Porn Sex Kahani पापी परिवार - Printable Version

+- Sex Baba (//ht.mupsaharovo.ru)
+-- Forum: Indian Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-indian-stories)
+--- Forum: Hindi Sex Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-hindi-sex-stories)
+--- Thread: Porn Sex Kahani पापी परिवार (/Thread-porn-sex-kahani-%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%AA%E0%A5%80-%E0%A4%AA%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%B0)

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

"मोम !! नीमा आंटी का ड्रेसिंग सेन्स कितना ज़बरदस्त है ना. आइ मीन उनका लिविंग स्टाइल, फ्रॅंक नेचर, उनकी चाय्स सब पर्फेक्ट है. पहली मुलाक़ात में तो कोई पहचान ही नही सकेगा कि वे दो बच्चो की मा होंगी और यहाँ तक कि कल मैं खुद हैरत में पड़ गया था" निकुंज ने अपने डगमगाते सैयम को काबू में करने का प्रयत्न शुरू किया और जैसे उसकी मा की नज़र किधर है उसे पता ही ना हो एक दम नॉर्मल टोन में वह बोला.


"अच्छा !! लेकिन वह तो मुझसे सिर्फ़ 4 साल ही छोटी है" कम्मो ने फॉरन निकुंज के कथन पर गौर किया और फ्रेंची के तंबू पर जमी उसकी आँखें पल भर में वापस अपने बेटे के चेहरे पर लौट आई.


"फिर भी मोम !! वे काफ़ी यंग दिखती हैं" कम्मो का रिक्षन देख निकुंज समझ गया कि उसकी मा को नीमा आंटी की प्रशन्षा पच नही पा रही "उस जीन्स-टॉप में उनका फिगर बहुत हॉट नज़र आ रहा था ना ?" चतुरता से उसने इस विवादित विषय पर स्वयं अपनी मा की राय जाननी चाही जो इस वक़्त क्रोध में तिलमिलाती उसे बेहद खूबसूरत नज़र आ रही थी.




"अगर कोई औरत सरे बाज़ार नंगी घूमेगी तो तुम मर्दो का उसकी ओर आकर्षित होना जायज़ है" कम्मो ने नीमा के साथ अपनी ईर्ष्या की जलन में निकुंज को भी लपेट लिया.


"आप की सोच का नज़रिया ही ग़लत है मोम !! आप आंटी के फॅशन की समझ को नग्नता का रूप दे रही हो" निकुंज इस वार्तालाप से मन ही मन मुस्कुरा रहा था और बीच-बीच में अपनी मा का ध्यान अपने खड़े लंड की तरफ मोड़ने हेतु कभी अपना पेट सहलाता तो कभी फ्रेंची की दोनो कीनोर से बाहर निकल आई अपनी झाँटे खुजाने लगता.


"नीमा का पति उसके साथ यहीं इंडिया में रहता होता तो मैं मानती उसके फैशन को मगर यह क्या बात हुई कि पति विदेश में मेहनत करे, पैसा कमाए और उन्ही पैसो से तुम छोटे-छोटे कपड़े खरीद कर मर्दो को रिझाती फ़िरो" वह भूंभूनाई "थोड़ा और खिसक !! मुझे भी ऊपर ठीक से बैठने दे" काफ़ी समय से बिस्तर के नीचे पैर लटकाए बैठी कम्मो की पीठ में अब दर्द होने लगा था तो वा निकुंज से डिमॅंड करती है.


"हां हां मोम !! आप रिलॅक्स हो कर बेड पर बैठ जाओ" निकुंज बिस्तर के सेंटर में खिसक कर बोलता है. उसका तो जैसे बिन माँगे जॅक पॉट लगा गया था, अब उसकी मा बड़े आराम और स्पष्ट रूप से उसकी टाँगो की जड़ को निहार सकती थी.


"तो क्या नीमा आंटी अपने हज़्बेंड की गैर-हाज़री में गुलच्छर्रे उड़ाती हैं. मैं नही मानता मोम" कहने के उपरांत वह पुनः अपनी झाँटे खुजाता है और इस बार उसके हाथ के साथ उसकी मा की आँखें भी उसके बड़े से तंबू पर पहुँच जाती हैं.


"मैने ऐसा तो नही कहा !! हां पहले मैं थोड़ा नाराज़ थी लेकिन नीमा को सोचना चाहिए. उसके दो जवान बच्चे हैं और वह अगर फैशन के नाम पर भी छोटे कपड़े पहने कर घर से बाहर निकलेगी तो अपने आप मर्दो की जमात में चर्चा का विषय बनेगी. जैसे तुम बेशर्मी से उसे हॉट आंटी की संगया दे रहे थे वैसे ही ना जाने कितने लोग देते होंगे" कम्मो ने अपनी बात का स्पष्टीकरण किया और कामुकतावश अपने होंठ चबाने लगती है. उसकी कछि सामने से गीली हो कर उसकी काँपती चूत के मुख से बुरी तरह चिपक चुकी थी.


"मानता हूँ मोम !! आप अपनी जगह सही हो बट नीमा आंटी भी ग़लत नही हैं. अगर ग़लत कोई है तो वह है लोगो की गंदी सोच" निकुंज ने अपनी हार स्वीकार करते हुए अपने कान पकड़ने का अभिनय किया "सॉरी मों !! जो मैने आप पर उन अंडरगार्मेंट्स को पहेन्ने के लिए ज़बरदस्ती प्रेशर डाला, वैसे मुझे तो उनमें कुच्छ ग़लत नही लगा लेकिन अगर आप कंफर्टबल ना हो तो मत पहेनना" निकुंज बोला और फॉरन कराह कर अपनी फ्रेंची अड्जस्ट करने का भ्रम पैदा करते हुए उसकी दाईं कीनोर नीचे खीचने लगता है और उसके ऐसा करते ही कम्मो को उसके टट्टो की हल्की सी झलक देखने को मिल जाती है.


"क्या हुआ निकुंज !! कोई दिक्कत है क्या ?" जान-बूझ कर अंजान बनने का नाटक तो स्वयं कम्मो भी कब से कर रही थी जब कि उसे अच्छे से मालूम था कि उसके बेटे को उसकी झान्टो ने परेशान कर रखा है.


"कुच्छ नही मोम !! आज सुबह से यहाँ बहुत खुजली हो रही है" कह कर वह अत्यधिक पीड़ा के भाव अपने चेहरे पर लाते हुए अपनी मा की आँखों के सामने ही बिना किसी अतिरिक्त शरम के अपना हाथ फ्रेंची के अंदर डाल लेता है और फिर मनचाहे ढंग अपनी झाँटे खुजलाना आरंभ देता है.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

"बस कर निकुंज वरना इन्फेक्षन हो जाएगा वहाँ" कहते वक़्त कम्मो की गान्ड का छेद तेज़ गति से सिकुड रहा था और उसकी गोल मटोल चुचियाँ उसकी बेकाबू सांसो के प्रभाव से ऊपर- नीचे हो कर झूला झूलने लगती हैं.


"अपना अंडरवेर देख, कितना गंदा हो चुका है" निकुंज का कोई जवाब ना पा कर कम्मो उसका ध्यान उसकी फ्रेंची पर लगे दाग-धब्बो पर केंद्रित करती है "उतार इसे, मैं धो देती हूँ" अपने सगे पुत्र का विशाल लंड नंगा देखने के उद्देश्य से ऐसा कह कर कम्मो अपने हाथ को आगे बढ़ाते हुए निकुंज की कलाई थाम लेती है. डाइरेक्ट लंड छुने की वह काम-लूलोप अपनी हिम्मत नही जुटा सकी थी.


"मेरा हाथ छोड़ो मोम !! मुझे जी भर कर खुज़ला लेने दो" बोल कर निकुंज दोबारा अपना हाथ हिलाने लगता है मगर इस बार उसकी मा का हाथ भी इस घिनोने कार्य में उसका साथ दे रहा था.


"मैं कहती हूँ रुक जा निकुंज" कम्मो ने उसे डाँट लगा कर कहा "चल उतार इसे, मैं 2 मिनिट में धो दूँगी !! पहने रहेगा तो ज़्यादा खुजली होगी" अगले ही पल बदल कर वह मोम हो गयी.


"मैं धो लूँगा मोम !! आप फिकर ना करो" निकुंज अपनी शरम दर्शाता है.


"जब मैं यहाँ मौजूद हूँ तो तू क्यों धोयगा" कम्मो अपनी पापी लालसा को पूरा करने के लिए प्रयत्न पर प्रयत्न करती जा रही थी.


"मोम !! आप समझो मैं नंगा हो जाउन्गा" निकुंज अपने अभिनय को अंतिम मोड़ दे कर बोला.


"तो क्या एक मा अपने बेटे को नंगा नही देख सकती और तू तो ऐसे कह रहा है जैसे अभी तूने पूरे कपड़े पहन रखे हों" कम्मो ने फॉरन अपने हाथ को उसकी कलाई से हटाते हुए अपनी उंगलियों से उसकी फ्रेंची की स्ट्रीप को पकड़ कर कहा "रुक मैं ही उतारती हूँ. बड़ा आया अपनी मा से शरमाने वाला" वह अपना दूसरा हाथ भी फ्रेंची की दिशा में आगे बढ़ाती है. एक गहरी साँस ले कर उसने अपनी बंद होती आँखों को बल-पूर्वक खोले रखने का प्रयास किया और इसके उपरांत ही वह फ्रेंची का फ्रंट पार्ट नीचे खींच देती है.


"मोम" निकुंज की आवाज़ के साथ ही उसकी मा की आह भी कमरे में गूँज उठी.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

फ्रेंची का फ्रंट पार्ट नीचे खीचते ही निकुंज का विशाल एवं तना लंड नंगा हो कर कम्मो की अचंभित आँखों के सामने फड़फड़ाने लगता है. जिसकी तमन्ना उस कामुक मा ने अपने दिल में काफ़ी लंबे अरसे से पाल रखी थी और वह दोबारा अपने सगे पुत्र के लंड का दीदार करने में पूर्ण-रूप से सफल हो गयी थी.

"मोम !! मैं कर लूँगा. आप क्यों परेशान हो रही हो ?" निकुंज हौले से फुसफुसाया और फॉरन अपने लंड को छुपाने के प्रयास में कम्मो की विपरीत दिशा की ओर करवट लेने की कोशिश करता है मगर उस स्थिति में उसकी मा फ्रेंची को उसकी गान्ड से नीचे भी खीच सकती है ऐसा सोच वह पुनः अपनी पीठ के बल लेटने पर विवश हो जाता है.

हलाकी कमरे का माहॉल गरम और रंगीन बनाने हेतु पहेल करते हुए स्वयं निकुंज ने ही अपनी अश्लील हरक़तो से कम्मो को छेड़ना आरंभ किया था लेकिन उसकी मा उसे पूरा नंगा करने पर उतारू हो जाएगी यह उसने कतयि नही सोचा था.

"अच्छा !! अपने बच्चे के कपड़े धोने में उसकी मा को किस बात की परेशानी" कम्मो अपने पुत्र के फूले सुपाडे को बड़े गौर से देखते हुए कहती है जो गाढ़ा रस बाहर उगलता हुआ उस निर्लज्ज मा को बेहद सुंदर नज़र आ रहा था. माना उसके कथन का अर्थ सही था मगर निकुंज अब बच्चा नही बल्कि एक बलिष्ठ शरीर और उससे भी कहीं ज़्यादा कठोर लंड का स्वामी बन चुका था और प्रमाण-स्वरूप अपनी सग़ी मा के समक्ष नंगा बैठा था.

"उफ़फ्फ़ मोम !! आप समझो. मुझे शरम आ रही है" कहते हुए निकुंज ने अपने दोनो हाथ कम्मो के हाथो पर रख दिए ताकि अपनी मा की उंगलियों की मजबूत पकड़ से अपनी फ्रेंची की स्ट्रीप छुड़वा सके.

"अच्छा ले छोड़ दिया !! चल अब बता तुझे शरम की बात की आ रही है ?" अचानक कम्मो फ्रेंची की स्ट्रीप को अपनी उंगलियों की पकड़ से मुक्त कर उससे सवाल करती है और मौका पाते ही निकुंज ने तेज़ी से फ्रेंची ऊपर खीच कर अपनी इज़्ज़त वापस ढँक ली.

"वो मोम !! अगर आप इसे उतार दोगि तो मैं नंगा हो जाउन्गा ना" उसने धीमे स्वर में जवाब दिया. अपनी मा की विध्वंसक क्रिया पर उसे बेहद आश्चर्य हो रहा था और अब तक उसके दिल की धड़कने ठीक से सामान्य नही हो पाई थी.

"नंगा तो मैने तुझे बचपन में हज़ार बार देखा है और कुच्छ दिन पहले तेरी जवानी में भी देख लिया. भूल गया हो तो पुणे टूर की याद दिलाऊ ?" अपनी बातों के ज़रिए कम्मो अपने बेटे की मनो-स्थिति भाँपने की कोशिश करती है और उसने प्रत्यक्ष-रूप से जाना वाकाई उसका लाड़ला शरम से बहाल था. स्वयं उस कलयुगी मा के जिस्म में भयानक कपकपि दौड़ रही थी और बुरी तरह हाँपते हुए वह अपनी ललचाई नज़रों को निकुंज की फ्रेंची के तंबू से हटा नही पा रही थी.

"आप को कुच्छ कहने की ज़रूरत नही मोम !! मुझे ऑलरेडी सब याद है" अपनी मा द्वारा पुणे में बिताई रात का उल्लेख सुन निकुंज सिहर उठा और फॉरन उस विषय को वहीं समाप्त करने का प्रयत्न करता है. वह जानता था अगर उसने एक पल को भी अपना ध्यान उस रात की तरफ मोड़ा तो यक़ीनन उसका सैयम टूटने लग जाता.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

"फिर क्या दिक्कत है !! गंदे अंडरवेर को पहने रहेगा तो तुझे इन्फेक्षन हो सकता है बेटे. चल अब ज़िद मत कर और इसे उतार कर अपनी मा को दे दे" कम्मो प्यार से उसे समझाती है. फ्रेंची की स्ट्रीप छोड़ कर जो ग़लती उसने की थी अब उसे अपनी बेवकूफी पर पछ्तावा हो रहा था. कितने जतन के बाद वह अपने बेटे का लंड वापस देखने में कामयाब हुई थी मगर उसकी एक भूल ने उसके चेहरे पर आई सारी खुशी मानो गहेन मायूसी में बदल दी थी.


"बेटा !! मैं मा हूँ तेरी और मेरे होते हुए भी तू परेशान रहे यह मैं कभी नही सह पाउन्गि" निकुंज को शांत बैठा देख कम्मो ने एहसासो के सहारे उसे मनाना चाहा "पुणे में तू अपना लंड खड़ा ना होने की वजह से दुखी था तब तेरी मा ने उसे अपने मूँह से चूस कर तेरी उदासी को दूर किया और यह बात मैं तुझे बता भी चुकी हूँ कि उससे पहले मैने कभी लंड नही चूसा था, तेरे पापा का भी नही. अभी तुझे खुजली से दिक्कत महसूस हो रही है तो तेरी मा तेरा अंडरवेर धो देगी. जब-जब तू परेशान होगा निकुंज कोई तेरे साथ हो या ना हो लेकिन तेरी मा ज़रूर तेरे साथ होगी" बे-ख़याली में कम्मो दो बार लंड शब्द का उच्चारण कर जाती है मगर उसे इस बात की कोई परवाह नही थी. उसका मक़सद तो किसी भी हालत में अपने बेटे को संपूर्ण रूप से नंगा देखने का था.


कम्मो की इस बात ने निकुंज की रूह कंपा दी और वह खुद को धिक्कारने लगता है कि क्यों उसने खुजली वाला नाटक शुरू किया और उसकी मा उसके अभिनय को सच मान बैठी. वह अपनी मा की मर्यादा और उसकी इज़्ज़त से भली-भाँति परिचित था भले चाहे उसके खुद के मन में अपनी मा के प्रति ग़लत भाव आ गये थे मगर एक मा होने के नाते कम्मो जान-बूच्छ कर उसका ग़लत इस्तेमाल कभी नही करेगी शायद यह निकुंज भूल गया था.


"मुझे पता है !! आप मुझे प्राब्लम में नही देख सकती" निकुंज ने अपने दोनो हाथो को अपनी कमर पर रखते हुए कहा "आप सही हो मोम !! मुझे इन्फेक्षन होने का ख़तरा है" बोल कर वह अपनी उंगलियाँ फ्रेंची की स्ट्रीप में डाल कर शीघ्रता से उसे अपनी टाँगो से बाहर निकाल देता है.


"निकुंज !! तूने अपनी मा की बात मानी. मुझे बहुत खुशी हुई" कम्मो अत्यंत तुरंत निकुंज की नंगी छाति से लिपट कर कहती है. उसकी आँखें चमक उठी थी जब उसने अपने बेटे को स्वयं अपने मन से अपनी फ्रेंची उतारते देखा था. अगर निकुंज की नज़र उस वक़्त अपनी मा के चेहरे पर होती तो यक़ीनन वा जान जाता कि उसके साथ छल-कपट किया गया है.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

"आप की बात को कैसे टालता मोम !! लो अब इसे धो दो" कम्मो के प्यार भरे आलिंगन को स्वीकार करते ही निकुंज की घबराहट अचानक से बढ़ गयी. सर्व-प्रथम तो वह अपनी सग़ी मा के सामने पूर्ण-रूप से नंगा होने पश्चात खुद के जिस्म में बेहद रोमांच आता महसूस कर रहा था और दूसरे कम्मो की गोल मटोल तनी चूचियाँ उसकी छाति में बुरी तरह धँस कर उसके टटटे उबलवाने लगी थी. नतीजन निकुंज का लंड अब और भी ज़्यादा विकराल हो कर उसकी मा के नंगे मुलायम पेट पर चोट कर देता है.


"उफ़फ्फ़ !! यह क्या चुभा मुझे ?" जानते हुए कि अभी उसके पेट से कौन सी वस्तु टकराई है कम्मो ने सिसक कर निकुंज को अपनी बाहों से आज़ाद कर दिया और अपने प्रश्न के ज़रिए अब वह अपने पुत्र के विशाल लंड को उसी की आँखों के सामने खुल कर निहार सकती थी.


"निकुंज !! तेरी मा ने तुझे ज़रा सी छूट क्या दे दी तू तो शैतानी करने पर उतर आया" कम्मो ने मुस्कुरा कर निकुंज के खड़े लंड की ओर देखते हुए कहा तो बदले में अत्यधिक उन्माद से ओत-प्रोत उसके बेटे का लंड ज़ोर-ज़ोर से झटके खाने लगा और फॉरन उसके सूजे सुपाडे से रस बाहर छलक कर लंड की अत्यंत गोरी खाल पर बह जाता है.


"मोम !! आप अंडरवेर धोने जा रही थी ना ?" निकुंज ने अपनी मा का ध्यान बंटाने के उद्देश्य से अपनी फ्रेंची उसके सुपुर्द करनी चाही ताकि कम्मो उसके लंड की विशालता से संबंधित अन्य कोई प्रश्न ना पुच्छ ले. इतना तो वा जानता था कि उसकी मा को उसके खड़े लंड की स्थिति का पता काफ़ी पहले से लग चुका था.


"हां वो तो मुझे धोना है मगर तू भी मेरे साथ बाथरूम चलेगा" कम्मो ने जैसे विस्फोट किया. उसे अच्छी तरह मालूम था कि उसके बातरूम में जाने के उपरांत अवश्य ही निकुंज अपनी नयी फ्रेंची पहेन लेगा और वह फिर से मॅन मसोस कर रह जाएगी "अब जो भी होना है सब मेरी प्लॅनिंग के मुताबिक होगा" उसने खुद से कहा.


"मैं .. मैं क्या करूँगा बाथरूम जा कर ?" सवाल करते हुए निकुंज हकलाने लगा.


"अरे बुध्धु !! अभी कितना गंदा अंडरवेर पहेन रखा था तूने तो क्या अब इसे उतारने के बाद अपना लंड नही धोएगा ?" कम्मो ने अपने पुत्र को अपने अपने प्रश्न से चौंका दिया. वह खुद हैरान हुई की उसके मूँह से दोबारा लंड शब्द का इतना स्पष्ट उच्चारण कैसे हो गया मगर तब तक बहुत देर हो चुकी थी.



RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

"हमे हमारे शरीर के सभी प्राइवेट पार्ट्स हमेशा सॉफ-सुथरे रखने चाहिए. क्या तूने साइन्स की बुक में नही पढ़ा और ऐसा ना करने का अंजाम देख. कैसे पागलो जैसे खुजा रहा था अभी थोड़ी देर पहले" इस बार वह अपनी भाषा में सुधार करती है लेकिन अपने बेटे के हैरान चेहरे की आकृति को नही बदल पाती.


"हां मोम !! मैने पढ़ा है" अब निकुंज इससे ज़्यादा और क्या कहता. वह तो बस प्रार्थना कर सकता था कि जल्द ही उसकी मा बाथरूम में चली जाए और उसकी जान छूटे. मगर एक विशेष तथ्य जो उसके मश्तिश्क को झकझोर रहा था और वह था उसकी मा का कड़ा सैयम जो किसी भी दृष्टिकोण से कम्मो के चेहरे पर उत्तेज्नात्मक भाव नही आने दे रहा था.


"देखो जानते हुए भी कितना बड़ा जंगल उगा रखा है बेवकूफ़ ने" कम्मो ने अपनी कामुक बातों का सिलसिला ज़ारी रखा और अपनी प्रथम उंगली व अंगूठे के मध्य उन बालो को पकड़ कर कहती है "मैं तो उसी रात तुझे टोकने वाली थी जब पहली बार तेरा लंड देखा था लेकिन जाने क्या सोच कर चुप रह गयी थी. अब चल ना बैठा क्यों है और वहीं अपनी इन झान्टो को भी काट लेना" यह पहला अवसर था जब कम्मो ने जान-बूझ कर लंड शब्द का इस्तेमाल किया और अपने पुत्र के लंड के आस-पास के एरिया को छुआ भी. अपनी मा की इस शर्मनाक कार्यवाही से निकुंज मानो उसी पल झड़ने को तैयार हो जाता है लेकिन समझदार कम्मो की मौजूदगी उसे झड़ने नही देती. वह समय से पूर्व अपना हाथ उसकी झाटों से हटा चुकी थी.


इसके बाद कम्मो ने ज़बरदस्ती अपने बेटे के हाथ को थाम कर अपने साथ उसे भी बिस्तर से नीचे उतार लिया. अगर वह पहेल नही करती तो निकुंज कभी उसके साथ बाथरूम में नही आता. खुले आम वह लज्जाहीन मा अपने नंगे पुत्र के साथ ऐसे मटक-मटक कर चल रही थी जैसे यह बात उसके लिए बेहद तुच्छ हो और चन्द कदमो का फासला तय करने के उपरांत ही वे दोनो बाथरूम के अंदर पहुच जाते हैं.


"तू यहीं रुक मैं अभी आती हूँ" कहते हुए कम्मो ने मन भर कर निकुंज के लंड को निहारा जैसे उसे अपने जीवन की अंतिम विदाई, आख़िरी अलविदा कह रही हो और फिर पलट कर वापस कमरे में आती है. बिस्तर के पास रखा स्टूल जो स्वयं उसके घुटने तक आ रहा था उसे उठा कर लगभग दौड़ते वह पुनः बाथरूम में प्रवेश कर गयी.


"निकुंज !! इस पर बैठ जा बेटे और मैं तुझे डेटोल आंटी-सेपटिक वॉश की बोटल भी ला कर देती हूँ" कम्मो का आदेश मान कर निकुंज स्टूल पर बैठ जाना ही उचित समझता है. उसकी मा की अजीबो-ग़रीब गतिविधियाँ उसे सकते में डाल रही थी और कहीं कम्मो ने अपना मानसिक संतुलन तो नही खो दिया है ऐसा सोच-सोच कर उसका मश्तिश्क फटा जा रहा था लेकिन मज़ाल है जो उसके लंड में नाम-मात्र का भी ढीलापन आया हो. वह तो तंन कर ना जाने कब से उसके पेट से चिपका हुआ था.


"ले बेटा डेटोल वॉश और देख कितनी बदबू आ रही है तेरे अंडरवेर से" फ्रेंची को अपनी नाक से लगा कर दो-चार गहरी साँसे लेने के बाद कम्मो ने टेढ़ा सा मूँह बनाया बल्कि सच तो यह था कि वह अपने पुत्र के गुप्ताँग की मादक सुगंध सूंघ कर बहुत ज़्यादा कामुत्तेजित हुई थी और जिसके प्रभाव से उसका पूरा जिस्म लहरा उठा था. यह बात फॉरन निकुंज ने नोट कर ली और पहली दफ़ा में ही वह अपनी मा की वास्तविक स्थिति से पूरी तरह वाकिफ़ हो जाता है.


"मोम !! तभी तो आप इसे धोने की ज़िद कर थी" उसने साधारण सा जवाब दिया. हलाकी अब वह अपनी मा की कामुक हालत का जानकार था मगर फिर भी अपने मन को बदल पाना उसके लिए संभव नही हो पाया था.


"संसार की हर मा जो अपने जवान बेटे को इस तरह नंगा देखेगी तो ज़रूरी नही कि उस मा के शरीर और उसकी क्रियाओं में कोई भी परिवर्तन ना आए और फिर मोम ने सिर्फ़ मेरे भले के लिए ही मुझे नंगा किया है. अब ऐसे में यदि उनकी काम लालसाएँ जागने लगी हैं तो इस में उनका क्या दोष" निकुंज गांबीरता-पूर्वक सोच रहा था "मैं सब कुच्छ जानते हुए भी अंजान बना रहूँगा और अपनी तरफ से उन्हें ज़रा भी तकलीफ़ नही पहुचने दूँगा. मैं खुद से वादा करता हूँ कि उनका बेटा हमेशा उनकी इक्षाओ का सम्मान करता रहेगा" अपनी सोच को विराम देते हुए निकुंज मन ही मन मुस्कुराने लगता है.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

"निकुंज !! यह ले पानी मगर पहले अपने लंड को अच्छे से धो लेना और इसके बाद आंटी-सेपटिक वॉश यूज़ करना" कम्मो ने पानी से भरा मग अपने बेटे की ओर बढ़ा कर कहा और इसके उपरांत वह एक गारेलू काम-काज करने वाली नारी की तरह अपनी सारी को अपनी गोरी मांसल पिंदलियो तक ऊपर उठाते हुए, सारी का वह हिस्सा अपने पेटिकोट के अंदर ठूंस लेती है. साथ ही उसने अपना पल्लू भी कसा ताकि निकुंज अपनी मा के फर्श पर बैठे होने से उसकी चूचियों का उभार ना देख ले. तत-पश्चात वा अत्यंत सुंदर मा नीचे ज़मीन पर अपने घुटनो के बल बैठ जाती है.


"एक मा हो कर यदि मैं अपने सगे बेटे को रिझाऊ तो वह इसे अपनी मा का छिनाल्पन समझेगा. माना मैं भी नीमा की तरह ही अपने पुत्र के साथ चुदाई करने को उत्सुक हूँ मगर मेरा मात्रत्व मुझे पहल करने की इजाज़त कभी नही देगा. बस मैं अपनी तरफ से निकुंज को छु सकती हूँ, चूम सकती हूँ या कभी-कभार बहाने बना कर उसे नंगा देख सकती हूँ मगर इसके आगे मेरी हद्द की समाप्ति है" कम्मो अपने बेटे की फ्रेंची पर साबुन रगड़ते हुए सोचती है.


"वैसे भी निकुंज भोला है. मुझसे बहुत प्यार करता है और तभी मेरे दुखी होने के नाटक को सच समझ स्वयं अपनी इक्षा-अनुसार अपना अंडरवेर उतार कर अपनी मा के सामने नंगा हो गया. मैने अपनी आँखें दर्ज़नो बार उसके लंड से जोड़ी और जानते हुए भी इस उसकी मा की दृष्टि कहाँ है अब तक निकुंज ने मुझ पर किसी भी प्रकार का कोई शक़ नही किया. चाहु तो एहसासो के बंधन में बाँध कर उसे अपने साथ चुदाई करने को अभी और इसी वक़्त राज़ी कर लूँ मगर मेरा ऐसा करना उसके दिल को चीर कर रख देगा, यक़ीनन उसे अपनी मा से सदा के लिए नफ़रत हो जाएगी. हां मैं इतना अवश्य करूँगी कि अगर नुकूँज अपनी ओर से मुझे बाध्य करे, विवश करे तो मैं अपना तंन, मन और धन अपना सर्वस्व उस पर न्योचछावर करने को हमेशा तैयार रहूंगी" कम्मो की सोच भी ख़तम हो गयी मगर इस जटिल समास्या का कोई भी हल अब तक नही निकल पाया था.


"हो गया मोम !! क्या अब डेटोल वॉश लगा लूँ ?" निकुंज के लफ्ज़ सुन कर कम्मो ने अपना सर ऊपर उठाते हुए अपने बेटे के लंड पर अपनी निगाहें डाली और फॉरन उसे एक तरकीब सूझी.


"अरे ठीक से तो धो पागल !! अभी तेरी झान्टे पूरी तरह से कहाँ भीगी हैं. रुक मैने तेरी अंडरवेर में साबुन रगड़ दिया है और मुझे लगता है कि तेरे लंड को धोना भी तुझे अब तेरी मा को ही सीखाना पड़ेगा !! भोन्दु कहीं का" कम्मो बिना किसी अतिरिक्त झेंप के खुल कर अपने पुत्र के समक्ष अश्लीलता भरे शब्दो का प्रयोग करती है और निकुंज के विशाल लंड को धोने की बाग-डोर स्वयं अपने हाथो में लेते हुए उसने उसका सैयम तोड़ने का मन बनाया था.


"मॉम !! कम से कम यह काम तो मुझे खुद करने दो" निकुंज घबरा कर बोलता है. वह किसी भी सूरत में अपनी मा के हाथो का कोमल स्पर्श अपने खड़े लंड पर महसूस नही करना चाहता था. उसे अनुमान था कि उसकी सहेन-शक्ति तुरंत जवाब दे जाएगी.


"चल फटाफट खड़ा हो जा बाद में मुझे घर के बाकी अधूरे काम भी पूरे करने हैं" निकुंज की एक ना सुनते हुए कम्मो ने उसे आदेश दिया और साथ में बड़ी चतुराई से उसके सामने अपनी अन्य ज़िम्मेदारियों का दिखावा भी करती है ताकि उसका बेटा उस पर तनिक भी संदेह ना कर सके.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

इसके बाद उस चंचल मा ने बड़ी ही सहजता के साथ अपने बेटे के विशाल लंड पर पानी से लबालब भरे कयि सारे मग उडेल कर लगभग उसका संपूर्ण निचला धड़ भिगो दिया और तत-पश्चात वह अपना कांपता हाथ उसके अत्यधिक फूल चुके टट्टो पर रखते हुए उन्हे हौले-हौले सहलाने लगती है.


"उफ़फ्फ़ मोम" निकुंज पर तो जैसे वज्रपात हो गया. उसकी आह को सुन कम्मो भी फॉरन अपनी चूत की संकीर्ण मास-पेशियों में बेहद खिचाव आता महसूस करती है और खुद ब खुद उस मा के छर्हरे शरीर का पूरा भार उसकी एडियों से हट कर उसके पैरो के पंजो पर एकत्रित हो जाता है.


"मैं कितनी चरित्रहीन मा हूँ जिसने अपने जवान बेटे को दो बार अपनी मर्ज़ी से नंगा कर दिया और जाने कितनी ओछि-ओच्चि हरक़तें भी उसके साथ कर रही हूँ. क्यों निकुंज !! है ना तेरी मा सच में बेशरम ?" कम्मो ने अपनी उंगलियों को उसकी घुँगराली झान्टो के घुछो में उलझाते हुए पुछा तो निकुंज का मूँह फॅट पड़ता है. उसे लगता है जैसे उसकी मा के वे शब्द नुकीला खंजर बन कर उसके दिल को बुरी तरह से भेद गये हों.


"मोम" उसकी टीस भरी चीख कम्मो के कानो से जा टकराई और स्वतः ही वह लंड से अपनी दृष्टि हटा कर निकुंज की आँखों में झाँकने लगती है.


"अगर दोबारा कभी आप ने ऐसी बात कही ना मोम तो याद रखना आप मुझे हमेशा के लिए खो दोगि. मेरी मा दुनिया की सबसे अच्छी मा है और अपने बेटे से बहुत प्यार करती है. बस इसके अलावा मैं कुच्छ नही जानता और ना जानना भी नही चाहता" निकुंज ने अपने हाथ को अपनी मा के मुलायम गाल पर फेरते हुए कहा तो कम्मो का मन खुशी से झूम उठता है.


"पगले !! तो क्या तेरी मा तुझे अपने से दूर कभी जाने देगी. कभी नही निकुंज, कभी नही" आंटी-सेपटिक वॉश को अपने हाथ के पंजे में इकट्ठा कर कम्मो जवाब देती है. अब वह आनंदित थी, उसे कोई भय ना था और जल्द ही वह मा अपनी सुंयोजित अधूरी पापी लालसा को शिखर पर ले जाने हेतु बड़ी तेज़ गति से अपने पुत्र के लंड को मसल्ने, रगड़ने, दबाने, मुठियाने इत्यादि सभी कार्य एक के बाद एक क्रमांक से करना शुरू कर देती है.


"आह मोम !! थोड़ा धीरे करो" कम्मो के अनुभवी हाथो की तत्परता और उसे उसके पुत्र के लंड की सेवा में यूँ खोया देख निकुंज अपनी कामुक सिसकियों को अपने भर्राये गले से बाहर आने से कतयि नही रोक पा रहा था और जब उसे लगा कि अब वह किसी भी पल झाड़ सकता है तो वह अपनी मा को टोक देता है.


"मोम क्या सोचेंगी" निकुंज ने खुद से कहा "यदि मैं काबू नही कर पाया तो यक़ीनन मेरे वीर्य के सारे छींटे मा के चेहरे और उनके जिस्म पर गीरेंगे" वह सोचता है.


"क्या हुआ निकुंज !! दर्द हो रहा है क्या बेटे ?" कम्मो ने लंड की अखंड फड़फड़ाहट को पहचान कर भी अंजान बनते हुए पुछा. उसका अधीर चेहरा निकुंज की टाँगो की जड़ के बेहद करीब था और उसके गुलाबी होंठो से बाहर निकलती उसकी गरम साँसे उसके पुत्र के फूले सुपाडे से निरंतर टकरा रही थी. आंटी-सेपटिक वॉश के कारण बना झाग और बेहतरीन चिकनाई की मदद से कम्मो के दोनो हाथ कोमलता-पूर्वक निकुंज के लंड की गोरी सतह पर बेहद आसानी से फिसलते जा रहे थे और यही वो मुख्य वजह थी जो उसका बेटा अब अपने चरम को महसूस करने लगा था.


"ओह्ह !! नही .. नही मोम दर्द तो नही हो रहा मगर ...." निकुंज ने अपने जबड़ो को ताक़त से भींचा परंतु अपना कथन पूरा नही कर पाया.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

"मगर क्या बेटे !! बता मुझे ?" पुच्छ कर कम्मो के चेहरे पर शरारती मुस्कान छा जाती है. अपने वर्तमान जीवन की सबसे पसंदीदा और अनमोल वास्तु, अपने सगे बेटे के लंड से खेलते हुए उसकी मा का मूँह तो ना जाने कितनी देर से पनिया रहा था और कयि बार अपनी लार को नीचे टपकते देख वह प्रसन्नता से फूली नही समाई थी.


"कुच्छ नही मोम !! बस ऐसे ही सोचा कि आप फर्श पर बैठे-बैठे थक गयी होंगी" निकुंज बात को घुमा कर बोला. अत्यधिक उन्माद से खुद ब खुद उसकी कमर झटके खाती हुई उसकी मा के हाथ की मुट्ठी की कसावट के साथ ताल से ताल मिलाने लगी थी और वह अपनी मा का खूबसूरत चेहरा अपने उबलते टट्टो में निरंतर उमड़ते जा रहे वीर्य से कतयि गंदा नही करना चाहता था. अपने कथन के अर्थ से उसने कम्मो को फॉरन फर्श से उठ जाने का संकेत दिया था.


"तू यह सब सोचना छोड़ बेटे !! मैं ठीक हूँ" कम्मो ने स्थिति-अनुसार अपने हाथो की सहलाहट को कम करते हुए निकुंज से सवाल किया. वह नही चाहती थी कि उसका बेटा अपना अमूल्य वीर्य बेकार में व्यर्थ कर दे "बुरा ना माने तो एक बात पुच्छू ?" वह बोली.


"हां क्यों नही मोम !! आप को मेरी इजाज़त लेने की कभी कोई ज़रूरत नही है" निकुंज अपनी मा का समर्थन करता है जैसा उसने कुच्छ वक़्त पहले खुद से प्रण किया था परंतु वह घबरा भी रहा था कि उसकी मा इस विषम परिस्थिति के अनुरूप कोई उट-पटांग सवाल उससे ना पुच्छ ले.




"बेटे !! कल तूने माल से लौट-ते वक़्त कहा था कि तू पुणे की उस रात को भूल नही पाता. क्या हक़ीक़त में तेरी मा ने तेरे लंड को इतने अच्छे से चूसा था ?" कम्मो की कछि उसकी सकुचाती चूत के कामरस से भीग कर अपनी सोखन-शक्ति हर तरह से खो चुकी थी और उसके तने गोल मटोल मम्मो का अब उसके ब्लाउस में क़ैद हो कर रह पाना ना-मुमकिन था. अनेको बार वा अपने होंठो पर अपनी लंबी जिह्वा फेरने को मजबूर थी ताकि उसके मूँह से बहती उसकी अनियंत्रित लार का बहाव वह निकुंज की नज़रों से छुपा सके.


"मुझे तो लगता है तूने सिर्फ़ अपनी मा का दिल रखने के लिए ऐसा कह दिया होगा वरना पहली ही बार में कोई औरत लंड को इतनी सटीकता से कैसे चूस सकती है ?" उनके मर्यादित रिश्ते की पवित्रता को तार-तार कर देने वाला प्रश्न पुच्छ कर वह कलयुगी मा जवाब की प्रतीक्षा में अपने पुत्र की आँखों में झाँकने लगती है.


निकुंज की उत्तेजना को कम्मो का यह सवाल इस कदर भड़का देता है कि यदि वह अपनी आंटी नीमा की चुदाई के दौरान दो बार नही झाड़ा होता तो वाकयि उसका लंड इसी वक़्त स्खलित हो जाना था. उसकी हड़बड़ाहट इस बात के मद्देनज़र तीव्रता से बढ़ रही थी कि शूरवात से ही उसकी मा ने उसके मश्तिश्क और उसके लंड, दोनो पर पूर्ण-रूप से अपना क़ब्ज़ा कर रखा था.


"वो मोम" निकुंज अधर में लटक गया. अगर वह ना में अपना उत्तर देता तो उसके द्वारा पूर्व में कही गयी हर बात झुटि साबित हो जानी थी और अगर हां में अपना जवाब देता तो अपनी मा के समक्ष बेशरम साबित होता "मैने इसलिए ऐसा कहा क्यों कि मुझे पहली बार ब्लोवजोब का एहसास मिला था" बस इतना कह कर वह चुप्पी साध लेता है.


"जानता है निकुंज !! तेरी मा भी हमेशा उस रात को याद करती है" सत्यता स्वीकारते हुए कम्मो ने दुबारा अपने बेटे के लंड को पानी से धोना शुरू किया "मैने कयि बार उन पॅलो को भुलाने का प्रयत्न किया मगर हर बार नाकाम रही. रह-रह कर मेरी आँखों में वही दृश्य दिन-रात घूमता रहता है. निकुंज सच तो यह है !! तेरी मा को तेरे नंगे शरीर से प्यार हो गया है बेटे और वह हमेशा तुझे अपनी आँखों सामने इसी रूप में देखने को तसरती है" उसने रुवान्सि हो कर अपनी सारी का पल्लू अपनी कमर से बाहर खीचा और पानी से भीगे अपने पुत्र के लंड को अपने पल्लू की कीनोर से पोंछने लगती है.


"तो मोम मेरी तरफ आकर्षित हैं" धीरे-धीरे सारी बात निकुंज की समझ में आ गयी. आज क्यों उसकी मा ने उसे नंगा किया, क्यों वह इतने जतन से उसके लंड को धो रही है और क्यों उसकी मा को बिल्कुल भी शरम महसूस नही हो रही जबकि उसका बेटा एक जवान मर्द है ना कि कोई छोटा सा बच्चा.


RE: Porn Sex Kahani पापी परिवार - sexstories - 10-03-2018

निकुंज ने अपनी मा के चेहरे पर नज़र डाली जो शुरूवात से उसे उसके जीवन का सबसे मनमोहक, सबसे खूबसूरत चेहरा लगता था. सारी का पल्लू ब्लाउस से हटने के उपरांत उसकी मा की दोनो चूचियों का काफ़ी बड़ा हिस्सा वह बेहद उतावले पन से देखता है. हल्का सा उभरा पेट और उस पेट की शान बढ़ती उसकी गहरी गोल नाभि. घुटने मुड़े होने से सॉफ नज़र आती उसकी गोरी-गोरी पिंदलियाँ और सबसे सुंदर उसकी मा के मांसल व गदराए चूतड़ जो वह पुणे तौर में अपने हाथो के पंजो में भींच कर मेशसूस भी चुका था.


"ले हो गया" कह कर कम्मो अपने बेटे की फ्रेंची धोने लगती है. अपनी सत्यता से निकुंज को रूबरू करवाने के बाद वह उससे आँख नही मिला पा रही थी और जैसे ही निकुंज बाथरूम से बाहर जाता है कम्मो ज़ोर-ज़ोर से हाँपने लगती है. उसकी कामुतेज्जित चूत ने उसकी कछि के साथ उसका पेटिकोट और यहाँ तक कि उसके साड़ी भी भिगो दी थी.


"मैं नाश्ता लगाती हूँ" कम्मो काम से फ़ुर्सत हो कर कमरे में आई तो पाया निकुंज अब तक नंगा था. सिर्फ़ एक नज़र अपने बेटे पर डाल कर वह फॉरन उसके कमरे से बाहर जाने लगती है.


"मोम" कमरा छोड़ने से पहले ही निकुंज अपनी मा को आवाज़ देता है.


"ह्म्म" कम्मो के कदम वहीं रुक जाते हैं मगर पलट कर अपने बेटे की ओर देखने की उसकी हिम्मत नही हो पाती.


"मुझे दर्द हो रहा है मोम" निकुंज का कहना हुआ और सुन कर उसकी मा बिजली की गति से पलट कर खड़ी हो जाती है "क .. कहाँ दर्द हो रहा है निकुंज ?" उसकी मा की घबराहट और ज़ुबान की लड़खड़ाहट ने सॉफ ज़ाहिर किया कि वह अपने पुत्र से कितना प्यार करती है और स्वयं निकुंज भी इस एहसास से वाकिफ़ हो जाता है.


"यहाँ हो रहा है मोम" अपने खड़े लंड की ओर इशारा कर वह बोला.


"क्या ?" कम्मो का मूँह खुला रह गया "कैसा दर्द हो रहा है बेटे ?" वह तेज़ गति से चल कर उसके करीब आ पहुचती है.


"यहाँ बैठो मोम !! बताता हूँ" निकुंज की बात मान कर उसकी मा ने एक पल का इंतज़ार नही किया और बिस्तर के किनारे अपने पाव फर्श पर लटका कर बैठ जाती.


"देखो ना मोम कितना पेन हो रहा है" कम्मो के बिस्तर पर स्थापित होते ही निकुंज बिस्तर से उतर कर खड़ा हो गया.


"सॉफ-सॉफ बता निकुंज !! कहाँ और कितना दर्द हो रहा है ?" पुच्छ कर कम्मो स्वयं अपने हाथो के ज़ोर से अपने बेटे की कमर को पकड़ कर ठीक उसे अपने सामने खड़ा कर लेती है. अब निकुंज का लंड उसकी मा के चेहरे से कुछ ही इंच दूर था.


"यहाँ मोम !! उफ़फ्फ़" निकुंज ने दर्द भरे भाव अपने चेहरे पर लाते हुए अपने फूले सुपाडे पर अपनी उंगली रख कर इशारा किया.


"कैसा दर्द बेटा ?" उत्तेजना-वश कम्मो की साँसे वापस उखडने लगती है. धुलने के उपरांत उसके बेटे का लंड एक-दम फ्रेश और चमकदार हो गया था और उसकी अत्यंत गोरी चमडी पर उभरी नीली नसो के तनाव से वह मा प्रत्यक्ष-रूप से उस विशाल लंड को बेहद फडफडाता और झटके खाता महसूस कर रही थी. हलाकी लंड की अखंड लंबाई और मोटाई से कम्मो पहले से ही परिचित थी मगर जाने क्यों उसे लंड की विकरालता में और भी ज़्यादा इज़ाफ़ा होता नज़र रहा था.


"मोम" उसने अपनी मा को पुकारा और जैसे ही कम्मो उसकी आँखों में देखती है फॉरन निकुंज अपने लंड को पकड़ कर उसका फूला सुपाडा अपनी मा के कोमल गुलाबी होंठो से सटा देता है "अपने होंठ खोलो मोम !! उस दिन आप ने इसे खड़ा करने के लिए चूसा था आज इसे तनाव-मुक्त करने के लिए चूसो" कह कर वह अपनी मा के रेशमी घने बालो को अपने दूसरे हाथ की उंगलियों से सहलाने लगता है.


कम्मो को उसका मनवांछित वरदान मिल गया. स्वयं उसके पुत्र ने उसे विवश किया कि वह उसका लंड चूसे और यही तो वह कब से चाहती थी. चिपचिपा मोटा सुपाडा उसके होंठो से इस कदर चिपक चुका था कि यदि वह इनकार जताने के लिए भी अपना मूँह खोलती तो खुद ब खुद सुपाडा उसके होंठो के अंदर प्रवेश कर जाता.


"उफफफ्फ़ मोम" कम्मो के होंठ खुलते ही निकुंज के मूँह से मस्ती भरी सिसकारी छूट गयी और उसका संपूर्ण सुपाडा बिना किसी रोक-टोक के उसकी मा के गरम मूँह के भीतर चला जाता है. अपने पुत्र की उस मादक सीत्कार की ध्वनि ने जैसे कम्मो के कानो में रस घोल दिया था और वह अपने मूँह के भीतर अपने बेटे के संवेदनशील सुपाडे पर अपनी जिहवा को गोल गोल घुमा कर, उसके सुपाडे पर लगा सारा गाढ़ा रस चाट लेती है.


"उम्म्म" लंड की अत्यधिक मोटाई आड़े ना आए इस प्रयास में वह मा अपने जबड़ो को जितना खोल सकती थी खोलती है और अपने बेटे के लंड का गरम-जोशी से स्वागत करते हुए अपनी पहली ही कोशिश में लगभग आधा लंड अपने छोटे से मूँह के अंदर समाने में सफल हो जाती है.


चुदाई के दौरान नीमा ने अपनी जिन बातों के ज़रिए निकुंज को अनाचार की परिभाषा से अवगत करवाया था, अभी इस वक़्त उन्हे सोच कर निकुंज की उत्तेजना में बेहद तीव्र गति से बढ़ोतरी होती जा रही थी. वह बड़े गौर से अपनी मा की कजरारी आँखों में झाँकते हुए उसे अपना लंड चूस्ते देख रहा था और यह कामुक दृश्य उसके पूरे जिस्म में कपकपि की ल़हेर दौड़ा देता है.


This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


Sapna pabbi sexbabaPati ka bijns patnr sa Cudi xxx sex kahani sitoriगरल कि चडि व पेटियो alia bhatt is shemale fake sex storyAnty ne antio ko chudwayasexy bate in mobile audio sexbabaसनीलोयन।चूदायीXxx vidoe movie mom old moti chut ke sil kese tutegi mummy ki nipple chusi mummy ke hot kat ke khun nikala mere dost neमराठिsex video 16 साल लडकी VIDEOS.WWW.बुरचिकनीgandit bot ghalne vedioSex baba net india t v stars sex pics fakesdesi byutigirls xxxcomKatrina kaif sexbetaMami ko chudte dek m be chud ghi mastramnetfamily Ghar Ke dusre ko choda Ke Samne chup chup kar xxxbpपापाजी चोद चदिदीदी की ब्रा बाथरूम मेmeri saali ne bol bol ke fudi marwai xxx sex video ma ki chutame land ghusake betene chut chudai our gand mari sexपला पाल वो मुऱ जानूmarathi sex anita bhabhi ne peshab pilaya videowww.indian sex story in marathi maa ke kahenepr bahen kochodaRaveena tandon nude new in 2018 beautiful big boobs sexbaba photos rhea chakraborty nude fuked pussy nangi photos download Thongi baba sex rep videovelamma porn comics in hindi sotemexxxx deshi bhabi kaviry ungali se nikalanaभैया का लिंग sexbabakarinakapoor ko pit pit ke choda sex storiesRadhika thongi baba sex videosodhi ne hathi ko chodahindi sex stories mami ne dalana sokhayaझवल कारेChut me dal diya jbrn sesarojaaa (a) muviebhai ki patni bni mangalsutraParineeti chopra nude fucking pussy wex babaकसी गांड़pregnant chain dhaga kamar sex fuckSex video bade bade boobs Satave Ke Saath Mein Lund Dalaदिदी कि ननद बोली तुमसे ही चुदाउँगी बस की भीड़ में मोटी बुआ की गांड़ रगडीdesi story hindi kahani nandoi bahu ki nandoi ne isara kiya to mene ha kar di xxx xbombo2 videoSexbaba. Net biwi our doodhwalaबहकने लगी ताबड़तोड़ चुदाईsexbaba photos bhabi ji ghar parWww.xxx.सेकसि.हंसिका.मोटवानी.की.मुवि.comjethalal ka lund lene ki echa mahila mandal in gokuldham xxx story hinhiझवाझवी कथा मराठी2019shraddha Kapoor latest nudepics on sexbaba.netMai Mare Famili Aur Mera Gaon part 2संतरा का रस कामुक कहानीsex babasexi nashili gand ki photos pujakiSaadisuda didi aur usaki nanad ki gand mari jhat par chudai ki kahanimaa ke petikot Ka khajana beta diwana chudai storykale salbar sofa par thang uthaker xxx.comewww.anuty anuty ko kasa choda thaJo dosti indian xbombogod me betha kar boobs dabye hdभाभी की चुत चीकनी दिखती हे Bfxxx antravasn story badanamiसभी हिन्दी फील्म के हीरोइन के बिना कपडो के फोटोNude Shenu pairkh sex baba picswwwxxx bhipure moNi video com Bur chodane ka tareoa .comchoot me land dal ke chillnaXxx ful booly wood photo com.ladkiya yoni me kupi kaise lgati hai xxx video de sathMms hom wefi godi chudai sexसोनी सेक्सबाबmoti bibi or kiraydar ke sath faking sex desiसासरा सून सेक्स कथा मराठी 2019गांव की औरत ने छुड़वाया फस्सा के कहानीDesi randin bur chudai video picXxxxhd Ali umarMalaika arora ki gand me lamba mota landsonakshi sinha nudas nungi wallpaperबहु ने पति के न रहपर कुतेसे कैसेचुदति थी कब कैशेmom ko galti se kiya sex kahanixxx video of hot indian college girl jisame ladka ladki ke kapade dhire se utarebahan 14sex storyMajedar fuming gand memast chudae hindi utejak kahani ma ko jhopari me chodasunny leone kitne admi ke sat soi haiBhai se mast chudai chat karke fasai hindi kahaniचाट सेक्सबाब site:mupsaharovo.rumovie old actressnude pics sexbaba