Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
11-07-2017, 12:10 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
अरे तनी धीरे धीरे डाला , बड़ा दुखला राजा
( इसके बाद उसके चेहरे पे जो दर्द उभरा वो कोई उसी की उमर की कच्ची कली जब मोटे लंड से चुदे और जो दर्द हो, एकदम वैसा था.)
अरे तनी धीरे धीरे डाला , बड़ा दुखला राजा
मस्त जोबनवा चोली धैइला, गाल तो लहला काट,
काहे धँसावत बता भला, बड़ा दुखला राजा
अरे तनी धीरे धीरे डाला , बड़ा दुखला राजा


और इस गाने मे तो दोनों ने हद ही कर दी. अल्पी ने गुड्डी को कस के पटक दिया और फिर उसकी टांगे कंधे पे लेके और थोड़ी ही देर मे तो दोनों के घाघरे उलट गये थे. गोरी जांघे दिख रही थी .कुछ देर तक खुल के उसकी चूत पे अपनी चूत रगड़ने के बाद. उसने गुड्डी की थॅग थोड़ी सी सरकई, अपनी उंगलियाँ पहले तो चूत के उपर रगड़ी और फिर उन्हे दिखा के, एक उंगली सीधे उसकी चूत मे ठेल दी. काफ़ी देर तक उंगली करती रही वो, जब तक गुड्डी की चूत ने पानी नही फेंक दिया. और फिर उसे लेके सीधे राजीव के पास गयी और उन्हे चटा दिया. वो भी खूब स्वाद लेके गुड्डी का चूत रस लेते रहे. 

तब तक गुड्डी पीछे से आई और उसने एक झटके मे अल्पी की थॅग खींच के उसे पूरी तरह से नंगी कर दिया. और जब अल्पी गुड्डी के पीछे मूडी तो गुड्डी ने उनका भी शर्ट खींच के, ..उनका मोटा पूरा तननाया...बित्ते भर लंबा..दो दिन रात की भूख, कुछ इन का उत्तेजक नाच गाना और घंटे भर पहले खाई वियाग्रा की डबल डोज..एकदम लोहे का खम्भा हो रहा था. गुड्डी तो बस देखती रह गयी और मौके का फ़ायदा उठा के, अल्पना ने उस की भी थॅग खींच दी और अब तीनो..


अल्पी यही पे नही रुकी. उसने टेबल पे रखे, घर मे बने सफेद मक्खन का एक बड़ा लोंदा उठाया और उनके लंड पर मालिश करने लगी. और फिर गुड्डी क्यों पीछे रहती. उसने भी मक्खन का एक और लोंदा उठाया और वो भी कस कस के गुस्साए, भूखे लंड पर मलने लगी. जब उसने उनका मोटा लंड अपने किशोर उंगलियों के बीच पकड़ने की कोशिस की तो वो उसकी कलाई इतना मोटा लंड उसकी मुट्ठी मे कहाँ समाता. वो शर्मा गयी तो अल्पी ने सुपाडे की ओर इशारा करके कहा अरे उसे खोल के लगा , पहला धक्का तो वही लगाएगा. 
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:10 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
गुड्डी ने जैसे ही सुपाडा खोला...गुस्से मे जैसे लाल, खूब मोटा, फूला भूखा. सहमते हुए दो उंगलियों मे मक्खन ले उसने वहाँ भी लगाना शुरू कर दिया. उनका लंड इन दोनों किशोरियों की मालिश से एकदम चिकना हो गया. राजीव ने अल्पी को कुछ इशारा किया और उसने अपनीं उंगलियाँ मक्खन मे कस के डुबो के, गुड्डी की चूत मे पेल दी और इतना ही नही एक गोला लेके सीधे उसकी बुर मे उतार दिया. गुड्डी को उन्होने खींच के अपनी गोद मे बिठा लिया था और जबरन अपने पैरों से उसकी टांगे फैला रखी थी और उधर अल्पी उसकी चूत मे जम के मक्खन ठेले जा रही थी. और मक्खन ठेलते वो शरारत से उसकी उत्तेजित क्लिट भी छेड़ देती.


फिर वो तीनों कमरे मे चले गये जहाँ एक बड़े से बेड पे इन दोनों ने बिस्तर लगा रखा था. आगे गुड्डी, पीछे वो और फिर उनकी पीठ मे अपनी चूंचिया रगड़ती, लंड सहलाती अल्पी..

मैने सोचा इतने अच्छे मौके को बिना रेकॉर्ड किए रखना ग़लत होगा और मैं अपने कमरे से हैडिकैम लाने चली गयी. जीजा के साथ उसकी पहली चुदाई, यार के साथ रात भर, अजय के साथ सब तो मेरे कैमरे मे क़ैद थे तो फिर उसके भैया के साथ चुदवाने को रेकॉर्ड करने का मौका मैं क्यों छोड़ देती. जब तक मैं लौटी और के देखा तो गुड्डी की टांगे कस के फैली हुईं थी. वो उसकी दोनो टाँगो के बीच मे उसकी पतली कमर पकड़े..तब तक गुड्डी के मूह से जबरदस्त चीख निकली. मैं समझ गयी...

गनीमत थी कि हम लोगों का घर थोड़ा अलग थलग था... और अबकी बार जब दुबारा उन्होने पूरी ताक़त से ठेला तो ..अल्पी इस बार पहले से तैयार थी. उसने गुड्डी का मूह कस के अपनी चूत मे भींच दिया. बेचारी गों गों के की आवाज़ निकालती रही...आज उन पर भूत सवार था और वो बस धक्के पे धक्का ...और मैं सोचने लगी, कुछ ही दिन पहले जब हम यहाँ आए थे तो ये कितनी भोली ..ज़रा से मज़ाक से बिदकती थी और अब....और वो भी खुद कितना कहते थे..नही नही वो बच्ची है और अब खुद ही ..लेकिन ..मैने हंस के सोचा अभी तो ये शुरुआत है....4-5 दिन बाद ये दूबे भाभी के साथ पूरे दिन पूरे दो दिन रात ..और जो उन्होने मुझसे प्रामिस किया है अगर उसका आधा भी सच हुआ तो...न तो सिर्फ़ वो उसको 'सब कुछ...खिला पिला' देंगी..बल्कि उसे उसका चस्का भी लगा देंगी...कित्ता मज़ा आएगा इस किशोरी को खारा शरबत पिलाने मे और....और वो अजय के साथ. लगता है ये भी...पीड़ा मे आनंद जिसे हो आए मेरी मधुशाला वाले ढंग की है...अब जब मेरी निगाह सामने गयी तो दर्द की जगह मज़े की सिसकारियों ने ले ली थी और अब वो भी खुल के चूतड़ हिला हिला के मज़े ले रही थी..

दोनों के चेहरे पे एक अलग ढंग की खुशी ..शायद बचपन से चुप चुप के दोनों यही चाहते रहे हो..या फिर चुदाई का नशा ही...और मैने फिर सोचा...ये तो अभी आंगड़ाई है...होली मे जब हम आएँगे और इसको अपने साथ ले जाएँगे..और फिर जब मैं इसको पूरी ट्रैनिंग दूँगी...उनकी रखैल बनाके रखूँगी..और फिर जब साल भर के लिए..हम लोगों के साथ रहेगी..कोई चीज़ नही छोड़ूँगी..मेरी गाँव वाली भाभी तो कह रही थी कि अगर मैं इसको कार्तिक मे गाँव भेज दूं तो वो इसको... जब मैने
घड़ी पे निगाह डाली तो ऑलमोस्ट एक घंटा होगया था दोनों को लगे हुए. मुझ से अब नही रहा गया.



मैं कमरे मे उनके पीछे जाके खड़ी हो गयी. उनकी पीठ से सट के राजीव धक्के तो पूरी. ताक़त से मार रहे थे, लेकिन अभी भी वो आधे ही लंड से चोद रहे थे. मुझको एक शरारत सूझी.मैने एक उंगली सीधे उनकी गान्ड मे डाल दी और चिहुन्क कर उन्होने गचक से अपना पूरा लंड एक बार मे ही उसकी कच्ची कसी चूत मे जड़ तक घुसेड दिया. और अबकी बार तो वो ऐसा चिल्लाई कि ..बस.इधर मैं उनकी गान्ड मे उंगली करती रही उधर वो कस कस के पूरा लंड घुसेड के...

झड़ने के कगार पे थे वो इत्ते लंबे उपवास के बाद. और मैने भी अपनी सधी उंगली गान्ड मे करते करते उनके प्रोस्ट्रेट पे रगड़ दी .वो इत्ति तेज झड़ने लगे कि, लग रहा था ...गाढ़े सफेद वीर्य की धार सीधे उसकी बच्चेदानी पे पड़ रही हो...और साथ साथ वो भी काँपते हुए झड़ने लगी. मेरा मन..मैं सोच रही थी कि कभी वो बिन पिल के हो....और इन्हे ऐसी ही सीधे बच्चेदानी मे झाड़वा के इसे गर्भिन करवा दूं, ...भले ही बाद मे अबॉर्षन करवाना पड़े...दोनो झाड़ रहे थे दुबारा. उनके दोनों हाथ उसकी कमर पे थे और उसकी किशोर चूंचिया लटक रही थी...तन की तरह ..से दबा के मैने उन्हे चिढ़ाया,
" छोट छोट जोबना दबे मे मज़ा दे,
अरे ननदी हमारी अरे बहना तुम्हारी चोदे मे मज़ा दे."

-- समाप्त --


मित्रो ये क्यूट कोमल की कहानी यही ख़तम होती है मैने इतनी मेहनत से इस कहानी को आपके लिए हिन्दी मे पोस्ट किया है
फिर भी आपकी तरफ से कोई कमेंट नही मिला
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:11 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
ननद ने खेली होली--1


सबसे पहले तो मुझे अप सब लोगों का धन्यवाद देना चाहिए की अप ने किस तरह से मैंने अपनी किशोर ननद को ट्रेन किया ....लेकिन अचानक हम लोगों को वापस आना पड़ा| जैसा की तय हुआ था की होली में जब हम लोग आएंगे तब तक उस का इन्ट्र्कोरस मेरा मतलब है इंटर का कोर्स खत्म हो चुका होगा और वो साल भर के लिए हम लोगों के पास आके रहेगीं जब हम उस की अच्छी तरह कोचिंग करायेंगें|


शादी में आप सब को ये भी याद होगा की मेरी ननद गुड्डी ने अपने जीजा जित से भी वादा किया था की ....इस साल जब वो होली में आयेंगे तो वो उनसे जम के होली खेलेगी,और आखिर खेलेगी भी क्यों नहीं, क्यों की उन्होंने ही तो उसकी सील पहले पह्लाल तोडी थी, और उस के बाद जो उसने चलना शुरू किया तो अपने प्यारे भइया और मेरे सेक्सी सैंया के साथ चुदावा के दम लिया. लेकिन वादा होली का इस लिए भी था की जब वो नौवें में थी और जीत उस के जीजा पहली बार होली खेलने आये तो , होली में जीत का हाथ साली के चिकने गाल से फिसल के फ्राक के अन्दर नए उभरते मॉल तक पहुँच गया और एक बार जब जीजा का हाथ साली के मॉल तक पहुँचा जाय, मामला होली का हो, भंग की तरंग का हो, तो बिना रगडन मसलन के ....लेकिन बुद्धू साली बुरा मान गई ....और वो तो जब शादी के माहोल में अपनी उस बुद्धू ननद को बुर के मजे के बारे में बताया तो ख़ुद वो अपने जीजा से सैट और पट गई ....लेकिन ये सारी बातें तो मैं आपको बता ही चुकी हूँ ननद की ट्रेनिंग में ....अब दास्ताँ उसके आगे की ....कैसे होली में हम फ़िर दुबारा उनके , राजीव के मायके गए, और राजीव मेरी ननद कम .गुड्डी के लिए तो ललचा रहे ही थे, मेरी नई बनी बहन और अपनी एक लौटी छोटी साली, मस्त पंजाबी कुड़ी अल्पना और ....उस से भी ज्यादा उस की छोटी बहन कम्मो के लिए, जिसके लिए मैंने कहा था की होली में जब आयेंगे तो ....मैं उस की भी दिल्वौंगी . तो क्या हुआ जब होली में मैं अपने ससुराल गई साजन के साथ और कैसे मनी होली मेरी ननद की ....तो ये साडी दस्ताना ....ननद ने खेली होली ...


राजीव बड़े बेताब थे और बेताब तो मैं भी थी .होली का मजा तो ससुराल में ही आता है ....ननद, नन्दोई, देवर ....और एक तरह से अब वो उनकी भी ससुराल ही हो गयी थी ....नहीं मैं सिर्फ़ उनके माल के बारे में बात नहीं कर रही थी, आख़िर वहाँ मेरी मुंहबोली छोटी बहन अल्पी भी तो थी ....जिसने ना सिर्फ़ उनकी साल्ली का पूरा पूरा हक़ अदा किया था, बल्की मेरी ननद को फंसाने पटाने में भी ....और उसकी छोटी बहन कम्मो ....थी तो अभी कच्ची कली ....लेकिन टिकोरे निकालने तो शुरू ही हो गये थे और जब से उन्होंने एक सेक्स सर्वे में ये पध्हा था की मंझोले शहरों में भी २ फीसदी लडकियां अपना पहला सेक्स संबध १४ से १६ साल की उमर में बना लेती हैं तो बस ....एक दम बेताब हो रहा था उनका हथियार. मैं चिढाती भी थी ....तय कर लो होली किसके साथ खेलनी है मेरी छिनाल ननद गुड्डी के साथ या सेक्सी साली अल्पी के साथ या सबसे छोटी साली उस कमसिन कम्मो के साथ .तो वो हंस के बोलते तीनों के साथ।


और मैं हंस के बोलती लालची ....और गप्प से उनके मोटे मस्ताये लंड का सुपाड़ा गडप कर लेती.


तो हम लोग पहुँच गये होली के ६ दिन पहले ससुराल मैं ये नहीं बताऊंगी की होली के पहले मैंने क्या तैयारी की, भांग की गुझिया, गुड्डी, अल्पी और कम्मो के लिए खूब सेक्सी ड्रेसेस और भी बहोत सारी चीजें ....ये सब मैं अपने सुधी पाठकों के लिए छोड़ती हूँ, होली का किस्सा सुनाने की जल्दी मुझे भी है और सुनाने की बेताबी आपको भी ....हाँ एक बात जरुर ज़रा कान इधर लाइये थोडी प्राइवेट बात है ....ससुराल पहुँचने के पहले बेचारे वो पाँच दिन पूरे उपवास पे थे...मेरी मासिक छुट्टी जो थी, और मैं बस उनसे ये कहती थी अरे चलिए ना वहाँ मेरी ननद बेताब होगी, इस होली में अपने भैया की पिचकारी का सफ़ेद रंग घोंटने के लिए.


सबसे पहले रास्ते में अल्पी का घर पङता था. मैंने कहा, पहले अल्पी के यहाँ रुक लेते हैं, वो बिचारी बेताब भी होगी और उसके लिए जो गिफ्ट लिया था वो दे भी देंगें।


उनकी तो बांछे खिल गयीं...अरे नेकी और पूछ पूछ...और गाडी उस के घर की और मोड़ ली।


शाम होने को थी, उसके घर पहुँच के हमने दस्तक दी, और दरवाजा खोला कम्मो ने,


सफ़ेद ब्लाउज और नेवी ब्लू स्कर्ट में क्या गजब लग रही थी. राजीव बिचारे उनकी निगाहें तो बस दोनों...अब टिकोरे नहीं रह गये थे....कबूतर के बच्चे...और चोंचें भी हल्की हल्की ...टेनिस बाल की साइज...


अल्पी है....दरवाजे पे खडे खडे उन्होंने पूछा।


और अगर मैं कह दूँ नहीं है तो....बढ़ी अदा से अपने दोनों हाथ उभारों के नीचे क्रॉस कर उन्हें और उभारते हुए वो आँख नचा के बोली, तो क्या फ़िर आप अन्दर नहीं आयेंगें. और फ़िर दोनों हाथों से उनका हाथ पकड़ के बडे इसरार से बोली,


जीजू अरे अन्दर आइये ना,कब तक खडे रहेंगे बाहर और फ़िर आख़िर आपकी सबसे छोटी साली तो मैं ही हूँ ना.


एकदम....और फ़िर साली अन्दर बुलाए और जीजा मना कर दे ये तो हो नहीं सकता. राजीव कौन सा मौका चुकने वाले थे. वो बोले और हम दोनों अन्दर घुस गये।


असल में जीजी एक गाइड कैंम्प में गयी है, कल दोपहर तक आयेगी. मैं भी अभी स्कूल से आई ही हूँ. सोफे पे राजीव के ठीक सामने बैठ के वो बोली. उसने टाँगे एक के ऊपर एक चढ़ा रखी थीं, जिससे स्कर्ट और ऊपर चढ़ गयी. उसकी गोरी गोरी जांघे साफ साफ दिख रही थीं, खूब चिकनी और थोड़ी मांसल भी हो गयी थीं. उसने दोनों हाथों से पकड़ के स्कर्ट थोड़ी नीचे भी करने की कोशिश की पर....


और मम्मी कहाँ हैं...सो रही हैं क्या मैंने पूछा।


जैसे मेरे सवाल के जवाब में फोन की घंटी बज उठी.


अच्छा मम्मी....नहीं कोई बात नहीं....कम्मो बोल रही थी.


हाँ मैं अभी स्कूल से आई...आप ६ सात बजे तक आंटी के यहाँ से आने वाली थीं ना....क्या सब लोग उस के बाद सेल में....हाँ आज तो आख़िरी दिन है....


साध्हे सात, आठ तक....कोई बात नहीं ....अरे मेरी चिंता मत करिये ....अब मैं बड़ी हो गयी हूँ.


धत मम्मी ....कोई बात नहीं दूध पी लूंगी मैं. बाई...और उसने फोन रख दिया. और अब की आके सीधे राजीव के पास ....एक दम सट के बैठ गयी और बोली ....मम्मी का फोन था।


इतना तो हम भी समझ गये थे.
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:11 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
अरोडा आंटी के यहाँ आज किटी थी....तो साध्हे छ तक लेकिन वहाँ से सेल में जा रही हैं साढे सात आठ तक....

मेरी निगाह सामने रखी घड़ी पे पढी....साढे चार...इसका मतलब....कम से कम तीन घंटे पूरे ....आल लाइन क्लियर....और जिस तरह से वो फोन पे मम्मी के लेट आने की बात जोर से दुहरा रही थी और फ़िर अब ख़ुद....और अचानक मैंने बाहर के दरवाजे की और देखा...सिटकनी भी बंद...अब इससे ज्यादा वो क्या सिगनल दे सकती थी और इसका मतलब वो सिर्फ़ शरीर से ही नहीं मन से भी बढ़ी...

और राजीव भी ये सब इशारे अच्छी तरह समझ रहे थे. वो एक दम सट के बैठ गये थे और एक हाथ कंधे के ऊपर....

जाइये जीजू मैं आपसे नहीं बोलती, इतरा के वो बोल रही थी. आपने कहा था ना की होली में जरुर आयेंगें...जब से फागुन लगा.....और जब से अल्पी दीदी के बोर्ड के इम्तहान खत्म हुए...हर रोज हम दोनों गिनते थे होली अब कितने दिन है....

आ तो गया ना अपनी प्यारी साली से होली खेलने....उसके किशोर गुलाबी गाल पे दो उंगलिया रगड़ते वो बड़े प्यार से बोले।

पता है जीजू, मेरी क्लास की लडकियां सब किस्से सुनाती थीं, उन्होंने जीजू के साथ कैसे होली खेली, कैसे जीजू को बुध्दू बना के अच्छी तरह रंगा और उनके जीजू ने भी....खूब कस कस के उनके साथ....मेरा तो कोई जीजा था नहीं...पर अबकी ....मैंने खूब उन सबों से बोला....मेरे जीजू इत्ते हैंडसम हैं स्मार्ट हैं....

अरे तू अपने जीजू की इत्ती तारीफ कर रही है ज़रा इनसे पूछ की होली के लिए कोई गिफ्ट विफ्त लाए हैं की नहीं....या इत्ती मेरी सुंदर सी बहन से वैसे ही मुफ्त में होली खेल लेंगें, मैंने कम्मो को चढाया।

बढ़ी उत्सुकता से उसने राजीव की और देखा।

एकदम लाये हैं....मेरी हिम्मत...और अब उनका एक हाथ खुल के उस किशोर साली के गुलाबी गाल छू रहा था सहला रहा था और दूसरा....उसकी बस खिलने वाली कलियों के उपरी और....एक दम चिपक के वो बैठे थे...लेकिन पहले मेरी एक पहेली बूझो....

इट इज लांग, हार्ड एंड ....लिक्स....बताओ क्या...और इगलिश में ना आए तो.....

धत जीजू....मैं इंग्लिश मीधियम कान्वेंट में पढ़ती हूँ और दो साल में कालेज में पहुँच जाउंगी...मुझे सोचने दीजिये...लांग....लंबा है कडा है....और क्म्मों की निगाहें जाने अनजाने राजीव के बल्ज की और चली गयी।

टाईट लीवैस की जींस में साफ दिख रहा था...और ऊपर से राजीव का एक हाथ अब सीधे वहीं पे....दो उंगलियाँ उस उत्तेजित शिष्ण के किनारे....

अब फंस गयी लौन्डीया ....मैंने सोचा और भुस में और आग लगाई....

देखो....तुम्हारे जीजा के पास है और मेरे पास नहीं,

हाँ और लडकियां जब हाथ में काढा काढा पकड़ती हैं तो उन्हें अच्छा लगता है, कुछ तो होंठों से भी लगा लेती हैं, वो बोले।

धत जीजू आप भी...जाइये मैं नहीं बोलती आप ऐसी वैसी बातें करते हैं....कम्मो बोली, लेकिन निगाह अभी भी टेंट पोल से चिपकी।

अरे इसमें शरमाने की क्या बात है.....जीजा साली में क्या शरम और वो भी होली में....आख़िरी क्लू .....वो होली में तुम्हारा गिफ्ट भी है....वो बेचारी और शरमा गयी.

लो पकडो ये पे....देखो है ना लांग और हार्ड ...और जब तुम अपने हाथ से ले के दबाओगी तो लीक भी करेगा....है ना.....इम्पोर्टेड है....वैसे तुम क्या सोच रही थी लांग और हार्ड....उन्होंने उसे और छेडा।

अरे लिख के देख ले कहीं तुम्हारे जीजा ने नुमाइश का माल न पकड़ा दिया हो. मैंने उसे चढाया।

ठीक कहती हो दीदी....क्या भरोसा...और लिखने के लिए उसने एक कागज़ निकालते हुए उन्हें चिढाया, इम्पोर्टेड ...चीन का बना है क्या....बारह आने वाला...क्यों जीजू।

अरे वाटरमैन है नामी देखो उस पे नाम लिखा भी है, चलो अच्छा लिखो।

क्या....पेन कागज़ पे लगा के वो बैठी...
आई उन्होंने बोला.

आई बोल के उसने लिखा और उनकी और सिर उठा के देखा. किशोर होंठों पे पेन लगाए वो बढ़ी सुंदर लग रही थी।

एल ओ वी ई वाई.....वो बोल रहे थे...

और वो ध्यान से लिख रही थी... एल ओ वी ई वाई

अचानक वो समझ गयी ...ये क्या लिखवा रहे हैं...और अचानक पेन के पिछले हिस्से से ढेर सारा गुलाबी रंग सीधे उसके चहरे......

हंसते हुए वो बोले अरे बुरा ना मानना साली जी होली है....होली की आपके लिए ख़ास गिफ्ट...मैंने सोचा होली की शुरुआत सबसे पहले सबसे छोटी साली के साथ करते हैं....

उसके गाल गुलाब हो हाय थे. और रंग सिर्फ़ उसके गुलाबी गालों पे नहीं पढा था बल्की सफ़ेद ब्लाउज पे भी, और उसके अधखिले उरोज भी लाल छीन्टो से.....बस लग रहा था अचानक जैसे कोई गुलाब खिल उठा हो. कुछ तो वो शरमाई, सकुचाई पर अगले ही पल, कातिल निगाहों से उन्हें देख के बोली,

मुझे क्या मालुम था की....जीजू का इतनी जल्दी, हाथ में पकड़ते ही गिर पढेगा।

उस का ये द्वि अर्थी दाय्लोग सुन के मुझे लगा की सच में ये मेरी छोटी बहन होने के काबिल है. मुस्कराके मैंने उसे और चढाया,
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:11 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
अरी कम्मो, सुन अरे ज़रा अपने जीजा को भी रंग लगा दे सीधे अपने गाल से उनके गाल पे, वो भी क्या याद करेंगें किस साली से पाला पढा है।

एक दम दीदी और आगे बढ़ के उसने अपने गोरे गुलाबी रंग से सने गाल ....सीधे उनके गालों पे, ....राजीव की तो चांदी हो गयी. इस चक्कर में अब वह कैसे उनके सीधे गोद में आ गयी उस बिचारी को पता भी नहीं चला.और गालों से गाल रगड़ते अचानक दोनों के होंठ एक पल के लिए ....कम्मो को तो जैसे करेंट लग गया ....वो वहीं ठिठुर गयी ....पर राजीव कौन रुकने वाले थे. उसके उरोजों की और साफ साफ इशारा कर के बोले,

अरी साली जी रंग तो यहाँ भी लगा है ....ज़रा इससे भी लगा दीजिये ना

वो बिचारी क्या बोलती, मैं बोली उस की और से।

अरे सब काम साली ही करेगी आख़िर तुम जीजा किस बात के हो और फ़िर तो सीधे उनके हाथ उस नव किशोरी के उभरते जोबन पे
चालाक वो बहुत थी. तुरंत बात पलटते हुए बोली ।
अरे जीजू आप इत्ती देर से आए हैं आप को अभी तक पानी भी पिलाया ....आप क्या सोचेंगें की अल्पना दीदी नहीं है तो कोई पूछने वाला नहीं है और उन की गोद से उठ के वो हिरनी ये जा ....वो जा।

और पीछे से उसके कड़े कड़े छोटे मटकते गोल नितम्बो को देख के तो राजीव की हालत ही ख़राब हो गयी. उनका बालिष्ट भर का खूंटा अब जींस के काबू में नहीं आ र्रहा था।

उसके पीछे पीछे मैं भी किचेन में पहुँची, आ चल थोड़ी तेरी हल्प करा दूँ और पास में आ के उस के कान में हल्के से कहा, अरे तू भी तो अपने जीजू का जवाब दे दे। होली का मौका है कया ऐसे ही सूखे सूखे जाने देगी उनको।

वही तो कर रही हूँ दीदी। और उसने ग्लास की और इशारा किया। जब मैंने ग्लास में झांका तो मुस्कराये बिना नहीं रह सकी।
अच्छा ये बता की कुछ कोल्ध ध्रिंक विंक है क्या। ... मैं नाश्ते का इतजाम करती हूँ और तू कर अपने जीजा का।

मेरी अच्छी दीदी. ...कोल्ध ध्रिंक फ्रिज में है और फ्रिज . वो बोली।

अरे मालुम है मुझे पहली बात नहीं आ रही हूँ, और मैं बगल के कमरे में गयी जहा फ्रिज रखा था।




स्प्राईट की एक बढ़ी बोतल निकाल के तीन ग्लास में। तब तक मेरी निगाह बगल में रखी ड्रिंक कैबिनेट पे पढी. ...उसे खोला तो वोडका। ... जिन - फ़िर क्या था. ...स्प्राईट के साथ. कुछ स्नैक्स रख के जब मैं बाहर पहुँची तो कम्मो बढ़ी अदा से सीधे अपने उरोजों से सटा के ग्लास रख के पूछ रही थी,

क्यों जीजू बहोत प्यास लगी है।

हाँ. ...बहोत। कौन जीजा मना करता।

गुलाबी रंग से उसका सफ़ेद ब्लाउज एक दम चिपक गया था और उसके किशोर उभारों की पुरी रूप रेखा, कटाव यहाँ तक की ब्रा की लाइन भी साफ साफ दिख रही थी। रगड़ा रगडी में ऊपर के एक दो बटन भी खुल गए थे। और हल्का हल्का क्लिवेज - साफ साफ. ...और जैसे ये काफी ना हो, उसने दांतों से हलके से अपने गुलाबी होंठ काटते फ़िर पूछा।

तो जीजा बुझा दूँ. ...ना

और जैसे ही उन्होंने हाथ बढाया. ...पूरा पूरा का ग्लास भर। जाडा लाल रंग उनकी झाक्काक सफ़ेद रंग की शर्त पुरी तरह लाल। और हम दोनों जोर जोर से हंसने लगे।
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:11 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
ये हुयी ना पूरी होली। ...देखा मेरी बहन का बदला। तुमने तो पूरा ही ढाला था और यहाँ इस ने पूरा का पूरा और क्या जीजी। और अभी तो ये होली की शुरू आत है। ... हंस के वो मेरे पीछे छिपती हुयी बोली।

अरे साली. ...बताता हूँ तुझे. ...और पकड़ के अब वो दुबारा उनकी गोद में. ...और इस धर पकड़ में स्कूल ड्रेस की ब्लाउज के एकाध बटन और...

अच्छा चलो. ...पहले ये कोल्ड ड्रिंक पी के थोड़ा गरमी कम करो. ...और मैंने आँख मार के राजीव को इशारा किया, और उन्होंने पकड़ के ग्लास कम्मो के होंठों पे. ...जबरन ...

स्प्राईट बुझाये प्यास बाकी सब बकवास। ...मैं हंस के बोली.

स्प्राईट कम। वोडका ज्यादा।

उन्ह। ...उन्ह. ...ये तो उसने बुरा सा मुंह बनाया.

अरे पी ले पी ले वरना ये मुझे चिढायेंगे. ...कैसी साली है ज़रा सा जीजा के हाथों. ...मैं बोली और राजीव को मौका मिल गया, एक हाथ से कास के उसकी ठुड्डी पकड़ के दूसरे से ग्लास आधी से ज्यादा खाली कर दी।

अरे आप भी तो पीजिए और अब कम्मो का नम्बर था उसने बाकी बची ग्लास अपने हाथों से अपने जीजा के मुंह से लगा के खाली कर दी.

चल अब जैसे तूने अपने गाल का रंग मेरे गालों पे रगड़ा था ना मेरी शर्त का रंग. वो लाख ना नुकुर करती रही लेकिन अपनी चौढी मजबूत छाती से उसका सीना. ...मैं जानती थी ना उनकी पकड़ की ताकता. ...अच्छी खासी औरतें भीं और ये तो बिचारी अभी बछ्डी थी।

उसके ब्लाउज के सारे बटन टूट ....यहाँ तक की सफ़ेद टीन ब्रा के स्ट्रैप भी हल्की हल्की गुलाबी हो रही थी।

अच्छा चलो अब बहोत हो गया. ...इत्ती सीधी साधी साली मिल गयी तो. ...चलो कुछ खा पी लो. ...ले कम्मो. ...मेरे हाथ से. ...और मैंने एक समोसा उस के मुंह में डाल दिया।

ओन्ह्म्मा. ...उसने मुंह बनाया तो मैंने हड़का लिया. ...अरे अभी जीजा डालते तो पूरा का पूरा गप्प कर लेती और यहाँ मैं दे रही हूँ तो मुंह बना रही है।

वो यहाँ लगी थी और उधर उन्होंने अपनी जेब से गाढ़ा लाल रंग निकाल के दोनों हाथों पे ...

अरे ये भी तो ले देख सट से अन्दर चला जायेगा. ...और फ़िर वोड़का मिली स्प्राईट. ...आधी ग्लास एक झटके में।

वो दोनों हाथ से ग्लास पकडे थी की उनका लाल रंग पुता हाथ पहले इस कमसिन किशोरी के चिकने गाल और जब तक वो समझे सम्हाले. ...सीधे ब्रा के अन्दर घुस के उस के उभारों को लाल. ...कुछ रंग से कुछ रगड़ से. ...बिचारी के दोनों हाथ तो फंसे थे. ...और राजीव ने एक हाथ से कास के उसकी पतली कमर पकड़ रखी थी।
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:11 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
जीजू ये फाउल है. ...ग्लास रख के वो बोली।

सब कुछ जायज है. ...होली में और साली के साथ. ...और उन के हाथ उस के अधखिले कच्चे गुलाबों का. ...रस ले रहे थे।

वो छटपटा रही थी. ...कसमसा रही थी. ...मचल रही थी

जीजू. छोडो ना. ...क्या करते हो वहाँ नहीं. ...गंदे. ...ओह्ह नहीनीई. ...ओह्ह हाँ हाँ

और तब तक इस खींचा तानी में उस की फ्रंट ओपन ब्रा का हुक टूट गया. ...और।

वो जवानी की गोलाइयां. ...गोर्री गोरी हलके हलके रंग में लिथड़ी...

ये. .अरे तू भी लगा ना मैं साथ देती हूँ अपनी बहन का. ...और उन की जेब से वार्निश की ट्यूब निकाल के कम्मो के दोनों हाथ जबरन फैला के पोत दिए और बोली, ले लगा अपने जीजू को. ...वो बिचारी. ...दोनों हाथ मेरी पकड़ में थे और उन्होंने अब ब्रा पुरी की पुरी खोल दी.
छोटे छोटे कड़े जवानी के उभार. ...सूरज उगने के पहले की लाली से निपल

बिचारे राजीव. ...आंखो और हाथ में जंग हो रही थी. ...देंखे की रगड़ें मसले. ...और जीत हाथों की हुयी।

ये फाउल है. ...उस बिचारी को टाप लेस कर दिया और ख़ुद अबकी मैं बोली. ...और उनकी शर्ट के बटन खोल के शर्ट फर्श पे. बनियान तो उन्होंने पहनी नहीं थी

ले कम्मो लगा उनकी छाती पे. ...और कम्मो भी जोश में आके उनके सीने पे रगड़ने मसलने लगी

कुछ नई आई चढ़ती जवानी का जोश

कुछ स्प्राईट में वोड़का का जोश और सबसे बाद के

जीजा के साथ होली में रगड़न मसलन का जोश

कम्मो कस कस के उनके सिने में रंग लगा रही थी और वो कम्मो की कच्ची कलियों में रस भरने में लगे थे.

ब्रा का हुक तो पहले ही टूट चुका था और ब्लाउज भी स्कर्ट से बाहर निकली बटन सार्रे खुले,

अरे कपडे क्यो बरबाद करते हो बिचार्री के होली खेलना है तो साली से खेलो कहाँ भागी जा रही है बिचार्री और ये कह के मैंने एक साथ ही उस के ब्लाउज और ब्रा को पकड़ के खींच दिया,

अरे सिने से सीना रागादो तभ हो ना जीजा साली की होली, मैंने दोनों को ललकारा।

राजीव को तो किसी ललकार की जरूरत नहीं थी...सीधे से उन्होंने कम्मो को बांहों में भर लिया और वो भी अब सीधे से. ...उनके चौड़े मजबूत सिने में उसकी नवांकुर छातियां दब रही थीं.

थोड़े ही देर में दोनों फर्श पे थे. मैंने सोफे से कुषाण निकाल के कम्मो के छोटे छोटे चूतादों और सर के निचे लगा दिया और राजीव उसके ऊपर....मौका देख के मैंने उसकी स्कूल की नेवी ब्लू स्कर्ट पकड़ के खीची और उतार दी। अब वो बस एक छोटी सी सफ़ेद पैंटी और स्कूल के जूतों में...अब राजीव उसकी उन छोटी उभरती हुई चून्चियों को निहार रहे थे. ...जिसके बार्रे में सोच के ही उनका मस्ताना लैंड तन्ना जाता था.और इती छोटी भी नहीं...बस मुट्ठी में समा जायं..और उसके बिच में छोटे से प्यार्रे गुलाबी चूचुक....

हे इसके सार्रे कपडे तुमने बरबाद कर दिए. ..अब नए कपडे देने होंगे...मैंने राजीव को छेड़ा।

एक दम दूंगा आख़िर मेरी सबसे छोटी साली है...और होली का गिफ्ट...तो दूंगा ही....लेकिन पहले बोलो तुम क्या दोगी...मेरी प्यार्री साली जी।

उसके भोले भोले चहर्रे पे बड़ी बड़ी रतनार्री आँखे कह रही थीं...जो तुम चाहो...और वैसे भी तुमने छोडा ही क्या है....

लेकिन उसके लरजते किशोर होंठों से बड़ी मुश्किल से निकला....मेरे पास है ही क्या।

अरे बहुत कुछ है। राजीव एक दम अपने पटाने वाले अंदाज में आ गए,

ये रसीले होंठ, ये गुदाज मस्त जोबन और अचानक चद्धि के ऊपर से ही उसकी चुन्मुनिया को दबोच के बोले, और ये कारूँ का खजाना.

वो बेचार्री चुप रही शायद पहली बार किसी मर्द का हाथ वहाँ पडा हो, लेकिन मैं बोल पड़ी,

अरे बोल दे वरना तू अपने जीजू को नहीं जानती....

चुप का मतलब हाँ इसका मतलब साली चाहती है की मैं तीनो ले लूँ....ये कह के कस के पैंटी के ऊपर से उन्होंने उसकी चुन्मुनिया मसल दी.

मैंने सर हिला के कम्मो की और ना का इशारा किया और होंठो पे जीभ फिराई।

उस बिचार्री ने भी उसी तरह...होंठो की और इशारा किया।

ऐसे थोडी साफ बता क्या देगी वरना और अब उनकी दो उंगलियाँ पैंटी के अन्दर घुस चुकी थीं.

मैंने हलके से फुसफुसा के बोला चुम्मी. .बोल चुम्मी ले लें।
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:11 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
वो बोली चुम्मी...तभ तक राजीव की निगाह हमार्री इशार्रे बाजी की और पड़ चुकी थी।

हे फाउल ये नहीं चलेगा....दोनों बहने मिल के तभी ये सस्ते में छूट गई...वो मुझसे बोले।

अरे तो मैं अपनी बहन का साथ नहीं दूँगी तो क्या तुम्हार्री उस छिनाल रंडी बहन गुडी का साथ दूँगी. हंस के मैं बोली. कम्मो भी मेरे साथ हंस ने लगी।

अच्छा चल मैं चुम्मी पे संतोस्छ कर लूंगा लेकिन बाद में ये नहीं बोलना की...नहीं जीजू नहीं....वो बोले।

ठीक है बोल दे रे कम्मो ये भी क्या याद कर्रेंगें की किसी दिल दार से पाला पडा था, मैंने चढाया।

ठीक है जीजू ले लीजिये चुम्मी आप भी क्या याद कर्रेंगें,

राजीव ने झुक के उसके अन छुए होंठों का एक हल्का सा चुम्बन ले लिया और फ़िर अगले ही पल उनके होंठों के बीच, उसके होंठ तगड़ी गिरफ्त में, कभी चूमते कभी चूसते...और थोडी देर में ही राजीव की जीभ ने उसके रसीले होंठों को फैला के सीधे अन्दर घुस गई।

मैं उसके सर के पास से हट के पैरों के पास चली गई।

उस बिचार्री को क्या मालूम उसने कितना खतरनाक फैसला किया है, राजीव के होंठ उनके बालिष्ट भर के लंड से किसी मामले में खतरनाक नहीं थे।





लेकिन जिस तरह से कम्मों की टाँगे फैली थीं, ये साफ था की उसे भी बहोत रस आ रहा था। मेरे हाथ अपने आप उसके जाँघों पे. ..क्या चिकनी मांसल रस दार झान्घे थीं.....और झान्घों के बीच....वो तरीकों...हल्का हल्का झलक रहा था. कच्ची कलियों को भोगने का शौक तो मुझे भी बचपन से लग गया था, होली का तो मौका था जब भाभी ने रंग लगाने के बहाने ना सिर्फ़ मेरी जम के उंगली की बल्कि पहली बार झाडा...इससे सात आठ महीने ही ज्यादा बड़ी रही हौंगी और फ़िर बोर्डिंग में....११ विन से थी...टेंथ पास कर के ही तो लड़कियां आती थीं...लेकिन आने के हफ्ते भर के अन्दर ही ऐसे जबरदस्त रागिंग....पूरी चूत पुरान. ..और सार्री नई लड़कियां....एक दूसरे की चूत में उंगली...लेस्बियन रेसलिंग....और जो सबसे सटी सावित्री बनने का नाटक करतीं उन्हें तोड़ने का काम मेरा होता...एक से एक सीधी साधी भोली भाली लड़कियों को भोगा मैंने...लेकिन ये तो उन सब से कच्ची. ...पर तन और मन दोनों से ज्यादा रसीली....मुझसे नहीं रहा गया और मैंने सहलाते सहलाते...एक झटके में पैंटी को नीचे खींच के फेंक दिया जहाँ उसकी ब्रा और स्कर्ट पड़ी थीं....

इतनी सेक्सी...मुझे तो लगा मैं देख के ही झड़ जाउंगी....खूब कसी कसी गुलाबी पुतियाँ....बस हलकी सी दरार दिख रही थी...और झांटे बस आना शुरू ही हुयीं थी....वो बहोत गोरी थी और उस की झांटे भी हलकी भूरी। मुझसे नही रहा गया और मैंने उंगलियों से हलके हलके घुमाना शुरू कर दिया। उसकी पुतियों में हलकी सी हरकत हुयी तो मैंने दूसर्रे हाथ से वहाँ हलके से दबा दिया...क्या मस्त मुलायम....

उधर राजीव के होंठ अब उसकी छोटी छोटी चून्चियों के बेस पे....पहले चूम के फ़िर लिक कर के. ..और थोडी देर में उसका एक कडा गुलाबी चुचुक राजीव के होंठों के बिच में....चूभालाते चूसते चूमते. ...वो अब सिसक रही थी दोनों हाथ राजीव के सर को पकडे अपनी और खींच रहा था।

मस्ता रही है साली...मैंने सोचा...फ़िर मेरी उंगली की टिप पुतियों के बीच... हल्का सा गीलापन था वहाँ...मैं बस हलके बिना दबाये ऊपर निचे...अंगुली की टिप करती रही।
राजीव के होंठ अब उसकी गहर्री नाभि को चूम रहे थे....मैं समझ गई की उनकी मंजिल क्या है इसलिए अब मैं फ़िर उसके सर की ओर चली गई.

क्या गुलाबी रसीले होंठ थे और चूंचिया भी एक दम कड़ी मस्त....मुझसे नहीं रह गया और मेरे होंठ उसके होंठों पे और दोनों हाथ रसीले जोबन पे....

और उसके साथ ही राजीव के होंठ उस कली के निचले होंठों पे....

तड्पाने में तो राजीव का सानी नहीं था. उसकी जीभ कभी पंख की तरह गुदगुदाती, कभी...

जीभ की बस नोक से वो उस कलि के लेबिया के किनारे किनारे...और दो चार बार चाटने के बाद उसी तरह. ..दोनों निचले होंठों को अलग कर जीभ अन्दर पेबस्त हो गई और उसने कस के अपने दोनों होंठों के बीच. ..कम्मो के निचले होंठों को....कभी वो हलके हलके चूसते तो कभी कास के उन संतरे की फानकों का रस लेते...

और साथ में मेरी जुबान भी बस अभी उसके सर उठा रहे निप्पल को फ्लिक करते....
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:11 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
चार पाँच बार वो उसे किनार्रे पे ले गए फ़िर रुक गए।

मैंने आँख के इशार्रे से डांटा....एक बार झड़ जाने दो बिचार्री को।

जब एक बार झड़ जायेगी तभी तो उसके चूत के जादू का पता लगेगा।

वो बिचार्री कसक मसक रही थी। चूतड़ पटक रही थी....

चूसो ना जीजा कस के और कस के....ओह्ह ओह्ह....जल बिन मछली की तरह वो तड़प रही थी।

क्या चूसून साली....चूत से मुंह उठा के पूछा उन्होंने।

अरे बोल दे ना....चूत....मैंने धीरे से उसके कान में कहा.

चूत..... बहोत डरते हुए सहमते हुए उसने कहा.

अरे मैंने सूना नहीं ज़रा जोर से बोल ना। फ़िर उन्होंने कहा।

जिजू....प्लीज...मेरी चूत. .चूसिये ना...चूत.

अरे अभी लो मेरी प्यारी साली और फ़िर दुबारा उनके होंठ उसकी चूत की पंखुडियों पे....

और अब वह जब झड़ने लगी तो वो रुके नहीं...बस अपने दोनों हाथों से उसकी कोमल कलाई पकडली और कस कस के. ..जैसे जीभ से ही उसकी कुंवार्री कच्ची चूत चोद देन....कस कस के...

वो झड़ रही थी...अपने चूतड़ पटक रही थी. ...

पर वो रुके नहीं कस के चूसते रहे... चूसते रहे....

थोडी देर में फ़िर दुबारा...अब वो चिल्ला रही थी. ...नहीं हाँ....प्लीज जिजू छोड़ दो.....

जब वो एक दम शिथिल हो गई तभ छोडा उन्होंने उसे....लथ पथ आँखे बंद किए पड़ी हुयी थी।

मैंने होंठ बढ़ा के उनके होंठों से उस कच्ची कलि का रस चख लिया....

क्या स्वाद था....फ़िर एक अंगुली से सीधे उसके मधु कोशः से...

खूब गाधा शहद वो अब मेरे पास आ के बैठ गए थे,

क्यों मजा ले लिया ना साली का। तभ तक वो कुनामुनाने लगी।

हल्के से एक चुम्बन पहले उसकी अधखुली अलसाई पलकों पे फ़िर गुलाबी गालों पे ... रसीले होंठों पे. वो हलके से अंगडाई ले के मस्ती में बोली, जिजू

और जवाब में उनके होंठों ने फ़िर से खड़े होते निपल को मुंह में भर लिया और हलके चूसने लगे।

होंठों का ये सफर कुछ देर में अपनी मंजिल पे पहुँच गया औसकी गुलाबी रस भर्री पंखुडियां उनके होंठों के बीच थीं और कुछ देर में वो फ़िर से चूतड़ पटक रही थी ,

हाँ हाँ जिजू..और कस के चूसो मेरी चूत ओह ओह।

अबकी और तड़पाया उन्होंने। ५-६ बार किनार्रे पे ले जा के और फ़िर अंत में दोनों किशोर चूतड़ कस के पकड़ के उस की चूत की पुतियों को रगड़ रगड़ के जो चूसना शुरू किया।

वो झड़ती रही. झड़ती रही

और वो चूसते रहे चूसते रहे

बीचार्री मजे से बिल्बिलाती रही लेकिन. वो

वो बेहोश सी हो गई थक के तभ जा के उठे;.

तारीफ भर्री निगाहों से देखते हुए मैंने कहा, बहोत अच्छा अब तुमने उसे ऐसा मजा चखा दिखाया है इस उमर में की ख़ुद लंड के लिए भागती फिरेगी।

एकदम और प्यार से वो उसके बाल सहलाते रहे।

और जब थोडी देर में उसने आँखे खोली तो मैं बोली, देख तेरे जिजू क्या होली का गिफ्ट लाये हैं,

और उनसे मैंने कहा और आप पहना भी तो दीजिये अपने हाथ से लेविस की लो कट जीन्स टैंक टाप और सबसे बढ़ के पिंक लेसी ब्रा और थांग का सेट और ब्रा भी पुश अप थोडी पैदेदा। जब पहन के वो तैयार हुयी तो किसी सेक्सी टीन माडल से कम नहीं लग रही थी।

शीशे में देख के वो इती खुश हुयी की उसने ख़ुद उनको गले लगा लिया और बोली

थैंक्स जिजू मैं कितने दिनों से सोच रही थी..ऐसी जींस पर ये तो छोटा शहर है ना

उम्म्म जीजा को कभी थैंक्स नहीं देते मैंने हंस के कहा

जान बूझ के बड़ी अदा से वो बोली। आँख झपका के वो बोली, तो क्या देते हैं

चुम्मी हंस के राजीव बोले ...

अरे तो लीजिये ना जिजू और ख़ुद उनको बांहों में ले के कम्मो ने चूम लिया।

हम लोग चलने वाले थे की मैंने रुक के कहा, तुमने मेरी छोटी बहन के साथ नाइंसाफी की है ये नहीं चलेगा।

वो चकित और कम्मो भी
-  - 
Reply
11-07-2017, 12:15 PM,
RE: Nanad ki training--ननद की ट्रैनिंग
देखो तुमने तो उसका सब कुछ देख लिया और अपना अभी तक छुपा के रखा है उनके अब तक तन्नाये बल्ज पे हाथ रगड़ के मैं बोली।

हाँ सार्री लेकिन मैंने ख़ुद खोल के देखा था अगर साली चाहे तो ...वो बोले।

क्यों चैलेन्ज एक्सेप्ट करती हो मैंने कम्मो से पूछा नाक का सवाल है मेरी।

एक दम दीदी और उसने उनकी जिप खोल दी।

जैसे कोई स्प्रिंग वाला चाकू निकलता है एक बालिष्ट का पूरी तरह तन्नाया हुआ लंड बाहर आ गया।

अरे पकड़ लो काटेगा नहीं हंस के उन्होंने चिढाया

आप भी क्या याद करिएगा जिजू किस साली से पाला पडा था और उसने दोनों हाथों से उसे पकड़ लिया।

मुंह खोल के तो देख ले, मैं भी बोली।

लाल गरम खूब मोटा पहाडी आलू ऐसा तन्नाया सूपाडा सामने

बस एक बात बाकी है इन्होने तुम्हार्रे वहाँ किस्सी की थी तुम भी ले लो। 

रात भर मैंने उन्हें खूब तड़पाया लेकिन झाड़ने नहीं दिया।

वैसे तो मेरी छुट्टी आज रात खत्म हो जाने की थी....पर कुछ कम्मो के साथ खेल तमाशा...एक दिन और....

वो अभी छोटी तो नहीं है....कितनी कसी हुयी पुत्तियाँ...और मेरा इतना मोटा...बेचारे परेशान।

अरे कुछ नहीं मेरे साजन ...ले लेगी बस थोडा सम्हालना पड़ेगा...उनके तनाये मस्त सुपाडे पे जीभ से फ्लिक करते मैं बोली। बाबी देखा था....पूरा हिन्दुस्तान डिम्पल को देख के मुठ मारता था क्या उमर रही होगी....और क्या पता पिकचर में रोल देने के पहले....

सही कहती हो....एक दम देखने में बाबी ऐसे ही लगती है, लम्बी गोरी, मस्त मुट्ठी में भर जायं उस साईज़ के मम्मे....गुलाबी कचकचा के काटने लायक गाल...वो और मस्ती से पागल हो गए।

और रेखा को, सावन भादों में...लगे पचासी झटके...क्या मस्त गदराये उभार थे...सोलह साल की थी....मैं अब उनकी एक बौल मुंह में ले के चूस रही थी और हाथ एक दम खड़े लंड को मुठिया रहा था...एक मिनट उसे निकाल के मैं बोली...और फ़िर दूसरी बौल को मुंह में ले के चुभालाने लगी.

और साथ साथ सोच रही थी तभी तो मैंने,....चलने के पहले मैंने कहा की बाथ रूम जाना है....तो हम साथ साथ बाथ रूम गए ...और मैंने फ़िर उसे समझाया...चूत में बीच वाली सबसे बड़ी मंझली उंगली करनी चाहिए...ना सिर्फ़ इसलिए की वो सबसे लंबी होती है बल्की अगल बगल की दोनों उंगलियों से पुत्तियों को रगड़ सकते है....और अंगूठा सीधे क्लिट पे...हल्के हल्के दबाना...और फ़िर एक बार मैंने ख़ुद किया और फ़िर उससे अपने सामने करवाया भी....जोर दे के लगभग दो पोर तक गुसवाया....इन्होने जो चुसाई की थी उसका रस अभी तक उसकी बुर में था....मैंने बोला की हम लोग के जाने के बाद.....अभी तो मम्मी के आने में टाईम है....एक बार हलके हलके....देर तक कम से कम दो बार झाड़ना....और रात में सोने के पहले...हाँ उस समय अच्छी तरह वैसलीन लगा के....फ़िर जब भी टायलेट जाय....नहाते समय...हाँ हर समय बस यही सोचे की उसके जीजू का मोटा लंड जा रहा है उसकी चूत में...और अगर किसी दिन ५-६ बार से कम उंगली किया ना तो बहोत मारूंगी उसकी पीठ पे धोल जमाते हुए मैंने कहा।

एकदम दीदी....

और इसलिए जब वो हम लोगों को छोड़ने बाहर तक आयी तो मैंने हंस के कहा ,

याद रखना, थोड़ी सी पेट पूजा कहीं भी कभी भी।

हंसते हंसते वो अन्दर चली गयी।
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Adult kahani पाप पुण्य 210 791,815 01-15-2020, 06:50 PM
Last Post:
  चूतो का समुंदर 662 1,738,989 01-15-2020, 05:56 PM
Last Post:
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 195 56,586 01-15-2020, 01:16 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Porn Kahani एक और घरेलू चुदाई 46 38,591 01-14-2020, 07:00 PM
Last Post:
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार 152 689,656 01-13-2020, 06:06 PM
Last Post:
Star Antarvasna मेरे पति और मेरी ननद 67 200,407 01-12-2020, 09:39 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 100 142,052 01-10-2020, 09:08 PM
Last Post:
  Free Sex Kahani काला इश्क़! 155 230,029 01-10-2020, 01:00 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर 87 39,205 01-10-2020, 12:07 PM
Last Post:
  Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन 102 318,767 01-09-2020, 10:40 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


dever and bhabhi ko realy mei chodte hue ka sex video dikhao by sound painझवण्याची गोष्टी लग्नाच्या पहिल्या रात्रीचीचाट सेक्सबाब site:mupsaharovo.rusex kahanee ya heendeemexxxwwwBainगाँड़ चोदू विद्यार्थीXXNXX COM. इडियन बेरहम ससुर ने बहू कै साथ सेक्स www com sexbaba 36दिदि एकदम रन्डी लगती आ तेरी मूह मे चोदुdidi "kandhe par haath" baith geeli baja nahin sambhalMeri biwi job k liye boss ki secretary banakar unki rakhail baN gyiमुस्लिम लण्ड ने हिन्दू चुत का बज बजायाsaxe naghe chode videomini chud gyi bayi ke 4 doston se hindi sex storysaheli ne bete se suhagraat manwai hottest sex storyXxx xvedio anti telgu panti me dard ho raha hi nikalo www sexbaba net Thread E0 A4 B8 E0 A4 B8 E0 A5 81 E0 A4 B0 E0 A4 95 E0 A4 AE E0 A5 80 E0 A4 A8 E0 A4चूसो मेरे मुम्मो कोdesiplay net desi aunty say mujhe chodoxxxnxtv indien sode baba sexbaccho ki bf sexsy candom lagakar chodasavitabhabhi jungle ki sardiya86sex desi Bhai HDmarathi sambhog stories khet me zukake maamichi jordar chudai filmxxxindia हिंदी की हलचलmeri biwi ke karname 47meri najuk umar ka pahla dardnak sex hindi sex storygulabi vegaynanithya menen naghi sexy hd pohtsstno pr sex pickKachi kli ko ghar bulaker sabne chodaललिता भाभी की बाहा पैटी नगी सेकसी फोटोमाँ बेटे के बीच की चुदाई फोटो के साथ 2017ravina tandn hiroin bur chodi secx phototarak mehta ka ulta chasma sex stroy sexbabaSharmila tagore fake nude photomastram.netmaa ki mast chudai.comKuware land ke karname sudh aunty ki chudaiबहकने लगी ताबड़तोड़ चुदाईहुट कैसे चुसते है विडियो बताइएshivangi joshi fuked hard sex nudes fake on sex baba netXxx sex hot chupak se chudaiuncle aur mummy ka milajula viryaHindixxx ta bahankochoda anju kurian nude pussy pics.comgouthamnanda movie heroens nude photosxnxxgand me kaise luand dalte haikatrina kaif chudai kahani sex baba net site:mupsaharovo.ruwww sex baba shrnu nagi photo nude fake xxxGeeta kapoor sexbaba gif photoAnsha Sayed in sex baba imagesMaa ki bacchdani sd ja takrayaPapa Mummy ki chudai Dekhi BTV naukar se chudwai xxxbfek rat bhabi ke panty me hatdala sexstroyसोल्लगे क्सनक्सक्स नईsouth actress fucking photos sexbababoss ki randi bani job ki khatir storiesपेहना हुवा condomXXXCOKAJALKareena sexbabझवल मला जोरात videoMami ko hatho se grmkiya or choda hindi storysexy stories of taarak mehta ka foki chasmahಮಗಳ ತುಲ್ಲnahane ke bahane boys opan ling sexi hindi kahaniphudi parny waly xxxx sex baba net yami gupta nagi hd picsxbombo कॉम श्रेणियों javhd 2019 पेज 2allia bhatt sex photo nangi Baba.nettebil ke neech chut ko chatnaतारक मेहता चूदाई की कहानीKatrina Kaif sexy video 2019 ke HD mein Chadi wali namkeen hotxxx15 Sal vali ladki chut photobhche ke chudai jabrjctiholi vrd sexi flm dawnlod urdotatti on sexbaba.net madrchod ke chut fardi cute fuck pae dawloadMaa ne bra phnai kahanima beti asshole ungli storymarathi sex stories sex babaNude Saksi Malik sex baba picsमेरा चोदू बलमnargis fakhri ko choda desi kahaniसुबह करते थे सत्संग व रात को करते थे ये काम Sex xxxसुरूती हासन सउथ पिगर गान विडीयो xxx