प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - Printable Version

+- Sex Baba (//ht.mupsaharovo.ru)
+-- Forum: Indian Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-indian-stories)
+--- Forum: Hindi Sex Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-hindi-sex-stories)
+--- Thread: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ (/Thread-%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%AE-%E0%A4%97%E0%A5%81%E0%A4%B0%E0%A5%81-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A5%87%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%81)

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

मैंने मधु से कहा,“पर अनारकली तो अभी छोटी ही है। अभी तो मुश्किल से १७-१८ की हुई होगी!” मैं जानता हूँ वो एक साथ दो दो लंड अपनी चूत और गांड में लेने लायक बन गई है पर मधु के सामने तो उसे बच्ची ही कहना ठीक था।

“अरे आप इन लोगों की परेशानी नहीं जानते। गरीब की लुगाई हरेक की भाभी होती है। जवान होने से पहले ही मोहल्ले, पड़ोस और रिश्तदारों के लौंडे लपाड़े तो क्या घर के लोग ही उनका यौन शोषण कर लेते हैं। चाचा, ताऊ, जीजा, फूफा यहाँ तक कि उसके सगे भाई और बाप भी कई बार तो नहीं छोड़ते हैं।” मधु ने बताया।

“पर अनारकली को तो ऐसी कोई समस्या थोड़े ही है। तुम गुलाबो को समझाने कि कोशिश क्यों नहीं करती ?” मैंने कहा।

“तुम नहीं जानते उसका बाप एक नम्बर का शराबी और चुद्दकड़ है। अनु बता रही थी कि कल उसकी मासी घर आई थी उसके बापू ने उसे पकड़ लिया था। मासी ने शोर मचा कर अपने आप को छुड़ाया। अनु डर रही थी कि कहीं उसे ही ना ….”

मैं तो सुनकर ही हक्का बक्का रह गया। एक और मैं अनारकली को चोदने के चक्कर में लगा था और दूसरी और उसका बाप ही उसकी वाट लगाने पर तुला था। अगर उसका गौना हो गया तो मेरी पिछले २ महीनों की सारी मेहनत बेकार चली जायेगी। मेरा तो मूड ही ख़राब हो गया।

गुरूजी कहते हैं “समय से पहले और भाग्य से ज्यादा कभी नहीं मिलता ” पता नहीं भाग्य में कब कहाँ कैसे क्या लिखा है।

उस दिन शाम को मधु ने बताया कि उसकी मम्मी की तबियत ठीक नहीं है। भइया का फ़ोन आया था वो भी जा रहे हैं और मुझे भी जयपुर जाना पड़ेगा। अब ग्वालियर से जयपुर कोई ज्यादा दूर तो है नहीं मैंने झटपट दूसरे दिन ही उसकी रेल की टिकेट कन्फर्म करवा दी। मैंने ऑफिस में जरूरी काम का परफेक्ट बहाना बना दिया।

उसने जाते हुए अनु को मेरा ध्यान रखने को समझाया कि कब नाश्ता देना है, खाना कब देना है, क्या क्या बनाना है। बस तीन चार दिनों की बात है। मजबूरी है। किसी तरह काट लेना।

मैंने मन में भगवान का धन्यवाद किया और थोड़ी सी आशा मन में जगी कि अब अनार को अनारकली बनने का माकूल (सही) समय आ गया है।

मैंने स्टेशन पर उसे छोड़ते समय इतनी बढ़िया एक्टिंग की जैसे कोई प्रेमी अपनी प्रेमिका से बिछुड़ रहा हो। अगर दिलीप कुमार उस वक्त देख लेता तो कहता मधुमती में उसकी एक्टिंग भी ऐसी नहीं थी। मधु एक बार तो बोल ही पड़ी कि “वैसे भइया तो जा ही रहे हैं तुम मेरे बिना इतने उदास हो रहे हो तो मैं जाना कैंसिल कर दूँ?”

मैं घबरा गया अच्छी एक्टिंग भी कई बार महंगी पड़ जाती है। मैंने कहा “अरे बूढा शरीर है ऐसे समय में जाना जरूरी होता है। कल को कोई ऐसी वैसी बात हो गई तो हमें जिन्दगी भर पछतावा रहेगा तुम मेरी चिंता छोडो किसी तरह ३-४ दिन तुम्हारे बिना काट ही लूँगा पर लौटने में देरी कर दी तो मुझे जरूरी काम छोड़ कर भी तुम्हे लेने आना पडेगा हनी डार्लिंग !”

आप तो जानते ही है जब मुझे मधु को गोली पिलानी होती है मैं उसे हनी कहता हूँ। मधु ने मेरी और ऐसे देखा जैसे मैं कोई शहजादा सलीम हूँ और वो अनारकली जो मुझसे दूर जा रही है।

रात अनारकली के सपनों में ही बीत गई। सुबह मुझे अनारकली की मीठी आवाज ने जगाया। वो आते ही बोली “दीदी के पहुँचने का फोन आया क्या ..??”

“क्यों हम अकेले अच्छे नहीं लगते क्या ?”

“ओह … वो ..वो .. बात नहीं …” अनारकली थोड़ा झिझकते हुए बोली “आपके लिए चाय बनाऊं ?”

“नहीं पहले मेरे पास बैठो मुझे तुमसे कुछ जरूरी बात करनी है ” मैंने आज पहली बार उसे बेड पर अपने पास बैठाया।
वो हैरानी से मेरी ओर देखने लगी।

“मैंने सुना है तुम्हारी शादी हो रही है?”- मैंने पूछा।

“शादी नहीं साहब गौना हो रहा है।”

“हाँ हाँ वही ! पर तुम तो अभी बहुत छोटी हो। इतनी कम उम्र में ??”

“छोटी कहाँ हूँ ! पूरी १८ की हो गई हूँ। और फ़िर गरीब की बेटी तो घरवालों, रिश्तेदारों और मोहल्ले वालों, शोहदों की नज़र में तो १०-१२ साल की भी जवान हो जाती है। हर कोई उसे लूटने खसोटने के चक्कर में रहता है।”

अनारकली ने माहौल ही संज़ीदा (गम्भीर) बना दिया। मैंने बात को अपने मतलब की ओर मोड़ते हुए कहा,“ चलो वो तो ठीक है पर तुम तो जानती हो मैं …. मेरा मतलब है मधु …. हम सभी तुम्हें कितना प्प्यऽऽ ….. चाहते हैं, तुम हम से दूर चली जाओगी” मैं हकलाता हुआ सा बोला और उसका हाथ अपने हाथ में ले लिया। उसने हाथ छुड़ाने की कोई कोशिश नहीं की।

मेरा जी तो कर रहा था कि कह दूँ कि मैं भी तुम्हें चोदने के चक्कर में ही तो लगा हूं, पर कह नहीं पाया।

“हाँ साहब ! मैं जानती हूँ। आप और मधु दीदी तो मुझे बहुत चाहते हो, दीदी तो मुझे छोटी बहन की तरह मानती हैं। दुःख तो मुझे भी है पर ससुराल तो एक दिन जाना ही पड़ता है ना ! क्यों ! मैं गलत तो नहीं कह रही ?”

“ ” मैं चुप रहा।

अनारकली फ़िर बोली,“साहब आप उदास क्यों होते हो ! आपको कोई और नौकरानी मिल जाएगी।”

“पर तुम्हारे जैसी कहाँ मिलेगी !”

“क्यों ऐसा क्या है मुझ में ?”

“अरे मेरी रानी तुम नहीं जानती तुम कितनी सुन्दर हो …. म्म…. मेरा मतलब है तुम हर काम कितने सुन्दर ढंग से करती हो।”

“काम का तो ठीक है पर इतनी सुन्दर कहाँ हूँ?”

“हीरे को अपनी कीमत का पता नहीं होता, कभी मेरे जैसे ज़ोहरी की नज़रों से भी तो देखो ?”

“साहब इतने सपने ना दिखाओ कि मैं उनके टूटने का गम बर्दाश्त ही ना कर पाऊँ !”

“देखो अनारकली मैं सच कहता हूँ, तुम्हारे जाने के बाद मेरा मन बहुत उदास हो जाएगा।”

“मैं जानती हूँ साहब” अनारकली ने अपनी पलकें बंद कर ली।

लोहा गरम हो गया था, जाल बिछ गया था, अब तो बस शिकार फ़ंसने ही वाला था। मैं जबरदस्त ऐक्टिंग करते हुए बोला, “ अनार मुझे लगता है हमारा पिछले जन्म का जरूर कोई रिश्ता है। कहीं तुम पिछले जन्म में अनारकली या मधुबाला तो नहीं थी ?” मैंने पासा फ़ेंका।

मैं आगे बोलने जा ही रहा था कि ” और मैं शहज़ादा सलीम ” पर मेरे ये शब्द होंठों में ही रह गए।

अनारकली बोली,“मुझे क्या मालूम बाबूजी, आप तो मुझे सपने ही दिखा रहे हैं” अनारकली की आँखें अब भी बंद थी वो कुछ सोच रही थी।

“मैं तुम्हें कोई सपना नहीं दिखा रहा बिल्कुल सच कहता हूँ मैं तुम्हें इन दो महीनो में ही कितना चाहने लगा हूँ अगर मेरी शादी नहीं हुई होती तो मैं तुम्हें ही अपनी दुल्हन बना लेता !”

“साहब मैं तो अब भी आपकी ही हूँ !”

मेरा दिल उछलने लगा। मछली फंस गई। मेरा लंड तो इस समय कुतुब मीनार बना हुआ था। एक दम १२० डिग्री पर अगर हाथ भी लगाओ तो टन्न की आवाज आए।

मैंने उसे अपनी बाहों में भर लेना चाहा पर कुछ सोच कर केवल उसकी ठुड्डी को थोड़ा सा उठाया और अपने होंठ उसकी और बढाए ही थे कि उसने अपनी आँखें खोली और मुझे अपनी ओर बढ़ते हुए देख कर अचानक उठ खड़ी हुई। मेरा दिल धक् से रह गया कहीं मछली फिसल तो नहीं जा रही।

“नहीं मेरे शहजादे इतनी जल्दी नहीं। तुम्हारे लिए हो सकता है ये खेल हो या टाइम पास का मसाला हो पर मेरे लिए तो जिन्दगी का अनमोल पल होगा। मैं इतनी जल्दबाजी में और इस तरीके से नहीं गुजारना पसंद करुँगी ”

“प्लीज़ एक बार मेरी अनारकली बस एक बार !” मैं गिड़गिड़ाया। मैं तो अपनी किल्ली ठोक देने पर उतारू था।

पर वो बोली,“सब्र करो मेरे परवाने इतनी भी क्या जल्दी है। आज की रात को हम यादगार बनायेंगे !”

“पर रात में तुम कैसे आओगी ?? तुम्हारे घरवाले ?” मैंने अपनी आशंका बताई।

“वो मुझ पर छोड़ दो। आप नहीं जानते, जब आप टूर पर कई कई दिनों के लिए बाहर जाते हो, मैं दीदी के पास ही तो सोती हूँ मेरे घरवालों को पता है ” अनारकली ने मेरे होंठों पर अंगुली रखते हुए कहा।

मैं गुमसुम मुंह बाए वहीँ खड़ा रह गया। अनारकली चाय बनने रसोई में चली गई।

मैं सोचने लगा कहीं वो मुझे मामू (चूतिया) तो नहीं बना गई ?

ये साला सक्सेना भी एक नम्बर का गधा है। (अरे यार ! हमारा पड़ोसी !). हर सही चीज ग़लत समय पर करेगा। रात को ११ बजे भजन सुनेगा और सुबह सुबह फरीदा खानम की ग़ज़ल। अब भी उसके फ्लैट (हमारे बगलवाले) से डेक पर सुन रहा है_

यूँ ही पहलू में बैठे रहो !

आज …. जाने की जिद ना ….करो !!

पर आज मुझे लगा कि उसने सही गाना सही वक्त पर लगाया है।

आज शुक्रवार का दिन था। ऑफिस में कोई ख़ास काम नहीं था। मैंने छुट्टी मार ली। दिन में अनारकली के लिए कुछ शोपिंग की। मेरा पप्पू तो टस से मस ही नहीं हो रहा था रात के इन्तजार में। एक बार तो मन किया की मुठ ही मार लूँ पर बाद में किसी तरह पप्पू को समझाया “थोड़ा सब्र करना सीखो ”

रात कोई १०.३० बजे अनारकली चुपचाप बिना कॉल बेल दबाये अन्दर आ गई और दरवाजा बंद कर दिया। मैं तो ड्राइंग रूम में उसका इन्तजार ही कर रहा था। एक भीनी सी कुंवारी खुशबू से सारा ड्राइंग रूम भर उठा।

उसके आते ही मैं दौड़ कर उससे लिपट गया और दो तीन चुम्बन उसके गालों होंठो पर तड़ा तड़ ले लिए। वो घबराई सी मुझे बस देखती ही रह गई।

“ओह .. फिर उतावलापन मेरे शहजादे हमारे पास सारी रात पड़ी है जल्दी क्या है ?”

“मेरी अनारकली अब मुझसे तुम्हारी ये दूरी सहन नहीं होती !”

“पहले बेडरूम में तो चलो !”

मैंने उसे गोद में उठा लिया और बेडरूम में आ गया। अब मेरा ध्यान उसकी ओर गया। पटियाला सूट पहने, बालों में पंजाबी परांदा (फूलों वाली चोटी), होंठों पर सुर्ख लाली। मैं तो बस उसे देखता ही रह गया। सूट में टाइट कसे हुए उसके उन्नत उरोज पतली कमर, मोटे नितम्ब मैं अपने आप को काबू में कहाँ रख पाता। मैंने उसे अपनी बाहों में भर लिया। उसने भी अपनी आँखें बंद कर ली।

“मेरी अनारकली !”

“हाँ मेरे शहजादे !”

“मुझे तो विश्वास ही नहीं था कि तुम आओगी। मुझे तो लग रहा है कि मैं अब भी सपना देख रहा हूँ !”

“नहीं मेरे शहजादे ! ये ख्वाब नहीं हकीकत है। ख्वाब तो मेरे लिए हैं !”

“वो क्यों ?”

“मेरा मन डर रहा है कहीं तुम मुझे भूल तो नहीं जाओगे। अनारकली कि किस्मत में तो दीवार में चिनना ही लिखा होता है !”

“नहीं मेरी अनारकली मै तुमसे प्यार करता हूँ तुम्हें कैसे धोखा दे सकता हूँ ” मैंने कह तो दिया पर बाद में सोचा अगर उसने पूछ लिया क्या मधु के साथ ये धोखा नहीं है तो मेरे पास कोई जवाब नहीं होगा। मैंने उससे कहा “अनारकली मैं शादी शुदा हूँ अपनी बीवी को तो नहीं छोड़ सकता पर तुम्हें भी उतना ही प्यार करता रहूँगा जितना मधु से करता हूँ। ”

“मुझे यकीन है मेरे शहजादे !”

अनु जिस तरीके से बोल रही थी मैं सोच रहा था कहीं अनारकली सचमुच ‘मुग़ल-ऐ-आज़म’ तो नहीं देख कर आई है।

अब देरी करना कहाँ की समझदारी थी। मैंने पूरा नाटक करते हुए पास पड़ी एक छोटी सी डिबिया उठाई और उसमें से एक नेकलेस (सोने का) निकाला और अनारकली के गले में डाल दिया। (इस मस्त हिरणी क़यामत के लिए ५-१० हज़ार रुपये की क्या परवाह थी मुझे)

अनारकली तो उसे देखकर झूम ही उठी और पहली बार उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख कर चूम लिए। मैंने उसके कपड़े उतार दिए और अपना भी कुरता पाजामा उतार दिया।

उसने लाइट बंद करने को कहा तो मैंने मना कर दिया। हमारे प्यार का भी तो कोई गवाह होना चाहिए। वो बड़ी मुश्किल से मानी।

मैं सिर्फ़ चड्डी में था। अनारकली ब्रा और पैन्टी में। ये वोही ब्रा और पैन्टी थी जो मैंने उसे १०-१५ दिन पहले लाकर दी थी। वो पूरी तैयारी करके आई थी।

मैं तो उसका बदन देखता ही रह गया। मैंने उसे बाहों में भर लिया और ब्रा के हुक खोल दिए …..

एक दम मस्त कबूतर छलक कर बाहर आ गए, गोरे गोरे छोटे नाज़ुक मुलायम ! एरोला कोई १.५ या २ इन्च का गहरे गुलाबी रंग के चुचूक मटर के दाने जितने।

मैंने उनको मुँह में ले कर चूसना शुरू कर दिया। वो ज़ोर ज़ोर से सीत्कार करने लगी। मैं एक हाथ से एक अनार दबा रहा था और उसके नितम्बों पर कभी पीठ पर घुमा रहा था। उसके हाथ मेरे सिर पर और पीठ पर घूम रहे थे। कोई दस मिनट तक मैंने उसके स्तनों को चूसा होगा। अब मैंने उसकी पैन्टी उतार दी। उसने शर्म के मारे अपने हाथ चूत पर रख लिए।

मैंने कहा- “मेरी रानी ! हाथ हटाओ !”

तो वो बोली- “मुझे शर्म आती है !”

मैंने कहा,“ अगर शर्म आती है तो अपने हाथ अपनी आँखों पर रखो, इस प्यारी चीज़ पर नहीं, अब इस पर तुम्हारा कोई हक नहीं रहा। अब यह मेरी हो गई है !”

“हाँ मेरे शहज़ादे ! अब तो मैं सारी की सारी तुम्हारी ही हूँ !”

मैंने झट से उसके हाथ परे कर दिए। वाह !! क्या कयामत छुपा रखी थी उसने ! पाव रोटी की तरह फ़ूली हुई लाल सुर्ख चूत मेरे सामने थी, बिल्कुल गोरी चिट्टी! झाँटों का नाम निशान ही नहीं, जैसे आज़ ही उसने अपनी झाँट साफ़ की हो। चूत की फ़ांकें संतरे की फ़ांकों जितनी मोटी और रस भरी। अन्दर के होंठ हल्के गुलाबी और कोफ़ी रंग के आपस में जुड़े हुए। चूत का चीरा कोई चार इन्च क गहरी पतली खाई जैसे। चूत का दाना मटर के दाने जितना बड़ा सुर्ख लाल बिल्कुल अनारदाने जैसा। गोरी जांघें संगमरमर की तरह चिकनी। दांई जांघ पर एक तिल। चूत की प्यारी पड़ोसन (गाण्ड) के दर्शन अभी नहीं हुए थे क्योंकि अनारकली अभी लेटी थी और उसके पैर भींचे हुए थे।

मैंने उसके पैरों को थोड़ा फ़ैलाया तो गाण्ड का छेद भी नज़र आया। छेद बहुत बड़ा तो नहीं पर इतना छोटा भी नहीं था, हल्के भूरे रंग का बिल्कुल सिकुड़ा हुआ चिकना चट्ट्। उस छेद की चिकनाहट देख कर मुझे हैरानी हुई कि यह छेद इतना चिकना क्यों है !

बाद में मुझे अनारकली ने बताया था कि वो पूरी तैयारी करके आई थी। उसने अपनी झाँट आज़ ही साफ़ की थी और चूत और गाण्ड दोनों पर उसने मेरी दी हुई खुशबू वाली क्रीम भी लगाई थी।

मैं अपने आप को रोक नहीं पाया और अपने जलते होंठ उसकी गुलाबी चूत की फ़ांकों पर रख दिए। वो जोर जोर से सीत्कारने लगी। उसकी कुँवारी चूत की महक से मेरा तन मन सब सराबोर हो गया। एक चुम्मा लेने के बाद मैंने जीभ से उसकी अन्दर वाली फ़ांकें खोली और अपनी जीभ उसके अन्दर डाल दी।

उसने अपनी दोनों जांघें ऊपर मोड़ कर मेरे गले में कैंची की तरह डाल दी और मेरे सिर के बाल पकड़ लिए। मैं मस्त हुआ उसकी चूत चूसे चाटे जा रहा था। कोई दस मिनट तक मैंने उसकी चूत चाटी होगी। वो मस्त हुई सीत्कार किए जा रही थी और बड़बड़ा रही थी,“ मेरे शहज़ादे ! मेरे सलीम ! साहब जी ! ……”

अब उसके झड़ने का वक्त नज़दीक आ रहा था, वो जोर जोर से चिल्ला रही थी और जोर से चूसो ! और जोर से चूसो ! मज़ा आ रहा है !

मेरा लण्ड चड्डी में अपना सिर धुन रहा था। मैंने एक हाथ से उसके एक संतरे को कस कर पकड़ लिया और उसे मसलने लगा। दूसरे हाथ की तर्ज़नी उंगली से उसकी नर्म चिकनी गाण्ड का छेद टटोलने लगा। जब छेद मिल गया तो मैंने तीन काम एक साथ किए। पहला उसकी एक चूची को मसलना, दूसरा चूत को पूरा मुंह में ले कर जोर से चूसना और तीसरा अपनी एक उंगली उसकी गाण्ड के छेद में डाल दी।

उसका शरीर पहले से ही अकड़ता जा रहा था, उसकी जांघें मेरे गले के गिर्द जोर से लिपटी हुई थी। उसने एक जोर की किलकारी मारी और उसके साथ ही वो झड़ गई। उसकी चूत से कोई दो चम्मच शहद जैसा खट्टा मीठा नमकीन नारियल पानी जैसे स्वाद वाला काम रस निकला जिससे मेरा मुंह भर गया। मैं उसे पूरा पी गया। फ़िर वो शांत पड़ गई। औरत को स्खलित करवाने का यह सबसे बढ़िया तरीका है, समझो ‘ राम बाण ‘ है। मधु को झड़ने में कई बार जब देर लगती है तो मैं यही नुस्खा अपनाता हूँ।

मैंने अपनी चड्डी निकाल फेंकी। मेरा शेर दहाड़े मारने लगा था। आज तो उसका जलाल देखने लायक था। ७” का मोटा गेहुंआ रंग १२० डिग्री में मुस्तैद जंग लड़ने वाले सिपाही की तरह। मैंने अनारकली से उसे प्यार करने को कहा तो वो बोली “नही आज नहीं चूस सकती !” मैंने जब इसका कारण पूछा तो वो बोली “आज मेरा शुक्रवार का व्रत है नहीं तो मैं आपको निराश नहीं करती। मैं जानती हूँ इस अमृत को पीने से आंखों की ज्योति बढ़ती है और पति की उमर, पर क्या करूं ये कुछ खट्टा सा होता है न और शुक्रवार के व्रत में खट्टा नहीं खाया पीया जाता !”


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

मैंने कहा मैं पानी मुंह में नहीं निकालूँगा बस एक बार तुम इसे मुंह में लेकर चूस लो। तो वो मान गई और अपने घुटनों के बल बैठकर मेरा लण्ड चूसने लगी। पहले उसने उसे चूमा फ़िर जीभ फिराई और बाद में अपने मुंह में लेकर चूसने लगी। मेरे लण्ड ने २-३ टुपके प्री-कम के छोड़ ही दिए पर लण्ड चूसने की लज्जत में उसे कुछ पता नहीं चला। जब मुझे लगने लगा कि अब मामला गड़बड़ हो सकता है मैंने अपना लण्ड उसके मुंह से बाहर निकाल लिया।

अब तो बस यू पी, बिहार (चूत और गाण्ड) लूटने का काम रह गया था। मैंने उसे सीधा लेटा दिया। अपनी तर्जनी अंगुली पर थूक लगाया और उसकी पहले से ही गीली चूत में गच्च से डाल दी तो वो चिहुंकी, “ऊईई …. माँ …..”

अब देर करना कहाँ की समझदारी थी मैंने झट से अपना लण्ड उसकी चूत के मुहाने पर रखा और एक जोर का धक्का लगाया। आधा लण्ड गप्प से उसकी रसीली चूत में चला गया। एक दो झटकों के साथ ही मेरा पूरा का पूरा ७” का लण्ड उसकी चूत में फिट हो गया। वो थोड़ा सा चिहुंकी पर बाद में सीत्कार के साथ आ …. उईईई ….. आँ ….. करने लगी। मुझे शक हुआ कहीं उसकी चूत पहले से चुदी तो नहीं है?

मैंने उसे पूछ ही लिया,“क्यों मेरी अनारकली ! ज्यादा दर्द तो नहीं हुआ ?”

वो मुस्कराते हुए बोली “मैं जानती हूँ कि आप क्या पूछना चाहते हैं ?”

“क्या ?”

“कि मेरी सील टूटने पर खून क्यों नहीं निकला और पहली बार लण्ड लेने पर भी मैं चीखी चिल्लाई क्यों नहीं?”

“हूँ …. हाँ ”

तो सुनिए “मेरी चूत और गाण्ड दोनों ही अन-चुदी और कुंवारी हैं और आज पहला लण्ड आपका ही उसके अन्दर गया है। पर मेरी चूत की सील पहले से ही टूटी है?”

“वो कब …. ये कैसे हुआ?” सुनकर मुझे बड़ी हैरानी हुई।

“दर असल कोई ९-१० महीने पहले एक दिन बापू ने अम्मा को बहुत बुरी तरह चोदा था। उस रात मैं और छोटे भाई बहन एक कोने में दुबके पड़े थे। हमारे घर में एक ही कमरा है न।

बापू बता रहे थे की उन्होंने कोई ११ नम्बर की गोली खाई है। (वो वियाग्रा की बात कर रही थी)

उनका गधे जैसा लण्ड कोई ८-९ इंच का तो जरूर होगा। अम्मा की दो तीन बार जमकर चुदाई की और एक बार गाण्ड मार कर उसे अधमरी करके ही उन्होंने छोड़ा था। ये जो नया कैलेंडर आया है शायद उसी रात का कमाल है। मैं जाग रही थी। मैंने पहली बार अपनी चूत में अंगुली डाल कर देखी थी। मुझे बहुत मज़ा आया। जब मैं बहुत उत्तेजित हो गई तो मैं पानी पीने के बहाने के बाहर आई और रसोई में जाकर वहाँ रखी एक मोटी ताज़ी मूली पड़ी देखी जो बापू के लण्ड के आकार की लग रही थी। मैंने उसे थोड़ा सा आगे से तोड़ा और सरसों का तेल लगाकर एक ही झटके में अपनी कुंवारी चूत में डाल दिया। मेरी दर्द के मारे चीख निकल गई और चूत खून से भर गई। मुझे बहुत दर्द हुआ। मैं समझ गई मेरी सील टूट गई है .” उसने एक ही साँस में सब कुछ बता दिया था।

फ़िर थोड़ी देर बाद बोली “अरे रुक क्यों गए धक्के क्यों बंद कर दिए?”

मैंने दनादन ४-५ धक्के कस कर लगा दिए। अब तो मेरा लण्ड दुगने उत्साह से उसे चोद रहा था। क्या मक्खन मलाई चूत थी। बिल्कुल मधु की तरह। सील टूटने के बाद भी एक दम कसी हुई।

उसकी चुदाई करते मुझे कोई २० मिनट तो हो ही गए थे। उसकी चूत इस दौरान २ बार झड़ गई थी और अब मेरा शेर भी किनारे पर आ गया था। मैंने उसे बताया कि मैं झड़ने वाला हूँ तो वो बोली अन्दर ही निकाल दो। मैंने उससे कहा कि अगर कोई गड़बड़ हो गई तो क्या होगा?

तो वो बोली “मेरे शहजादे मैं तो कब से इस अमृत की प्यासी हूँ अगर बच्चा ठहर गया तो भी कोई बात नहीं, १५ दिनों बाद गौना होने वाला है। तुम्हारे प्यार की निशानी मान कर अपने पास रख लूंगी, किसी को क्या पता चलेगा !”

और फ़िर मैंने ८-१० करारे झटके लगा दिए। मेरे लण्ड ने जैसे ही पहली पिचकारी छोड़ी ड्राइंग रूम में लगी दीवाल घड़ी ने भी टन्न टन्न १२ घंटे बजा दिए और मेरे लण्ड से भी दूसरी तीसरी चौथी ………… पिचकारियाँ निकलती चली गई। अनार अब मेरी यानी प्रेम की अनारकली बन चुकी थी।

हम लोग कोई १० मिनट इसी तरह पड़े रहे।

फ़िर अनारकली बोली “मेरे शहजादे आपने मुझे अपनी अनारकली तो बना दिया पर मेरी मांग तो भरी ही नहीं?”

मैंने अपना अंगूठा उसकी चूत में घुसा कर अपने वीर्य और चूतरस में डुबो कर उसकी मांग भर दी और उसके होंठों पर एक चुम्बन ले लिया। उसने भी नीचे झुककर मेरे पाऊँ छू लिए और मेरे गले से लिपट गई।

फ़िर हम उठाकर बाथरूम में गए और सफाई करी। सफाई करते समय मैंने देखा था उसकी चूत फूल सी गई थी और बाहर के होंठ भी सूज कर मोटे हो गए थे।

! यानि उम्मीद से दुगने ! !

उसने मेरे लण्ड पर एक चुम्मा लिया और मैंने भी उसकी चूत पर एक चुम्मा लेकर उसका धन्यवाद किया।

वो एक बार फ़िर मेरा लण्ड लेकर चूसने लगी। ५ मिनट चूसने के बाद मेरा लण्ड फ़िर खड़ा हो गया। मैंने उससे कहा “डारलिंग अब मैं तुम्हें घोड़ी बनाकर चोदना चाहता हूँ !”

तो वो बोली “अब घोड़ी बनाओ या कुतिया क्या फर्क पड़ता है पर पानी अन्दर मत छोड़ना ”

मैंने हैरानी से पूछा “क्यों एक बार तो अन्दर ले ही चुकी हो ”

तो वो बोली “ये अन्दर की बात है तुम नहीं समझोगे !”

मुझे बड़ी हैरानी हुई। मैंने उसे घोड़ी बनाकर जल्दी से लण्ड अन्दर डाला और १५-२० धक्के लगा दिए। उसके गोल गोल सिंदूरी आमों जैसे उरोज के बीच फंसा सोने का लोकेट ऐसे लग रहा था जैसे घड़ी का पेंडुलम। अनारकली तो मस्त हुई आह …. उह्ह …. उईईइ …. करती जा रही थी। मैं जोर जोर से धक्के लगा रहा था। उसकी गाण्ड ऐसे खुल और बंद हो रही थी जैसे कोई सीटी बजा रहा हो मैंने अपनी एक अंगुली पर थूक लगाया और उसकी गाण्ड में पेल दी।

अनारकली एक झटके से अलग हो गई और बोली बस अब खेल खत्म ! और वो खड़ी हो गई। उसने एक बार मेरे लण्ड को फ़िर धोया और चूम लिया।

अब मैंने उसे गोद में उठाया और फ़िर बेड पर लाकर लिटा दिया। मैं बेड पर सिराहने की ओर बैठ गया और अनारकली मेरी गोद में सर रख कर लेट गई। मैंने पूछा “मेरी जान कैसी लगी पहली चुदाई?”

“जैसा मधु दीदी ने बताया था बिल्कुल वैसी ही रही !”

अब चौंकने की बारी मेरी थी। “क्या कह रही हो? मधु को कैसे? पता क्या …. मधु …. ??”

“अरे घबराओ नहीं मेरे सैंया वो बेचारी तो सपने में भी तुम्हारे बारे में ऐसा नहीं जान सकती और सोच सकती !”

“तो फ़िर ”

“दर असल दीदी मेरे से कुछ नहीं छिपाती। वो तो मुझे अपनी छोटी बहन ही मानती हैं और जब से उन्हें मेरे गौने के बारे में पता लगा है उन्होंने मुझे चुदाई की सारी ट्रेनिंग देनी भी शुरू कर दी है।”

“क्या क्या बताया उसने?” मैंने पूछा

“सब कुछ ! सुहागरात के बारे में ! चुदाई के आसनों के बारे में ! चूत लण्ड और गाण्ड के बारे में !”

“अरे क्या उसने साफ़ साफ़ इनका नाम लिया?”

“नहीं उन्होंने तो पता नहीं कोई ‘ काम-दंड ‘,’ रस-कूप ‘ और ‘ प्रेम-द्वार ‘, ‘ प्रेम मिलन ‘ पता नहीं क्या क्या नाम ले रही थी?”

“तो फ़िर तुम क्यों इनका वैसे ही नाम नहीं लेती?”

“अरे बाबू क्या फर्क पड़ता है? चुदाई को प्रेम मिलन कहो या मधुर मिलन। छुरी खरबूजे पर पड़े या खरबूजा छुरी पर मतलब तो खरबूजे को कटना ही है। अब लण्ड को काम-दंड बोलो या चूत को बुर या प्रेम-द्वार, चुदना और फटना तो चूत को ही पड़ेगा ना? ये तो पढ़े लिखे लोगों का ढकोसला है। अपनी पत्नी या प्रेमिका को अपने शब्दजाल में फंसा कर उसे खुश करने का बहाना है कि वो उसे प्यार करता है मतलब तो चुदाई से ही है ना। अपने नंगेपन के ऊपर परदा डालने का एक तरीका है। क्या किसी कड़वी गोली के ऊपर शहद की चाशनी लगा देने से उस दवाई का असर ख़त्म हो जाएगा?”


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

अनारकली का दर्शन शास्त्र (फलसफ़ा) सुनकर मैं तो हक्का बक्का रह गया। मेरा सेक्स का सारा ज्ञान इसके आगे जैसे फजूल था। मैंने फ़िर उससे पूछा “उसने और क्या क्या बताया है?”

तो वो बोली,“बहुत कुछ …. वो तो मेरी गुरु है !”

ऐसा नहीं है कि मैं चुपचाप उसकी बातें ही सुन रहा था। मैं उसकी पीठ पर हाथ फेर रहा था और वो मेरे लण्ड से खेल रही थी। उसने पाँव ऊपर उठा रखे थे और अपने नितम्बों पर धीरे धीरे मार रही थी। जब भी उसकी एड़ी नितम्ब को छूती तो उसके नितम्ब दब जाते और जोर से हिलते। मैंने जब उसके गोल गोल नितम्बों की ओर देखा और मेरा मन उसकी नरम नाज़ुक गुलाबी गाण्ड मारने को उतावला हो गया। ख़याल आते ही मेरे लण्ड ने एक ठुमका लगाया और फ़िर से चुस्त दरुस्त हो गया। अनार ने तड़ से एक चुम्मा उस पर ले ही लिया और मैंने चूत कि सुनहरी पड़ोसन के मुंह में अपनी एक अंगुली डाल दी।

अनार कली थोड़ी सी चिहुंकी “ऊईई माँ …… क्या कर रहे हो ?”

मैंने उसके होंठों पर एक चुम्मा ले लिया। मैं अभी उसे गाण्ड मरवाने के लिए कहने की सोच ही रहा था की वो बोल पड़ी “दीदी सच कहती थी !”

“क्या?”

“कि सब मर्द एक जैसे होते हैं !”

“क्या मतलब?”

“वो आपके बारे में भी एक बात कहती थी !”

“वो क्या?”

“कि तुम चूत भले ही मारो या न मारो पर गाण्ड के बहुत शौकीन हो। मैं जानती हूँ तुम गाण्ड मारे बिना नहीं मानोगे। पर मेरे शहजादे मैं उसकी भी पूरी तैयारी करके आई हूँ !”

मैं तो हक्का बक्का बस उसे देखता ही रह गया। मधु बेचारी को क्या पता कि उसने कितनी बड़ी गलती की है अनारकली को सब कुछ समझाकर। पर चलो ! मेरे लिए तो बहुत ही अच्छी बात है।

मधु डार्लिंग ! इसी लिए तो तुम को मैं इतना प्यार करता हूँ। गुरूजी ठीक कहते हैं गीता में भगवान् कृष्ण ने कहा है “हे अर्जुन ! इस ज्ञान को केवल पात्र मनुष्य को ही देना चाहिए !”

अनारकली से ज्यादा अच्छा पात्र भला कौन हो सकता था। अब साड़ी बातें मेरी समझ में आ गई कि ये दोनों अन्दर क्या खुसर फुसर करती रहती हैं।

“तो क्या तुम तैयार हो ?”

“नेकी और पूछ पूछ पर एक ध्यान रखना मेरी गाण्ड में अब तक दीदी कि अंगुली के सिवा कोई दूसरी चीज नहीं गई है एक दम कोरी और अनछुई है। प्यार से करना और धक्के जोर से नहीं समझे मेरे एस .एस .एस। (ट्रिपल एस)”

“ये एस .एस .एस। क्या होता है?”

“शौदाई शहजादा सलीम ”

मेरी हँसी निकल गई। शौदाई पागल प्रेमी को कहते हैं। फ़िर मैंने उससे पूछा “पर तुम तो कह रही थी कि तुमने इसकी भी तैयारी कर रखी है फ़िर डर कैसा। प्लीज़ बताओ क्या क्या तैयारी की है ?”

“दीदी बता रही थी कि गाण्ड रानी की महिमा बहुत बड़ी है। चूत तो दो चार बार चुदने से ढीली हो जाती है पर गाण्ड मर्जी आए जितनी मारो लो उतनी ही टाइट रहती है। हाँ लगातार मारते रहने से उसके चारों और काला घेरा जरूर बन जाता है। गाण्ड मरवाने से नितम्ब भी भारी और सुंदर बनते हैं। गाण्ड मारने और मरवाने का अपना ही सुख और आनंद है। पहले पहले सभी औरतों को डर लगता है पर एक बार गाण्ड मरवाने का चस्का लग जाए तो फ़िर रोज गाण्ड मरवाने को कहती है। गाण्ड मरवाने से पति और प्रेमी का प्यार बढ़ता है !”

“पर मधु तो मुझे से गाण्ड मरवाने में बहुत नखरे करती है ”

“अरे बाबू वो तो बस तुम्हें अपने ऊपर लट्टू करने का नाटक है अगर एक बार मांगने से ही गाण्ड मिल जाए तो वो मज़ा नहीं आता। जिस चीज को जितना मना करो उतना ही ज्यादा करने को मन करता है !”

“ओह …..” साली मधु की बच्ची मेरे साथ इतना नाटक। फ़िर मैंने कहा “और वो तैयारी वाली बात?”

“जो लड़की या औरत पहली बार गाण्ड मरवाने जा रही उनके लिए एक टोटका दीदी ने बताया था !”

“हूँ …. क्या ?”

“लड़की को उकडू बैठ जाना चाहिए और बोरोलीन या कोई और क्रीम की मटर के दाने जितनी मात्रा अपनी अंगुली पर लगा कर धीरे से गाण्ड के छेद पर लगा लो फ़िर उठकर खड़ी हो जाओ। अब फ़िर नीचे उसी तरह बैठ कर अपनी गाण्ड को छोटे शीशे में देखो जितनी दूर वो क्रीम फ़ैल गई है अगर लण्ड की मोटाई उतनी ही है या कम, तो डरने की कोई बात नहीं है उतना मोटा लण्ड गाण्ड रानी आसानी से झेल लेगी। हाँ एक बात और जिस दिन गाण्ड मरवाने का हो उस दिन दिन में २-३ बार कोई क्रीम वैसलीन या तेल जरूर अपनी महारानी के अन्दर लगा लेना चाहिए !”

“अरे मेरी प्यारी अनारकली तू तो सचमुच मेरी भी गुरु बन गई है मैं तो ऐसे ही अपने आप को प्रेम (लव/सेक्स) गुरु समझता रहा हूँ !”

अब स्वर्ग के दूसरे द्वार का उदघाटन करने का वक्त आ गया था। मैंने अनारकली को घुटनों के बल कुतिया स्टाइल में कर दिया। वो मेरी और देखकर मुस्कराई और फ़िर मेरे होंठों पर एक चुम्मा लेकर बोली “वैसलीन लगना न भूलना !”

“ठीक है मेरी गुरूजी !”

अनारकली की मस्त गुलाबी गाण्ड का छेद अब ठीक मेरे सामने था। उसका छोटा सा गुलाबी छेद खुल और सिकुड़ रहा था। मैंने प्यार से उस पर अपनी अंगुली फिराई और अपनी जीभ की नोक उस पर टिका कर ऊपर से नीचे घुमाई। अनारकली की किलकारी हवा में गूंज उठी। मुझे लगा कि उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया है। फ़िर मैंने बोरोलीन की ट्यूब उठाई और उसका ढक्कन खोल कर उसकी टिप अनारकली की गाण्ड के छेद के अन्दर थोड़ी सी फंसा कर आधी ट्यूब अंदर खाली कर दी।

अनारकली थोड़ा सा कुनमुनाते हुए बोली “ओह …. क्या कर रहे हो गुदगुदी होती है !”

“बस हो गया मेरी जान !” अब मैंने अपने लण्ड पर भी क्रीम लगाई और अपने लण्ड का सुपारा उसकी गाण्ड के खुलते बंद होते छेद पर टिका दिया।

अनारकली शायद हनुमान चालीसा पढने लगी।

मैंने धीरे से एक धक्का लगाया। लण्ड अन्दर जाने के बजाय फिसल गया। एक दो धक्के और लगाए पर लण्ड कभी ऊपर फिसल जाता कभी नीचे वाले छेद में घुस जाता पर गाण्ड के अन्दर नहीं गया। मैं अब तक १०-१२ लड़कियों और औरतों की गाण्ड मार चुका हूँ पर पहले कभी ऐसा नहीं हुआ। चलो पहले धक्के में तो लण्ड कई बार गाण्ड के अन्दर नहीं जाता पर ऐसा क्या जादू है अनारकली की गांड में कि वो लण्ड को अन्दर नहीं जाने दे रही। माना कि उसकी गांड कि मोरी बहुत टाइट थी, कोरी और अन-चुदी थी पर ऐसा क्या था कि मेरा लण्ड पूरा खड़ा होने के बाद भी अन्दर नहीं जा रहा था।


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

अनारकली मेरी हालत पर हंसे जा रही थी। फ़िर वो बोली “क्या हुआ मेरे शहजादे प्रेम ?”

“वो …. वो ….” मैं तो कुछ बोलने की हालत में ही नहीं था। मैंने एक धक्का और लगाया पर वोही ढाक के तीन पात।

फ़िर अनारकली बोली- चलो अब एक बार और कोशिश करो। इस बार जैसे ही मैंने उसके छेद पर अपना लण्ड टिका कर जोर का धक्का मारा तो कमाल ही हो गया, मेरा लण्ड ५ इंच तक उसकी गांड में गच्च से घुस गया। अनारकली की दर्द के मारे भयंकर चीख निकल गई,“उई इ …. माँ…. आया ….. मर …. गई ईई …………..!”

और वो चीखते हुए झटके के साथ पेट के बल गिर पड़ी और मैं उसके ऊपर। जैसे ही मैं ऊपर गिरा मेरा बाकी का लण्ड भी अन्दर घुस गया। उसकी आंखों से आंसू निकल रहे थे। मैं चुपचाप उसके ऊपर पड़ा रहा।

कोई ४-५ मिनट के बाद वो बोली,“कोई ऐसे भी गांड मारी जाती है। मैंने आपको बताया था मेरी गांड अभी कोरी है प्यार से करना पर आप तो अपने मज़े के लिए लड़की को मार ही डालते हो !”

“ओह मुझे माफ़ कर दो मेरी रानी गलती हो गई। सॉरी प्लीज़ !” मैंने उसके गालों को चूमते हुए कहा। अब तक वो कुछ सामान्य हो गई थी।

“अब डाल दिया है तो चलो अपना काँटा निकाल ही लो। लूट लो इस स्वर्ग के दूसरे दरवाजे का मज़ा भी !” अनारकली बोली। मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने चालू कर दिए पर संभल कर।

“अनार एक बात समझ नहीं आई?”

“वो क्या?”

“पहले गांड के अन्दर क्यों नहीं जा रहा था। जब तुमने कहा तब कैसे अन्दर चला गया?”

“असल में मैंने ज्यादा समझदारी दिखाई और तुम्हें थोड़ा तड़फाने के लिए मैंने अपनी गांड को अन्दर भींच लिया था। तेल और चिकनाई लगी होने के कारण लण्ड इधर उधर फिसल रहा था। जब मैंने तुम्हें धक्का लगाने को कहा उस वक्त मैंने अपनी मोरी ढीली छोड़ कर बाहर की ओर जोर लगाया था। मुझे क्या पता था कि तुम तो निरे अनाड़ी ही निकलोगे जैसे कभी गांड मारी ही ना हो और गांड रानी कि महिमा जानते ही नहीं !”

“ओह .. माफ़ कर दो गुरूजी अब गलती नहीं होगी। तुमसे गांड मारना सीख लूँगा। वैसे एक बात बताओ तुम्हें ये ज्ञान भी मधु ने ही दिया है क्या ?”

“नहीं ये ज्ञान तो जब मैं और दीदी पिछले रविवार आश्रम गए थे वहां गुरु माताजी ने दिया था।”

अब मेरे समझ में सब कुछ आ गया कि अधकचरे ज्ञान का कितना बड़ा नुकसान होता है। इसी लिए गुरूजी कहते हैं ज्ञान पात्र को ही देना चाहिए।”

अनारकली अब फ़िर कुतिया स्टाइल में आ गई थी। मैं धक्के पर धक्के मर रहा था। उसकी गाण्ड एकदम रवाँ हो गई थी। लण्ड पूरा अन्दर बाहर हो रहा था। अनारकली को भी मज़ा आने लगा था। जब मेरा लण्ड बाहर आता तो वो उसे अन्दर की ओर खींचती और जब मैं अन्दर घुसाता तो वो बाहर की ओर जोर लगाती। वो भी “आह ह …. उ उह ह उइ इ इ ई…. वाह मेरे राज़ाऽऽऽ…. मेरे शहज़ादे और जोर से …. आह हऽऽ….. उई इ ई माँ…..” करती जा रही थी और मेरे आनन्द क तो पारावार ही नहीं था। मैंने मधु के अलावा कई लड़कियों और औरतों की गाण्ड मारी है पर सबसे खूबसूरत और कसी गाण्ड तो अनारकली की थी। रजनी (मधु की कज़न) और सुधा से भी ज्यादा।

गाण्ड का मज़ा लेते हमें कोई बीस मिनट हो गए थे। इस बीच मैं उसकी चूत में भी उंगली करता रहा और उसके संतरे भी भींचता रहा जिससे वो दो बार झड़ चुकी थी। अब मेरा भी निकलने वाला था। अनारकली की कमर को दोनों हाथों से पकड़ कर अन्तिम झटके लगाने शुरू कर दिए। मैंने अनारकली से कहा,“ हिन्दुस्तान आज़ाद होने वाला है मेरी ज़ान !”

तो वो बोली,“ कोई बात नहीं मैं भी किनारे पर हूँ !” और एक मीठी सीत्कार के साथ मेरे लण्ड ने पिचकारियाँ छोड़नी शुरू कर दी। अनारकली की गाण्ड मेरे वीर्य से लबालब भर गई और मेरा तन मन आत्मा सब आनन्द से सराबोर हो गए।

हम दोनों ने एक बार फ़िर बाथरूम में जाकर सफ़ाई की और नंगे ही बैड पर लेट गए। अनारकली मेरी गोद में सिर रखे मेरे लण्ड की ओर मुँह किए लेटी थी। उसने मेरे लण्ड से फ़िर खेलना शुरू कर दिया। मैं उसके गाल और संतरों को सहला रहा था।

मैंने पूछा,“अनारकली एक बात बताओ- तुम मुझसे चुदवाने के लिए इतनी जल्दी कैसे तैयार हो गई?”

“ जल्दी कहाँ ! मुझे पूरे दो महीने लगे हैं तुम्हारे जैसे शहज़ादे को तैयार करने में !”

“क्या मतलब ?” अब मेरे चौंकने की बारी थी।

“अरे मेरे भोले राज़ा मैं तो पहले तुम्हें डी पी और डी डी ही समझती रही !” वो हंसते हुए बोली।

डी पी…. डी डी…. ये क्या बला है?” मैंने हंसते हुए पूछा।

“डी पी मतलब ढिल्लू प्रसाद (लल्लू) और डी डी मायने अपनी पत्नी का देव दास !” वो हंसते हुए बोली। “अखबार गोद में रखना तो आपने बाद में सीखा था !” उसने मेरी ओर आंख मार दी।

मैं समझ गया मधु ने मेरे पत्नी भक्त होने के बारे में बताया होगा कि मैं तो दुनिया की सबसे सुन्दर अप्सरा मधु के अलावा किसी की ओर देखता ही नहीं। मेरी जिन्दगी में उसके अलावा और कोई लड़की आइ ही नहीं। बेचारी मधु !!!

“पर मेरी बात का जवाब तो दिया ही नहीं !”

“ वो दर असल दीदी ने मेरा हाथ देख कर बताया था कि मुझे दो पतियों का योग है यानि मुझे दो पतियों का प्यार मिलेगा। यह देखो ……..” और उसने अपना बाएँ हाथ की मुट्ठी बंद करके कनिष्ठा (छोटी) उंगली के ऊपर बनी दो लाईन दिखाई। “मैंने अपनी चूत और गाण्ड बहुत सम्भाल कर रखी हैं एकदम कोरी और अनछुई। मैं तो चाहती थी कि अपना सब कुछ सुहागरात को अपने पति को ही समर्पित करूँ पर दीदी ने जब बताया कि मुझे दो पति मिलेंगे तो मैंने तय किया कि मेरे किसी भी पति के साथ कोई अनहोनी ना हो। इसीलिए मैंने आपको अपना पहला पति, अपना शहज़ादा मान लिया और चुदने को तैयार हो गई। और जहाँ तक गाण्ड मरवाने का सवाल है पता नहीं आपने देखा या नहीं, मेरी दाहिनी जांघ पर तिल है जैसा मधु दीदी और एश्वर्या राय के भी है। मैंने एक फ़िल्म में ध्यान से देखा था जिसमें उसने बिकिनी पहनी थी। ऐसी औरतों को गाण्ड मरवाने का योग भी होता है।”

“चलो मधु और तुम्हारा तो ठीक है पर एश्वर्या राय के बारे में तुम यकीन के साथ कैसे कह सकती हो? वो साला अभिषेक तो एकदम लल्लू है। वो क्या गाण्ड मारेगा?”

“तुम क्या सोचते हो सल्लू मियाँ ने बिना उसकी गाण्ड मारे छोड़ दिया होगा?” वो खिलखिला कर हंस पड़ी।

मैं हैरान हुआ उसे देखता रह गया। मुझे लगा जैसे वो १८ साल की एक अदना सी नौकरानी नहीं ५ किलो आर डी एक्स मेरे सामने पड़ा है। पता नहीं मधु ने इसे चुदाई की पूरी पी एच डी ही करवा दी है। वो मेरा लण्ड चूसे जा रही थी जो अब फ़िर फ़ुफ़कारें मारने लगा था।

“एक बात और बताऊँ?”

“नहीं मेरी अम्मा …. और कुछ नहीं !” मैंने कहा। पता नहीं ये क्या बम फ़ोड़ दे।

अभी तो मुझे प्रेम की अनारकली कह रहे थे। अब अम्मा कैसे हो गई?”

“अच्छा मेरी अनारकली, मेरी शहज़ादी ,मेरी रानी, मेरी प्यारी, मेरी प्रेम गुरू ….” और मैंने एक चुम्मा उसके गालों और होंठों पर ले लिया। मैं अपने आप को बड़ा शिकारी समझ रहा था पर अब लगता था कि मैं तो शिकार हूँ और अनारकली एक कुशल शिकारी है। मेरी हालत तो ऐसी हो रही थी जैसे मकड़ी खुद अपने ज़ाल में फ़ंस गई हो।

“पर बात तो सुननी ही पड़ेगी !” उसने कहा।

“अच्छा चलो बताओ!” मैंने उसके गालों और उरोज़ों पर अपने हाथ फ़िराने लगा और अपनी आंखें बंद कर ली। अनारकली के चूसने के कारण मेरा लण्ड फ़िर से पत्थर की तरह सख्त हो गया था।

“वो….. वो…. कई बार खड़े लण्ड को धोखा भी हो जाता है।”

“खड़े लण्ड का धोखा….. वो क्या होता है ????”

“अरे मेरे एस एस एस , जब लण्ड लोहे के डण्डे की तरह खड़ा हो और एक हसीन चूत और गाण्ड उसके सामने नंगी लेटी हो और उसकी चुदाई ना की जाए तो बेचारे लण्ड के साथ तो धोखा ही होगा ना ! वो फ़िर खुदकुशी ही करेगा ना ???” उसने आँख मारते हुए कहा और जोर से हंस पड़ी।

मैं पहले तो कुछ समझा नहीं फ़िर मैंने उसे जोर से अपनी बाहों में भींच लिया और उसके होंठ इतने जोर से काटे कि उसका खून ही निकल आया। उसने मेरा लण्ड अपनी चूत में इस तरह बंद कर लिया जैसे सलीम की अनारकली की तरह उसे दीवार में चिन दिया गया हो।


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

दो नम्बर का बदमाश



बचपने से जब भी ज़ोरों की बारिश होती या ज़ोर की बिजली कड़कती थी तो मैं डर के मारे घर में दुबक जाया करता था। पर उस रात की बारिश ने मुझे रोमांच से लबालब भर दिया था। आज भी जब ज़ोरों की बारिश होती है, और बिजली कड़कती है, मुझे एक शेर याद आ जाता है:

ऐ ख़ुदा इतना ना बरस कि वो आ ना पाएँ !
आने के बाद इतना बरस कि वो जा ना पाएँ !!

जून महीने के आख़िरी दिन चल रहे थे। मधु (मेरी पत्नी, मुधर) गर्मियों की छुट्टियों में अपने मायके गई हुई थी। मैं अकेला ड्राईंग रूम मे खिड़की के पास बैठा मिक्की के बारे में ही सोच रहा था। (मिक्की मेरे साले की लड़की है)। पिछले साल वह एक सड़क-दुर्घटना का शिकार हो गई थी और हमें रोता-बिलखता छोड़ कर चली गई थी। सच पूछो तो पिछले एक-डेढ़ साल में कोई भी दिन ऐसा न बीता होगा कि मैंने मिक्की को याद नहीं किया हो। वो तो मेरा जैसे सब कुछ लूट कर ही ले गई थी। मैं उसकी वही पैन्टी और रेशमी रुमाल हाथों में लिए बैठा उसकी याद में आँसू बहा रहा था। हर आहट पर मैं चौंक सा जाता और लगता कि जैसे मिक्की ही आ गई है।

दरवाजे पर जब कोई भी आहट सी होती है तो लगता है कि तुम आई हो
तारों भरी रात में जब कोई जुगनू चमकता है लगता है तुम आई हो
उमस भरी गर्मी में जब पुरवा का झोंका आता है तो लगता है तुम आई हो
दूर कहीं अमराई में जब भी कोई कोयल कूकती है लगता है कि तुम आई हो !!

उस दिन रविवार था। सारे दिन घर पर ही रहा। पहले दिन जो बाज़ार से ब्लू-फिल्मों की ४-५ सीडी लाया था उन्हें कम्प्यूटर में कॉपी किया था। एक-दो फ़िल्में देखी भी, पर मिक्की की याद आते ही मैंने कम्प्यूटर बन्द कर दिया। दिन में गर्मी इतनी ज्यादा कि आग ही बरस रही थी। रात के कोई १० बजे होंगे। अचानक मौसम बदला और ज़ोरों की आँधी के साथ हल्की बारिश शुरु हो गई। हवा के एक ठंडे झोंके ने मुझे जैसे सहला सा दिया। अचानक कॉलबेल बजी और लगभग दरवाज़ा पीटते हुए कोई बोला, “दीदीऽऽऽ !! … जीजूऽऽऽ.. !! दरवाज़ा जल्दी खोलो… दीदी…!!!?” किसी लड़की की आवाज थी।

मिक्की जैसी आवाज़ सुनकर मैं जैसे अपने ख़्यालों से जागा। इस समय कौन आ सकता है? मैंने रुमाल और पैन्टी अपनी जेब में डाली और जैसे ही दरवाज़े की ओर बढ़ा, एक झटके के साथ दरवाज़ा खुला और कोई मुझ से ज़ोर से टकराया। शायद चिटकनी खुली ही रह गई थी, दरवाज़ा पीटने और ज़ोर लगाने के कारण अपने-आप खुल गया और हड़बड़ाहट में वो मुझसे टकरा गई। अगर मैंने उसे बाँहों में नहीं थाम लिया होता तो निश्चित ही नीचे गिर पड़ती। इस आपा-धापी में उसके कंधे से लटका बैग (लैपटॉप वाला) नीचे ही गिर गया। वो चीखती हुई मुझसे ज़ोर से लिपट सी गई। उसके बदन से आती पसीने, बारिश और जवान जिस्म की खुशबू से मेरा तन-मन सब सराबोर होता चला गया। उसके छोटे-छोटे उरोज मेरे सीने से सटे हुए थे। वो रोए जा रही थी। मैं हक्का-बक्का रह गया, कुछ समझ ही नहीं पाया।

कोई २-३ मिनटों के बाद मेरे मुँह से निकला “क्क..कौन… अरे.. नन्न्नन.. नि.. निशा तू…??? क्या बात है… अरे क्या हुआ… तुम इतनी डरी हुई क्यों हो?” ओह ये तो मधु की कज़िन निशा थी। कभी-कभार अपने नौकरी के सिलसिले में यहाँ आया करती थी, और रात को यहाँ ठहर जाती थी। पहले मैंने इस चिड़िया पर ध्यान ही नहीं दिया था।

आप ज़रूर सोच रहे होंगे कि इतनी मस्त-हसीन लौण्डिया की ओर मेरा ध्यान पहले क्यों नहीं गया। इसके दो कारण थे। एक तो वो सर्दियों में एक-दो बार जब आई थी तो वह कपड़ों से लदी-फदी थी, दूसरे उसकी आँखें पर मोटा सा चश्मा। आज तो वह कमाल की लग रही थी। उसने कॉन्टैक्ट लेंस लगवा लिए थे। कंधों के ऊपर तक बाल कटे हुए थे। कानों में सोने की पतली बालियाँ। जीन्स पैन्ट में कसे नितम्ब और खुले टॉप से झलकते काँधारी अनार तो क़हर ही ढा रहे थे। साली अपने-आप को झाँसी की शेरनी कहती है पर लगती है नैनीताल या अल्मोड़ा की पहाड़ी बिल्ली।

ओह… सॉरी जीजू… मधु दीदी कहाँ हैं?… दीदी… दीदी…” निशा मुझ से परे हटते हुए इधर-उधर देखते हुए बोली।

“ओह दीदी को छोड़ो, पहले यह बताओ तुम इतनी रात गए बारिश में डरी हुई… क्या बात है??”

“वो… वो एक कुत्ता…”

“हाँ-हाँ, क्या हुआ? तुम ठीक हो?”

निशा अभी भी डरी हुई खड़ी थी। उसके मुँह से कुछ नहीं निकल रहा था। मैंने दरवाज़ा बन्द किया और उसका हाथ पकड़ कर सोफ़े पर बिठाया, फिर पूछा, “क्या बात है, तुम रो क्यों रही थीं?”

जब उसकी साँसें कुछ सामान्य हुई तो वह बोली, “दरअसल सारी मुसीबत आज ही आनी थी। पहले तो प्रेज़ेन्टेशन में ही देर हो गई थी, और फिर खाना खाने के चक्कर में ९ बज गए। कार भी आज ही ख़राब होनी थी। बस-स्टैण्ड गई तो आगरा की बस भी छूट गई।” शायद इन दिनों उसकी पोस्टिंग आगरा में थी।

मैं इतना तो जानता था कि वह किसी दवा बनाने वाली कम्पनी में काम करती है और मार्केटिंग के सिलसिले में कई जगह आती-जाती रहती है। पर इस तरह डरे हुए, रोते हुए हड़बड़ा कर आने का कारण मेरी समझ में नहीं आया। मैंने सवालिया निगाहों से उसे देखा तो उसने बताया।

“वास्तव में महाराजा होटल में हमारी कम्पनी का एक प्रेज़ेन्टेशन था। सारे मेडिकल रिप्रेज़ेन्टेटिव आए हुए थे। हमारे दो नये उत्पाद भी लाँच किए गए थे। कॉन्फ्रेन्स ९ बजे खत्म हुई और खाना खाने के चक्कर में देर हो गई। वापस घर जाने का साधन नहीं था। यहाँ आते समय रास्ते में ऑटो ख़राब हो गई। इस बारिश को भी आज ही आना था। रास्ते में आपके घर के सामने कुत्ता सोया था। बेख्याली में मेरा पैर उसके ऊपर पड़ गया और वह इतनी ज़ोर से भौंका कि मैं डर ही गई।” एक साँस में निशा ने सब बता दिया।

“अरे कहीं काट तो नहीं लिया?”

“नहीं काटा तो नहीं…! दीदी दिखाई नहीं दे रही?”

“ओह… मधु तो जयपुर गई हुई है, पिछले १० दिनों से !”

“तभी उनका मोबाईल नहीं मिल रहा था।”

“तो मुझे ही कर लिया होता।”

“मेरे पास आपका नम्बर नहीं था।”

“हाँ भई, आप हमारा नम्बर क्यों रखेंगी… हम आपके हैं ही कौन?”

“आप ऐसा क्यों कहते हैं?”

“भई तुम तो दीदी के लिए ही आती हो हमें कौन पूछता है?”

“नहीं ऐसी कोई बात नहीं है।”

“इसका मतलब तुम मेरे लिए भी आती हो।” मैं भला मज़ाक का ऐसा सुनहरा अवसर कैसे छोड़ता। वो शरमा गई। उसने अपनी निगाहें नीची कर लीं। थोड़ी देर कुछ सोचती रही, फिर बोली, “ओह, दीदी तो है नहीं तो मैं किसी होटल में ही ठहर जाती हूँ!”

“क्यों, यहाँ कोई दिक्क़त है?”

“वो… वो… आप अकेले हैं और मैं… मेरा मतलब… दीदी को पता चलेगा तो क्या सोचेगी?”

“क्यों क्या सोचेगी, क्या तुम इससे पहले यहाँ नहीं ठहरी?”

“हाँ पर उस समय दीदी घर थी।”

“क्या हम इतने बुरे हैं?”

“ओह.. वो बात नहीं है।”

“तो फिर क्या बात है?”

“वो.. .वो… मेरा मतलब क्या है कि एक जवान लड़की का इस तरह ग़ैर मर्द के साथ रात में… अकेले?? मेरा मतलब?? वो कुछ समझ नहीं आ रहा।” उसने रोनी सी सूरत बनाते हुए कहा।

“ओह.. अब मैं समझा, तुम मुझे ग़ैर समझती हो या फिर तुम्हें अपने आप पर ही विश्वास नहीं है।”

“नहीं ऐसी बात तो नहीं है।”

“तो फिर बात यह है कि मैं एक हिंसक पशु हूँ, एक गुंडा-बदमाश, मवाली हूँ। तुम जैसी अकेली लड़की को पकड़कर तुम्हें खा ही जाऊँगा या कुछ उल्टा-सीधा कर बैठूँगा? क्यों है ना यही बात?”

“ओह जीजू, आप भी बात का बतंगड़ बना रहे हैं। मैं तो यह कह रही थी आपको बेकार परेशानी होगी।”

“अरे इसमे परेशानी वाली क्या बात है?”

“फिर भी एकता कपूर… मेरा मतलब वो… दीदी…?” वो कुछ सोचते हुए सी बोली।

“अरे जब तुम्हें कोई समस्या नहीं है, मुझे नहीं, तो फिर जयपुर बैठी मधु को क्या समस्या हो सकती है। और फिर आस-पड़ोस वाले किसी से कोई फिक्र नहीं करते हैं। अगर अपना मन साफ़ है तो फ़िर किसी का क्या डर? क्या मैं ग़लत कह रहा हूँ?” मैंने कहा। मैं इतना बढ़िया मौक़ा और हाथ में आई मुर्गी को ऐसे ही हवा में कैसे उड़ जाने देता।

मुझे तो लगा जैसे मिक्की ही मेरे पास सोफ़े पर बैठी है। वही नाक-नक्श, वही रूप-रंग और कद-काठी, वही आवाज़, वही नाज़ुक सा बदन, बिल्कुल छुईमुई सी कच्ची-कली जैसी। बस दोनों में फ़र्क इतना था कि निशा की आँखें काली हैं और मिक्की की बिल्लौरी थीं। दूसरा निशा कोई २४-२५ की होगी जबकि मिक्की १३ की थी। मिक्की थोड़ी सी गदराई हुई लगती थी जबकि निशा दुबली-पतली छरहरी लगती है। कमर तो ऐसी कि दोनों मुट्ठियों में ही समा जाए. छोटे-छोटे रसकूप (उरोज)। होंठ इतने सुर्ख लाल, मोटे-मोटे हैं तो उसके निचले होंठ मेरा मतलब है कि उसकी बुर के होंठ कैसे होंगे। मैं तो सोच कर ही रोमांचित हो उठा। मेरा पप्पू तो छलांगे ही लगाने लगा। उसके होठों के दाहाने (चौड़ाई) तो २.५-३ इंच का ही होगा। हे लिंग महादेव, अगर आज यह चिड़िया फँस गई तो मेरी तो लॉटरी ही लग जाएगी। और अगर ऐसा हो गया तो कल सोमवार को मैं ज़रूर जल और दूध तुम्हें चढ़ाऊँगा। भले ही मुझे कल छुट्टी ही क्यों ना लेनी पड़े। पक्का वादा।

प्रेम आश्रम वाले गुरुजी ने अपने पिछले विशेष प्रवचन में सच ही फ़रमाया था, “ये सब चूतें, गाँड और लंड कामदेव के हाथों की कठपुतलियाँ हैं। कौन सी चूत और गाँड किस लण्ड से, कब, कहाँ, कैसे, कितनी देर चुदेंगी, कोई नहीं जानता।”

“इतने में ज़ोरों की बिजली कड़की और मूसलाधार बारिश शुरु हो गई। निशा डर के मारे मेरी ओर सरक गई। मुझे एक शेर याद आ गया:

लिपट जाते हैं वो बिजली के डर से !
या इलाही ये घटा दो दिन तो बरसे !!

उसके भींगे बदन की खुशबू से मैं तो मदहोश ही हुआ जा रहा था। गीले कपड़ों में उसका अंग-अंग साफ दिख़ रहा था। शायद उसने मुझे घूरते हुए देख लिया था। वो कुछ सोचते हुए बोली, “मैं तो पूरी ही भीग गई।”

“मैं समझ गया, वो कपड़े बदलना या नहाना चाहती है, पर उसके पास कपड़े नहीं हैं, मेरे से कपड़े माँगते हुए शायद कुछ संकोच कर रही है। मैंने उससे कहा, “कोई बात नहीं, तुम नहा लो, मैं मधु की साड़ी निकाल देता हूँ।”

वो फिर सोचने लगी, “पर वो… वो… साड़ी तो मुझे बाँधनी नहीं आती। मैंने मन में कहा, “मेरी जान तुम तो बिना साड़ी-कपड़ों के ही अच्छी लगोगी। तुम्हें कपड़े कौन कमबख़्त पहनाना चाहता है” पर मैंने कहा -

“कोई बात नहीं, कोई पैन्ट और टॉप शर्ट या नाईटी वगैरह भी है, आओ मेरे साथ।” मैंने उसकी बाँह पकड़ी और अपने बेडरूम की ओर ले जाने लगा। आहहह… उसकी नरम नाज़ुक बाँहें मखमल जैसी मुलायम चिकनी थीं। अगर बाँहें ऐसी चिकनी हैं तो पिर जाँघें कैसी होंगी?


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

कपड़ों की आलमारी तो साड़ियों से लदी पड़ी थी। एक खाने में कुछ पैन्ट-शर्ट और टॉप आदि भी थे। मैंने उनकी ओर इशारा कर दिया। निशा ने कहा,”पर मेरी कमर तो २२ की है, मधु दीदी की पैन्ट मुझे ढीली रहेगी!”

ओह… अच्छा कोई बात नहीं, मेरे पास एक ड्रेस और है, तुम्हें पूरी आनी चाहिए, आओ मेरे साथ।” मैंने आलमारी बन्द कर दी और दूसरी अलमारी की ओर ले जाकर उसे गुलाबी रंग की एक नई बेल-बॉटम और हल्के रंग का टॉप जिस पर पीले फूल बने थे, दिखाया, साथ एक जोड़ी ब्रा और पैन्टी भी थी। ये मैंने मिक्की के पिछले जन्मदिन के लिए मधु से छुपा कर ख़रीदे थे पर उसे दे नहीं पाया था। उन्हें देखकर निशा ने कहा, “लगता है ये तो आ जाएँगे।”

उसने पैन्टी उठाई और गौर से देखते हुए बोली, “ओह… दीदी भी ऐसी ही ब्रा पहनती हैं? ये.. तो ये.. तो ओह?” वो आगे कुछ नहीं बोल पाई। बे-खयाली में उसकसे मुँह से निकल तो गया पर उसका मतलब जान कर वो शरमा गई। इस्स्स्स्स…. मुझे तो लगा जैसे किसी ने मिक्की को ही मेरे सामने खड़ा कर दिया है बस नाम का ही फ़र्क है। मिक्की की तरह शरमाने की इस जानलेवा अदा को तो मैं ज़िन्दगी भर नहीं भूल पाऊँगा।

न जाने क्या सोचकर उसने ब्रा और पैन्टी वहीं रख दी। मेरा दिल तो छलाँगें ही लगाने लगा। या अल्लाह… बिना ब्रा और पैन्टी में तो यह बिल्कुल मिक्की की तरह क़यामत ही लेगी। मैं अपने-आप पर क़ाबू कैसे रख पाऊँगा। मुझे तो डर लगने लगा कि कहीं मैं उसका बलात्कार ही ना कर बैठूँ। मेरा पप्पू तो जैसे क़ुतुबमीनार बन गया था। इतनी उत्तेजना तो आज से पहले कभी नहीं महसूस हुई थी। पप्पू तो अड़ियल टट्टू बन गया था। अचानक मेरे कानों में निशा की मीठी आवाज़ पड़ी।

“ओ जीजू, मैं नहाने जा रही हूँ।”

“हाँ-हाँ, तौलिया और शैम्पू आदि बाथरूम में हैं।” मैं तो जैसे ख़्यालों से जागा…

निशा बाथरूम में घुस गई। मेरा दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा था। बाहर ज़ोरों की बारिश और मेरे अन्दर जलती आग, दोनों की रफ्तार एक जैसी ही तो थी। अचानक मेरे दिमाग़ में एक ख्याल दौड़ गया और होठों पर एक रहस्यमयी मुस्कान। और उसके साथ ही मेरे क़दम भी बाथरूम की ओर बढ़ गए। अब आप इतने कमअक्ल तो नहीं हैं कि आप मेरी योजना ना समझे हों।

मैंने की-होल से बाथरूम के अन्दर झाँका…

निशा ने अपनी पैन्ट और शर्ट उतार दी थी। अब वो सिर्फ ब्रा पैन्टी में थी। उफ्फ… क्या मस्त हिरनी जैसी गोरी-चिट्टी नाज़ुक कमसिन कली की तरह, जैसे मिक्की ही मेरी आँखों के सामने खड़ी हो। सुराहीदार गर्दन, पतली सी कमर मानों लिम्का की बोतल को एक जोड़ा हाथ और पैर लगा दिए हों। संगमरमर सा तराशा हुआ सफाक़ बदन किसी फरिश्ते का भी ईमान डोल जाए। एक ख़ास बात: काँख (जहाँ से बाँहें शुरु होतीं हैं) और उरोजों से थोड़ा ऊपर का भाग ऐसे बना था जैसे कि गोरी-चिट्टी चूत ही बनी है। ऐसी लड़कियाँ वाकई नाज़ुक होतीं हैं और उनकी असली चूत भी ऐसी ही होती है। छोटी सी तिकोने आकार की माचिस की डिब्बी जितनी बड़ी। अगर आपने प्रियंका चोपड़ा या करीना कपूर को किसी फिल्म में बिना बाँहों के ब्लाऊज़ के देखा हो तो आपको मेरी इस बात की सच्चाई का अन्दाज़ा हो जाएगा। फिर मेरा ध्यान उसकी कमर पर गया जो २२ इंच से ज्यादा तो हर्गिज़ नहीं हो सकती। पतली-पतली गोरी गुलाबी जाँघें। और दो इंच पट्टी वाली वही टी-आकार की पैन्टी (जो मधु की पसंदीदा है)। उनके बाहर झाँटों के छोटे-छोटे मुलायम रोयें जैसे बाल। हे भगवान, मैं तो जैसे पागल ही हो जाउँगा। मुझे तो लगने लगा कि मैं अभी बाथरूम का दरवाजा तोड़कर अन्दर घुस जाऊँगा और… और…

निशा ने बड़े नाज़-ओ-अन्दाज़ से अपनी ब्रा के हुक़ खोले और दोनों क़बूतर जैसे आज़ाद हो गए। गोर गुलाबी दो सिन्दूरी आम, जैसे रस से भरे हुए हों। चूचियों का गहरा घेरा कैरम की गोटी जितना बड़ा, बिल्कुल चुरूट लाल। घुण्डियाँ तो बस चने के दाने जितने। सुर्ख रतनार अनार के दाने जैसे, पेन्सिल की नोक की तरह तीखे। उसने अदा से अपने उरोजों पर हाथ फेरा और एक दाने को पकड़ कर मुँह की तरफ किया और उस पर जीभ लगा दी। या अल्लाह… मुझे लगा जैसे अब क़यामत ही आ जाएगी। उसने शीशे के सामने घुम कर अपने नितम्ब देखे। जैसे दो पूनम के चाँद किसी ने बाँध दिए हों। और उनके बीच की दरार एक लम्बी खाई की तरह। पैन्टी उस दरार में घुसी हुई थी। उसने अपने नितम्बों पर एक हल्की सी चपत लगाई और फिर दोनों हाथों को कमर की ओर ले जाकर अपनी काली पैन्टी नीचे सरकानी शुरु कर दी।

मुझे लगा कि अगर मैंने अपनी निगाहें वहाँ से नहीं हटाईं तो आज ज़रूर मेरा हार्ट फेल हो जाएगा। जैसे ही पैन्टी नीचे सरकी हल्के-हल्के मक्के के भुट्टे के बालों जैसे रेशमी नरम छोटे-छोटे रोयें जैसे बाल नज़र आने लगे। उसके बाद दो भागों में बँटे मोटे-मोटे बाहरी होंठ, गुलाबी रंगत लिए हुए। चीरा तो मेरे अंदाज के मुताबिक ३ इंच से तो कतई ज़्यादा नहीं था। अन्दर के होंठ बादामी रंग के। लगता है साली ने अभी तक चूत (माफ़ करें बुर) से सिर्फ मूतने का ही काम लिया है। कोई अंगुल बाज़ी भी लगता है नहीं की होगी। अन्दर के होंठ बिल्कुल चिपके हुए – आलिंगनबद्ध। और किशमिश का दाना तो बस मोती की तरह चमक रहा था। गाँड की छेद तो नज़र नहीं आई पर मेरा अंदाजा है कि वो भी भूरे रंग का ही होगा और एक चवन्नी के सिक्के से अधिक बड़ा क्या होगा! दाईं जाँघ पर एक छोटा सा तिल। उफ्फ… क़यामत बरपाता हुआ। उसने शीशे में देखते हुए उन रेशमी बालों वाली बुर पर एक हाथ फेरा और हल्की सी सीटी बजाते हुए एक आँख दबा दी। मेरा पप्पू तो ऐसे अकड़ गया जैसे किसी जनरल को देख सिपाही सावधान हो जाता है। मुझे तो डर लगने लगा कि कहीं ये बिना लड़े ही शहीद न हो जाए। मैंने प्यार से उसे सहलाया पर वह मेरा कहा क्यों मानने लगा।

और फिर नज़ाक़त से वो हल्के-हल्के पाँव बढ़ाते हुए शावर की ओर बढ़ गई। पानी की फुहार उसके गोरे बदन पर पेट से होती हुई उसकी बुर के छोटे-छोटे बालों से होती हुई नीचे गिर रही थी, जैसे वो पेशाब कर रही हो। मैं तो मुँह बाए देखता ही रह गया।

वो गाती जा रही थी “पानी में जले मेरा गोरा बदन…” मैं सोच रहा था आज इसे ठण्डा मैं कर ही दूँगा, घबराओ मत। कोई १० मिनट तक वो फव्वारे के नीचे खड़ी रही, फिर उसने अपनी बुर को पानी से धोया। उसने अपनी उँगलियों से अपनी फाँकें धीरे से चौड़ी कीं जैसे किसी तितली ने अपने पंख उठाए हों। गुलाबी रंग की नाज़ुक सी पंखुड़ियाँ। किशमिश के दाने जितनी मदन-मणि (टींट), माचिस की तीली जितना मूत्र-छेद और उसके एक इंच नीचे स्वर्ग का द्वार, छोटा सा लाल रतनार। मुझे लगा कि मैं तो गश खाकर गिर ही पड़ूँगा।

उसने शावर बन्द कर दिया और तौलिये से शरीर पोंछने लगी। जब वह अपने नितम्ब पोंछ रही थी, एक हल्की सी झलक उसकी नर्म नाज़ुक गाँड की छेद पर भी पड़ ही गई। उफ्फ… क्या क़यामत छुपा रखी थी उसने। अपनी बगलें पोंछने के लिए जब उसने अपनी बाहें उठाईं तो मैं देखकर दंग रह गया। काँख में एक भी बाल नहीं, बिल्कुल मक्खन जैसी चिकनी साफ सुराही गोरी चिट्टी। अब मैं उसे हुस्न कहूँ, बिजली कहूँ, पटाखा कहूँ या क़यामत…

अरश मलशियानी का एक शेर तो कहे बिना नहीं रहा जा रहा:

बला है क़हर है आफ़त है फितना है क़यामत है

इन हसीनों की जवानी को जवानी कौन कहता है?

अब उसने बिना ब्रा और पैन्टी के ही शर्ट (टॉप) और बॉटम पहनना चालू कर दिया। बेल बॉटम पहनते समय मैंने एक बार फिर उसकी चूत पर नज़र डाली। लाल चुकन्दर जितनी छोटी सी, प्यारी सी चूत जैसे मिक्की का ही डबल रोल हो। अब वहाँ रुकने का कोई मतलब नहीं रह गया था। हे भोले शंकर आज मेरी लाज रख लेना कल सोमवार है याद है ना???…


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

मैं सोफ़े पर बैठ गया। जैसी ही बाथरूम का दरवाज़ा खुला गीले बालों से टपकती शबनम जैसी बूँदे, काँपते होंठ, क़मसिन बदन, बेल-बॉटम में कसी पतली-पतली जाँघों के बीच फँसी बुर का इतिहास और भूगोल यानी चीरा और फाँकें साफ़ महसूस हो रही थी। हे भगवान क्या फुलझड़ी है, पटाखा है, या कोई बम है। एक जादुई रोशनी से जैसे पूरा ड्राईंग-रूम ही भर उठा। अचानक एक बार जोर की बिजली कड़की और एक तेज धमाके के साथ पूरे मुहल्ले की लाईट चली गई। हॉल में घुप्प अँधेरा छा गया। उसके साथ ही डर के मार निशा की चीख सी निकल गई, “जीजू, ये क्या हुआ?” वो लगभग दौड़ती हुई फिर मेरी ओर आई। इस बार वह टकराई तो नहीं पर उसकी गरम साँसें मैं अपने पास ज़रूर महसूस कर रहा था।

“लगता है कहीं शॉर्ट-सर्किट हो गया है। तुम डरो मत, यहीं ठहरो, मैं इन्वर्टर चालू करता हूँ।” मैंने दरवाज़े के पास लगा इन्वर्टर चालू किया तो हमारे बेडरूम और स्टडी-रूम की बत्ती जल उठी।

“हे भगवान सब कुछ उल्टा-सीधा आज ही होना है क्या?” निशा रूआँसे स्वर में बोली।

“क्यों क्या हुआ?”

“अब देखो ना लाईट भी चली गई।” उसने एक ठंडी साँस ली।

“पर बेडरूम में तो लाईट है ना।”

“पर मुझे तो कल के वर्कशॉप में प्रेज़ेन्टेशन के लिए प्रोजेक्ट-वर्क तैयार करना था और मेरे लैपटॉप को भी आज ही ख़राब होना था। हे भगवान…”

“कोई बात नहीं तुम स्टडी-रूम में रखे कम्प्यूटर से काम चला सकती हो।” मैंने पूछा “कितना काम है?”

“घंटा भर तो लग ही जाएगा। अच्छी मुसीबत है। मैं भी कहाँ फँस गई इस कम्पनी में।”

“क्यों क्या हुआ?”

“अब देखो ना रोज़-रोज़ का प्रेज़ेन्टेशन, मीटिंग्स, वर्कशॉप, एनालिसिस, प्रोडक्ट लाँचिंग – झमेले ही झमेले हैं इस नन्हीं सी जान पर।”

मैंने अपने मन मे कहा, ‘मेरी जान हम जैसे किसी आशिक़ का दामन थाम लो, सारे प्रोजेक्ट कर दूँगा’ पर मैंने कहा “कौन सा उत्पाद लाँच कर रही हो?”

“दो उत्पाद हैं, एक तो गर्भाधान रोकने की गोली है, महीने में सिर्फ एक गोली और दूसरा बच्चों के अँगूठा चूसने और दाँतों से नाख़ून काटने की आदत से छुटकारा दिलाने की दवाई है, जिसे नाखूनों पर लगाया जाता है।”

“हे भगवान तुम सब लोग हमारी रोज़ी-रोटी छीन लेने पर तुले हो।”

“क्या मतलब?? हम तो बिज़नेस के साथ-साथ समाज सेवा भी कर रहे हैं।” निशा ने हैरानी से पूछा वो बात-बात में ‘क्या मतलब’ ज़रूर बोलती है।

“अरे भाई साफ़ बात है, तुम गर्भधारण रोकने की दवा की मार्केटिंग करती हो तो बच्चे कहाँ से पैदा होंगे और फिर हमारे उत्पाद जैसे बच्चों का दूध, बच्चों का आहार, बच्चों के तेल, नैप्पी, पावडर, साबुन कौन खरीदेगा?”

“और वो अँगूठा चूसने की आदत छुड़ाने की दवाई?”

“वो भी हम जैसे प्रेमियों के ऊपर उत्याचार ही है।”

“क्या… मत…लब?” निशा मेरा मुँह देखने लगी।

“शादी के बाद वो आदत अपने-आप छूट जाती है… उसकी ज़रूरत ही नहीं पड़ती। शादी के बाद भला कौन उसे अँगूठा चूसने देता है…” मैंने हँसते हुए कहा।

पहले तो मेरी बात उसे समझ ही नहीं आई, लेकिन बाद में तो वो इतने ज़ोर से शरमाई कि पूछो मत। उसने मुझे एक धक्का सा देते हुए कहा “जीजू तुम एक नम्बर के बदमाश हो।”

“नहीं, मैं दो नम्बर का बदमाश हूँ।” मैं खिलखिला कर हँस पड़ा

“जीजू मज़ाक छोड़ो, मुझे अपना प्रोजेक्ट पूरा करना है। कम्प्यूटर कहाँ है?”

“हाँ चलो मुझे भी अपना प्रोजेक्ट बनाना है।”

“अरे आपको कौन सा प्रोजेक्ट बनाना है?”

“अरे तुम नहीं जानती, मुझे एक नहीं पूरे ५ प्रोजेक्ट्स पर काम करना है” अब मैं उसे क्या बताता कि ‘मुझे तुम्हारा दूध पीना है, बुर चाटनी है, अपना लंड चुसवाना है, चुदाई करनी है, और गाँड भी मारनी है।’ हो गए ना पूरे ५ प्रोजेक्ट्स।

“ओह… पर आपके लिए तो ये मामूली सी बात है आप तो बड़े अनुभवी हैं आप तो झट से कार्यक्रम बना ही लेंगे।” वो भले मेरे इन नए उत्पादों के बारे में अभी क्या जानती थी।

“हाँ वो तो ठीक है पर मेरे पास भी समय कम बचा है, केवल २ घंटे और पूरे ५ प्रोजेक्ट्स… ख़ैर छोड़ो पूरा तो कर ही लूँगा। मुझे अपने-आप पर पूरा भरोसा है। आओ स्टडी-रूम में तुम्हें कम्प्यूटर दिखा दूँ।” और फिर हम दोनों स्टडी-रूम में आ गए।

कम्प्यूटर चाली करने के बाद उसने पेन-ड्राईव निकाली और उसे कम्प्यूटर में नीचे बने छेद में डालने की कोशिश की पर वह अन्दर नहीं गया।

“जीजू ये इस छेद में अन्दर क्यों नहीं जा रहा?”

“अरे पीछे वाली छेद में डालो, उसमें आराम से चला जाएगा।” उसने मेरी ओर थोड़े गुस्से से देखा तो मैंने कहा, “अरे भाई ये छेद ख़राब है, इसके पीछे और छेद हैं, उसमें… वो सही है तुम मज़ाक समझ रही हो।” मैंने हँसते हुए कहा।

“आप मेरा लैपटॉप ठीक कर दो ना प्लीज़” मेरी बात काटते हुए निशा बोली।

“लाओ मैं देख देता हूँ, क्या समस्या है।” मैं लैपटॉप लेकर अपने बेडरूम में आ गया। बेडरूम में पहुँच कर मैंने अपने प्रोजेक्ट के ऊपर काम करना शुरु कर दिया। इस निशा (रात) को कैसे रात की रानी बनाना है। मुझे तो उसकी चूत के साथ-साथ गाँड भी मारनी है और उसे लंड भी चुसवाना है। सबसे बड़ी बात तो उसे सेक्स के लिए तैयार करना ही मुश्किल है। समय कम और मुक़ाबला सख्त। ख़ैर मुहब्बत-ए-मर्दा, मदद-ए-ख़ुदा।

सिमरन (मेरी क्लास मेट) को चोदने में मुझे पूरे दो साल लग गई थी। अनारकली की चुदाई में दो महीने, सुधा की चुदाई में दो हफ़्ते और मिक्की की चुदाई के प्रोग्राम में दो दिन ही लगे थे। पर निशा को चुदाई और गाँड मरवाने के लिए तैयार करने में तो मेरे पास सिर्फ दो घंटे ही हैं। आज प्रेम-गुरु का असली इम्तिहान है। पूरी तैयारी करनी होगी ज़रा सी ग़लती पूरी परियोजना को ख़राब कर देगी और ये नई चिड़िया मेरे हाथों से निकल भागेगी। पर मैं ऐसा कदापि नहीं होने दूँगा। आख़िर मुझे प्रेम-गुरु ऐसे ही तो नहीं कहते हैं।

लैपटॉप में वायरस था जिसके कारण विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम की फाइलें ख़राब हो गईं थीं। ये तो मेरे बाएँ हाथ का खेल था। पर मैं इसे अभी ठीक नहीं किया। मैंने उसके बैग की जाँच की। उसमें दवाईयों के नमूने, कागज़, और मेकअप का छोटा-मोटा सामान था। मैंने बोरोलीन जैसी खुशबू वाली क्रीम की ट्यूब, वैसलीन की डिब्बी, एक छोटा सा शीशा और नैपकीन निकाल कर सिरहाने के नीचे रख लिए।

अब मुझे अपने परियोजना की पूरी तरह से तैयारी के बारे में सोचना ता। दो तीन विकल्प भी रखने थे। सही-सही क्रियान्वयन के लिए कार्यक्रम बनाना था। मज़बूत पक्ष, कमज़ोर पक्ष, मौक़े, संभावित हानियाँ सभी को ध्यान में रखकर कार्यक्रम शुरु करना था। मैंने कई विकल्पों पर विचार किया और फिर सब कुछ अपने दिमाग़ में सोच कर के फ्लो-चार्ट बनाने लगा। मुझे चुदाई का यह कार्यक्रम ३ चरणों में पूरा करना था।

मैंने एक बार स्टडी-रूम की ओर जाकर देखा। निशा कम्प्यूटर पर लगी थी। कोई ४० मिनट तो बीत ही गए थे। निशा का काम भी खत्म होने ही वाला होगा। मैंने उससे पूछा कि कितना समय और लगेगा तो उसने बताया कि कोई १५-२० मिनट और लगेंगे। मैंने दराज़ में से ऑपरेटिंग सिस्टम की सीडी ली और वापिस बेडरूम में आ गया। मैंने फाईलों को फिर से डाल दिया और वायरस स्कैन चालू कर दिया। उसका कम्प्यूटर काम करने लगा। इस काम में मुझे १०-१५ मिनट लगे। जब मैं सीडी वापिस रखने स्टडी रूम में गया तो निशा मेरा कम्प्यूटर बन्द ही करने जा रही थी। मैं दरवाजे के बाहर ही रूक कर अन्दर देखने लगा। उसने स्टार्ट मेनू पर क्लिक किया। शट डाउन पर क्लिक करने की बजाय उसने रीसेन्ट डॉक्यूमेन्ट मेनू खोला। मेरी आँखें चमकने लगीं। फिर उसने ऊपर से नीचे तक फाईलों की सूची देखी। उसकी निगाहें कुछ वीडियो फाईल पर पड़ीं। उसने राईट क्लिक करके उस फाईल का स्त्रोत देखा। अगर आप थोड़ा बहुत कम्प्यूटर जानते हों तो यह सब बातें आपको पता रहेंगी ही। ये वही फाईलें थीं जो मैंने आज सुबह ही कम्प्यूटर पर कॉपी की थी, और २-३ देखी भी थी। इस फाईल पर क्लिक करते ही फिल्म चलनी शुरु हो गई। मेरा काम हो गया था। मैं झट से उल्टे पाँव बेडरूम की ओर भागा।


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

आप शायद सोच रहे होंगे अब वापस आने का नहीं साली को पटक कर चोदने का समय था। आप ग़लत सोच रहे हैं। मैं कोई ज़ोर-ज़बर्दस्ती में विश्वास नहीं करता हूँ। मैं तो प्रेम का पुजारी हूँ। मैंने अब तक जितनी भी चूत या गाँड मारी है वो सभी अपने दोनों हाथों में जैसे अपनी चूत और गाँड लेकर मेरे पास आईं हैं। मैं उसे भी इसी तरह चोदना चाहता था। मैं उसे इतना गरम कर देना चाहता था कि वह ख़ुद चल कर मुझसे चूत और गाँड मारने को कहे, तभी तो चुदाई का असली मज़ा आता है। किसी को मजबूर करके चोदना तो बस पानी निकालनी वाली बात होती है।

मुझे पता था साली फिल्म के एक दो सीन ही देखेगी और फिर उसे बन्द करके मेरे बेडरूम में यह चेक करने आएगी कि मैं क्या कर रहा हूँ। कोई देख तो नहीं रहा। मैं भी इस मामले में पक्का खिलाड़ी हूँ। मैं उसके लैपटॉप को ठीक करने की पूरी एक्टिंग कर रहा था। वो चुपके से आई और एक निगाह डालते हुए दबे पाँव वापस चली गई। हे लिंग माहदेव ! तेरा लाख-लाख धन्यवाद। काले हब्शी और गोरी फिरंगी की गाँड-चुदाई और एक ४० साल की आँटी की एक १५-१६ साल के लड़के के साथ चुदाई देखकर तो मेरी रात की रानी गुलज़ार हो जाएगी। मेरे कार्यक्रम का पहला चरण सफलता पूर्वक सम्पन्न हो गया था।

कोई २५-३० मिनट के बाद निशा बेडरूम की ओर आई। उसकी आँखों में लाल डोरे तैर रहे थे। होश उड़े हुए, चाल में लड़खड़ाहट, होंठ सूखे हुए। वो तो बस इतनी ही बोल पाई, “जीजू क्या कर रहे हो?” शायद अपनी उखड़ी साँसों पर क़ाबू पाना चाहती थी।

“बस तुम्हारा लैपटॉप ही ठीक कर रहा था। वायरस था, विंडोज़ की फाईलें ख़राब हो गईं थीं। मैंने ठीक कर दिया है। तुमने इन्टरनेट से कोई ग़लत-सलत फाईल तो नहीं खोलीं थीं?” मैंने पूछा।

अब तो उसके चेहरे का रंग देखने लायक था। “ननन… नहीं तो..”

“कोई बात नहीं पर तुम इतना घबराती क्यों हो?”

“वो.. वो बिजली कड़क रही है ना” अजीब संयोग था कि उसी समय ज़ोर से बिजली फिर कड़की थी। बाहर अब भी पानी बरस रहा था। मैं जानता था कि वो कौन सी बिजली की बात कर रही है। वो मेरे पास आकर बैठ गई।

“जीजू सोने का क्या करेंगे?” वो बोली

मैंने मन में सोचा ‘मेरी जान, तुम्हें सोने कौन देगा आज की रात।’ पर मैंने कहा “भाई बिस्तर लगा है सो जाओ।”

“यहाँ?”

“क्यों क्या हुआ?”

“वो मेरा मतलब, हम दोनों एक कमरे में?”

“मैं बाहर सो जाता पर बिजली नहीं है और गेस्ट रूम में ज़हरीली मकड़ियाँ और मच्छर हैं। कभी-कभी जंगली बिल्ली भी आ जाती है। भाई मुझे बाहर डर लगता है।”

“ओह… अजीब मुसीबत में फँस गई मैं तो दीदी को भी आज ही जाना था।”

“इसमें मुसीबत वाली कौन सी बात है? क्या मधु को जंगली बिल्लियों और मकड़ियों का डर नहीं लगता?”

“वो.. वो… ऐसी बात नहीं पर… और… वो… एक ही कमरे में एक ही बिस्तर पर…?”

“क्यों अपने आप पर विश्वास नहीं है क्या?”

“नहीं ऐसी बात नहीं है पर… वो.. वो..”

“चलो मैं नीचे फर्श पर सो जाता हूँ, भले ही मुझे नींद आए या नहीं कोई बात नहीं।”

“ओहह… नहीं मैं नीचे में सो जाऊँगी।”

मैंने मन में सोचा ‘मेरी जान नीचे तो तुम्हें सोना ही पड़ेगा, पर फ़र्श पर नहीं, मेरे नीचे।’ मेरी योजना बिल्कुल पक्की थी किसी चूक का सवाल ही नहीं था। मैंने उसी भोलेपन से कहा “अरे, क्यों हम भरतपुर वालों की मेहमान नवाज़ी को बट्टा लगा रही हो? अच्छा एक काम करते हैं, बीच में एक तकिया लगा देते हैं।”

वो मेरी बात पर हँस पड़ी “एक तकिये से क्या होगा?”

“तो दो लगा देते हैं।” मैंने कहा। वह कुछ सोच रही थी। उसके मन की उलझन मैं अच्छी तरह जानता था। “ओह… अभी कौन सी नींद आ रही है, चलो छोड़ो कोई और बात करो।” मैंने कहा।

हम दोनों बिस्तर पर बैठ गए। मैं बिस्तर पर टेक लगाकर बैठा था और निशा मेरे सामने बैठी थी। पैन्ट में फँसी उसकी चूत के आगे का भाग कैरम की गोटी जितनी दूर में गीला हुआ था। साली फिरंगी और आँटी की चुदाई देखकर पूरी गरम हो गई थी। उसने बात चालू की।

“जीजू इस नौकरी से पीछा छूटेगा या नहीं? नौकरी बदलने का कोई मौक़ा है या नहीं? आप तो हाथ देखकर बता देते हैं।” निशा ने हाथ आगे बढ़ा दिया। मैंने झट से उसका हाथ पकड़ लिया। निशा पहले हाथ की रेखाओं और भाग्य आदि पर विश्वास नहीं करती थी। पर जब से मधु की संगत में आई है, थोड़ा-बहुत भाग्य और सितारों को मानने लगी है।

उसका शुक्र पर्वत तो सुधा और मिक्की से भी ऊँचा था। हे भगवान आज तो तूने मेरी लॉटरी ही लगा दी। उसकी हथेली के बीच में तिल देखकर मैंने कहा “तुम्हारे हाथ में ये जो तिल है उसके हिसाब से तो तुम्हारे पास दौलत की कोई कमी नहीं है।”

“अरे जीजू आप भी मज़ाक करते हैं। कहाँ है मेरे पास दौलत?”

“अरे भाई हाथ की रेखाएँ तो यही कहतीं हैं। क्या हुस्न की दौलत कम है तुम्हारे पास?”

“जीजू आप भी…” वो शरमा गई। अच्छा… फिर बोली “मजाक छोड़ो और ढंग की बात बताओ ना।”

“मैंने उससे पूछा कि तुम्हारी उम्र कितनी है तो उसने बताया कि वह २४ की है।

“क्यों तुम भी मधु और मेरी तरह मांगलिक हो?”

“हाँ क्यों?”

“अरे भाई माँगलिक की शादी २४वीं साल में हो जाती है।”

“पर मैं तो अभी ५-७ साल शादी नहीं करूँगी।”

“भाई मंगल तो यहीं कहता है और अगले ३ साल में तुम २ बच्चों की मम्मी भी बन जाओगी।”

“जीजू आप भी एक नम्बर के बदमाश हो। मज़ाक छोड़ो, कोई ठीक बात बताओ ना।”

“अरे इसमें क्या झूठ है।” उसने अपनी आँखें टेढ़ी कीं तो मैंने कहा, “अच्छा चलो बताओ, तुम्हारे कितने ब्वॉयफ्रेण्ड हैं? कभी उनके साथ फिल्म देखती हो या नहीं?”

“नहीं मेरा तो कोई ब्वॉयफ्रेण्ड नहीं है।” उसने आँखें तरेरते हुए कहा।

“अरे फिर इस जवानी और ज़िन्दगी का क्या फ़ायदा। मैं तो अब भी अपनी गर्लफ्रेण्ड को लेकर फ़िल्म देखता हूँ।” मैंने कहा।

“क्या मतलब? क्या आप अब भी… मेरा मतलब…?”

“अरे भाई मेरी गर्लफ्रेण्ड तो मधु ही है।” मैंने हँसते हुए कहा “तुम तो जानती हो मैं मधु से कितना प्यार करता हूँ। कई बार मैं और मधु फिल्म देखने जाते हैं तो ऐसी ऐक्टिंग करते हैं कि जैसे कॉलेज से भागकर के आए हों। हमें देखकर तो बड़े-बूढ़ों के दिल पर भी साँप लोटने लग जाते हैं।”

“हाँ… हाँ मुझे पता है। मधु दीदी बताती हैं तुम तो उनके पूरे ‘मिट्ठू’ हो। वह बताती है कि आप तो शादी के इतने सालों बाद भी उनपर लट्टू ही बने हो।” उसने मेरा मज़ाक उड़ाते हुए कहा।

“तुम कहो तो तुम्हारा भी ‘मिट्ठू बन जाता हूँ।”

“मैं झाँसी की शेरनी हूँ ऐसे क़ाबू नहीं आऊँगी मिट्ठू जी?” उसने आँखें नचाते हुए कहा। मैंने मन में सोचा ‘मेरी जान आज की रात तुम जैसी मैना के मुँह से ही बुलवाऊँगी बोल मेरी मैना गंगाराम’ फिर मैंने कहा “अच्छा चलो बताओ तुम्हार वज़न कितना है?”

“उण्म्म्म्म… ४८ किलो”

“मेरे हिसाब से तो २१ किलो होना चाहिए।”

“क्या मतलब?”

“अरे भाई बहुत सीधी बात है दिल का २७ किलो तो हटा ही दो, फिर असली वज़न तो २१ किलो ही रहा ना?”

“तो आप भी मानते हैं कि हम झाँसी वालों का दिल बड़ा होता है।” उसने छाती तानते हुए कहा। सचमुच उसकी घुण्डियाँ कड़ी हो रहीं थीं।

“दिल बड़ा नहीं, पत्थर का है।”

“क्या मतलब?”

“चलो वो बाद में बताऊँगा।” मैंने बात को अपने प्रोजेक्ट की ओर मोड़ना चाहा। “देखो ये सब ज्योतिषीय गणित है। प्रकृति ने सब चीजें अपने हिसाब से बनाई हैं। सब चीजें एक सही अनुपात में होतीं हैं। उन्हें तो मानना ही पड़ेगा ना?”

“वो कैसे?”

“अब देखो ना भगवान ने हमारी नाक तुम्हारे अँगूठे जितनी बड़ी बनाई है।” उसने हैरानी से अपनी नाक पर हाथ लगाया और मेरी ओर देखने लगी।


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

“विश्वास नहीं होता तो नाप कर देख लो।” मैंने पास रखा फीता उसकी ओर बढ़ा दिया। उसने अपना अँगूठा नापा जो ७ से.मी. निकला। फिर मैंने उसकी नाक पर फीता रख कर नाप लिया। इस दौरान मैं उसके गाल छूने से बाज नहीं आया। काश्मीरी सेब हों जैसे। उसकी नाक का नाप भी ७ से.मी. ही निकला। फिर मैंने कहा, तुम्हारी मध्यमा (बीच की) उँगली मापो। जब उसने नापी तो वह ९ से.मी. निकली। अब मैंने उससे कहा कि अपने कान की लम्बाई नापो। ये काम तो मुझे ही करना था। इस बार मैंने उसका दूसरा गाल भी छू लिया। क्या मस्त मुलायम चिकना स्पर्श था। साली के गाल इतने मस्त हैं तो चूचियाँ तो कमाल की होंगी। ख़ैर कान का नाप भी ९ से.मी., होना ही था।

“अरे ये तो कमाल हो गया?” वह हैरानी से बोली तो मैंने कहा, “मैं बिना नापे तुम्हारी लम्बाई भी बता सकता हूँ।”

“वो कैसे?”

“तुम्हारे हाथ की लम्बाई का ढाई गुणा होगी।” उसने मेरी ओर हैरानी से देखा तो मैंने कहा “नाप कर देख लो।”

“मेरे कार्यक्रम का फ्लो-चार्ट बिल्कुल सही दिशा में जा रहा था। अब उसके नाज़ुक संतरों की बारी थी। चिड़िया अपने आप को बड़ा होशियार समझती थी। पर मैं भी प्रेम-गुरु ऐसी ही नहीं हूँ। मैंने फीता उठाया और ढीले टॉप के अन्दर उसकी काँख से सटा दी। वो क्या बोलती? चुप रही। उसकी काँख सफाचट थी। बालों का नामों-निशान नहीं। थोड़ी सी चूचियों की झलक भी मिल गई। एकदम सख़्त। घुण्डियाँ कड़क। गोरे-गोरे.. इलाहाबादी अमरूद जैसे।

हाथ की लम्बाई ६३ से.मी. निकली। मैंने कहा तुम्हारी लम्बाई १५८ से.मी. यानि कि ५ फीट ३ इंच के आस-पास है।”

“ओह, वेरी गुड, क़माल है जीजू।” उसकी आँखें तो फटी ही रह गईं। वो फिर बोली “जीजू जॉब का भी बताओ ना” मैं उसे प्रभावित करने में सफल हो गया था।

अब कार्यक्रम के दूसरे भाग की अन्तिम लाईन लिखनी थी। मैंने कहा “एक और बात है ऊपर के होंठ और नीचे के होंठ भी बिल्कुल एक समान होते हैं।”

“नहीं ये ग़लत है नीचे के होंठ थोड़े मोटे होते हैं। मेरे होंठ ज़रा ध्यान से देखो, नीचे का मोटा है या नहीं?” निशा अपने मुँह वाले होंठों की बात ही समझ रही थी, उसे क्या पता कि मैं तो चूत के होंठों की बात कर रहा था।

“अरे मैं मुँह के होंठों की नहीं दूसरे होठों की बात कर रहा था। अच्छा चलो बताओ औरतें ज़्यादा बातें क्यों करतीं हैं?” मैंने पूछा।

“क्यों…?” उसने आँखें तरेरते हुए पूछा। वो अब मेरी बात का मतलब कुछ-कुछ समझ रही थी।

“अरे भाई उनके चार होंठ होते हैं ना। दो ऊपर और दो नीचे” मैंने हँसते हुए कहा।

“क्या मतलब…” उसकी निगाह झट से अपनी चूत की ओर चली गई, वहाँ तो अब चूत-रस की बाढ़ ही आ गई थी. उसने झट से तकिया अपनी गोद में रख लिया और फिर बोली, “ओह जीजू, आख़िर तुम अपनी औक़ात पर आ ही गए… मुझे तुमसे कोई बात नहीं करनी। अकेली मज़बूर लड़की जानकर उसे तंग कर रहे हो। मुझे नींद आ रही है।” वो नाराज़ सी हो गई।

प्यार पाठकों और पाठिकाओं, मेरे कार्यक्रम का दूसरा चरण पूरा हो गया था. आप सोच रहे होंगे भला ये क्या बात हुई। लौण्डिया तो नाराज़ होकर सोने जा रही है? थोड़ा सब्र कीजिए अभी मेरा तीसरा चरण पूरा कहाँ हुआ है।

मैं जानता था साली गरम हो चुकी है। उसकी चूत ने दनादन पानी छोड़ना शुरु कर दिया है और अब तो पानी रिस कर उसकी गाँड को भी तर कर रहा होगा। अब तो बस दिल्ली दो क़दम की दूर ही रह गई है। मेरा अनुभव कहता है कि इस तरह की बात के बाद लड़की इतनी ज़ोर से नाराज़ हो जाती है कि बवाल मचा देती है, पर निशा तो बस सोने की ही बात कर रही थी. मैंने बात आगे बढ़ाते हुए कहा

“अरे तुम बुरा मान गई… ये मैं नहीं प्रेम-आश्रम वाले गुरुजी कहते हैं। अच्छा चलो अब सो ही जाते हैं। पर एक समस्या है?”

“वो क्या?”

“दरअसल मैं सोने से पहले दूध पीता हूँ।”

“ये क्या समस्या है, रसोई में जाकर पी लो।”

“वो… वो… रसोई में लाईट नहीं है ना। बिना लाईट के मुझे डर लगता है।”

“ऐसे तो बड़े शेर बनते हो।”

“तुम भी तो झाँसी की शेरनी हो, तुम ही ला दो ना।”

“मैं.. मैं… ” इतने में ज़ोर की बिजली कड़की और निशा डर के मारे मेरी ख़िसक आई “मुझे भी अँधेरे से डर लगता है।”

“हे भगवान इस प्यासे को कोई मदद नहीं करना चाहता” मैंने तड़पते हुए मजनू की तरह जब शीशे पर हाथ रख एक्टिंग की तो निशा की हँसी निकल गई।

“मैं क्या मदद कर सकती हूँ?” उसने हँसते हुए पूछा

“तुम अपना ही पिला दो।”

“क्या मतलब?” उसने झट से अपना हाथ अपने उरोजों पर रख लिए “जीजू तुम फिर…?”

इतने बड़े अमृत-कलशों में दूध भरा पड़ा है थोड़ा सा पिला दो ना तुम्हारा क्या बिगड़ जाएगा” मैंने लगभग गिड़गिड़ाने के अन्दाज़ में कहा।

तो निशा पहले तो हँस पड़ी फिर नाराज़ होकर बोली,”जीजू तुम हद पार कर रहे हो।”

“अभी पार कहाँ की है तुम कहाँ पार करने दे रही हो?”

“जीजू मुझे नींद आ रही है” उसने आँखें तरेरते हुए कहा।

“हे भगवान क्या ज़माना आ गया है। कोई किसी की मदद नहीं करना चाहता।” निशा हँसते हुए जा रही थी। मैंने अपनी एक्टिंग करनी जारी रखी “सुना है झाँसी के लोगों का दिल बहुत बड़ा होता है पर अब पता चला कि बड़ा नहीं पत्थर होता है और पत्थर ही क्या पूरा पहाड़ ही होता है, टस से मस ही नहीं होता, पिघलता ही नहीं।” निशा हँसते-हँसते दोहरी होती जा रही थी। पर मेरी ऐक्टिंग चालू थी। “हे भगवान, इन ख़ूबसूरत लड़िकयों का दिल इतना पत्थर का क्यों बनाया है, इससे अच्छा तो इन्हें काली-कलूटी ही बना देता कम से कम किसी प्यासे पर तरस तो आ जाता।” मैंने अपनी ऐक्टिंग चालू रखी।

मैं तो शोले वाला वीरू ही बना था “जब कोई दूध का प्यासा मरता है तो अगले जन्म में वो कनख़जूरा या तिलचट्टा बनता है। हे भगवान, मुझे कनख़जूरा या तिलचट्टा बनने से बचा लो। हे भगवान मुझे नहीं तो कम से कम इस झाँसी की रानी को ही बचा लो।”

“क्या मतलब?”

“सुना है दूध के प्यासे मरते व्यक्ति की बददुआ से वो कंजूस लड़की अगले जन्म में जंगली बिल्ली बनती है। और इस ज्न्म में उसकी शादी २४वीं साल ही हो जाती है और अगले ३ सालों में ६ बच्चे भी हो जाते हैं।” मैंने आँखें बन्द किए अपने दोनों हाथ ऊपर फैलाए।

हँसते-हँसते निशा का बुरा हाल था। वो बोली “३ साल में ६ बच्चे… वो कैसे?”


RE: प्रेम गुरु की सेक्सी कहानियाँ - sexstories - 07-04-2017

मेरे कार्यक्रम की तो अब बस चंद लाईनें ही लिखनीं बाकी रह गई थीं। चिड़िया ने दाना चुगने के लिए जाल की ओर बढ़ना शुरु कर दिया था। मैंने कहा “अच्छा सच्चे आशिक़ की दुआ हो और भगवान की मर्ज़ी हो तो सबकुछ हो सकता है। हर साल दो-दो जुड़वाँ बच्चे पैदा हो सकते हैं।”

निशा ठहाके मारने लगी थी। हँसते-हँसते वो दोहरी होती जा रही थी। मैंने कहा चलो दूध नहीं पिलाना, ना सही, पर कम से कम एक बार दूध-कलश देख ही लेने दो।”

“देखने से क्या होगा?”

“मुझे तसल्ली हो जाएगी… एक झलक दिखाने से तुम्हारा क्या घिस जाएगा, प्लीज़ एक बार।”

“ओह… जीजू तुम भी ना… नहीं… ओह… तुम भी एक नम्बर के बदमाश हो, मुझे अपनी बातों के जाल में फिर उलझा ही लिया ना, मुझे तुमसे कोई बात नहीं करनी है।”

“अरे किसी की प्यास बुझाने से पुण्य मिलता है।”

निशा अब पूरी तरह से गरम हो चुकी थी। उसके मन में कशमकश चल रही थी कि आगे बढ़े या नहीं। मैं जानता हूँ पहली बार की चुदाई से सभी डरतीं हैं। और वो तो अभी अनछुई कुँवारी कली थी। पर मेरा कार्यक्रम बिल्कुल सम्पूर्ण था। मेरे चुंगल से वो भला कैसे निकल सकती थी। उसने आँखें बन्द कर रखीं थीं।

फिर धीरे से बोली “बस एक बार ही देखना है और कोई शैतानी नहीं समझे?”

“ठीक है बस एक बार एक मिनट और २० सेकेण्ड के लिए, ओके, पक्का… प्रॉमिस… सच्ची…” मैंने अपने कान पकड़ लिए। उसकी हँसी निकल गई।

दोस्तों मेरे कार्यक्रम का तीसरा और अन्तिम चरण पूरा हो गया था। मेरा दिल ज़ोरों से धड़क रहा था। कमोबेश यही हालत निसा की भी थी। उसने काँपती आवाज़ में कहा “अच्छा पहले लाईट बन्द करो, मुझे शर्म आती है।”

“ओह… अँधेरे में क्या दिखाई देगा? और फिर वो जंगली बिल्ली आ गई तो?”

“ओह.. जीजू.. .तुम भी…” इस बार उसने एक नम्बर का बदमाश नहीं कहा। और फिर उसने आँखें बन्द किए हुए ही काँपते हाथों से अपना टॉप थोड़ा सा उठा दिया…

उफ्फ… सिन्दूरी आमों जैसे दो रस-कूप मेरे सामने थे। ऐरोला कोई कैरम की गोटी जितना गुलाबी रंग का। घुण्डियाँ बिल्कुल तने हुए चने के दाने जितने। मैं तो बस मंत्रमुग्ध हो देखता ही रह गया। मुझे लगा जैसे मिक्की ही मेरे सामने बैठी है। उसके रस-कूप मिक्की से थोड़े ही बड़े थे पर थोड़े से नीचे झुके, जबकि मुक्की के बिल्कुल सुडौल थे. मैंने एक हाथ से हौले से उन्हें छू दिया। उफ्फ… क्या मुलायम नाज़ुक रेशमी अहसास था। जैसे ही मैंने उनपर अपनी जीभ रखी तो निसा की एक मीठी सी सीत्कार निकल गई।

“ओह जीजू… केवल देखने की बात हुई थी… ओह… ओह… यहा… अब… बस करो… मुझे से नहीं रुका जाएगा…” मैंने एक अमृत कलश पर जीभ रख दी और उसे चूसना चालू कर दिया। निशा की सीत्कार अब भी चालू थी। “ओह… जी… जू…. मुझे क्या कर दिया तुमने… ओह.. चोदो मुझे… आह। हाआआयय्य्ययय… ऊईईईईईई… माँ…….. आआआहहहह… बस अब ओर नहीं, एक मिनट हो गया है” उसने मेरे सिर के बालों को अपने दोनों हाथों में ज़ोर से पकड़ लिया और अपनी छाती की ओर दबाने लगी। मैं कभी एक उरोज को चूसता, कभी दूसरे को। वो मस्त हुई आँखें बन्द किए मेरे बालों को ज़ोर से खींचती सीत्कार किए जा रही थी। इसी अवस्था में हम कोई ८-१० मिनट तो ज़रूर रहें होंगे। अचानक उसने मेरा सिर पकड़ कर ऊपर उठाया और मेरे होंठों को चूमने लगी, जैसे वो कई जन्मों की प्यासी थी। हम दोनों फ्रेंच किस्स करते रहे। फिर उसने मुझे नीचे ढकेल दिया और मेरे ऊपर लेट कर मेरे होंठ चूसने लगी। मेरा पप्पू तो अकड़ कर कुतुबमीनार बना पाजामे में अपना सिर फोड़ रहा था। मैं उसकी पीठ और नितम्बों पर हाथ फेर रहा था। क्या मुलायम दो ख़रबूज़े जैसे नितम्ब, कि किसी नामर्द का भी लंड खड़ा कर दे। मैंने उसकी गहरी होती खाई में अपनी उँगलियाँ फिरानी शुरु कर दी। उसकी चूत से रिसते कामरस से गीली उसकी चूत और गाँड का स्पर्श तो ऐसा था जैसे मैं स्वर्ग में ही पहुँच गया हूँ।

कोई ५ मिनट तक तो उसने मेरे होंठ चूसे ही होंगे। वैसे ही जैसे उस ब्लैक फॉक्स ने उस १५-१६ साल के लड़के के चूसे थे। फिर वो थोड़ी सी उठी और मेरे सीने पर ३-४ मुक्के लगा दिए। और बोली “जीजू तुमने आख़िर मुझे ख़राब कर ही दिया ना!”

मैंने धीरे से कहा “ख़राब नहीं प्यार करना सिखाया है”

“जीजू तुम एक नम्बर के बदमाश हो”

मैंने अपने मन में कहा ‘मेरी रानी मैं एक नम्बर का नहीं दो नम्बर का भी बदमाश हूँ, थोड़ी देर बाद पता चलेगा’ पर मैंने कहा “अरे छोड़ो इन बातों को जवानी के मज़ा लो, इस रात को यादगार रात बनाओ”

“नहीं जीजू, यह ठीक नहीं होगा। मैं अभी तक कुँवारी हूँ। मैंने पहले किसी के साथ कुछ नहीं किया। मुझे डर लग रहा है कोई गड़बड़ हो गई तो?”

“अरे मेरी रानी अब इतनी दूर आ ही गए हैं तो डर कैसा तुम तो बेकार डर रही हो, सभी मज़ा लेते हैं। इस जवानी को इतना क्यों दफ़ना रही हो। अपने मन और दिल से पूछो वो क्या कहता है।” मैंने अपना राम-बाण चला दिया। मैं जानता था वो पूरी तरह तैयार है पर पहली बार है इसलिए डर रही है। मन में हिचकिचाहट है। मेरे थोड़े से उकसावे पर वह चुदाई के लिए तैयार हो जाएगी। चूत और दिल इसके बस में अब कहाँ हैं, वो तो कब के मेरे हो चुके हैं। बस ये जो दिमाग में थोड़ा सा खलल है, मना कर रहा है। मेरी परियोजना का अन्तिम भाग सफलता पूर्वक पूरा हो गया था। अब तो बस उत्पाद का उदघाटन करना था।

दोस्तों अब मुठ मारना बन्द करो, अरे भाई आज रात के लिए कुछ तो बचा कर रखो, क्या आप को रोज़ गाँड नहीं मारनी? और मेरी प्यारी पाठिकाओं, आप भी अपनी गीली पैन्टी में उँगली करना छोड़ो और आज रात की तैयारी करो।


This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


jaquline fernsndez xxxxBFAisi.xxxx.storess.jo.apni.baap.ke.bhean.ko.cohda.stores.kahani.coomgand sex anty wapsitwww com. sex videos Anna chelli HD estam ledabibi ko milake chudavaya sex porn tvarti agarwal nudes sexbabacuhtsexi Xnxxx hd videoभाभी रंडीnude saja chudaai videosuncle ne sexplain kiya .indian sex storyहोंठो को कैसे चोदते हे विडियो दिखाऐहॉट मजा कम मोठे लैंड से मुस्लिम लड़की की चुदाई चुत फाडूMutrashay.bf.bulu.pichar.filmwww xxx 35 age mami gand comnokara ke sataXxx sex full hd videoWWW.ACTRESS.SAVITA.BHABI.FAKE.NUDE.SEX.PHOTOS.SEX.BABA.Randi maa ke bur chudai ooohh ufffffgehri Neend mein kiya sex 7 inch xxnxxBedbfsexkhet me chaddhi fadkar chudai kahanibhabi ko mskaya storybur mein randinhdporn video peshb nikal diyachaut bhabi shajigSex story unke upur hi jhad gai sharamnewsexstory com hindi sex stories E0 A4 9A E0 A5 8B E0 A4 A6 E0 A4 A8 E0 A5 87 E0 A4 97 E0 A4 AF E0betatumahri ma hu Sun sexvideovimala.raman.ki.all.xxx.baba.photosFull hd sex download Regina Sex baba page Fotos चूतमे हात दालने का वीडीओhindi sex story forumsKeerthy suresh कि नंगी फोटो सेक्स मे चाहिऐboor ka under muth chuate hua video hdXXX jaberdasti choda batta xxx fucking https://chunmuniya.com/raj-sharma-stories-1-8www sexbaba net Thread hindi porn stories E0 A4 B9 E0 A4 BF E0 A4 A8 E0 A5 8D E0 A4 A6 E0 A5 80 E0 Achudakkad bahan rat din chudaiShweta menon phots bf xxxxxsexbabanet papa beto cudai kलहंगा mupsaharovo.ru site:mupsaharovo.ruPussy chut cataisex.comपांच सरदारों ने मुझे एकसाथ चोदा खेत मे सेक्स कहानियां हिंदीदो सहेलियों की आपस मे चुदाई भरी बातें हिंदी कहानीwww.telugu fantasy sex stnriesmabeteki chodaiki kahani hindimeuncle ne sexplain kiya .indian sex storywww.sexbaba.net/Thread-Ausharia Rai-nude-showing-her-boobs-n-pussy?page=4tellagake prno bfxxxchoot की आग mitane ko shauhar ko uksayaNude Shenu pairkh sex baba picsSexbabanet kavya gifjanbhujke land dikhayamadhvi ki boobs jethalalहवेली में सामुहिक चुदाईansha shyed ki possing boobs photosma ke chudai tamatar ke khet xxx storySirf marathi me maa aur saga beta sex xxxallia bhatt sex photo nangi Baba.netbeti chod sexbaba.netAbby ne anjane me chod diya sex storyJalidar bra pnti wali ki atrvasnaHindi HD video dog TV halat mein Nashe ki SOI Xxxxxxxxx bhikh dene bahane ki chudaiusne lal rang ki skirt pehan rakhi thi andar kuch nahi uski chuchiyanwww.bas karo na.comsex..www.hindisexstory.rajsarmaVe putt!! Holi kr haye sex storyxxx sex deshi pags vidosma bete ka jism ki pyass sex kahanisouteli me ko bur chod kar bachha kiya sexbaba chodai storylan chukane sexy videosvijya tv jakkinin sex nudu photos sexbabaमाँ के होंठ चूमने चुदाई बेटा printthread.php site:mupsaharovo.ruUrdu sexy story Mai Mera gaon family Trisha ki chudai kiLand mi bhosari kaise kholte xxx photoShemale or gym boy ki story bataye hindi me batohandi sex stori