Train Sex Stories रेल यात्रा
11-05-2017, 01:19 PM,
#1
Train Sex Stories रेल यात्रा
रेल यात्रा

रेलवे स्टेशन पर भारी भीड़ थी। आने वालों की भी और जाने वालों की भी।
तभी स्टेशन पर घोषणा हुई- "कृपया ध्यान दें, दिल्ली से मुंबई को जाने
वाली राजधानी एक्सप्रेस १५ घंटे लेट है।"

सुनते ही आशीष का चेहरा फीका पढ़ गया। कहीं घर वाले ढूँढ़ते रेलवे स्टेशन
तक आ गए तो। उसने 3 दिन पहले ही आरक्षण करा लिया था मुंबई के लिए। पर
घोषणा सुनकर तो उसके सारे प्लान का कबाड़ा हो गया। हताशा में उसने चलने
को तैयार खड़ी एक पैसेन्जर ट्रेन की सीटी सुनाई दी। हड़बड़ाहट में वह उसी
की ओर भागा।

अन्दर घुसने के लिए आशीष को काफी मशक्कत करनी पड़ी। अन्दर पैर रखने की जगह
भी मुश्किल से थी। सभी खड़े थे। क्या पुरुष और क्या औरत। सभी का बुरा हाल
था और जो बैठे थे। वो बैठे नहीं थे, लेटे थे। पूरी सीट पर कब्ज़ा किये।

आशीष ने बाहर झाँका। उसको डर था। घरवाले आकर उसको पकड़ न लें। वापस न ले
जाएं। उसका सपना न तोड़ दें। हीरो बनने का!

आशीष घर से भाग कर आया था। हीरो बनने के लिए। शकल सूरत से हीरो ही लगता
था। कद में अमिताभ जैसा। स्मार्टनेस में अपने सलमान जैसा। बॉडी में आमिर
खान जैसा ( गजनी वाला। 'दिल' वाला नहीं ) और अभिनय (एक्टिंग) में शाहरुख़
खान जैसा। वो इन सबका दीवाना था। इसके साथ ही हिरोइन का भी।

उसने सुना था। एक बार कामयाब हो जाओ फिर सारी जवान हसीन माडल्स, हीरो के
नीचे ही रहती हैं। बस यही मकसद था उसका हीरो बनने का।

रेलगाड़ी के चलने पर उसने रहत की सांस ली।
हीरोगीरी के सपनों में खोये हुए आशीष को अचानक पीछे से किसी ने धक्का
मारा। वो चौंक कर पीछे पलटा।

"देखकर नहीं खड़े हो सकते क्या भैया। बुकिंग करा रखी है क्या?"

आशीष देखता ही रह गया। गाँव की सी लगने वाली एक अल्हड़ जवान युवती उसको
झाड़ पिला रही थी। उम्र करीब 22 साल होगी। ब्याहता (विवाह की हुई ) लगती
थी। चोली और घाघरे में। छोटे कद की होने की वजह से आशीष को उसकी श्यामल
रंग की चूचियां काफी अन्दर तक दिखाई दे रहीं थीं। चूचियों का आकार ज्यादा
बड़ा नहीं लगता था। पर जितना भी था। मनमोहक था। आशीष उसकी बातों पर कम
उसकी छलकती हुई मस्तियों पर ज्यादा ध्यान दे रहा था।
उस अबला की पुकार सुनकर भीड़ में से करीब 45 साल के एक आदमी ने सर निकल
कर कहा- "कौन है बे?" पर जब आशीष के डील डौल को देखा तो उसका सुर बदल
गया- "भाई कोई मर्ज़ी से थोड़े ही किसी के ऊपर चढ़ना चाहता है। या तो कोई
चढ़ाना चाहती हो या फिर मजबूरी हो! जैसे अब है। " उसकी बात पर सब ठाहाका
लगाकर हंस पडे।

तभी भीड़ में से एक बूढ़े की आवाज आई- "कविता! ठीक तो हो बेटी "

पल्ले से सर ढकते उस 'कविता ' ने जवाब दिया- "कहाँ ठीक हूँ बापू!" और फिर
से बद्बदाने लगी- "अपने पैर पर खड़े नहीं हो सकते क्या?"

आशीष ने उसके चेहरे को देखा। रंग गोरा नहीं था पर चेहरे के नयन - नक्श तो
कई हीरोइनों को भी मात देते थे। गोल चेहरा, पतली छोटी नाक और कमल की
पंखुड़ियों जैसे होंठ। आशीष बार बार कन्खियों से उसको देखता रहा।

तभी कविता ने आवाज लगायी- "रानी ठीक है क्या बापू? वहां जगह न हो तो यहाँ
भेज दो। यहाँ थोड़ी सी जगह बन गयी है। "
और रानी वहीं आ गयी। कविता ने अपने और आशीष के बीच रानी को फंसा दिया।
रानी के गोल मोटे चूतड आशीष की जांघों से सटे हुए थे। ये तो कविता ने
सोने पर सुहागा कर दिया।
अब आशीष कविता को छोड़ रानी को देखने लगा। उसके लट्टू भी बढे बढे थे। उसने
एक मैली सी सलवार कमीज डाल राखी थी। उसका कद भी करीब 5' 2" होगा। कविता
से करीब 2" लम्बी! उसका चहरा भी उतना ही सुन्दर था और थोड़ी सी लाली भी
झलक रही थी। उसके जिस्म की नक्काशी मस्त थी। कुल मिला कर आशीष को टाइम
पास का मस्त साधन मिल गया था।

रानी कुंवारी लगती थी। उम्र से भी और जिस्म से भी। उसकी छातियाँ भारी
भारी और कसी हुई गोलाई लिए हुए थी। नितम्बों पर कुदरत ने कुछ ज्यादा ही
इनायत की थी। आशीष रह रह कर अनजान बनते हुए उसकी गांड से अपनी जांघें
घिसाने लगा। पर शायद उसको अहसास ही नहीं हो रहा था। या फिर क्या पता उसको
भी मजा आ रहा हो!
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:20 PM,
#2
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
अगले स्टेशन पर डिब्बे में और जनता घुश आई और लाख कोशिश करने पर भी कविता
अपने चारों और लफ़ंगे लोगों को सटकर खड़ा होने से न रोक सकी।

उसका दम सा घुटने लगा। एक आदमी ने शायद उसकी गांड में कुछ चुभा दिया। वह
उछल पड़ी। - "क्या कर रहे हो? दिखता नहीं क्या?"

"ऐ मैडम। ज्यास्ती बकवास नहीं मारने का। ठंडी हवा का इतना इच शौक पल
रैल्ली है। तो अपनी गाड़ी में बैठ के जाने को मांगता था। " आदमी भड़क कर
बोला और ऐसे ही खड़ा रहा।
कविता एकदम दुबक सी गयी। वो तो बस आशीष जैसों पर ही डाट मार सकती थी।

कविता को मुशटंडे लोगों की भीड़ में आशीष ही थोडा शरीफ लगा। वो रानी समेत
आशीष के साथ चिपक कर खड़ी हो गई जैसे कहना चाहती हो, "तुम ही सही हो, इनसे
तो भगवन बचाए!"

आशीष भी जैसे उनके चिपकने का मतलब समझ गया। उसने पलट कर अपना मुंह उनकी
ही ओर कर लिया और अपनी लम्बी मजबूत बाजू उनके चारों और बैरियर की तरह लगा
दी।

कविता ने आशीष को देखा। आशीष थोड़ी हिचक के साथ बोला- "जी उधर से दबाव पड़
रहा है। आपको परेशानी ना हो इसीलिए अपने हाथ बर्थ (सीट) से लगा लें। "

कविता जैसे उसका मतलब समझी ही ना हो। उसने आशीष के बोलना बंद करते ही
अपनी नजरें हटा ली। अब आशीष उसकी चुचियों को अन्दर तक और रानी की चूचियों
को बहार से देखने का आनंद ले रहा था। कविता ने अब कोशिश भी नहीं की उनको
आशीष की नजरों से बचाने की।
"कहाँ जा रहे हो?..." कविता ने लोगों से उसको बचने के लिए जैसे धन्यवाद्
देने की खातिर पूछ लिया।

"मुंबई " आशीष उसकी बदली आवाज पर काफी हैरान था- "और तुम?"

"भैया जा तो हम भी मुंबई ही रहे हैं। पर लगता नहीं की पहुँच पायेंगे
मुंबई तक!" कविता अब मीठी आवाज में बात कर रही थी।।
"क्यूँ?" आशीष ने बात बढ़ा दी!

"अब इतनी भीड़ में क्या भरोसा! मैंने कहा तो है बापू को की जयपुर से
तत्काल करा लो। पर वो बूढ़ाऊ माने तब न!"

"भाभी! बापू को ऐसे क्यूँ बोलती हो?" रानी की आवाज उसके चिकने गालों जैसी
ही मीठी थी।

आशीष ने एक बार फिर कविता की चूचियों को अन्दर तक देखा। उसके लड में तनाव
आने लगा। और शायद वो तनाव रानी अपनी गांड की दरार में महसूस करने लगी।
रानी बार बार अपनी गांड को लंड की सीधी टक्कर से बचने के लिए इधर उधर
मटकाने लगी। और उसका ऐसा करना ही उसकी गोल मटोल गांड के लिए नुक्सान देह
साबित होने लगा।।

लंड गांड से सहलाया जाता हुआ और अधिक सख्त होने लगा। और अधिक खड़ा होने लगा।
पर रानी के पास ज्यादा विकल्प नहीं थे। वो दाई गोलाई को बचाती तो लड
बायीं पर ठोकर मारता और अगर बायीं को बचाती तो दाई पर उसको लंड चुभता हुआ
महसूस होता।

उसको एक ही तरीका अच्छा लगा। रानी ने दोनों चुतरों को बचा लिया। वो सीधी
खड़ी हो गयी। पर इससे उसकी मुसीबत और भयंकर हो गयी। लंड उसकी गांड की
दरारों के बीचों बीच फंस गया। बिलकुल खड़ा होकर। वो शर्मा कर इधर उधर
देखने लगी। पर बोली कुछ नहीं।

आशीष ने मन ही मन एक योजना बना ली। अब वो इन के साथ ज्यादा से ज्यादा
रहना चाहता था।

"मैं आपके बापू से बात करू। मेरे पास आरक्षण के चार टिकेट हैं। मेरे और
दोस्त भी आने वाले थे पर आ नहीं पाए! मैं भी जयपुर से उसी में जाऊँगा। कल
रात को करीब 10 बजे वो जयपुर पहुंचेगी। तुम चाहो तो मुझे साधारण किराया
दे देना आगे का!" आशीष को डर था कि किराया न मांगने पर कहीं वो और कुछ न
समझ बैठे। उसका लंड रानी कि गांड में घुसपैठ करता ही जा रहा था। लम्बा हो
हो होकर!
"बापू!" जरा इधर कू आना! कविता ने जैसे गुस्से में आवाज लगायी।

"अरे मुश्किल से तो यहाँ दोनों पैर टिकाये हैं! अब इस जगह को भी खो दूं
क्या?" बुढ़े ने सर निकाल कर कहा।

रानी ने हाथ से पकड़ कर अन्दर फंसे लंड को बहार निकालने की कोशिश की। पर
उसके मुलायम हाथों के स्पर्श से ही लंड फुफकारा। कसमसा कर रानी ने अपना
हाथ वापस खींच लिया। अब उसकी हालत खराब होने लगी थी। आशीष को लग रहा था
जैसे रानी लंड पर टंगी हुयी है। उसने अपनी एडियों को ऊँचा उठा लिया ताकि
उसके कहर से बच सके पर लंड को तो ऊपर ही उठना था। आशीष की तबियत खुश हो
गयी।!
रानी आगे होने की भी कोशिश कर रही थी पर आगे तो दोनों की चूचियां पहले ही
एक दुसरे से टकरा कर मसली जा रही थी।

अब एड़ियों पर कब तक खड़ी रहती बेचारी रानी। वो जैसे ही नीचे हुयी, लंड
और आगे बढ़कर उसकी चूत की चुम्मी लेने लगा।
रानी की सिसकी निकाल गयी- "आह्हह्ह्ह!"

"क्या हुआ रानी?" कविता ने उसको देखकर पूछा।

"कुछ नहीं भाभी!" तुम बापू से कहो न आरक्षण वाला टिकेट लेने के लिए भैया से!"
आशीष को भैया कहना अच्छा नहीं लगा। आखिर भैया ऐसे गांड में लंड थोड़ा ही फंसाते हैं।
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:20 PM,
#3
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
धीरे धीरे रानी का बदन भी बहकने सा लगा। आशीष का लंड अब ठीक उसकी चूत के
मुहाने पर टिका हुआ था। चूत के दाने पर।

"बापू " कविता चिल्लाई।

"बापू " ने अपना मुंह इस तरफ निकाला, एक बार आशीष को घूरा इस तरह खड़े
होने के लिए और फिर भीड देखकर समझ गया की आशीष तो उनको उल्टा बचा ही रहा
है- "क्या है बेटी?"

कविता ने घूंघट निकल लिया था- "इनके पास आरक्षण की टिकेट हैं जयपुर से
आगे के लिए। इनके काम की नहीं हैं। कह रहे हैं सामान्य किराया लेकर दे
देंगे!"

उसके बापू ने आशीष को ऊपर से नीचे तक देखा। संतुष्ट होकर बोला- "अ ये तो
बड़ा ही उपकार होगा। भैया हम गरीबों पर! किराया सामान्य का ही लोगे न!"

आशीष ने खुश होकर कहा- "ताऊ जी मेरे किस काम की हैं। मुझे तो जो मिल
जायेगा। फायदे का ही होगा।" कहते हुए वो दुआ कर रहा था की ताऊ को पता न
हो की टिकेट वापस भी हो जाती हैं।
"ठीक है भैया। जयपुर उतर जायेंगे। बड़ी मेहरबानी!" कहकर भीड़ में उसका
मुंह गायब हो गया।

आशीष का ध्यान रानी पर गया वो धीरे धीरे आगे पीछे हो रही थी। उसको मजा आ रहा था।

कुछ देर ऐसे ही होते रहने के बाद उसकी आँखें बंद हो गयी। और उसने कविता
को जोर से पकड़ लिया।

"क्या हुआ रानी?"

सँभलते हुए वह बोली। "कुछ नहीं भाभी चक्कर सा आ गया था।

अब तक आशीष समझ चूका था कि रानी मुफ्त में ही मजे ले गयी चुदाई जैसे।
उसका तो अब भी ऐसे ही खड़ा था।
एक बार आशीष के मन में आई कि टाइलेट में जाकर मुठ मार आये। पर उसके बाद
ये ख़ास जगह खोने का डर था।
अचानक किसी ने लाइट के आगे कुछ लटका दिया जिससे आसपास अँधेरा सा हो गया।

लंड वैसे ही अकड़ा खड़ा था रानी कि गांड में। जैसे कह रहा हो। अन्दर घुसे
बिना नहीं मानूंगा मेरी रानी!

लंड के धक्को और अपनी चूचियों के कविता भाभी की चूचियों से रगड़ खाते
खाते वो जल्दी ही फिर लाल हो गयी।
इस बार आशीष से रहा नही गया। कुछ तो रोशनी कम होने का फायदा। कुछ ये
विश्वास की रानी मजे ले रही है। उसने थोडा सा पीछे हटकर अपने पेन्ट की
जिप खोल कर अपने घोड़े को खुला छोड़ दिया। रानी की गांड की घटी में खुला
चरने के लिए के लिए!
रानी को इस बार ज्यादा गर्मी का अहसास हुआ। उसने अपना हाथ नीचे लगा कर
देखा की कहीं गीली तो नहीं हो गयी नीचे से। और जब मोटे लंड की मुंड पर
हाथ लगा तो वो उचक गयी। अपना हाथ हटा लिया। और एक बार पीछे देखा।
आशीष ने महसूस किया, उसकी आँखों में गुस्सा नहीं था। अलबत्ता थोडा डर
जरुर था। भाभी का और दूसरी सवारियों के देख लेने का।
थोड़ी देर बाद उसने धीरे-2 करके अपनी कमीज पीछे से निकाल दिया।

अब लंड और चूत के बीच में दो दीवारें थी। एक तो उसकी सलवार और दूसरा उसकी कच्छी.

आशीष ने हिम्मत करके उसकी गांड में अपनी उंगली डाल दी और धीरे धीरे सलवार
को कुरेदने लगा। उसमें से रास्ता बनाने के लिए।
योजना रानी को भा गयी। उसने खुद ही सूट ठीक करने के बहाने अपनी सलवार में
हाथ डालकर नीचे से थोड़ी सी सिलाई उधेड़ दी। लेकिन आशीष को ये बात तब पता
चली। जब कुरेदते कुरेदते एक दम से उसकी अंगुली सलवार के अन्दर दाखिल हो
गयी।
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:20 PM,
#4
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
ज्यों-ज्यों रात गहराती जा रही थी। यात्री खड़े खड़े ही ऊँघने से लगे थे।
आशीष ने देखा। कविता भी झटके खा रही है खड़ी खड़ी। आशीष ने भी किसी सज्जन
पुरुष की तरह उसकी गर्दन के साथ अपना हाथ सटा दिया। कविता ने एक बार आशीष
को देखा फिर आँखें बंद कर ली।
अब आशीष और खुल कर खतरा उठा सकता था। उसने अपने लंड को उसकी गांड की दरार
में से निकाल कर सीध में दबा दिया और रानी के बनाये रस्ते में से उंगली
घुसा दी। अंगुली अन्दर जाकर उसकी कच्छी से जा टकराई!
आशीष को अब रानी का डर नहीं था। उसने एक तरीका निकला। रानी की सलवार को
ठोडा ऊपर उठाया उसको कच्छी समेत पकड़ कर सलवार नीचे खीच दी। कच्छी थोड़ी
नीचे आ गयी और सलवार अपनी जगह पर। ऐसा करते हुए आशीष खुद के दिमाग की दाद
दे रहा था। हींग लगे न फिटकरी और रंग चौखा।
रानी ने कुछ देर ये तरीका समझा और फिर आगे का काम खुद संभल लिया। जल्द ही
उसकी कच्छी उसकी जांघो से नीचे आ गयी। अब तो बस हमला करने की देर थी।

आशीष ने उसकी गुदाज जांघो को सलवार के ऊपर से सहलाया। बड़ी मस्त और चिकनी
थी। उसने अपने लंड को रानी की साइड से बहार निकल कर उसके हाथ में पकड़ा
दिया। रानी उसको सहलाने लगी।
आशीष ने अपनी उंगली इतनी मेहनत से बनाये रास्तों से गुजार कर उसकी चूत के
मुंहाने तक पहुंचा दी। रानी सिसक पड़ी।
अब उसका हाथ आशीष के मोटे लंड पर जरा तेज़ी से चलने लगा। उत्तेजित होकर
उसने रानी को आगे से पीछे दबाया और अपनी ऊगली गीली हो चुकी चूत के अन्दर
घुसा दी। रानी चिल्लाते-चिल्लाते रुक गयी। आशीष निहाल हो गया। धीरे धीरे
करते-करते उसने जितनी खड़े-खड़े जा सकती थी उतनी उंगली घुसाकर अन्दर बहार
करनी शुरू कर दी। रानी के हाठों की जकड़न बढ़ते ही आशीष समझ गया की उसकी
अब बस छोड़ने ही वाली है। उसने लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और जोर जोर से
हिलाने लगा। दोनों ही छलक उठे एक साथ। रानी ने अपना दबाव पीछे की और बड़ा
दिया ताकि भाभी पर उनके झटकों का असर कम से कम हो और अनजाने में ही वह एक
अनजान लड़के की उंगली से चुदवा बैठी। पर यात्रा अभी बहुत बाकी थी। उसने
पहली बार आशीष की तरफ देखा और मुस्कुरा दी!

अचानक आशीष को धक्का लगा और वो हडबडा कर परे हट गया। आशीष ने देखा उसकी
जगह करीब 45-46 साल के एक काले कलूटे आदमी ने ले ली। आशीष उसको उठाकर
फैंकने ही वाला था की उस आदमी ने धीरे से रानी के कान में बोला- "चुप कर
के खड़ी रहना साली। मैंने तुझे इस लम्बू से मजे लेते देखा है। ज्यादा
हीली तो सबको बता दूंगा। सारा डिब्बा तेरी गांड फाड़ डालेगा कमसिन जवानी
में!" वो डर गयी उसने आशीष की और देखा। आशीष पंगा नहीं लेना चाहता था। और
दूर हटकर खड़ा हो गया।
उस आदमी का जायजा अलग था। उस ने हिम्मत दिखाते हुए रानी की कमीज में हाथ
डाल दिया। आगे। रानी पूरा जोर लगा कर पीछे हट गयी। कहीं भाभी न जाग जाये।
उसकी गांड उस कालू के खड़े होते हुए लंड को और ज्यादा महसूस करने लगी।
रानी का बुरा हाल था। कालू उसकी चूचियां को बुरी तरह उमेठ रहा था। उसने
निप्पलों पर नाखून गड़ा दिए। रानी विरोध नहीं कर सकती थी।
एकाएक उस काले ने हाथ नीचे ले जाकर उसकी सलवार में डाल दिया। ज्यों ही
उसका हाथ रानी की चूत के मुहाने पर पहुंचा। रानी सिसक पड़ी। उसने अपना
मुंह फेरे खड़े आशीष को देखा। रानी को मजा तो बहुत आ रहा था पर आशीष जैसे
सुन्दर छोकरे के हाथ लगने के बाद उस कबाड़ की छेड़-छाड़ बुरी लग रही थी।

अचानक कालू ने रानी को पीछे खींच लिया। उसकी चूत पर दबाव बनाकर। कालू का
लंड उसकी सलवार के ऊपर से ही रानी की चूत पर टक्कर मारने लगा। रानी गरम
होती जा रही थी।
अब तो कालू ने हद कर दी। रानी की सलवार को ऊपर उठाकर उसके फटे हुए छेद को
तलाशा और उसमें अपना लंड घुसा कर रानी की चूत तक पहुंचा दिया। रानी ने
कालू को कसकर पकड़ लिया। अब उसको सब कुछ अच्छा लगने लगा था। आगे से अपने
हाथ से उसने रानी की कमसिन चूत की फाँकों को खोला और अच्छी तरह अपना लंड
सेट कर दिया। लगता था जैसे सभी लोग उन्ही को देख रहे हैं। रानी की आँखें
शर्म से झुक गयी पर वो कुछ न बोल पाई।
कहते हैं जबरदस्ती में रोमांस ज्यादा होता है। इसको रानी का सौभाग्य कहें
या कालू का दुर्भाग्य। गोला अन्दर फैकने से पहले ही फट गया। कालू का सारा
माल बहार ही निकल गया। रानी की सलवार और उसकी चिकनी मोटी जाँघों पर! कालू
जल्द ही भीड़ में गुम हो गया। रानी का बुरा हाल था। उसको अपनी चूत में
खालीपन सा लगा। लंड का। ऊपर से वो सारी चिपचिपी सी हो गयी। कालू के रस
में।
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:20 PM,
#5
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
गनीमत हुयी की जयपुर स्टेशन आ गया। वरना कई और भेड़िये इंतज़ार में खड़े थे।
अपनी अपनी बारी के।

जयपुर रेलवे स्टेशन पर वो सब ट्रेन से उतर गए। रानी का बुरा हाल था। वो
जानबुझ कर पीछे रह रही थी ताकि किसी को उसकी सलवार पर गिरे सफ़ेद धब्बे न
दिखाई दे जाये।

आशीष बोला- "ताऊ जी,कुछ खा पी लें! बहार चलकर। "

ताऊ पता नहीं किस किस्म का आदमी था- "बोला भाई जाकर तुम खा आओ! हम तो
अपना लेकर आये हैं।

कविता ने उसको दुत्कारा- "आप भी न बापू! जब हम खायेंगे तो ये नहीं खा
सकता। हमारे साथ। "
ताऊ- "बेटी मैंने तो इस लिए कह दिया था कहीं इसको हमारा खाना अच्छा न
लगे। शहर का लौंडा है न। हे राम! पैर दुखने लगे हैं। "

आशीष- "इसीलिए तो कहता हूँ ताऊ जी। किसी होटल में चलते हैं। खा भी लेंगे।
सुस्ता भी लेंगे।"

ताऊ- "बेटा, कहता तो तू ठीक ही है। पर उसके लिए पैसे।"

आशीष- "पैसों की चिंता मत करो ताऊ जी। मेरे पास हैं।" आशीष के ATM में
लाखों रुपैये थे।

ताऊ- "फिर तो चलो बेटा, होटल का ही खाते हैं।"
होटल में बैठते ही तीनो के होश उड़ गए। देखा रानी साथ नहीं थी। ताऊ और
कविता का चेहरा तो जैसा सफ़ेद हो गया।

आशीष ने उनको तसल्ली देते हुए कहा- "ताऊ जी, मैं देखकर आता हूँ। आप यहीं
बैठकर खाना खाईये तब तक।"

कविता- "मैं भी चलती हूँ साथ!"

ताऊ- "नहीं! कविता मैं अकेला यहाँ कैसे रहूँगा। तुम यहीं बैठी रहो। जा
बेटा जल्दी जा। और उसी रस्ते से देखते जाना, जिससे वो आए थे। मेरे तो
पैरों में जान नहीं है। नहीं तो मैं ही चला जाता।"

आशीष उसको ढूँढने निकल गया।

आशीष के मन में कई तरह की बातें आ रही थी।" कही पीछे से उसको किसी ने
अगवा न कर लिया हो! कही वो कालू। " वह स्टेशन के अन्दर घुसा ही था की
पीछे से आवाज आई- "भैया!"

आशीष को आवाज सुनी हुयी लगी तो पलटकर देखा। रानी स्टेशन के प्रवेश द्वार
पर सहमी हुयी सी खड़ी थी।

आशीष जैसे भाग कर गया- "पागल हो क्या? यहाँ क्या कर रही हो? चलो जल्दी। "

रानी को अब शांत सी थी।- "मैं क्या करती भैया। तुम्ही गायब हो गए अचानक!"

"ए सुन! ये मुझे भैया-भैया मत बोल "

"क्यूँ?"

"क्यूँ! क्यूंकि ट्रेन में मैंने "और ट्रेन का वाक्य याद आते ही आशीष के
दिमाग में एक प्लान कौंध गया!

"मेरा नाम आशीष है समझी! और मुझे तू नाम से ही बुलाएगी। चल जल्दी चल!"

आशीष कहकर आगे बढ़ गया और रानी उसके पीछे पीछे चलती रही।
आशीष उसको शहर की और न ले जाकर स्टेशन से बहार निकलते ही रेल की पटरी के
साथ साथ एक सड़क पर चलने लगा। आगे अँधेरा था। वहां काम बन सकता था!

"यहाँ कहाँ ले जा रहे हो, आशीष!" रानी अँधेरा सा देखकर चिंतित सी हो गयी।

"तू चुप चाप मेरे पीछे आ जा। नहीं तो कोई उस कालू जैसा तुम्हारी। समाझ
गयी न।" आशीष ने उसको ट्रेन की बातें याद दिला कर गरम करने की कोशिश की।

"तुमने मुझे बचाया क्यूँ नहीं। इतने तगड़े होकर भी डर गए ", रानी ने
शिकायती लहजे में कहा।

"अच्छा! याद नहीं वो साला क्या बोल रहा था। सबको बता देता। "

रानी चुप हो गयी। आशीष बोला- "और तुम खो कैसे गयी थी। साथ साथ नहीं चल सकती थी? "

रानी को अपनी सलवार याद आ गयी- "वो मैं!" कहते कहते वो चुप हो गयी।

"क्या?" आशीष ने बात पूरी करने को कहा।

"उसने मेरी सलवार गन्दी कर दी। मैं झुक कर उसको साफ़ करने लगी। उठकर देखा तो। "
आशीष ने उसकी सलवार को देखने की कोशिश की पर अँधेरा इतना गहरा था की सफ़ेद
सी सलवार भी उसको दिखाई न दी।
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:20 PM,
#6
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
आशीष ने देखा। पटरी के साथ में एक खाली डिब्बा खड़ा है। साइड वाले
अतिरिक्त पटरी पर। आशीष काँटों से होता हुआ उस रेलगाड़ी के डिब्बे की और
जाने लगा।

"ये तुम जा कहाँ रहे हो?, आशीष!"

" आना है तो आ जाओ। वरना भाड़ में जाओ। ज्यादा सवाल मत करो!"

वो चुपचाप चलती गयी। उसके पास कोई विकल्प ही नहीं था।

आशीष इधर उधर देखकर डिब्बे में चढ़ गया। रानी न चढ़ी। वो खतरे को भांप
चुकी थी- "प्लीज मुझे मेरे बापू के पास ले चलो। "
वो डरकर रोने लगी। उसकी सुबकियाँ अँधेरे में साफ़ साफ़ सुनाई दे रही थी।

"देखो रानी! डरो मत। मैं वही करूँगा बस जो मैंने ट्रेन में किया था। फिर
तुम्हे बापू के पास ले जाऊँगा! अगर तुम नहीं करोगी तो मैं यहीं से भाग
जाऊँगा। फिर कोई तुम्हे उठाकर ले जाएगा और चोद चाद कर रंडी मार्केट में
बेच देगा। फिर चुदवाती रहना सारी उम्र। " आशीष ने उसको डराने की कोशिश की
और उसकी तरकीब काम कर गयी।।

रानी को सारी उम्र चुदवाने से एक बार की छेड़छाड़ करवाने में ज्यादा फायदा
नजर आया। वो डिब्बे में चढ़ गयी।
डिब्बे में चढ़ते ही आशीष ने उसको लपक लिया। वह पागलों की तरह उसके मैले
कपड़ों के ऊपर से ही उसको चूमने लगा।

रानी को अच्छा नहीं लग रहा था। वो तो बस अपने बापू के पास जाना चाहती
थी।- "अब जल्दी कर लो न। ये क्या कर रहे हो?"

आशीष भी देरी के मूड में नहीं था। उसने रानी के कमीज को उठाया और उसी छेद
से अपनी ऊँगली रानी के पिछवाड़े से उसकी चूत में डालने की कोशिश करने
लगा। जल्द ही उसको अपनी बेवकूफी का अहसास हुआ। वासना में अँधा वह ये तो
भूल ही गया था की अब तो वो दोनों अकेले हैं।
उसने रानी की सलवार का नाडा खोलने की कोशिश की।
रानी सहम सी गयी। "छेद में से ही डाल लो न।!"

"ज्यादा मत बोल। अब तुने अगर किसी भी बात को "न " कहा तो मैं तभी भाग
जाऊँगा यहीं छोड़ कर। समझी!" आशीष की धमकी काम कर गयी। अब वो बिलकुल चुप
हो गयी
आशीष ने सलवार के साथ ही उसके कालू के रस में भीगी कच्छी को उतार कर फैंक
दिया। कच्छी नीचे गिर गयी। डिब्बे से!
रानी बिलकुल नंगी हो चुकी थी। नीचे से!
आशीष ने उसको हाथ ऊपर करने को कहा और उसका कमीज और ब्रा भी उतार दी। रानी रोने लगी।

"चुप करती है या जाऊ मैं!"
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:20 PM,
#7
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
रानी बेचारी करती भी तो क्या करती। फिर से चुप हो गयी!
आशीष ने पैन्ट में से मोबाइल निकाला और उसको चालू करके उससे रोशनी कर ली।
आशीष ने देखा रानी डर से काँप सी रही है और उसके गाल गीले हो चुके थे।
थोड़ी देर पहले रोने की वजह से।
आशीष ने परवाह न की। वो रोशनी की किरण नीचे करता गया। गर्दन से नीचे
रोशनी पड़ते ही आशीष बेकाबू होना शुरू हो गया। जो उसकी जाँघों तक जाते
जाते पागलपन में बदल गया।
आशीष ने देखा रानी की चूचियां और उनके बीच की घाटी जबरदस्त सेक्सी लग रहे
थे। चूचियों के ऊपर निप्पल मनो भूरे रंग के मोती चिपके हुए हो। चुचियों
पर हाथ फेरते हुए बहुत अधिक कोमलता का अहसास हुआ। उसका पेट उसकी छातियों
को देखते हुए काफी कमसिन था। उसने रानी को घुमा दिया। गांड के कटाव को
देखते ही उससे रहा न गया और उन पर हलके से काट खाया।
रानी सिसक कर उसकी तरफ मुढ़ गयी। रोशनी उसकी चूत पर पड़ी। चूत बहुत छोटी
सी थी। छोटी-छोटी फांक और एक पतली सी दरार। आशीष को यकीन नहीं हो रहा था
की उसमें उसकी उंगली चली गयी थी। उसने फिर से करके देखा। उंगली सुर से
अन्दर चली गयी। चूत के हलके हलके बाल उत्तेजना से खड़े हो गए। चूत की
फांकों ने उंगली को अपने भीतर दबोच लिया। उंगली पर उन फाकों का कसाव आशीष
साफ़ महसूस कर रहा था!
उसने रानी को निचली सीट पर लिटा दिया। और दूसरी एकल सीट को एक तरफ खींच
लिया। रानी की गांड हवा में थी। वो कुछ न बोली!
आशीष ने अपनी पैंट उतार फैंकी। और रानी की टांगो को फैलाकर एक दूसरी से
अलग किया। उसने रोशनी करके देखा। चूत की फांके चौड़ी हो गयी थी!
आशीष का दिल तो चाहता था उसको जी भर कर चाटे। पर देर हो रही थी। और आशीष
का बैग भी तो होटल में ही था। उसने लंड को कच्छे से बहार निकाला। वो तो
पहले ही तैयार था। उसकी चूत की सुरंग की सफाई करके चौड़ी करने के लिए।
आशीष ने चूत पर थूक-थूक कर उसको नहला सा दिया। फिर अपने लंड की मुंडी को
थूक से चिकना किया। और चूत पर रखकर जोर से दबा दिया। एक ही झटके में लंड
की टोपी चूत में जाकर बुरी तरह फंस गयी। रानी ने जोर की चीख मारी। आशीष
ने डर कर बाहर निकालने की कोशिश की पर रानी के चुतड़ साथ ही उठ रहे थे।
उसको निकलने में भी तकलीफ हो रही थी। उसका सारा शरीर पसीने से भीग गया।
पर वो कुछ नहीं बोली। उसको अपने बापू के पास जाना था।
आशीष का भी बुरा हाल था। उसने रानी को डराया जरूर था पर उसको लगता था की
रानी उसका लंड जाते ही सब कुछ भूल जाएगी। ऐसा सोचते हुए लंड नरम पड़ गया
और अपने आप बहार निकल आया।

रानी की चूत तड़प सी उठी। पर वो कुछ न बोली। हाँ उसको मजा तो आया था। पर
लंड निकलने पर।

जाने क्या सोचकर आशीष ने उसको कपड़े डालने को कह दिया! उसने झट से ब्रा और
कमीज डाला और अपनी कच्छी ढूँढने लगी। उससे डर लग रहा था पूछते हुए। उसने
पूछा ही नहीं और ऐसे ही सलवार डाल ली। जिसके नीचे से रास्ता था।

आशीष भी अब जल्दी में लग रहा था- "जल्दी चलो!"

वो तेज़ी से होटल की और चल पड़े!

रानी मन ही मन सोच रही थी की बापू के पास जाते ही इस हरामजादे की सारी
करतूत बताउंगी।

पर जब वो होटल पहुंचे तो झटका सा लगा। न बापू मिला और न ही कविता!

आशीष ने बैरे को बुलाया- "वो कहाँ हैं। जो अभी यहाँ बैठे थे?"

" वो तो जनाब आपके जाने के पांच मिनट बाद ही खाना खाए बगैर निकल गए थे! "
बैरे ने कहा
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:20 PM,
#8
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
रानी भी परेशान थी- "अब क्या करेंगे?"
"करेंगे क्या उनको ढूंढेगे!" आशीष ने बढ़बढ़ाते हुए कहा।
आशीष को याद आया उसके सारे कपड़े बैग में ही चले गए! अच्छा हुआ उसने छोटे
बैग में अपना पर्स और मोबाइल रखकर अपने पास ही रख लिया था।
वो स्टेशन तक देखकर आये। पर उन्हें बापू और बेटी में से कोई न दिखाई दिया।
सुबह हो चुकी थी पर उन दोनों का कोई पता न चला। थक हार कर उन्होंने चाय
पी और मार्केट की तरफ चले गए!
एक गारमेंट्स की दुकान पर पहुँचकर आशीष ने देखा। रानी एक पुतले पर टंगी
ड्रेस को गौर से देख रही है।
"क्या देख रही हो?"
"कुछ नहीं!"
"ड्रेस चाहिए क्या?"
रानी ने अपनी सलवार को देखा फिर बोली "नहीं। "
"चलो! " और वो रानी को अन्दर ले गया।
रानी जब दुकान से बहार निकली तो शहर की मस्त लौंडिया लग रही थी। सेक्सी!
रानी की ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था।
आशीष ने उसको फिर से डराकर होटल में ले जाकर चोदने की सोची।
"रानी!"
"हम्म!"
"अगर तुम्हारे बापू और कविता न मिले तो!"
"मैं तो चाहती हूँ वो मर जायें।" रानी कड़वा मुंह करके बोली।
आशीष उसको देखता ही रह गया।।
"ये क्या कह रही हो तुम? " आशीष ने हैरानी से पूछा।
रानी कुछ न बोली। एक बार आशीष की और देखा और बोली- "ट्रेन कितने बजे की है।?"
आशीष ने उसकी बात का कोई जवाब नहीं दिया, "रानी तुम वो क्या कह रही थी।
अपने बापू के बारे में...?"
********************************************************
जबकि दूसरी तरफ़-
बूढ़ा और कविता कहीं कमरे में नंगे लेटे हुए थे।

"अब क्या करें? " बूढ़े ने कविता की चूची भीचते हुए कहा।

"करें क्या? चलो स्टेशन! " कविता उसके लंड को खड़ा करने की कोशिश कर रही
थी- "बैग में तो कुछ मिला नहीं।"

"उसने पुलिस बुला ली होगी तो!" बूढ़ा बोला।

"अब जाना तो पड़ेगा ही। रानी को तो लाना ही है। " कविता ने जवाब दिया।

उन्होंने अपने कपड़े पहने और स्टेशन के लिए निकल गए!
*******************************************************
जबकि इधर-

उधर आशीष के चेहरे की हवाईयां उड़ रही थी- "ये क्या कह रही हो तुम?"

"सच कह रही हूँ, किसी को बताना नहीं प्लीज..." रानी ने भोलेपन से कहा।

फिर तुम इनके पास कैसे आई...?" आशीष का धैर्य जवाब दे गया था।

"ये मुझे खरीद कर लाये हैं। दिल्ली से!" रानी आशीष पर कुछ ज्यादा ही
विश्वास कर बैठी थी- " 50,000 में।"

"तो तुम दिल्ली की हो!" आशीष को उसकी बातों पर विश्वास नहीं हो रहा था।

"नहीं। वेस्ट बंगाल की!" रानी ने उसकी जानकारी और बढाई।

"वहां से दिल्ली कैसे आई!?" आशीष की उत्सुकता बढती जा रही थी!

"राजकुमार भैया लाये थे!"

"घरवालों ने भेज दिया?"

"हाँ!" वह गाँव से और भी लड़कियां लाता है।
"क्या काम करवाता है "
"मुझे क्या पता। कहा तो यही था। की कोठियों में काम करवाएँगे। बर्तन सफाई वगैरह!"
"फिर घरवालों ने उस पर विश्वास कैसे कर लिया??"
रानी- वह सभी लड़कियों के घरवालों को हजार रुपैये महीने के भेजता है!
आशीष- पर उसने तो तुम्हे बेच दिया है। अब वो रुपैये कब तक देगा।
रानी- वो हजार रुपैये महीना देंगे! मैंने इनकी बात सुनी थी.....50,000 के अलावा।
आशीष- तो तुम्हे सच में नहीं पता ये तुम्हारा क्या करेंगे?
रानी- नहीं।
"तुम्हारे साथ किसी ने कभी ऐसा वैसा किया है ", आशीष ने पूछा
रानी- कैसा वैसा?
आशीष को गुस्सा आ गया - "तेरी चूत मारी है कभी किसी ने।
रानी- चूत कैसे मारते हैं।
आशीष- हे भगवान! जैसे मैंने मारी थी रेल में।
रानी- हाँ!
आशीष- किसने?
रानी- "तुमने और...." फिर गुस्से से बोली- "उस काले ने.."
आशीष उसकी मासूमियत पर हंस पड़ा। ये चूत पर लंड रखने को ही चूत मारना कह रही है।
आशीष- तू इन को बापू और भाभीजी क्यूँ कह रही थी।
रानी- इन्होने ही समझाया था।
आशीष- अच्छा ये बता। जैसे मैंने तेरी चूत में लंड फंसाया था। अभी स्टेशन
के पास। समझी!
रानी- हाँ। मेरी कच्छी नम हो गयी। उसने खुली हुयी टांगो को भीच लिया।
आशीष- मैं क्या पूछ रहा हूँ पागल!
रानी- क्या?
आशीष- किसी ने ऐसे पूरा लंड दिया है कभी तेरी चूत में?
रानी- "नहीं, तुम मुझे कच्छी और दिलवा देते। इसमें हवा लग रही है।" कह कर
वो हंसने लगी।
आशीष- दिलवा दूंगा। पर पहले ये बता अगर तेरी चूत मुंबई में रोज 3-3 बार
लंड लेगी तो तुझसे सहन हो जायेगा?
रानी- "क्यूँ देगा कोई?" फिर धीरे से बोली- "चूत में लंड..." और फिर हंसने लगी!
आशीष- अगर कोई देगा तो ले सकती हो।
रानी ने डरकर अपनी चूत को कस कर पकड़ लिया - "नहीं "

तभी वो बूढ़ा और कविता उन दोनों को सामने से आते दिखाई दिए।
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:21 PM,
#9
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
रानी- उनको मत बताना कुछ भी। उन्होंने कहा है किसी को भी बताया तो जान से
मार देंगे!

बूढ़े ने जब रानी को नए कपड़ों में देखा तो वो शक से आशीष की और देखने लगा।

रानी- बापू, मेरे कपड़े गंदे हो गए थे। इन्होंने दिलवा दिए। इनके पास
बहुत पैसा हैं।

बापू- धन्यवाद बेटा। हम तो गरीब आदमी हैं।

कविता इस तरह से आशीष को देखने लगी जैसे वो भी आशीष से ड्रेस खरीदना चाहती हो।

आशीष- अब क्या करें? किसी होटल में रेस्ट करें रात तक!

बूढ़ा- देख लो बेटा, अगर पैसे हों तो।

आशीष- पैसे की चिंता मत करो ताऊ जी। पैसा बहुत हैं।
बूढ़ा इस तरह से आशीष को देखने लगा जैसे पूछना चाहता हो। कहाँ है पैसा।
और वो एक होटल में चले गए। उन्होंने 2 कमरे रात तक के लिए ले लिए। एक
अकेले आशीष के लिए। और दूसरा उस 'घर परिवार' के लिए।
थोड़ी ही देर में बूढ़ा उन दोनों को समझा कर आशीष के पास आ गया।
बेटा मैं जरा इधर लेट लूं। मुझे नींद आ रही है। तुझे अगर गप्पे लड़ाने हों
तो उधर चला जा। रानी तो तेरी बहुत तारीफ़ कर रही थी।
आशीष- वो तो ठीक है ताऊ। पर आप रात को कहाँ निकल गए थे?
बूढ़ा- कहाँ निकल गए थे बेटा। वो किसी ने हमें बताया की ऐसी लड़की तो शहर
की और जा रही है इसीलिए हम उधर देखने चले गए थे।

आशीष उठा और दूसरे कमरे में चला गया। योजना के मुताबिक। कविता दरवाजा
खुला छोड़े नंगी ही शीशे के सामने खड़ी थी और कुछ पहनने का नाटक कर रही
थी। आशीष के आते ही उसने एक दम चौकने का नाटक किया। वो नंगी ही घुटनों के
बल बैठ गयी। जैसे अपने को ढकने का नाटक कर रही हो!
रानी बाथरूम में थी। उसको बाद में आना था अगर कविता असर न जमा पाए तो!

कविता ने शरमाने की एक्टिंग शुरू कर दी!
आशीष- माफ़ कीजिये भाभी!
कविता- नहीं तुम्हारी क्या गलती है। मैं दरवाजा बंद करना भूल गयी थी।
कविता को डर था वो कहीं वापस न चला जाये। वो अपनी छातियों की झलक आशीष को
दिखाती रही। फिर आशीष को कहाँ जाना था? उसने छोटे कद की भाभी को बाँहों
में उठा लिया।
कविता- कहीं बापू न आ जायें।
आशीष ने उसकी बातों पर कोई ध्यान नहीं दिया। उसको बेड पर लिटा दिया। सीधा।
दरवाजा तो बंद कर दो।
आशीष ने दरवाजा बंद करते हुए पूछा- "रानी कहाँ है?"
कविता- वो नहा रही है।
आशीष- वो बूढ़ा तुम्हारा बाप है या ससुर।
कविता- अ! अ! ससुर!
"कोई बच्चा भी है?"
कविता- ह! हाँ
आशीष- "लगता तो नहीं है। छोटा ही होगा।" उसने कविता की पतली जाँघों पर
हाथ फेरते हुए कहा!
कविता- हाँ! 1 साल का है!
आशीष ने उसकी छोटी पर शख्त छातियों को अपने मुंह में भर कर उनमें से दूध
पीने की कोशिश करने लगा। दूध तो नहीं निकला। क्यूंकि निकलना ही नहीं था।
अलबत्ता उसकी जोरदार चुसाई से उसकी चूत में से पानी जरूर नकलने लगा!
आशीष ने एक हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूत को जोर से मसल दिया। कविता ने आनंद
के मारे अपने चुतड़ हवा में उठा लिए।
आशीष ने कविता को गौर से देखा। उसका नाटक अब नाटक नही, असलियत में बदलता
जा रहा था। कविता ने आशीष की कमर पर अपने हाथ जमा दिए और नाख़ून गड़ाने
लगी।
आशीष ने अपनी कमीज उतर फैंकी। फिर बनियान और फिर पैंट। उसका लंड कच्छे को
फाड़ने ही वाला था। अच्छा किया जो उसने बाहर निकाल लिया।

उसने बाथरूम का दरवाजा खोला और नंगी रानी को भी उठा लाया और बेड पर लिटा
दिया! आशीष ने गौर से देखा। दोनों का स्वाद अलग था। एक सांवली। दूसरी
गोरी। एक थोड़ी लम्बी एक छोटी। एक की मांसल गुदाज जान्घें दूसरी की पतली।
एक की छोटी सी चूत। दूसरी की फूली हुयी सी, मोटी। एक की चूचियां मांसल
गोल दूसरी की पतली मगर सेक्सी। चोंच वाली। आशीष ने पतली टांगों को ऊपर
उठाया और मोड़कर उसके कान के पास दबा दिया। उसको दर्द होने लगा। शायद इस
आसन की आदत नहीं होगी।
-  - 
Reply
11-05-2017, 01:21 PM,
#10
RE: Train Sex Stories रेल यात्रा
मोटी जांघों वाली को उसने पतली टांगों वाली के मुंह के ऊपर बैठा दिया।
पतली टांगों वाली की छातियों के पास घुटने रखवाकर! कविता के पैर रानी के
पैरों तले दबकर वही जम गए। उसके चूतड़ ऊपर उठे हुए थे। चूत को पूरा खोले
हुए। रानी की मांसल जांघें कविता के चेहरे के दोनों तरफ थी। और रानी की
चूत कविता के मुंह के ऊपर!।.....आशीष एक पल को देखता रहा। उसकी कलाकारी
में कहाँ कमी रह गयी और फिर मोटी फ़ांको वाली चूत का जूस निकलने लगा! अपनी
जीभ से। सीधा कर्रेंट कविता के दिमाग तक गया। वो मचल उठी और रानी की छोटी
सी चूत से बदला लेने लगी। उसकी जीभ कविता की चूत में आग लगा रही थी और
कविता की जीभ रानी को चोदने योग्य बना रही थी।

रानी में तूफ़ान सा आ गया और वो भी बदला लेने लगी। कविता की चूचियों को मसल मसल कर।
अब आशीष ने कविता की चूत को अपने लंड से खोदने लगा। खोदना इसीलिए कह रहा
हूँ क्यूंकि वो खोद ही रहा था। ऊपर से नीचे। चूत का मुंह ऊपर जो था।
जितना अधिक मजा कविता को आता गया उतना ही मजा वो रानी को देती गयी। अपनी
जीभ से चोद कर।
अब रानी आशीष के सर को पकड़ कर अपने पास लायी और अपनी जीभ आशीष के मुंह में दे दी।
आशीष कविता को खोद रहा था। कविता रानी को चोद रही थी...(जीभ से ) और रानी
आशीष को चूस रही थी! सबका सब कुछ व्यस्त था। कुछ भी शांत नहीं था।
आशीष ने खोदते-खोदते अपना खोदना उसकी चूत से निकाल और खड़ा होकर रानी के
मुंह में फंसा दिया। अब रानी के दो छेद व्यस्त थे।
ऐसे ही तीन चार बार निकाला-चूसाया फ़िर आशीष ने कविता की गांड के छेद पर
थूका और उसमें अपना लंड फंसने लगा। 1...2...3....4... आशीष धक्के मारता
गया। लंड हर बार थोडा थोडा सरकता गया और आखिर में आशीष के गोलों ने कविता
के चुताड़ों पर दस्तक दी। कुछ देर बर्दास्त करने के बाद अब कविता को भी
दिक्कत नहीं हो रही थी। आशीष ने
रानी को कविता की चूत पर झुका दिया। वो जीभ से उसकी चूत के आस पास चाटने
लगी। अब सबको मजा आ रहा था।
अचानक रानी की चूत ने रस छोड़ दिया। कविता के मुंह पर। ज्यादातर कविता के
मुंह में ही गया। और कविता की चूत भी तर हो गयी।
अब रानी की बारी थी। वो तैयार भी थी दर्द सहन करने को। आशीष ने सबका आसन
बदल दिया। अब कविता की जगह रानी थी और रानी की जगह कविता!

आशीष ने रानी की चूत पर गौर किया। वो सच में ही छोटी थी। उसके लंड के
लिए। पर एक न एक दिन तो इसको बड़ा होना ही है। तो आज ही क्यूँ नहीं!
आशीष ने पहले से ही गीली रानी की चूत पर थोडा थूक लगाया और उसपर अपना लंड
रखकर धीरे धीरे बैठने लगा। जैसे कविता की गांड में बैठा था।
1...2...3...4.. और दर्द में बिलखती रानी ने कविता की चूत को काट खाया।
कविता की चूत से काटने की वजह से खून बहने लगा और रानी की चूत से झिल्ली
फटने से खून बहने लगा। दोनों दर्द से दोहरी होती गयी।!
झटके लगते रहे। फिर मजा आने लगा और जैसे ही रानी का मजा दोबारा पूरा हुआ।
आशीष ने उसकी चूत के रस को वापस ही भेज दिया। अन्दर। अपने लंड से पिचकारी
मारकर। योनी रस की!
तीनों बेड पर अलग अलग बिखर गए। रानी भी औरत बन गयी।

ऐसा करके आशीष को एक बात तो पक्का हो गयी। जब कविता की चूचियों में दूध
नहीं है। तो वो माँ नहीं हो सकती एक साल के बच्चे की!

उधर बुढ़े ने कमरे का एक-एक कोना छान मारा। पर उसे उन पैसों का कोई सुराग
नहीं मिला। जिनके बारे में आशीष बार- बार कह रहा था कि पैसे बहुत हैं। थक
हार कर मन मसोस कर वो बिस्टर पर लेट गया और आशीष के बहार आने का इंतज़ार
करने लगा।

आशीष को याद आया उसको आरक्षण भी कराना है। तीन और टिकटों का।

वह बहार निकाल गया। रेलवे स्टेशन पर।
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Sex kahani अधूरी हसरतें 272 205,914 4 hours ago
Last Post:
Lightbulb XXX kahani नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी 117 57,082 04-05-2020, 02:36 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 102 271,721 03-31-2020, 12:03 PM
Last Post:
Big Grin Free Sex Kahani जालिम है बेटा तेरा 73 149,455 03-28-2020, 10:16 PM
Last Post:
Thumbs Up antervasna चीख उठा हिमालय 65 38,001 03-25-2020, 01:31 PM
Last Post:
Thumbs Up Adult Stories बेगुनाह ( एक थ्रिलर उपन्यास ) 105 56,144 03-24-2020, 09:17 AM
Last Post:
Thumbs Up kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ 50 80,527 03-22-2020, 01:45 PM
Last Post:
Lightbulb Hindi Kamuk Kahani जादू की लकड़ी 86 121,055 03-19-2020, 12:44 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story चीखती रूहें 25 24,791 03-19-2020, 11:51 AM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 224 1,094,790 03-18-2020, 04:41 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Xxxmoyeekaali choot wali kaira adwaani hot videohoneymoon per nighty pahna avashyak h ya nhiकहानीमोशीXxx Aishwray ray ki secx phuto Xxx photos jijaji chhat per hain.sexbabahindysexystoryxxxगाजर xxx fuck cuud girlsPallabi kar xxx photo babaharami ganda pariwar sex storyxBOMBO sex videosMeri fussi ko land chaiye video Hastens wife sex 2sal ka bachcha sathNahate huvesex videoदेसी रंडी की सेक्सी वीडियो अपने ऊपर वाले ने पैसे दे जाओ की चुदाती है ग्राहक सेबालीबुड हिरोइन इंडियन हिंदी सेकसी चुची से दुधWwwbhabi ki gand chipake sex hd video comसेकसी बुर मे लोरा देता हुआ बहुत गंधा फोटोXbombo . anti bo videoNushrat bharucha xxx image on sex baba 2018apni hi saheli ki mammi bani vedioकाका से चुदायाbigboobasphotoBole sasur ko boor dikha ke chudwane ki kahaniJor se karo nfuckBhaj ne moot piya hindi sex storiesAletta ocena Nicola Aniston he pichindi sexy kahani randi paribar me BAAP beti chudai sexbaba.comHDbf seksi majburi me chut marwanaileana dcruz nude sex images 2019 sexbaba.netxxx keet sex 2019bipasha basu ke chodai hard nudes fake on sex baba netxxx मेहदी सेकसी विडीयो पेजपैसे देकर चुदाने वाली वाइफ हाउसवाइफ एमएमएस दिल्ली सेक्स वीडियो उनका नंबरSwimming sikhne ke bahane chudi storiesxxx moote aaort photoshalwar khol garl deshi imageNanad bhabhi training antarvasnabhai bahen incest chudai-raj sharmaki incest kahaniyajism ka danda saxi xxx moovesconxxxbafNude desi actress priyanka lalajibhabi ji ghar par hai xxx pussy images on sex babaileana ki sex baba net photosghar ka under muth cguate hua video hdHindi sex video Aurat log jaldi so rahe hain Unka Naam Maloom Pade Unka Chut video sex video xxxxxxxxx hot sexy Maut fak new Gael.12Sbke saamne gaan chusiichuso ah bur chachiveerye peeneki xnxSasur ji ke dost ne choda mujhe on sexbaba.inದುಂಡು ಮೊಲೆbubs dabane ka video agrej grlnokara ke sataXxx sex full hd videochomu kisexy videoShradha kapoor nude fucking sex fantasy stories of www.sexbaba.netNamard husband ki samny zid se chudi sex storyxnxhawastamannah sexbabaSexy parivar chudai stories maa bahn bua sexbabavarshini sounderajan fakes दादाजी के नागडे सेकस पोन विडियो फोटोhot sixy Birazza com tishara vDukhatay khup sex vediosouteli me ko bur chod kar bachha kiya sexbaba chodai storywww antarvasnasexstories com teen girls kacchi kali masal dali part 2माँ बेटी कि चुत मे बेटे ने लँड घुसायAami ne dood dilaya sex storyMatherchod ney chut main pepsi ki Bottle ghusa di chudai storysex baba kajal agarwal sex babaBap se anguli karwayi sex videofudime lad xxx bhiyf sekshi