XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - Printable Version

+- Sex Baba (https://sexbaba.co)
+-- Forum: Indian Stories (https://sexbaba.co/Forum-indian-stories)
+--- Forum: Hindi Sex Stories (https://sexbaba.co/Forum-hindi-sex-stories)
+--- Thread: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी (/Thread-xxx-kahani-%E0%A4%8F%E0%A4%95-%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%90%E0%A4%B8%E0%A4%BE-%E0%A4%AD%E0%A5%80)

Pages: 1 2 3 4 5 6 7


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

***********
अब आगे
***********


राणा को तो विश्वास ही नही हो रहा था की वो काजल के साथ अकेला है...केशव के रूम मे जाते ही राणा तो किसी रईस अय्याश की तरह पलंग पर लेट गया, जैसे मुज़रा सुनने आया हो वहाँ पर..और लेटने के साथ ही उसने अपनी दोनो जेबों में से पैसों की गड्डियां निकाल कर अपने सामने रख दी..शायद काजल को इंप्रेस करने के लिए..वो लगभग 2 लाख रुपय थे..लाल नोटों की गड्डियां देखकर काजल की तो आँखे ही फटने को आ गयी...और अंदर से तो उसे जैसे ये विश्वास भी हो चुका था की कुछ ही देर में वो सारा पैसा उसके पास होगा..

वो आँखे फाड़कर नोटों को देख रही थी और राणा उसके चेहरे और मुम्मों को..एक्ससाइटमेंट की वजह से उसके उपर नीचे हो रहे सीने को देखकर वो काफ़ी खुश सा हो रहा था..और जब उसने देखा की काजल की नज़रें उसके आगे रखे पैसों की तरफ है तो उसके कमीने दिमाग़ में एक आइडिया आया..वो सारे पैसे उसके लंड के बिल्कुल आगे की तरफ रखे थे...और वो तो कब से खड़ा होकर अंदर ही अंदर हुंकार रहा था..उसने बड़ी ही बेशर्मी का प्रदर्शन करते हुए अपने लंड को ज़ोर से खुजलाना शुरू कर दिया...जैसे अंदर से उसे कोई कीड़ा काट रहा हो..

अपनी नज़र के सामने पड़े पैसों के बिल्कुल पीछे ऐसी हलचल होती देखकर काजल का भी ध्यान उस तरफ चला गया..और जब उसे एहसास हुआ की वो कर क्या रहा है तो उसका चेहरा लाल सुर्ख हो उठा..क्योंकि पेंट के उपर से उसके 9 इंच के मोटे लंड की रूपरेखा साफ दिख रही थी..वो अपने हथियार को उपर से नीचे तक सहला रहा था, उंगलियों के नाखूनों से नोच सा रहा था..और उत्तेजना में भरकर वो किसी बँधे हुए जानवर की तरह हिनहीना रहा था अपने पिंजरे में ..

काजल ने तो अभी तक सिर्फ़ केशव का ही लंड देखा था...और अब दूसरे को लगभग देख ही लिया था...मतलब उसकी लंबाई का अंदाज़ा तो लग ही रहा था उसकी पेंट से...उसकी लाइफ की सबसे ज़रूरी चीज़े उसके सामने थी इस वक़्त..पैसा भी और लंड भी...पर अभी तक उसने दोनो को सही से एंजाय नही किया था...पैसे तो वो खेर कर ही लेगी..पर लंड का मज़ा लेने के लिए वो ज़्यादा इंतजार नही करना चाहती थी.

राणा भी समझ चुका था की वो अपने प्लान मे सफल रहा है.

राणा : "बैठो ना काजल...पूरी रात नही है हमारे पास...ये देखन दिखाई भी करते रहते..''

उसने उसके मोटे-2 मुम्मों को घूरते हुए कहा.

काजल ने शरमा कर अपना मुँह झुका लिया....वो समझ गयी की उसका इशारा किस तरफ है...

काजल उसके सामने अपनी टांगे मोड़ कर बैठ गयी ... राणा ने पत्ते बाँटे और खेल शुरू हुआ.

जैसा की डिसाईड हो चुका था, ब्लाइंड 500 की चली गयी...3-3 ब्लाइंड चलने के बाद एकदम से राणा ने ब्लाइंड को बढ़ाकर 1000 कर दिया...काजल ने भी 1000 की ब्लाइंड चल दी..

2 ब्लाइंड चलने के बाद ना जाने काजल के मन मे क्या आया, उसने अपने पत्ते उठा लिए...राणा तो सोच कर बैठा था की वो तब तक नही उठाएगा, जब तक काजल नही उठाती...पैसे की कमी तो थी नही उसके पास...इसलिए वो पीछे नही हटना चाहता था..

काजल के पास हमेशा की तरह चाल चलने लायक पत्ते आए थे...9 का पेयर था उसके पास..

उसने अगले ही पल 2 हज़ार की चाल चल दी..अब राणा ने भी अपने पत्ते उठा लिए..उसके पास सबसे बड़ा पत्ता बादशाह था...कुछ ख़ास नही था उसके पास, और सामने से चाल भी आ चुकी थी...पर फिर भी काजल के चेहरे पर थोड़ी और खुशी देखने के लिए उसने भी 2 हज़ार बीच में फेंके और शो माँग लिया..

राणा ने अपने पत्ते सामने रखे और काजल ने अपने...और दोनो तरफ के पत्ते देखकर काजल ने खुशी से एक चीख मार दी...और सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए.

नीचे बैठे केशव को वो खुशी से भरी चीख सुनाई दे गयी...और वो समझ गया की उपर की कमाई शुरू हो चुकी है..

राणा : "काजल...तुम्हारी किस्मत सच मे बड़ी कमाल की है...वैसे तो मैने आज तक किसी लड़की के साथ जुआ नही खेला...आज खेला भी तो तुम्हारे साथ , जिसके हाथों हारने में भी कोई परेशानी नही है मुझे...''

काजल समझ गयी की वो उसके उपर लाइन मार रहा है...अब खूबसूरत लड़कियों की ये सबसे बड़ी प्राब्लम होती है...उन्हे पता होता है की एक बंदा पहले से सेट है उनके हाथ (केशव) पर फिर भी नये आशिक़ों को वो मना नही करती..अपने उपर मरने वालों मे एक और नाम लिखवाने में भला किसे प्राब्लम हो सकती है..

राणा की दिलफेंकी वैसे भी पूरे मोहल्ले मे माशूर थी..गली से निकलते हुए पहले भी वो कई बार उसकी भूखी आँखों का सामना कर चुकी थी...पर आज माहौल अलग था...वो अपने पैसे लुटवाने के लिए उसके सामने तैयार बैठा था...और उपर से उसपर लाइन भी मार रहा था...दोनो ही बातें काजल को पसंद आ रही थी.

काजल ने गोर किया की राणा का हाथ अभी भी उसके लंड के उपर सरक रहा है...जैसे वो जान बूझकर उसे अपने लंड को दिखाना चाहता था..काजल की चूत में भी खुजली सी होने लगी...शायद केशव होता उसके सामने तो वो भी अपनी चूत वाले हिस्से को रगड़कर वहाँ की खुजली मिटा लेती..पर राणा के सामने ऐसा करना उसे सही नही लगा...वो बस अपनी दोनो जांघों को भींच कर आपस मे रगड़ने लगी..ताकि राणा को पता ना चले की वो कर क्या रही है.


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

पर आना तो एक नंबर का हरामी था , उसके पैरों की हल्की हरकत को देखकर वो एक ही पल मे समझ गया की वो क्या कर रही है...यानी वो इस समय उत्तेजित है और अगर वो अपनी तरफ से थोड़ी सी कोशिश करे तो उसका काम बन सकता है.

राणा ने अपनी टांगे थोड़ी और फेला कर रख दी...और ऐसा करने से उसके आगे वाला हिस्सा और भी ज़्यादा फूल कर बाहर की तरफ निकल आया..ऐसा लग रहा था की उसकी पेंट के अंदर बाँस का बंबू लगा कर टेंट बनाया गया है...और बेशरम राणा उसे छुपाने के बजाए और भी ज़्यादा उभारकर दिखाने की कोशिश कर रहा था.

अगले पत्ते काजल ने बाँटे...पर उसका ध्यान सिर्फ़ और सिर्फ़ तंबू और बंबू पर ही था..

3 ब्लाइंड चलने के बाद राणा ने 1000 की दो ब्लाइंड और चल दी...इस बार काजल ने भी सोच लिया था की वो पत्ते नही उठाएगी..उसने 2 हज़ार की ब्लाइंड कर दी..राणा ने भी उसका साथ दिया...अगली 3 ब्लाइंड 2 हज़ार की आई...ब्लाइंड मे ही इतना पैसा इकट्ठा हो चुका था , जितना की नीचे बैठे जुआरी चाल चलने के बाद भी इकट्ठा नही कर पा रहे थे..

अब राणा ने थोड़ा और आगे बढ़ने की सोची...

अभी तक होता क्या था, राणा जब भी ब्लाइंड या चाल चलता था,अपने पैसे चूम कर नीचे फेंकता था...और पत्ते भी पहले चूमता था और उसके बाद देखता था..ये उसका टोटका था, जो अभी तक चला नहीं था

इस बार जब उसने अपनी अगली चाल चली तो पैसे अपने होंठों से चूमने के बदले अपने खड़े हुए लंड पर घिस कर दिए...पहली बार राणा को ऐसा करते देखकर काजल हैरान भी हुई और शरम से लाल भी..पर जब अगली बार उसने फिर से ऐसा किया तो उससे रहा नही गया, वो बोल पड़ी : "अब ये क्या तरीका है...''

उसने उसकी टाँगो के बीच इशारा करते हुए कहा..

राणा (मुस्कुराते हुए) : "ये मेरा टोटका है...जब मैं हारने लगता हू तो अपने दोस्त की मदद लेता हू...अब जीवन तो नीचे बैठा है, इसलिए अपने दूसरे दोस्त की मदद ले रहा हू..''

काजल (हँसते हुए, शरारती आवाज में बोली ) : "ऐसा थोड़े ही होता है...''

काजल को अपनी बातों में फँसता देखकर राणा बोला : "अब ये तो इस गेम के बाद ही पता चलेगा...''

काजल को भी डर सा लगने लग गया...वैसे भी बीच मे लगभग 15 हज़ार आ ही चुके थे...उसने अपने पत्ते उठा कर देख लिए..इस बार पहली दफ़ा उसके पास ढंग के पत्ते नही आए थे...बादशाह, बेगम और चोक्की...पर फिर भी उसने 2000 बीच मे फेंकते हुए शो माँग लिया.

राणा ने उसके पत्ते देखे..और फिर अपने पत्ते उठा लिए..और उन्हे फिर से एक बार अपने खड़े हुए लंड पर रगड़ा और खुद बिना देखे उन्हे नीचे फेंक दिया..

उसके पास 1,2,3 की सीक़वेंस आई थी...राणा को तो खुद ही विश्वास नही हुआ की उसके पास इतने बढ़िया पत्ते आए हैं...और वो भी उस वक़्त जब उसने लंड पर रगड़ने वाले टोटके का तुक्का मारा था...आज से पहले उसने ऐसा कुछ भी नही किया था...वो तो बस काजल को उकसाने के लिए और उसे अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए उसने बोल दिया था..पर वो नही जानता था की असल में वो जीत जाएगा..पर जो भी था, वो अंदर से काफ़ी खुश हो रहा था..क्योंकि अब काजल को उसकी बात पर विश्वास हो जाएगा..और वो खुलकर वो सब कर सकेगा जो उसने पहले से सोच लिया था..

काजल भी पहली बार हारकर थोड़ा मायूस थी...जब से उसने तीन पत्ती खेलना शुरू किया था, वो हारी ही नही थी..शायद ओवर कॉन्फिडेंट हो चुकी थी वो...वो सोचने लग गयी की ऐसा क्यो हुआ, क्या राणा ने जो टोटका अपनाया उसकी वजह से...वो सही भी था शायद..क्योंकि अभी तक वो खुद भी तो बिना अंडरगारमेंट्स के खेल रही थी..वो भी तो एक टोटका ही था, क्योंकि पहले जब वो केशव के साथ अंदर के कपड़े पहन कर खेली थी तो वो हारती जा रही थी..केशव ने ही उसे ये सलाह दी थी..और जब से उसने अपनी ब्रा और पेंटी उतार कर खेलना शुरू किया वो हारी ही नही..पर अब हार गयी...और वो शायद इसलिए की शायद उसका टोटका ज़्यादा भारी पड़ गया उसके उपर..

अब वो बेचारी उन बातों में इतनी अंदर तक घुस गयी थी की ये भी नही समझ पा रही थी की ये मात्र इत्तेफ़ाक़ था...ऐसे पत्तों पर किसी का भी ज़ोर नही चलता..और अभी तक सिर्फ़ और सिर्फ़ उसकी किस्मत ही उसका साथ दे रही थी..केशव ने भी सिर्फ मजे लेने के लिए उसके अंडरगारमेंट्स निकलवाए थे, और वो उसके मजे भी ले चूका था, पर बेचारी काजल समझ कर बैठी थी

राणा ने पैसे समेट लिए और गोर से उसके चेहरे को देखते हुए ये जानने की कोशिश करने लगा की काजल के दिमाग़ में चल क्या रहा है..

खेर, जब अगली गेम शुरू हुई तो राणा ने फिर से वही हरकत करनी शुरू कर दी...और इस बार तो वो और भी ज़्यादा बेशर्मी पर उतर आया..ये जानते हुए भी की काजल घूर-2 कर वहीं देख रही है, वो अपने खड़े लंड पर लाल नोटों को ज़ोर-2 से रगड़कर नीचे फेंकने लगा..

इस बार काजल ने चांस नही लिया..वो देखना चाहती थी की क्या इस बार भी राणा का टोटका काम करेगा..उसने अपने पत्ते उठा लिए..उसके पास 3 का पेयर आया था..पत्ते एक बार फिर से चाल चलने लायक थे..इसलिए उसने 2000 की चाल चल दी..पर राणा ने बिना पत्ते देखे, एक बार फिर 1000 का नोट अपने खड़े लंड पर मसल कर नीचे फेंक दिया..अब काजल फिर से घबराने लगी, क्योंकि राणा एक दम कॉन्फिडेंट होकर वो ब्लाइंड चल रहा था..जैसे वो जानता हो की उसके पास बड़िया पत्ते ही आएँगे..

अब केशव भी उसके साथ नही था, जिससे पूछ कर वो कोई डिसीसन ले सकती...उसने अपने दिल की बात मानते हुए शो माँग लिया.


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

राणा ने फिर से एक बार बिना देखे ही अपने तीनों पत्ते उसके सामने पलट दिए..और उन्हे देखकर काजल को पक्का विश्वास हो गया की अब उसका नही बल्कि राणा का टोटका हावी है गेम पर..

क्योंकि उसके पास 10 का पेयर आया था..

राणा ने मुस्कुराते हुए एक बार फिर से वो सारे पैसे समेट लिए.

राणा : "देखा ...मैने कहा था ना...मेरा टोटका है ये...''

काजल ने भी सोच लिया की वो भी ये टोटका ट्राइ करेगी..

अगली ब्लाइंड चलने से पहले काजल ने वो किया जो राणा ने सोचा भी नही था..काजल ने 1000 का नोट लेकर सीधा अपने मुम्मे पर रगड़ा और उसे नीचे फेंक दिया..

राणा : "हा हा हा ...तो तुम भी इन बातों पर विश्वास करती हो...''

काजल : "हाँ ..तभी तो मैने अंदर कुछ भी नही .....''

वो बोलते-2 रुक गयी....पर तब तक बहुत देर हो चुकी थी...राणा को उसकी ब्रा और पेंटी के गायब होने का राज पता चल चुका था..और वो ये सुनकर बड़ी ही बेशर्मी से अपने होंठों पर जीभ फेरता हुआ मुस्कुराने लगा.

राणा : "इसमें शरमाने की क्या बात है...सही है...अगर तुम उसकी वजह से जीत रही हो तो इसमे नुकसान ही क्या है...बस सामने बैठे लोगो को थोड़ी परेशानी हो जाती है, पर उससे तुम्हे क्या, तुम्हे तो जीतने से मतलब है बस..''

काजल उसकी बात सुनकर शर्म से गड़ी जा रही थी..

अगली बार फिर से राणा ने हज़ार का नोट अपने लंड से रगड़ा...और फिर उसके बाद काजल ने भी अपने मुम्मे पर ..अब वो ऐसा करते हुए शरमा भी नही रही थी...अपने ही हाथों अपने मुम्मे को रगड़ना और वो भी राणा के सामने, उसे पूरी तरह से उत्तेजित कर रहा था...उसके बदन मे चींटियाँ सी काट रही थी..वो करारे नोट को जब अपने खड़े हुए निप्पल के उपर रगड़ती तो एक अजीब सी झनझनाहट होती उसके जिस्म में ..और वो बेचारी सिसक भी नही सकती थी..बस दाँतो से होंठ दबा कर ब्लाइंड चलती रही..

कुछ देर बाद काजल ने अपने पत्ते उठा ही लिए..उसके पास सिर्फ़ इक्का और 5, 9 नंबर आए थे...इकके के बल पर चाल चलना काफ़ी रिस्की था, पर वो देखना चाहती थी की उसका ये टोटका भी काम कर रहा है या नही..इतना सोचते हुए उसने शो माँग लिया

राणा ने हर बार की तरह गहरी मुस्कान के साथ अपने पत्ते उठाए , उन्हे अपने खड़े लंड से रगड़ा...और बिना देखे ही सामने फेंक दिए.

उसके पास 2,3 और 9 नंबर आए थे...यानी ये गेम सिर्फ इक्के के बल पर काजल जीत चुकी थी...और काजल ने खुशी की किल्कारी मारते हुए वो सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए..

और उसे जीतता देखकर राणा भी काफ़ी खुश था...दरअसल वो चाहता भी यही था..क्योंकि अगर वो जीत जाता तो काजल उसकी इस झूटी टोटके वाली बात पर कभी विश्वास नही करती...अब तो राणा को एक तरीका मिल गया था उसे उत्तेजित करने का...उसे अपनी तरफ आकर्षित करने का..

अगली गेम शुरू हुई...और काजल ने ब्लाइंड चल दी...और इस बार उसने एक-2 करते हुए अपने दोनो मुम्मों पर नोट रगड़ा ...उसके मुम्मों की थिरकन से राणा की आँखे चुंधिया सी रही थी..और वो बड़ी मुश्किल से अपने आप पर कंट्रोल रखकर बैठ हुआ वो देख रहा था.

राणा की बारी आई तो उसने एक और डेयरिंग दिखाई...उसने धीरे से अपनी जीप खोल दी..उसके अंडरवीयर मे फँसे लंड को थोड़ा और फेलने की जगह मिल गयी..और फिर उसने अपने खड़े हुए लंड को अपने हाथ से मसला..उसे सहलाया..और फिर हज़ार के नोट को उसने अंदर डाल कर उससे टच करवाया..यानी अपने नंगे लंड से ..और फिर वो नोट नीचे फेंक दिया.

राणा : "मुझे लगता है इसको सीधा टच करवाने से ही असली असर आएगा ...मेरा जादू तभी चलेगा...''

काजल उसकी बातें सुन रही थी और अपनी फटी हुई आँखों से उसके उभार को देखकर साँस लेना भी भूल गयी थी..

ऐसा लग रहा था की उसने अंडरवीयर मे नाग पाल रखा है..जो किसी भी पल बाहर निकल कर उसपर हमला कर देगा..

काजल मे इतनी भी हिम्मत नही हुई की वो उसे ऐसा करने से मना कर दे...उसके कमरे में वो राणा अपनी बेशर्मी दिखा रहा था, वो चाहती तो उसे ऐसा करने से मना कर सकती थी..खेल को छोड़ सकती थी...अपने भाई को आवाज़ देकर उपर बुला सकती थी और उसे बता सकती थी की देखो, तुम्हारा दोस्त कैसी गंदी हरकत कर रहा है...पर ये सब तो तब होता ना जब वो ऐसा करना चाहती....वो तो ऐसा सीन देखकर खुद ही उत्तेजना के शिखर पर पहुँच चुकी थी...उसकी नंगी चूत में से पानी निकल कर उसके पायजामे में गीला धब्बा बना चुका था...उसके कड़क निप्पल टी शर्ट में ड्रिल करके छेद बनाने की कोशिश कर रहे थे..और ये सब उसे इतना रोमांचित कर रहा था की वो बस यही चाह रही थी की ये सब ऐसे ही चलता रहे...कोई उन्हे डिस्टर्ब ना करे...आज बात बढ़ती है तो बड़ जाए...वो भी देखना चाहती थी की ये खेल कहाँ तक चलता है..

काजल ने अपनी ब्लाइंड चली...पर सिर्फ़ अपने मुम्मों के उपर से ही रगड़कर ...राणा की तरह अंदर डालकर नही.

राणा ने 2 ब्लाइंड ऐसे ही चल दी...काजल ने सोचा की अब फिर से चांस नही लेना चाहिए...तो उसने अपने पत्ते उठा लिए...और इस बार उसके चेहरे पर खुशी आ ही गयी...क्योंकि उसके पास कलर आया था...लाल पान का कलर..3,5,9 नंबर..

उसने 2 हज़ार उठाए..उन्हे अपने मुम्मों पर बुरी तरह से रगड़ा और नीचे फेंक दिए..

राणा समझ गया की उसके पास ढंग के पत्ते आ चुके हैं...अब वो मन ही मन उपर वाले से दुआ माँग रहा था की वो ये बाजी जीत जाए...क्योंकि ये आख़िरी प्रयास था काजल को बोतल मे उतारने का..अपनी झूटी बात का उसपर प्रभाव डालने का..

और इस बार उसने बेशर्मी का एक और परदा गिराते हुए जब अपने लंड पर नोट रगड़ा तो अपने अंडरवीयर को थोड़ा नीचे खिसका दिया...और ऐसा करते ही उसका भूरे रंग का लंड काजल की आँखो के सामने प्रकट हो गया...आधे से ज़्यादा उसने लंड को नंगा करके काजल के सामने परोस दिया..और बड़े ही आराम से उसपर नोट को रगड़कर वो ये दिखाने की कोशिश कर रहा था की वो कोई मंत्र पड़ रहा है...और फिर उसने एक और ब्लाइंड चल दी..

काजल की बारी थी..पर वो तो एकटक उसके लंड को घूरने में लगी थी.

राणा समझ गया की चिड़िया ने दाना चुग लिया है..वो बोला : "चल काजल ...अपनी चाल चल...इसे देखने के लिए तो पूरी रात पड़ी है...''

काजल झेंप गयी..उसने फिर से 2 हज़ार की चाल चल दी...वैसे ही..अपने मुम्मों से नोटों को रगड़कर..

अब राणा ने अपने पत्ते उठा लिए....और उसे ऐसा लगा की उपर वाले ने उसकी फरियाद सुन ली है..क्योंकि उसके पास एक बार फिर से सीक़वेंस आया था...7,8,9 नंबर..


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

***********
अब आगे
***********

उसने चाल को डबल करते हुए 4 हज़ार कर दिया और इस बार अपने अंडरवीयर को पूरा नीचे खिसका कर लंड और टटटे पूरी तरह से उजागर कर दिए काजल के सामने और उनसे रगड़कर उसने हर बार की तरह चाल चली...

अब आलम ये था की राणा काजल के सामने नीचे से लगभग नंगा होकर बैठा था...उसका पठानी लंड अपने पूरे शबाब पर था..लगभग 9 इंच के आस पास...जो केशव से भी बड़ा था...अपने सामने ऐसे खड़े हुए लंड को देखकर काजल तो पागल सी हुई जा रही थी..ऐसा नज़ारा देखने को मिलेगा, उसने तो सोचा भी नही था.

पर साथ ही साथ उसका ध्यान गेम पर भी था...अब इतना तो उसे पता चल ही गया था की सामने से जब डबल चाल आए, इसका मतलब सामने वाले के पास भी बाड़िया पत्ते आए हैं...4 हज़ार की ब्लफ तो नही करेगा कोई...

उसने भी 4 हज़ार नीचे फेंकते हुए शो माँग लिया...

काजल ने पत्ते नीचे रखे...और राणा ने भी अपने पत्ते उसके सामने फेंक दिए..जिन्हे देखकर उसके मन में फिर से एक बार मायूसी छा गयी...वो समझ गयी की राणा अपनी जगह पर सही है...और उसके टोटके उसपर तभी भारी पड़ते हैं जब वो थोड़ा बड़-चड़कर उन्हे करता है...

और इस बार काजल ने भी सोच लिया की उसे क्या करना है..

और जब अगली गेम शुरू हुई तो काजल ने बिना राणा की तरफ देखे, अपनी टी शर्ट के गले की जीप नीचे करी..और ऐसा करते ही उसके दूधिया मुम्मे राणा की भूखी आँखों के सामने प्रकट हो गये..वो किसी दूध के पर्वत की तरह कठोरता लिए हुए कड़क अंदाज में खड़े हुए थे...सिर्फ़ निप्पल को छोड़कर सब सॉफ दिख रहा था राणा को...

काजल ने नोट लिया और उन्हे अपने दूधिया पर्वत पर घिसा...और उसे नीचे फेंक दिया..

राणा को और क्या चाहिए था...वो अपनी तरकीब में कामयाब हो गया था..अब वो इस खेल को एक नये आयाम तक ले जाना चाहता था....


राणा तो जैसे इसी पल का वेट कर रहा था...उसने भी अपनी पेंट और अंडरवीयर घुटनो से नीचे खिसका दिया..और हज़ार के नोट को बुरी तरह से घिस कर नीचे फेंक दिया.

काजल के सामने अब राणा का लंड पूरी तरह से नंगा था...उपर से नीचे तक...एकदम कठोर, कुतुब मीनार की तरह खड़ा था वो..काजल की आँखो में उसके लंड को पाने का लालच साफ़ झलक रहा था..राणा भी इस गेम के ज़रिए ज़्यादा देर तक तड़पना नही चाहता था..पर उसे बोले भी तो कैसे बोले...वो कुछ बोलने ही वाला था की नीचे से किसी के उपर आने की आवाज़ आई...

राणा ने झट से अपनी पेंट उपर खींच ली..और काजल ने भी अपनी जीप को बंद कर लिया..

उपर आने वाला केशव के अलावा कौन हो सकता था..उसके हाथ मे दारू का ग्लास था..शायद राणा और काजल के उपर आते ही नीचे दारू शुरू हो चुकी थी...केशव की हालत देखकर सॉफ लग रहा था की उसे चढ़ चुकी है..

केशव : "कौन जीत रहा है अभी तक....ह्म्*म्म्म''

राणा : "यार केशव...तेरी बहन ने तो मेरी हालत ही खराब कर रखी है...देख ना कितने नोट ले गयी मेरे...''

राणा ने काजल की जाँघ के नीचे दबे नोटों की तरफ इशारा करते हुए कहा..

केशव तो नशे मे था, ये सुनकर वो और मस्ती मे आ गया..और उसने झुक कर काजल को गले से लगा लिया..और उसके चेहरे पर चूम भी लिया : " ये तो मेरी चेम्पियन है...देखना अभी तू...तेरे सारे पैसे लूट लेगी..''

राणा : "मैं तो कब से लुटने के लिए बैठा हू...पता नही कब लूटेगी ये...''

राणा की बात केशव के तो उपर से निकल गयी..पर काजल की तिरछी निगाहों और स्माइल ने सब बयान कर दिया की वो समझ चुकी है की राणा क्या कहना चाहता है..

काजल : "केशव , तुम नीचे जाओ अब...ऐसे डिस्टर्ब करोगे तो मैं इसको लूटूँगी कैसे...''

उसने अपने होंठों को दाँत तले दबाकर कहा..

रसगुल्ले को निचोड़ने से जिस तरह से रस निकलता है, वैसे ही रस टपक गया काजल के होंठों से, जब उसने अपने दाँतों के बीच उन्हे भींचा..

राणा तो उसके रसीले होंठों को चूसने के लिए पागल सा हुआ जा रहा था..और अब तो काजल ने भी लाइन देनी शुरू कर दी थी...पर उसने भी सोच लिया था, अभी तक जैसे चल रहा था, वैसे ही चलने देगा..क्योंकि खेल खेलने में और धीरे-2 बेपर्दा करने मे जो मज़ा उसे मिल रहा था,वो उसे खोना नही चाहता था..

केशव : "ओके ...ओके ...मैं जा रहा हू ....मैं तो बस राणा के लिए ये पेग बना कर लाया था...चीयर्स ...''

और दारू का पेग राणा को देकर केशव नीचे चल दिया..


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

राणा ने वो पेग एक ही साँस मे पी डाला...एक गर्मी सी उतरती चली गयी उसके सीने के अंदर..और एक झटके में पीने से हल्का सरूर भी एकदम से ही आ गया..

अपनी नशीली आँखों से काजल को देखते हुए उसने अपनी पेंट एक बार फिर से नीचे खिसका दी..वैसे तो ब्लाइंड चलने की बारी काजल की थी..पर फिर भी उसने एक नोट लिया और थोड़ा सा मुरझा गये लंड को फिर से घिसकर खड़ा कर लिया..

काजल ने भी बड़े ही सेक्सी तरीके से राणा को देखते हुए अपनी टी शर्ट की जीप खोली, पहले की तरह ही उसकी छातियाँ उभरकर बाहर निकल आई..और फिर उसने वो किया जो अभी तक राणा ने सोचा भी नही था..और जिसे देखने के लिए वो ये सब ड्रामा कर रहा था अभी तक...

काजल ने अपना दाँया हाथ अंदर की तरफ घुसेड़ा और अपने बांये मुम्मे को कान से पकड़कर बाहर ले आई..उसके पिंक कलर के निप्पल्स देखकर राणा की आँखे ही चुंधिया गयी...और राणा की आँखो की भूख को देखते-2 काजल ने अपना नोट उसपर रगड़ा और बड़े ही स्टाइल से उसे नीचे लहरा दिया..

और अपने मुम्मे को अंदर करने की भी जहमत नही उठाई काजल ने...उसका एक उभार अब पूरी तरह से नंगा होकर बाहर लटक रहा था..

राणा : "काजल....क्या कमाल के बूब्स है तुम्हारे...मन कर रहा है इन्हे दबोच लू...चूस लू...निचोड़ डालु...''

काजल पर तो पहले से ही ठरक सवार थी...राणा की ऐसी गंदी बातें सुनकर वो और भी ज़्यादा उत्तेजना से भर उठी..

उसने मन ही मन कहा 'तो कर ले ना राणा...रोका किसने है तुझे..'

अब एक लड़की होकर उसने अपनी तरफ से इतना कुछ कर दिया, और कुछ करके वो एक रंडी जैसी नही बनना चाहती थी..

राणा भी उसकी हालत का अंदाज़ा लगाता हुआ अंदर से खुश हो रहा था..अब एक बात तो पक्की थी की वो उसकी चुदाई कर ही लेगा..केशव के उपर आने से पहले राणा अपनी तरफ से पहल करके प्यार का खेल शुरू करना चाहता था..पर अब जब काजल ने खुद ही अपने जिस्म की नुमाइश करनी शुरू कर दी है , इसका मतलब वो भी उतनी ही उतावली है जितना की वो, और एक उतावली लड़की से प्यार करवाने में जो मज़ा मिलता है, वो अपना उतावलापन दिखाकर उसे प्यार करने मे नही है..राणा वैसे भी अपने आप को किसी राजा से कम नही समझता था..वो आराम से लेट कर मज़े लेने वालो में से था, यानी सामने वाली से अपने आप को प्यार करवाकर मज़ा लेने वालो में से...

राणा ने काजल की आशा के अनुसार कुछ नही किया और फिर से अपनी गेम के अंदर घुस गया..हज़ार के दो नोट लिए और उन्हे लंड से मसल कर नीचे फेंक दिया.

काजल थोड़ी हैरान ज़रूर हुई पर फिर ये सोचकर की शायद वो केशव के नीचे बैठे होने की वजह से घबरा रहा है, इसलिए कुछ नही कर रहा ..

काजल : "अब शायद केशव उपर नही आएगा...वो सब पीने मे मस्त हो चुके हैं..''

जैसे वो राणा को ये बताना चाहती हो की कर ले घोंचू , जो भी करना है, केशव नही आने वाला अब उपर..

राणा भी उसकी बात का मतलब समझ गया, फिर भी उसने बात घुमा दी और बोला : "हाँ ...पर उसका अपना घर है, कभी भी आ सकता है...ऐसे खेल के बीच में डिस्टर्ब नही होना चाहता मैं बार -2...''

काजल समझ नही पा रही थी की उसके मन मे आख़िर चल क्या रहा है...ऐसा भी कोई चूतिया होता है क्या जो एक लड़की के नंगे मुम्मे को देखकर भी अडिग रहे...और वो भी राणा जैसा हरामी, जो उसे देखकर गली में भी छेड़ता था...और अब जब वो खुद उसके सामने ऐसी हालत मे बैठी है, वो साधु बना बैठा है.

काजल ने भी ठान लिया की वो भी रम्भा बनकर इस विश्वामित्र की तपस्या भंग करके दिखाएगी..

पर अब तक बीच मे काफ़ी पैसे इकट्ठे हो चुके थे...और वो ये भी देखना चाहती थी की इस बार उसका टोटका सही काम कर रहा है या नही..इसलिए उसने अपने पत्ते उठा लिए..

उसके पास 5 का पेयर आया था...वो खुश हो गयी...और इसी खुशी मे उसने अपने दूसरे मुम्मे को भी बाहर खींच निकाला और राणा की अदालत के सामने नंगा कर दिया..

अब तो राणा का ईमान बुरी तरह से डोलने लगा..सिर्फ़ गले वाले हिस्से से बाहर निकालने की वजह से उसके दोनो मुम्मे अकड़ से गये थे...और उसे जिप भी चुभ रही थी उनपर..वो कभी इधर से तो कभी उधर से उन्हे सहलाने लगी..


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

राणा का ध्यान उसके मुम्मों के साथ-2 गेम पर भी था..काजल की तरफ से चाल आती देखकर उसने भी पत्ते उठा लिए..उसके पास चिड़ी का कलर आया था..उसने भी अपने लंड से रगड़कर 4 हज़ार की चाल चल दी..

चाल के उपर चाल आती देखकर काजल डर गयी...अब इतना तो वो समझने ही लगी थी की ऐसी हालत मे गेम किसी की भी हो सकती है...वैसे भी एक पेयर ही तो आया था उसके पास और वो भी काफ़ी बड़ा नही था..इसलिए उसने मन मसोस कर शो माँग लिया..और अपने दोनो मुम्मों से अच्छी तरह से पैसे रगड़ने के बाद उन्हे नीचे फेंक दिया..

उत्तेजना और उपर से लगातार मिल रही रगड़ाई से उसके निप्पल लाल हो चुके थे...और बुरी तरह से अकड़ भी गये थे..काजल को हल्का -2 दर्द भी होने लगा था उनमे..जो किसी के दबाने से ही निकलने वाला था..

काजल ने अपने पत्ते राणा के सामने फेंक दिए..

बीच मे लगभग 30 हज़ार रुपय थे..

राणा ने उसके पत्ते देखे..उसके पत्ते तो बड़े थे ही..इसलिए वो जीत ही चुका था ये गेम ..पर इस समय उसे इन पैसों से ज़्यादा अपने प्लान की चिंता थी...जिसे अपनाकर वो उसे धीरे-2 नंगा कर देना चाहता था..

राणा ने उसके पत्ते देखे और अपने पत्ते बिना उसे दिखाए उल्टे करके वापिस गड्डी में रख दिए और बोला : "ओह्ह्ह्ह .....ये गेम तो तुम जीत गयी...''

और खुशी से फूली ना समाते हुए काजल ने एक बार और जोरदार चीख मारकर वो सारे पैसे अपनी तरफ खींच लिए..राणा के पत्ते देखने की उसने भी जहमत नही उठाई...उसके मुम्मे बुरी तरह से हिल रहे थे...राणा ने जान बूझकर ये गेम हारी थी..ताकि काजल यही समझे की अपने मुम्मे नंगे करने वाले टोटके की वजह से ही वो ये बाजी जीती है..

राणा (थोड़ा बनावटी गुस्सा दिखाते हुए) : "तुम अपने टोटके मुझसे ज़्यादा चला रही हो अब...मैं भी देखता हू की अगली गेम तुम कैसे जीतोगी ..''

इतना कहते हुए उसने अपनी पूरी की पूरी पेंट और साथ मे अंडरवीयर भी उतार दिया

अब वो नीचे से नंगा होकर बैठा था काजल के सामने..

काजल ने पत्ते बाँटे और राणा के नंगे बदन को निहारती रही...उसका तो बस मन कर रहा था की टूट पड़े वो राणा के उपर..पर उससे पहले वो उसके बचे हुए पैसों को जीतना चाहती थी...अभी भी राणा के पास लगभग 20 हज़ार रूपए बचे थे...और काजल ने ये सोच लिया था की वो इसी गेम में वो सारे पैसे जीत लेगी..

और उसके बाद वो करेगी सब...जिसे सोचकर ही उसकी चूत से पानी निकले जा रहा है...

पर उससे पहले वो खेल को थोड़ा और गर्म करना चाहती थी..ताकि राणा जो अपनी तरफ से ये ड्रामे कर रहा है, वो बंद कर दे..और उसपर टूट पड़े, इसलिए जैसे ही उसकी ब्लाइंड की बारी आई, उसने अपनी टी शर्ट को उपर उठाया और गले से घुमा कर निकाल फेंका..

अब वो टॉपलेस होकर बैठी थी राणा के सामने...

राणे ने अपने हाथ मे हज़ार का नोट पकड़ा हुआ था, जिसे वो अपने लंड पर घिस रहा था..काजल के टॉपलेस होते ही वो उसकी सुंदरता देखता रह गया...और कब उसके हाथ से नोट निकल कर गिर गया उसे भी पता नही चला..

और वो उसके उपर से नंगे बदन को देखते हुए ज़ोर-2 से मूठ मारने लगा..

काजल भी उसकी हालत देखकर मुस्कुरा दी..

अब खेल सच मे काफ़ी गर्म हो चुका था.


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

***********
अब आगे
***********

राणा जिस लड़की को एक बार देखने के लिए तरसता था, आज वो उसके सामने लगभग नंगी बैठी हुई थी... पैसों में कितनी ताक़त होती है ये आज उसे पता चला..पर पैसों के साथ -2 लंड में भी जान होनी चाहिए, तभी लड़कियां आकर्षित होती है..

पर काजल को ऐसी हालत में अपने सामने बैठा देखकर राणा के हाथ मचल उठे, उसने जैसे ही अपने हाथ आगे करते हुए काजल के स्तनों तक पहुँचाए, काजल ने उसे टोक दिया और बोली : "ना जी ना, इतनी जल्दी नही, गेम पर ध्यान दो पहले... मैं जब खुश होउंगी , तभी तुम इसे छू पाओगे...''

राणा : "और तुम खुश कैसे होगी ??"

काजल (अपने दाँत दिखाते हुए) : "जब मैं जीतूँगी अगली बाजी ...''

काजल ने बड़ी ही चालाकी से राणा के सामने अपनी शर्त रख दी... मज़े और पैसे एक साथ लेने के मूड मे थी काजल..

राणा को भला क्या परेशानी हो सकती थी, अभी तक का खेल जिस तरह से चल रहा था, उसके हिसाब से ही उसको काफ़ी मज़ा मिल चुका था..

राणा : "लेकिन अगली बाजी मैं जीत गया तो...''

काजल : "तो तुम्हे मुझे छूने के लिए वो जीते हुए पैसे मुझे देने होंगे..''

यानी काजल मज़ा और पैसे दोनों लेना चाहती थी...उसकी इस शर्त के अनुसार तो दोनो ही सूरत में पैसे उसके पास पहुँचने वाले थे..

अब खेल सच मे रोमांचक हो चुका था.

4-4 ब्लाइंड चलने के बाद राणा ने अपने पत्ते उठा लिए...उसे तो हर गेम के ख़त्म होने की जल्दी थी..क्योंकि अगर वो जीतेगा तो अपने पैसे काजल को देकर , या फिर हारेगा तो भी काजल की खुशी को देखकर वो मज़े लेना चाहता था.

राणा के पास सिर्फ़ इक्का ही आया था, बाकी के दोनों छोटे पत्ते थे..

उसने झट से शो माँग लिया..अभी बीच मे सिर्फ़ 10 हज़ार रुपय थे..राणा ने अपने पत्ते सामने फेंक दिए.

काजल ने भी अपने पत्ते उठाए..उसके चेहरे पर मायूसी छा गयी..उसके पत्ते तो राणा से भी बेकार थे..उसने जब अपने पत्ते राणा के सामने रखे तो राणा भी हंस दिया..उसके पास 4,6,9 नंबर आए थे..

राणा ने सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए..फिर उन नोटों की गड्डी बना कर उसने काजल की तरफ बड़ा दिया और बोला : "अब तो छू सकता हूँ ना...इन पैसों के बदले..''

काजल के होंठ लरज कर रह गये...उसने राणा के हाथ से पैसे ले लिए..और उन्हे फिर से अपनी जाँघ के नीचे दबा लिया.

राणा : "अब इधर आओ...मेरे पास...''

राणा ने अपनी उंगली का इशारा करके काजल को अपनी तरफ बुलाया..

वो बेचारी मना भी नही कर पाई...आख़िर उसने पैसे जो दिए थे..

वो अपनी सीट से उठी और धीरे-2 चलती हुई राणा के पीछे जाकर खड़ी हो गयी...राणा अपने लंड को मसलता हुआ उसके हिलते हुए मुम्मे देख रहा था..और जब वो उसके पास आकर खड़ी हुई तो उसने अपना सिर उपर करके उसकी आँखो में देखा और बोला : "नीचे करो इन्हे...''

वो उसपर ऐसे हुक्म चला रहा था जैसे 10 हज़ार मे उसने उसके मुम्मों को खरीद लिया है..पर काजल भी उसकी बात मान रही थी, क्योंकि अंदर ही अंदर वो भी तो इस मज़े को महसूस करना चाहती थी...हारने के बाद 10 हज़ार भी वापिस मिल गये और अब मज़ा भी मिलेगा, ऐसा सौदा तो काजल को काफ़ी उत्साहित कर रहा था..

काजल धीरे से नीचे झुकी और राणा ने अपना देतयाकार मुँह खोल दिया...और उसके अंगूर के दानों जैसे निप्पल सीधा उसके मुँह के अंदर घुस गये और राणा उन्हे बड़ी ज़ोर से चूसने लगा...साथ ही साथ उसने काजल के सिर के पीछे हाथ रखकर अपनी तरफ ज़ोर से दबा लिया..दूसरे हाथ से उसका दूसरा स्तन पकड़ लिया और उसे मसलने लगा..कुल मिलाकर वो अपने 10 हज़ार रुपय सही तरीके से वसूल कर रहा था..

काजल तो उसके हमले से कराह उठी...एक तो उसके दाँत काफ़ी तेज थे और उपर से वो काफ़ी एक्ससाईटिड भी था,पैसे देकर वो काजल के जिस्म पर कुछ देर के लिए ही सही पर अपना पूरा अधिकार जता रहा था...

राणा ने उसके निप्पल को पकड़कर अपनी उंगलियों से मसलना शुरू कर दिया, जैसे बकरी का दूध निकाल रहा हो..और साथ ही साथ अपने दांतो से भी वही काम उसके दूसरे स्तन पर कर रहा था...और करीब दस मिनट तक अच्छी तरह से उसका दूध पीने के बाद जैसे ही राणा ने उसकी चूत की तरफ हाथ बदाया, काजल छिटक कर दूर हो गयी...और बोली : "ना ना ना ....इतने में सिर्फ़ इतना ही मिलेगा...''

और वो अपनी गुलाबी जीभ निकाल कर उसको चिढ़ाती हुई वापिस अपनी सीट पर जाकर बैठ गयी..


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

राणा भी सोचने लगा की इतनी उत्तेजना बढ़ाने के बाद भी वो कैसे कंट्रोल कर पा रही है...आज तक जितनी भी लड़कियों की उसने चुदाई की थी, वो तो सिर्फ़ उसके हाथ लगाने भर की वेट करती थी...और खुद ब खुद नंगी होकर उसके लंड पर टूट पड़ती थी...काजल ना जाने किस मिट्टी की बनी थी..कभी तो उसकी आँखो मे सेक्स की भूख एकदम साफ़ दिखाई देती थी..और कभी वो एकदम से पीछे होकर उसपर कंट्रोल करती दिखाई देती थी..

पर राणा से अब कंट्रोल नही हो रहा था...भले ही वो खुद को राजा समझ कर उसपर पैसे लुटाता हुआ अभी तक मज़े ले रहा था, पर अब अपनी सेक्स की भूख उससे बर्दाश्त नही हो रही थी...वो काजल को पाने के लिए राजा से भिखारी बनने के लिए भी तैयार था अब...

राणा : "ऐसा ना करो काजल...देखो ना, मेरे लंड की क्या हालत हो रही है...सिर्फ़ एक बार इसको सक्क कर लो ...प्लीज़ ...मैं तुम्हारे हाथ जोड़ता हू...मेरी हालत पर तरस खाओ ...''

राणा तो अब भीख माँगने पर उतर आया था..

काजल की नज़रें अभी भी उसके पास पड़े पैसों के उपर थी...जो करीब 20 हज़ार रुपय थे..

काजल की आँखो का इशारा राणा समझ गया...उसने अपने 20 हज़ार रुपय एकदम से निकाल कर काजल के आगे रख दिए..

काजल : "तूने मुझे कोई धंधे वाली समझा है क्या...जो इन पैसों के बदले तेरी सेवा करूँगी... जो भी करूँगी, गेम खेलकर ही, पैसे जीतकर, ऐसे भीख लेने की आदत नही है मेरी..''

राणा सहम सा गया, वैसे भी वो काजल को नाराज़ करके अपने लिए कोई घाटे का सौदा नही करना चाहता था..

यानी काजल का मतलब साफ़ था...अगली गेम शुरू करो..

राणा को भी सारे पैसे हारने की जल्दी थी, इसलिए उसने अगली गेम शुरू कर दी..

पत्ते बाँटे गये, और इस बार राणा ने सीधा 2 हज़ार की ब्लाइंड चल दी, अपने लंड से रगड़कर ..

राणा का उठा हुआ लंड काजल को काफ़ी लालायित कर रहा था..इसलिए उसके हाथ अपने आप ही चूत की तरफ बड़ जाते थे...उसने अपने पायजामे को नीचे खिसका दिया और पहली बार राणा ने उसकी नयी नवेली चूत के दर्शन किए...
काजल भी अब कोई परदा नही रखना चाहती थी...इसलिए उसने धीरे-2 करते हुए अपने पायजामे को घुटनो से नीचे कर दिया..और अब उसकी सफाचत चूत राणा की नज़रों के सामने पूरी नंगी थी...पर बेचारा चाह कर भी उसे छू नही सकता था वो...उसकी चूत की चिकनाहट देखकर राणा का मन उसे चूसने का करने लगा..

काजल भी समझ नही पा रही थी की कैसे वो इतनी बेशर्मी से अपने जिस्म से कपड़े हटाती जा रही है और नंगेपन की नुमाइश राणा के सामने कर रही है..पर ना जाने क्यो उसे ये सब अच्छा भी लग रहा था..वो शायद इसलिए भी क्योंकि वो कुछ ऐसा ही केशव के साथ भी कर चुकी थी..अपने भाई के साथ करते हुए जब उसे शरम नही आई तो इसके साथ क्यो आए और वो भी तब जब वो उसके उपर अँधा होकर पैसे भी लूटा रहा था..

राणा ने अगली ब्लाइंड जब चली तो नोट पर उसके लंड से निकला पानी साफ़ चमक रहा था...ऐसा सीन देखकर अच्छे -2 का प्रीकम निकल जाता है...काजल का तो मन किया की वो नोट उठाए और उसे चाट कर सॉफ कर दे..साला कैसे तरसा रहा है उसे वो राणा...काजल ने भी उसको सताने की सोची और अपनी रसीली चाशनी में हज़ार के दो नोटों को अच्छी तरह से घुसा कर उन्हे पूरा गीला कर लिया और फिर उन्हे नीचे फेंक दिया...

राणा ने तुरंत वो नोट उठा लिए और बड़ी ही बेशर्मी से उन्हे चाटने लगा..सारा रस चाट गया वो उन नोटों से..

काजल उसे ऐसा करते हुए देखती रही..और फिर उसने भी राणा वाला वो नोट उठा लिया जिसपर उसका प्रीकम लगा हुआ था..और धीरे से उसपर अपनी जीभ लगाई...एकदम टेस्टलेस था वो...पर उसकी महक बड़ी ही कामुक और मदहोशी से भरी थी..काजल ने एक लंबी साँस लेकर उसे अंदर तक महसूस किया और अपनी जीभ पर उसके स्वाद को काफ़ी देर तक महसूस करती रही..

राणा भी समझ चुका था की अब तो नाम मात्र की दीवार रह गयी है दोनो के बीच..

दोनो एक दूसरे के सामने नंगे होकर खेल रहे थे...राणा के पास अभी भी लगभग 10 हज़ार रुपय थे, जो उसको गँवाने थे..

काजल ने अगली ब्लाइंड नही चली और अपने पत्ते उठा लिए..और उन्हे देखकर उसे एक बार फिर से विश्वास हो गया की उसकी हर बार टोटके को बड़ चड़कर करना इस बार भी सफल हो गया है...क्योंकि इस बार उसके पास ऐसे पत्ते आए थे जिनका शायद ही कोई तोड़ होता...बादशाह की ट्रेल..यानी 3 बादशाह आए थे उसके पास..

उसने एक ही बार में 4 हज़ार की चाल चल दी..राणा तो पहले से ही लूटने के लिए बैठा था..इसलिए उसने अपने पत्ते नही देखे बल्कि अपनी ब्लाइंड को भी डबल करते हुए 4 हज़ार कर दिया और लंड से रगड़कर फिर से पैसे नीचे फेंक दिए..

काजल तो पूरे कॉन्फिडेंस में थी..उसने भी चाल को डबल किया और आठ हज़ार बीच मे फेंक दिए..और इस बार उसने हर नोट को ऐसे अपनी चूत पर रगड़ा जैसे उसपर अपने रस की परत चड़ा देना चाहती हो...गीले-2 नोटों का अंबार सा लगता जा रहा था बीच में ..किसी पर काजल की चूत का रस था तो किसी पर राणा के लंड का पानी...

अब तो राणा के पास सिर्फ़ 2 हज़ार ही थे...इसलिए उसने अपने पत्ते उठा लिए..और अपने पत्ते देखकर वो भी दंग रह गया..उसके पास सीक़वेंस आई थी, और वो भी सुच्ची , पाने के पत्तो की, 8,9,10 नंबर...

ऐसे पत्ते तो कभी कभार ही आते हैं..पर उसके पास चलने के लिए पैसे ही नही थे...सिर्फ़ 2 हज़ार थे और शो माँगने के लिए भी कम से कम उसे 8 हज़ार चाहिए थे...पर ऐसे पत्तों के साथ वो शो नही माँगना चाहता था, बल्कि गेम को आगे खेलकर जीतना चाहता था, और जीते हुए पैसों को वापिस करके वो काजल से मज़े लेना चाहता था..इसलिए उसने काजल से 20 हज़ार उधार माँग लिए..काजल ने भी दे दिए क्योंकि वो जानती थी की उससे अच्छे पत्ते राणा के पास हो ही नही सकते..

राणा ने पैसे लिए और 8 हज़ार की चाल चली..काजल ने 14 हज़ार की चाल चली ...क्योंकि अब राणा के पास उतने ही पैसे बचे थे...राणा ने भी ना चाहते हुए शो माँग ही लिया..वैसे तो उसे विश्वास ही था की वही जीतेगा..पर जैसे ही काजल ने अपने पत्ते उसके सामने रखे तो काजल के 3 बादशाह देखकर उसका सिर ही चकरा गया...उसने अपनी कल्पना में भी ऐसा नही सोचा था की काजल के पास ट्रेल आएगी...

राणा बेचारा सिर झुका कर बैठ गया..

काजल ने हंसते हुए सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए..

काजल ने राणा के उदास चेहरे को देखा और बोली : "ऐसे मुँह लटका कर क्यो बैठ गये...मैने कहा था ना की जब मैं खुश होउंगी तब भी तुम्हारा ही फायदा है...''

राणा की आँखे चमक उठी...उसने ललचाई हुई आँखों से काजल को देखा..

काजल बड़े स्टाइल में बोली : "कब तक मेरे जूस को नोटों के उपर से चाटते रहोगे...सीधा ही आ जाओ...''


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

राणा को तो जैसे इसी बात का इंतजार था...वो उछलकर काजल के पास पहुँचा और एक ही झटके में उसे बेड पर लिटाकर उसकी जांघों के बीच झुक गया...और एक गहरी साँस लेने के बाद अपनी पेनी जीभ निकाल कर उसकी गुल्लक के छेद जैसी चूत में डाल दी...

''आआआआआआआआहह ....... ओह .......... येसस्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ... कब से तरस रही थी इसके लिए ................... अहहssssssssssssssssssssssss ...और अंदर तक डालो जीभ ............... और अंदर ............. उम्म्म्ममममममममममममम ....''

दूसरी तरफ राणा ऐसी कुँवारी चूत को चाट कर काफ़ी खुश था...ऐसी महक और स्वाद सिर्फ़ कुँवारी चूत का ही हो सकता था...वो ज़ोर-2 से अपनी जीभ के ब्रश से उसकी चूत की दीवारों की पुताई करने लगा...उसकी जीभ के हर प्रहार से काजल की गांड उछल जाती और वो अपनी तरफ से झटके देकर उसके मुँह पर और ज़ोर से अपनी चूत का दबाव डालती...

काजल ने काफ़ी देर से अपने आप को संभाला हुआ था...और आख़िरकार वो झड़ ही गयी...और झड़ी भी तो ऐसे की उसके रस को अपने मुँह में समेटना राणा के लिए काफ़ी मुश्किल हो गया..और इधर-उधर से रिसकर चादर पर गिरने लगा...

''अहहssssssssssssssssssssssssssssss ...... आई एम कमिंग ......................... उम्म्म्मममममममममममम .....''

राणा ने घड़ी देखी ...1 बजने वाला था... उसके पास ज़्यादा समय नही था...उसने काजल को अपनी तरफ खींचा और अपने खड़े हुए लंड को उसके मुँह के हवाले कर दिया...

काजल तो अपनी खुमारी से अभी तक निकली भी नही थी...इसलिए राणा के लंड को मुँह मे रखकर लेटी रही...राणा ने उसके नर्म मुलायम मुँह के अंदर धीरे-2 झटके देने शुरू कर दिए...और फिर धीरे-2 अपना पूरा लंड अंदर उतार दिया...और जब काजल को अपनी हलक तक उसका लंड महसूस हुआ तो वो होश में आई और उसने अपनी आँखे खोली ... 

वो भी इस काम को जल्द से जल्द निपटाना चाहती थी..क्योंकि केशव कभी भी उपर आ सकता था...अपनी चुदाई करवाने का उसका कोई इरादा नही था अभी...क्योंकि वो अपना कुँवारापन अपने भाई को देना चाहती थी आज... 


RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी - - 07-22-2017

***********
अब आगे
***********

इसलिए उसने राणा के लंड को ज़ोर-2 से चूसना और चुभलाना शुरू कर दिया...और साथ ही साथ वो उसके अंडकोष को भी सहला रही थी...और फिर अचानक बिना किसी वॉर्निंग के राणा ने अपने लंड से उसके चेहरे को सींचना शुरू कर दिया..

गरमा गर्म गाड़े पानी की बूंदे उसके चेहरे पर पड़ने लगी और वो उन्हे महसूस करती हुई आनंद सागर मे गोते लगाने लगी..

काजल : "अब जल्दी से अपने कपड़े पहनो और निकलो यहाँ से...''

राणा : "पर....वो .... कुछ और नही करना क्या ...''

काजल समझ गयी की वो क्या कहना चाहता है...वो बोली : "तुम मरवाओगे मुझे ....मेरे ही घर में ये सब कैसे पॉसिबल है...इसके बारे में बाद में बात करेंगे..''

इतना कहते-2 वो अपनी टी शर्ट और पायजामा पहन चुकी थी और टावल से अपना चेहरा भी सॉफ कर लिया उसने..

राणा ने भी मन मसोस कर अपने कपड़े पहन लिए...और नीचे उतर आया..

नीचे भी बाजी ख़त्म हो चुकी थी, बिल्लू ने जीत लिए थे सारे पैसे...केशव भी अपने 10 हज़ार हार चुका था ...और गणेश भी कंगला हो चुका था..अब वो आराम से बैठकर दारू पी रहे थे..

केशव ने राणा का लटका हुआ चेहरा देखा तो वो समझ गया की वो अपने सारे पैसे हार चुका है...भले ही वो खुद नीचे बैठकर 10 हज़ार हार गया था पर वो ये जानता था की उपर बैठकर उसकी बहन ने काफी रूपए जीते है आज, वो करीब 90 हज़ार जीत गयी थी ...कुल मिलाकर वो काफ़ी फायदे में था...

रात काफ़ी हो चुकी थी...इसलिए सभी अपने-2 घर चल दिए...अगले दिन दीवाली थी, इसलिए सबने जम कर जुआ खेलने की बात कही...

केशव ने भी सब कुछ समेटा और दरवाजा बंद करके उपर चल दिया...

वो सीधा अपनी माँ के रूम में गया पहले..वो सो रही थी...पर काजल वहाँ नही थी...वो शायद उसके कमरे में ही थी अब तक..

वो झूमता हुआ सा अपने कमरे की तरफ चल दिया..

और जैसे ही वो अंदर पहुँचा, काजल उसके पीछे से आई और अपनी बाहें उसके गले मे डालकर उसकी कमर पर झूल गयी...

केशव ने उसका भार संभालने के लिए जैसे ही अपने हाथ पीछे करके उसे पकड़ा तो उसका नशा एक ही बार मे उड़ गया..

वो पूरी नंगी थी...केशव के हाथ सीधा उसके नंगे चूतड़ों पर जा लगे...

और काजल तो बदहवास सी होकर उसकी गर्दन को अपने होंठों से चूस रही थी..उसे चूम रही थी...

केशव समझ गया की आज की रात वो अपनी बहन के साथ वो सब करने वाला है, जिसके लिए वो ना जाने कब से तरस रहा था...

उसकी चुदाई..

उसने काजल को लेजाकर अपने बिस्तर पर पटक दिया...और वो बिस्तर पूरा नोटों से ढका पड़ा था..जो काजल ने आज जुए में जीते थे...और वो उन्ही नोटों के बिस्तर पर अपने कुंवारेपन को लुटाना चाहती थी...

गरमा गरम करारे नोटों के उपर काजल का नंगा जिस्म मचल रहा था...वो पूरी तरह से सुलगी हुई थी...उसने बदन से उठ रही गर्मी ने बेड पर पड़े नोटों की गर्मी को और बड़ा दिया था...उसके अंदर से निकल रही गर्मी से वो नोट और करारे हो गये थे..

काजल बड़े ही सेक्सी तरीके से उसे देखने लगी..आज वो बड़ी ही बेशर्मी से इस तरह से खुल कर अपने भाई के सामने लेटी थी...शायद जो थोड़ी बहुत शुरूवाती शरम थी वो राणा के साथ जुआ खेलते हुए नंगी होकर निकल चुकी थी...वो राणा की हवस भरी आँखो के सामने अपने आपको रखकर उतनी खुश नही थी, जितनी अब केशव के सामने रखकर हो रही थी..

काजल ने अपनी दोनो टांगे फेला दी...उसकी गुलाबी चूत की फांके रस से भरी होने की वजह से आपस मे चिपकी हुई थी...पर फिर भी अंदर का गुलाबीपन देखकर केशव की आँखे उबल कर बाहर आने को हो गयी..

उसने अपनी बाहें भी उपर करते हुए उसे अपनी तरफ बुलाया : "आओ ना केशव...और कितना तड़पाओगे ...आज कर लो मुझे अपना...समा जाओ मुझमे...''

केशव ने उसके नंगे बदन को देखते हुए अपने कपड़े निकालने शुरू कर दिए

और कुछ ही देर मे वो पूरा नंगा होकर खड़ा था काजल के सामने..अपनी तोप की सलामी देता हुआ ..

और केशव जंप मारकर सीधा काजल के उपर कूद गया..

पर उसके कूदने से पहले ही काजल बेड से फिसलकर साइड में हो गयी..और खड़ी होकर हँसने लगी..

अब केशव की जगह पर वो खड़ी थी और काजल की जगह पर केशव लेटा हुआ था..

काजल (उसको चिड़ाते हुए) : "हा हा हा ... बड़ी जल्दी हो रही है तुझे ... ह्म्*म्म्म ...''

उसने अपने दोनो हाथ अपनी कमर पर रखे हुए थे..और एक पैर उठा कर उसने बेड पर रख दिया..ठीक केशव की टाँगो के बीच..

केशव : "मुझे पता है दीदी,आप भी यही चाहती है...कल से तड़प रहा हू मैं भी...अब और ना तरसाओ...''

काजल : "तरस तो मैं भी रही हू ना केशव...और साथ ही मेहनत भी कर रही थी..देख ले, जिन नोटों पर तू लेटा हुआ है वो मैने जीते है...''

केशव : "वो तो है...पर आप शायद ये भूल रही है की ये खेल भी मैने ही सिखाया है आपको..''


This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


डरा धमकाकर कर दी चुड़ैma ki chutame land ghusake betene chut chudai our gand mari sexNude Nidhiy Angwal sex baba picsXxx khala xxx CHOT KHANEbhusde m lund dal k soyalund ki motai chut se napi chudai kahaniHindi hot sex story anokha bandhanwww.tumana bathya x vedkya doggy style se sex karne se hips ka size badta haiराज शर्मा की गन्दी से गन्दी भोसरा की गैंग बंग टट्टी पेशाब के साथ हिंदी कहानियांnigit actar vdhut nikar uging photusangita ghosh ki nangi photo on sex babaमा चाची दिदी देहाती सेक्स कराईVijay And Shalini Ajith Sex Baba Fake porn xxxxzorjab bardast xxxxxxxxx hd vedioसेकसिमहिल औरत गाङ बातयSexbabanetcomHindi HD video dog TV halat mein Nashe ki SOI Xxxxxxఅమ్మ నల్ల గుద్దsaas ne lund ko thuk se nehlayaXnxx bhuaa ki chudaiiibur mein randinblue film ladki ko pani jhatke chipak kar aaya uski chudai kiनई लेटेस्ट हिंदी माँ बेटा सेक्स चुनमुनिया कॉमअसल चाळे चाची जवलेWww hot porn indian sexi bra sadee bali lugai ko javarjasti milkar choda video comwow kitni achi cikni kitne ache bobs xxx vediomeri real chudai ki kahani nandoi aur devar g k sath 2018 meghachak.ghachak.xxx.xnxx.full.hdTarake maheta ka ulta chasma xxx chotimaa or bahan muslim uncle ki rakhail sexbabaKangana ranaut xxx photo babahandi sex storiPooja sharma nudemaamichi jordar chudai filmmamee k chodiyee train m sex storyMahakxxxvideospaison ki Tanki Karan Judwaa Hindi sexy kahaniyanchal kariba Sinha sexy nangi chudai ki BFdesi susur ne bahu ke bobas chusa xnxxbibi ko chut chodae ke trike btvePussy sex baba serials hina khanवो चुदने को बेकरार थीchoot &boob pic comRashan ke badle lala ne jabardasti chudai ki kahani in hindiGoudi me utha ke sex video bobe dabakexxxcudai photo alia bhatsexybaba shreya ghoshal nude imagessexbaba sexy aunty SareePusy se ras nekale xxx videos sexbaba nandoibibi ko chut chodae ke trike btvepriyanka chopra sexbaba.comma ki chutame land ghusake betene chut chudai our gand mari sexbahu ki garmi sexbabawww.ek hasina ki majburi sex baba netPronvidwaचुदाईबाबाजीxxnx Joker Sarath Karti Hai Usi Ka BF chahiyesex beviunkl storybabita ki chudayi phopat lal se hindi sex storyxxx video coti beciyo kixbombo com video sedan sex 2018 1finger ki chamdi mota kaise kare likha huachachi boli yahi mut leदेवर का बो काला भाभी sexbaba. Comantarvashna2 babhi Ki chodai video chutJabrdastimamee k chodiyee train m sex storynerumala.pori.sax.vidoचीकनीचूतcudnaykasexकच्ची कली को गोदी मे बैठाकर चुत चोदाwww.hindisexstory.sexybaba