैयार हुई थी, उन्हे आकर्षित करने के लिए. उन्हों ने जाम के मेरी चुदाई भी की. जब लगा मुझे की वी संत्ुस्त है तो मैने बात निकली और जो हो रहा था उसके प्रति नाराज़'गी व्यक्त करते हुए कहा,
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:21 PM,
#47
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
" सर, आप ने तो मुझे मंदिर मे भगवान को साक्षी मान कर पत्नी बनाया था, फिर आपने पत्नी की जगह रखैल बना दिया, मैने वो भी सह लिया, लेकिन अब तो आपने मुझे रंडी बना दिया है, क्या ये ठीक है?" वो हंसते हुए बोले,

"छ्होटी बच्ची थोड़ी हो की मैं काहु और तुम चली जाओ किसी के साथ सोने के लिए ? तुम्हे भी तो खुजली थी शर्मा से चुदाने की." अब आवाज़ तीखी हुई,

" एक तो रहने को आलीशान फ्लॅट दिया है, पैसे की तकलीफ़ नही है, तुम्हे रोज नई वेराइटी मिलती है, फिर भी नखरे दिखती है ? और तुम्हे क्या फ़र्क पड़ता है, मैं चोदु या कोई और चोदे ? चुदाई तो चुदाई ही है ना ? समाज ले अपना शरीर मुझे ही दिया है."
उनका ये रूप देख कर मैं तो हक्का बक्का रह गयी. थोड़ी देर तो क्या बोलना है, कुच्छ सूझा ही नही. फिर जब संभाली तो मैने भी कसर नही छ्चोड़ी. दोनो गुस्से मे आ गये. बात बिगड़ती गई. बड़ा झगड़ा हो गया. मैने कह दिया,

"राजन, तूने मुझे धोखा दिया है. मैं तुझे नही छ्चोड़ूँगी. देख लूँगी. " इस पर तो वो लाल-पीला हो गया. बड़ी हस्ती थी. उसे कोई ऐसा कह जाए तो कैसे सुन लेता ? वो भी बिगड़ा,

"तू ? तू मुझे देख लेगी ? तेरी हैसियत ही क्या है ? मेरे सामने तेरा क्या वजूद है ? मेरे पास पैसे की ताक़त है, सोशियल स्टेटस है, पोलिटिकल कॉंटॅक्ट है, बड़े बड़े नेता से संबंध है, पोलीस और अंडरवर्ल्ड मे पहेचन है. और तू ? एक रंडी मात्रा !! तेरी क्या औकात है की मुझे देख लेगी ? चल खाली कर ये घर अभी का अभी !!" मेरे पास कोई चारा नही था. लेकिन घर छ्चोड़ते हुए मैने अपनी सारी भादश निकल दी,

"राजन, तू देखना , इन सब के बावजूद मैं तुझे हरा दूँगी, मॅट दे दूँगी !! तुझे ये रंडी शिकस्त देगी, शिकस्त !!! " घर तो छ्चोड़ दिया, पर जिए कैसे... कहाँ जाए.... ये सारे प्रश्ना सामने आ गये. मैने फिर एक बार शहर छ्चोड़ दिया. लेकिन जल्द ही भूख-प्यास से मैं उब गई. रातों को हाइवे पर खड़ी रह के ट्रक द्रिवेरोन के साथ सोई और खनेका पैसा जुटाया. एक भले ड्राइवर ने बताया ,

"देल्ही जितना सेक्स का व्यवसाय कहीं नही होगा अपने देश मे. तू सुंदर है. वहाँ तेरी कदर होगी. मैं देल्ही जेया रहा हूँ ये ट्रक ले के, मैं वहाँ कोठे भी जानता हूँ, बैठ जेया, तुझे वहाँ पहुँचा दूँगा." इस तरह नसीब मुझे देल्ही ले आया. मजबूरी मे मुझे वाकई रंडी ही बनना पड़ा. मैने भी वो कोठा पकड़ लिया. सुंदर तो मैं थी ही. मेरा काम चल पड़ा. बहोट कस्टमर आते थे. एक रात मे दस कस्टमर्स को बैठा लेती थी. कोठे की मेडम भी खुश और मैं भी. अब रहने की और खनेकी चिंता तो ना रही. कुच्छ कस्टमर तो खाश हो गये.

यूँ दिन बीत रहे थे.... कुच्छ साल भी बीत गये. अब पैसे भी बन गये थे. लेकिन मैं राजन को नहीं भूली थी. कैसे उस से बदला लूँ, ये सोचती रहती थी.

[दोस्तों, अनुपमा की ज़िंदगी मे फिर कुच्छ ऐसी बात बनी , जो कहानी के रस को ध्यान मे रखते हुए मैं आगे बताऊँगा. ]

फिर एक दिन कुच्छ ऐसी बात हुई की मुझे मेरा हथियार मिल गय....ऱजन को हराने के लिए. और मैं चल पड़ी वापस मुंबई की और.

मुंबई आ के दो महीने तक मैं उस'से नही मिल पाई, क्यों की वो विदेश गया हुआ था. लेकिन उस समय मे मैने अपना काफ़ी काम कर लिया. अब अंतिम वार करने का समय आ गया. राजन के लौटते ही मैं उसे मिली. सेक्सी ड्रेस मे साज धज के गयी थी. मुझे देख के उसे आश्चर्या हुआ. मुहे उपर से नीचे तक देखते हुए बोला,

"थोड़ी फीकी पद गयी हो" मैने कहा,

"हन, आप के बिना ये हाल हो गया मेरा." उसके चेहरे पर अभिमान भारी मुस्कान च्चाई,

"तो अब तेरी अककाल ठिकाने आ गयी ! चली थी मुझे हराने की चॅलेंज दे कर !! कहाँ पिघल गया तेरा वो सब गुमान ?" विनती भारी आवाज़ मे मैं ने कहा,

" अब भूल भी जाइए वो सब, सर ! मैं लौट आई हूँ हमेशा के लिए आप की होने के लिए. आप जो कहेंगे वो सब मैं करूँगी." गंदा हास्या करते हुए वो बोला,

"तो अब घर, पैसा और सुविधा के लिए तू रंडी बनने को भी तैयार हो गयी." मैं ने एक सेक्सी आवाज़ मे कहा,

"वो तो है ही, पर एक बात और भी है, सर,... जिसने मुझे मजबूर किया है." आचरजभरी निगाह से वो मुझे देखता रह गया, लेकिन जब बात समझ मे नही आई तो पुच्छ बैठा,

" और वो क्या है ? " मैं ने एक सेक्सी अंगड़ाई ली और ड्रेस की स्लिट से पूरी जाँघ उसे दिखाते हुए बोली,

"आप की जैसी चुदाई भी तो कोई नही करता, ना !!, आप मुझे रंडी बनके चाहे जिस'के पास भेजे, लेकिन आप को भी मुझे रोज चोदना होगा ! " वो घमंड से फूला ना समाया. वैसे भी सारे मर्द को यही लगता है की उसके जैसी हार्ड चुदाई कोई नही करता. वह भी खुशी भरा चेहरा ले कर बोला,

" तो ये बात है ! ठीक है, तेरे साथ एक प्रोग्राम बनता हूँ" मैं जेया के उसके लॅप मे बैठी और उसके गले मे हाथ डालते हुए कहा,

" मुझे वहीं ले चलो, जहाँ पहली बार चोदा था." उसे सब याद था, बोल पड़ा,
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:21 PM,
#48
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
" सर, आप ने तो मुझे मंदिर मे भगवान को साक्षी मान कर पत्नी बनाया था, फिर आपने पत्नी की जगह रखैल बना दिया, मैने वो भी सह लिया, लेकिन अब तो आपने मुझे रंडी बना दिया है, क्या ये ठीक है?" वो हंसते हुए बोले,

"छ्होटी बच्ची थोड़ी हो की मैं काहु और तुम चली जाओ किसी के साथ सोने के लिए ? तुम्हे भी तो खुजली थी शर्मा से चुदाने की." अब आवाज़ तीखी हुई,

" एक तो रहने को आलीशान फ्लॅट दिया है, पैसे की तकलीफ़ नही है, तुम्हे रोज नई वेराइटी मिलती है, फिर भी नखरे दिखती है ? और तुम्हे क्या फ़र्क पड़ता है, मैं चोदु या कोई और चोदे ? चुदाई तो चुदाई ही है ना ? समाज ले अपना शरीर मुझे ही दिया है."
उनका ये रूप देख कर मैं तो हक्का बक्का रह गयी. थोड़ी देर तो क्या बोलना है, कुच्छ सूझा ही नही. फिर जब संभाली तो मैने भी कसर नही छ्चोड़ी. दोनो गुस्से मे आ गये. बात बिगड़ती गई. बड़ा झगड़ा हो गया. मैने कह दिया,

"राजन, तूने मुझे धोखा दिया है. मैं तुझे नही छ्चोड़ूँगी. देख लूँगी. " इस पर तो वो लाल-पीला हो गया. बड़ी हस्ती थी. उसे कोई ऐसा कह जाए तो कैसे सुन लेता ? वो भी बिगड़ा,

"तू ? तू मुझे देख लेगी ? तेरी हैसियत ही क्या है ? मेरे सामने तेरा क्या वजूद है ? मेरे पास पैसे की ताक़त है, सोशियल स्टेटस है, पोलिटिकल कॉंटॅक्ट है, बड़े बड़े नेता से संबंध है, पोलीस और अंडरवर्ल्ड मे पहेचन है. और तू ? एक रंडी मात्रा !! तेरी क्या औकात है की मुझे देख लेगी ? चल खाली कर ये घर अभी का अभी !!" मेरे पास कोई चारा नही था. लेकिन घर छ्चोड़ते हुए मैने अपनी सारी भादश निकल दी,

"राजन, तू देखना , इन सब के बावजूद मैं तुझे हरा दूँगी, मॅट दे दूँगी !! तुझे ये रंडी शिकस्त देगी, शिकस्त !!! " घर तो छ्चोड़ दिया, पर जिए कैसे... कहाँ जाए.... ये सारे प्रश्ना सामने आ गये. मैने फिर एक बार शहर छ्चोड़ दिया. लेकिन जल्द ही भूख-प्यास से मैं उब गई. रातों को हाइवे पर खड़ी रह के ट्रक द्रिवेरोन के साथ सोई और खनेका पैसा जुटाया. एक भले ड्राइवर ने बताया ,

"देल्ही जितना सेक्स का व्यवसाय कहीं नही होगा अपने देश मे. तू सुंदर है. वहाँ तेरी कदर होगी. मैं देल्ही जेया रहा हूँ ये ट्रक ले के, मैं वहाँ कोठे भी जानता हूँ, बैठ जेया, तुझे वहाँ पहुँचा दूँगा." इस तरह नसीब मुझे देल्ही ले आया. मजबूरी मे मुझे वाकई रंडी ही बनना पड़ा. मैने भी वो कोठा पकड़ लिया. सुंदर तो मैं थी ही. मेरा काम चल पड़ा. बहोट कस्टमर आते थे. एक रात मे दस कस्टमर्स को बैठा लेती थी. कोठे की मेडम भी खुश और मैं भी. अब रहने की और खनेकी चिंता तो ना रही. कुच्छ कस्टमर तो खाश हो गये.

यूँ दिन बीत रहे थे.... कुच्छ साल भी बीत गये. अब पैसे भी बन गये थे. लेकिन मैं राजन को नहीं भूली थी. कैसे उस से बदला लूँ, ये सोचती रहती थी.

[दोस्तों, अनुपमा की ज़िंदगी मे फिर कुच्छ ऐसी बात बनी , जो कहानी के रस को ध्यान मे रखते हुए मैं आगे बताऊँगा. ]

फिर एक दिन कुच्छ ऐसी बात हुई की मुझे मेरा हथियार मिल गय....ऱजन को हराने के लिए. और मैं चल पड़ी वापस मुंबई की और.

मुंबई आ के दो महीने तक मैं उस'से नही मिल पाई, क्यों की वो विदेश गया हुआ था. लेकिन उस समय मे मैने अपना काफ़ी काम कर लिया. अब अंतिम वार करने का समय आ गया. राजन के लौटते ही मैं उसे मिली. सेक्सी ड्रेस मे साज धज के गयी थी. मुझे देख के उसे आश्चर्या हुआ. मुहे उपर से नीचे तक देखते हुए बोला,

"थोड़ी फीकी पद गयी हो" मैने कहा,

"हन, आप के बिना ये हाल हो गया मेरा." उसके चेहरे पर अभिमान भारी मुस्कान च्चाई,

"तो अब तेरी अककाल ठिकाने आ गयी ! चली थी मुझे हराने की चॅलेंज दे कर !! कहाँ पिघल गया तेरा वो सब गुमान ?" विनती भारी आवाज़ मे मैं ने कहा,

" अब भूल भी जाइए वो सब, सर ! मैं लौट आई हूँ हमेशा के लिए आप की होने के लिए. आप जो कहेंगे वो सब मैं करूँगी." गंदा हास्या करते हुए वो बोला,

"तो अब घर, पैसा और सुविधा के लिए तू रंडी बनने को भी तैयार हो गयी." मैं ने एक सेक्सी आवाज़ मे कहा,

"वो तो है ही, पर एक बात और भी है, सर,... जिसने मुझे मजबूर किया है." आचरजभरी निगाह से वो मुझे देखता रह गया, लेकिन जब बात समझ मे नही आई तो पुच्छ बैठा,

" और वो क्या है ? " मैं ने एक सेक्सी अंगड़ाई ली और ड्रेस की स्लिट से पूरी जाँघ उसे दिखाते हुए बोली,

"आप की जैसी चुदाई भी तो कोई नही करता, ना !!, आप मुझे रंडी बनके चाहे जिस'के पास भेजे, लेकिन आप को भी मुझे रोज चोदना होगा ! " वो घमंड से फूला ना समाया. वैसे भी सारे मर्द को यही लगता है की उसके जैसी हार्ड चुदाई कोई नही करता. वह भी खुशी भरा चेहरा ले कर बोला,

" तो ये बात है ! ठीक है, तेरे साथ एक प्रोग्राम बनता हूँ" मैं जेया के उसके लॅप मे बैठी और उसके गले मे हाथ डालते हुए कहा,

" मुझे वहीं ले चलो, जहाँ पहली बार चोदा था." उसे सब याद था, बोल पड़ा,
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:21 PM,
#49
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
मेरी इज़्ज़त लूट ली पार्ट-1 
हेलो मेरा नाम कल्पना है. मे आपको मेरे बारे मे बताती हूँ मेरी उमर 24 साल है रंग गोरा और फिगर 34-26-36 है. मे एक प्राइवेट स्कूल मे टीचर हूँ. ये कहानी 2 साल पहले की है जब मे नयी नयी इस स्कूल मे जॉब को लगी थी. तब मेरी बी. एड की पढ़ाई ख़तम हुई थी और मुझे ये नौकरी लगी थी. मैं इस स्कूल मे मेद्स सिखाती हूँ. मे 8थ से लेकर 10थ स्ट्ड के बच्चो को मेद्स सिखाती हूँ. तब एक दो महीने हूए थे मुझे स्कूल को जाय्न करके. मे रोज़ स्कूल बससे आया जाया करती थी बस मे हमेशा हमारे स्कूल के बच्चे रहते थे बस हमेशा स्कूल के टाइम पर जाती थी इसलिए बस हमेशा ही खचाखच भारी रहती थी. मुझे तो हमेशा खड़े रहके जाना पड़ता था. ये बात तब की है जब अगस्त मे हमारे स्कूल का एग्ज़ॅम था और बारिश्के दिन थे.सभी बच्चे हाथ मे बुक लेके पढ़ाई करते थे बस मे भी सब पढ़ाई करते थे. पर इनमे से कुछ बच्चे थे जो पढ़ाई से ज़्यादा मौज मे ही खोए थे. वो हमारे स्कूल के सबसे पूराने और सबसे बिगड़े हुए लड़के थे. वो सब क्लास 9थ के स्टूडेंट थे और वो लाघबाग एक ही क्लास मे 4 बार फैल होगये थे इसबार स्कूल ने उन्हे ये हिदायत दी थी कि अगर इसबार वो फैल हो जाते है तो उनको स्कूलसे निकाला जाएगा. इत्तफ़ाक़से वो सब मेरे ही सब्जेक्ट मे फैल होते थे. उस दिन वो चारो मेरे पीछे खड़े थे भीड़ इतनी थी कि सब एक दूसरे से चिपक के खड़े थे उनमे से एक मुझसे चिपक के खड़ा था. बाहर बारिश हो रही थी और बस स्कूल की तरफ जा रही थी. सुबह का वक़्त था. बारिश के कारण मे भीग गयी थी. छाता तो था लेकिन हवा के वजह्से मे भीग गयी थी. मे स्कूल मे हमेशा साड़ी पेहन्के जाती थी हमारे स्कूल मे साड़ी पहनना कंपल्सरी था. 



वो जो लड़का मेरे पिछे खड़ा था वो मुझसे इतना चिपका हुआ था कि उसका शरीर मेरे शरीर से रगड़ रहा था. मुझे उसपर बोहत गुस्सा आया पर सबके सामने अपने स्टूडेंट की इज़्ज़त खराब हो जाएगी इसलिए मे चुप थी. उसका हाथ मेरी कमर के उपर लग रहा था. जब स्कूल आया तो सब उतर गये तब उसे मेने अपने ऑफीस मे बूलाया और उसको बोहत पीटा और फिर उसे क्लास के सामने भी पीटा. मे स्कूल मैं बोहत सख़्त थी. मुझसे सारे बच्चे डरते थे. कुछ दिन बीत गये फिर एक दिन जब स्कूल छूटा तो बस मे जाते वक़्त वो सब मेरे पीछे ही खड़े थे. कुछ देर बस आगे जाने के बाद किसीने मेरे चूतरो पर ज़ोर का चांटा मारा. और वो चारो हस्ने लगे. मे डर गयी थी मैने उनकी तरफ गुस्से से देखा वो सब शांत हो गये. अगले दिन वो फिरसे मेरे पिछे खड़े हो गये. अब की बार फिरसे मेरे चूतरो पर किसी ने हाथ लगाया. मेने पलट के देखा तो वो सब कुछ हुआ ही नही ऐसे बिहेव कर रहे थे. मुझे बोहत गुस्सा आ रहा था. लेकिन मे कुछ कर भी नही सकती थी अगर मेने कुछ कहा तो उनके साथ मेरी भी बदनामी होगी स्कूल मे सब मुझे चिढ़ाते कि एक मेडम को उनके स्टूडेंट ने छेड़ा. इसलिए मेने उन चारो को फिरसे क्लास मे पीटा. 

फिर कुछ दिन शान्ती से बीते लेकिन फिरसे एक दिन बस मे वो मेरे पिछे खड़े थे उनमे से एक ने मुझे चूटी काटी और मे चिल्लाई उईईईई म्‍म्माआआआआआआआ आ सब स्कूल के बच्चे मुझे देखने लगे और मुझसे पूछा क्या हुआ मेडम मैने कहा कुछ नही चीटी ने काटा और उनकी तरफ देखकर अपनी पीठ को खुजाने लगी. उनकी हिम्मत बोहत बढ़ रही थी. वो अब रोज़ मुझे परेशान कर रहे थे मुझे उनपर इतना गुस्सा था पर लड़की होने के कारण कुछ कर नही सकती थी मेने अब उनको पीटना भी छोड़ दिया था पिटाईका उनपर कोई असर ही नही होता था दूसरे दिन वो वही करते थे. मेने इसका गुस्सा उनके रिज़ल्ट पे निकाला और पहले एग्ज़ॅम मे उनको चारो को फैल कर दिया. रिज़ल्ट के दिन जब मैं बस मे घर जा रही थी रोज़ की तरह वो मेरे पिछे खड़े थे. और बस स्टॉप से निकली थी और आधे रास्ते मे उनमे से एक ने मेरे चूतरो पर हाथ रखा इसबार उसने हाथ निकाला नही. मेने पलट के देखा तो उनमे से सबसे हत्ते कत्ते स्टूडेंट ने मेरे चूतरो पर हाथ रखा था. मैं डर गयी मेने हाथ से उसका हाट हटाया और थोड़ी आगे सरक गयी . लेकिन वो नही माना और इसबार मेरे दोनो चूटरो पर उसके हाथ थे अब तो दूसरे ने भी हाथ रख दिया था. 

इसबार मे चुपचाप खड़ी रही मेने अब ठान लिया था कि उनकी किसी हरकतपे रेस्पॉन्स ही नही करना मे वैसे ही खड़ी रही. लेकिन अब तो उनकी हिम्मत और बढ़ गयी उसने मेरे चूतरो से हाथ निकाला मेने चैन की साँस ली लेकिन अगले ही पल उसका हाथ पिच्छेसे मेरे छाती पर आ गया और मेरे बूब्स पर रगड़ ने लगा. भीड़के वजाहासे सामने वाले आदमी के कारण उसका हाथ किसिको नही दिख रहा था लेकिन फिर भी मेने हिम्मत नही हारी और वैसेही खड़ी रही वो मेरे बूब्स को दबाने लगा तो मेरे अंदर एक करेंट उठा और मेरे कमर मे अकड़ आगाई और मेरे चूत से पानी निकला और मे झार गयी मेरी पॅंटी गीली हो चुकी थी और मे कुछ हल्का महसूस कर रही थी. लेकिन मे बोहत डरी हुई थी. इतने मे उनका स्टॉप आ गया और वो सब उतर गये. लेकिन मुझे इधर पसीना छूट रहा था. मे पहली बार उस दिन झारी थी. मुझे कुछ अजीबसा महसूस हो रहा था मेरे शरीर को अजीबसा सकून मिल गया था. मैने घर जाने के बाद अपने कपड़े उतार कर देखा तो मेरी पॅंटी गीली हो गयी थी और चूत भी गीली थी. मेने अपनी चूत मई उंगली डाली और उस लड़के के हाथ का स्पर्श मेरे सामने आगेया और मुझे ऐसा महसूस हो रहा था की मानो वही मेरी चूत मे उंगली कर रहा हो मेरे उंगलिसे मैं फिरसे झार गयी. मैं उनकी करतूतसे आज पहेली बार गुस्सा होने की बजाय खुश थी. लेकिन वो लड़के मुझे और कुछ कर ना दे इसलिए मे तीन चार दिन स्कूल गयी ही नही. लेकिन मेरे घर की हालत इतनी ठीक नही थी के मे घर मे रह सकू मेरे घर मे बोहत ग़रीबी थी. इसलिए मुझे स्कूल जाना पड़ा उस दिन वो लड़के मुझसे बोहत दूर खड़े थे कुछ दिन वो मेरे करीब नही आए. लेकिन अब मुझे उनका करीब आना पसंद था. 
और उस दिन सॅटर्डे था स्कूल जल्दी छूट गया था और मैने रोज़की तरह घर जाने के लिए बस पकड़ी. आज बोहत ही भीड़ थी और वो चारो भी मेरे आसपास ही खड़े थे. बस अपने रास्ते निकल पड़ी मेने बस का टिकेट लिया और खड़ी थी कि अचानक मेरी झंघो पर सेकिसी का हाथ घूमता हुआ फिर मेरे चूतरो से मेरी छाती के उपर चला आया मुझे तो यही चाहिए था. मेने कुछ नही किया बल्कि उस लड़के के और करीब आगाई और उसको टच करके खड़ी हो गयी वो चारो मेरे आगे पीछे खड़े थे. उन्होने मुझे कवर कर लिया था इसलिए मैं किसिको दिखाई नही दे रही थी. हम सब पिछली सीट के यहा खड़े थे उस लड़के ने मेरे बूब्स दबाना शुरू किया मुझे मस्ती आ रही थी लेकिन मैने चुप खड़ी थी तभी स्टॉप पर बस रूकी और हमारे बाजूवालि दो सीट खाली हो गयी मैं वाहा बैठ गयी मैने खिड़की वाली सीट पकड़ी और उनमे से एक लड़का मेरे साथ बैठ गया हम बस की लास्ट सीट पर बैठे थे. और वो तीनो लड़के हमारे आगे खड़े हो गये यानी अब हमे कोई देख नही सकता था. अब वो मेरे झंघोपर हाथ रखकर मेरी साड़ी को उपर करने लगा तो मेने उसे रोका लेकिन उसने मेरी साड़ी मेरेघूटने तक उपर की और मेरी साड़ी मे हाथ डाला उसका हाथ मेरी पॅंटी के उपर थॉ वो मेरी चूत को हाथ सहलाने लगा मेरे शरीर मे फिरसे अकड़न सी होगयि और मे झार गयी मेरी चूत से पानी निकला तो वो उसके हाथ पर लगा वो मेरी तरफ देखकर हसने लगा. अब उसने एक हाथ से मेरे ब्लाउस को खोला और मेरे ब्रा के उपर से मेरे स्तनोको मसल्ने लगा. उसकी इस हरकतसे मे पागल हो उठी थी मुझमे शरम नाम की चीज़ बची नही थी. कुछ देर मेरे बूब्स को दबाने के बाद उसने मेरे कान मे कहा मेडम अगर पूरा मज़ा चाहिए तो हमारे स्टॉप पर उतर जाओ. 

क्रमशः.................
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:21 PM,
#50
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
मेरी इज़्ज़त लूट ली पार्ट-2


गतान्क से आगे................... 
और उसने मुझे कपड़े सीधे करने को कहा. मैने कपड़े सीधे किए और उनके कहने के मुताबिक उनके स्टॉप पर उतर गयी और फोन बूथ जाकर घर फोन करके बताया कि मैं मेरी सहेली के पास जा रही हूँ घर आने मे देर होगी. फिर उन चारो के साथ चल पड़ी. कुछ देर चलने के बाद हम एक होटेल पर आगाए उसने दो कमरे बुक किए. दो इसलिए किसिको शक ना हो उसने मुझे बाहर ही खड़े रहने को कहा. होडी देर मे उनके पीछे चली गयी. वो मुझे एक कमरे मे लेकर आए. वो चारो भी उसी रूम मे आगाए फिर वो मुझे देखते हुए हसने लगे. और उनमे से एक बोला दोस्तो आज हम अपने प्यारी मेडम को चोदने वाले है. मेडम जी को भी कितनी खुजली है कि वो अपने ही स्टूडेंट्स से चुदवाना चाहती है. तभी दूसरा बोला साली रंडी ने बोहत मारा है हमको आज साली की चूत ही फाड़ डालूँगा. आज इसको ऐसा चोदुन्गा कि ये फिर किसी स्टूडेंट को हाथ भी नही लगाएगी. फिर वो चारो मुझपे टूट पड़े कोई मेरे छाती पे कोई मेरे झंघो पे तो किसीने मेरे होंठो को किस करना शुरू किया वो चारो मेरे किसीना किसी अंगसे खेल रहे थे उन्होने मुझे अपने वश मे कर लिया था. एक मेरे दाए बूब्स को दबा रहा था तो दूसरा मेरे ब्लाउस को खोल रहा था उसने मेरे ब्लाउस को खोलकर मेरे ब्रा को उपर किया और मेरे बूब्स को मूह मे लेकर चूसने लगा. जैसे कोई छोटा बच्चा अपनी मा का दूध पिता है वैसे मेरा स्तनपान कर रहा था.एक ने मेरी साड़ी निकालकर दूर फेंक दी और मेरी पॅंटी के उपारसे मेरे चूत को हाथ सहलाने लगा था मे उन चारो के नशे मे झूम रही थी. मुझे कुछ होश ही नही थी मे हवस मे इतनी गंदी हो गयी थी कि एक साथ चार पराए लड़को के साथ अपनी जवानी लूटा रही थी. उन चारोने मुझे पूरा नंगा कर दिया था मेरी अन्छुइ चूत उनके सामने पूरी नंगी थी. मैने दो दिन पहले ही चूत्के उपरके बॉल निकाल दिए थे. मेरी गोरी चूत देखकर उनमे से सबसे बड़ा बोला साली की चूत देख तो ज़रा कितनी चिकनी है लगता है किसीने इसको अभी तक मारा नही है. और उसने मुझसे पूछा क्यों मेडम आपने कभी किसी से अपनी चूत को मरवाई है या नही. मैने सर हिलाते ना का जवाब दिया. और वो बहुत खुश हुआ और अपने कपड़े निकालने लगा. और अपने दोस्तोसे कहने लगा देखो मे सबसे पहले मेडम की चूत को चोदुन्गा क्योंकि होटेल का बिल मेने भरा है. वो पूरा नंगा हो चुक्का था. उसका लंड देखकर मेरी साँस ही अटक गयी वो किसी घोड़े के लंड इतना बड़ा था. 

वो मेरे उपर आगेया और मुझे कहने लगा “ मेडम आप हमे रोज़ पढ़ाती है ना आज हम आपको सिखाएँगे की चुदाई कैसे करते है. आज तो तेरी चूत तो मैं फाड़ के ही रहूँगा तेरी आँखोसे आँसू नही निकाले तो मे भी एक बाप का बेटा नही.” उसके बाते और लंड देखकर मैं डर गयी थी. अब उसने मेरे दोनो पैरो को फैलाया और अपना लंड मेरी छोटिसी चूत्पर रखा और उसे मेरे चूत के अंदर धकेलने लगा. उसने मेरे पैरो को कस्के पकड़ा और ज़ोर्से अपने लंड को मेरे चूत पर दबाते उसने उसका लंड मेरी चूत के अंदर घूसाया लंड अंदर घुसाते ही मैं चिल्लाई मैं छटपटाने लगी जैसे किसी मछली को पानी से बाहर निकालने के बाद मछली छटपटती है. मैं चिल्लनी लगी ऊवूऊवूवुउवुउयियैआइयैयीयीयियी ईईईईईईईईईईई म्‍म्म्मममममममममाआआअ आआ चोर्डूऊऊओ मुझे प्लस्सस्स्स्सस्स आआआआआआहह ह आआआआआआआहह ह म्‍म्म्ममममममाआआअ मार गाययययययययययीीईईई ईईईईईई निकालो तुम्हारा ये लंड बोहत दर्द हो रहा है. प्लीज़ छोड़ दो मुझे. मैं छटपटाती हुई उसे कहने लगी पर वो मुझे कहने लगा साली इतने मे ही दर्द हो रहा है अभी तक सिर्फ़ मूह ही अंदर गया है पूरा जाने के बाद तो फिर क्या होगा पहले दर्द होता ही है. बाद मे बोहत मज़ा आता है ज़्यादा नाटक करेगी तो ज़बरदस्ती करनी पड़ेगी अभी हमको गरम किया है चुपचाप ठंडा कर नही तो तेरा ऐसा हाल करेंगे की शकल दिखाने के लायक नही रहेगी. और उसने अपना लंड मेरी चूत और घूसाया मुझे चक्करसे आने लगे थे. चूत इतनी टाइट थी की उसको काफ़ी ज़ोर लगाना पड़ रहा था इधर मे झार गयी और मैं ढीली पड़ गई धीरे धीरे उसने पूरा लंड मेरे चूत मे घुसाया तो मेरी सील भी टूट गयी थी मेरे चूत्से खून निकल रहा था. मैं दर्द के मारे रोने लगी थी मेरी आँखोके आँसू देखकर उसको जीत मिली थी उसने जो कहा वो साबित भी किया था मेरी चूत फट भी गयी थी और मेरे आँखोसे आँसू भी बह रहे थे. उसने लंड थोड़ा बाहर निकाला और फिरसे अंदर घुसाया फिर उसने लंड अंदर बाहर करना चालू रखा आधे घंटे मे सात बार झार चूकि थी लेकिन वो किस मिट्टी का बना हूआ था कि झरने का नाम ही नही ले रहा था. अब मेरा दर्द कम हो गया था और मुझे मज़ा आने लगा था मैं भी उसको अपनी कमर उपर करके साथ दे रही थी. उसने अपना स्पीड बढ़ाया और मुझे अपने से लिपटाते हुए कहने लगा उउउउउउउउउउउउउउउउउउउ फफफफफफफफफफफफफफ्फ़ माआअडमम्म्ममम अब मेरा निकलने वाला हाइईईईईईईईईईई. और मेरी चूत मे झार गया. थोड़ी देर तक मेरे उपर पड़ा रहने के बाद मेरे उपर से हट गया मैं बोहत थक चूकि थी लेकिन वो हट गया था कि दूसरा तैय्यार था उसने अब मेरे उपर क़ब्ज़ा किया और मुझे कुतिया की तरह खड़ा किया. 

मुझे कहने लगा “ उसने आपकी चूत फाडी अब मैं आपकी गांद को फाड़ूँगा मैं आपकी गांद मारूँगा और उसने अपना लंड मेरी गांद मे घुसाया हालाँकि उसका लंड पहले लड़के इतना बड़ा नही था लेकिन मेरी गांद का छेद बोहत छोटा होने के कारण मेरी गांद मे दर्द हो रहा था. लंड गांद मे घुसते ही मैं दर्द से आगे भागने लगी लेकिन आगे से दूसरे लड़के ने मुझे पकड़ा और मेरे मूह मे अपना लंड डालकर मेरे मूह को चोदने लगा. मुझे चूत से ज़्यादा गांद मारने से दर्द हो रहा था. लेकिन वो कामभकख्त मेरी गांद को घोड़े के स्पीड्स चोद रहा था मेरी गंद मे उसका लंड लगभग 10 मिनट तक अंदर बाहर हुआ और वो झार गया. मैं बोहत थक चुकी थी लेकिन वो चार मैं अकेली थी अब एक के बाद दूसरा दूसरे के बाद तीसरा इसके मुताबिक तीसरा मुझपे चढ़ गया और उसके बाद चौथा. चारो मुझे एक के बाद एक चोदने लगे चारोने मुझे दोपहर 1.30 से शाम के 5 बजे तक चोदा उन्हॉहने मुझे एक एक ने मुझे दो राउंड चोदा फिर हम सब शाम को घर निकले लेकिन मुझसे चला नही जा रहा था कैसे वैसे मैं घर आई और अपने बिस्तर पर लेटते ही सो गयी उस दिन मुझे बोहत अच्छी नींद आई. 

उसके बाद तो मैं उनकी रखैल हो गयी थी उनके जब जी आता वो मुझे चोद्ते थे. उन्होने मुझे ब्लॅक मैल भी करना शूरू किया था. अगर मैं उनको परीक्षा मे पास नही करूँगी तो वो मुझे पूरे स्कूल मे बदनाम करेंगे.. इसलिए मैं उनको पेपर के सारे आन्सर बताती थी. वो मुझे कभी मेरे कॅबिन मे भी चोद्ते थे उन्होने एक बार मुझे उनके दोस्तो के साथ भी चुदवाया था. बस मे भी वो चारो मुझे बोहत छेड़ते थे. अब वो स्कूल से पास होके गये है इसलिए अब वो मुझे ज़्यादा मिलते भी नही है. लेकिन कभी कभी वो मुझे अपने घर बुलाते है और कभी मेरे घर भी आते है मैं उनको ट्यूशन पढ़ाने के बहाने अपने घर बुलाती हूँ और उनसे नये नये सेक्स के लेसन लेती रहती हूँ. तो दोस्तो कैसी लगी इस चुड़क्कड़ की कहानी आपका दोस्त राज शर्मा 

समाप्त
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 84 101,101 Yesterday, 07:48 AM
Last Post:
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान 119 54,025 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post:
Star Kamukta Kahani अहसान 61 214,908 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post:
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) 60 141,123 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 220 938,052 02-13-2020, 05:49 PM
Last Post:
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा 228 760,216 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post:
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 146 84,595 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 101 206,438 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post:
Lightbulb kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत 56 27,458 02-04-2020, 12:28 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर 88 102,557 02-03-2020, 12:58 AM
Last Post:



Users browsing this thread: 5 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


hindi sex stories forumladki ki chut me etna land dala ki ladki rone lge bure tarha se story hind megenelia ka nangi photostoryrandi khane me saja milliपापा बहन की गाड का गू खा रात दिनsariwali motai antay chodai six.xbombo2 ssexy videosxxx sariwali vabi burme ungli kiyadesi bhabhi ne cindon pehnaya xvideos2mast chudaibhu desidasi pakde mamms vedeo xxxbharatiy chachi ki bhattije dwara chudayi vedioX x x video bhabhidhio lagake chodaalia ke chote kapde jism bubs dikhe picxx me comgore ka upayaAurat kanet sale tak sex karth hjyoti tu mat chudna is lund sebani chuvhi se nikala dudhxxxhotho se hoth mile chhati se chhati chut me land ghusa nikal gaya pani sexमग मला जोरात झवलीपोरन पुदी मे लेंड गीरने वालेnew xxx India laraj pussy photosvelamma episode 91 full onlineNushrat bharucha xxx image on sex baba 2018असल चाळे मामी जवलेचोदा के बता आइयीRadhika thongi baba sex videoxxxxx cadi bara pahanti kadaki yo kaप्रेरणाsharma.nude.sexi.photonirmala nam ki sex kahaniGARAMA GARAM HDSEX .COMhindi saxbaba havilishemale neha kakkarsex babamoti.bhabhi.badi.astn.sex.sexनौकरानी सेक्सबाब राजशर्माವೀರ್ಯ ತುಲ್ಲುsmbhog me stno ko pkdne ki pickActres nighty main sexbaba photo hindi sex katha sex babasexbabagaandSex baba photo page 150sali ko chodne wolakithya.suresh.xxx.comsexvidaogirlxxx bathrum m jake ugli krti ladki videobahu ki garmi sexbabachudi pehen ke chut marwane wali condom ki BFxnxxxbedroom decorदेसी फिलम बरा कचछा sax chuddkar sumitra wife hot chudaai kahaniMota kakima kaku pornjacqueline fernandez imgfySex baba Katrina kaif nude photo pativrata maa aur dadaji ki incest chudaiANTERVSNA 2 GANDE GANDE GALLIE SA BHORPURMANSI SRIVASTAVA KI SEXY CHUT KI CHUDAI KE BF PHOTOSazmkhar xxxsexybur jhaat massageअंधे ने बूबस दबाये pron bhai bhaisexe hot nidrandi sex2019hindixxx hd veerye in yunisex Chaska chalega sex Hindi bhashaNimrat kaur all nude photos on sexbaba.comचाची को दबोच , मेने उनकी गांड , लंडkachha pehan kar chodhati hai wife sex xxxChut ka pani mast big boobs bhabhi sari utari bhabhi ji ki sari Chu ka pani bhi nikala first time chut chdaiBachon ki khatir randi bani hot sex storiesaah uncal pelo meri garam bur chudai storigda and larki ki xixy vidioआओ जानू मुझे चोद कर मेरी चूत का भोसङा बना दोXbombo nathalie emmanuelbra.panati.p.landa.ka.pani.nikala.bhabi.n.dak.liya.sex.vidiomotae लण्ड का mjha kahanyindian xediomms.comबॉस की ताबड़तोड़ चदाई से मेरी चूत सूजीwww.mera gaou mera family. sex stories. comAbitha Fake NudeAnushka sharma moaning sexbaba videossouth actress nude fakes hot collection page 253www sexbaba net Thread incest kahani E0 A4 AA E0 A4 BE E0 A4 AA E0 A4 BE E0 A4 95 E0 A5 80 E0 A4 A6viriya kaha jata h inside camra xxnxdaso baba nude photosrep sexy vodio agal bagal papa mami bic me peti xxxcerzrs xxx vjdeo ndचुदना भी सेक्सबाबapni hi saheli ki mammi bani vedioWww sote baca or ma ka xxxvideo.com xxx khani hindi khetki tayi ki beteमाँ की गांड की टट्टी राज शर्मा हिंदी चुदाई की कहानिय