Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
08-13-2019, 12:24 PM,
#1
Star  Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
मेरा बेटा मेरा यार (माँ बेटे की वासना )


हाई , फ्रेंड्स मैं शाज़िया आपकी खिदमत मे एक और कहानी शुरू कर रही हूँ . और उम्मीद करती हूँ मेरी ये कोशिस आपको पसंद आएगी .


हेलो दोस्तों मेरा नाम कणिका है। मेरे दो बच्चे हैं । बड़ी बेटी का नाम डॉली है और उसकी शादी हो चुकी है। बेटे का नाम राज है वह भी b.a. के फाइनल ईयर का स्टूडेंट है मेरेपति का अपना बिजनेस है। हम एक उच्च मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते हैं। अच्छा घर बार है, ज़िन्दगी जीने की सभी सहूलतें हैं। किसी चीज की कोई कमी नहीं है। इस समय मेरी उम्र 43 साल की है। अभी पिछले साल ही मेरी बेटी की शादी हुई।

पिछले साल मेरी जिंदगी में एक ऐसा मोड़ आया जिसने मेरी पूरी जिंदगी बदल कर रख दी। मुझे तो यह भी समझ नहीं आ रहा कि मैं इस अनोखे मोड़ को सुखदायक कहूं या दुख दायक। उस घटना को बयान करने से पहले मैं उस घटना के असली कारण को बताना चाहती हूं जिसके कारण यह घटना घटी। इस घटना का असली कारण था मेरे पति का हर दिन शराब पीना। मेरे पति हर रोज शराब पीते हैं। शादी के समय में वो ऐसे नहीं थे उस समय वह नौकरी करते थे। जिंदगी सुखी थी। बच्चों के जन्म के बाद उन्होंने अपना बिजनेस शुरू किया। शुरुआत में काम अत्यधिक होने के कारण दौड़ धुप करनी पड़ती थी। वो इतना थक जाते थे के कभी कभी थकान मिटाने के लिए दो एक दो पेग दारू के लगा लिया करते थे।

धीरे-धीरे यह उनकी आदत बन गई। पहले पहले मैं उनको उनकी इस आदत के लिए खूब कोसा करती थी मगर धीरे धीरे मैंने उनकी आदत को स्वीकार कर लिया। इसके दो तीन कारण थे पहला कारण तो बता मैं खुद देख सकती थी कि वह दारू को अय्याशी के लिए नहीं बल्कि एक जरूरत के हिसाब से पीते थे। दूसरा मुख्य कारण था कि वह दारू पीकर कभी भी हल्ला नहीं करते थे लड़ाई झगड़ा नहीं करते थे।
Reply
08-13-2019, 12:24 PM,
#2
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
वह काम से आते थे दारु पीते थे और उसके बाद सो जाते थे मगर सबसे बड़ा कारण यह था कि दारु पीने के बाद वह हर रोज मेरी खूब दम लगाकर चुदाई करते थे। मेरी हर हर रोज भरपुर ठुकाई होती थीर। अक्सर लोग कहते हैं कि जैसे जैसे आदमी की जवानी ढलती है दिन बीतते हैं वैसे वैसे सेक्स की चुदाई की इच्छा कम होने लगती है। यह बात मेरे पति के हिसाब से बिल्कुल ठीक थी। धीरे-धीरे उनकी चोदने की इच्छा कम हो रही थी लेकिन मेरे बारे में जो बिल्कुल उल्टी बात थी जैसे-जैसे मेरी उम्र बढ़ रही थी मेरी चुदवाने की इच्छा और भी तेज होती जा रही थी

ऐसे में जब मेरे पति रात को दारू से टुन्न होकर दनादन मेरी चूत मैं लंड पेलते थे और मेरी खूब दमदार चुदाई करते थे तो मैं भला उनकी दारू को बुरा भला कैसे कह सकती थी। बस उनके मुंह से आने वाली दुर्गन्ध अच्छी नहीं लगती थी। लेकिन एक बार जबाब उनका लण्ड मेरी चूत के अंदर उत्पात मचाना सुरु करता था तो दुर्गन्ध भी खुशबू लगने लगती थी। मेने कभी यह नहीं सोचा था के उनकी दारू की लत्त जिसका मुझे भरपूर लाभ मिलता था आगे चलकर कभी मेरे लिए इतनी बड़ी मुश्किल बन्न सकती थी के मेरी पूरी ज़िन्दगी ही बदल देगी।


हुआ यूँ के मेरी बेटी की शादी के समय मेरे जेठ जी भी अपने पूरे परिवार सहित आये हुए थे। वो अमेरिका में रहते हैं। उनका एक बेटा है जिसकी सगाई अमेरिका में हो चुकी थी मगर शादी दोनों परिवार भारत में ही करना चाहते थे। इसीलिए जब वो डॉली की शादी के लिए भारत आये तो उन्होने साथ में ही अपने बेटे की शादी करने का भी निर्णय कर लिया। मेरी बेटी की शादी के ठीक एक महीने बाद उनके बेटे की शादी की तारिख निकली। अब हम बंगलौर में रहते हैं जबके मेरे जेठ के लड़के के सुसराल वाले पुणे के हैं।

चूँकि हम लड़के वाले थे इस लिए हमें बारात लेकर पुणे जाना था। मेरे जेठ जी ने पुणे का एक पूरा होटल बुक् करवा लिया था। शादी के दो दिन पहले हम होटल पहुंचे थे। दोनों परिवार इतने रईस थे और शादी पर इतना खर्च हुआ के शादी की चकाचोंध देख कर पूरी दुनिया विस्मित हो उठी। डॉली को अपने पति के साथ अलग कमरा मिला था और मुझे अपने पति के साथ एक अलग कमरा जबके मेरे बेटे राज को दो और लड़को के साथ कमरा शेयर करना पड़ा था।
Reply
08-13-2019, 12:25 PM,
#3
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
पहली रात तो सफ़र की थकान ने हमें इतना थक दिया था के उस रात में और मेरा पति घोड़े बेचकर सोते रहे। मगर दूसरे दिन मेरा मन मचल रहा था। पूरा दिन शादी की ररंगीनियों में गुज़रा था। घर की सजावट से लेकर खाने पीने तक सभ कुछ इतना शानदार था के बस मन वाह वाह कर उठे। वैसे भी विदेश में वसने के कारन शादी का माहोल भी काफी खुलापन लिए था। लडकिया ऐसे छोटे छोटे और टाइट कपडे पहन कर घूम रही थी जैसे उन्होने कपडे अपने अंगों को ढकने की बजाये उन्हें दिखाने के लिए पहने हुए थे। मगर लडकिया तो लडकिया औरतें भी कम् नहीं लग रही थी।

किसी की साड़ी का पल्लू पारदर्शी था और अंदर से पूरा ब्लाउज मोटे मोटे मम्मो के दर्शन करवा रहा था तो किसी का लहंगा इतना टाइट था के गांड का पूरा उभार खुल कर नज़र आता था। कोई डीप गले का सूट पहन कर आधे मम्मे दिखाती घूम रही थी तो कई बिना ब्रा के इतना टाइट सूट पहन कर घूम रही थी के देखने वाले को पूरे मम्मो के दर्शन हो जाये। निप्पल तक पूरे साफ़ साफ़ दिखाई दे रहे थे।

मर्दों की खूब चांदी थी। गानों पर नाचते हुए औरतों को खूब मसल रहे थे। और गाने भी कैसे....मुन्नी बदनाम हुयी, बीड़ी जला ले... उफ्फ्फ ऐसा माहोल मेने नहीं देखा था। जिस तरह खुलेआम मरद औरतें एक दूसरे के साथ ठरक भोर रहे थे उनको देख कर मेरी ठरक भी कुछ् जयादा ही बढ़ गयी थी। मेरे निप्पल कड़े हो गए थे और चूत भी खूब रस बहा रही थी। ऐसे में एक मनचले ने नाचते हुए बहाने से दो तीन बार मुझे रगड़ दिया। उफ़फ हरामी ने चिंगारी को हवा देकर भड़का दिया था अब मेरा पूरा जिस्म वासना की भीषण अग्नि में जल रहा था। वहां का माहोल गरम और गरम होता जा रहा था।

हर कोई इशारों इशारों में बातें कर रहा था। हर मरद औरत टंका फिट कर रहे थे। आज कई औरतें पराये मर्दों के नीचे लेटने वाली थी। कईयो की आज सील टूटने वाली थी। आज रात चुदाई का खूब दौर चलने वाला था। खुद मेरी बेटी मेरे सामने अपने पति से लिपटी हुयी थी। उसे तो लगता था मेरी मोजुदगी से कोई मतलब ही नहीं था।
Reply
08-13-2019, 12:25 PM,
#4
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
खैर उसका दोष भी क्या था, नयी नयी शादी हुयी थी। चूत को लण्ड मिला था और जिस तरह से मेरा दामाद उसे खुद से चिपकाये हुए था, जैसे वो बार बार उसके अंगो को सहला रहा था, मसल रहा था लगता था मेरी बेटी की खूब दिल खोलकर ठुकाई करता था। इधर वो कम्बखत जिसने नाचने के दौरान कई बार मुझे मसला था मेरे आगे पीछे ही घूम रहा था। कमीने ने बड़े ज़ोर ज़ोर से मम्मो को मसला था।

निप्पल मैं अभी भी हलकी हलकी चीस उठ रही थी। अभी भी मौका देखकर वो कई बार मेरे नितम्बो में ऊँगली घुसा चूका था। मेने उसे घूर कर देखा मगर हद दर्जे का ढीठ इंसान था। वैसे भी जवान था। कोई पैंतीस के करीब का होगा। जिसम भी बालिश्ठ था। ऐसे आदमी बहुत ज़ोरदार चुदाई करते हैं। वो जिस तरह से मुझे देख रहा था लगता था बस मौके की तलाश कर रहा था के कब् मुझे ठोकने का उसे मौका मिला।

वो मेरी और देखते हुए ऐसे होंठो पर जीभ फिरा रहा था और इस तरह पेंट के ऊपर से अपने लण्ड को मसल रहा था जेसे वहीँ मुझे खड़े खड़े ही चोद देना चाहता हो। पेंट का उभार देखकर लगता था खूब मोटा तगड़ा लण्ड था। मेरी चूत पानी पानी हो चुकी थी। पूरी देह कामाग्नि मैं जल रही थी। अब तो मेरा दिल भी खुल कर चुदवाने के लिए मचल रहा था। और मेरे सामने वो अजनबी पूरी तरह तयार था मेरी भरपूर चुदाई के लिए। एक तो पिछली रात को मेरी चुदायी नहीं हुयी थी और ऊपर से आज के माहोल ने मुझे इतना गरम कर दिया था के एकबारगी तो मेरा दिल भी मचल उठा के आज पराये लण्ड से चुद जायुं। उफ्फ्फ कामोन्माद मेरे सर चढ़कर बोल रहा था और मैं जिसने आज ताक अपने पति के सिवा किसी दूसरे लण्ड को छूआ तक नहीं था

आज पराये मरद के नीचे लेटने के लिए मचल रही थी। दिल कर रहा था आज अपने जिसम को लूटा दूँ, उस अनजान आदमी से अपना कांड करवा दूँ, अपनी चूत के साथ साथ अपनी गांड भी उससे मरवायुं। और यकीनन ऐसा हो भी जाता अगर में वहां से चली न आती। अगर कुछ देर और वहां रूकती तोह जरूर उससे ठुकवा बैठती। मैं कमरे में आते ही नहाने चली गयी। ठन्डे पानी ने आग को और भड़का दिया। चूत लण्ड के लिए रो रही थी। मेरे मम्मे मैं कसाव भर गया था। निप्पल इतने अकड़े हुए थे के ज़ोर ज़ोर से मसल कर ही उनको ढीला किया जा सकता था।


मेरा दिल तो जरूर था ऊँगली से खुद को शांत करने का। मगर मेने अपने पति का इंतज़ार करना ही बेहतर समझा। आग तो आज उसके दिल में भी बराबर लगी होगी। कल रात उसके लण्ड को भी चूत नसीब नहीं हुयी थी। और वेसे भी वो आज खूब पिए हुए था। आज तो जरूर पतिदेव मेरी चूत की ऐसी तैसी कर देने वाले थे। उन्हें भी मेरी चूत मारे बिना नींद कहाँ आती थी। जरूर आने ही वाले थे। मगर इंतज़ार एक पल का भी नहीं हो रहा था। मेने बदन पोंछा और कमरे की बत्ती बंद करके पूरी नंगी ही बेड पर लेट गयी।
Reply
08-13-2019, 12:26 PM,
#5
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
मुझे नहाये हुए दस् मिनट ही गुज़रे होंगे के अचानक से कमरे का दरवाजा खुला और पतिदेव अंदर आये। मेने झट से अपने ऊपर चादर खींच ली के कहीं उनके साथ कोई हो ना। मगर वो अकेले थे उन्होने दरवाजा खोला और अंदर कदम रखते ही वो गिर पड़े। लगता था दारू कुछ जयादा ही चढ़ा ली थी। मेने कुछ पल इंतज़ार किया के वो उठकर बेड की तरफ आ जाये। मगर जिस तरह उन्होने पी रखी थी उससे तो उनका बेड ढूंढ पाना भी मुश्किल ही था। मुझे ही हिम्मत करनी थी। मैं चादर हटाकर बेड से नीचे उतरी। दरवाजा हल्का सा खुला था इसलिए मेने बत्ती नहीं जलायी। पूरी नंगी दरवाजे के पास गयी।

दरवाजा बंद करके मेने पति को सहारा दिया और वो खांसता हुआ उठ खड़ा हुआ। उससे शराब की तेज़ गंध आ रही थी। मुझे शक हो रहा था के वो इतने नशे में मुझे चोद भी पायेगा के नहीं। में किसी तरह पति को बेड तक लेकर गयी और वो उस पर गिर पड़ा। मेने जल्दी से।उसके बदन पर हाथ घुमाया तोह मेरा दिल ख़ुशी से झूम उठा। उसका लण्ड पत्थर की तरह कठोर था। मेने उसे हाथ में पकड़ कर मसला तोह उसने तेज़ ज़ोरदार झटका खाया। उफ्फ्फ आज तो उसका लण्ड कुछ जयादा ही तगड़ा जान पढता था। एकदम कड़क था। बल्कि मेरे मसलने से और भी कडा होता जा रहा था। अब मुझे परवाह नहीं थी। अगर पतिदेव कुछ नहीं भी करते तो में खुद लण्ड पर बैठकर दिल खोलकर चुदवाने वाली थी।

मेने पेंट को खोला और खींच कर टांगो से निकल दी। फिर मेने जांघिये को इलास्टिक से पकड़ खींचते हुए पैरों से निकाल कर नीचे फेंक दिया। मैं बेड के किनारे बैठ लण्ड को हाथ में लेकर मसलने लगी।

"उफ्फ्फ्फ्फ़.........कहाँ थे जी आप अब तक। यहां मेरी चूत जल रही है और आपको शराब के बिना कुछ नजर ही नहीं आता। कल रात भी आपने मुझे नहीं चोदा। वैसे आपको तो शायद याद न हो मगर इस पूरे साल में कल पहली रात थी जब अपने मेरी चूत नहीं मारी थी।" पतिदेव की तेज़ तेज़ भरी साँसे गूंज रही थी। वो जाग रहे थे मगर कुछ बोल नहीं रहे थे जा शायद जयादा शराब पिने के कारन बोलने लायक नहीं रहे थे।

"थोड़ी कम पी लेते।" मैं पतिदेव के टट्टो को हाथों मैं भर सहलाती बोली। मेने थोडा सा दवाब बढ़ाया तो उनके मुंह से तेज़ सिसकी निकली। वो जाग रहे थे अब कोई शक नहीं था। मेने अपना मुंह झुक्या और सुपाड़े को अपने होंठो में भर लिया। जैसे ही मेरी जिव्हा लण्ड की मुलायम त्वचा से टकराई पतिदेव के मुंह से 'आह्ह्ह्ह्ह्' की ज़ोरदार सिसकारी निकली। में मन ही मन मुस्करा उठी। लण्ड को होंठो में दबा में सुपाड़े को चाटती उसे चूसने लगी।

एक हाथ से टट्टे सहलाती मैं मुख को धीरे धीरे ऊपर नीचे करने लगी। लण्ड और अधिक फूलता जा रहा था। मुझे हैरानी होने लगी थी मगर हैरानी से ज्यादा ख़ुशी हो रही थी। मेरा मुख और भी तेज़ी से ऊपर नीचे होने लगा। तभी पतिदेव ने मेरे सर को पकड़ लिया और अपना पूरा लण्ड मेरे मुंह में घुसाने लगे। मेने उनके पेट पर हाथ रखकर उन्हें ऐसा करने से रोका। पहले मैं उनका पूरा लण्ड मुंह में ले लेती थी मगर आज जिस प्रकार उनका लौड़ा फूला हुआ था मैं चाह कर भी उनका पूरा लण्ड मुंह में नहीं ले सकती थी। वैसे भी उस समय मैं लण्ड मुंह में नहीं अपनी चूत में चाहती थी।
Reply
08-13-2019, 12:26 PM,
#6
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
मेने लण्ड से अपना मुख हटाया और पतिदेव की टांगे उठाकर बेड के ऊपर कर दी। फिर मैं फ़ौरन बेड के ऊपर चढ़ गयी। एक हाथ से लण्ड पकडे मैं पतिदेव के ऊपर सवार हो गयी। उनकी छाती पर एक हाथ रखकर मैं ऊपर को उठी जबके दूसरे हाथ से उनका लण्ड थामे रखा। जहां अंधेरे में मेने अपनी कमर हिलाकर अंदाज़े से लण्ड के निशाने पर रखी और फिर धीरे धीरे कमर नीचे लाने लगी। लण्ड मेरे दोनों नितम्बो के बिच घुसता हुआ आगे मेरी चूत की और सरकने लगा। जैसे ही लण्ड का सुपाड़ा मेरी भीगी चूत के होंठो से टकराया हम दोनों के मुख से आह निकल गयी। आज हम दोनों कुछ जयादा ही उत्तेजित थे। पतिदेव का लौड़ा तो कुछ जयादा ही मचल रहा था।


"ऊऊफ़्फ़फ़्फ़ देखिये ना आपका लण्ड कितनी बदमाशी कर रहा है। एक दिन चूत नहीं मिली तो कैसे अकड़ कर उछल कूद मचा रहा है। अभी इसको मज़ा चखाती हूँ।" मैं लण्ड को हाथ में दबाये मैंउस पर चूत का दबाव देने लगी। मेरी चूत के होंठ खुले और सुपाड़ा धीरे धीरे अंदर सरकने लगा। उफ्फफ़फ़फ़ सुपाड़ा अंदर घुसते घुसते मुझे पसीना आने लगा। लण्ड इतना फूला हुआ था के मेरी चूत को बुरी तरह से फैला रहा था। मेने अपने सूखे होंठो पर जीभ फिराई और फिर से दबाव बढ़ाना शुरु किया। मेरी रस से सरोबर चूत में पल पल लण्ड अंदर धंसता जा रहा था। मुझे हलकी हलकी पीड़ा के साथ अत्यधिक चुभन महसूस हो रही थी जिसने मुझे असमंजस में डाल दिया था।


मगर मैं कामोन्माद के चरम पर थी और उस समय सिर्फ और सिर्फ चुदवाने के बारे में ही सोच रही थी। आज तक सिर्फ और सिर्फ मेरे पति ने ही मुझे चोदा है। एक इकलौता लण्ड मेरी हूत में हज़ारों हज़ारों दफा गया है इसलिए मुझे अच्छा खासा एहसास है के वो चूत के अंदर किस सीमा तक घुसता है। और आज जब वो लण्ड उस सीमा से काफी आगे पहुँच चूका था तो मुझे हैरत होने लगी। शायद आज अतिउत्तेजना की वजह से उनका लण्ड कुछ अत्यधिक फूल गया था। जब मेने उसे मुठी में भरा था तो मुझे वो बहुत मोटा लगा था। अचानक नजाने कयों मुझे अजीब सा लगा और मैं अपना एक हाथ नीचे हम दोनों के बीच ले गयी। उफ्फ्फ मेरे आस्चर्य की सीमा न रही। लण्ड तो अभी भी एक इंच से जयादा बाहर था। मैं कुछ समझ पाती उसी समय मेरे पति के दोनों हाथ मेरी कमर पर कस गए और आईईईईईईए.......... मेरे मुंह से तेज़ सिसकारी निकल गयी।
Reply
08-13-2019, 12:26 PM,
#7
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
कमीने ने दोनों हाथों में मेरी कमर जकड़ कर नीचे को दबाया और नीचे से अपनी कमर ऊपर को उछाली और पूरा लण्ड मेरी चूत में पेल दिया। वो कमीना ही था। मेरे पति का लण्ड इतना लम्बा मोटा नहीं हो सकता था। वो कौन था मुझे कोई अंदाज़ा नहीं था और में सोचने की हालात में भी नहीं थी। कमीने ने लण्ड अंदर घुसाते ही धक्के लगाने सुरु कर दिए। मेरी कमर पकड़ वो नीचे से दनादन मेरी चूत में लण्ड पेलने लगा। मेरी कमर को उसने बहुत कस कर पकड़ा हुआ था के कहीं मैं भाग न जायुं। मगर मैं भागने की स्थिति में तो थी नहीं। कामोत्तेजना तो पहले ही मेरे सर चढ़ी हुयी थी और चूत में उस भयंकर लण्ड के ताकतवर धक्को ने मुझे पसत कर दिया। मेरे मुख से सिसकियाँ निकलने लगी। मैं आह उनन्ह उफ्फ्फ करती सिसकती कराहती चुदने लगी। सिसकियों के साथ साथ में खुद अपनी कमर हिलती चुदाई में उसका साथ देने लगी। मुझे राजी देखकर उसकी पकड़ धीरे धीरे मेरी कमर पर हलकी पढने लगी। जैसे ही मेरी कमर पर उसकी पकड़ ढीली पड़ी मेने अपने दोनों हाथ उसकी छाती पर रखे और उछाल उछाल कर अपनी चूत उसके लण्ड पर पटकने लगी। वो भी ताल से ताल मिलाता मेरी चूत में लण्ड पेलने लगा। फच फच की आवाज़ कमरे में गूंजने लगी।


मेने एक बार भी उस पराये आदमी को रोकने की कोशिश नहीं की थी। मेरे दिल में ख़याल तक नहीं आया था के मैं अपने पति के साथ धोखा कर रही हूँ। सुना था भगवान मन की मुराद पूरी कर देता है आज देख भी लिया था। आज शाम से बार बार मन में पराये आदमी से चुदवाने का ख़याल आ रहा था और अब हक़ीक़त में एक ताकतवर लण्ड मेरी चूत को बुरी तरह से रगड़ ररहा था। उफ्फ्फ्फ्फ़ ढ कहीं यह वही तो नहीं जिसने डांस के समय कई बार मेरे मम्मो को मसल दिया था। वही होगा। पूरी शाम मेरे आगे पीछे घूम रहा था।

मैं अभी सोच ही रही थी के उसने मेरी बाहें पकड़ी और मुझे अपने ऊपर गिरा लिया। फिर वो मुझे एक तरफ को करके मेरे ऊपर आ गया। मेरी टांगे के बीच आकर उसने मेरे पैर पकडे और उठाकर अपने कंधो पर रख लिए। मेने अपनी टांगे आगे कर उसकी गर्दन पर लपेट दी। उसने अपना लौड़ा मेरी चूत रखा और एक करारा झटका मारा। कमीने ने पूरा लौड़ा एक ही झटके में जड़ तक पेल दिया था। मैं चीख ही पड़ी थी। मगर उसने कोई दया न दिखाई और मेरे कंधे थाम मेरी चूत में फिर से लण्ड पेलने लगा। 'आअह्ह्ह्ह्ह....ऊऊन्ग्गह्ह्ह्ह्ह्ह्........ऊऊऊम्मम्मम्म....' मेरी सिसकियां तेज़ और तेज़ होने लगी। वो और भी जोश में आ गया।
Reply
08-13-2019, 12:26 PM,
#8
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
"ऊऊफ़्फ़फ़्फ़.........हायययययययययय.........मेरे मेरे मम्मे पकड़ो....मेरे मम्मे पकड़ो.." मेने उसके हाथ कंधो से हटाकर अपने मम्मो पर रख दिए। उसने तृन्त मेरे मम्मो को अपने हाथो में कस लिया। "ऐसे ही मेरे मम्मो को मसल मसल कर मुझे चोदो। कस कस कर चोदो मुझे" मैं उस अनजान सख़्श से बोली। और जैसा मेने उसे कहा उसने वैसा ही किया।

मेरी टांगे कंधो पर जमाये उसने ऐसे ताबड़तोड़ धक्के मेरी चूत में लगाये के में बदहवासी में चीखने लगी। उसका मोटा लण्ड मेरी चूत को इतनी बुरी तरह रगड़ रहा था और मुझे ऐसा असीम आनंद आ रहा था के में उसे उकसाती कमर उछाल उछाल कर चुदवाने लगी। वो भी धमाधम लण्ड पेले हा रहा था। कैसा जबरदस्त आनंद था और वो आनंद पल पल बढ़ता ही जा रहा था। आखिरकार मेरा बदन अकड़ने लगा। मैं हाथ पांव पटकने लगी।

"उफ्फ्फ्फ़......मारो......और ज़ोर ज़ोर से मारो.......हाय चोदो मुझे जितना चाहे चोदो..........पूरा लौड़ा पेलो.........आआईईईईई......." मैं बहुत देर तक टिक न सकी और मेरी चूत से रस फूटने लगा। वो अजनबी अभी भी मुझे पेले जा रहा था। एक एक धक्का खींच खींच कर लगा रहा था। और फिर वो भी छूट गया। मेरी जलती चूत में उसका गरम गरम रस गिरने लगा। हुंगार भरता वो मेरी चूत को भरने लगा। वो अभी भी धक्के लगा रहा था। आखिरकार उसके धक्के बंद हो गए। मगर वो अब भी उसी हालात में था। अब भी उसके हाथ मेरे मम्मो को कस कर पकडे हुए थे।

अब भी मेरी टांगे उसके कंधो पर थी। मेरी साँसे लौट चुकी थी। मेने उस अजनबी के चेहरे को पकड़ अपने चेहरे पर झुक्या और अगले ही पल हमारे होंठ मिल गए। मैं उसकी जिव्हा को अपने होंठो में भरकर चूसने लगी। वो भी मेरे मुखरस को पीता मेरे होंठो को काटता मुझे चूमने चाटने लगा। धेरे धीरे उसके हाथ मेरे मम्मो पर फिर से चलने लगे। कभी मैं उसके होंठो को चूमती चुस्ती तो कभी वो। हमारी साँसे फूलने लगी। जब हम दोनों के चेहरे अलग हुए तो हम हांफ रहे थे। सांसे सँभालते ही हमारे होंठ फिर से जुड़ गए।

"मेरी टांगो में दर्द हो रहा है" इस बार जब हमारे होंठ जुदा हुए तो मेने उसे धीमे से कहा। उसने तृन्त मेरे मम्मो से हाथ हटाये और आराम से मेरी टांगे अपने कंधो से उतार दी और फिर वो मेरे ऊपर से हट गया। कुछ देर बाद वो उठा और अँधेरे में अपने कपडे ढूंढने लगा।

"दरवाजे के दायीं और स्विच है।" मेने उसे बताया। मगर उसने स्विच ओन नहीं किया और वहीँ अँधेरे में हाथ चलता रहा। मुझे उस पर हैरत हो रही थी। वो अभी अभी मुझे चोद कर हटा था और मुझे चेहरा दिखने में उसे डर लग्ग रहा था। जबके एक औरत होने के नाते डरना मुझे चाहिए था। खैर उसे अपनी पेंट मिल गयी और वो पहनने लगा। मुझे उसका इस तरह से अचानक चला जाना अच्छा नहीं लगा।
Reply
08-13-2019, 12:26 PM,
#9
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
"सुनो...." दरवाजे के हैंडल को पकडे वो वहीँ पर रुक गया। "तुमने अभी अभी मुझे चोदा है कम से कम मुझे अपना नाम तो बताकर जाओ..." मगर वो कुछ नहीं बोला और उसने दरवाजे का हैंडल घुमाया। मुझसे रहा नहीं गया। "तुम डर क्यों रहे हो? तुमने चोरी से मेरे रूम में घुसकर जबरदस्ती मेरी चुदाई की है मगर मेने तुम्हे कुछ नहीं कहा बल्कि तुम्हारा पूरा साथ दिया है। फिर इस तरह घबरा कर भाग क्यों रहे हो।" वो फिर भी कुछ नहीं बोला। शायद वो मन में हालात का जायजा वे रहा था। मैं उसे अभी जाने नहीं देना चाहती थी। और उसे रोकने के लिए उसे विस्वास दिलाना जरूरी था के मैं उसका पकड़वाने वाली नहीं थी।

"देखो अगर मेने तुम्हे पकड़वाना होता तो में तुम्हे कब की पकड़वा चुकी होती.......तुम्हे खुद इस बात बात का एहसास होना चाहिये। तुम बेकार में डर रहे हो।" वो कुछ पल खड़ा अँधेरे में सोचता रहा और फिर जैसे उसने फैसला कर लिया। उसने हैंडल घुमाया। मैं बेड से नीचे उतरी। कैसा गधा है यह, मैं इसे निमत्रण दे रही हूँ और यह भाग रहा है|

"देखो रुको.....जाने से पहले मेरी बात सुनलो" उसके हाथ वहीँ ठिठक गए। अब आखिरी मौका था उसे रोकने का। "देखो मुझे लगता है तुम जानते हो के मैं कौन हूँ और तुम मुझे पहचानते हो.....लेकिन मुझे नहीं मालूम तुम कौन हो नाही मैं तुम्हे पहचानती हूँ और अगर तुम बताना नहीं चाहते तो मुझे कोई एतराज़ नहीं है। मैं तुमसे नहीं पूछूंगी।" इस बार मेरे शब्दों ने असर दिखाया और उसने हैंडल छोड़ दियाऔर वो मेरी तरफ घूम गया। "जो सुख जो आनंद आज तुमने मुझे दिया है मेरे पति ने आज तक मुझे नहीं दिया। इतना मज़ा.....इतना मज़ा पहले कभी नहीं आया।"मैं चलते चलत्ते उसके पास पहुच गयी थी। हम दोनों आमने सामने थे। "मैं तुम्हारा सुक्रिया अदा करना चाहती थी। तुम्हारा नाम इसलिए पूछ रही थी के अगर बाद में कभी......कभी भी.......मेरा मतलब है अगर कभी फिर से तुम्हारा दिल करे तो मुझे कोई एतराज़ नहीं है" मैं सिसकती आवाज़ में बोली। अब वो मेरी बात सुन रहा था और वहां से जाने के बारे में भूल चूका था। मेने अपना हाथ आगे बढाकर उसके सीने पर रखा और फिर उसे नीचे की और ले जाने लगी। उसकी सांसो की रफ़्तार तेज़ हो रही थी। शायद वो भी अभी वहां से जाने का इच्छुक नहीं था। मगर अपना भेद खुलने से डर रहा था। मेरा हाथ जब पेंट की जिपर पर गया तो वहां पर हलकी सी हलचल देख कर मेरे होंठो पर मुस्कान आ गयी। मेने धेरे से पेंट की जिपर नीचे खींच दी। और उसके जांघिये में हाथ डालकर उसका कड़क होता लण्ड पकड़ लिया। मेरा हाथ लगते ही वो सिसक उठा।
Reply
08-13-2019, 12:26 PM,
#10
RE: Maa Bete ki Vasna मेरा बेटा मेरा यार
"तुम्हारा यह बहुत बड़ा है.....बहुत मोटा है.......लंबा भी खूब है......मुझे नहीं मालूम था यह इतना बड़ा भी हो सकता है" मैं लण्ड को मसलते बोली जो अभी भी मेरी चूत के रस से भीग हुआ था। । लण्ड तेज़ी से अकड़ता जा रहा था। "उफ्फ्फ्फ़ यकीन नहीं होता इतना मोटा लण्ड मेरी चूत के अंदर था.......बहुत ज़ोर से ठोका है तुमने मुझे......मेरी चूत में चीस उठ रही है" में आग में घी डालते बोली। उसकी सांसो की रफ़्तार मुझे बता रही थी के वो कितना उत्तेजित है। वो धीरे धीरे मेरे हाथों मैं अपना लण्ड ठेल रहा था। "सुनो.....मेरे पति आज रात आने वाले नहीं है......अगर तुम कुछ देर और रुकना चाहो तो......" वो कुछ नहीं बोला। मेने उसके लण्ड से हाथ हटाये और उसके हाथ पकड़ अपने मम्मो पर रख दिए। वो मेरे निप्पलों को मसलने लगा और में उसकी पेंट की बेल्ट खोलने लगी। उसकी पेंट और जांघिया खुलते ही उसने अपना चेहरा झुक्या और मेरे निप्पल को होंठो में भरकर चुसकने लगा। में फिर से उसका लण्ड मसलने लगी। वो मेरे मम्मो को चूस्ता चाटता उन्हें दांतो से काट रहा था और में उसे रोक नहीं रही थी।

कुछ देर उससे मम्मे चुसवा कर मेने उसका चेहरा अपने सीने से हटाया और उसके पैरों के पास घुटनो के बल बैठ गयी। मैं जीभ निकाल उसके लण्ड को चाटने लगी। उसकी सिसकारियाँ गूंजने लगी। अब वो मेरे बस में था। सुपाड़े को अपनी जिव्हा से रगर रगड़ कर लाल करने के बाद मेने उसे अपने मुंह में भर लिया और उसे चूसने लगी। में अपना मुख हिलाती लण्ड को खूब मज़े से चुसक रही थी। अब उसका लण्ड फिर से अपने भयन्कर रूप को धारण कर चूका था। मुझसे इंतज़ार नहीं हो रहा था और उस अजनबी से भी नहीं। उसने मेरे कंधे पकड़ मुझे उठाया। मैं खड़ी हो गयी और हमारे होंठ मिल गए। मुझे चूमते हुए उसने मेरी एक टांग उठा ली और मेरी चूत पर लण्ड दबाने लगा। मेने लण्ड को हाथ से पकड़ रास्ता दिखाया। अगले ही लण्ड का सुपाड़ा चूत में था। में उत्तेजना में उसके होंठ काटने लगी। मेने अपनी टांग उसकी कमर पर लपेट दी और अपनी बाहें उसके गले में डाल दी। उसने एक हाथ से मेरी टांग को उठाया और दूसरे को मेरी पीठ पर लपेट मेरी चूत में लण्ड पेलने लगा। वो मुझे ठोकने लगा और मैं फिर से ठुकने लगी। हम दोनों एक दूसरे के मुंह में सिसक रहे थे। दोनों चुदाई में एक दूसरे की सहायता कर रहे थे। उसका मोटा लण्ड मेरी चूत में खचाखच खचाखच अंदर बाहर हो रहा था।

"कहीं तुम वहीँ तो नहीं जो डांस के समय बार बार मेरे मम्मो को मसल रहा था और मेरी गांड में ऊँगली डाल रहा था।" मगर उसने कोई जवाब नहीं दीया। वो बस लगातार मुझे चोदे जा रहा था जेसे उसे यह मौका दुबारा नहीं मिलने वाला था। मेने उसे दुबारा नहीं पूछा। कहीं वो डर कर चुदाई बंद न कर दे। मुझे भी ऐसा कड़क लण्ड शायद दुबारा नहीं मिलने वाला था इसीलिए मेने भी मौके का पूरा फायदा उठाने की सोची और मस्ती में खुल कर चुदवाने लगी। हर धक्के का जवाब में भी बराबर ज़ोर लगा कर दे रही थी। पूरी मस्ती में ठुकवा रही थी।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Incest Kahani दीदी और बीबी की टक्कर sexstories 47 17,418 Yesterday, 12:20 PM
Last Post: sexstories
Star Desi Sex Story रिश्तो पर कालिख sexstories 142 111,195 10-12-2019, 01:13 PM
Last Post: sexstories
  Kamvasna दोहरी ज़िंदगी sexstories 28 21,593 10-11-2019, 01:18 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 120 322,082 10-10-2019, 10:27 PM
Last Post: lovelylover
  Sex Hindi Kahani बलात्कार sexstories 16 177,558 10-09-2019, 11:01 AM
Last Post: Sulekha
Thumbs Up Desi Porn Kahani ज़िंदगी भी अजीब होती है sexstories 437 176,229 10-07-2019, 01:28 PM
Last Post: sexstories
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 64 414,122 10-06-2019, 05:11 PM
Last Post: Yogeshsisfucker
Exclamation Randi ki Kahani एक वेश्या की कहानी sexstories 35 30,145 10-04-2019, 01:01 PM
Last Post: sexstories
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) sexstories 658 681,870 09-26-2019, 01:25 PM
Last Post: sexstories
Exclamation Incest Sex Kahani सौतेला बाप sexstories 72 158,351 09-26-2019, 03:43 AM
Last Post: me2work4u

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


conxxxbafbhan.k.keet m choda sex storixxx saiqasee vix.Bihar wali bhabhiyon ki desi chudai ki baate phone se saheliyon se karti hui adult se Dus Kahaniyaan in girls Baatein in Hindixxx indian bahbi nage name is pohtosKajol devgan sex gif sexbabaरिकशा वाले से चुदाई की कहानीmeenakshi sheshadri sex sex fak babasexTv acatares xxx all nude sexBaba.netbed per letaker bhabhi ki cudai ki blouse maicache:P-NlPxkT1fkJ:https://mupsaharovo.ru/badporno/showthread.php?mode=linear&tid=42&pid=24410 galti desi incest stories Indian anjane asmanjas Nidhi Agarwal नगा फोटोphudi parny waly xxxbbw girl with tadpti girl picsex k liyePYASI BADAN KE AAG KO LAND PANI SA THANDA KARNA PARA HINDI ANTERVASNA UTTAJIT KHANI.Schoolme chudiy sex clipsMote gand m mota lan kahanyaNude Ritika Shih sex baba picsmallika serawat konsi movei m.naggi dikhigirl or girls keise finger fukc karte hai kahani downlodKuware land ke karname sudh aunty ki chudainora fatehi ke kachi or choli pornहिरोइन तापसी पणू कि चुदाईLund chusake चाची को चोदaPic of divyanki tripati nude oiled assJbrdst bewi fucks vedeomaa chachi aur dadi ko moot pila ke choda gav memene gandi gali de kar apni chut chudbai mast hoke chudisex ko kab or kitnee dyer tak chatna chaey in Hindi with photomaa ne bete ko peshab pila ke tatti khilaya sex storyNebor ki Modern silky night gown nikal ke ki fuck vedeoसगी बहन के बुर मे लड घुसायkahan kahan se guzar gia 315 yumstoriesदीदी में ब्लाउज खोलकर दूध पिलायादेसी "लनड" की फोटोMy sexy sardarni invite me.comसकसी फोटूAnju bhabhi ne apni chut chudbai mujhse sexy storynew 2019 sasatar and baradar xnx ka kahanimuslim insect chudai kahani sex babaHot. Baap. Aur. Pati. Bed. Scean. Xvideoसाली नो मुजसे चुतमरवाईanterwasna nanand ki trannig storiesileana xxx sex baba.comआदमी के सो जाने के बाद औरत दूसरे मर्द से च****wwwxxxvj bani xxx nangi photoओरतो को चुढाई करवाने का मन कसे लगता हैँ ईसटोरीMarathi stori ma ko goa me lejake chodatop kavyaa porn fake seXbaba nude Aakhir iccha maa sex storiesnipple ko nukila kaise kareiAnty jabajast xxx rep video bhala phekxxxchunmuniya sexnetwo.comxxx jis ma bacha ma k sat larta haxxxbilefilmsonarika bahdoria lesboमम्मी को गुलाम बनाया incest xossipkam karte samy chodaexxxurvashi dholakia fake nude in saxbaba2औरते 1 मर्द की चुदाई की कहानियाँma peeta bate bfxxxx 2019Mousi ko apne peshab se nahlaya. Comshriya saran ki bagal me pasina ka imagrjavan wife ki chudai karvai gundo sesouth heroin photo sexbaba.com page 44seksee.phleebarshubhangi atre fake gifGARAMA GARAM HDSEX .COMAnjum farooki ki nangi photowww sexbaba net Thread porn hindi kahani E0 A4 B0 E0 A4 B6 E0 A5 8D E0 A4 AE E0 A4 BF E0 A4 8F E0 A4Desi g f ko gher bulaker jabrdasti sex kiya videoमेरी आममी कि मोटी गाँड राजसरमालगडे ने चोदीdeshi ladkisalwar soot me chodaiMARATHI Beteke pas Mami papa ka six videogaw me bur dikhke pisab ladki vidioup shadi gana salwar suit pehan Kar Chale Jaate Hain video sexपुचची त बुलला sex xxxxnxxgand me kaise luand dalte haitarak mehta ka nanga chashma sex kahani rajsharma part 99Gf k bur m anguli dalalna kahaniआने ससुर की पत्नी हो गई चुदवाके और मेरा पति मेरा बेटाKhushi uncontrolled lust moansAnty jabajast xxx rep video https://www.sexbaba.net/Thread-amazing-indiansलहान पुदी चोदनेDidi tumare bhot yad aare hai sex राजशरमा की कामुख हिँदी स्टोरी बाबा सेक्स नेट पेsexdesi hotsex bigass khandasavita bhabhi ki ugal malish 53 porn hindi comics freexxx वीडियो मैय तेरी बीवी हूँ मैय तेरे मुहमे पेशाब करोNimrat kaur all nude photos on sexbaba.com