Mastram Kahani खिलोना
11-12-2018, 12:34 PM,
#1
Lightbulb  Mastram Kahani खिलोना
खिलोना पार्ट--1



हेल्लो दोस्तों मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा आपके लिए एक और नई कहानी लेकर हाजिर हूँ

आज रीमा बहुत खुश थी & होती भी क्यू ना-उसकी शादी की पहली सालगिरह जो थी.पिच्छले एक-डेढ़ महीने से उसका पति रवि कुच्छ उखड़ा-2 सा & परेशान रह रहा था,पर आज सवेरे ऑफीस जाने से पहले उसने पहले की तरह उसे बाहों मे भर कर जम कर चूमा & प्यार किया था & जाते-2 कह गया था की ऑफीस से आधे दिन की च्छुटी लेकर आ जाएगा.रीमा भी उसे रिझाने & खुश करने मे कोई कसर नही छ्चोड़ना चाहती थी.

बाथरूम मे घुस उसने सारे कपड़े उतारे & शवर ओन कर उसके नीचे खड़ी हो गयी & रवि से हुई वो पहली मुलाकात याद करने लगी.पुणे के जिस हॉस्पिटल मे वो नर्स थी,रवि उसमे अपनी टूटी टाँग का इलाज करने के लिए अड्मिट हुआ था.उस दिन नया ड्यूटी रॉस्टर मिलने पे उसके वॉर्ड मे आज रीमा का पहला दिन था.रवि वाहा कुच्छ दीनो पहले ही अड्मिट हुआ था.जब वो उसे दवा देकर & उसका चार्ट चेक कर जाने लगी तो वो बोला,"नर्स."

"जी?"

"मैं आपके हॉस्पिटल मॅनेज्मेंट की चाल समझ गया हू?"

"जी?",रीमा ने हैरत भरी सवालिया नज़रो से उसे देखा.वॉर्ड के बाकी पेशेंट्स,नर्सस & स्टाफ भी दोनो की बात सुनने लगे थे.

"जी हां.आपका मॅनेज्मेंट बहुत चालक है.उसने जान-बुझ कर इतनी अच्छी नर्सस यहा रखी हैं की पेशेंट को आराम तलबि की लत लग जाए & वो ठीक ही ना होना चाहे,या फिर ठीक हो भी जाए तो यही पड़ा रहे & आराम की ज़िंदगी जीता रहे & हॉस्पिटल जूम के पैसे कमा सके."

उसकी बात सुनते ही वॉर्ड मे सभी की हँसी च्छुत गयी.रीमा भी मुस्कुरा दी & वॉर्ड से निकल गयी.रवि की इस बात पे किसी दूसरी नर्स ने कुच्छ जवाब दिया & वॉर्ड मे हँसी-मज़ाक का सिलसिला चल पड़ा.जहा सब दिल खोल कर हंस रहे थे वही रीमा बस मुस्कुराते हुए वाहा से निकल आई थी.

रीमा को शायद ही कभी किसी ने खुल कर हंसते या जम कर गप्पे लड़ाते देखा हो.लगता था जैसे वो खुद को रोक लेती थी अपनी भावनेयो का खुल कर इज़हार कर लेने से.शायद इसका कारण ये था कि वो 1 अनाथाश्रम मे पली-बढ़ी थी.1 आम बच्चा जैसे-2 बड़ा होता है तो अपने माता-पिता से चीज़ो के लिए ज़िद करता है,कभी उनसे रूठ जाता है तो कभी उनकी गोद मे चढ़ उनसे दुलार करवाता है.पर 1 अनाथ इन सब चीज़ो से महरूम रहता है & शायद इसी कारण वो अपनी चाह,अपने एहसास अपने दिल मे दबाना सीख जाता है.

रीमा अनाथ थी.उसने जब से होश संभाला खुद को अनाथाश्रम मे पाया.अनाथाश्रम की कर्ता-धर्ता थी मौसी.मौसी यानी मिसेज़.भटनागर,पता नही कब किसी बच्चे ने उन्हे मौसी कह दिया था.उसके बाद तो उनका नाम ही मौसी पड़ गया.मौसी का अपना भरा-पूरा परिवार था पर फिर भी वोआनाथाश्रम को पूरा वक़्त देती थी &रीमा को तो बहुत मानती थी.रीमा जल्द से जल्द अपने पैरो पे खड़ी होना चाहती थी सो स्कूल ख़त्म करते ही उसने नर्सिंग मे ग्रॅजुयेशन किया & इस हॉस्पिटल को जाय्न कर लिया.पर आज भी वो अपने अनाथाश्रम & मौसी को नही भूली थी & जब भी मौका मिलता वाहा उनसे मिलने ज़रूर जाती.

रवि के वॉर्ड मे ड्यूटी लगी तो रोज़ उस से मुलाकात होने लगी.उसे रवि 1 बड़ा ज़िंदाडिल & खुशमिजाज़ शख्स लगा.हर वक़्त हल्की-फुल्की बातें या फिर कोई मज़ाक करता रहता पर कोई भी बात तमीज़ के दायरे के बाहर नही जाती.इसी कारण सभी उसे पसंद करते थे.उस से मिलने आने वाले उसके दोस्त भी उसी के जैसे थे.

रीमा को 1 बात थोड़ा खाटकी.हॉस्पिटल मे मरीज़ो के पास उनका कोई रिश्तेदार ज़रूर रहता था पर रवि के पास कोई नही बस बीच मे 3-4 दीनो के लिए उसका बड़ा भाई शेखर आया था पर मा-बाप कभी नही आए.कोई और नर्स होती तो अब तक रवि के दूर के रिश्तेदारो का भी पता पूच्छ चुकी होती पर रीमा अपने काम से काम रखती थी & उसने उस से कभी कुच्छ नही पूचछा.

हा,हर दिन उसे उसके वॉर्ड जाने मे अच्छा लगता था.वो लड़का बातें ही ऐसी करता था.फिर रीमा की 2 दीनो की छुट्टी हो गयी.जब वापस आई तो पता चला कि रवि डिसचार्ज हो चुका है.उस दिन उसे वॉर्ड खाली-2 सा लगा.इसी तरह 4-5 दिन बीत गये.हॉस्पिटल मे मरीज़ आते हैं चले जाते हैं पर पता नही क्यू रवि का जाना उसे अच्छा नही लगा.

उस दिन शाम ड्यूटी ख़त्म कर जैसे ही वो निकली कि किसी ने उसे आवाज़ दी,"नर्स!"

उसने मूड कर देखा तो रवि खड़ा था.इतने दीनो तक उसने उसे बेड पे लेटे देखा था,आज पहली बार खड़े देख रही थी.रवि 6 फ्ट का लंबा,हॅंडसम नौजवान था,उम्र यही कोई 23-24 साल होगी.रीमा भी 22 साल की जवान लड़की थी & रवि की मारदाना खूबसूरती की दिल ही दिल मे तारीफ किए बिना ना रह सकी.

"हाई!नर्स.कैसी हैं?"

"हेलो.मैं ठीक हू.आपका पैर अब कैसा है?"

"बिल्कुल ठीक.डॉक्टर.साहब ने बुलाया था इसीलिए आया था.अच्छा हुआ आप भी मिल गयी.1 बहुत ज़रूरी काम था."

"अच्छा.कैसा काम?"

"आपको थॅंक यू कहना था & कॉफी पिलानी थी."

"क्या?!",रीमा हँसे बिना ना रह सकी.

"हां.जब डिसचार्ज हो रहा था तो मैने सभी डॉक्टर्स ,नर्सस & स्टाफ जिन्होने ने मेरा ध्यान रखा था,उन्हे थॅंक्स कहा था & कॉफी पिलाई थी.आप आई नही थी तो आपकी कॉफी बाकी थी."

रीमा को याद आया,जब वापस आने पे उसने रवि के बारे मे पूचछा था तो बाकी नर्सस ने बताई थी ये कॉफी वाली बात.

"अरे,रवि इसकी कोई ज़रूरत नही.बेकार मे परेशान मत होइए."

"इसमे परेशानी क्या है?कॉफी पीनी है कौन सा एवरेस्ट पे चढ़ना है."

रीमा को फिर हँसी आ गयी.,"वो ठीक है पर फिर भी रहने दीजिए."

"देखिए नर्स,मैं समझ रहा हूँ आप क्यू झिझक रही हैं.मेरा यकीन कीजिए मैं बस आपको थॅंक्स देने के लिए 1 कप कॉफी पिलाना चाहता हू,बस.वादा करता हू ना कोई उल्टी-सीधी बात करूँगा ना ही ऐसी-वैसी हरकत!ये जो बगल वाला केफे है ना वाहा बस 1 कप कॉफी पिएँगे जिसमे 15 या 20 मिनिट लगेंगे बस.फिर आप अपने रास्ते मैं अपने रास्ते."
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:34 PM,
#2
RE: Mastram Kahani खिलोना
"अरे,आप मुझे ग़लत समझ रहे हैं?आपके बारे मे ऐसा कुच्छ नही सोचा था मैने."

"तो फिर चलिए."

रीमा उसे मना नही कर पाई,"ओके.चलिए.",और दोनो केफे की ओर बढ़ गये.

केफे मे बैठ के रवि ने ऑर्डर कर दिया.

"आप क्या करते हैं,रवि?",रीमा ने पूचछा.

"मैं एस.एन इन्स्टिट्यूट से एमबी ए कर रहा हू."

"वह,वो तो बड़ा अच्छा इन्स्टिट्यूट है.आपकी तो लाइफ बन गयी!"

"क्या लाइफ बन गयी,नर्स!बस अपने पैरो पे खड़ा हो जाऊँगा,अपने खर्चे निकाल लूँगा."

"तो और क्या चाहिए 1 इंसान को?"

"नर्स,काम तो वो हो जिसे इंसान दिल से करना चाहे.मेरी नज़र मे सचिन तेंदुलकर दुनिया का सबसे लकी इंसान है.वो बचपन से क्रिकेट खेलना चाहता था सो खेल रहा है.केवल खेल ही नही रहा बल्कि शायद अब तक का सबसे महान क्रिकेटर है.और सोने पे सुहागा ये की इस के लिए उसे करोड़ो रुपये भी मिलते हैं.इंसान को तो ऐसा ही काम करना चाहिए पर सबकी ऐसी किस्मत कहा होती है."

"तो तुम क्या बनाना चाहते थे?"

"फाइटर पाइलट."

"तो बने क्यू नही?"

"मा के चलते.जैसे ही उसे पता चला की मैं एनडीए का फॉर्म भरने जा रहा हू,उसने ऑर्डर जारी कर दिया कि मैं सपने मे भी ऐसा नही सोचु.उसने कहा की उसका कोई बेटा उस से दूर फौज मे नही जाएगा...मैने उसे कहा की मा शेखर भैया तो तुम्हारे पास रहेंगे ही.मुझे जाने दे एर फोर्स मे & अगर कही जंग मे मर गया तो तू शहीद की मा कहल्एगी."

"फिर मा ने क्या कहा?"

"उसने खींच के 1 थप्पड़ लगाया & फिर रोते हुए मुझे अपने गले से लगा के प्यार करने लगी.ये माएँ भी अजीब होती हैं नर्स,निराला ही होता है इनका बच्चों को प्यार करने का तरीका."

रीमा बस हल्के से मुस्कुरा दी.उसे क्या पता था मा के प्यार के बारे मे.वेटर कॉफी रख गया तो वो कप उठाकर पीने लगी.,"तब तो रवि जब तुम्हारा फ्रॅक्चर हुआ तो वो बहुत परेशान हो गयी होंगी?"

"पता नही,नर्स."

"क्या मतलब?"

"पिच्छले 2 सालों से मा बीमार है.उसका दिमाग़ धीरे-2 काम करना बंद कर रहा है.दिमाग़ का वो हिस्सा जो इंसान का चलना,बोलना कंट्रोल करता है वो तो पूरा बेकार हो चुका है.मा केवल अपनी पलके झपका पाती है & खा पाती है,गर्दन & उसके नीचे का पूरे शरीर का 1 भी अंग ना हिला पाती है ना उनसे वो कोई काम ले पाती है...बस बेड पे खामोश लेटी रहती है,क्यूकी बोल भी नही पाती."

"डॉक्टर्स क्या कहते हैं?"

"पिताजी कहा-2 नही दौड़े मा के इलाज के लिए पर हर डॉक्टर ने यही कहा की बीमारी लाइलाज है."

"ओह."

थोड़ी देर दोनो खामोश रहे फिर रवि ने खामोशी तोड़ी,"..अच्छा तो नर्स-ये लो.यहा हम साथ मे कॉफी पी रहे हैं & मुझे अभी तक आपका नाम भी नही पता.आपके नाम क्या है,नर्स?"

"मेरा नाम रीमा है.",रीमा हंस पड़ी.

"अच्छा तो आपकी मा कैसी है?"

"पता नही.मैं अनाथ हू,रवि.",& रीमा ने उसे अपनी पूरी कहानी सुना दी.उसने उसे मौसी के बारे मे भी बताया & रवि ने अपने बाकी परिवार के बारे मे.उसके पिता विरेंड्रा साक्शेणा 1 बहुत ऊँचे सरकारी ओहदे पे थे & बड़े भाई शेखर ने अभी कॅल्कटा मे अपनी पहली नौकरी जाय्न की थी.उसका परिवार पंचमहल नाम के शहर मे रहता था.

"अच्छा रीमा जी,आप क्या बनना चाहती थी?"

"मैं...मैं सिंगर बनना चाहती थी."

"रियली!फिर आपने कभी कोशिश की."

"जिस स्कूल मे हम अनाथाश्रम के बच्चे पढ़ते ते थे वाहा म्यूज़िक भी सिखाया जाता था तो स्कूल तक तो मैने सीखा लेकिन उसके बाद मुझे अपने पैरो पे खड़े होने की जल्दी थी & म्यूज़िक के ज़रिए वो संभव नही था."

"ह्म्‍म्म.",रवि ने कॉफी ख़त्म कर कप नीचे रखा,"ये तो बड़ी अच्छी बात पता चली आपके बारे मे.म्यूज़िक का मुझे भी शौक है खास कर इंडियन क्लॅसिकल का.इस सनडे हुमारे इन्स्टी ऑडिटोरियम मे ट.जसराज का प्रोग्राम है.तो आप सनडे को वाहा आएँगी,मेरे साथ प्रोग्राम देखेंगी & मैं जो भी म्यूज़िक के बारे मे सवाल करूँगा उनका जवाब देंगी."

"अरे नही,रवि.मैं नही आ सकती."

"क्यू?आप इतना झिझकति क्यू हैं?मैं आपको आवारा लगता हू?"

"वो बात नही है,रवि."

"तो क्या बात है?सनडे को आपकी छुट्टी है,आपको म्यूज़िक से इतना लगाव है,फिर क्यू नही आ सकती? "

"रवि,बुरा मत मानो,प्लीज़.पर...मैं टिकेट -"

"-अरे,कोई टिकेट नही,मेरे इन्स्टी का प्रोग्राम है.मेरे पास फ्री पासेज हैं.अब तो आएँगी ना?"

"ठीक है,आऊँगी."

"ये हुई ना बात!",रवि ने बिल पे किया & दोनो केफे से बाहर आ गये.

"अच्छा,रीमा जी बाइ1सनडे को 5 बजे मेरे इन्स्टी के मैं गेट पे मैं आपका इंतेज़ार करूँगा."

"ठीक है,रवि.बाइ!"

रीमा को बड़ी हैरत हुई कि कैसे उसने 1 लगभग अजनबी से इंसान को अपनी कहानी सुना दी & उसके साथ अगली मुलाकात के लिए भी तैय्यार हो गयी.वो उस सनडे रवि से मिली & फिर दोनो आए दिन मिलने लगे,कभी किसी कॉन्सर्ट तो कभी किसी एग्ज़िबिशन मे.रीमा की सहेलिया तो उसे रवि के नाम से चिढ़ने लगी थी.उसकी रूम मेट सोनी तो हुमेशा उसे छेड़ती रहती थी.
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:34 PM,
#3
RE: Mastram Kahani खिलोना
"आ गयी हेरोयिन अपने हीरो से मिलके?"

"चुप कर,सोनी.वो बस दोस्त है."

"शुरू मे सब यही कहते हैं डार्लिंग,फिर कब दोस्त जान बन जाता है पता ही नही चलता!"उसने बेड पे बैठी रीमा को पीछे से पकड़ कर शरारत से कहा.

"अच्छा!तुझे बड़ा पता है इन बातो के बारे मे.तेरा 'दोस्त' कौन है भाई?"

"हमारी ऐसी किस्मत कहाँ!",उसने बड़े नाटकिया अंदाज़ मे कहा तो दोनो सहेलिया हंस पड़ी.

रीमा सचमुच रवि को दोस्त से ज़्यादा नही मानती थी ना कभी रवि ने कोई ऐसी हरकत की थी कि उसे लगता कि रवि कुच्छ ऐसा सोचता था,पर उसकी ये सोच उसे खुद ही तब ग़लत लगी जब रवि अपने भाई की शादी के लिए 10 दीनो के लिए पंचमहल चला गया.रीमा के लिए वो 10 दिन बड़े मुश्किल थे.उसका मूड उखड़ा-2 रहने लगा,वो रवि को इतना मिस करेगी उसने सोचा भी ना था.

उस रात बिस्तर पे करवटें बदलते उसने सोचा कि क्या सचमुच वो रवि को दोस्त से कुच्छ ज़्यादा समझने लगी थी.रवि आज सवेरा वापस आ गया था.उसने फोन किया तो रीमा ने मिलने की बात की पर उसने काम मे बिज़ी होने की बात कह कर मना कर दिया & परसो मिलने को कहा.पर उसी दिन रीमा अपने हॉस्पिटल की बस मे बाकी नुर्सो के साथ किसी ट्रैनिंग प्रोग्राम के लिए जा रही थी जब उसने सेंट्रल मार्केट के पास रवि को किसी लड़की के साथ बात करते देखा.वो लड़की बार-2 रवि का हाथ पकड़ रही थी.

ये देख कर जैसे रीमा के तन मे आग लग गयी.उसे उस लड़की पे बहुत गुस्सा आ रहा था.करवट बदलते हुए अपने इस रिक्षन का कारण खोजने लगी.क्या वो रवि से प्यार करने लगी थी?नही तो उसे उस लड़की से जलन क्यू हुई?पर क्या ये सही था.रवि इतने अमीर परिवार से था,क्या वो कभी उस जैसी अनाथ को अपनाएगा?उसे इस धोखे मे नही रहना चाहिए.उसने अपने दिल को बहुत समझाया कि रवि उसके लिए नही है पर दिल पे आज तक किस इंसान का ज़ोर चला है!
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:34 PM,
#4
RE: Mastram Kahani खिलोना
खिलोना पार्ट--2

जब रवि से वो 2 दिन बाद मिली तो ना चाहते हुए भी उसके दिल की बेताबी & उस लड़की से जलन उसकी बातो मे झलने लगी.,"क्या बात है,रीमा?आज इतने खराब मूड मे क्यू हो,सब ठीक तो है?"

"सब ठीक है.तुम्हे मेरे मूड से क्या?तुम तो जब मर्ज़ी हो मिलो जब मर्ज़ी हो मना कर दो."

"अरे मैने कब मना किया मिलने से?"

"परसो नही किया?सेंट्रल मार्केट घूमने का टाइम था पर मुझसे मिलने का नही.10 दीनो से तुम्हारी राह देख रही थी & तुम्हारे पास तो टाइम ही नही था ना!"

"अरे उस दिन तो मैं अपना प्रॉजेक्ट टाइप करवाने वाहा गया था.पूरा दिन प्रॉजेक्ट प्रिपेर कर सब्मिट करने मे लग गया."

"अच्छा!अपनी गर्लफ्रेंड के साथ घूम रहे थे तुम.मुझे बटन नही चाहते तो मत बताओ पर झूठ तो मत बोलो!"

"गर्लफ्रेंड?..",रवि ने हैरत से देखा.फिर जैसे उसे कुच्छ याद आया,"अच्छा!वो...निकी...मेरी गर्लफ्रेंड...हा...हा..हा!"रवि ज़ोर से हँसने लगा.रीमा उसे कुछ गुस्से,कुछ हैरत से देख रही थी.

"वो निकी है मेरी बचपन & मेरी प्रॉजेक्ट पार्ट्नर & उसका ऑलरेडी बाय्फ्रेंड है-विवेक.तुम भी ना,रीमा!",रवि ने अपनी हँसी पे काबू किया.

रीमा को अपनी बेवकूफी पे बड़ी शर्म & गुस्सा आया.,"सॉरी..वो मैं..."

"कोई बात नही?",चलो कोक पीते हैं."

"..तो तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नही है,रवि?",रीमा ने स्ट्रॉ से कोक का घूँट भरा.

नही...पर 1 लड़की है जो मुझे बहुत अच्छी लगती है."

"अच्छा...कौन है?",रीमा का दिल धड़कने लगा.

"है कोई.बताऊँगा तुम्हे जब उस से दिल की बात कहूँगा & मान गयी तो मिलवाऊंगा भी.अब छ्चोड़ो ये बातें चलो कुच्छ खाते हैं."

रवि से अगली मुलाकात 2 दिन बाद हुई & इन 2 दीनो रीमा यही सोचती रही कि रवि किस लड़की के बारे मे बात कर रहा था.उस दिन रवि ने उसे उसके मन मे चल रहे इस सवाल का जवाब भी दे दिया.

उस दिन दोनो उस पार्क मे घूमते हुए 1 थोड़े शांत हिस्से मे आ गये थे.

"रीमा."

"ह्म्म."

"तुम अपने जज़्बात चेहरे पे नही आने देती,सब अपने दिल मे दबा के रखती हो.अभी मैं तुमसे कुच्छ पूच्हूंगा तो उसका जवाब फ़ौरन देना,बात बुरी लगे तो मुझे 1 चांटा रसीद कर देना पर कोई ना कोई रिक्षन तुरंत देना प्लीज़!"

"रवि,क्या कह रहे हो?मुझे कुच्छ समझ नही आ रहा."

"रीमा,आज तक मैं तुम्हारे जैसी लड़की से नही मिला.तुम्हारे साथ बातें करने,वक़्त बिताने मे मुझा कितना सुकून मिलता है,तुम सोच भी नही सकती.अब तो तुम्हारे बिना ज़िंदगी के तो अब मैं सोच भी नही सकता.मैं तुमसे प्यार करने लगा हू,रीमा & अपनी सारी ज़िंदगी तुम्हारे साथ बिताना चाहता हू.क्या तुम मेरी ज़िंदगी का हिस्सा बनोगी?,रवि ने उसके दोनो हाथ अपने हाथो मे ले उसकी आँखो मे झाँकते हुए पूचछा.

रीमा के माथे पे पसीना छल्छला आया & दिल ज़ोरो से धड़कने लगा.वो भी तो यही चाहती थी तो अब बोल क्यू नही पा रही थी..."रवि...मैं..."

"बोलो ना,रीमा!"

"तुम...इतने...अच्छे परिवार से हो....तुम्हारे पिता मानेंगे?"

"इसका मतलब तुम हा कह रही हो."

शर्म से रीमा के गाल लाल हो गये.

"1 बार बोलो रीमा.जब तक तुम जवाब नही दोगि मेरे दिल को चैन नही पड़ेगा."

"हा.",रीमा ने सर झुका कर धीरे से कहा.

रवि ने उसका चेहरा अपने हाथो मे भर कर उपर किया तो उसने शर्म से आँखे बंद कर ली.रवि ने उसका माथा चूम उसे बाहों मे भरा तो वो भी उस से लिपट गयी.

पर रीमा का डर सच साबित हुआ,रवि के पिता दोनो की शादी के लिए नही माने.रीमा से प्यार के इज़हार के कोई 6 महीने बाद रवि की नौकरी मेट्रोपोलिटन बॅंक के लोन्स डिविषन मे लग गयी तो उसने अपने पिता को रीमा के बारे मे बताया था पर उन्होने उसे साफ कह दिया कि या तो वो रीमा को चुने या उनको.रवि ने रीमा को चुना.
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:34 PM,
#5
RE: Mastram Kahani खिलोना
रीमा चाहती तो नही थी की उसके कारण रवि को अपने पिता से दूर होना पड़ा पर रवि नही माना,उसने बॅंगलुर मे अपनी पहली पोस्टिंग जाय्न करने के 1 महीने के अंदर ही रीमा से कोर्ट मे शादी कर ली.शादी मे उनके सभी दोस्त & मौसी शामिल हुए थे.वो रीमा की ज़िंदगी का सबसे खूबसूरत दिन था.

शवर बंद कर तौलिए से अपना बदन पोंच्छ रीमा ने टवल को अपने जिस्म पे लपेटा & बाहर अपने बेडरूम मे आ गयी.कमर तक लहराते काले,घने बालों से घिरा उसका चेहरा जिसपे दो काली-2,बड़ी-2 आँखें चमक रही थी,कुच्छ ज़्यादा ही सुंदर लग रहा था.उसके दिल की खुशी ने उसके रूप को और भी निखार दिया था.

शीशे के सामने खड़ी हो रीमा ने तौलिया हटा दिया & उसमे अपने नंगे जिस्म को निहारने लगी.उसने गौर किया था की शादी के बाद उसमे 2 बड़े बदलाव आए थे.पहला तो ये की वो अब थोड़ा और खुल कर बात करती थी & हँसती थी.अपने दिल मे अपने जज़्बात दबाना तो वो अब भूल सी गयी थी.और दूसरा ये की उसका साइज़ 2 इंच बढ़ गया था.

ये रवि की मेहेरबानी थी,हर रात उसके साथ वो कमसे कम 2 बार उसे चोद्ता था.रीमा का 32-26-34 फिगर अब 34-28-36 हो गया था.वो शुरू से ही 1 भरे शरीर की मलिका थी,और अब तो उसका जिस्म और भी नशीला हो गया था.शीशे मे देखते हुए वो अपने शफ्फाक़ गोरे जिस्म पे हाथ फेरने लगी.

उसकी 34द साइज़ की चूचिया बिल्कुल कसी हुई थी & उनपे 2 गुलाबी रंग के निपल्स चमक रहे थे.जब भी वो ब्रा खरीदने जाती रवि कहता कि उसे ब्रा की ज़रूरत ही नही है,उसकी चुचियाँ तो ऐसे ही इतनी कसी हुई हैं.बिल्कुल सच कहना था रवि का.केवल चुचियाँ ही नही रीमा का पूरा जिस्म एकद्ूम कसा हुआ था.उसके हाथ उसके सीने से नीचे उसके सपाट पेट से फिसलते हुए उसकी गहरी नाभि पे आ गये,और वाहा से उसकी कमर पे.

रीमा ने नीचे का बदन घुमा कर अपनी भारी गंद को शीशे की ओर किया.उसकी गंद रवि को बहुत पसंद थी & चुदाई के अलावा भी वो उसे सहलाने या दबाने का कोई मौका नही छ्चोड़ता था.कभी-2 वो जब मार्केट या किसी और पब्लिक प्लेस मे उसकी गंद को लोगो की नज़र बचा सहला देता तो उसके गाल शर्म से लाल हो जाते.

उसने बदन सीधा कर अपनी भारी जाँघो को देखा & फिर उसकी नज़र गयी उनके बीच उसकी प्यारी,गुलाबी,चिकनी चूत पे जिसपे 1 बॉल भी नही था.1 साल से वो रोज़ रात को रवि से चुदती थी,बस इधर पिच्छाले एक-आध महीने से ये सिलसिला थोड़ा गड़बड़ा गया था & वो रोज़ के बजाय 2-3 दीनो मे 1 बार उसकी चुदाई करने लगा था.पता नही कौन सी बात उसे परेशान कर रही थी.रीमा ने सोच लिया था कि वो रवि से इस बात का कारण पुच्छ के रहेगी.

ख़यालो मे डूबे हुए कब उसका हाथ उसकी चूत को सहलाने लगा,उसे पता ही ना चला.जब होश आया तो उसे खुद की इस हरकत पे शर्म भी आई & हँसी भी.उसे अपनी सुहग्रात याद आ गयी,जब वो पहली बार रवि के साथ हुमबईस्तर हुई थी.वो अब गरम होने लगी थी.

वो वैसी ही नंगी अपने बिस्तर पे लेट गयी,उसका हाथ अभी भी उसकी चूत सहला रहा था & रीमा अपनी सुहग्रात की यादों मे खो गयी.रवि के दोस्तो ने उन दोनो के लिए लोनवाला के 1 होटेल मे 5 दीनो के लिए कमरा बुक करा दिया था & कोर्ट मे शादी करते ही दोनो वाहा के लिए निकल पड़े & शाम ढले पहुँच गये.

रवि तो टॅक्सी मे ही बेसबरा हुआ जा रहा था.पूरे रास्ते उसने रीमा को अपने से सताए रखा & हर थोड़ी देर पे चूम लेता.रीमा को टॅक्सी ड्राइवर की मौजूदगी मे शर्म आ रही थी & वो रवि को रोक रही था पर वो कहा सुनने वाला था.उसकी हर्कतो से वो भी थोड़ा मस्त हो गयी थी.

होटेल के कमरे मे पहुँचते ही रवि ने उसे बाहो मे भर लिया & लगा चूमने.रीमा ने भी उसके गले मे बाहें डाल दी & उसकी किस का जवाब देने लगी.दोनो काफ़ी देर तक 1 दूसरे के होंठो के चूमते हुए 1 दूसरे की जीभ से खेलते रहे.रवि ने उसके होटो को छ्चोड़ उसकी गर्दन का रुख़ किया & पागलो की तरह चूमने लगा.

"ऊओ...रवि....इतने बेसबरा क्यू हो रहे हो?मैं कही भागी थोड़े जा रही हू...आहह...!

"अब मुझ से सब्र नही हो सकता,मेरी जान!",रवि उसे लिए-दिए बिस्तर पे गिर गया.दोनो हंसते हुए बिस्तर पे लेटे फिर एक दूसरे के होटो का रस चखने लगे.रीमा चित लेटी थी & रवि उसके उपर झुका उसे चूम रहा था.

रवि उसके होटो को छ्चोड़ थोड़ी देर तक उसके चेहरे को चूमता रहा,उसने उसके कानो के झुमके हटा उनपे हल्के से काट लिया तो रीमा की मज़े से आह निकल गयी.उसकी चूत तो पूरी गीली हो चुकी थी.अब रवि उसकी गर्दन चूम रहा था & उसके सीने से उसका आँचल हटा रहा था.रीमा की धड़कने तेज़ हो गयी.उसने अभी तक रवि को चूमने से ज़्यादा कुच्छ नही करने दिया था.शादी से पहले 1 बार रवि जोश मे उसकी छाती दबा बैठा था वो बहुत नाराज़ हो गयी थी.ऐसा नही था की उसे अच्छा नही लगा था पर वो इस के लिए तैय्यार नही थी.उसे मनाने मे रवि को 4 दिन लग गये थे.

पर आज की बात और थी,आज तो वो खुद अपने आशिक़ की बाहो मे पिघल कर उसके जिस्म को अपने जिस्म मे खोने देना चाहती थी.रवि उसका आँचल सरका उसके क्लीवेज को चूम रहा था,उसकी पलके मूंद गयी & वो आहें भरने लगी.रवि ने चूमते हुए उसके ब्लाउस के हुक्स खोल दिए,अब उसके सामने लाल रंग के लेस ब्रा मे क़ैद उसकी छातिया उसकी तेज़ सांसो की वजह से उपर नीचे हो रहा था.

रवि ब्रा के उपर से ही उन्हे चूमने लगा & चूमते हुए नीचे उसके पेट पे आ गया.उसकी ज़ुबान उसके चिकने पेट पे से फिसलती उसकी नाभि पे आ गयी & उसकी गहराई नापने लगी.रीमा पागल हो गयी & रवि के बालो को कस के पकड़ लिया & अपनी जांघे रगड़ने लगी.उसकी चूत पानी छ्चोड़ रही थी.आज जैसा उसे पहले कभी भी महसूस नही हुआ था.शादी से पहले जब भी वो रवि से मिलती तो दोनो 1 दूसरे को बाहों मे भर बहुत किस्सिंग करते & हुमेशा उसकी चूत गीली हो जाती थी.पिच्छले कुच्छ महीनो से रात को सोने से पहले वो अपनी चूत को अपनी उंगली से शांत करने लगी थी पर उसे आज जैसा एहसास कभी नही हुआ था.
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:42 PM,
#6
RE: Mastram Kahani खिलोना
रवि उसकी नाभि चूमते हुए 1 हाथ से सारी के उपर से ही उसकी जांघे सहला रहा था.सहलाते हुए उसका हाथ उसके पैरो तक चला गया & उसकी सारी उठाने की कोशिश करने लगा तो रीमा उठा बैठी & उसका हाथ वाहा से हटाने लगी,"..नही...प्लीज़..रवि.."

रवि ने उठा कर बैठे हुए ही उसे गले से लगा लिया & उसके गालो को चूमने लगा,"ओह्ह...रीमा..मुझे तो यकीन ही नही हो रहा की तुम मेरी हो गयी हो.",रवि ने उसकी कमर पे हाथ फिरते हुए उसके ढीले ब्लाउस मे हाथ घुसा दिया & पीठ पे फेरने लगा.

जवाब मे रीमा उसके होटो को चूमने लगी.रवि ने चूमते हुए ही उसका ब्लाउस उतार दिया & उसे अपने सीने से भींच कर उसके गले को चूमने लगा.रीमा को चूत मे अजीब सा लग रहा था,उसका दिल जैसे भर आया था,वो बेचैनी मे अपनी जाँघो मे अपनी चूत को भींच रही थी.रवि ने उसके ब्रा स्ट्रॅप्स उसके कंधो से सरका दिए और उसके कंधो को चूमने लगा,फिर उसने ब्रा स्ट्रॅप्स को उसके हाथो से भी निकाल दिया. अब ऐसा लग रहा था जैसे रीमा स्ट्रेप्लेस्स ब्रा पहने हो.

दोनो 1 दूसरे से लिपटे हुए पागलो की तरह 1 दूसरे को चूमने लगे,रवि उसकी पीठ पे तेज़ी से हाथ फेर रहा था & फेरते हुए उसने उसके ब्रा के हुक्स खोल दिए.अब ब्रा दोनो के जिस्मो के बीच रीमा की चुचियाँ ढँके बस अटका हुआ था.

"इसे हटा दू?.",रवि ने उसकी थोड़ी चूम ली.

"ना."

"क्यू?"

"बस ऐसे ही."

"मैं तो हताउन्गा."

रीमा ने शर्म से आँखे बंद कर ली,ये पहला मौका था जब वो किसी मर्द के सामने अपनी चूचिया नंगी कर रही थी.रवि ने उसे अपने से थोड़ा दूर किया तो ब्रा नीचे उनकी गोद मे गिर गया,रवि ने उसे उठा कर उच्छाल दिया.

"ओह्ह..रीमा मैने जैसा सोचा था ये तो उस से भी कही ज़्यादा खूबसूरत हैं.",रवि उसके सीने पे झुक गया & 1 चूची को अपने मुँह मे भर लिया.रीमा के बदन मे करेंट दौड़ गया,साथ ही अपनी तारीफ सुन उसे बहुत अच्छा लगा.उसका बदन जैसे टूट रहा था,वो बिस्तर पे लेट गयी तो रवि इतमीनान से उसकी चूचिया चूसने लगा.उसने जी भर कर उन्हे अपने हाथो से सहालाया,दबाया & मसला & अपने होटो से उसके निपल्स को चूसा.

जब उसने उसके 1 निपल को अपनी उंगलियो मे मसलकर दूसरे को मुँह मे भर कर ज़ोर से चूसा तो रीमा की चूत ने पानी छ्चोड़ दिया.वो अपने हाथो पहले भी झड़ी थी पर आज जैसा उसने कभी महसूस नही किया था.उसने रवि का सर अपने सीने से अलग किया & करवट ले सूबकने लगी.रवि ने अपनी शर्ट उतारी & पीछे से उस से आ लगा & उसकी बाहें सहलाता उसके बाल चूमने लगा.

रीमा शांत हुई तो वो खुद ही घूम कर उसकी बाहों मे आ गयी & उसके सीने पे सर रख दिया.रवि ने 1 बाँह से उसे घेर उसके बालों मे उंगलिया फिराने लगा & दूसरे से उसकी कमर.रीमा उसके सीने पे हल्के-2 चूम रही थी.रवि ने उसके सर को अपने हाथ से अपने निपल की तरफ किया तो वो उसका इशारा समझ गयी.वो उठ कर उसकी तरफ देख कर मुस्कुराइ & फिर झुक कर उसके सीने पे चूमते हुए उसके निप्प्लेस्को वैसे ही चूसने लगी जैसे थोड़ी देर पहले रवि ने उसके निपल्स को चूसा था.

रवि जोश मे उसके सर को अपने सीने पे दबाने लगा.रीमा थोड़ी देर तक उसके निपल्स से खेलती रही,फिर चूमते हुए नीचे उसके पेट पे आ गयी,थोडा और नीचे हुई तो रवि ने कहा,"मेरी पॅंट खोल दो."

"धात.",रीमा ने शर्मा कर उपर आ उसके सीने पे अपनी भारी चूचिया दबा उसकी गर्दन मे अपना मुँह च्छूपा लिया.

"ना अपने कपड़े खुद खोलती हो ना मेरे,सारे काम मैं ही करूँगा क्या!",वो हाथ नीचे ले जा कर सारी के उपर से ही उसकी मस्त गंद सहलाने लगा.रीमा उसकी इस हरकत से कसमसने लगी.

"हा,ऐसे गंदे काम तुम ही करो."

"ये गंदे काम हैं?तो अभी थोड़ी देर पहले इतना मज़ा किसे आया था,मुझे?",रीमा ने बनावटी गुस्से से उठ कर उसकी छाती पे 1 मुक्का लगाया.ऐसा करने से उसकी चूचिया रवि की नज़रो के सामने आ गयी थी.उसने उसे बाहो मे भर पलट कर अपने नीचे ले लिया & उसकी चूचियाँ चूमने,चूसने लगा.रीमा फिर से मस्ती के सागर मे डूबने लगी.

रवि उठा & उसने अपनी पॅंट उतार दी.रीमा ने अधखुली आँखो से देखा तो पाया कि रवि केवल अंडरवेर मे उसके सामने था & अंडरवेर बहुत फूला हुआ था.उसने शर्म से आँखे बंद कर ली.रवि झुक कर उसके पैरो को चूमने लगा तो रीमा उसका इरादा भाँप गयी,वो फिर खुद उसे रोकने ही वाली थी की रवि ने 1 झटके मे उसकी सारी उसकी कमर तक उठा दी.

"हाई राम!ये क्या कर रहे हो?",रीमा उठा कर अपनी सारी नीचे करने लगी तो रवि ने उसके हाथ पकड़ कर उसे नीचे लिटा दिया & उसके 1 हाथ को अपने होटो से लगा लिया,फिर उसने उसकी कलईओं से चूड़िया उतार दी & 1-1 करके उसकी दोनो बाहो को चूमा.रीमा और मस्त हो गयी.

रवि उठा & उसकी कमर मे हाथ डाल उसकी सारी &पेटिकोट निकालने लगा.रीमा ने उसे रोकने की नाकाम कोशिश की.थोड़ी ही देर मे वो केवल लाल रंग के लेस पॅंटी मे रवि के सामने थी.रवि ने देखा की उसकी पॅंटी पे 1 गोल धब्बा पड़ा हुआ है & वो उसकी चूत से चिपकी हुई सी है.उसने झुक कर हल्के से उस धब्बे पेचुमा तो रीमा सिहर गयी.रवि नीचे गया & उसके पैरो को चूमता,सहलाता उपर आने लगा.

उसके घुटनो तक पहुँचते ही उसकी किस्सस बड़ी गहरी हो गयी & जाँघो तक पहुँचते ही तो वो किस्सस नही रह गयी बल्कि चूसा हो गयी.वो उसकी भारी जाँघो को इतनी ज़ोर से चूम रहा था कि उनपर निशान छूटने लगे.रीमा इस जोश से बेचैन हो उसकी गिरफ़्त से छूटने के लिए करवट लेने लगी तो उसने उसे पेट के बल लिटा दिया & उसकी पीठ चूमते हुए नीचे उसकी कमर पे आ गया.

कमरे मे रीमा की आँहे तेज़ हो गयी.रवि ने अपने अंगूठे उसकी दोनो तरफ पॅंटी के वेस्ट बंद मे फँसाए & उसे नीचे उतार दिया.उसकी मस्त कसी गांद उसके सामने थी.वो उसपे टूट पड़ा.उसने जम के उसकी गंद की फांको चाता & चूमा & फिर रीमा को पलट उसकी चूत को अपने सामने कर लिया.

रीमा की साँसे बहुत तेज़ हो गयी थी.रवि ने उसकी जांघे फैलाई & अपने होठ उसकी गीली चूत पे रख दिए तो रीमा का बदन सनसना उठा.रवि अपनी जीभ से उसकी चूत से बहता रस चाटने लगा & उसकी चूत की गहराइयाँ नापने लगा.रीमा की कमर अपने-आप हिलने लगी & उसने अपने हाथों से रवि का सर पकड़ उसे अपनी चूत पे और दबा दिया.रवि ने उसकी जंघे अपने कंधो पे चढ़ा दी तो वो उसकेसर को अपनी जाँघो मे भींचने लगी.रवि के हाथ उपर चले गये & उसकी छातियो का मज़ा लेने लगे.

पता नही रीमा कितनी बार झड़ी.जब उसे थोड़ा होश आया तो उसने अपनी पलके खोली तो देखा की रवि अपना अंडरवेर उतार रहा है.वो उसकी टांगे फैला उनके बीच अपने घुटनो पे बैठ गया.उसका 5 1/2 इंच लंबा लंड उसके सामने था.रीमा उस से अपनी नज़रे हटा नही पा रही थी.लंड के मत्थे पे कुच्छ पानी सा चमक रहा था.रवि ने उसकी पॅंटी उठाई & उस से उस पानी को सॉफ कर दिया.फिर उसने 1 पॅकेट खोल 1 कॉंडम निकाला & उसे अपने लंड पे चढ़ा लिया.

रीमा को थोडा डर भी लग रहा था पर उसे इसका इंतेज़ार भी था.आज उसका आशिक़ जिसपे वो जान छिदक्ति थी उसका कुँवारापन ख़त्म कर उसे कली से फूल बनाने वाला था.रवि ने पहले 1 कुशन उसकी गंद के नीचे लगाया,फिर उसके घुटने मोड & अपने घुटनो पे बैठे हुए ही उसकी चूत पे लंड रख धक्का लगाया पर लंड अंदर नही गया.रीमा की चूत बहुत टाइट थी.रवि ने 1 हाथ की उंगलियो से उसकी चूत की दरार को फैलाया & फिर दुसररे हाथ से लंड पकड़ उसे अंदर ठेला,इस बार लंड 1 इंच तक अंदर चला गया.

अब रवि उसके घुटने पकड़ धक्के मार लंड & अंदर डालने की कोशिश करने लगा पर जैसे चूत के अंदर उसके लंड को कुच्छ रोक रहा था.

"आह...रवि...रुक जाओ..इसे बाहर निकाल लो मुझे दर्द हो रहा है."

"अभी ठीक हो जाएगा,रीमा.घबराओ मत.बस थोड़ी देर की बात है.",इस बार रवि ने इतनी ज़ोर का धक्का मारा की लंड जड़ तक उसकी चूत मे समा गया & वो दर्द से चिल्ला पड़ी,"एयेए....अहह.......ना...ह्हियी..!",उसका बदन कमान की तरह मूड गया & चेहरे पे दर्द की लकीरे खींच गयी & आँख से आँसू निकल पड़े.
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:42 PM,
#7
RE: Mastram Kahani खिलोना
रवि उसके उपर लेट गया & उसके आँसू अपने होटो से सॉफ कर उसके चेहरे को चूमने लगा,"बस रीमा...बस...अब दर्द नही होगा....",थोड़ी देर तक वो उसको चूमता रहा.

"अब तो दर्द नही हो रहा?"

"नही."

रवि धीरे-2 अपनी कमर हिलाने लगा.थोड़ी देर तक रीमा उसके नीचे शांत पड़ी रही पर फिर उसकी चूत मे अंदर-बाहर होते लंड ने उसकी मस्ती बढ़ानी शुरू कर दिया तो वो भी धीमे-2 अपनी कमर हिलाने लगी.रवि ने उसके होठ चूमे तो उसने भी जवाब मे अपनी जीभ उसके मुँह मे डाल दी.रवि जोश मे आ गया & अपने धक्के तेज़ कर दिए,बहुत देर से उसने अपने उपर काबू रखा था & अब वो बस अपनी नयी दुल्हन के अंदर झड़ना चाहता था.

रीमा भी इस नये एहसास सेगरम हो गयी थी उसने रवि को अपनी बाहो मे कस लिया & अपने नाख़ून उसकी पीठ मे गाड़ने लगी,अपनी टांगे उसने उसकी कमर पे लपेट दी जैसे कि चाहती हो कि उसका लंड उसके और अंदर तक चला जाए.

"श...हह...तुम्हारी चूत कितनी टाइट है,रीमा......कितना मज़ा आ रहा है....",उसने अपने होठ उसकी चूचियों से लगा दिए,"...और तुम्हारी...चा...ती..यान्न....कितनी मस्त & बड़ी हैं..."

रीमा उसके मुँह से ऐसी बातें सुन और मस्त हो गयी.उसे अपने उपर हैरत भी हुई की ऐसी बातें सुन उसे शर्म नही आ रही थी बल्कि मज़ा आ रहा था.

"जान,तुम्हे कैसा लग रहा है? बताओ ना.",रवि ने उसके निपल को दाँत से हल्के से काट लिया.

"बहुत अच्छा लग रा...है रवि...आ....अहह.....दिल कर रहा है बस यू ही तुम...हरी बा...हो...मे पड़ी तुमसे प्यार करवाती राहु...ऊओह..!"

उसकी बातें सुन रवि ने अपनी रफ़्तार और बढ़ा दी थी.,"प्यार नही,जान इसका नाम कुच्छ और है. वो बोलो,तुम मुझसे क्या करवा रही हो?"

"मुझे नही पता नाम-वाम.",रीमा को उस हाल मे भी शर्म आ गयी.

"चुदाई मेरी रानी,बोलो कि तुम मुझसे चूड़ना चाहती हो."

"नही."

"प्लीज़ बोलो ना."

"ना,मुझे शर्म आती है."

"ठीक है.फिर मैं इसे बाहर निकाल लेता हू.",रवि ने लगभग पूरा लंड उसकी चूत से खींच लिया,बस 1/2 इंच लंड अंदर था.

रीमा तड़प उठी & कमर उचका लंड को चूत के अंदर & अपनी बाहो से उसके जिस्म को अपने उपर लेने की नाकाम कोशिश करने लगी.

"पहले बोलो की तुम मुझसे चुदना चाहती हो & मेरा लंड अपनी चूत के अंदर चाहती हो."

रीमा को तो बस वो लंड अपने अंदर चाहिए था,वो अपनी शर्म भूल गयी,"मैं तुमसे चुदना चाहती हू, रवि.प्लीज़ डालो अपना लंड मेरी चूत मे & चोदो मुझे,प्लीज़!"

सुनते ही रवि ने 1 झटके मे ही पूरा लंड उसकी चूत मे पेल दिया,"लो मेरी जान.ये लो.."

कमरे मे दोनो की आनहो का शोर भर गया.रवि पागलो की तरह धक्के लगा रहा था & रीमा भी बेकाबू होकर अपनी कमर हिला धक्को का जवाब दे रही थी.

"रीमा,मैं झड़ने वाला हू."

"बस थोड़ी देर और रवि...आ...अहहह.....हहाअ.....आआआआण्ण्ण्ण्ण...!",रीमा के झाड़ते ही रवि ने भी 2-3 धक्के & लगाए & झाड़ गया.वो उसके सीने पे गिर गया & दोनो अपनी तेज़ सांसो को संभालने लगे.
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:42 PM,
#8
RE: Mastram Kahani खिलोना
खिलोना पार्ट--3

गांद के नीचे लगे कुशन पे पड़े खून के धब्बे उसके कुंवारेपन के ख़त्म होने की दास्तान बयान कर रहे थे.

"ऊओ....रवि!",रीमा 1 हाथ से अपनी छातिया मसल्ते हुए & दूसरे से अपने चूत के दाने को रगड़ते हुए झाड़ गयी.आँखे खोल वो अपनी सुहग्रात की यादो से बाहर आई.टवल से अपनी चूत से बह आए पानी को उसने सॉफ किया & कपड़े पहनने लगी.

कपड़े पहनते हुए उसने 1 नज़र घड़ी पे डाली तो देखा की 2 बज रहे हैं,तभी उसका मोबाइल बजा.उठाया तो रवि था,"हेलो!जान,सॉरी आने मे थोड़ी देर हो जाएगी.कुच्छ ज़रूरी काम आ गया है."

"आज के दिन भी काम!जाओ मैं तुमसे बात नही करूँगी."

"प्लीज़ नाराज़ मत हो,रीमा.क्या करू!बहुत ज़रूरी है.नही तो क्या मेरा दिल नही कर रहा आज का दिन सेलेब्रेट करने का.सवेरे से मैं तो बस यही सोच रहा हू कि आज तुम्हे कैसे चोदुन्गा.."

"धात!फोन पे भी ऐसी बातें कर रहे हो.ऑफीस मे कोई सुन लेगा तो."

"तो सुन ले.अपनी बीवी को चोदने की बात कर रहा हू किसी और को नही."

"चुप!पागल.अच्छा बताओ कितने बजे तक आ जाओगे."

"7 बजे तक पक्का."

"ओके.उस से देर मत करना."

"नही करूँगा,डार्लिंग.ओके,बाइ!"

"बाइ!"

शादी के बाद रीमा को अपने बारे मे 1 बहुत अहम बात पता चली थी.वो ये कि उसे चुदाई मे बहुत मज़ा आता था.जितना रवि उसे हर रोज़ चोदने को बेताब रहता था उतना ही वो भी रहती थी-शायद उस से ज़्यादा ही.हनिमून के तीसरे दिन जब रवि ने उसका हाथ पकड़ अपने लंड पे रखा तो वो कुच्छ शर्म & कुच्छ झिझक से अपना हाथ खींच बैठी थी,पर रवि के इसरार के बाद ना केवल उसने उसके लंड को अपने हाथो मे लिया बल्कि मुँह मे भी लेकर जम के चूसा.उसे लंड से खेलने मे बहुत मज़ा आया था.

हनिमून के 5 दीनो के बाद उसने कभी भी रवि को कॉंडम नही इस्तेमाल करने दिया.उसने उसे साफ कह दिया कि जो भी प्रोटेक्षन लेना है वो लेगी पर उसकी चूत & उसके लंड के बीच कुच्छ भी आए,ये उसे मंज़ूर नही था.पिच्छले 1 साल मे दोनो पति-पत्नी 1 दूसरे से पूरी तरह से खुल गये थे.छुट्टी के दिन अगर वो शहर नही घूम रहे होते तो घर के किसी कमरे मे चुदाई मे लगे होते.रवि तो छुट्टी मे उसे कपड़े पहनने ही नही देता था.

जहा रवि को उसे डॉगी स्टाइल & स्पून पोज़िशन -जिसमे वो करवट से लेट जाती & रवि उसके पीछे करवट से लेट उसकी चूत मे लंड घुसा कर चोद्ता-मे चोदना पसंद था वही रीमा को रवि के नीचे या फिर उसके उपर आकर चुदाई करना भाता था.दोनो हर रात कम से कम 2 बार चुदाई करते जिसमे 1 बार रवि की पसंद की & दूसरी बार रीमा की पसस्न्द की पोज़िशन मे चुदाई होती.

सारी पहन रीमा ने अपनी नाभि पे हाथ फेरा,फिर ड्रेसिंग टेबल से 1 रिंग उठा उसमे पहन ली.रीमा ने रवि के जनमदिन के मौके पे उसके तोहफे के तौर पे अपनी नेवेल पियर्सिंग कराई थी.रवि तो ये देख पागल ही हो गया था & पता नही कितनी देर तक उसकी ज़ुबान उसके पेट & नाभि पे घूमती रही थी.जब दोनो चुदाई नही कर रहे होते & यूँही बैठे टीवी देख रहे होते या कुच्छ पढ़ रहे होते तो रवि उसकी बगल मे कमर मे बाँह डाल बैठ जाता & अपना हाथ उसके पेट पे पहुँचा उस नेवेल रिंग से खेलता रहता.

ऐसा नही था कि सब कुच्छ सपने सा सुंदर था.रवि के पिता की नाराज़गी रीमा को बहुत परेशान करती थी.वो अनाथ थी शायद इसलिए परिवार की अहमियत रवि से ज़्यादा समझती थी,पर इस समस्या का हाल कैसे निकाले उसे समझ नही आता था.हनिमून के बाद रवि उसे ले पंचमहल गया.उसे लगा था कि पिताजी जब ये देखेंगे की उसने शादी कर ली है तो उन्हे मान ही जाएँगे.पूरे सफ़र मे रवि उसे अपने माता-पिता,भाई & दद्दा की कहानिया सुनाता रहा.

दद्दा कहने तो उसके परिवार के नौकर थे पर सभी लोग उन्हे भी परिवार का सदस्य ही मानते थे.दद्दा का नाम दर्शन था पर रवि & उसका भाई शेखर प्यार से उन्हे दद्दा बुलाते थे.जब शेखर 1 साल का था तो दद्दा घर मे आए & तब से यही रह गये.

रीमा को वो दिन याद आया,जब टॅक्सी से उतर रवि & वो उसके घर मे दाखिल हुए,"दद्दा ओ दद्दा!",रवि ने गेट खोलते हुए आवाज़ दी.

घर का दरवाज़ा खुला & वीरेन्द्रा साक्शेणा बाहर आए,"वो बाज़ार गया है."

रवि ने आगे बढ़ पिता के पाँव च्छुए तो रीमा ने भी वैसा ही किया.दोनो घर के अंदर गये तो रीमा ने पहली बार रवि की मा को देखा.रवि उन्हे रीमा के बारे मे बताने लगा.बिस्तर पे पड़ी वो उन्हे देख रही थी पर कुच्छ पता नही आ रहा था कि उन्हे कुच्छ समझ भी आ रहा था या नही.थोड़ी देर बाद विरेन्द्र जी ने रवि को आवाज़ दी तो रवि रीमा को वही छ्चोड़ कमरे से बाहर चला गया.

"...अभी 2-3 महीने बॅंगलुर मे काम करूँगा फिर कोशिश कर यहा ट्रान्स्फर ले लूँगा & आपलोगो के साथ रहूँगा."

"तुम्हारा अपना घर है जब चाहो आओ पर वो लड़की यहा नही आएगी."

"वो लड़की अब मेरी पत्नी है,पिताजी."

"मैं नही मानता."

"आपके मानने ना मानने से कुच्छ नही होता.क़ानून उसे मेरी बीवी मानता है."

"मैं तुमसे बहस नही करना चाहता.उस लड़की को मैं अपनी बहू नही मानता.मैने पूरी बिरादरी मे किसी को तुम्हारी इस बेवकूफी के बारे मे नही बताया है...यहा तक की दर्शन भी कुच्छ नही जानता.अगर इस घर से ताल्लुक रखना है तो उस लड़की को अपनी ज़िंदगी से अलग करो."

"ठीक है,आपने जिस बिरादरी को कुच्छ नही बताया है,आपको वो बिरादरी मुबारक हो.मुझे आपसे या आपकी बिरादरी से कुच्छ लेना-देना नही.अगर इस घर मे मेरी पत्नी की इज़्ज़त नही होगी तो उसे मैं अपनी बेइज़्ज़ती समझूंगा."

"जो मर्ज़ी समझो.मैने अपनी बात कह दी है."

"ठीक है.मैं जा रहा हू & तब तक वापस नही आओंगा जब तक रीमा को अपनी बहू नही मानेंगे.",और दोनो वॉया से चले आए.

रीमा ने कई बार रवि को समझाया कि वो नही जा सकती तो क्या हुआ वो चला जाया करे पंचमहल पर रवि भी अपने पिता की तरह ज़िद्दी था.दिल ही दिल मे तड़प्ता रहता था अपनी मा को देखने के लिए लेकिन जाने का नाम तक ज़ुबान पे नही लाता था.अपने भाई शेखर से उसे घर का हाल मालूम होता रहता था,शेखर 1-2 बार अपने ऑफीस टूर पे बॅंगलुर भी आया था & दोनो से मिला भी था.रीमा को वो 1 बहुत शरीफ इंसान लगा था.

----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

रीमा ने घड़ी देखी तो 8 बज रहे थे,उसने रवि को फोन लगाया तो स्विच ऑफ का मेसेज आया.ऐसे ही 9 बज गये तो वो चिंता से परेशान हो उठी.रवि का मोबाइल लगातार स्विच ऑफ आ रहा था.उसके ऑफीस के साथियो को फोन किया तो उन्होने कहा की वो तो 3 बजे ही दफ़्तर से निकल गया था,रीमा को बहुत घबराहट होरही थी & कुच्छ समझ नही आ रहा था कि वो क्या करे.घड़ी ने 10 बजाए & उधर डोरबेल बाजी.वो चैन की साँस ले भागती हुई दरवाज़े पे पहुँची.

"कहा थे इत-.."दरवाज़ा खोल उसने सवाल पोच्छना शुरू किया पर बीच ही मे रुक गयी.सामने 1 पोलीस्वला खड़ा था.

"आप मिसेज़.रीमा साक्शेणा हैं?"

"जी."

"आप मिस्टर.रवि साक्शेणा ,जो मेट्रोपोलिटन बॅंक मे काम करते हैं,उनकी वाइफ हैं?"

"जी,हां.क्या बात है?",रीमा का दिल ज़ोरो से धड़क रहा था.

"आपके पति का आक्सिडेंट हुआ है."
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:42 PM,
#9
RE: Mastram Kahani खिलोना
आज रवि की मौत को 1 महीना हो गया था & रीमा घर मे बिल्कुल अकेली उदास पड़ी हुई थी.हादसे की खबर सुनते ही मौसी फ़ौरन उसके पास आ गयी थी & कल शाम तक उसके साथ थी.पर वो भी आख़िर कब तक यहा रुकती,कल रात वो भी वापस पुणे चली गयी.

बॅंगलुर से करीब 60 किलोमीटर दूर आर्कवाती नदी पे 1 पुराना पुल है.इसी पुल की रेलिंग तोड़ती रवि की बाइक नदी मे जा गिरी थी.बरसात की वजह से नदी भरी हुई थी & उपर से रवि को तैरना भी नही आता था.आक्सिडेंट उनकी आनिवर्सयरी की शाम को हुआ था & दूसरे दिन 1 बराज के गेट मे अटकी रवि की लाश मिली थी.

विरेन्द्र & शेखर साक्शेणा पंचमहल से आकर रवि का अंतिम संस्कार कर 15 दिनी मे वापस चले गये थे.रीमा के ससुर ने 1 बार भी उस से ना बात की ना उसका हाल पूचछा.हा,शेखर ने ज़रूर उसे कहा कि वो अगर ज़रूरत पड़े तो उसे बेझिझक बुला सकती है & अपना फोन नंबर. भी उसे दिया.

पता नही क्यू,रीमा का दिल पोलीस की बात मानने को तैय्यार नही था की ये आक्सिडेंट था.आख़िर रवि शहर से दूर उस वीराने मे क्या करने गया था?उसे अपने पति की मौत इतनी सीधी-सादी नही लग रही थी.कोई तो बात थी..फिर रवि इतने दीनो से परेशानी भी था.इन्ही ख़यालो मे वो खोई थी कि उसका मोबाइल बजा तो उसने उसे अपने कान से लगाया,"हेलो."

"हेलो,क्या मिसेज़.रीमा साक्शेणा बोल रही हैं?"

"जी हां."

"मैं अनिल कक्कर बोल रहा हू मेट्रोपोलिटन बॅंक से.आप कैसी हैं?"

"नमस्ते सर.मैं ठीक हू.कहिए क्या बात है?",ये रवि का बॉस था.

"रीमा जी,मैं इस वक़्त आपको परेशान तो नही करना चाहता पर बात ही कुच्छ ऐसी है.क्या आप आज बॅंक आ सकती हैं?"

"क्या बात है सर?"

"फोन पे बताने वाली बात होती तो मैं आपको कभी परेशान नही करता.प्लीज़ 1 बार बॅंक आ जाइए."

"ठीक है,सर मैं 11 बजे तक आ जाऊंगी.",रीमा ने घड़ी की तरफ देखा.

-------------------------------------------------------------------------------

बॅंक मे अनिल कक्कर के सामने बैठी रीमा का मुँह हैरत से खुला हुआ था,"ये आप क्या कह रहे हैं,सर?"

"मैं सच कह रहा हू.रवि ने 1 फ़र्ज़ी इंसान को .4 लाख का लोन दिलवाया था.अभी 2 दिन पहले जब लोन की पहली इंस्टल्लमेंट का पोस्ट-डेटेड स्चेक बाउन्स हो गया तो हमने तहकीकात की तो पता चला की लोनी के नाम & पता दोनो झूठे थे."

"पर आप यकीन से कैसे कह सकते हैं कि ये रवि ने ही किया है?रवि का काम तो फिगर्स आनलाइज़ करने का था."

"आप सही कह रही हैं,रीमा जी.पर बॅंक का कोई भी एंप्लायी बॅंक की कोई भी स्कीम किसी कस्टमर को बेच सकता है & रवि ने इसी बात का फ़ायदा उठा कर ये काम किया है.",उसने कुच्छ पेपर्स उसके सामने बढ़ाए,"आप चाहे तो ये पेपर्स पढ़ कर तसल्ली कर सकती हैं."

रीमा को तो कुच्छ समझ नही आ रहा था,"ये पैसे...ये क्या...मुझे चुकाने पड़ेंगे?"

"जी बिल्कुल,नही तो हमे मामला पोलीस को देना पड़ेगा.",कक्कर ने ठंडी साँस भारी.,"..बल्कि हमे तो अभी तक पोलीस को खबर कर देनी चाहिए थी,पर आपके हालत देख मैने सोचा कि पहले आपसे बात कर लू."

4 लाख रुपये!कहा से लाएगी वो इतनी बड़ी रकम...उसका सर चकरा रहा था...पोलीस का नाम सुन कर तो उसके पसीने छूट गये थे.तभी उसे पीठ पे कुच्छ महसूस हुआ,सर उठाया तो देखा की कक्कर मुस्कुराता हुआ उसकी पीठ सहला रहा था,"..घबराईए मत...1 और तरीका है...आप मेरे साथ को-ऑपरेट कीजिए,मैं आपको इस मुसीबत से निकालूँगा."

हर औरत मे मर्द की बुरी नियत भापने की ताक़त होती है,रीमा भी कक्कर का मतलब समझ गयी.उसका दिल तो किया कि 1 ज़ोर का तमाचा रसीद कर दे इस कामीने इंसान के गाल पे,पर उसने खुद पे काबू रखा & कुर्सी से उठ खड़ी हो गयी,"...जी सर...मुझ-...मुझे सोचने के लिए थोड़ा वक़्त चाहिए..."

"हां..हां!लीजिए वक़्त.मैं 5 दीनो तक ये मामला दबा सकता हू,5 दीनो के बाद...",उसकी अनकही बात रीमा समझ गयी & वो उसके ऑफीस से बाहर निकल गयी.बाहर मार्केट मे उसने 1 जूस वाले से जूस पिया तो उसे थोड़ा सुकून मिला,उसने अपने बॅग से रवि का एटीम कार्ड निकाल कर उसके अकाउंट का बॅलेन्स चेक करने की सोची & बगल के एटीम मे घुस गयी.

एटीएम स्क्रीन पे जो रकम देखी उसने उसे फिर परेशान कर दिया,उसने दुबारा चेक किया पर एटीएम स्क्रीन पे .40,000 ही दिख रहा था.उसे अच्छी तरह से याद था कि इस अकाउंट मे करीब .2.5 लाख थे तो आख़िर 2 लाख कहा गये?

"ओह्ह...रवि,तुमने क्या किया था आख़िर?",वो मन ही मन बोली.दिन के 2 बजे वो वापस घर पहुँची.अंदर घुस कर उसने दरवाज़ा बंद किया ही था कि डोरबेल बज उठी.दरवाज़ा खोला तो देखा की उसके मकान मालिक खड़े हैं.

"नमस्ते अंकल."

"जीती रहो बेटी.",वो कोई 65 साल के बुज़ुर्ग थे & यही पास ही मे रहते थे.रवि की मौत के बाद उन्होने रीमा की काफ़ी मदद की थी.

"अरे,मैं तो भूल ही गयी थी.आपको किराए का चेक़ भी तो देना है."

"नही बेटी मैं उसके लिए नही आया था,पैसे कही भागे थोड़े ना जा रहे हैं.मैं तो बस तुम्हारा हाल पुच्छने आया था.",वो सोफे पे रीमा के बगल मे उसके कुच्छ ज़्यादा ही पास बैठ गये,"कुच्छ सोचा तुमने आगे क्या करना है?"

"अभी तक तो कुच्छ नही,अंकल.",उसे अंकल की नज़दीकी कुच्छ ठीक नही लगी तो वो उठ ड्रॉयर से चेकबुक निकाल उनका किराए का चेक़ बनाने लगी.

"घबराना मत बेटी,मैं हू ना.",अंकल उसके पास खड़े उसकी पीठ सहलाते हुए हाथ ब्लाउस से नीचे उसकी नंगी कमर पे ले आए.

"आपका चेक़,अंकल & बुरा ना माने तो आप अभी जा सकते हैं.मुझे थोड़ा काम है."

"हां...हां!तुम आराम करो बेटी....& कोई ज़रूरत हो तो मुझे बेझिझक बुला लेना.",रीमा ने दरवाज़ा बंद किया &रोती हुई सोफे पे जा गिरी.पहले रवि का बॉस अब ये बुड्ढ़ा.इन सबने उसे क्या कोई सड़क पे पड़ा खिलोना समझ रखा था क्या कि जिसकी मर्ज़ी हो वो उसके साथ खेल ले.

तभी फिर से डोरबेल बजी.रीमा ने आँसू पोछे & दरवाज़ा खोला तो चौंक उठी,सामने उसके ससुर खड़े थे.सकपका के उसने उनके पाँव छुए & उनके अंदर आते ही दरवाज़ा बंद कर दिया.

"तुम्हे हुमारे साथ पंचमहल चलना होगा."

"जी.",रीमा ने चौंक के उन्हे देखा.

"सुमित्रा-रवि की मा की हालत तो तुम जानती हो.डॉक्टर्स का कहना है कि कई बार अगर कोई बहुत शॉकिंग न्यूज़ सुनाई जाए तो ऐसे पेशेंट्स बोलने लगते हैं.इसीलिए हमने उसे रवि की मौत की खबर दी.सुमित्रा बोली तो नही पर उसकी आँखो से आँसू बहने लगे,रुलाई की आवाज़ नही निकली बस आखें बरसती रही.उस दिन से वो ठीक से खा-पी भी नही रही है.मैं जब भी उसके सामने जाता हू तो जैसे उसकी नज़रे मुझ से कुच्छ मांगती रहती हैं.थोड़े दीनो मैं समझ गया कि वो तुम्हे ढूंडती है."

"मा जी तो कुच्छ बोलती नही,फिर आपको ऐसा कैसे लगा?"

"मैं उसका पति हू,इतने साल हम साथ रहे हैं.उसके दिल की बात समझने के लिए मुझे किसी ज़ुबान की ज़रूरत नही."

"अपना सामान तैय्यार रखना,हम कल ही यहा से निकल जाएँगे.और हा 1 बहुत अहम बात सुन लो.मैं आज भी तुम्हे अपनी बहू नही मानता,बस अपनी पत्नी की बेहतरी के लिए तुम्हे वाहा ले जा रहा हू.और तुम भी बस 1 नर्स की हैसियत से वाहा जा रही हो.मेरी पूरी बिरादरी या जान-पहचान मे कोई भी रवि की शादी या तुम्हारे वजूद से वाकिफ़ नही है.तो तुम जब तक इस राज़ को अपने सीने मे दफ़न रखोगी वाहा रहोगी."

कोई और मौका होता तो रीमा उन्हे बाहर का रास्ता दिखा देती पर आज वीरेन्द्रा साक्शेणा के रूप मे भगवान ने उसे मुसीबत से बाहर निकालने का ज़रिया भेज दिया था.

"मुझे आपकी बात मंज़ूर है पर आपको अपने बेटे की 1 ग़लती सुधारनी होगी...और रवि की मौत के पीछे ज़रूर कोई राज़ था ,आपको उस राज़ का भी पता लगाना होगा."

"सॉफ-2 बात करो,पहेलियाँ मत बुझाओ."

और रीमा ने उन्हे पूरी बात बता दी.विरेन्द्र जी को उसकी बात पे यकीन नही हुआ पर जब दूसरे दिन वो उसके साथ बॅंक गये तो उन्हे यकीन करना ही पड़ा.
-  - 
Reply
11-12-2018, 12:42 PM,
#10
RE: Mastram Kahani खिलोना
"मिस्टर.कक्कर,मैं नही चाहता कि मेरे गुज़रे हुए बेटे को कोई धोखेबाज़ के रूप मे याद करे.",उन्होने अपना विज़िटिंग कार्ड कोट की जेब से निकाला & उसपे कुच्छ लिखा,"ये मेरा कार्ड है & इस्पे मेरे घर के फोन नंबर्स. भी मैने लिख दिए हैं.आप मुझे अकाउंट नंबर. दीजिए,कल ही उसमे 4 लाख रुपये जमा हो जाएँगे."

"ओके,मिस्टर.साक्शेणा.",कक्कर ने कार्ड लिया & हसरत भरी निगाह रीमा पे डाली.

-------------------------------------------------------------------------------

शाम ढले पंचमहल की उस पॉश कॉलोनी जिसका नाम सिविल लाइन्स था,मे 1 कार दाखिल हुई 1 पुराने मगर शानदार बंगल के सामने आकर रुक गयी.कार मे से विरेन्द्र साक्शेणा & रीमा उतरे तो अंदर से गेट खोल 1 बुज़ुर्ग सा आदमी बाहर आया.रीमा समझ गयी कि यही दर्शन है यानी दद्दा.

"ये सुमित्रा की नयी नर्स रीमा हैं,दर्शन.इन्हे इनका कमरा दिखा दो."

"आइए.",दर्शन जैसे उसे देख खुश नही हुआ था.

कमरे मे समान रख दर्शन बाहर जाने लगा तो रीमा ने उसे आवाज़ दी,"दद्दा!"

दर्शन चौंक कर घुमा,"तुम्हे कैसे पता कि मुझ से छ्होटे मुझे दद्दा बुलाते हैं?तुम तो अभी-2 आई हो."

रीमा सकपकाई पर उसने संभालते हुए पास के शेल्फ पे रखी 1 तस्वीर की ओर इशारा किया,"वाहा लिखा है ना.",तस्वीर मे दर्शन दो बच्चों के साथ खड़ा था & 1 बच्चे की लिखावट मे ही फोटो के नीचे स्केच पेन से तीनो के नाम लिखे थे.वो दोनो बच्चे शेखर & रवि थे.

"ओह्ह..",दर्शन के होटो पे मुस्कान आ गयी.

"मैं आपको दद्दा बुला सकती हू ना?"

"हां,नर्स जी."

"नर्स जी नही मेरा नाम रीमा है."

"अच्छा,रीमा जी."

"रीमा जी नही सिर्फ़ रीमा."

"अच्छा,रीमा.",दर्शन हंसता हुआ बाहर चला गया.

-------------------------------------------------------------------------------

थोड़ी देर बाद सुमित्रा जी के डॉक्टर डॉक्टर.वेर्मा आ गये.,"तो यही हैं नयी नर्स.हेलो,नर्स."

"हेलो,डॉक्टर."

"आओ,मैं आपको पेशेंट के बारे मे बता देता हू."

"चलिए,डॉक्टर."

"...तो रीमा,चूँकि ये खुद नही मूव कर सकती तो हमे इन्हे मूव करना पड़ता है नही तो बेड्सोरे होने का डर है.दिन मे हर 2 घंटे मे इनकी पोज़िशन बदल देना.हा रात मे सोते वक़्त इसकी ज़रूरत नही ..",डॉक्टर रीमा को समझा रहे थे,"ये है सारी दवाएँ & उनकी डोसेज.ओके.और कुच्छ पूच्छना है?"

"नही,डॉक्टर."

"वेरी गुड.मेरा नंबर.विरेन्द्र जी के पास है.कोई प्राब्लम हो तो कॉल मी.अब मैं चलता हू."

"बाइ,डॉक्टर."

-------------------------------------------------------------------------------सफ़र से थॅकी रीमा जब बिस्तर पे लेटी तो वो सोचने लगी कि तक़दीर भी उसके साथ क्या खेल खले रही है.जब तक पति ज़िंदा था तब तक वो ससुराल नही आई & अब पति की मौत के बाद वो यहा रह रही है.अपनी किस्मत पे 1 फीकी हँसी हंस वो करवट बदल नींद मे डूब गयी.
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 85 136,022 Yesterday, 09:34 PM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 221 948,702 Yesterday, 03:48 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान 119 80,322 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post:
Star Kamukta Kahani अहसान 61 224,405 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post:
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) 60 147,065 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post:
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा 228 781,786 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post:
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 146 91,653 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 101 210,891 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post:
Lightbulb kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत 56 30,056 02-04-2020, 12:28 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर 88 106,598 02-03-2020, 12:58 AM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


xBOMBO sex videosTamanna bhatiya baba sex 44Bhabi ki chut me lgi chudayi ki aag ko muj se sant krwaya ki mjedar kahaniyaAishwarya Aishwarya ki BF Chris Gayle ke sath full HDMe, meri Nanad, mera pati lambihindi chudai kahaniyapussy chudbai stori marathiदीदी सोनम Kapoor sxey imagexnxxBiwi riksha wale kebade Lund se chudi sex stKareena Kapoor sexbaba.com new pageburkhe मुझे najiya की चुदाई कहानीMastram anterwasna tange wale ka . . .हिरोइन काxxxsexMai Mare Famili Aur Mera Gaon part 2Xxx online video boovs pesne kapde utarne kichalak kurriya xnxxxaanty noid bra penti sexi porn hindi sexy lankiya kese akeleme chodti heWww.mast.dard.chudai.ki.stlri.kamseen.kali.chhoti.chut.ki.dardbhari.chudai.ki.kahani.xxxPrachi Desai photoxxxxxx bp 2019भाभीHotfakz actress bengialAyesha ka ganban shoher ke samnerani,mukhrje,saxy,www,baba,net,potossexy Hindi cidai ke samy sisak videohinmom.hot.saxxxx kahania familyचुदाई होने के साथ साथ रो रही थीPapa ne bechi meri jawani darindo se meri chudai karwayiमेरी chudaio की yaade माई बड़ी chudkaad nikalidesi52.com antarvasnsexibaaba incest bhai ki kahanineha.kakr.nanga.sexy.kartewakt.photo wife miss Rubina ka sex full sexbur or gand me mehandi xvideos2.comමෑ ඇටයbhai bhanxxx si kahani hindi maAliabhatt nude south indian actress page 8 sex baba ಹುಡುಗಿಯ ಹೊಟೆsex desi nipal colej bf nivbabhi saath chhodiy videonewsexstory com marathi sex stories E0 A4 A8 E0 A4 B5 E0 A4 B0 E0 A4 BE E0 A4 A4 E0 A5 8D E0 A4 B0Xxx bf video ver giraya malTara Sutaria sexbaba.netVarsini hd nudeporn imagehawalat me chudai hindi nonveg kahani xxxBde chucho bali maa ke sath holiSex baba.com moshi ki nagi pussy mulayam choot chodai picanterwasna tatti karo ladkiya ladkiya amne samne storiesbete ne maa ke chahre per virya girayabhabhi nibuu choda fuck full videoxxxwwwBainanita of bhabhi ji ghar par h wants naughty bacchas to fuck herSex video gulabi tisat Vala seBhabhi ne bra Mai sprem dene ko kaha sex kahaniveerye peeneki xnxsexy video Hindi HD 2019choti ladki kaमाँ नानी दीदी बुआ की एक साथ चुदाई स्टोरी गली भरी पारवारिक चुड़ै स्टोरीsexy pic sexy picture boor Mein Chuha waliकुंवारी लडकी केचूत झडते हुए फोटूhindi sexy chudhiantiwww,paljhaat.xxxxmeri priynka didi fas gayi .https//www.sexbaba.net/Forum-hindi-sex-stories hindi galiyasexy pron vidio dawnlod mobailbegan khira muli gajar se chudai sexy kamuk hindi kahaniyasaleko chuda jiju hinde pron vedioGeeta kapoor sexbaba gif photoWwwbhabi ki gand chipake sex hd video comगुंडों ने मेरी इतनी गंद मरी की पलंग टूट गया स्टोरीchilai chudteगांडू पासुन मुक्तता Hindi xxxhdbata apni mom ko chod xxx viasnohbhabi ki face per loon hilaya vidioAntervasnaCom. Sexbaba. 2019.भैया का मोटा विकराल लंड गांड मे फंसा .चुदाई कहानियाँ .माँ की बड़ी चूत झाट मूत पीBap se anguli karwayi sex videoOffice line ladki ki seal pak tel lga ker gand fadi khoon nikala storiesMala xxx saban laun kele storyWww.xxnx jhopti me choda chodi.inxxx indian bahbi nage name is pohtosBahpan.xxx.gral.naitWww.sexbaba.comchut ka udhghatan bade lund demamee k chodiyee train m sex storySexBabanetcomतारक मेहता चूदाई की कहानीanbreen khala sexbabasexxcadiboudi aunty ne tatti chataya gandi kahaniyabollwood.photoxxnxcommuta marte samay pakde janekebad xxxhindi tv actress madhurima tuli nude sex.babaBaba ka chodata naga lund