Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - Printable Version

+- Sex Baba (//ht.mupsaharovo.ru)
+-- Forum: Indian Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-indian-stories)
+--- Forum: Hindi Sex Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-hindi-sex-stories)
+--- Thread: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता (/Thread-maa-sex-chudai-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%81-%E0%A4%AC%E0%A5%87%E0%A4%9F%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%85%E0%A4%A8%E0%A5%8C%E0%A4%96%E0%A4%BE-%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A4%BE)

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

मैं अपना हाथ उसके चूतडो तक ले गया और उसके चूतड को महसूस करने लगा। क्या मोटे और गोल मटोल चूतड थे रजनी की रजनी का रंग काला था और उसके काले चूतड सोच कर मेरे लंड मे तूफान उठ गया था। मुझे काले रंगे के चूतड बहुत पंसद थे। भारी चूतडो वाली औरत मुझे बहुत भाती थी। रजनी का थोडा पेट भी निकला था इसका मतलब उसकी नाभी भी बडी गहरी होगी ये सोच कर ही मेरे शरीर में एक मस्ती की लहर दौड गयी। उसकी गहरी नाभी में जीभ घुसा कर चाटने के इच्छा मेरे अंदर जन्म लेने लगी। फिर मैंने रजनी के चूतड को हाथ मे पकड कर मसल दिया बडा ही मांसल चूतड था रजनी का दबाने में मजा आया। रजनी की कपडो मे लिपटे जिस्म को अपने नंगे जिस्म से लिपटा कर मुझे बडा ही अच्छा महसूस हुआ। रजनी भी कम नंही थी और अपने हाथो मेरे नंगे बदन पर चला रही थी और मेरे चूतड जांघे और कमर को छू कर उसको प्यार से सहला रही थी। जैसे एक औरत अपने मर्द को उत्तेजित करने के लिये करती है।

रीमा नंगी ही हुम दोनो को निहार रही थी और अपने हाथो से अपनी चूचीयो से खेल रही थी हमारा मिलन उसको उत्तेजित कर रहा था। और उसकी घुंडिया एक दम तन कर खडी थी। थोडी देर हम दोनो ऐसे ही एक दूसरे के आलिंगन मे बधे रहे और मैं रजनी के मस्त चूतडो को सहलाता हुआ उसके बदन का अहसास उसको अपने से चिपका कर करता रहा। मेरे लंड जो के एक दम तन कर खडा था और उसमे से थोडा सा पानी जो मूत्र छिद्र से निकल रहा था रजनी की स्कर्ट पर लग रहा था। अरे मेरे प्यारे बेटे अपनी माँसी को एक चुम्बन नंही देगा क्या क्या तू अपनी माँसी से पहली बार मिल रहा है और तूने मुझे अभी तक प्यार भरा एक चुम्बन भी नंही लेने दिया अपनी माँसी पंसद नंही आयी क्या मेरे लाडले रजा बेटे को। नंही माँसी आप तो बहुत ही सुंदर हो ले लो मेरा चुम्बन और जो करना है करो मै तो आपका बेटा ही हूँ क्या अपने बेटे को चुम्बन लेने के लिये आपको पूछना थोडी ही पडेगा। ये तो आप का हक है जो आपकी मर्जी वोह कर सकती है मेरे साथ। ये क्या मेरे लाल मैं सिर्फ सुंदर हूँ एक सेक्सी मस्तानी चुदक्कड औरत नंही लगती क्या तेरे को क्या माँसी के इस माँसल भरपूर मोटे जिस्म से तुझे प्यार नंही है क्या मेरा ये मस्ताना बदन जो कपडो मे नंही समा पता और बाहर निकलने को बेताब है तुझे प्यारा नंही है। तेरी माँ तो कहती है तुझे थोडी मोटी औरतें पंसद है फिर भी तूने मुझे सिर्फ सुंदर कहा या फिर इस बात से घबरा रहा था कि कंही माँसी क्या कहेगी अगर तूने ऐसे शब्दो का इसतमाल किया बोल बेटा रजनी की बात सुन कर मैं तो थोडा सकपका गया बात भी ठीक थी मैंने इसलिये उसकी सुंदरता का पूरा वर्णन नंही किया था की पता नंही रजनी क्या सोचे मेरे बारे मैं मैंने अपना सर हिला कर उसकी बात में अपने सहमती जाहिर कर दी।

अरे मेरी बहन के शर्मीले बेटे अपनी माँसी के सामने नंगा खडा है और उसके कपडो मे कैद बदन को देखकर ही तेरे लंड का ये हाल है जो कि तेरे माँसी को तेरी सारी कहानी बयान कर रहा है फिर भी तू शर्मा रहा है। अरे मेरे लाडले अपनी माँ माँसी से भी कोई शर्म करता है क्या बोल तू जो भी बोलना है तुझे और जो भी करना है तुझे कर अब कभी शर्माना नंही समझा। रीमा बहन तुमने लगता है इसकी शर्म अभी तक निकाली नंही है तभी तो देखो अभी भी लडकियो की तरह शर्मा रहा है। लगता है हम दोनो को मिल कर इसकी ये शर्म दूर करनी होगी। हाँ रजनी तू सही कह रही है कल से कह रही हूँ इसको कि इतनी शर्म काहे की पर सुनता हि नंही अब तू आ गयी है न निकाल दे इसकी शर्म। हम दोनो अभी भी एक दूसरे के आलिंगन मै बधें अभी भी खडे थे। ला अब चुम्बन तो दे की चुम्बन भी नंही देगा अपनी माँसी को पहले ही इतना तडपाया है तूने मुझे और अपनी माँ को इतने सालो हमसे दूर रहा और अब चुम्बन भी नंही दे रहा। मैं भी रजनी के होठों का चुम्बन लेने को बेताब था। रजनी के होंठ रीमा की तरह थोडे मोटे तो नंही थे पर फिर भी रस भरे थे। मैंने अपने चेहरे को आगे बढाया और रजनी के होंठो पर रख दिया और उसके होंठो का एक चुम्बन ले लिया। ये हुयी न कुछ मेरे बेटे जैसी बात सीधा मेरे होंठो पर चुम्बन लिया तूने। चल अब मैं तुझे प्यार करूगी। रजनी ने फिर मेरे चहरे पर चुम्बनो की बौछार कर दी मेरे गाल माथे पर कयी चुम्बन लिये जिससे उसकी लिप्सटिक के निशान मेरे चहरे पर बन गये।

क्रमशः..................


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

गतांक आगे ...................

देख कितना सुंदर लग रहा है न हमारा लाल हाँ रजनी तू ठीक कह रही है। चल अब दूर हटो तुम दोनो एक दूसरे से बडी भूख लगी है हम लोग अब खाना खाते है बडी भूख लगी है खाने के बाद दोनो प्यार से मिलना ठीक है। हम दोनो का मन तो नंही था अलग होने का पर पेट पूजा करना भी जरूरी था क्योकी बडी जोर से भूख जो लगी थी। तकी आगे होने वाली कारवाही के साथ पूरी तरह से न्याय किया जा सके। रजनी ने मेरे होठों का फिर से एक चुम्बन लिया और और मैंने उसके मोटे चूतड को हलके से मसला और हम दोनो अलग हो गये। फिर हम तीनो ने मिल कर खाना टेबल पर लगाया और दोनो ने मुझे अपने बीच मे बैठने को कहा रीमा तो पहले से ही नंगी थी पर रजनी ने अपने कपडे नंही उतारे और फिर हम ने मिल कर खाना खाया। इस बीच रजनी रीमा से पूछती रही की कल क्या हुआ और रीमा उसको बता रही थी पर जान बूझ कर उसने मूत पीने वाली बात रजनी हो नंही बतायी। और दोनो औरतो ने बडे ही प्यार से मुझे अपने हाथो से खाना भी खिलाया जैसे वो दोनो अपनी ममता मुझ पर लुटाना चाहाती हों।

वैसे रीमा दीदी ये तो नांसाफी है तुमने कल पूरे दिन अपने बेटे के साथ अकेले मजा किया और मुझे तुम्हारे साथ मिल कर मजा लेना होगा मैं तो ठीक से मिल भी ना पाऊंगी अरे मेरी जान नाराज क्यो होती है अभी खाना खा ले फिर तुम दोनो आपस में ढंग से मिल लेना और भोग लेना एक दूसरे को अच्छे से मैं बेठ कर देखूंगी और जब। और फिर अभी तो मेरा लल्ला यंही है कुछ दिन मेरे जाने के बाद बुला लियो अपने घर और जी भर के भोगना एक दूसरे को। ठीक है दीदी बात तो सही है चल जैसे तू बोले। और ये तो मेरा बेटा है माँ ही तो सिखायेगी इसको चुदायी तभी तो तेरे को मजा दे पायेगा कल तक तो बेचारे ने नंगी औरत तक नंही देखी थी चोदना तो दूर की बात है इसलिये इसको कुछ ज्ञान तो देना ही था ना नही तो तू बोलती कैसी माँ है इतना बडा हो गया लडका और अभी तक चूत चोदना भी नंही आया बोल बोलती की नंही। वह दोनो इसतरह की बाते कर रही थी और साथ ही साथ खाना भी खा रही थी और मेरे लंड के साथ भी खेल रही थी कभी रजनी मेरे लंड को हाथ मे पकड लेती तो कभी रीमा दोनो ने मेरे लंड को एकदम मस्त खडा कर रखा था। वह दोनो मुझे बिल्कुल गर्म रखाना चाहाती थी और मैंने कल देखा ही था की रीमा को लंड को तडपाने में कितना मजा आता था और मुझे लंड पर कंट्रोल सिखाने के लिये उसने मेरा लंड नाडे से भी बाँध दिया था। लगता आज भी दोनो का मेरे साथ वही करने का इरादा था पर श्याद मैं भी यही चाहाता था क्योकी मुझे भी तडपने में बहुत मजा आता था।

हम लोगो ने इसी तरह मस्ती की बांते करते हुये खाना खत्म किया और बाथरूम मे जाकर अपने हाथ धोये रजनी से सारे बर्तन ट्रे में रखे और ट्रे को कमरे के बाहर रख दिया और दरवाजे पर डू नॉट डिस्टर्ब का बोर्ड लगा दिया। अब हम लोगो को कोई भी तंग नही करेगा। और हम आराम से मजा कर सकते है चलो सोफे पर बैठते है रीमा ने कहा और खुद जाकर छोटे सोफे पर बैठ गयी और रजनी और मैं बडे सोफे पर। लो अब तुम दोनो शुरु हो जाओ फिर मत कहना की मुझे समय नंही दिया हाँ बेटा मिल ले ढंग से अपनी मासी से बडा रस है इसके बदन मे पी ले रसीला आम। रजनी और मैं एक दूसरे के बगल में बैठे थे मैंने अपने हाथ रजनी की जांघो पर रखे और उसकी और देखते हुये प्यार से उसकी जांघो पर हाथ फेरने लगा। हम दोनो के दूसरे की तरफ देख रहे थे दोनो की आँखो मे वासना भरती जा रही थी रजनी ने भी अपना हाथ मेरी नंगी जाँघ पर रख दिया था और प्यार से मेरी जाँघ को सहला रही थी उसका हाथ धीरे धीरे मेरे लंड की तरफ बढ रहा था और इन सब हरकतो के कारण अभी भी पूरी तरह मस्त तन कर एक सिपाही की तरह खडा था।

मैं भी रजनी की स्कर्ट को धीरे धीरे उपर खिसका रहा था जिससे मैं उसकी जाँघो को सही से स्पर्श कर सकूं। रजनी ने काले रंग की स्टाकिंग भी पहनी हुयी थी मैंने उसकी स्कर्ट को थोडा सा उपर कर दिया और उसकी स्टाकिंग मै कैद मोटी जाँघो पर हाथ फेरने लगा ज्यादा उपर मैं उसकी स्कर्ट को नंही कर पाया क्योकी उस्की स्कर्ट काफी टाईट थी। रजनी का हाथ भी अब मेरे लंड पर था और वह अपनी उंगलियो से उसे प्यार से सहला रही थी। कभी लंड के उपर अपनी उंगलियाँ चलाती तो कभी लंड के नीचे तो कभि मेरे टट्टो पर। रीमा की तरह रजनी को भी श्याद लंड से खेलना बहुत पंसद था। हम दोनो पूरा समय लेकर एक दूसरे के बदन का मजा लेना चाहते थे। बडा मस्त हो रहा है तेरा लंड मुझे देखकर अभी तो मैं नंगी भी नंही हुयी अभी तेरा ये हाल है तो नंगी हो गयी तो क्या होगा झड तो नंही जायेगा मुझे नग्न रुप में देख कर नंही माँसी माँ ने कल मुझे लंड खडा रखने की अच्छी शिक्षा दी है अब मैं काफी देर तक अपने लंड को संयम मे रख सकता हूँ और मैं पूरी कोशिश करूंगा की आपको पूरा मजा देने के बाद ही मेरा लंड झडे आपको बिल्कुल भी निराश नंही करूंगा माँसी। चल देखते है रीमा दीदी बडा ही आज्ञाकारी बेता है तुम्हारा देख कैसे बोल रहा है की अपने पर पूरा संयम रखूंगा रीमा की तरफ देखते हुये रजनी ने कहा रीमा सोफे पर बैठी हम लोगो को देख रही थी और अपने हाथ अपने नंगे बदन पर फिरा रही थी उसकी घुडियाँ तन कर खडी हो गयी थी। इसका मतलब था वह हम दोनो को देख कर गर्म हो रही थी।


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

हाँ मेरे अच्छे भाग्य की मुझे दीपक जैसा बेटा मिला जो अपनी माँ से इतना प्यार करता है कि अपने मजे पर भी काबू रखने को तैयार है। रजनी और मैं एक दूसरे के बहुत पास बैठे थे मेरी जांघे रजनी की टाँगो से स्पर्श कर रही थी। और उसकी स्टाकिंग मे लिपटे पैरो पर मेरे नंगे पैरो का स्पर्श मुझे बहुत भा रहा था और मेरे लंड को उत्तेजित भी कर रहा था। मैंने रजनी के स्कर्ट के अंदर अपना हाथ डाला और उस्की स्कर्ट को खींच कर और भी उपर कर दिया जिससे एक तरफ से उसकी स्टाकिंग जहाँ बेल्ट से जुडी थी वह दिखायी देने लगा और उसकी काली मोटी जांघे भी नग्न हो गयी। रजनी की जांघे रीमा से भी मोटी थी अगर मैं कहूँ की रजनी का बदन रीमा के बदन से हर जगह पर मोटा था तो गलत ना होगा बहुत से लोग रजनी को मोटी और बेडोल कहते पर मेरे लिये तो वह किसी अप्सरा से कम नंही थी। और आज हम दोनो वासना के पूजारी एक दूसरे को भोगने के लिये तैयार थे। मैंने रजनी की टाँगो पर अपनी टाँग रगडते हुये उसकी नंगी जांघ पर अपने हाथ को फिराने लगा मैं अपने उगलियाँ उसकी जांघ पर फिरा रहा था और कभी अपने पूरी हाथ से उसकी जांघ सहलाने लगता। इसका सीधा असर शायद उसकी चूत पर हो रहा था क्योकी अब उसके हाथ भी मेरे लंड पर जबर्दस्त जोर जोर से चल रहे थे। हम दोनो से एक दूसरे की तरफ देखा हम दोनो की आंखे नशीली हो चुकी थी और वासना की गर्मी मे धध्क रही थी। मैंने उसकी आंखो मे देखा फिर उसके होंठो की तरफ देखा जो मस्ती मे थोडे कपकपा रहे थे जो चूमे जाने को बेताब थे और रस से भरपूरे भर चुके थे और कह रहे थी आओ कोई मर्द तो आओ और अपने होंठो मे हमको भर लो और हमारे रस को पी लो।

मैं भी उनका रस पीने को बेताब था अब उन लाल लाल होंठो से दूर रहना मेरे लिये बहुत कठिन था। मैंने अपना दूसरा हाथ रजनी के गर्दन पर रखा और उसकी गर्दन पर हाथ फेरने लगा जैसे मैं उसे जता देना चाहाता था की अब मैं क्या करने वाला हूँ। वह भी मेरी इच्छा हो समझ गयी थी इसलिये उसने एक हाथ से मेरा लंड हाथ मे थामा और प्यार से धीरे धीरे मुठ मारने लगी और एक हाथ मेरी छाती पर फिराने लगी। उसकी मुलायम उंगलिया मेरी घुंडियो से भी टकरा रही थी जो कि उत्तेजना के कारण एक दम खडी हो गयी थी। थोडी देर हम दोनो एक दूसरे को निहारते रहे और जब काबू करना बिल्कुल मुश्किल हो गया तब मैंने अपने हाथो से उसकी गर्दन को अपनी और खींचा जिस्से उसका चेहरा मेरे चेहरे के बिल्कुल पास आ गया और उसके कपकपाते होंठ बिल्कुल मेरे होंठो के सामने थे। मैंने अपने होंठ उसके होंठो पर रख दिये हमारे होंठ से होंठ मिल गये और हम कुछ देर ऐसे ही एक दूसरे की आँखो मे आँखे डाल कर चुप चाप एक दूसरे को देखते रहे होंठो के गर्मी हमारे बदन की प्यास को और जगा रही थी। फिर मैने रजनी के होंठो का एक चुम्बन लिया और अपना हाथ उसकी जांघो से हटा कर उसकी मोटी कमर पर रख दिया और उस्की कमर को सहलाते हुये मैंने उसके होंठो पर फिर से अपने होंठ रखे और बेतहाशा उसे चूमने लगा। वह भी मुझे चूम रही थी उसने एक हाथ मेरी कमर में डाल कर मेरी पीठ सहला रही थी और दूसरा हाथ अभी लंड पर था जिस्से वह मेरे लंड का मुठ मार रही थी।

मैं उसके होंठो को अपने होंठो मे भर कर चूस रहा था कभी दोनो होंठ अपने होंठो मे भर कर चूमता तो कभी एक होंठ को रजनी भी मेरे होंठो को साथ ऐसा ही कर रही थी हम दोनो एक दूसरे के प्यार मे पागल हो रहे थे। उसकी लिप्सटिक मेरे होंठो पर लग गयी थी। मैं होंठ चूसते हुये अब उसकी कमर मसलने लगा था उसकी कमर में काफी माँस था जिसको मसलने मे मुझे बहुत मजा आ रहा था। मैंने अपना दूसरा हाथ उसकी गर्दन से निकाल कर उसके बदन पर फेरने लगा कमर पीठ फिर मेरा हाथ जाकर उसकी मोटी चूचीयो पर ठहरा। मैंने पहले उसकी चूचीयो के मोटायी को अपनी हाथ से महसूस किया ये जानने को कोशिश की की उसकी चूचीया कितनी बडी और भारी है। उसकी चूची बहुत ही मोटी थी जो कि मेरी हथेली में नंही समा पा रही थी। थोडी देर अपना हाथ उसकी चूचीयो पर फिराने के बाद मैंने अपना हाथ वहाँ से हटा लिया और फिर से उसकी गर्दन पर ले गया। और फिर मैंने उसके चेहरे को और अपनी तरफ खीच लिया हम दोनो के होंठ एक दूसरे से कस कर चिपक गये और रजनी ने तो मस्ती मे अपनी आँखे ही बंद कर ली। हम करीब १ मिनट तक ऐसे ही एक दूसरे के होंठो से होंठ चिपकाये रहे क्या मस्ती थी रजनी हाथ कभी भी नंही रूका और मेरे लंड हो हिलाता ही रहा। फिर हमारे लिये साँस लेना थोडा मुश्किल हो गया तो हम एक दूसरे से अलग हुये।

बडी अच्छा चुम्बन लेता है तू तो मेरे रोम रोम मे मस्ती भर दी तेरे चुम्बन ने रजनी ने कहा हाँ रजनी ये तो बिना सिखाये ही इतना अच्छा चुम्बन लेता है लगता है ये इसके खून में है लगता है इसकी माँ बहूत बडी रंडी है जब ये पेट मे था तब भी जम कर अपने ग्राहको को खुश करती होगी तभी तो ये भी चुम्बन लेना पेट में ही सीख गया। तभी मुझे सिखाना नंही पडा ठीक कहती हो दीदी बडा ही अच्छा चुम्बन लेता है साला भोसडे की औलाद मन करता है कि बस अब चुम्बन लेते ही रहो तो और चुम्बन दो न माँसी अभी तो बस शुरुवात है बात तो तू ठीक कह रहा है वैसे भी तेरे ये रीमा माँ और मैं दोनो ही रंडीयाँ है और अगर अच्छा चुम्बन ना मिले तो हम गर्म ही नंही होती। तो मैं आपको और भी अच्छा चुम्बन दूंगा माँसी और अच्छी तरह से गर्म कर दूंगा तकी आप पूरा मजा ले सको चूदायी का हाँ चुदायी के लिये तुझे मुझे गर्म तो करना ही पडेगा तभी तो मजा आयेगा रंडी को बिना गर्म करे चोदेगा तो फिर मजा नंही आयेगा। हाँ माँसी ये तो आपने बिल्कुल सही कहा वैसे भी हम मर्दो को असली मजा तो रंडी के साथ ही आता है वह क्यों भला मेरे लाल वह इसलिये माँसी क्योकी रंडी पूरी तरह खुल कर पूरा सहयोग करते हुये जो चुदाती है तभी तो कहते है जो औरत अपने मर्द के साथ बिस्तर पर रंडी होकर चुदाती है उनके मर्द गुलाम बन कर रहते हैं अपनी औरत के जैसे मैंने अपनी रीमा माँ को वचन दिया है कि मैं जिंदगी भर उनका गुलाम बन कर रंहूगा सच दीदी रजनी ने पूछा।

हाँ रजनी दिया तो है मेरे लाल ने मुझे ये उपहार और ये है भी बडा आज्ञाकरी गुलाम बडी मुश्किल से मिलते है ऐसे मस्त चोदू गुलाम वाह दीदी तुम तो बहुत ही भाग्यवान हो की तुमको ऐसा जावान मर्द मिला वह भी इस उमर में हाँ और प्यार भी बहुत करता है ये मुझे मैं तो बहुत खुश हूँ कि मैंने इसे चुना। चलो दीदी मैं भी तो देखू इसमे क्या है की तुमने इसको चुना चल ले मेरी दीदी के गुलाम चुम्बन दे बडा मन कर रहा है। हम दोनो अभी भी एक दूसरे से चिपके बैठे थे और फिर हमारे होंठ एक दूसरे से चिपक गये। फिर मैंने अपने होंठ खोले और रजनी के दोनो होंठ अपने मुँह मे भर लिये और उनको चूसने लगा जैसे कोई रसीला आम हो और में उसका रस पी रहा हूँ। मैं रजनी के होंठो को जोर जोर से चूसने लगा मैं उसके होंठो पर अपना थूक लगता और फिर वही थूक चूस लेता रजनी को श्याद ये बहुत अच्छा लग रहा था इसलिये उसने अपने आप को थोडा ढीला छोड दिया और और खिसक के और मेरे पास आ गयी थी उसने अपना हाथ मेरी कमर मे डाल कर मुझे अपने और करीब कर लिया था श्याद वह मुझसे पूरी तरह चिपक कर बदन की गर्मी का अहसास करना चाहाती हो। मेरा हाथ भी उसकी कमर और पीठ पर चल रहा था और उसकी कमर हो कभी कभी मैं मसल कर उसके माँसल बदन का मजा लेता। रजनी के दोनो होंठ मैंने अपने मुँह मे भर रखे थे और उसको छोडने का मेरा कोई इरदा नंही था जैसे कोई छोटा बच्चा अपनी कैंडी को तब तक नंही छोडता जबतक की वह खत्म न हो जाये मेरा बस चलता तो मैं श्याद मस्ती में उसके होंठो को चबा कर खा ही जाता।

क्रमशः..................


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

गतांक आगे ...................

काफी देर तक मैं उसके होंठो को मुँह मे भर कर चूसता रहा और रजनी किसी मूर्ती की तरह अपने होंठो को चुसवाती रही फिर मैंने उसके होंठो पर जीभ फिराना शुरु कर दिया उसके उपरी होंठ पर जीभ फिराता तो कभी निचले होंठ पर तो कभी होंठो के बीच जैसे मैं कोई कुत्ता हूँ और हड्डी चाट रहा हूँ। थोडी देर उसके होंठो के चाटाने के बाद मैंने उस्के होंठो के बीच अपनी जीभ घुसा दी और रजनी ने भी अपने होंठो को खोल कर मेरी जीभ का स्वागत किया और मैंने अपनी जीभ उसके दांतो मे फिरानी शुरु कर दी और उसके और उसकी लार को अपनी जीभ कर समेटने लगा। थोडी देर उसके दांतो पर जीभ फिराने के बाद मैंने उसकी लार को पी लिया। और अपनी जीभ फिर से उसके मुँह मे घुसेड दी रजनी मुझे जो मैं कर रहा था वह करने दे रही थी लगता था उसे इस तरह चुम्बन मे बहुत मजा आ रहा था। मैंने उसके होंठो के नीचे अपनी जीभ फिरानी शुरू कर दी और पहले उसके उपर वाले होंठ को अपने होंठो मे भर लिया और जीभ से उसका होंठ कुरेदने लगा साथ ही साथ अपने होंठो मे दबे उस होंठ की मोटायी का भी अंदाजा मैं लगा रहा था। मैं अपनी जीभ से उसके होंठ को अपने थूक को उसके थूक और लार से मिलाता और फिर उसके होंठ को चूस कर पी जाता बडा ही प्यार भरा चुम्बन था मेरा रजनी को जो मुझे बहुत भा गयी थी। उसका उपरी होंठ चूसने के बाद मैंने उसके नीचले होंठ के साथ भी यही किया और उसके थूक और लार को पीया मेरे लंड को भी थूक पीना बहुत भा रहा था क्योकी वह रजनी के हाथ मे कैद मस्ती मे उछल रहा था।

उसके होंठो का रस अच्छे से चूसने के बाद मैंने रजनी के मुँह मे अपनी जीभ घुसेड दी जिससे मेरी जीभ रजनी की जीभ से जा टकरायी। और हम दोनो आपस मे एक दूसरे की जीभ से जीभ लडाने लगे कभी हम एक दूसरे जीभ को दूसरे जीभ के चारो और घुमाते तो कभी जीभ के नीचे रगडते और फिर जब थूक और लार जमा हो जाता तो चूस कर पी लेते। अब तो रजनी भी जोश मे आ गयी थी और वह भी मेरे मुँह मे अपनी जीभ घुसेड कर मेरी जीभ से मेरा थूक भी पी रही थी। और जब हम दोनो लार चूसते तो एक दूसरे के होंठो को भी मुँह मे भर लेते। रीमा हमारा ये गहरा और लम्बा चुम्बन देख कर गर्म हो रही थी और खुद ही अपनी चूचीयाँ जोर जोर से मसल रही थी। श्याद उसे हमारा कल का चुम्बन याद आ रहा था। रजनी और मैं पागलो की तरह एक दूसरे के होंठ से होंठ भीडा रहे थे। मस्ती की लहर हम दोनो के बदन मै दौड रही थी। ये गहरा चुम्बन हम दोनो के बीच पनप रहे वासना भरे प्यार का संकेत था जो एक अधेड उमर की औरत को मेरे सामने अपनी सारी शर्म भूल कर नग्न होकर चुदवाने को प्रेरित कर रहा था। रजनी की चूत की गर्मी इतनी ज्यादा थी की वह भारतीय नारी अपनी लज्जा छोड कर रंडी बन चुकी थी और जावान मर्दो से चुदाती फिरती थी ताकी वह अपनी गर्म चूत को शांत रख सके और उसको थोडा सकून मिले। हम दोनो करीब दस मिनट तक ऐसे ही एक दूसरे के होंठो को चूसते हुये थूक का आदान प्रदान करते रहे मेरा तो बिल्कुल भी मन नही था रजनी के होंठो को छोडने का पर अपने लंड के हाथो मे विवश था क्योकी अब मेरा लंड मेरे सपनो की रानी रजनी को नग्न रूप के देखने को बेताब था। मैंने आखरी बार रजनी के होंठो को अपने मुँह मे भरा और चूस कर उसे अपने से अलग कर दिया मजा आ गया आपके होंठ चूसने का माँसी आपके होंठ बडे ही रसीले है मन करता है बस इनको चूसता ही रहूँ पूरी दिन पर क्या करे हमारे पास उतना वक्त नंही है इसलिए जल्दी ही आपके होंठो को छोडना पडा।


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

मन तो मेरा भी नंही कर रहा था पर क्या करूं अरे तुम दोनो को चुम्बन लेते देख कर तो मेरी हालत भी खराब है देखो कैसे मेरी चूत गीली हो चुकी है लगता है आज तो ये सोफा मेरे रस से भर जायेगा रीमा ने मचलते हुये कहा। चिंता मत करो माँ अगर ये सोफ आपके रस से गीला हो जायेगा तो इस सोफे को चूस कर मैं इसमे से सारा रस पी जाऊंगा। चलो तुम दोनो अपना खेल जारी रखो मैं भी तुम दोनो का मिलन देखने के लिये बेताब हूँ। और तू जल्दी अपना मिलना खत्म करेगी तभी तो तुम दोनो के साथ मजा ले संकूगी चलो अपना खेल जारी रखो। मन तो मेरा बहुत था फिर से रजनी के रसीले होंठो को मुँह मे भर कर चूसू पर मैंने अपने आप को रोक लिया अब मैं रजनी को नंगा करना चाहाता था इसलिये मैं अपने हाथ रजनी की कमीज पर ले गया जिसमे से उसकी भारी मोटी चूचीयाँ झाँक रही थी और मुझसे विनती कर रही थी कपडो के कैद से आजाद करने के लिये। मैंने रजनी के चूचीयो पर हाथ फेरना शुरु कर दिया उसकी मोटी चूचीयो का ज्याजा लेने के बाद मैंने रजनी के कमीज के बटन खोलने शुरु कर दिये दो और बटन खुलने से रजनी के कमीज खुल गयी और उसकी सफेद रंग की ब्रा बिल्कुल साफ नजर आने लगी।

सफेद रंग की ब्रा मे रजनी की काली मोटी चूचीया कैद थी और बहुत ही कातिल सा कट बना रही थी। काला रंग और उस पर सफेद ब्रा बडा ही कातिल संगम था। ब्रा पेडड उन्डरवायर ब्रा थी जिससे उसकी चूचीयाँ और भी उभर कर उपर आ गयी थी और भी मोटी लग रही थी। ब्रा ३/४ कप वाली ब्रा थी। वैसे भी वह ब्रा रजनी की मोटी चूचीयो के लिये बहुत छोटी थी उस पर ३/४ कप होने की वजह से आधी से ज्यादा चूचीयाँ रजनी की ब्रा के बाहर थी। अधखुली कमीज के अंदर ब्रा में कैद चूचीयो का नजारा देख कर मेरा मन मचल उठा था वैसे भी रजनी ने अपने हाथो से मेरे लंड की मुठ मार कर मेरी हालत खराब कर रखी थी। फिर मैंने रजनी की चूची के नंगी भाग को अपने हाथ से छुया और अपनी उंगलियाँ उस पर फिराने लगा। मेरे उंगलियाँ फिराने से रजनी के बदन मे एक सिरहन दौड गयी और बोली ओह्ह क्या कर रहा है बेटा माँसी की चूचीयो को छू कर देख रहा है। हाँ माँसी देख रहा हू की कैसी चूचीयाँ है मुलायम की कडी। अरी मेरे प्यारे बेटे मैं कोई जवान तो हूँ नंही की एक दम कडी होंगी मेरी उम्र के साथ थोडी ढीली हो गयी है पर तेरे जैसे जवान मर्दो के वीर्य की मालिश करती हूँ न इसलिये एक दम ढीली नंही पडी है अभी। लेकिन थोडी ढीली तो पड ही गयी है और मुझे तेरी माँ जैसे रोज रोज लोटे भर वीर्य तो मिलता नंही है चूचीयो के मालिश के लिये नंही तो और भी कडी होती।

अरे माँसी मैं तो बस पूछ रहा था मैं तो बस बडी चूचीयो के दिवाना हूँ वह कडी हो या ढीली इससे मुझे कोई भी फर्क नंही पडता और तुम्हारी बहुत मोटी है और तुम माँ से भी मोटी औरत हो तो मुझे तुम क्यों पंसद नंही आओगी। ओह मेरे लाल तू कितना प्यारा है दीदी बडी बांते बनाता है तेरा ये लाडला किसी भी औरत को अपने प्यार के जाल मे फंसा लेगा हाँ री वह तो मैं जानती ही हूँ वैसे भी इसके जैसे लडको को ये कला तो आती ही है। मैंने थोडी देर रजनी की चूचीयो कर अपनी उंग्लीयाँ और चलायी रजनी धीरे धीरे गर्म होने लगी थी। बडा ही जादू है रे तेरी उंगलियो मे सिर्फ स्पर्श से ही इतनी आग लगा रहा है मेरे बदन मैं तो चूची मर्दन करेगा तो क्या होगा मेरा। माँसी तुम तो बस मजा लो तुम बहुत ही मस्त मोटा माल हो जरा मुझे तुम्हारे इस बदन से प्यार से मिल तो लेने दो। ठीक है कर ले अपने मन की रिश्ता हि ऐसा है तेरा मेरा। मना भी नंही कर सकती तुझको अपनी चूचीयाँ छूने से। रजनी की चूचीयो पर थोडी देर उंगलीयाँ फिराने के बाद मैंने रजनी की कमीज का आखरी बटन भी खोल दिया। ऐसा करने से उसकी ब्रा मैं कैद चूचीयाँ बिल्कुल मेरे सामने आ गयी। सफेद ब्रा मे काली चूचीयाँ बहुत ही गजब ढा रही थी। मुझे तो ऐसा लग रहा था जैसे दो सफेद प्लेट मे दो बडे बडे रसीले तरबूज रखे हों।

और उन दो तरबूजो के बीच सफेद मोतियो के वह माला इस र्दश्य को और भी लुभावना बना रही थी। मैंने रजनी को थोडी देर ऐसे ही निहारा और फिर रजनी की आँखो मे आँखे डाल कर बोला माँसी उठी अब मैं तुम्हारा ये कमीज उतार देता हूँ यह मेरे काम मे बहुत रुकावट डालेगी नंही तो। मैंने कब मना किया उतारने से कह कर रजनी खडी हो गयी और मैंने रजनी की कमीज उतार दी कमीज उतारने पर मुझे रजनी की काँख के बालो के दर्शन हुये। रजनी के काँख के बहुत घने काले बाल थे पर वह थोडे छोटे छोटे काटे हुये थे श्याद क्योकी वह होटल मे काम करती थी और हर कोई काँख के बाल पंसद न करता हो। कमीज उतार कर मैंने दूसरे सोफे पर फेंक दी। रजनी अभी भी मेरे सामने खडी थी खडे होने के वजह से उसकी तंग स्कर्ट थोडी नीचे खिसक गयी थी पर उसकी काली जाँघे अभी भी नंगी थी। मैंने रजनी की चूचीयो पर हाथ रख कर उसे प्यार से सहलाने लगा। रजनी चुप चाप खडी सब कुछ देख रही थी। अब मेरे लिये बर्दाश्त करना बिल्कुल मुश्किल था अब मुझे रजनी की नंगी चूचीयाँ देखनी थी। रजनी की ब्रा का हुक आगे की तरफ था।


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

मैंने अपने हाथ रजनी की ब्रा के हुक पर रखे और उसकी ब्रा का हुक खोल दिया रजनी की नजरे मेरे पर ही जमी हुयी थी। ब्रा का हुक खुलते ही ब्रा के दोनो कप जोर से खुल कर रजनी के बगल मे चले गये और रजनी के दोनो तरबूज एक दम मेरे सामने आ गये। उसकी मोटी चूचीयाँ देख कर मेरे तो तन बदन सिहर उठा और मेरी आँखे चूचीयो पर ही जम गयी। रजनी की काली चूचीयाँ थोडी से लटकी हुयी थी। उसके घुडियाँ तन कर खडे हुये थे और काफी बडे थे श्याद १ या १ १/२ इंच होंगे और घुडियो के चारो और घेरा एक दम काला सा था और करीब ४ इंच की चौडायी मे था। ब्रा खुलने से जो चूचीयाँ अभी तक एक दूसरे से चिपकी हुयी थी अजाद होकर अलग हो गयी जैसे किसी कैद मे हो और मैंने उनको उस कैद से आजाद कर दिया हो। मैंने थोडी देर रजनी की चूचीयो को निहारा और फिर अपने हाथ रजनी की चूचीयो के नीचे रख कर उनके भार को अपने हथेली मे ले लिया। रजने की एक एक चूची डेढ दो किलो से कम नंही थी। मस्त चूचीयाँ है तुम्हारी माँसी मुझ बहुत ही पंसद आयी। इनसे खेलने मे बहुत मजा आयेगा। तो खेल न मैंने कब मना किया है खेलूंगा माँसी पर जरा आप के इस अर्धनग्न जिस्म को तो निहार लूँ।

फिर मैंने रजनी की ब्रा को पकड कर उसके बदन से निकाल कर फेंक दिया अब रजनी का उपरी भाग पूरा नंगा था। मैंन रजनी को निहारने लगा रजनी की बाँहे मोटी थी और मेरा मन उन मोटी बाँहो मे समाने का कर रहा था उसकी लटकी हुयी चूचीयाँ मुझे बुला रही थी उसकी घुंडियाँ मेरे होंठो का प्यार पना चाहाती थी। और उसका निकला हुया पेट जिसकी वजह से उसकी नाभी और भी गहरी लग रही थी। उसके इस कातिल बदन मे डूब जाने को जी चाहाता था। रजनी ने अपने हाथो मे अपनी चूचीयाँ उठायी और बोली ले बेटा मैं अपने चूचीयाँ तुझे परोस कर दे रही हूँ आजा भोग ले इनको। मैने पास जाकर रजनी की चूचीयो को चूमना शुरु कर दिया। अपने हाथ रजनी के कूल्हो पर रखे और रजनी की चूचीयो के चूमने लगा फिर मैंने रजनी की एक घुंडी को मुँह मे भरकर चूसना शुरु कर दिया मेरे ऐसा करते ही रजनी मचल उठी ओह मेरे लाल बहुत ही अच्छा चूसते हो तुम तो मेरे पूरे बदन मे करंट दौड गया। थोडी देर एक घुंडी चूस कर मैंने दूसरी घुंडी चूसनी शुरु कर दी। ऐसा करते हुये मैं अपने हाथ फिसला कर रजनी के स्कर्ट में कैद चूतडो पर ले गया। और उसके चूतड पर हाथ फेरने लगा।

जब मैंने रजनी की चूचीयाँ चूसते हुये रजनी के चूतड पर हाथ फेरना शुरु किया तो मुझे ऐसा महसूस हुया की रजनी ने पेंटी पहनी ही नंही है पर जब मैं उसके कुल्हो से खेल रहा था तब मुझे पेंटी का अहसास हुया था इसका मतलब या तो रजनी की कच्छी उसकी गाँड की दरार मे घुस गयी थी या उसके कोई ऐसी पेंटी पहनी थी जो उसके विशालकाय चूतड को छुपा नंही पा रही थी। पर इसका पता हो उसकी स्कर्ट उतार कर ही चल सकता था। मैंने रजनी की घुंडियो को बदल बदल कर चूसना जारी रखा साथ ही उसके चूतड भी दबा रहा था। रजनी ने एक हाथ से मेरे बालो को सहलाना शुरु कर दिया था वह इस तरह अपना प्यार जता रही थी की मैं कितनी अच्छी चूची चूस रहा हूँ और उसको चूची चूसवाने में कितना मजा आ रहा था। उसकी आँखे मस्ती में बिल्कुल बंद थी और उसके मुँह से मस्ती मे करहाने की आवाजे निकल रही थी। ओह दिपक बेटा बहुत अच्छे से खेल रहे हो मेरे बदन से खेलो बेटा और खेलो भोगो मेरे बदन को तेरे लिये ही आज मेरा ये नंगा बदन कर ले मेरे प्यारे अपने मन कि इच्छा पूरी अपनी माँसी के साथ। हाँ बेटा तेरी माँसी को मैंने इसलिये बुलाया है कि तूने कितनी बार मुझसे कहा था कि तुझे मोटी काली औरते पंसद है और जो मजा तूने मुझे कल दिया तो तेरी ये मौसी तेरा ईनाम है रीमा ने कहा। मैं उनकी बांते सुन रहा था पर मैं पूरी तरह से रजनी के बदन से खेलने मे मश्गूल था और उसकी चूतड जोर से मसलते हुये उसकी चूची चूसने का मजा ले रहा था। और रजनी भी मेरे साथ पूरा आंनद उठा रही थी।


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

गतांक आगे ...................

मैंने रजनी की घुंडी चूस चूस कर मस्ती मे और एक सेंटीमीटर लम्बी कर दी। फिर मैंने कहा माँसी अब मुझसे नंही रहा जा रहा मेरे लंड को अपाके ये मस्ताने चूतड देखने है अब मुझे अपनी स्कर्ट उतारने दो ना मैंने कब मना किया है रे मैं तो आयी हूँ यंहा नंगी होकर चुदने उतार दे और कर दे अपनी इस निर्लज माँसी को नंगी। मैं जल्दी से रजनी के सकर्ट पर हाथ ले गया जिससे उसकी सकर्ट खोल कर उसे नंगा करके उसकी चूत और चूतड के प्रथम दर्शन कर संकू पर जैसे ही मैंने स्कर्ट को छुया रजनी बोली चल ऐसा कर तू सोफे पर बैठ जा और मैं तेरे सामने खडी होती हूँ फिर तू मेरी स्कर्ट उतारना। मैं जल्दी से सोफे पर बैठ गया। रजनी भी पलट कर मेरे सामने खडी हो गयी उसने फिर से अपनी चूचीयो के नीचे हाथ रख कर अपनी चूचीयो को उपर उठा लिया और बोली ले बेटा अपनी माँसी की इन चूचीयो के निहारते हुये खोल दे मेरे मजे का द्वार और कर ले दर्शन मेरी चूत के। मैंने अपनी नजरे रीमा की चूचीयो पर गडायी और रजनी के स्कर्ट का हुक खोल दिया। स्कर्ट ने रजनी के पेट को कुछ ज्यादा दबा कर रखा था हुक खुलते ही उसके पेट को जैसे साँस आ गयी और वह फूल कर थोडा और बाहर निकल आया। स्कर्ट खुल तो गयी पर रजनी इतनी मोटी थी और रजनी की स्कर्ट भी काफी तंग थी जिससे वह वंही उसके कूल्हे पर ही अटक गयी। स्कर्ट को अटकी देख कर रीमा ने कहा अरे कितनी देर लगायेगा इसको नंगा करने में खीच कर निकाल न इसकी स्कर्ट साली के साथ खेल कर रहा है गाँडू जैसे मेरे साथ किया था कल और मत तडपा मुझे दिखा इस रंडी की गाँड मुझे साले।

रीमा के बातो मे उसकी अधीरता झलक रही थी। मैंने रजनी के कुल्हे पर हाथ रखा और रजनी की चूची देखते हुये उसकी स्कर्ट मे अपनी उंगलियाँ फंसा दी और उसकी स्कर्ट को नीचे खीचने लगा। रजनी की स्कर्ट बहुत ही टाईट थी श्याद बहुत मुश्किल से चढायी होगी उसने क्योकी जब मैंने खीचने की कोशिश को तो स्कर्ट नीचे आने का नाम ही नंही ले रही थी और रजनी के चूतड मे अटक रही थी। रजनी अभी भी अपनी चूचीयाँ हाथ मे लिये ऐसे ही खडी थी। मैंने फिर अपनी उंगलिया उसके स्कर्ट के पीछे घुसा दी जिससे मेरी उंगलियाँ रजनी के गुदाज चूतड मे धंस गयी। फिर मैंने पूरा जोर लगा कर स्कर्ट खीची और अबकी बार जोर लगना थोडा सर्थक हुया। और रजनी स्कर्ट खिसक कर थोडी नीचे आ गयी करीब रजनी के आधे चूतड। स्कर्ट आगे से भी नीचे हो गयी थी जिससे मुझे रजनी की पेंटी और गार्टर बेल्ट के दर्शन हुये। रजनी ने जो पेटी पहनी थी उसका कमर कर सट्रेप करीब १/२ इंच का था और उसका रंगा भी ब्रा की तरह सफेद था। उसने श्याद जी स्ट्रिग पेंटी पहन रखी थी। उसकी पेंटी के आगे का भाग एक तिकोने के आकार का था जो श्याद सिर्फ उसकी चूत को छिपा रहा था। मैं पूरा नंही देख पा रहा था क्योकी अभी भी थोडा सा हिस्सा स्कर्ट के अंदर ही था। बेटा अब खीच भी ना नंगी स्कर्ट उतार कर देख लेना मेरी पेंटी और मत तडपा अपनी रजनी माँसी को।


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

मुझे भी रजनी की बात सही लगी मैंने। उसकी स्कर्ट पकड कर पूरा जोर लगा कर खीची और अबकी बार मुझे निराश नंही होना पडा। रजनी की स्कर्ट उतर कर रजनी की टाँगो मे जाकर पडी। और रजनी का आखरी सहारा जिसने उसकी पेंटी मे छुपी चूत को छुपा रखा था वह भी हट गया। स्कर्ट हटते ही सबसे पहले दर्शन मुझे रजनी की कच्छी के हुये। मेरा अंदाजा सही था रजनी कि सफेद पेंटी ने सिर्फ रजनी की चूत छुपा रखी थी। और उसकी पेंटी से उसकी झाँटो के बाल बाहर निकल रहे थे। उसके झाँड पर श्याद बहुत सारे बाल थे और उसने कभी काटे भी नंही थे क्योकी बाल काफी बडे थी और काफी पेंटी से बाहर निकल कर झाँक रहे थे। रजनी की मोटी जाँघे बिल्कुल नंगी थी। क्योकी रजनी की कमर और कुल्हो पर काफी माँस था इसलिये रजनी की पेटी के सट्रेप रजनी के कमर मे धंस गया था। और ज्यादा माँस की वजह से उसकी कमर पर टॉयर जैसा बन गया था। जिसे देख कर मुझे बहुत खुशी हुयी और मैंने सोचा रजनी के टॉयर मसलने मे बहुत मजा आयेगा। वैसे तो रजनी मोटी थी पर इस तरह से कि उसकी कमर का कट अभी भी बरकरार था इसका कारण श्याद यह था की रजनी के शरीर के हर एक हिस्से मे माँस बराबर बढा था । उसकी कमर के नीचे का बदन एक दम से फूल कर चौडा हो गया था। उसके काले रंग पर उसकी छोटी सी सफेद चढ्ढी बहुत ही भा रही थी। ओह रजनी तुम बहुत ही खूबसूरत हो क्या मस्त बदन है तुम्हारा मैं तो देखते ही तुम पर फिदा हो गया।

जैसा कि मैंने बताया उसकी पेंटी सिर्फ उसकी चूत छुपा रही थी जिसके वजह से उस्की चूतट के बगल के फूले हुये हिस्से बिल्कुल नंगे थे और काले और सफेद रंगे के संगम के कारण बहुत ही लुभावना द्र्श्य बना रहे थे। तुम्हरी झाँटे बहुत ही सुंदर है माँसी बहुत ही बडी और काली घनी झाँट है तुम्हारी। हाँ बेटा तेरी मासी ने कभी भी अपनी झाँटे काटी नंही तभी इतना घना जंगल है मेरी चूत पर तुझे पंसद आया ना। हाँ मेरी प्यारी माँसी बहुत पंसद आया मैं तो बडी झाँटो के जंगल का पुजारी हूँ। फिर रजनी अपने पैर हटाये और अपनी स्कर्ट को अपने पैरो से अलग कर दिया। रजनी ने पेंटी के साथ साथ गार्टर बेल्ट और स्टाकिंग भी पहन रखी थी। उसने पेंटी अपनी गार्टर बेल्ट के उपर ही पहनी थी जिससे बिना कुछ खोले उसकी पेंटी उतर सके यही तो एक छिनाल रंडी औरत की निशानी थी। मैंने आगे बढ कर रजनी की पेंटा पर अपने हाथ रख दिये जंहाँ पर उसकी चूत थी। उसकी चूत गीली हो चुकी थी और जैसे ही मैंने अपना हाथ उसकी चूत पर रखा रजनी की पेंटी रजनी की चूत मैं घुस गयी और उसके ही चूत रस से गीली हो गयी। हाय रे क्या कर रहे हो बेटा अब पेटी को क्यो मेरे शरीर पर रखा है इसे भी उतार दो न अब मुझसे ये निगौडी पेंटी अपने बदन पर नंही चाहिये अब तू कर भी दे अपनी माँसी को नंगी और देख उसका नंगा बदन। रीमा ने मुझे सुबह से ही गर्म कर रखा था और मेरा लंड मस्ती में तडप रहा था। मुझे पता नंही और कितनी देर तडपना था पर मैंने सोचा जितनी जल्दी रीमा और रजनी को मजा दूंगा श्याद वह मुझे झडा दें।

यही सोच कर मैंने अपनी उंगली जो की रजनी की पेंटी के सहारे उसकी चूत में घुस गयी थी निकाली और अपनी नाक पर लगा कर पहले उसको सूंघा और फिर अपने हाथ उसकी पेंटी पर ले जाकर उसकी पेंटी उतारने लगा। पर लगता था रीमा को मेरी बात समझ गयी वैसे तो वह तडप रही थी क्योकी उसकी बदन की आग उसे खुद ही बुझानी पड रही थी पर मुझे तडपते देखने मैं तो उसे बहुत सकून मिलता था वह तो कल मुझे पता चल ही गया था। अबे साले गाँडू बडी जल्दी पडी है तेरे को लगता है सोच रहा है कि रजनी और मुझे जल्दी मजा देगा तो हम दोनो तेरे को मजा देंगे भूल जा। पहले तुझे हम दोनो के एक दम तृप्त करना पडेगा तब कही जाकर मैं तुझे झडने दूंगी। चल गाँडू पेंटी उतारने से पहले रजनी की मोटी गाँड के दर्शन तो कर फिर उतारना। चल रजनी तू पलट जा दिखा अपनी मोटी गाँड साले हो पहले।


RE: Maa Sex Chudai माँ बेटे का अनौखा रिश्ता - sexstories - 08-17-2018

मैं समझ गया आज मेरी खैर नंही आज तो मेरे लंड को बहुत तडपना पडेगा तभी जाकर मुझे कुछ राहत मिलेगी क्योकी रीमा इतनी आसानी से तो तृप्त होती नंही और अगर रजनी भी वैसी हुयी तो मेरा क्या होगा। मैं यही सोच रहा था कि इतनी देर में रजनी पलट कर खडी हो गयी और रजनी की गाँड मेरे सामने आ गयी। क्या गाँड थी रजनी की मैं तो बस बयान ही नंही कर सकता था इस बार में।

रजनी रीमा से मोटी थी और रजनी की गाँड भी रीमा से बडी और मोटी थी। ४४ के साईज की उसकी गाँड देख कर मेरे लंड तो मेरे शरीर का साथ छोड कर रजनी की गाँड में घुसने को तैयार था। और रजनी काली थी ये तो मेरे लिये सोने पर सुहागा वाली बात थी क्योकी मुझे काली औरते बहुत पंसद थी। जैसे अंग्रेजी मे कहते है बबल बट रजनी के चूतड बिल्कुल वैसे ही थे। उसके बदन से बाहर निकले हुये दो विशालकाय ग्लोब। दो बहुत ही बडी फुटबॉल जिनको एक साथ चिपका कर रजनी के चूतडो के जगह रख दिया हो। और रजनी के चूतडो के गोलाई भी बरकरार थी। कुछ औरतो के चूतड मोटे होते है पर सपाट से हो जाते है पर रजनी के चूतड तो एक दम गोल मटोल थे। और रजनी के गोल मटोल चूतडो के बीच के वह दरार वह क्या कहने उस चूतड की दरार ने तो रजने के चूतड की सुंदरता और भी बढा दी थी। उसकी चूतड की दरार बहुत ही गहरी थी जैसे तो पहाडियो के बीच की खायी होती है बिल्कुल वैसे ही। कोई भी मर्द उन चूतडो के बीच अपना मुँह घुसाये तो उसका चेहरा उन चूतडो के गहरायी मे खो जायेगा। उन चूतडो को देख कर ही कोई भी अंदाजा लगा सकता था कि कितने मुलायम और गद्देदार थे। कोई भी उसके चूतड को तकिये के रूप मे इसतेमाल कर सकता था। उसके चूतड प्राकृतिक सुंदरता का नमूना था। जैसे उसे बहुत ही समय लेकर प्यार से तराशा गया हो। रजनी ने वैसे भी जी स्ट्रिग पेंटी पहन रखी थी उसकी पेंटी के पीछवाडे मे बस एक स्ट्रिग थी जो रजनी की खायी जैसी गाँड की दरार मे समा गयी थी। जिसकी वजह से रजनी की काले मनमोहक चूतड एक दम नंगे थी।

वैसे तो रजनी की चूतड बहुत ही उभार दार थे पर रजनी ने हॉय हील के सैंडल पहनी थी और वह तन कर अपने चूतड थोडे से पीछे को बाहर निकाल कर खडी थी जिसकी वजह से उसके चूतड और भी उभर कर निकल आये थे। उसकी उभारदार गोल चूतडो के नीचे रजनी मोटी माँसल चौडी जाँघे उसके पीछवाडे की सुंदरता को और भी बढा रहे थे। जैसे सडक पर कोई उंचा सा गति रोधक होता है जो सडक से उठ कर अलग ही दिखता है उसके चूतड बिल्कुल वैसा ही नजारा रजनी के पीछवाडे का बना रहे थे। रजनी अपनी टाँगे थोडा सा खोल कर खडी थी जिसकी वह से नीचे से झाँकती हुये उसकी चूत के कुछ भाग के दर्शन भी मुझे हुये। चूत का कुछ हिस्सा तो रजनी की पेंटी के कपडे ढका हुया था पर पीछे का कुछ हिस्सा पेंटी का कपडा छोटा होने की वजह से नंगा हो गया था रजनी झाँट बहुत ही बडी थी इसलिये उसकी नंगी चूत का हिस्सा थोडा ही दिख रहा था. उसकी चूत की दो फूली हुयी पुत्तीयो के बीच चूत का खुला भाग थोडा नजर आ रहा था ऐसा लग रहा था जैसे चूत नीचे से झाँक कर देख रही हो की कौन आज उसके अंदर कौन सा लंड घुसेगा और उसकी गर्मी को शांत करेगा। उसके चूतड उसकी जाँघ जंहा पर मिलती है वंहा पर गोल कट बना रहे थे जिससे उसके मोटे और बडे चूतड की सुंदरता और भी बढ गयी थी। रजनी की मोटी जाँघो के मोटाई रजनी के घुटनो तक करीब करीब एक जैसी थी जो मुझे बहुत पंसद आयी क्योकी मुझे मोटी जाँघे मसलने का सुख मिलने वाला था। रजनी ने गार्टर बेल्ट पहनी थी जो उसकी कमर पर बंधी थी और उसके सट्रेप उसके चूतड के उपर से जा रहे थे जिससे उसके चूतड की सुंदरता और भी बढ गयी थी।

क्रमशः .................


This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


chudai kurta chunni nahi pehani thisasur ji auch majbur jawani thread storydebina bonnerjee ki nude nahagi imagesSmriti irani nude sex bababaapu bs karo na dard hota hai haweli chudaiÇhudai ke maje videosbete ki haveli me ki pyar ki bochar sexxxxdasiteacherxxxphotokhatraPORN MASTRAM GANDI GALI WALA HINDI KAHANI & PHOTO IMAGING ETC.Kothe me sardarni ko choda,storyKahani didi bur daigan se chodti hXxx story of gokuldham of priyanka chopraदेसी लाली xxxभाभी की सेक्सी जुदाईseal pack bhosdi Bikaner style Mein XX video full Chut Chudai video video audio video Sab Kuch audio Hindiup xnxx netmuh me landsali ka chuchi misai videosPussy chut cataisex.comsaadisuda bahen ki adhuri pyass Hindi sex storiessex baba.net maa aur bahanwww.anuty anuty ko kasa choda thaWidhava.aunty.sexkathameri tait chut faddi mote land se chut chudai xxx sexy kahaniya.comEEsha rebba hot sexy photos nude fake asssexstory leena ka maykaAlia bhutt nude boobs sex baba.combigboobasphotoशिखा पंडे कि चुदाई कि नंगी फोटोColours tv sexbabaसीदा सादा सेक्सी विडियो सससvillamma 86 full storysasur aavar bahoriya ki full codai hindi meXXNXX.COM. नींद में ऐसी हरक़त कर दी सेक्सी विडियों car me utha kar jabrjusti ladko ne chkudai ki ladki ki rep xxxफारग सेकसीNude Nora phteh sex baba picsbuar juje chut land khodnashuriti sodhi ke chutphotoSoutan ki beti ka bubs video लमबी वल कि सेकसी बिडयअँगुरी भाभी बुब्सkam karte samy chodaexxxचोदाने वाली औरतोके नबरhttps://www.sexbaba.net/Thread-fucking-nude-sexy-babessexnanga pata kadaX n XXX धोती ब्लाउज में वीडियोdesi hoshiyar maa ka pyar xxx lambi kahani with photoमीनाक्षी GIF Baba Xossip Nude site:mupsaharovo.ruBubas cusna codna xxnxneha boli dheere se dalo bf videoantrbasna manasamj ladaki stori full xxx moviesXxnx HD Hindi ponds Ladkiyon ko yaad karte hai Safed Pani kaise nikalta haibaj ne chodaxxnxxx baat rum me navkrani ki chudaididi ne mera anda phoda kamukta.cकणिका मात्र नुदेdeshi burmari college girlsantharvarna chatcuhtsexi Urvasi routela fake gif pornsexystorybluefilmsexx mste se pelnevalabudhene jabarjasti choda boobcache:-nIAklwg-mUJ:https://mupsaharovo.ru/badporno/printthread.php?tid=3811&page=4 Indian adult forumsMeri padosan ne iss umar me mujhe gair mard se gand marwane ki adat dali sex storyभाभी सँमभोग कैसे होता है चोदाई कि कहानीकमिंग फक मी सेक्स स्टोरी15kriti bfxxxxमाँ को मोसा निचोड़ाwww.xxxstoriez.com/india actress sonarika bhadoria sex kahiniseal pack bhosdi Bikaner style Mein XX video full Chut Chudai video video audio video Sab Kuch audio Hindiboobs gili pusssy nangi puchhibetatumahri ma hu Sun sexvideo