antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - Printable Version

+- Sex Baba (//ht.mupsaharovo.ru)
+-- Forum: Indian Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-indian-stories)
+--- Forum: Hindi Sex Stories (//ht.mupsaharovo.ru/filmepornoxnxx/Forum-hindi-sex-stories)
+--- Thread: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स (/Thread-antervasna-%E0%A4%AB%E0%A5%88%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%B2%E0%A5%80-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AE%E0%A5%8B%E0%A4%B9%E0%A4%AC%E0%A5%8D%E0%A4%AC%E0%A4%A4-%E0%A4%94%E0%A4%B0-%E0%A4%B8%E0%A5%87%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B8)

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10


RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

" कुशल प्रीति सही कह रही है..... अब दोनो उपर ही सोना...... वैसे भी मैं तुम्हे बताना ही भूल गयी कि मेरी बहन के बच्चे आ रहे है- नीतीश और रीमा. तो रीमा मेरे साथ रह लेगी और नीतीश कुशल के साथ सो जाया करेगा......." स्मृति सर्प्राइज़ देती है कुशल और प्रीति. ये बात सुनकर तो जैसे प्रीति और कुशल दोनो के पाँव तले से ज़मीन खिसक जाती है.

कुशल एक झटके से खड़ा हो जाता है " मोम आपने पहले तो कभी नही बताया...."

स्मृति ( स्माइल करते हुए)-" तो अब बता दिया ना..... उन्हे आज ईव्निंग आना है."

कुशल की तो आँखो मे जैसे ज्वाला आ जाती है. " साले की मा चोद कर ना भगाया तो नाम नही" कुशल अपने मन मे सोचता है.

कुच्छ सेकेंड्स के लिए तो वहाँ शांति हो गयी थी कि तभी स्मृति के फोन की बेल बजती है ट्रिंग ट्रिंग.... स्मृति फोन पिक करती है -

" हेलो सिस्टर......" ये फोन उसकी बहन का था

अदरसाइड - कैसी है?

स्मृति - मैं बिल्कुल बढ़िया... तू बता कैसी है.

अदरसाइड- मैं अच्छी हू... थॅंक यू.

स्मृति - और बता बच्चे कब तक आ रहे है?

अदरसाइड - यार यही बताने के लिए फोन किया है. रीमा के पीरियड्स हो गये है और वो ट्रॅवेल करने के मूड मे नही है. नीतीश तो तेरे यहाँ आने के लिए एग्ज़ाइटेड है लेकिन रीमा की वजह से वो भी अभी नही आ रहा है..."

स्मृति -" ओह्ह्ह शिट......." स्मृति का मूड ऑफ हो गया था क्यूंकी उसका ये प्लान तो फैल हो गया था.

अदरसाइड - टेन्षन ना ले, जैसे ही साइकल ख़तम होंगे वो वैसे ही आ जाएगी....

स्मृति - चल ठीक है. जब उन्हे बेहतर लगे तब आ जाएँ वो. चल फिर अपना ख्याल रख....

अदर साइड - चल ठीक है... तू भी अपना ख्याल रख बाइ....

फोन डिसकनेक्ट हो जाता है. और स्मृति के चेहरे पर परेशानी के भाव साफ दिखाई दे रहे थे.

" मोम क्या हुआ...?" कुशल जानते हुए भी सब कुच्छ पुछ्ता है.

" कुच्छ नही वो बच्चे अब नही आ रहे..." स्मृति अपने माथे पे हाथ रखते हुए बोलती है.

" ओह नो मोम.... ये तो एक बॅड न्यूज़ है. मैं तो एग्ज़ाइटेड था कि फ्रेंड्स आ रहे है...." कुशल भी नो 1 ड्रामा मेकर था. लेकिन वो मन ही मन ऐसे खुश था जैसे उपर वाले ने उसकी सुन ली हो.

प्रीति भी हॅपी थी क्यूंकी वो नही चाहती थी कि नीतीश कुशल के रूम मे आकर रहे.

स्मृति को समझ नही आ रहा था कि वो क्या करे. उसको पता था कि कुशल अब हर रात कुच्छ ना कुच्छ खुराफात करता रहेगा. वो जवानी को अच्छे तरीके से समझ सकती थी तो ये भी जानती थी कि कुशल को अगर चूत का रस मिल चुका है तो उसे लिए बिना वो नही मानेगा और अगर स्मृति ने स्मार्ट्ली माइंड यूज़ नही किया तो कुशल कुच्छ ग़लत कदम भी उठा सकता है.

खैर सभी लोग चाइ ख़तम करते है. और स्मृति फिर से किचन मे चली जाती है. कुशल को तो ऐसे लग रहा था कि जैसे आज एक और गोलडेन नाइट है. आज वो अच्छे से तैयारी करना चाहता था, वो अपने रूम की तरफ चलने लगता है. प्रीति तो कुशल के पीछे एक मॅगनेट की तरह घूम रही थी.

कुशल अभी कुच्छ सीढ़ियाँ ही चढ़ पाया था कि प्रीति भी धीरे उपर की तरफ चल देती है. स्मृति किचन से आराम से बाहर की तरफ देखती है और थोड़ा रिलॅक्स हो जाती है कि कुशल उपर जा रहा है.

कुशल अपने रूम मे पहुँच जाता है और आयिल की बॉटल लेकर बाथरूम मे पहुच जाता है. अपने दोनो हाथो पे वो आयिल गिरता है और अपने लंड की मालिश शुरू कर देता है. उसको तो अहसास था कि लंड के रियल पर्फॉर्मेन्स का टाइम अब आ चुका है. इस ख्याल से उसका लंड और भी विकराल होता जा रहा था. आयिल की मालिश से उसके लंड की नसे और भी क्लियर दिखाई दे रही थी. ऐसा लंड जिसे देख कर शायद कोई ही लड़की अपने आप को रोक पाए. कुशल अपने हाथ तेज़ी से चला रहा था कि तभी -

" कुशल...... कुशल......" इस आवाज़ से कुशल चोंक पड़ता है क्यूंकी उसने एक्सपेक्ट नही किया था प्रीति फिर से रूम मे आ जाएगी.

" क्या है, क्या काम है तुझे....." कुशल चिल्ला कर बोलता है. लेकिन फिर भी अपने लंड की मालिश चालू रखता है. प्रीति आवाज़ को क्लियर सुन सकती थी वो समझ गयी कि बाथरूम के अंदर कुच्छ तो चल रहा है-

" क्या सिमरन को याद करके कुच्छ कर रहा है क्या......" प्रीति बाथरूम के बाहर से ही बोलती है

" हाँ सपने मे उसकी चूत मार रहा हू..... तुझसे मतलब......" कुशल अंदर से ही रिप्लाइ करता है.

" हाए मर जाउ तेरे मर्दाना स्टाइल पे.... लेकिन टेस्ट अच्छा नही है तेरा.... सिमरन जैसी रंडी ही पसंद आई तुझे....." प्रीति उसके बेड पे बैठते हुए बोलती है

" साली प्रॉस्टिट्यूट तो होगी.... देखी नही क्या मस्त बॉडी है उसकी......." कुशल फिर से तीखा जवाब देता है.
" कुशल अगर मैं प्रॉस्टिट्यूट होती तो इस टाइम तेरे रूम मे ना होती. पता नही तुझमे कैसा प्राउड है ये. तुझे क्या हो गया है आख़िर...." प्रीति अन सीरीयस थी.

" तुझे क्या हो गया था तब तेरे से तेरी चूत की रिक्वेस्ट की थी मैने.... तब क्यू नखरे दिखा दिए तूने....." कुशल उसे जवाब देता है

" एक लड़की की लाइफ ऐसी ही होती है...... बहुत सोच समझ के डिसीजन लेना होता है........" प्रीति बोलते बोलते बाथरूम के गेट के करीब जाती है.

" गेट खोल ना प्लीज़......" प्रीति फिर से रिक्वेस्ट करती है.

झटककक.... एक झटके से गेट खुलता है और सामने कुशल अपने लंड को एक हाथ मे लेकर खड़ा होता है. क्या विशाल लंड था उसका......

" उफफफफफ्फ़............" प्रीति अपना चेहरा फिरा लेती है.

" मैने ऐसे तो गेट खोलने के लिए नही कहा था......" प्रीति अपने चेहरे को दूसरी साइड करे हुए बोलती है

कुशल बाथरूम के गेट से आगे बढ़ता है और प्रीति को एक झटके मे पकड़ कर अपने से चिपका लेता है... अब प्रीति का सीना कुशल की पीठ से चिपका हुआ था... और कुशल का खड़ा लंड प्रीति की गान्ड से टकरा रहा था.......

प्रीति के पाँव तो जैसे ज़मीन पर ही नही थे, पता नही अपने डॅड के जाने के बाद और आराधना के जाने के बाद उसके प्लान क्या थे लेकिन उसने एक्सपेक्ट नही किया था कि वो इतनी जल्दी कुशल की बाँहो मे होगी.

लेकिन वो शुवर नही थी कि आख़िर क्यूँ कुशल ने उसे अपनी बाँहो मे जाकड़ लिया है.

" कुशल छोड़ ना...... ये क्या कर रहा है....... अपना.... अपना अंडरवेर तो उपर कर ले........." प्रीति ने ऐसे ही कुशल की बाँहो मे रहते हुए ये ड्रामा किया.

" क्यूँ...... तुझे मेरा लंड पसंद नही.......?" कुशल ने फिर से प्रीति के नेक पे किस करते हुए कहा

" मुझे..... मुझे नही पता..... प्लीज़ छोड़ दे...... कोई आ जाएगा...... गेट भी खुला हुआ है......." प्रीति ने उसे हिंट दिया कि गेट को बंद कर लिया जाए

कुशल अपना एक हाथ आगे की तरफ ले जाता है जहाँ प्रीति के बूब्स थे. वो अपनी हथेली को प्रीति के राइट बूब्स पर रख देता है और उसे कस कर दबा देता है.

" आआईयईईईईईई......... कुशल तमीज़ से पेश नही आ सकता........" प्रीति ने भी एक्सपेक्ट नही किया था कि कुशल उसके साथ ऐसे पेश आ सकता है.

" प्रीति...... यू आर सो हॉट...." कुशल भी धीरे धीरे ऐसे पेश आ रहा था जैसे वो होश मे ही नही है.

" रियली.......?" प्रीति अपनी गान्ड को फिर से कुशल के लंड पे रगड़ते हुए बोलती है.

" प्रीति.......... आज कुच्छ..... ड्रामा नही होना चाहिए प्लीज़........ आज तो अपने इस दीवाने को खुश कर दे........ आआअहह....." कुशल की आँखे बंद हो चुकी थी.

" दीवाना........ और तू.......? कमाल है........." प्रीति को लग रहा था कि आज अचानक कुशल का बिहेवियर कैसे चेंज हो गया.

लेकिन कुशल ने उसकी सुने बिना प्रीति का चेहरा अपनी तरफ घुमाया और आवने तपते होंठ उसके होंठो पर रख दिए......... कुशल ने कुछ सेकेंड ही उसके लिप्स को किस किया होगा कि प्रीति भी उसे सपोर्ट करने लगती है. अभी भी प्रीति का जिस्म सामने की तरफ है लेकिन उसका चेहरा पीछे की तरफ घुमा हुआ है. बाथरूम मे ऐसी आवाज़े आ रही थी जैसे कोई किसी वॉटर रिवर मे पानी पी रहा हो. होंठो का जबरदस्त मंथन चल रहा था.

प्रीति ने किस करते करते ही अपना हाथ उसके लंड पर रख दिया था.

प्रीति होंठ ऐसे थे जैसे वाकई मे रस टपक रहा हो उनमे से. बहुत ही सॉफ्ट, क्रिस्पी आंड पिंक...... लाइट लिपस्टिक शेड से और ज़्यादा टेस्टी भी बन गये थे वो.

प्रीति ने अपने हाथ से कुशल के लंड की खाल को आगे पीछे करना शुरू कर दिया था. प्रीति फिर से बॅकग्राउंड मे जा रही थी जहाँ पहले भी उनके बीच ये सब हो चुका था. उसे याद आया कि पहले सब कुच्छ अधूरा रह गया था क्यूंकी वो मेंटली प्रिपेर नही थी.

पता नही क्या सोच कर प्रीति ने एक झटके से अपने हाथ उसके लंड से हटा लिया और धीरे धीरे अपने लिप्स को भी उससे हटाने की कोशिश करती रही.

कुशल अपने लिप्स को उससे अलग करता है. आँखो ही आँखो मे कुशल उससे पुछ्ता है कि क्या बात है.

प्रीति के बूब्स उपर नीचे हो रहे है और उसकी साँसे भी तेज चल रही है.

प्रीति बिना कुच्छ रिप्लाइ किए स्माइल करती है और अपना हाथ उसके लंड पर रखती है. उसको पकड़ कर वो बाथरूम से बाहर आने लगती है, कुशल भी उसके पीछे खिंचा चला आता है.

" बाथरूम.... इस सब के लिए सही जगह नही है......" प्रीति बड़ी ही सेक्सी अदा मे बोलती है. कुशल को आइडिया मिल गया था कि प्रीति का प्लान कुच्छ और है

प्रीति उसे बाहर लाकर बेड पे बैठ जाती है. स्टाइल मे अपनी टाँग पे दूसरी टाँग रखने के बाद वो कुशल के लंड की तरफ देखती है और एक सेक्सी सी स्माइल देती है

" अब क्या...... " कुशल उससे क्वेस्चन मार्क स्टाइल मे पुछ्ता है.

" कुच्छ नही.... अच्छा लगता है तेरे पास रहना......" प्रीति फिर से मुस्कुराते हुए बोलती है

" देख फालतू की बाते ना बना और आज कोई चीटिंग नही चलेगी......" कुशल जैसे थोड़ा सा प्रीति की बातो से चिड रहा था

प्रीति खड़ी होती है.... फिर से कुशल के बहुत करीब आती है. अपना सीना लगभग कुशल के सीने से लगाती हुई उससे बोलती है -

" तुझसे कुच्छ बात करनी है......" प्रीति बहुत ही मादक अंदाज़ मे पूछती है

अगर प्रीति उसके इतनी करीब ना होती तो शायद वो पॉज़िटिव रिप्लाइ ना करता. लेकिन प्रीति की गोरे गोरे बूब्स जब अपने सीने से टच देखे तो कुशल के मूँह से ऑटोमॅटिक ही निकल गया -

" क्या बात करनी है......?" कुशल पूछता है.

प्रीति अब वहाँ से आगे की तरफ चलती है और पहले गेट को लॉक करती है. गेट को बंद करने के बाद वो फिर से पीछे मुड़ती है और धीमी चाल मे आकर फिर से कुशल का लंड पकड़ कर बेड पर फिर से बैठ जाती है. कुशल अभी भी खड़ा हुआ था और उसका लंड प्रीति के हाथ मे था.

दोनो की नज़रे मिलती है -" पुच्छ ना क्या बात है......?" कुशल थोड़ा गुस्से मे पुछ्ता है

" तेरा आराधना दीदी के साथ कोई अफेर है.......?" प्रीति बहुत ही प्यार से उसके लंड पे हाथ फिरती हुई पूछती है.

" क्या........ क्या कहाँ तूने अभी.......?" कुशल को यकीन नही होता कि उसने अभी क्या सुना

" क्या तेरा आराधना दीदी के साथ कोई अफेर है.......?" प्रीति उसकी आँखो मे देखती हुई फिर से अपनी बात को रिपीट करती है.

" पागल है क्या तू...... कोई अपनी बहन से भी कोई अफेर चलाता है क्या......." कुशल थोड़ा सा वाय्स को उँचा करता है

" अफेर ना सही, क्या फिज़िकल रीलेशन बन चुके है....." प्रीति फिर से अपनी बातो पे ज़ोर डालती है.

" देख प्रीति मेरा दिमाग़ खराब मत कर.... ओके. ये झुटे इल्ज़ाम मुझ पर मत लगा....... आराधना दीदी के बारे मे तो ऐसा कभी सोचा भी नही. लेकिन तू ऐसे बाते क्यू कर रही है........." कुशल फिर से पूछता है

प्रीति फिर से खड़ी होती है और बड़े प्यार से कुशल के लिप्स पे एक किस करती है. " तो तूने इतने टाइम से मुझे इग्नोर क्यू किया........ क्या मैं जवान नही या तुझे मेरी वर्जिनिटी पे शक है....... " प्रीति लिप्स को अलग करने के बाद पूछती है.

" ना ही तो मुझे तेरी जवानी पे शक है और ना ही तेरी वर्जिनिटी पे .... लेकिन तूने मुझे चीट किया था उस दिन तो मुझे भी उस बात का अहसास है...." कुशल अपने आप को एक्सप्लेन करता है

प्रीति फिर से कुशल के करीब जाती है और अपने मूँह को उसके कानो के पास ले जाते हुए बोलती है -" तो आज मेहरबानी का क्या रीज़न है..... और आज ही आराधना दीदी गयी है...... ?"

कुशल प्रीति को अपने इतने करीब पाकर फिर से अपने होश खो रहा था. उसकी जवाबी की खुसबु फिर से उसके दिमाग़ मे चढ़ रही थी.

" ये .... ये सिर्फ़ एक को इन्सिडेन्स है....." कुशल अपना हाथ प्रीति की गान्ड पर रख देता है.

" कुशल...... मैं कोई बच्ची नही हू. स्कूल मे कोई जवान लड़की किसी की तरफ हँसती है तो उसका रेप हो जाता है. और मैने तो..... मैने तो... तुझे अपनी पुसी तक भी दिखाई लेकिन फिर भी तूने मुझे छोड़ दिया..... कोई तो है जो तेरी ज़रूरते पूरी कर रहा है......" प्रीति थोड़ा सीरीयस होते हुए बोलती है

" तू आराधना दीदी पे ग़लत शक कर रही है. उन्हे तो इस बारे मे कोई जानकाती भी नही है....." कुशल प्रीति को समझाता है.

कुशल की इस बात का प्रीति पर नेगेटिव एफेक्ट होता है और वो कुशल से अलग होते हुए बोलती है -

" वाह वाह..... उन्हे तो इस बारे मे पता ही नही है. उसे.... घोड़ी बन चुकी है वो. मैने खुद देखा है कि कैसे चेंज आ रहे है उसमे. लेकर गयी है छोटे छोटे कपड़े, और उसे इस बारे मे कुच्छ नही पता है." प्रीति गुस्से मे बोलती है.

कुशल प्रीति के शोल्डर्स को पकड़ता है और फिर से अपने सीने से लगा लेता है -" तू क्यू टेन्षन लेती है....." वो प्रीति को शांत करा रहा था लेकिन कुशल के माइंड मे भी अब प्रीति की बाते घूम रही थी कि कैसे आराधना दीदी बदल रही है.

" चल ना दोनो साथ नहाते है..... मूड फ्रेश हो जाएगा......?" कुशल मुस्कुरा कर प्रीति से बोलता है

कुशल की मुस्कुराहट देख कर प्रीति भी हॅपी होती है और दोनो फिर से बाथरूम मे जाने लगते है. बाथरूम मे पहुँच कर कुशल दोनो हाथो से प्रीति की टीशर्ट उतारता है. अब प्रीति बस ब्रा मे थी और उसकी निगाहे नीची थी. कुशल अपने हाथ उसकी ब्रा की तरफ ले जाता है लेकिन प्रीति पहले उसे अपनी शर्ट उतारने को बोलती है.

कुशल अपनी शर्ट उतारता है और उसने नीचे कुच्छ नही पहना था. उसका चौड़ा सीना अब प्रीति के सामने था, प्रीति स्माइल के साथ दूसरी तरफ घूम जाती है और अब उसकी ब्रा का हुक कुशल के सामने था. कुशल ना टाइम लगाते हुए उसके हुक को एक झटके मे खोल देता है. प्रीति के दोनो मस्त बूब आज़ाद हो चुके थे.

कुशल अपने दोनो हाथो से अपनी जीन्स और अंडरवेर भी उतार देता है. अब कुशल बिल्कुल नंगा था लेकिन प्रीति ने नीचे अभी भी जीन्स पहनी हुई थी.

कुशल जैसे ही शवर ऑन करता है.... प्रीति के गरम बदन पे वो बूंदे ऐसे गिरती है जैसे किसी ने तेज़ाब गिरा दिया हो. वो ईमीडेटली कुशल के सीने से चिपक जाती है, उफफफफफ्फ़ दोनो नंगे सीने आपस मे मिल चुके थे........

कुशल ने अपने चौड़े और मजबूत सीने मे प्रीति के बूब्स को बहुत मजबूती से दबा दिया....

" आआहह........ कुशल.... तू...... अपनी चेस्ट पे इतने बाल क्यू रखता है.......????" प्रीति बेहद ही सेक्सी अंदाज़ मे कुशल की आँखो मे देखती हुई बोलती है. उसका राइट हॅंड कुशल की हेरी चेस्ट मे घूम रहा था

" क्यूँ तुझे पसंद नही है क्या......" कुशल अपने दोनो हाथ फिर से प्रीति की गान्ड पे ले जाता है और उसे आराम से दबाते हुए पुछ्ता है.

" नही..... ऐसा तो नही है..... बस.... आज कल लड़के इतने बाल रखते नही है ना......." प्रीति शरमाते हुए बोलती है.

कुशल प्रीति की आँखो मे देखता है और उसकी गर्दन पे किस करने के लिए अपने चेहरे को आगे बढ़ता है.

पानी की बोछारो ने दोनो बदन को बिल्कुल भीगा दिया था. पानी की बूंदे प्रीति के लिप्स पर भी विज़िबल थी, प्रीति के बूब्स कुशल की चेस्ट मे जैसे और अंदर घुसने को तैयार थे.

कुशल प्रीति की गर्दन पे किस करते करते उसके लिप्स के करीब आता है. प्रीति की आँखे बंद हो चुकी थी, कुशल धीरे धीरे अपने लिप्स उसके लिप्स से जो देता है. ये बात हमेशा प्रॅक्टिकल है कि किसी भी लड़की के लिप्स भीगने के बाद और भी जुवैसी हो जाते है तो ठीक वैसे ही कुशल ने भी पूरी जान से उसके लिप्स को चूसना शुरू कर दिया.

ये हालत सिर्फ़ कुशल की नही थी बल्कि प्रीति भी पूरी जान से अपने दोनो हाथ कुशल के चेहरे के दोनो तरफ लपेट कर उसे किस करने मे लगी हुई थी.

कुशल के दोनो हाथ अब प्रीति की पतली सी कमर पे थे. बेहद ही ज़्यादा रोमॅंटिक नज़ारा था ये.

पानी के गिरने की आवाज़ और दोनो के होंठो के मंथन की आवाज़ से बाथरूम और भी ज़्यादा गर्मी पैदा कर रहा था.

कुशल अब एक हाथ उसकी कमर से हटा कर उसकी जीन्स के बटन पर ले जाता है. जैसे ही वो खोलने की कोशिश करता है प्रीति अपने एक हाथ को उसके चेहरे से हटा कर नीचे ले जाती है और अपनी ही जीन्स के बटन को खोलने मे उसकी हेल्प करती करती है. पता नही कितनी टाइट जीन्स थी उसकी, पूरी ताक़त लगाने के बाद वो बटन खुला, और बटन खुलने के बाद ज़िप खोलने मे कुशल को ज़्यादा टाइम नही लगा.

नीचे ही नीचे आक्टिविटीस हो रही थी और वहीं उपर वो दोनो अभी भी होंठो को चूसने मे बिज़ी थे. कुशल अपने एक हाथ से उसकी जीन्स को नीचे करना चाहता है लेकिन स्लिम फिट टाइट फिट होने के कारण उससे ज़्यादा नीचे नही हो पाई.

प्रीति अपने होंठो को कुशल से अलग करती है और बिना टाइम वेस्ट करे अपनी जीन्स को उतारने लगती है. जैसे जैसे जीन्स नीचे जा रही थी, शवर का पानी उसकी पैंटी को और भी गीला करता जा रहा था.

कुच्छ ही सेकेंड मे प्रीति की जीन्स प्रीति के बदन से अलग थी. अब उसकी बॉडी पे बस एक थिन फ्लॉरल पैंटी थी, वो आगे बढ़ कर फिर से कुशल के सीने से चिपक जाती है.

कुशल अपना राइट हॅंड उसकी पैंटी पे ले जाता है और उसकी एलास्टिक को खींचते हुए बोलता है " इसे क्यू बचा दिया रानी..........."

प्रीति अपनी निगाहे नीचे करी रखती है लेकिन थोड़ी देर के बाद वो फिर से अपनी नज़रो को उठाती है और बोलती है " हर चीज़ क्या मैं खुद ही उतारुँगी......." और इसके बाद उसके फेस पे एक बेहद ही सेक्सी स्माइल थी.

कुशल टाइम वेस्ट ना करते हुए प्रीति को बाथरूम के गेट की तरफ घुमाता है यानी अब प्रीति की पीठ कुशल की तरफ थी. कुशल नीचे होते हुए उसकी पैंटी उतार देता है. प्रीति की स्लिम गदराई हुई गान्ड अब कुशल की आँखो के सामने थी. कुशल ने प्रीति को कमर से पकड़ा और उसे थोड़ा सा आगे को झुका देता है वो. प्रीति अपने दोनो हाथ बाथरूम के गेट पर टिका देती है और अब वो थोड़ा सा डॉगी स्टाइल मे आगे की तरफ झुक जाती है.

कुशल अपने घुटनो के बल फ्लोर पे बैठ जाता है. अब कुशल की आँखो के सामने प्रीति की कुँवारी चूत थी जो कि उसकी टाँगो के बीच क्लियर दिखाई दे रही थी. कुशल की उम्मीदो से भी ज़्यादा सुंदर थी उसकी चूत.

कुशल ने टाइम वेस्ट ना करते हुए अपने लिप्स उसकी टाँगो के बीच मे से होते हुए उसकी चूत पर पहुँचा दिए. प्रीति ने अपनी टांगे और भी फैला दी जिससे कि कुशल को आसानी हो.

" आआहह....... म्*म्म्ममममममममममम...........ओह..................." प्रीति की मोनिंग स्टार्ट हो चुकी थी.

कुशल अपनी जीभ को ठीक निशाने पर ले जाकर घूमने लगता है. प्रीति का तो जैसे बुरा ही हाल था, और उसकी चूत दबादब पानी छोड़ रही थी लेकिन कुशल को आक्चुयल पता भी नही चल रहा था कि प्रीति की चूत कितनी गीली हो चुकी है क्यूंकी उपर से खुद पानी बरस रहा था.

"म्*म्म्मममममह......... कुशालल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल.......... आइ........ लव.......... यू..........." प्रीति अपनी गान्ड को और कुशल के करीब ला रही जिससे कि कुशल और आसानी से उसकी चूत को चाट सके.

कुशल ने भी जैसे उसे जीभ से ही चोदना शुरू कर दिया था. अपनी जीभ को वो गोल घूमाकर बार बार उसकी उसकी चूत के थोड़ा सा अंदर ले जाकर बाहर ला रहा था.

" ईई आआईयईईई...... म्*म्म्मममममममम...... लव........... मी प्लीज़............. प्लीज़ भाई और......... प्लीज़..... प्रीति ने भी पूरी ताक़त से कुशल को इन्वाइट करना शुरू कर दिया था.

कुशल मे अपनी फिंगर को भी प्रीति की चूत मे घुसा दिया- " आआहह...... आराम से कर प्लीज़........." कुशल की उंगली और भी ज़्यादा कमाल कर रही थी.

अंदर बाहर और अंदर बाहर..... प्रीति की चूत का तो जैसे तार तार हिला दिया था कुशल ने -" ओह...... आआहह....... म्*म्म्मममममममममममममममममम...... आईसीई हीईीईईईईईईईईईईईईईईईईई.......... ईश्ह्ह्ह्ह्ह......"

काफ़ी देर तक ऐसे ही रहा लेकिन कुशल जानता था कि जो ग़लती पहले हुई वो आज नही होनी चाहिए यानी कि प्रीति की चूत से फाइनल पानी नही निकालना चाहिए. यही सोच कर वो अपने लिप्स को उसकी चूत से हटा कर सीधा खड़ा होता है और उसकी गान्ड पे एक चपत लगता है. प्रीति धीरे धीरे फिर से होश मे आती है और पंकज की तरफ घूमती है. घूमते ही उसका सर चकरा जाता है कुशल के मोटे लगडे लंड को देख कर लेकिन आज वो कुच्छ नही बोलती और चुप चाप घुटनो के बल बैठ कर अपने होठ कुशल के लंड पर रखती है. ठीक पहले की ही तरह उसे इस बार भी अच्छी ख़ासी मेहनत करनी पड़ी उसे अपने मूँह मे लेने के लिए लेकिन किसी भी तरीके से उसने उसके लंड को अपने मूँह मे लिया और उसे चूसना शुरू करती है और उसे आगे पीछे करना शुरू करती है.

जैसे ही कुशल की नज़रे नीचे की तरफ जाती है तो उसे तीन चीज़े बहुत सॉफ दिखाई देती है - प्रीति के लिप्स, लिप्स मे अपना विशाल लंड और उसके बूब्स. कुशल भी अच्छी तरीके से एग्ज़ाइटेड था लेकिन वो प्रीति को शो नही कर रहा था क्यूंकी आज वो बिना चूत मारे नही रह सकता था.

प्रीति अपनी सेक्सी आइज़ को उपर करके भी देखती है लेकिन कुशल उसे ऐसे शो नही करता कि वो ज़्यादा एग्ज़ाइटेड है.

" प्रीति.......????" कुशल के मूँह से आवाज़ निकलती है जिसकी वजह से प्रीति उपर की तरफ देखती है. अभी भी कुशल का लंड उसके मूँह मे ही था, इसी सिचुयेशन मे वो कुशल से पूछती है कि क्या बात है. ये बात भी वो इशारे मे पूछती है.

" आअज...... प्लीज़....... अपनी चूत दे दे.............." कुशल अपनी आँखे बंद करते हुए कहता है.

प्रीति चेहरे पर एक स्माइल आ जाती है. अब वो अपने लिप्स को उसके लंड से हटाती है.

बिना शरमाये वो बाथरूम की स्लॅप की तरफ चलती है और उस पर चढ़ कर बैठ जाती है. कुशल उसकी ये सब अदाए बड़ी बारीकी से देख रहा था. प्रीति अपनी एक टाँग को थोड़ा सा उठाती है और स्लॅप की दूसरी तरफ रखती है --- उफफफफफफ्फ़ अब प्रीति की चूत ठीक कुशल के सामने थी.

प्रीति एक स्माइल के साथ अपने एक हाथ को आगे लाकर उस पर थूक लगाती है और उसी हाथ को अपनी चूत पर ले जाकर मसलने लगती है जैसे कि कुशल को इन्वाइट कर रही हो कि आ और मार ले मेरी चूत.

कुशल आगे बढ़कर प्रीति को किस करता है प्रीति भी अपनी बाँहे कुशल के गले मे डाल देती है. कुशल उसका एक हाथ पकड़ कर नीचे ले जाकर अपने लंड पर रखता है लेकिन प्रीति उसे पकड़ने की बजाय उसे हटा लेती है.

" क्या हुआ........?" कुशल अपने सवाल को पुछ्ता है.

" अगर मैं....... इसे अब टच करूँगी तो शायद अंदर नही ले पाउन्गि. मेरी पुसी छोटी सी है और ये तो....... प्लीज़ अब देर मत कर......" प्रीति भी कुशल को इन्वाइट करती है

कुशल भी अपने हाथ पे थोड़ा सा थूक लगा कर अपने लंड पर मसलता है और उसे भिगा कर प्रीति की चूत पर लगाता है.

प्रीति अपनी आँखे बंद कर चुकी थी और अगले स्टेप के इंतेज़ार मे थी. कुशल अब अपने लंड को उसकी चूत पर रगड़ रहा था.......... खचह........ एक झटका लगाता है..... थोड़ा सा सुपाडा अंदर चला जाता है.

"आआआआआआआहह............." बाथरूम मे ऐसे साउंड हो जाता है जैसे कि कहीं आग लगी हो. ये साउंड पूरे घर को गूंजा देता है. ये साउंड किसी और का नही बल्कि प्रीति की चीख थी, प्रीति की आँखे तो जैसे उसकी बॉडी से बाहर आने को तैयार थी.

कुशल की खुद हालत खराब हो गयी थी इतनी टाइट चूत मे लंड जाने से. एक तरफ तो पेन और उपर से प्रीति का इतना तेज चिल्लाना........ कुशल खुद थोड़ा नर्वस हो चुका था लेकिन लंड बाहर नही निकाला था उसने...

सिमरन -" सुन, अब जब तू बस स्टॅंड पे अपने डॅड से मिलेगी तो वहीं पे उन्हे हिंट देना है कि तू शुवर नही है कि कॉलेज ने जो तेरे रहने की जगह अरेंज की है वो कैसी है. तो वो खुद ही तेरी जगह अपने होटेल मे करा देंगे......."

आराधना -" लेकिन यार अगर उन्होने कहा कि कॉलेज मे फोन मिलाओ और पता करो कि जगह कैसी है तो मैं क्या कहूँगी.......?" आराधना ने टेन्षन मे अपने माथे पे हाथ रखते हुए बोला

सिमरन -" तो इसका मतलब होगा क़ी उन्हे तुझमे इंटेरेस्ट ही नही है. फिर कुच्छ नही हो सकता मेरी रानी....."

आराधना -" यार ऐसा मत बोल प्लीज़...... मुझे टेन्षन हो रही है....."

सिमरन -" चल जो होगा देखा जाएगा.......... अभी तू कुच्छ सोच मत और देख कि बस स्टॉप पर क्या होता है.... सब सही ही होगा..... ठीक है"

आराधना -" चल ठीक है. वैसे भी बस अगले 5 या 10 मिनिट मे दिल्ली पहुँच जाएगी.... मैं फिर तुझे अपडेट करूँगी कि क्या हुआ...... ओके"

सिमरन -" ओके चल बाइ........" आंड कॉल डिसकनेक्ट हो जाता है.

आराधना का चेहरा विंडो की साइड था. वो बस सोचे जा रही थी कि क्या होगा, उसके हाथ थोड़ा काँप रहे थे और चेहरा भी थोड़ा लाल हो चुका था.

खैर अगले 10 मिनिट मे बस कश्मीरी गेट पहुँच जाती है और पॅसेंजर्स नीचे उतरने लगते है. आराधना बस से उतर कर अपनी नज़रे चारो तरफ दौड़ती है लेकिन उसे पंकज कहीं दिखाई नही देता. वो काफ़ी देर से बस मे बैठी थी तो उसे टाय्लेट भी काफ़ी तेज आ रहा था. उसने टाय्लेट जाने का फ़ैसला किया और कुच्छ ही देर मे उसे लॅडीस टाय्लेट का आइडिया मिल गया.

वो टाय्लेट मे जाती है, गेट बंद करती है. टाइट पयज़ामी को नीचे करके पेशाब करने लगती है, पता नही कब्से रोक के रखा था कि इतने प्रेशर से बाहर आ रहा था. खैर अब वो खड़े होकर अपनी पयज़ामी को बंद करती है. जैसे ही वो गेट खोलने वाली थी उसके दिमाग़ मे एक आइडिया आता है.

वो अपने सूट के राइट शोल्डर को थोड़ा सा नीचे की तरफ करती है जिससे कि उसकी ब्रा का स्ट्रीप सॉफ दिखाई देने लगता है. अपनी चालाकी पर मुस्कुराते हुए वो बाहर आ जाती है. मिरर मे देख कर फिर से अपने लिप्स पर लाइट शेड लिपस्टिक लगाती है. और बाहर जाने लगती है.

बाहर आने पर वो फिर से बस की तरफ जाने लगती है क्यूंकी वो ही बस स्टॉप था और उसे पता था कि पंकज ज़रूर उसका वेट वहीं कर रहा होगा.

उसके जगह पर पहुँचने से पहले ही उसे पंकज दिखाई दे जाता है और वो शायद आराधना को ढूंड रहा था. इस टाइम पंकज की पीठ आराधना की तरफ थी.

आराधना की दिल की धड़कने बढ़ जाती है लेकिन प्लान के अकॉरडिंग वो रिक्ट करती है.

" डॅडीयीई............" आराधना पंकज को पुकारती है.

पंकज पलट कर देखा है और आराधना उसे हाथ हिला रही थी. प्लान के अकॉरडिंग आराधना पंकज की तरफ चलती है. दूसरी तरफ पंकज भी आराधना की तरफ चलता है.

थकककककक...... आराधना की हील्स आपस मे टकरा जाती है जिससे वो बस गिरने को होती है. ओह माइ गॉड........ क्या सीन था. उसका दुपट्टा नीचे गिरता है और उसके गोरे गोरे और मोटे मोटे बूब्स बस बाहर आने को तैयार हो जाते है. अपने हाथो से वो अपने दुपट्टे को उठाती है और उठाते उठाते एक नज़र पंकज पे डालती है जो बस मूँह खोल कर इस सीन को देख रहा था.

आराधना ने पहला शॉट मार दिया था. वो जानती थी कि पंकज को स्मृति की भी याद सताती होगी तो ऐसे कामुक सीन उसे किस सिचुयेशन मे ला सकते है.

खैर आराधना अपने आप को संभालती है और फिर से भाग कर पंकज को हग कर लेती है. पंकज भी अपनी बाँहे उसकी पीठ पे ले आता है.

आराधना ने तो जैसे पूरी ताक़त से अपने बूब्स पंकज के सीने मे गढ़ा दिए थे. पंकज की बॉडी लॅंग्वेज फिर भी नॉर्मल थी.

" कहाँ चली गयी थी...." पंकज ने आराधना से अलग होते हुए बोला. आराधना अपना बॅग उठाते हुए हँस कर उसे टाय्लेट वाली फिंगर दिखा देती है. फिर आराधना से बॅग लेकर पंकज पार्किंग की तरफ चल देता है.

बॅग को बॅक सीट पर रख कर पंकज ड्राइविंग सीट पे आता है और उसके अदर साइड मे डोर खोल कर आराधना आ जाती है. कार स्टार्ट होती है और पंकज उसे बस स्टॅंड से बाहर निकालने लगता है.




RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

" डॅडी कैसी लग रही हू मैं........" आराधना अपनी आँखे दिखती हुई पंकज से पूछती है. आज वो बहुत हॅपी थी.



" अच्छी लग रही है लेकिन अचानक देल्ही आने का प्लान कैसे बन गया......." पंकज आराधना से पुछ्ता है



" वो.... वो.... डॅडी....... कॉलेज..... लेकिन आप क्यू पुच्छ रहे है. आपको मेरा आना अच्छा नही लगा........" आराधना पंकज की तरफ देखते हुए बोलती है. पंकज का चेहरा सामने की तरफ था क्यूंकी वो ड्राइविंग कर रहा था.



" नही..... नही ऐसी कोई बात नही है. मैं तो हॅपी हूँ कि तुम आ गयी. वैसे रहने का क्या प्लान है......?" पंकज आख़िर वही पुछ लेता है जिसका आराधना को डर था





" डॅडी.... कॉलेज ने तो एक होटेल बुक कर रहा है लेकिन मैं शुवर नही हू वो कैसी जगह है........ फिर भी मैं चली जाउन्गि...." आराधना सीरीयस होते हुए बोलती है.



" नही अगर होटेल के बारे मे शुवर नही हो तो फिर जाने की कोई ज़रूरत नही है.... वैसे भी ये देल्ही है. मैं एक काम करता हू कि अपने होटेल मे ही बुकिंग करा देता हू और एक कॅब फेसिलिटी अरेंज करा देता हू जो तुम्हे डेली पिक आंड ड्रॉप कर लेगी ...... " पंकज की बात से तो जैसे आराधना का मन खुश हो जाता है. और वैसे भी वो तो यही चाहती थी.



" ओके डॅड. जैसी आपकी मर्ज़ी........." आराधना ने ऐसा रिक्ट किया जैसे वो ज़्यादा हॅपी नही है.



करीबन 15 मिनिट की ड्राइव के बाद वो उस होटेल पहुँच जाते है जहाँ पंकज रूका हुआ था. आराधना अपने बालो को अच्छे से कोंब करके कार से उतरती है. पंकज फिर से बॅग लेता है और होटेल के अंदर चल देता है.



" कॅन आइ हॅव आ रूम फॉर माइ डॉटर........" पंकज रिसेप्षन पर जाकर पुछ्ता है.



" सॉरी सर... ऑल रूम्स आर फुल्ली बुक्ड. रूम्स बस दो दिन के बाद ही अवेलबल है........" रिसेप्षन गाइ का रिप्लाइ नेगेटिव था.



पंकज आराधना को लेकर होटेल रिसेप्षन से थोड़ा दूर आता है. " आरू बेटा चल किसी और होटेल मे ट्राइ कर लेते है वैसे भी यहाँ होटेल आस पास ही है..." पंकज आराधना को समझाता है.



" डॅड बस दो दिन की ही तो बात है.... क्यूँ ना मैं आपके साथ ही रह लू......" आराधना ने तो बस जैसे उस होटेल से जाना ही नही चाहती थी.



" लेकिन..... वो..... बेटा....... लेकिन......" पंकज सोच मे पड़ जाता है.



" पापा आप मुझे बता सकते है..... मैं आपकी बेटी हू और समझदार भी हू..... बताइए कि परेशानी क्या है" आराधना भी कुशल के दिल का डर निकालना चाहती थी.



" वो बेटी...... मेरा रूम तो बस सिंगल बेड रूम है........." पंकज ने आख़िर रीज़न बता ही दिया.



" डॅड....... क्या आपको मैं मोटी नज़र आती हू........" आराधना ने सीधा खड़े होते हुए कहा. वो बहुत इनोसेंट बनते हुए सब कुच्छ कह देना चाहती थी और कह भी चुकी थी.



" नही वो ऐसी बात नही है......" इससे पहले कि पंकज कुच्छ कहता आराधना उसका हाथ पकड़ती है और लिफ्ट की तरफ चल देती है.



" वैसे भी फालतू पैसे खर्च होंगे डॅड....... कुच्छ दिन की ही तो बात है...." आराधना ज़बरदस्ती पंकज को उसके रूम की तरफ ले जाती है.



" ओके..... जैसी तेरी मर्ज़ी......." पंकज भी आगे की तरफ चल देता है. अब वो अग्री था आराधना वाले प्रपोज़ल पे कि वो एक ही रूम मे रह लेंगे......



पंकज का रूम सेकेंड फ्लोर पे था. वो लिफ्ट लेकर उपर चले जाते है. आराधना के हाइ हील्स के साउंड से पूरा फ्लोर गूँज रहा था, पंकज भी हैरान था कि कैसे आराधना अपनी गान्ड मटका मटका के चल रही थी.



रूम के बाहर पहुँच कर पंकज गेट खोलता है और गेट खुलते ही आराधना सामने जाकर बेड पे लेट जाती है.



" ओह्ह डॅड...... आइ आम सो टाइयर्ड आंड हंग्री.........." आराधना सीलिंग की तरफ देखते हहुए बोलती है.



" ठीक है तो तुम फ्रेश हो जाओ फिर नीचे लॉबी मे चलते है खाना खाने...."



" डॅड मुझे खाने की भूख नही बल्कि जिस्म की भूख है...." आराधना अपने मन मे ही बड़बड़ाती है.



थोड़ी देर बाद उठ कर वो बाथरूम मे चली जाती है फ्रेश होने के लिए. अंदर घुसते ही उसे अपने डॅड की फ्रेंची दिखाई देती है. आराधना गेट बंद करने के बाद उस फ्रेंची को उठाती है और उसे देख कर काफ़ी रोमॅंटिक हो जाती है. उसे ख्याल आ रहे थे कि यही है वो कपड़े का एक छोटा सा टुकड़ा जिसमे डॅड का एक मस्त हथियार छुपा होता है.



वो अपने डॅड की फ्रेंची पे किस करती है और फिर अपने कपड़े उतारने लगती है. सबसे पहले अपना दुपट्टा हटा कर वॉश बेसिन के करीब रखती है और मिरर मे अपने क्लीवेज को देख कर मस्त हो जाती है और हो भी क्यू ना.



अपना सूट, पाजामी, ब्रा, पैंटी सब कुच्छ उतार कर वो अपने बाथटब की तरफ बढ़ती है. उसने अभी कुच्छ नही पहना था, कितना मस्त बदन था उसका ये अहसास खुद आराधना को भी नही था. उसे वॉश बेसिन मे सिगरेट के छोटे छोटे टुकड़े दिखाई देते है और वो समझ जाती है कि ये डॅड ने ही स्मोकिंग की है.


वो बहुत हॅपी थी कि पहली बार उसे अपने डॅड का बातरूम शेर करने का मौका मिला है. शवर को ऑन करके वो नहाना शुरू करती है. उसके गरम बदन पे गिरता हुआ ठंडा पानी उसकी बाथरूम की तपिश को और बढ़ा रहा था. उसने अच्छे से शॅमपू किया और अच्छे से नहाई.


RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

ओल्ड फिल्मी स्टाइल मे उसने अपने अगले प्लान को यूज़ किया-

" डॅड..... डॅड........" बाथरूम के अंदर से ही आराधना पंकज को आवाज़ देती है.

" हाँ बेटा....." पंकज उसकी आवाज़ सुनकर बोलता है.

" डॅड..... वो मैं कपड़े लिए बिना ही बाथरूम मे आ गयी... प्लीज़ आप मेरा बॅग खोल कर एक स्ट्रिंग वेस्ट टाइप ड्रेस होगी क्या आप वो दे देंगे. टवल मैने आप ही का यूज़ कर लिया है........"

पंकज आगे बढ़ कर आराधना का बॅग खोलता है. सबसे पहला आइटम ही उसमे आराधना की पुश अप ब्रा थी. पंकज उसे हाथ मे लेकर देखता है और फिर साइड मे रख देता है, उसके दिल मे डाउट था कि आराधना कुच्छ बाथरूम के अंदर तो लेकर नही गयी तो क्या उसे ब्रा नही चाहिए होगी. वो क्या काम करता है कि ब्लू स्ट्रिंग टॉप के साथ उसकी ब्रा भी अंदर दे देता है.

वो बाथरूम का गेट नॉक करता है. आराधना थोड़ा सा गेट खोलती है, उसकी सेक्सी आइज़ पंकज से मिलती है. वो अपने एक नंगा शोल्डर भी पंकज को दिखा देती है, उसके गीले बाल, भीगे होंठ, सेक्सी आइज़, और फेस पे जो ग्लो था उसका असर पंकज पे भी था. खैर आराधना गेट खोल कर कपड़े लेती है और गेट बंद कर लेती है.

आराधना को आइडिया भी नही था कि पंकज ने उसे उसकी ब्रा भी दे दी है. लेकिन जब उसने खोल कर देखा तो उसे पता चला को पंकज ने उसे उसकी ब्रा भी दे दी है. आराधना को इस बात पे हँसी आ जाती है और वो गेट खोल कर ब्रा को साइड मे थ्रो कर देती है.

" डॅड इस स्ट्रिंग टॉप के साथ ब्रा नही पहनी जाती है.........." आराधना ने बिंदास होकर ये बात बता दी.

पंकज भी उसकी इस बात पे हैरान था. आराधना अपने हेर को ड्राइ करके और उस ब्लू टॉप को पहन कर बाहर आती है.

ओ माई गॉड..... ये पंकज पर एक और अटॅक था. जो टॉप आराधना ने पहना हुआ था वो एक दम डीप नेक था और उसके नीचे ब्रा ना होने से तो जैसे उसके आधे से ज़्यादा बूब्स विज़िबल थे. आराधना बेहद सेक्सी लग रही थी, पंकज जैसे तैसे अपना ध्यान हटाता है. लकिन ये बेहद मुश्किल भी था क्यूंकी आराधना अभी एक कछि और कसी हुई काली थी.

बाहर आते ही आराधना रूम मे रखे ड्रेसिंग टेबल के सामने आकर फिर से थोड़ा सा लिप ग्लॉस लगाती है.

" चले........???" आराधना स्टाइल मे पंकज से पूछती है. लेकिन पंकज तो पता नही कौन सी दुनिया मे खोया हुआ था.

" डॅड....." आराधना थोड़ी तेज आवाज़ मे बोलती है.

" यस.... यस बेटा.... लेट'स गो......" और पंकज उठ जाता है. पंकज के लिए बड़ा मुश्किल हो रहा था आराधना की तरफ देखा क्यूंकी वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी.
दोनो ग्राउंड फ्लोर लॉबी मे आ जाते है. पंकज दो प्लेट मे डिफरेंट नॉर्थ इंडियन फुड लेकर आ जाता है. आराधना जिस तरीके से हंसते हंसते पेश आ रही थी, उस जगह पे सबसे सेक्सी लग रही थी.

आज आराधना जैसे अपनी लाइफ जी रही थी. खुल कर हँसना, आज़ाद कपड़े पहन ना एट्सेटरा. उसके चेहरे की हँसी बता रही थी कि आज वो कितनी हॅपी है.

बीच बीच मे वो टेबल पर और झुक झुक कर खा रही थी. ये एक ऐसी सिचुयेशन थी जिसे कोई भी अवाय्ड नही कर सकता था, कहाँ आराधना अपना गला भी नही दिखने देती थी और आज उसके मस्त मस्त बूब्स बार बार बाहर आने को तड़प रहे थे.

पंकज की निगाहे भूले भटके वहाँ चली ही जाती थी और आराधना को अपनी बॉडी पे जैसे प्राउड हो रहा था कि उसने पंकज जैसे हाइ सेल्फ़ डिग्निटी वाले बंदे को भी अपनी तरफ अट्रॅक्ट कर रखा था. खास बात और अच्छी बात ये थी कि पंकज का बिहेव नॉर्मल था.

आराधना ठीक ऐसे रिक्ट कर रही थी जैसे कि वो अंजान है कि उसके बूब्स कैसे उच्छल रहे है.

थोड़ी देर बाद दोनो वहाँ से फ्री होते है और स्टेर्स की तरफ चल देते है. आज तो आराधना की चाल भी ऐसी थी वो किसी मॉडेलिंग रॅंप पर चल रही हो. उसके खुले हुए बाल पूरी गॅलरी मे खुसबु फेला रहे थे. जैसे ही वो स्टेर्स के करीब पहुँचते है तो वहाँ 'वेट फ्लोर' का साइन लगा हुआ था.

आराधना पंकज की तरफ देखती है जैसे उससे पुछ्ना चाह रही हो कि अब क्या करे.

" अब तो लिफ्ट यूज़ करनी पड़ेगी....." पंकज उसे रिप्लाइ करता है.

वो दोनो लिफ्ट की तरफ चल देते है. पंकज बटन प्रेस करता है, उन दोनो के सिवाय वहाँ कोई और नही था. क्यूंकी होटेल काफ़ी फ्लोर का था तो लिफ्ट को नीचे आने मे थोड़ा टाइम लग गया.

लिफ्ट नीचे आती है और पहले पंकज अंदर जाता है. उसके पीछे आराधना भी अंदर घुस जाती है. अंदर घुसने के बाद पंकज अपना मूँह लिफ्ट के गेट की तरफ घुमाता है और ठीक इसी तरीके से आराधना भी. अब आराधना पंकज के सामने खड़ी थी, और उसके पीछे पंकज खड़ा था.

आराधना अपने हेर से एक क्लिप हटाती है और अपने बालो को हिलाती है. हिलते हुए बाल पंकज के चेहरे पर भी लग रहे थे लेकिन आराधना ऐसे रिक्ट कर रही थी जैसे उसे पता ना हो.

पंकज को उसके बालो की खुसबु मदमस्त कर रही थी लेकिन वो चुप था. अब आराधना वो कर देती है जिसका आइडिया पंकज को भी नही था.

वो अपने हेर क्लिप को लिफ्ट के फ्लोर पे गिरा देती है और उसे उठाने के लिए नीचे झुकती है. उफफफफफफफ्फ़....... पंकज क्या लिफ्ट की दीवारे भी पिघलने को तैयार हो रही थी. वो जैसे ही झुकती है तो उसका शॉर्ट टॉप उपर हो जाता है और उसकी थिन फ्लॉरल पैंटी दिखने लगती है. और साथ ही जब वो झुकती है तो तो उसकी गान्ड पंकज के लंड के वो बहुत करीब थी.

आराधना ने जैसे जान भुज कर उस छोटी सी क्लिप को उठाने मे भी टाइम लगा दिया. एनीवे लिफ्ट उपर आती और वो दोनो उपर आ जाते है.

" डॅड....., देल्ही ईज़ नोट दट बॅड..." और ये बोल कर वो पीछे मूड कर देखती है और अपने डॅड की जीन्स की ज़िप मे उसे टेंट दिखाई से जाता है.

अच्छी बात ये थी कि फ्लोर पे कोई और नही था. आराधना को जैसे अपनी सक्सेस नज़र आ रही थी क्यूंकी उसने पंकज के लंड को खड़ा करने मे तो सक्सेस पा ली थी.

" दिल्ली तो दिलवालो की है बेटी........." पंकज आराधना की बात का जवाब देता है. और दोनो फिर से रूम मे एंटर हो जाते है.

पंकज रूम मे सीधा जाता है और सामने रखी एक चेर पे बैठ जाता है. फिर वो अपनी पॉकेट से सिगरेट बॉक्स निकालता है और उसमे से एक सिगरेट निकाल कर अपने मूँह मे लगाता है. उसकी नज़रे इधर उधर जाती है लाइटर के लिए. तभी आराधना उसकी ओर चल कर आती है और झुक कर लाइटर जलाती है. जैसे कि उसने ब्रा नही पहनी थी तो उसके झुकने से फिर से उसके बूब्स पंकज की आँखो के सामने आ गये. सेक्सी आइज़, रॉयल चीक्स, जुवैसी लिप्स, मस्त बूब्स और मस्त क्लीवेज, पंकज की तो हालत हर तरह से खराब करने पर तुली थी आराधना.

" थॅंक यू..... " पंकज आराधना से बोलता है क्यूंकी उसने उसकी सिगरेट जलाने मे हेल्प करी.

" युवर वेलकम....." आराधना फिर से स्माइल करके और अपने आप को झुका कर उसका अभिवादन स्वीकार करती है.

पंकज बड़े गौर से आराधना को देख रहा था.

" बेटा एक बात पुछु........?" पंकज बड़ा सीरीयस होते हुए आराधना से पुछ्ता है.

" हाँ हाँ शुवर डॅड......." आराधना बेड पर बैठते हुए बोलती है.

" क्या तुम भी स्मोकिंग करती हो.......?" पंकज क्वेस्चन करता है.

" व्हाट.... ये कैसा सवाल है. क्या आपको मेरे लिप्स ऐसे लगे......." आराधना फिर से फन्नी मूड मे बोलती है.

" नही ऐसे ही पुच्छ रहा था. वैसे भी आज कल तो ये चलता है.... सिमरन भी तो करती है......." पंकज फिर से स्मोक को हवा मे उड़ाता हुआ बोलता है.

" फिर से सिमरन.... पता नही उस बिच ने ऐसा क्या कर रखा है जो हमेशा उसकी ही बाते चलती है." आराधना बेड पे बैठते हुए ही गुस्से मे बोलती है.

पंकज स्मोकिंग करते करते खड़ा होता है और धीरे धीरे आराधना के पास आता है.

पास आने के बाद वो एक हाथ आराधना के बालो मे फिराते हुए बोलता है -

" बेटे सिमरन की बात तो इसलिए आ गयी थी क्यूंकी वो स्मोकिंग करती है और मैं अभी स्मोकिंग ही कर रहा था...........नही तो ऐसी तो कोई बात नही....." पंकज आराधना के सिल्की बालो मे हाथ फिराते हुए बोलता है.

आराधना अभी बेड ले बैठी हुई थी और पंकज खड़ा हुआ था. जिस वजह से आराधना का डीप नेक टॉप और भी डीप हो गया था. ये आदमी का नेचर है कि जब किसी लड़की के बूब्स दिखाई देते है तो वो अपनी आँखो पे कंट्रोल नही रख पाता और यहाँ तो आराधना फुल मूड मे थी.
अपनी छाती को थोड़ा सा और बाहर लाते हुए आराधना बोलती है-

" अगर गौर से देखोगे तो सिमरन और मेरे बीच बहुत फ़र्क है......" आराधना के चेहरे पर एक सेक्सी स्माइल थी. उसका इशारा शायद अपनी बॉडी की तरफ था.

पंकज अभी भी उसके बालो मे हाथ फिरा रहा था -" बेटे ज़्यादा गौर से नही देख सकता........ " और ये बोलते ही पंकज वापिस मूड जाता है और रूम के विंडो की तरफ देखने लगता है. वो काफ़ी सीरीयस था.

आराधना बेड से उठती है और धीरे धीरे पंकज की तरफ चलती है. पंकज के ठीक पीछे आकर खड़ी हो जाती है - " आख़िर ऐसी क्या चीज़ है जो आपको रोकती है डॅडी...." आराधना और पंकज के बीच मे बस उतना ही गॅप था जितना की आराधना के बूब्स का साइज़.

" मैं नही जानता........" पंकज एक सीधा रिप्लाइ करता है और जैसे ही मुड़ता है सीधा आराधना के बूब्स उसके सीने से टकराते है

" आहह........." आराधना के मूँह से एक सिसकारी निकल जाती है और उसकी आँखे बंद हो जाती है.

लेकिन पंकज अपने आप को संभालता है और धीरे से पीछे हो जाता है.

आराधना को उसका ऐसे पीछे होना अच्छा नही लगा और वो खुद थोड़ा आगे बढ़ती है.

" आख़िर आप मुझसे इतना डरते क्यू है ........" आराधना पंकज के कंधे पे हाथ रखते हुए बोलती है.

पंकज को पता नही क्या होता है और वो सीध मूड कर तेज कदमो के साथ दरवाजे के पास पहुँच जाता है.

" तुम आराम करो..... मैं थोड़ा ईव्निंग ड्रिंक लेने जा रहा हू और थोड़ा टाइम लगेगा......." पंकज की आँखे लाल थी. शायद उस पर भी असर हो रहा था. ये बोल कर वो दूरी बना कर के बाहर चला जाता है.

आराधना को उसका ये बिहेव बहुत अजीब लगा लेकिन वो समझ सकती थी कि मर्द और औरत के अलावा उनके बीच कोई और भी रिश्ता था. लेकिन आराधना इस नेगेटिविटी को भी पॉज़िटिव वे मे ले रही थी. और उसने नाइट प्लान बनाने शुरू कर दिए थे.

दूसरी तरफ -

हालाँकि सिचुयेशन तो घर पर काफ़ी बदल चुकी थी लेकिन फिर वहीं से शुरू करना ज़रूरी है ताकि स्टोरी मे क्लॅरिटी रहे.

प्रीति कुशल के लंड पे लगे ब्लड को देख कर हैरान हो चुकी थी. कुशल अभी भी ठीक उसके सामने खड़ा था लेकिन फिर भी प्रीति ने हिल कर थोड़ा सा उठना चाहा. उसकी चूत अभी भी दर्द से बहाल थी लेकिन प्रीति ने हिम्मत करके स्लॅप से नीचे देखा -

" ओ माई गॉड......... कुशल..... ये कितना...कितना ब्लड निकल गया........ " स्लॅप से नीचे देख कर प्रीति हैरान हो जाती है क्यूंकी कुशल की टाँगो से होता हुआ ब्लड फ्लोर पर आ रहा था.

प्रीति को परेशान देख कर कुशल उसके फोर्हेड को पकड़ कर प्यार से उस पर किस करता है और फिर उसकी आइज़ पर भी किस करता है.

" प्रीति, ब्लड तो निकलना ही होता है. इसमे हैरानी की क्या बात है. लेकिन अब तो तू सही फील कर रही है ना?" कुशल प्रीति मे माथे पे हाथ लगाता हुआ बोलता है.

" ब्लड...... और वो भी इतना........" प्रीति अब भी हैरान थी.

" तू ब्लड को मत देख, वैसे भी तुझे पता है कि फ्लोर पे ज़्यादा दिखाई देता है. वैसे तू कैसा फील कर रही है....." कुशल फिर से पुछ्ता है.

" बहुत दुख रही है............." प्रीति थोड़ा सा और सीधा होते हुए और अपनी चूत पे हाथ रखते हुए बोलती है. वो अब वॉश बेसिन वाली स्लॅप से नीचे उतरने की कोशिश कर रही थी.

लेकिन कुशल अपनी बाँहे बढ़ा कर उसे अपनी बाँहो मे ले लेता है. प्रीति भी अपनी बाँहे उसकी गर्दन मे डाल देती है. काफ़ी रोमॅंटिक सीन था ये क्यूंकी दोनो ने अभी तक कुच्छ नही पहना था. कुशल प्रीति को अपनी बाँहो मे लेकर बाथटब के पास लाकर खड़ी कर देता है.

प्रीति को अपनी टाँगो पर खड़े होने मे भी परेशानी हो रही थी. पता नही कि वो चल भी पाती या नही. कुशल तभी शवर ऑन करता है और धीरे धीरे प्रीति को उसके नीचे ले जाता है. अपनी बॉडी पे पानी के गिरने से जैसे प्रीति को थोड़ी राहत मिलती है. कुशल उसके शोल्डर्स पे हाथ लगा कर उसकी थोड़ी मसाज स्टार्ट करता है. प्रीति की आँखे बंद हो चुकी थी, कुशल बॉडी रेफ़्रेशनेर उठाता है सबसे पहले उसे प्रीति की पीठ पर गिराता है.

अब कुशल प्रीति को जैसे नहला ही रहा था. उसकी पीठ को अच्छी तरीके से धोता है और बॉडी रेफ़्रेशनेर के झाग को आगे ले जाकर उसके बूब्स पे हाथ रख कर उन्हे भी मसलने लगता है. कुशल और प्रीति के बीचे अभी भी थोड़ा गॅप था तो कुशल थोड़ा सा आगे बढ़ता और प्रीति की पीठ से अपना सीना लगा देता है.

प्रीति तो जैसे एक डॉल की तरह थी और कुच्छ बोल नही रही थी. शायद उसकी चूत का पेन अभी भी कम नही था. कुशल अपने दोनो हाथ सामने ले जाकर उसके बूब्स पे रख देता है और उसके कानो के पास जाकर बोलता है -

" प्रीति क्या पेन ज़्यादा है.......?" कुशल की वाय्स थोड़ी ज़्यादा सीरीयस थी.

प्रीति अपनी बॉडी हिलाए बिना बोलती है -" मुझे ऐसे लग रहा है जैसे..... जैसे...... जैसे वहाँ कोई जखम हो गया है........" प्रीति का इशारा अपनी चूत की तरफ था

कुशल जैसे जल्दी जल्दी उसकी बॉडी को धोता है और शवर पाइप को उसकी उसकी चूत के करीब लाकर उसकी चूत पे शवर के थोड़े प्रेशर से पानी डालने लगता है. प्रीति की आँखे अभी भी बंद थी.

कुशल अब अपने एक हाथ मे शवर पाइप को पकड़ता है और दूसरे हाथ को प्रीति की चूत के पास ले जाता है.

" आहह.... कुशल प्लीज़...... बहुत पेन है........." प्रीति के मूँह से ऑटोमॅटिकली ही निकल जाता है. कोई भी उसकी आवाज़ सुन कर आइडिया लगा सकता था कि उसको पेन वाकई मे बहुत ज़्यादा था. लेकिन फिर भी कुशल प्यार से उसकी चूत के होंठो को खोलता है और शवर पाइप से पानी को बोछारे कर देता है.

" आअहह...... आआआअहहिईिइ......." प्रीति को पानी की ठंडी ठंडी बूंदे अपनी चूत के अंदर फील हो रही थी. लेकिन उसे आराम भी मिल रहा था, धीरे धीरे प्रीति अपनी टांगे खोलती है क्यूंकी अभी वो टांगे जोड़ कर खड़ी थी जिससे कुशल को ईज़ी आक्सेस नही था.

कुशल उसकी टांगे फेलाने के बाद पास मे रखी साबुन को उतता है और अपने दोनो हाथो पे लगाता है. उसके दोनो हाथ अब साबुन के झाग से भर चुके थे, वो अपने हाथो को फिर से प्रीति की चूत पे ले जाता है और उसे मसाज करने लगता है.

प्रीति को शायद थोड़ा आराम मिल रहा था. तभी तो वो आँखे बंद करके ऐसी ही खड़ी थी, कुशल अपने घुटनो के बल बैठ कर प्रीति की केर कर रहा था. ढेर सारा साबुन लगाने के बाद कुशल फिर से शवर पाइप उठता है और श्ह्ह्ह्ह्ह्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र....... के साउंड के साथ साबुन और झाग धीरे धीरे नीचे जाने लगता है.

जैसे जैसे वो पानी नीचे जा रहा था, मानो पत्थर खोद कर हीरा बाहर आ रहा हो, ठीक ऐसे ही प्रीति की चूत सामने आती जा रही थी. उसके होठ बिल्कुल खुल चुके थे. कोई भी देख कर आइडिया लगा सकता था कि वो चूत किसी मोटे लंड से चुदि है.

खैर प्रीति अब थोड़ी रिलॅक्स लग रही थी. प्रीति को अच्छे तरीके से सॉफ करने के बाद कुशल अपना टवल उठाता है और प्रीति को पोछ्ने लगता है. पता नही प्रीति को क्या होता है कि वो कुशल से टवल छीन कर बाथरूम के दूसरे कॉर्नर मे भाग जाती है. प्रीति पहली बार मुस्कुराइ कुशल को देख कर, उसने अपने अगले हिस्से को टवल से ढक रखा था. कितनी क्यूट लग रही थी वो.

प्रीति की एक तरफ चूत दूख रही थी तो दूसरी तरफ वो कुशल की केर देख कर इंप्रेस थी.

कुशल अब प्रीति की तरफ बढ़ता है और उसे अपनी गोद मे उठाता है. दोनो की नज़रे मिलती है, फन्नी मूड मे कुशल प्रीति को आँख मार देता है और प्रीति भी शरमाने की बजाय उसे रिप्लाइ मे प्यार से एक आँख दबा देती है और आगे बढ़ कर उसके लिप्स पर एक मस्त स्मूच करती है.

" लगता है लड़का तो ठीक ठाक है तू.................." प्रीति स्टाइल मे बोलती है, आज वो कुशल से काफ़ी इंप्रेस थी.

कुशल अपने रूम से बाहर ले जाकर उसे गोद मे लिए उसके रूम मे ले जाता है. और उसे उसके बेड मे ले जाकर आराम से लिटा देता है. अभी भी दोनो ने कोई कपड़ा नही पहना था.



RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

प्रीति को लिटाने के बाद कुशल उसकी वॉर्डरोब खोलता है और उसमे से एक ब्रा और पैंटी का मॅचिंग सेट निकालता है.

" तू क्यू टेन्षन ले रहा है. मैं.... मैं ये पहन सकती हूँ......" प्रीति ने उठते हुए बोला

" मुझे लगता है कि मुझे तेरी हेल्प करनी चाहिए...." कुशल सीरीयस होते हुए बोलता है.

प्रीति अब बेड से उतर कर खड़ी हो चुकी थी. उसकी चाल मे एक लड़खड़ाहट थी.

" चल अब चुप खड़ी रह और मैं पहनाता हू...." कुशल प्रीति के करीब आता है.

प्रीति एक झटके से अपनी ब्रा पैंटी उससे छीनती है " तू बस दूर खड़ा होकर देख....." प्रीति उससे बोलती है.

कुशल वहीं खड़ा होकर देखता है. थोड़ी हो देर मे वो दोनो चीज़े पहन चुकी थी. क्या कयामत लग रही थी वो, ऐसे लग रहा था कि वाकई मे किसी कली से कोई फूल निकला हो.

कुशल उसकी खूबसूरती से पागल हो चुका था और वो आगे बढ़ता है.

" दूर रह प्लीज़..... और काफ़ी देर से हम साथ हैं प्लीज़ तू नीचे का माहौल देख कर आजा....." प्रीति कुशल को समझाती है.

" उसके बाद.....?" कुशल सवालो भरी निगाहो से पुछ्ता है.

" यार मेरा तो बॅंड बज चुका है..... लेकिन बाते बाद मे पहले नीचे देख कर आ कि क्या सिचुयेशन है........"

कुशल नीचे चला जाता है.

दूसरी तरफ

हालाँकि आराधना शॉक्ड थी आख़िर कैसा क्या हो गया कि डॅड बाहर चले गये लेकिन फिर भी दिल पर बोझ ना रखते हुए वो आकर बेड पर लेट जाती है.

रूम के सीलिंग की तरफ देखते हुए वो मुस्कुरा रही थी.

" थॅंक यू........" अपने बूब्स की गहराइयो मे झाँकते हुए वो उन्हे खुद ही थॅंक यू बोलती है क्यूंकी उन्होने पंकज को अट्रॅक्ट करने मे पूरी भूमिका निभाई.

बेड पर सीधा लेटने के बाद उसके बूब्स का क्लीवेज उसे ही खुद ही एग्ज़ाइटेड कर रहा था. लेकिन जैसे वो अभी देल्ही मे नयी थी और उसे ये भी नही पता था पंकज को आने मे कितना टाइम लगेगा तो वो सोचने लगी कि वो क्या करे. फिर उसे याद आया कि क्यू ना सिमरन को फोन किया जाए और वैसे भी आराधना ने उसे बोला था कि वो पहुँचने के बाद फोन करेगी. वो उठ कर अपना फोन उठाती है और मिलाती है

सिमरन - "हाँ बेटा...."

आराधना - "हाँ मम्मा. मैं देल्ही पहुँच चुकी हू........" आराधना उसके बेटे वाले शब्द का रिप्लाइ करते हुए बोलती है.

सिमरन -" और सुना अभी कहाँ है......?"

आराधना -" अभी तो मैं....... अपने डॅड के बेड पर लेटी हू........" आराधना बड़े ही सेक्सी अंदाज मे बोलती है.

सिमरन -" इतनी जल्दी बेड पर भी पहुँच गयी...... बहुत फास्ट है यार तू तो..... डॅड कहाँ पर हैं?"

आराधना -" यहाँ नही हैं..... बोल कर गये हैं कि अपनी ईव्निंग ड्रिंक लेने जा रहा हू....मैं उन्ही के रूम मे रुकी हू पर पता नही आज रात क्या होगा..." आराधना सीरीयस होते हुए बोल रही थी.

सिमरन -" ओह्ह यस.... अब तेरा काम हो जाएगा..... पक्का. अकेला रूम, तुझ जैसा हॉट माल रूम मे और उपर से ड्रिंक...... तुझसे देख कर तो नमार्द का भी खड़ा हो जाए और तेरे डॅड तो एक ताकतवर इंसान है..... मेरी रानी तेरी तो फट जाएगी आज रात गारंटी से......" सिमरन उसे और भी एरॉटिक स्टाइल मे समझाती है.

आराधना-" बहुत मेहरबान है मुझपे तू.... क्या बात है क्या कर रही है अभी....."

सिमरन -" मेरी जान...... अपने वॉशरूम मे हू....... एक हाथ मे बियर है और दूसरे हाथ मे मेरा प्यारा डिल्डो है..... मुआाहह...." सिमरन अपने टॉय डिल्डो को किस करती है

आराधना -" तो.... तो क्या तू.... तू मास्टरबेट कर रही है........?" आराधना झिझकते हूर पूछती है.
सिमरन -" येस्स्स्स्स्स....." उसकी आवाज़ ऐसी थी जैसे डिल्डो उसने अपनी चूत मे घुसा लिया हो.......

आराधना -" मस्त गर्ल है यार तू.... लाइफ को एंजाय करती है. क्या साइज़ है तेरे डिल्डो का......" आराधना भी इंट्रेस्टेड होने लगी थी.

सिमरन -" ज़्यादा नही 7 इंच है......" सिमरन तो जैसे हवा मे ही थी.

आराधना -" लेकिन.... तेरा तो बॉय फ्रेंड है ना.... फिर तू डिल्डो क्यू यूज़ करती है......."

सिमरन -" मेरी जान..... वो मेरी चूत मारने के बाद भी मास्टरबेट कर लेता है तो क्या मैं नही कर सकती......?"

आराधना -" तुझे कैसे पता कि वो मास्टरबेट करता है......."

सिमरन -" कम ऑन यार बोर मत कर...... हम अक्सर नाइट मे फोन सेक्स भी करते है..........."

आराधना -" फोन सेक्स??? कैसे करते हो........."

सिमरन - " थोड़ी डर्टी और रोमॅंटिक टॉक...... मैं इधर अपने डिल्डो से मास्टरबेट करती हू और वो उधर अपने कॉक को हिला कर मास्टरबेट करता है...... ऐसे करते है फोन सेक्स....."

आराधना-" ओह माइ गॉड...... यू आर रियली डर्टी गर्ल....."

सिमरन -" मेरी जान जितनी डर्टी थिंकिंग तुम अपने पार्ट्नर के लिए रखोगी वो तुम्हे उतना ही सेक्सी कहेगा. नही तो घूँघट करके बैठने से तो इज़्ज़त मिलेगी नही....."सिमरन की बाते आराधना के सर को घुमा रही थी. वैसे ही वो जिस सिचुयेशन मे थी वो इतनी कामुक थी और दूसरी तरफ सिमरन की ये बाते उसे और पागल कर रही थी.

आराधना -" सेक्सी गर्ल.... मुझे भी तो आगे हिंट दे कि क्या करू.... मुझे बड़ी बेचैनी हो रही है....." आराधना अपने हाथ से ही अपने बूब्स को मसलते हुए बोलती है.

सिमरन -" काश मैं लड़का होती तो तेरी बचैनि मिटा देती...... आराधना सच मे ऐसी बॉडी है तेरी की अच्छे अच्छे का पानी निकल जाए....."

आराधना -" बाते ना बना और जल्दी बता...... अब नेक्स्ट स्टेप क्या है....."

सिमरन -" मेरी जान अब नेक्स्ट स्टेप तो तेरे डॅड को लेना है. तू बस अपने हुष्ण का दीदार करती रह उनको......"

आराधना-" चल ठीक है फिर मैं तैयारी मे लग जाती हू...... तू लगी रह अपने डिल्डो के साथ....."

सिमरन -"कभिईीईईईईई...... तू भी ट्राइ कर ना मेरे साथ......... आअहह....... तू मैं और ये........... तुझ जैसे पार्ट्नर के साथ तो पुच्छ मत...... ओह आरू...... यू आर वेरी हॉट....... आहह......."

आराधना -" ओये लगता है तुझे बियर चढ़ गयी है....... तू मस्त रह.... ठीक है..... आज रात मेरे लिए बहुत स्पेशल है तो टाइम वेस्ट मत कर......."

सिमरन - " अरुउुुउउ......" आराधना को फुच्च फुच्च की आवाज़े भी आ रही थी, वो समझ गयी थी कि वो डिल्डो उसकी चूत मे स्पीड से अंदर बाहर हो रहा है.

आराधना -" चल बाइ......." और वो फोन डिसकनेक्ट कर देती है लेकिन आज वो एक अलग ही रूप देख लेती है सिमरन का.

लेकिन आज वो इन सब बातो को सोचने के मूड मे नही थी क्यूंकी उसका प्लान खुद के लिए था.

ईव्निंग हो चुकी थी, बस रात और ईव्निंग के बीच का टाइम चल रहा था. आराधना बेड से उठती है और फिर से बाथरूम मे जाती है, सिमरन की बातो से पता नही उसकी चूत भी गीली हो गयी थी. वहाँ बाथरूम मे पेशाब करके वो अपने आप को रिलॅक्स करती है.

अब अपने आप को तैयार करने की सोचती है. बाथरूम से बाहर आकर वो अपने बॅग को खोलती है और एक के बाद एक अपने सारे कपड़ो को देखती है. उसके पास एक से एक एरॉटिक क्लॉत्स थे, वो सभी पर एक नज़र डालती है लेकिन तभी उसकी नज़र सामने चेर पर रखी एक वाइट शर्ट पर पड़ती है.

ये शर्ट पंकज की थी. जो कि वाइट और थोड़ी ट्रॅन्स्परेंट थी, आराधना के माइंड मे आज एक डिफरेंट प्लान आता है.

वो आगे बढ़ती है और उस शर्ट को उठाती है, फिर आगे बढ़कर अपने बॅग मे फिर से कुच्छ ढूँढने लगती है. और बाद मे से ढूँढ कर एक वाइट पैंटी निकालती है. उस पैंटी को अपने हाथ मे लेने के बाद उसके चेहरे पर एक शैतानी मुस्कान थी.

वो शर्ट और पैंटी को लेकर खड़ी होती है और रूम के लास्ट कॉर्नर मे जाकर खड़ी हो जाती है.

सबसे पहले वो अपने उस ब्लू स्ट्रिंग टॉप को उतारती है. नीचे ब्रा नही पहनी थी तो उसके बूब्स आज़ाद थे अभी, खुद आराधना भी अपने बूब्स के साइज़ को देखकर हैरान थी. कितने मस्त लग रहे थे वो दो अनमोल रतन.

अपनी पैंटी को उतारने के बाद वो उस वाइट पैंटी को पहनती है. अभी फिलहाल उसकी पीठ डोर के रूम की तरफ थी. अभी उसकी बॉडी पर बस एक पैंटी थी, उसका प्लान ब्रा पहन ने का भी था लेकिन क्या सोच कर उसने कॅन्सल कर दिया और डाइरेक्ट शर्ट पहन ली. शर्ट की हाइट बस पैंटी से थोड़े नीचे थी.

खुले हुए सिल्की और स्टाइलिश बाल, चिकनी बॉडी, नाइल पैंट लगे सेक्सी हॅंड्ज़, मस्त सुडोल गान्ड...... अपने आप पर प्राउड कर रही थी आराधना.

वो अभी भी अपनी पीठ करके ही खड़ी और मस्ती मे अपने कमर को हिला रही थी. शर्ट को खींच कर उसने थोड़ा सा आगे कर लिया था, शर्ट उसकी पतली सी कमर के अंदर घुस चुकी थी. तभी पीछे से गेट खुलता है

धड़क्क्क...... और पंकज की निगाहे आराधना पर थी.

" ओह्ह सॉरी......." पंकज ऐसी सिचुयेशन मे आराधना को देख कर बाहर जाने लगता है.

आराधना पीछे मूड कर आश्चर्य से देखती है.

" आइ.... आम सॉरी. मुझे गेट बंद करके चेंज करना चाहिए था. लेकिन अब बाहर क्यू जा रहे है....." ये बोल कर वो सामने की तरफ घूम जाती है. जो शर्ट उसने फोल्ड करके कमर से बाँधी हुई थी वो भी अब खुल चुकी थी. अब आराधना का फ्रंट पोर्षन पंकज की तरफ था,

पंकज गेट के बाहर जाते जाते रुक जाता है और गेट को अंदर रहते हुए ही बंद करता है. अभी भी उसकी नज़रे आराधना के जिस्म पर ही थी.

" तो क्या ले आए आप...." अपने दुपट्टे को अपनी कमर से लपेट कर बाँधते हुए वो पंकज से पूछती है.

आराधना की पैंटी एक ट्रॅन्स्परेंट दुपट्टे के नीचे थी. कहने को तो आराधना ने इसे ढक लिया था लेकिन दिख अभी भी सब कुच्छ पहले जैसा ही रहा था.

" कुच्छ नही...... बस एक बॉटल ले आया हू अपने लिए... और कुच्छ स्नेक्स हैं......." पंकज अंदर आते हुए बेड पर सारा सामान रखते हुए बोलता है.

" कैसी लग रही हू मैं आपकी शर्ट मैं....." आराधना खुशी से अपने आप को घूमाते हुए बोलती है.

" ग्रेट..... ऐसे एक्सपेरिमेंट्स होते रहने चाहिए...." पंकज भी जैसे उसे हिम्मत दे रहा था.

सामान रखने के बाद पंकज वॉशरूम मे जाता है शायद अपने हॅंड वाश करने के लिए. जिस दौरान आराधना ने अपनी पैंटी ढुंडी थी उस दौरान उसने अपने बॅग को बुरे तरीके से फैला दिया था, सो नीचे झुक कर उसे फिर से अड्जस्ट करने लगती है.

वॉशरूम के अंदर पंकज जैसे ही एंटर होता है, उसे डिफरेन्स फील होता है. ये आराधना की खुसबु थी जो बाथरूम से आ रही थी, हाथ धोने के दौरान पंकज की निगाह आराधना की ब्रा पर पड़ती है जो कि उसने सूट उतारने के दौरान वहीं छोड़ दी थी.

ये पंकज के लिए एक अलग एक्सपीरियेन्स था. आज तक उसका बाथरूम शेअर् बस उसकी वाइफ के साथ हुआ था, अगर कभी बाथरूम मे अंडरगार्मेंट्स देखे भी होंगे तो सिर्फ़ स्मृति के ही देखे थे वॉशरूम मे.

पंकज का माइंड हुआ कि वो उस ब्रा को टच करे लेकिन शायद उसकी मेचुरिटी ने उसे रोक दिया. वो अपने फेस को वॉश करता है और टवल से क्लीन करते हुए बाहर आ जाता है.

आराधना जैसे झुक कर अपने बॅग के सामान को लगा रही थी तो शर्ट के खुले हुए बटन्स ने उसके बूब्स को फिर से एक बार पंकज के सामने परोस दिया था. टवल से क्लीन करते करते पंकज रुक जाता है क्यूंकी उसे बेदाग, सुडोल, गोल और ठोस चुचियाँ नज़र आ गयी थी. आराधना भी अपनी निगाहे उठा कर पंकज को देखती है, पंकज अपना मूँह खोल कर सिर्फ़ आराधना के बूब्स को देख रहा था.
आराधना ने परवाह ना करते हुए बॅग मे सामान को लगाना जारी रखा. पंकज जैसे तैसे अपना ध्यान वहाँ से हटाता है और फिर से टवल को बाथरूम मे टाँग कर बाहर आ जाता है.

" आराधना तुम माइंड तो नही करोगी अगर मैं ड्रिंक करू...... आक्च्युयली सालो से हॅब्बिट बन गयी है कि थोड़ी सी ड्रिंक करके ही बेहतर नींद आती है.. " पंकज बेड पर बैठते हुए बोलता है. आराधना फ्लोर पर झुक कर बैठी हुई थी जो कि पंकज से मुश्किल से एक कदम की दूरी पर थी.

" कम ऑन डॅड.... इसमे पुच्छने वाली क्या बात है. मैं इतनी भी नॅरो माइंडेड नही हू....... " आराधना उसी झुकी हुई पोज़िशन मे रहते हुए बोलती है.

" थॅंक यू बेटा......" और पंकज अपनी शर्ट उतारने लगता है. शर्ट उतारने के बाद अब पंकज अपने बनियान मे था. वॉर्डरोब से वो एक हाफ स्लीव पोलो टीशर्ट निकालता है और उसे पहन लेता है.

दूसरी तरफ आराधना का बॅग भी फिट हो चुका था. और वो उसे उठा कर वॉर्डरोब मे रखने लगती है, पंकज को लगा कि उसे आराधना की हेल्प करनी चाहिए. वो आगे बढ़ता है और आराधना के हाथ से बॅग लेने लगता है. जैसे ही वो बॅग को टच करता है तो दो चीज़े एक साथ हो जाती है - एक तो उसका हाथ आराधना के सॉफ्ट हाथो से टच हो जाता है और दूसरा उसकी एल्बो आराधना के लेफ्ट बूब से टच हो जाती है.
आराधना ने भी हिम्मत से काम लेते हुए अपने आप उसी जगह खड़े रखा. दोनो की नज़रे मिलती है- आराधना की सेक्सी आइज़ पंकज को थोड़ा हिंट देती है लेकिन पंकज चेहरे को दूसरी साइड करते हुए बॅग उठा कर वॉर्डरोब मे रख देता है.

इसके बाद पंकज बिना आराधना की तरफ देखे बेड पे आकर बैठ जाता है. बैठने से पहले एक छोटी सी टेबल को वो बेड के करीब रखता है.

आराधना उस रूम मे रखी चेर पर बैठ जाती है जोकि पंकज के बेड के ठीक सामने थी. पंकज टेबल पर अपनी बॉटल को रखता है और एक ग्लास भी.

" बेटे ज़रा फ्रीज़ से आइस देना....." पंकज आराधना से बोलता है. आराधना खड़े होकर फ्रीज़ खोलती है और आइस निकाल कर पंकज को दे देती है.

आराधना अब आकर फिर से चेर पर बैठ जाती है. जब वो चेर पर बैठ रही थी तो उसकी वाइट पैंटी विज़िबल थी जोकि आराधना के ट्रॅन्स्परेंट दुपट्टे से धकि हुई थी.

पंकज ग्लास मे एक पेग बनाता और उसमे दो आइस क्यूब डाल कर अपने ग्लास मे पीने लगता है. आराधना इधर उधर घूम रही थी चेर पर बैठे बैठे.

" और सुनाओ आरू बेटा.... कैसा चल रहा है तुम्हारा फॅशन डिज़ाइनिंग का कोर्स........" पंकज ग्लास का एक और सीप लेते हुए पुछ्ता है.

" एक दम सही चल रहा है डॅड.... आपको तो पता ही है कि फॅशन का तो आज कल बोलबाला है..... " आराधना ऐसे ही घूमते घूमते रिप्लाइ करती है.

" कह तो सही रही हो तुम लेकिन आज कल का टाइम फॅशन के नाम पर एक्सपोषर है......." पंकज की निगाहे अब आराधना से मिलती है.

आराधना बड़े स्टाइल मे चेर पर आगे की तरफ होती है और ज़्यादा झूक कर बोलती है -" लेकिन डॅड..... एक्सपोषर ही तो सब पसंद करते है...?" वो चेर पे ऐसे झुकी हुई ही थी कि पंकज शर्ट के अंदर उसके बूब्स को बिल्कुल सॉफ देख सकता है.

पंकज हड़बड़ा सा जाता है. आराधना के बूब्स ऐसे दिख रहे थे जैसे कोई 3डी मूवी चल रही हो.

" आप को भी तो वो सिमरन छोटे कपड़ो मे ही अच्छी लगती है......." आराधना फ्रिज से ऐसे झुके हुए ही पंकज से फिर से बोलती है.

पंकज अपने पूरे पेग को एक ही बार मे पी जाता है. लेकिन उसने आराधना की बात का जवाब नही दिया. वो अपने ग्लास मे एक और पेग बनाता है, और स्नॅक्स का एक पॅकेट उठा कर आराधना की तरफ फेंकता है.

" क्या आज...... आज तूने..... ब्रा नही पहनी है..........." पंकज थोड़ा सा झिझकते हुए आराधना से पुछ्ता है. शायद शराब का असर पंकज पर हो रहा था.

आराधना अपने आप को सीधा करते हुए चेर पर पीछे हो जाती है.

" नॉटी हो गये है डॅडी आप....." आराधना स्माइल करते हुए बोलती है, उसका इशारा शायद इसी तरफ था कि पंकज उसकी शर्ट के अंदर झाँक रहा था.

" नही..... नही... कुच्छ ग़लत मत समझ. मैं तो बस बाथरूम मे गया तो वहाँ तुम्हारी ब्रा देखी तो इसीलये पुच्छ रहा था..." पंकज फिर से अपने पेग का एक और सीप लेते हुए बोलता है.

" तो आपको कैसे पता कि मैने अभी कोई ब्रा नही पहनी...... हाआँ.... हो सकता है कि मैने वो उतार कर दूसरी पहन ली हो........" आराधान फिर से स्माइल करते हुए पूछती है.

" मुझे पता है कि तुमने ब्रा नही पहनी है..... इतना एक्सपीरियेन्स तो है मुझे...." पंकज भी अब एक स्माइल के साथ आराधना के बूब्स की तरफ देखते हुए बोलता है.

" यू आर रियली नॉटी........." और ये बोलकर वो हंसते हंसते चेर से खड़ी हो जाती है. अब उसकी नंगी टांगे भी पंकज के सामने थी. वो पंकज की तरफ देखते देखते वॉर्डरोब की तरफ फिर से बढ़ती है और वॉर्डरोब से अपने बॅग से मेक अप किट निकालती है. वॉर्डरोब मे खड़े होने के टाइम आराधना की गान्ड पंकज की तरफ थी. वो इसी सिचुयेशन मे पीछे मूड कर देखती है और पंकज को अपनी गान्ड को घूरते हुए देख कर स्माइल करती है.
अब वो ड्रेसिंग टेबल के करीब जाकर एक लिपस्टिक लगाने लगती है. इस लिपस्टिक का कलर थोड़ा लाइट चॉक्लेट टाइप था.

" रात मे कहाँ जाने की तैयारी हो रही है........." पंकज आराधना से पुछ्ता है.

" कल कॉलेज मे एक स्माल मेक अप सेशन है तो उसकी ही प्रॅक्टीस कर रही हू........" आराधना पंकज को ऐसे ही चलाते हुए बोलती है.

" वैसे इस शेड मे कैसी लग रही हू मैं..... " आराधना अपने चॉकलॅटी लिप्स को पंकज की तरफ दिखाते हुए बोलती है.

" सच बताऊ......" पंकज स्माइल करते हुए बोलता है.

" प्लीज़ सच ही बताएए...." आराधना रिक्वेस्ट करती है.

" एक दम सेक्सी......" पंकज भी अब अपनी बाउंडेशन खोलता जा रहा था.

सेक्सी शब्द सुनकर आराधना शरमा जाती है. और फिर से ड्रेसिंग टेबल की तरफ फेस कर लेती है.

पंकज अपना एक और पेग ख़तम कर चुका था.

आराधना अपनी आइज़ पर मास्कारा लगा रही थी. पंकज की निगाहे बस आराधना की गान्ड पर थी और आराधना सॉफ सॉफ ये मिरर मे देख सकती है.

" आऐईयईई......" आराधना अपने आँख लार हाथ रखते हुए चिल्लती है.

" क्या हुआ बेटा...." पंकज सीरीयस होते हुए बोलता है.

आराधना अपनी एक आँख पर हाथ रखते हुए पंकज की तरफ आकर बेड पर चढ़ जाती है.

" डॅड.... देखना शायद आँख मे कुच्छ गिर गया है......." आराधना बहुत जल्दी ही अपनी आँख को पंकज की आँखो के करीब ले जाती है. आराधना अभी पंकज के बहुत करीब थी.

चॉकलॅटी लिप्स और बूब्स तो जैसे बिल्कुल बाहर ही थे क्यूंकी शर्ट के उपर के बटन खुले हुए थे और शर्ट भी ट्रॅन्स्परेंट थी.

पंकज अपने हाथ को आगे बढ़ा कर आराधना की आँख खोलता है. लेकिन उसे उसने कुच्छ नही दिखाई देता. आराधना अभी पंकज के दोनो साइड अपने हाथ टिका कर डॉगी स्टाइल मे थी.

जब पंकज उसकी आँख चेक कर रहा था कि तभी आराधना का हाथ बेड पर फिसल जाता है

" आअहह........" और वो पंकज के सीने के उपर गिर पड़ती है.

पंकज का सीना और आराधना का सीना टकरा गया था. पंकज भी आराधना के गिरने से थोडा सा नीचे हो गया था.



RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

अब आराधना उठने के लिए पंकज की बॉडी का सहारा लेती है. वो अपना हाथ जहाँ रखती है उफफफफफफफफफफफफफफ्फ़, उसका हाथ पंकज के लंड पर जाता है.

पंकज एक बार को हड़बड़ा जाता है लेकिन फिर भी अपनी बॉडी को मूव नही करता. आराधना का हाथ पीछे की साइड था तो वो समझ नही पाई थी कि आक्च्युयली उसका हाथ है कहाँ पर. तो वो उस जगह को समझने के लिए हाथ दबाती है और सेकेंड मे ही उसे समझ आ जाता है कि वो लंड है. आप जान कर वो उस पर अच्छे से हाथ फिराते हुए खड़ी हो जाती है.

" सॉरी डॅड......." आराधना उसकी आँखो मे देखती हुई बोलती है

दोनो की आँखे टकराती है. आराधना तेज तेज साँसे ले रही थी और उसकी छाती उपर नीचे हो रही थी.

" कैसा लगा तुम्हे...........?" पंकज सीरीयस होते हुए आराधना से पुछ्ता है.

आराधना तो जैसे शॉक्ड हो गयी. उसको आइडिया नही था कि पंकज ऐसी बात पुच्छ लेगा.

" ठि..... ठि...ठीक है. बस साइज़ कुच्छ ज़्यादा है.........." आराधना भी थोड़ा सा झिझकते हुए बताती है

" हा हा हा हा..... मैं तो शर्ट पुच्छ रहा हू कि पहन कर कैसा लगा तुम्हे........" पंकज ये बात बोलकर हँसने लगता है.

" आप बहुत खराब हो....... जाओ मैं बात नही करती....." और आराधना बेड से उतरने लगती है.

तभी पंकज उसका हाथ पकड़ लेता है.

" छोड़िए ना........" आराधना का चेहरा लाल हो जाता है और वो बिना किसी बॉडी आक्टिविटी के वो बोलती है.

पंकज बेड से उतर कर आराधना के ठीक पीछे आकर खड़ा हो जाता है. बिना कुच्छ बोले वो अपने लिप्स आराधना की नेक पर रख देता है.

" आअहह............. ऊहह..." आराधना की आँखे बंद हो जाती है. पंकज ने उसे प्यार करना शुरू कर दिया था.

अब पंकज अपना एक हाथ आग ले जाकर शर्ट के बटन खोलने लगता है. बटन खोलते टाइम भी पंकज के हाथ आराधना के बूब्स को टच कर रहे थे जिससे आराधना की साँसे और तेज चल रही थी.

शर्ट अब आगे से पूरी खुल चुकी थी. अब एक झटके के साथ आराधना को अपनी तरफ घुमाता है. आराधना के नंगे बूब्स अब पंकज के सामने विज़िबल थे और आराधना की आँखे बंद थी.

पंकज एक झटके के साथ अपने होंठ आराधना के चॉकलॅटी लिप्स से जोड़ देता है और उन्हे पूरी ताक़त से चूसना शुरू कर देता है.

आराधान भी पूरी ताक़त के साथ पंकज के होठ चूस रही थी. आराधना के नंगे बूब्स अब पंकज की छाती मे घुसे जा रहे थे लेकिन पंकज ने अभी टीशर्ट पहनी हुई थी.

आराधना किस्सिंग को कंटिन्यू रखते हुए अपने दोनो हाथो से अपनी शर्ट को उतारने लगती है. वो बहुत तेज़ी के साथ ये काम करती है.

अपनी शर्ट उतारने के बाद वो पंकज की टीशर्ट को नीचे से पकड़ती है और उपर उठा लेती है. एक पल के लिए दोनो के लिप्स अलग होते है और टीशर्ट बाहर और फिर से दोनो के लिप्स चिपक जाते है.

पंकज ऐसे लिप्स को चूस रहा था जैसे की आराधना के लिप्स से कोई रस निकल रहा हो. आराधना फिर से अपना हाथ नीचे ले जाती है और उसके बनियान को पकड़ कर ठीक उसी तरीके से उतार देती है जैसे की उसने टीशर्ट उतारी थी.

अब दोनो छातिया नंगी थी. जब आराधना के बूब्स पंकज की छाती से टकरा रहे थे तो ऐसा लग रहा था कि रूम मे चिंगारियाँ उठ रही हो. दोनो के सीने एक दूसरे मे समा जाने को तैयार थे.

आराधना की कपड़े उतारने की पहल से पंकज भी काफ़ी एग्ज़ाइटेड हो चुका था. किस्सिंग के दौरान ही आराधना अपना हाथ नीचे ले जाती है और उसके लंड को पॅंट के उपर से पकड़ कर दबाने लगती है. वो पत्थर बन चुका था.

आराधना अपने हाथ को लंड से हटाकर नीचे अपनी पैंटी पर ले जाती है और एक सेकेंड को किस्सिंग से हटकर उस वाइट पैंटी को उतार कर अपने पीछे फेंक देती है. आराधना ऐसे पेश आ रही थी जैसे कि कपड़ो से तो कोई दुश्मनी हो.
अब वो धीरे धीरे पंकज की आँखो मे देखते हुए उसे पीछे ले जाती है और वॉर्डरोब से टिका देती है. वो पंकज की बेल्ट खोलती है और उसकी जीन्स को नीचे कर देती है. नीचे करते ही उसके लंड का भयानक रूप उसके अंडरवेर मे था.

अब अंडर वेर को भी नीचे करके आराधना घुटनो के बल पंकज के सामने बैठ जाती है. अंडरवेर अलग होने के बाद दोनो बिल्कुल नंगे थे.

आराधना घुटनो के बल पंकज के सामने बैठी हुई थी और पंकज खड़ा हुआ था. पंकज का खड़ा और तना हुआ लंड आराधना के मूँह के बहुत करीब था. पंकज की आँखो मे देखते देखते ही अपने लिप्स को आराधना पंकज के लंड पर लगा देती है और उसे चूसने लगती है. आज आराधना का कॉन्फिडेन्स गजब का था. पंकज का तो बुरा हाल हो गया जैसे ही उसके लंड पर आराधना के लिप्स पड़ते है

" ओह माइ गॉड........ यू आर......... सो सेक्सी आरू....................." पंकज की आँखे बंद हो चुकी थी. आराधना बड़े ही मस्त अंदाज मे उसका लंड चूस रही थी

" ओह......... लाइकीयीईयीई........ दट ओन्ली............. सूपर गर्ल....................."

आराधना अपने होठ तेज़ी से आगे पीछे कर रही थी. पंकज का एग्ज़ाइट्मेंट सातवे आसमान पर था. बला की खूबसूरत लग रही थी आज आराधना भी, उसके सिल्की बाल बार बार उसके चेहरे पर आ रहे थे जोकि वो अपने हाथ से पीछे कर रही थी.

" अरुउउउ..... यू र्र्र्र्ररर ग्रेट........ ओह........... आअहह....... म्*म्म्ममममह" पंकज की आवाज़ से पूरा रूम गूँज रहा था.

पंकज अपना दोनो हाथ से आराधना का सर पकड़ कर खुद भी हिलने लगता है.

" आहह.......... यू......... सेक्शययययययययी"

पंकज इशारे मे आराधना को रुकने को बोलता है. शायद वो कुच्छ ज़्यादा ही एग्ज़ाइटेड हो चुका था.

आराधना अपने मूँह से पंकज के लंड को बाहर निकालती है. वो अभी भी घुटनो के बल बैठी हुई थी जबकि पंकज आगे बढ़ कर उसी चेर पे जाकर बैठ जाता है जिस पर पहले आराधना बैठी थी.

वो चेर पे जैसे ही बैठता है तो उसका लंड ऐसे आसमान छुने की तैयारी कर रहा था. वो अपने दोनो हाथ पर थूक लगाता है और उसे लंड पर मसलता है.

आराधना उसका इशारा समझ चुकी थी. आराधना भी खड़ी होती है और पंकज की तरफ चल देती है. वो समझ चुकी थी कि पंकज उसे अपने उपर चाहता है, आराधना शुवर नही थी कि फर्स्ट टाइम सेक्स के लिए क्या वो पोज़िशन सही है लेकिन चूत की आग मे वो जले जा रही थी और ज़्यादा इंतेज़ार नही कर सकती थी.

वो भी उस चेर पर जाकर उसके दोनो साइड टाँग करके खड़ी हो जाती है. अब पंकज के ठीक सामने आराधना थी और आराधना की चूत के ठीक नीचे पंकज का लंड था. आराधना एक हाथ से चेर पकड़ती है और दूसरे हाथ पे थूक लगा कर वो भी अपनी चूत पर ले जाकर मसलने लगती है. उसकी चूत वैसे ही बहुत गीली हो चुकी थी.

पंकज के इशारे के बाद आराधना खुद लंड पकड़ कर अपनी चूत पे लगाती है.

अब वो मिज़ाइल जैसा लंड आराधना की चूत पर था. पंकज आगे बढ़ कर आराधना के बूब्स को अपने मूँह मे भर लेता है और आराधना के कंधे पकड़ कर उसे दबा देता है.

ककककरररर्र्र्र्र्ररर.......... साउंड के साथ लंड का सुपाडा अंदर जाता है और आराधना की चूत का मूँह खुल जाता है.

"आआआआआआआआआआआआआआईयईईईईईईईईईईईईई.........." अगर कोई इस साउंड को सुनता तो यही कहता कि रेप हो रहा है. लेकिन नही दर असल आराधना थोड़ा सा ओवर कॉन्फिडेंट हो गयी थी और भूल गयी थी कि लंड का साइज़ क्या होता है.
आराधना की पूरी बॉडी जाम हो गयी थी. और शायद उसके माइंड ने भी काम करना बंद कर दिया था, ऐसी थी पंकज के लंड की मार.

उसके लंड का सुपाडा ही अंदर गया था कि आराधना की चूत तो जैसे फॅट चुकी थी. शुपाडे के अंदर जाने की आवाज़ ही ऐसी थी जैसे कोई बेलून ब्लास्ट हो गया हो. आराधना की गर्दन अभी पंकज के चेहरे के पास थी, पंकज एक एक्सपीरियेन्स्ड मॅन था लेकिन आराधना एक कच्ची कली थी.

एक बार चिल्लाने के बाद अभी तक आराधना की कोई आवाज़ नही निकली थी और ना ही उसकी बॉडी का कोई मूव्मेंट था. कुच्छ ही सेकेंड्स बीते होंगे कि पंकज को अपनी थाइस पर लिक्विड फील होने लगा, उसको समझते देर नही लगी कि आराधना की चूत फट चुकी है.

" आरू..........?" पंकज ऐसे ही चेर बैठे बैठे आवाज़ देता है लेकिन आराधना का कोई रेस्पॉन्स नही था.

पंकज चेर पर थोड़ा सा चेहरा पीछे ले जाकर आराधना को देखने की कोशिश करता है लेकिन आराधना का चेहरा उसे दिखाई नही दिया.

पंकज फिर से आराधना को आवाज़ देता है -" आरू...... क्या हुआ........". जब अब की बार आवाज़ नही आती तो पंकज समझ चुका था कि कुच्छ इश्यू है.

वो एक झटके मे आराधना को थोड़ा सा उपर करके अपना लंड उसकी चूत से निकालता है. आराधना का सपोर्ट ना होने की वजह से पंकज को बहुत मेहनत करनी पड़ गयी थी. लंड भी उसकी चूत से ऐसे बाहर आया जैसे पता नही कितनी टाइट चूत हो उसकी.

लंड बाहर निकालने के बाद पंकज चेर से खड़ा होता है और उसी जगह पर पंकज आराधना को अपने कंधो पर उठाता है और थोड़ी ही देर मे उसे वहाँ बेड पर लिटा देता है. पंकज की हार्टबीट जैसे कभी भी रुक सकती है क्यूंकी वो इस केस मे किसी डॉक्टर की हेल्प भी नही ले सकता है नही तो लेने के देने पड़ सकते थे.

आराधना को लिटाने के बाद वो उसके चेहरे को हिलाता है " आरू...... बेटा आरू....." लेकिन वो नही बोलती है और शायद वो बेहोश हो चुकी थी.

पंकज नीचे होकर उसकी टांगे फैला कर देखता है तो चूत पर ब्लड के धब्बे थे लेकिन वैसे चूत नॉर्मल दिख रही थी. उसको अहसास हो चुका था कि शायद पोज़िशन ग़लत थी और झटका ज़्यादा तेज लग गया.

पंकज को एसी रूम मे पसीने आने लगे थे. समझ नही आ रहा था कि क्या करे.....

वो भाग कर बाथरूम मे जाता है और मग मे पानी लेकर आता है...

पानी की कुच्छ बूंदे वो आराधना के चेहरे पर गिरता है और फिर से उसका चेहरा हिला कर देखता है.

" थॅंक गॉड....." पंकज एग्ज़ाइट्मेंट मे बोलता है क्यूंकी उसे आराधना की आँखे खुलती हुई दिख जाती है.

आराधना अपनी आँखे खोलने के बाद अपने डॅड की तरफ देखती है और ब्लंकेट की तरफ इशारा करती है क्यूंकी अभी भी वो बिना कपड़े के ही थी. पंकज उसे ब्लंकेट पकड़ा देता है और वो उसे ओढ़ लेती है.

" तू ठीक तो है ना.......?" पंकज फिर से आराधना से पुछ्ता है

" हाँ..... बस वहाँ बहुत दर्द हो रहा है.........." आराधना का इशारा अपनी चूत की तरफ था.

" वो मैने..... अभी देखा वहाँ पर....... वहाँ... वहाँ सब सही है बस शायद मैने......." पंकज सेंटेन्स पूरा नही कर पाता

" मैने क्या डॅडी....?" आराधना थोड़ी हिम्मत जुटा कर अपने डॅड से पूछती है.

" वो आरू.... आरू... फर्स्ट टाइम के लिए वो स्ट्रोक ग़लत था...... मुझे ऐसा नही करना चाहिए था." पंकज अपनी निगाहे नीचे करते हुए कहता है.

आराधना अभी लेटी हुई थी और वो धीरे बेड पर बैठ जाती है और अपने डॅड को हग करती है. " डॅड आपकी कोई ग़लती नही है..... शायद मैं ही कमजोर रह गयी नही तो लड़की के साथ तो ये होना ही होता है.... " आराधना भी पंकज को करेज देते हुए बोलती है.

आराधना अभी भी बिना कपड़ो के थी और फिर से उसकी छाती, पंकज की न्यूड छाती से टकरा रही थी. पंकज के हाथ फिर से आराधना की पीठ पर पहुँच जाते है.

तभी आराधना की निगाहे पंकज के लंड पर पड़ती है....

" हा हा हा हा........ इसे क्या हुआ..... ये तो ऐसे हो गया जैसे गुब्बारे से हवा निकल गयी......." आराधना पंकज के लंड को पकड़ते हुए बोलती है. वो हैरान थी कि कहाँ लोहे जैसा लंड और अब वो ठंडा होकर कैसा लग रहा था. ते देख कर उसकी हँसी छूट गयी थी.

" वो.... वो टेन्षन मे ये ऐसा ही हो जाता है...." पंकज उसे एक्सप्लेन करता है लेकिन आराधना को हंसता हुआ देखकर वो हॅपी भी था.

"टेन्षन...???? कैसी टेन्षन डॅड........" आराधना पंकज की आँखो मे देखते हुए बोलती है.

" नही.... वो... वो... तू बेहोश हो गयी थी ना...." पंकज सीरीयस होते बोलता है.

" हा हा हा हा हा....... वेरी क्यूट....... मैं बेहोश हो गयी तो ये ऐसा गया.... अच्छा है. अगर ये ऐसा ही रहे तो अच्छा है. जब ये ऐसाआआआ बड़ा हो जाता है ना तो समझो......" आराधना इशारे मे अपने दोनो हाथो को फेला कर बोलती है.

" नही बेटा..... ये टेन्षन मे कभी काम नही करता.... इसके लिए टेन्षन फ्री रहना ज़रूरी है....." पंकज फिर से एक्सप्लेन करता है और वो हॅपी भी था कि चलो आराधना हॅपी है.

" ओह्ह्ह.... तो ये टेन्षन मे है..... नॉटी नॉटी...." और प्यार से अपना हाथ वो पंकज के लंड पर फिराने लगती है. लेकिन वो काफ़ी एग्ज़ाइटेड थी लंड के मुरझाए हुए रूप को देख कर और उसे बहुत प्यार आ रहा था उस पर.

लेकिन अगले ही पल वो फिर से आकर लेने लगता है....

"ओह.... डॅड..... क्या टेन्षन ख़तम हो रही है क्या जो ये........." आराधना का इशारा था कि लंड खड़ा होता जा रहा था.

" तू छोड़ इसे और ये बता कि तू सही फील कर रही है अब....." पंकज खड़ा हो जाता है और आराधना के हाथ से उसका लंड भी अलग हो जाता है.

" मैं पहले भी सही थी और अभी सही हू...... आप टेन्षन ना ले.... वैसे लग तो रहा है कि टेन्षन कम हो रही है........ हे हे हे हे" आराधना फिर से पंकज की लंड की तरफ देखते हुए बोलती है.

" तो अब.... अब वहाँ सही फील हो रहा है....?" पंकज थोड़ा झिझक तो रहा था लेकिन फिर भी पुच्छ ही लेता है.....

" मैं तो फिट हू एक दम..... लेकिन अगर ...... अगर....... अगर आप देखना चाहे तो देख सकते हैं कि वहाँ सब सही है या नही......" आराधना अभी बहुत खिल खिला रही थी लेकिन इस बात के लिए वो थोड़ा हिचकिचाई.

पंकज एक केरिंग पर्सन था तो उसने ब्लंकेट को थोड़ा सा उपर किया. अब आराधना की न्यूड थाइस उसके सामने थी जो कि एक दूसरे से मिली हुई थी.

पंकज एक टाँग को पकड़ कर थोड़ा सा अलग करता है लेकिन फिर भी इतना स्पेस नही बनता कि वो क्लियर देख पाए कि चूत कैसी है अभी.

" वो....ज़रा.....थोड़ा सा......" पंकज इशारा करता है आराधना को कि प्लीज़ थोड़ा सा टाँगो को फैलाओ ताकि वो देख पाए कि क्या सिचुयेशन है.

उफफफफफफफफ्फ़.... आराधना ने अपनी दोनो टांगे ऐसे फैलाई कि कोई भी पागल हो जाए. उसकी चूत बिल्कुल क्लीन थी, और अपनी केपॅसिटी के हिसाब से वो पूरी टांगे फैला चुकी थी. चूत के अंदर तक का हिस्सा अब पंकज देख सकता था. आराधना की निगाहे बस पंकज पे ही थी कि उसका क्या रेस्पॉन्स होगा.

लेकिन रेस्पॉन्स पंकज से नही बल्कि उसके लंड से पता चल रहा था जोकि फिर से तन कर खड़ा हो रहा था.

आराधना ये देख कर मूँह छिपा कर हँसने लगती है.....

" क्या हुआ आरू.....?" पंकज आराधना से पुछ्ता है.

" नही..... ये आपका वो........." फिर से आराधना अपने दोनो हाथ को खोल कर बताती है कि कैसे उसका साइज़ बढ़ रहा है.

" आरू... वो.... दर असल यहाँ देखने के बाद ये थोड़ा......." पंकज का इशारा आराधना की चूत की तरफ था.

" तो सब ठीक तो है ना...... यहाँ पर......." बड़े ही सेक्सी अंदाज़ मे अपना एक हाथ वो अपनी चूत पे ले जाती है और एक फिंगर को अंदर डाल कर पंकज से पुछ्ने लगती है.

" सब सही ही लग रहा है....... देखने मे तो......" पंकज उसकी चूत की तरफ देखते हुए बोलता है

" क्या आपको बस देखने से ही पता चल गया........." आराधना का इशारा कुच्छ और ही था.



RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

पंकज अपना एक हाथ आगे बढ़ाता है और उसकी चूत पे रख देता है. वो एक दम चिकनी थी, वैसे भी आराधना सफाई का पूरा ख्याल रखती थी.

" आअहह......" आराधना के मूँह से सिसकारी निकल जाती है और साथ ही उसकी चूत से रस भी आने लगता है.

आराधना को देख कर नही लग रहा था कि वो डरी हुई या घबरा रही थी बल्कि वो तो अपनी दोनो टाँगो को अच्छे से खोल कर बैठी थी.

श्र्र्ररर........... पंकज अपनी एक उंगली आराधना की चूत मे घुसा देता है.

" उफफफफफ्फ़..........म्*म्म्मममह......." आराधना की आँखे फिर से बंद हो गयी थी.

" कुच्छ दुखन तो नही है..........." पंकज अपनी एक उंगली अंदर बाहर करते हुए पुछ्ता है.

" दुखन..... तो अब कम हो रही है......... ऊऊऊऊऊऊहझह...........". आराधना तो लगभग मस्त हो चुकी थी.

इधर पंकज की उंगलियो पर धीरे धीरे आराधना की चूत का रस बढ़ता जा रहा था.

" ओह...... म्*म्म्ममममह......लव मी............." आराधना अपनी चूत को हिलाने लगी थी अब.

पंकज भी अब झुक चुका था अब..... उस को जो चीज़ अभी तक रोक रही थी वो सिर्फ़ रीलेशन था लेकिन अब चूत का इतना ओपन व्यू मिलने से पंकज भी भटक रहा था.

आराधना की कामुक सिसकियाँ उसे पागल कर रही थी.

पंकज ने टाइम ना लगाते हुए अब अपने होंठ उसकी चूत पे रख दिए.............

"आअहह......म्*म्म्ममह........" आराधना तेज़ी से अपनी चूत को हिला रही थी.

पंकज अपने एक्सपीरियेन्स का फ़ायदा उठाते हुए अपनी जीभ को अच्छी तरह से उसकी चूत मे घुमा रहा था. लंड के सुपाडे ने चूत को थोड़ा खोल भी दिया था.

" आहह..........दद्द्द्द्द्द्द्दद्ड.......लव मी.........लव मी.........." आराधना बहुत ही ज़्यादा मचल रही थी अब. इतनी तो वो कभी नही मचलि थी.

चूत के भंगूर को वो चाटने मे लगा हुआ था और नीचे उंगली का भी काम कर रही थी. डबल इंपॅक्ट हो रहा था चूत पे.

" खा जाओ ईसीईईई........ आाआऐययईईई......म्*म्मह" अपने दोनो हाथो से आराधना ने पंकज के बाल पकड़ लिए थे जोकि उन्हे नोचने को तैयार हो रही थी.

" फकक्क्क्क्क्क्क्क्क मी....................."

आराधना अब बहुत तेज चिल्ला रही थी. सच मे अपने वाइल्ड रूप मे आ चुकी थी वो. ल्यूब्रिकेशन के लिए पंकज उसकी चूत को बहुत गीला कर चुका था.

पंकज अब उसकी चूत से हट ता है लेकिन आराधना अभी भी छटपटा रही थी.

पंकज आराधना के कॉन्फिडेन्स को चेक करना चाहता था लेकिन वो कुच्छ सुन मे के मूड मे नही थी.

" प्लीज़ डॅड......... मत तडपाओ...........आअहह............फकक्क्क्क्क्क्क्क मी प्लीज़............."

पंकज अब इस सिचुयेशन को अवाय्ड नही करना चाहता था.

पंकज ने एक बार फिर से अपने लंड पे ढेर सारा थूक लगाया और अपने घुटने मोड़ कर आराधना की चूत के सामने आ गया. चूत लंड का एक झटका पहले ही खा चुकी थी और उसके होठ खुले हुए थे.

अपनी लंड के मिज़ाइल जैसे सुपाडे को वो फिर से आराधना की चूत पे लगाता है और आराम से पुश करता है....

फुचह....... कुच्छ ऐसा ही साउंड आता है और लंड सरक कर थोड़ा सा अंदर चला जाता है.

" आहह........" आराधना की बॉडी का मूव्मेंट थोड़ा सा कम हुआ क्यूंकी लंड का असर फिर से उसकी चूत पर हुआ.

पंकज थोड़ा सा झुकता है और आराधना के मोटे मोटे बूब्स को किस करने लगता है.

" सक देम......... ऐसे दद्द्द्दद्ड...... यू आर माइ मन्न्न्न्न..............."

सकिंग के दौरान ही आराम से थोड़ा सा और पुश करता है और लंड लगभग आधा अंदर चला जाता है.

" आईईईईई......इसस्शह..." रूम मे ऐसा साउंड आ रहा था जैसे कोई लो वाय्स मे विज़ल बजा रहा हो.

लंड बिल्कुल उसकी चूत मे फँस चुका था. आराधना पंकज को अपने बूब्स से खींचती है और अपने होठ उससे जोड़ देती है.
म्*म्मह....." पंकज भी उसके रसीले होंठो का रस्पान करने लगता है. आराधना उसके होंठो पे कुच्छ ज़्यादा ही प्रेशर बना कर चूस रही थी.

खचह.......... इस साउंड के आते ही आराधना के होठ पंकज से अलग हो जाते है क्यूंकी अब लंड अब अंदर तक जगह बना चुका था. पंकज सीध खड़ा होता है तो उसे दिखाई देता है कि बेड शीट खून मे सन चुकी थी लेकिन सेम ओल्ड स्टाइल की वो आराधना को नर्वस नही करना चाहता था.

पंकज अपना लंड बाहर खींचता है और फिर धीरे से अंदर पुश करता है. उसकी चूत के रस की वजह से अब ज़्यादा परेशानी नही हो रही थी. कुच्छ ही देर मे पंकज थोड़ी सी स्पीड पकड़ चुका था.

" आअहह..... आहह....... आहहह... फुक्ककककक मईए......... आइ लाइक यू........... लव मी.........." आराधना मस्त हो रही थी और बीच बीच मे पंकज के होंठो को भी चूस लेती थी.

पंकज भी दना दन लगा हुआ था. फुच्च फुच्च फुच साउंड तेज़ी से आ रहा था. चूत का पानी, ब्लड मिलकर एक अलग ही ल्यूब्रिकेशन पैदा कर रहे थे.

" आऐईयईईई...... आअहह...... आहहह.....म्*म्म्मममह........आऐईयईईईईईईई.....ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ज........" पंकज धक्के पे धक्के लगाए जा रहा था और आराधना अपनी आँखो से उसे इन्वाइट कर रही थी कि और चोद मुझे.

"फास्ट प्लीज़...... आहह....... एसस्स्स्स्स्सस्स.... प्लीज़ फक्क्क्क मी........" आराधना अपनी मस्ती के आलम मे चूर हो चुकी थी लेकिन पंकज अभी भी ख्याल कर रहा था कि आराधना कुँवारी है.

पंकज अपनी स्पीड को बढ़ाता है और तेज़ी से धक्के लगाने लगता है. आराधना की सेक्सी आइज़ अब और भी शाइनी हो चुकी थी.

" आहह...... डॅड................म्*म्म्ममममममममममह..................आहह.........आअहह........" आराधना अपने हाथ आगे बढ़ाती और पंकज की गर्दन मे डाल कर उसे नीचे को झुकाती है.

"आहह................. डेडड्डड्डड्डड्ड.........." आराधना के हाथ कस गये थे और उसके नेल्स पंकज की गर्दन के आस पास लगने लगे थे.

" .....अहह....अहह" आराधना की चूत झटके लेती है और पंकज को अहसास हो जाता है कि वोंझड़ गयी है.

लेकिन पंकज अभी भी स्पीड के साथ लगा हुआ था. फुचह फुच फुचह फुचह......... चूत और लंड के मिलन के साउंड अभी भी आ रहे थे.

" ओह........ आरू......." ये पंकज के मूँह से पहला साउंड था.

" आहह......आहह" पंकज तेज़ी से लगा हुआ था. आराधना की टाइट चूत असर कर रही थी.

" आरुउउउउउउउउउउउउउउउउउउउउ............" इस साउंड के साथ पंकज अपना लंड बाहर निकालता है और सारा वीर्य बेड शीट पर उडेल देता है.

पंकज की पूरी बॉडी टाइट हो चुकी थी.

आराधना हैरान थी उस पिचकारी से क्यूंकी वो बहुत ही स्पीड से वीर्य को बाहर निकल रहा था.

वो एक प्यारी सी स्माइल के साथ पंकज की तरफ देखती है.

वीर्य निकलते ही पंकज सीधा खड़ा होता है और सीधा वॉशरूम मे घुस जाता है. आराधना उसके बिहेवियर से फिर से एक बार शोकेड हो जाती है.

कुच्छ मिनिट होते है लेकिन पंकज अभी अंदर ही था. आराधना वहीं पे लेटे हुए आवाज़ देती है.

" डॅड..... डॅड....?"

पंकज -" आरू.... तुम आराम करो मे एक बाथ लेकर आ रहा हू..........



RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

पंकज बाथरूम में घुस जाता है और आराधना इधर अपने कुंवारेपन को खोने वाली बात सोच कर मुस्कुरा रही थी.ये काफी पेनफुल एक्सपीरियंस था लकिन आज उसे ख़ुशी थी की पंकज ने उसे अस अ फकिंग पार्टनर एक्सेप्ट कर लिया है. वो धीरे धीरे अपना एक हाथ नीचे ले जाती है और अपनी चुत पे लगाती है. चूत से ऊपर का सारा एरिया पंकज के वीर्य से भरा हुआ था. वो एक ऊँगली को उस वीर्य पे लगाती है और फिर चिपचिपाहट का आईडिया लगाती है, फेविकोल से भी मजबूत.... आराधना उसकी क्वालिटी को देख कर मन ही मन बड़बड़ाती है. उसके चेहरे पर अलग ही मुस्कान थी. वो अभी भी अपनी टाँगे फैला कर लेटी हुई थी उसको ऐसा लग रहा था की जैसे अंदर तक हवा पहुँच रही हो लकिन रियलिटी ये थी की पंकज के मुसल जैसे लंड ने उसकी चूत को अच्छे से खोल दिया था. चूत के दोनों होठ आपस में अलग हो चुके थे.वो फिर अपनी फिंगर से अपनी चूत का इंस्पेक्शन करती है. पहले एक फिंगर डालती है और फिर दूसरी. आज सटासट ऊँगली अंदर जा रही थी वो हैरान थी की कहाँ मस्टरबैशन में दोनों उँगलियाँ मुश्किल से अंदर जाती थी और आज वो ही उँगलियाँ सटक से अंदर जा रही है.पंकज के मरदाना लंड से आराधना अब और भी ज्यादा इम्प्रेस हो चुकी थी 
पंकज वाशरूम में एक शावर लेकर बहार आता है. उसने टॉवल बांधा हुआ था, आराधना को थोड़ी हैरानी हुई की कहाँ वो एक दम नंगी पड़ी थी और वो भी अपनी टाँगे फैला कर और कहाँ पंकज अपने लंड पर टॉवल लपेट कर आया था, क्या..... क्या.... मैं भी कपडे पहन लू........., आराधना बहुत ही शरमाते हुए ये बात कहती है, हाँ पहन सकती हो....,पंकज वार्डरॉब से अपने कपडे निकलते हुए बोलता है. आराधना खड़ा होने की कोशिश करती है लकिन अगले ही पल उसे शर्म आने लगती है की क्या वो नंगी ही खड़ी होकर फिर से डैड के सामने जाएगी. वो बेड पर बैठ जाती है और अपने आप को ब्लैंकेट से ढक लेती है,
डैड...... क्या आप मुझे मेरे कपडे दे देंगे...... वो बैग में है..,आराधना फिर से शरमाते हुए बोलती है. उसने बूब्स तक के हिस्से को ब्लैंकेट में कवर किया हुआ था, 
हाँ.... हाँ मैं देता हु...... कौन से कपडे लोगी....,पंकज आराधना के बैग में कपडे देखते हुए बोलता है,
जो.... जो भी आपको सही लगे....,आराधना फिर से थोड़ा झिझकते हुए उसे बोल देती है.
पंकज बैग को चेक करने के बाद उसमे से एक ब्लैक एंड रेड ब्रा एंड मैचिंग पैंटी निकालता है. .वो उन दोनों आइटम्स को आराधना को दे देता है. जैसे ही आराधना उन आइटम्स को देखती है तो उसे रीयलाईज़ हो जाता है की पंकज उसे किस रूप में देखना चाहता है. वो चाहती तो बैड पर लेटे लेटे वो कपडे पहन सकती थी लकिन वो बड़ी हिम्मत के साथ बेड से खड़ी होती है और साइड में आकर ब्रा को पहन में लगती है. पंकज ने जो ब्रा और पैंटी आराधना को दी थी वो कुछ डिफरेंट ही थी. ये वो कलेक्शन था जिसे स्पेशली आराधना ने इस दिल्ली ट्रिप के लिए लिया था 
ये एक ऐसा सिन था जिससे रूम में टेम्परेचर बहुत बढ़ जाए. आराधना बिना कुछ पहने पंकज के सामने खड़ी थी. पंकज के सामने वो चुत थी जो उसने कुछ ही पल पहले चोदी थी.पंकज भी एक शर्ट एंड स्लीवलेस टीशर्ट पहन चूका था और फिर से एक और पेग पीने की तयारी कर रहा था 
गिलास को हाथ में लेने के बाद वो आराधना की तरफ देखता है और तब तक आराधना अपनी ब्रा पहन चुकी थी. उसकी गोरी स्किन पंकज को आकर्षित कर रही थी. ब्रा पहनने के बाद आराधना नीचे झुकती है अपनी पैंटी को पहनने के लिए जब वो झुकती है तो पंकज की आँखों के सामने फिर से उसके बूब्स आ जाते है. 
आराधना टांगो में अपनी पैंटी चढाने के बाद पंकज की तरफ देखती है
पंकज की निगाहें फिर से आग उगलने लगी थी और वैसे सीन भी कुछ ज्यादा ही कामुक था 
“क्या अभी भी मन नहीं भरा जो ऐसे देख रहे है.???” आराधना अपनी पैंटी को पूरा ऊपर चढाने के बाद और पंकज की तरफ देखते हुए बोलती है.
दूसरी तरफ 
सिचुएशन तो काफी बदल चुकी थी लकिन वहीँ से शुरू करते है जहाँ पर ख़तम किया था. प्रीती के बार बार बोलने पर कुशल नीचे का माहौल देखने चला जाता है. उसको ये आईडिया था की स्मृति बहार हॉल में बैठी होगी मगर वो वहां नहीं थी. कुशल धीरे धीरे सीढ़ियों से उतरता है और आगे बढ़ता है. जब उसे स्मृति दिखाई नहीं देती तो वो आगे की तरफ बढ़ता है. हॉल से आगे बढ़ता है और आगे किचन में भी उसे कुछ दिखाई नहीं देता. हालाँकि कोई लेट नाईट का टाइम नहीं था फिर भी पता नहीं क्यों कुशल को ऐसा लगने लगा जैसे की स्मृति सोने चली गयी है. वो धीरे धीरे उसके बेड रूम की तरफ बढ़ता है, रूम से पहले ही उसे कुछ खटपट सुनाई दे जाती है और उसे अहसास हो जाता है की रूम में स्मृति जाग रही है. वो आगे बढ़ता है और सबसे पहला सिन ही उसके लंड को फिर से खड़ा होने पर मजबूर कर देता है. कुशल को आईडिया नहीं था की स्मृति क्या तयारी कर रही थी. उसकी पूरी बॉडी पे कुछ भी नहीं था सिवाय एक जीन्स के. स्मृति को जीन्स में देख कर खुद कुशल हैरान था और जीन्स भी अल्ट्रा लौ वैस्ट थी. सबसे कमाल की बात थी की स्मृति ने ऊपर कुछ भी नहीं पहना है. वो अपने आप को मिरर में देख रही थी लिप्स पे जूसी लिपस्टिक लगी हुई थी.अगर कुशल उसका चेहरा न देख पता तो शायद उसे ये ही लगता की ये कोई और सेक्स बम है लकिन वो उसका चेहरा देख सकता था.वो अपने दोनों हाथो से अपने बालो को पकड़ कर अलग अलग पोज़ में मिरर में देख रही थी. दोनों हाथ ऊपर आ जाने से उसके बूब्स कुछ और ही ज्यादा बहार आ गए थे कुशल अभी ही प्रीती की कुंवारी चुत को फाड़ कर आया था लकिन स्मृति के इस एक्शन ने फिर से कुशल के लंड को 1000 वाट पावर दे दी. इस टाइम स्मृति इस पोजीशन में थी कुशल के सामने

वो धीरे से मिरर के पास जाती है और अपने लिप्स को गौर से देखती है. कुशल का हाथ अब तक अपने लंड पर पहुँच चूका था.स्मृति ने अभी तक कुशल को नहीं देखा था और वो अपने एक हाथ को अपने बूब्स पर ले जाकर उसे प्रेस करके देखती है. कुशल को उसके ये रिएक्शंस और पागल कर रहे थे. मिरर में अच्छे तरीके से अपने आप को देखने के बाद वो अपने रूम के लास्ट कार्नर की तरफ बढ़ती है. अब उसकी पीठ कुशल की तरफ थी. थोड़ा आगे पहुँचने के बाद वो अपनी जीन्स के बटन को दोनों हाथो से खोलने की कोशिश करती है. क्यूंकि वो थोड़ा अंदर की साइड चली गयी थी तो कुशल थोड़ा आगे होकर उसकी मस्त गांड को देखने लगता है.वो अब जीन्स का बटन खोल चुकी थी और धीरे से अपनी जीन्स को नीचे करने लगती है. उफ्फफ्फ्फ़ क्या नजारा है. स्मृति ने अपनी जीन्स के नीचे एक बारीक़ सी पैंटी पहनी हुई थी जैसे ही उसकी थोड़ी जीन्स नीचे होती है तो कुशल को उसकी मस्तानी गांड क्लियर दिखाई दे जाती है. 
”Wow.......... ग्रेट......”कुशल अपने लंड पर हाथ फिरता हुआ रूम में एंटर होता है.

स्मृति उसकी प्रजेंस से शॉकेड हो जाती है और अचानक से पीछे मुड कर देखती है और अपनी जीन्स ऊपर करती हुई उसकी तरफ घूमती है 
“तू......? यहाँ.... क्या कर रहा है......?” स्मृति घबराती हुई बोलती है
”माँ... आपका बेटा हूँ तो आपका अकेला कैसे सोने दे सकता हु मैं.... पापा यहाँ नहीं है तो क्या हुआ आप टेंशन न ले मैं तो हु न....” कुशल धीरे धीरे आगे बढ़ता है.
“मुझे तेरी कोई जरुरत नहीं है.....” स्मृति अपनी टीशर्ट को उठा कर अपने बूब्स को ढकते हुए बोलती है. और साइड में जाकर अपनी टीशर्ट को पहन ने लगती है
“माँ आईडिया नहीं था की आप जीन्स भी पहन लेती है. वैसे क्या कमल की फिटिंग आती है आपको खास कर आपकी बैक तो ऐसी हो गयी है जैसे जीन्स इसी के लिए बानी है......” ये बात बोलते बोलते कुशल स्मृति के बहुत करीब पहुँच चूका था.स्मृति धीरे धीरे पीछे होती हैं और कुशल धीरे धीरे उसकी तरफ बढ़ता है. कुशल बढ़ता ही जा रहा था और स्मृति पीछे होते होते दिवार से लग जाती है. कुशल पर फिर से भुत सवार हो चूका था. कुशल जैसे ही उसके करीब पहुँचता है स्मृति वहां से अचानक साइड हो जाती है और हँसते हँसते आगे की तरफ भाग जाती है. कुशल को उसके हंसने से आईडिया मिल जाता है की स्मृति भी ट्रैक पर है 

“हे हे हे हे .......” स्मृति कुशल की इस हालत पर हंसती है, कुशल को अच्छा भी लग रहा था और बुरा भी , अच्छा इसलिए लग रहा था कि उसको आईडिया मिल गया था की आज स्मृति ज्यादा नखरे नहीं करेगी और बुरा इसलिए लग रहा था की एक परिपक्व लेडी होने के बावजूद वो ऐसे भाग रही थी. कुशल उसको मुड कर जब भागते हुए देखता है तो स्मृति की जीन्स में फसी हुई गांड देख कर वो और पागल हो जाता है.
” प्लीज मुझे मत तड़पाओ.........” कुशल फिर से उसकी तरफ मुड़ता है 
स्मृति अपने गेट के पास खड़ी थी और स्माइल कर रही थी.
कुशल अब फिर से धीरे धीरे उसकी तरफ बढ़ता है, जैसे जैसे वो बढ़ता है स्मृति भी अपने पाँव बाहर की तरफ बढाती है.
” प्रीती......” कुशल चिल्ला कर बोलता है और स्मृति डर कर पीछे देखती है 
पीछे देखते ही स्मृति को समझ आ जाता है कि वो कुशल की इस चाल में वो फंस चुकी है.
इससे पहले की वो पीछे मुड कर देख पाति कुशल धप्प्प से उसे पकड़ लेता है
स्मृति इस सिचुएशन के लिए तैयार नहीं थी कुशल स्मृति को पकड़ कर फिर से दीवार से लगा देता है
.” आह्ह्ह्हह्ह..... छोड़ मुझे........” स्मृति चिल्लाती है लकिन अब तक कुशल उसके दोनों हाथो को पकड़ कर ऊपर की तरफ कस कर पकड़ लेता है
स्मृति के बूब्स अब उसके सीने में चुभ रहे थे.
” छोड़ मुझे..... मुझे नींद आ रही है.......” स्मृति उससे रिक्वेस्ट करती है.
” ऐसी सिचुएशन में तो किसी को भी नींद नहीं आती तो आपको क्या आएगी......” कुशल ये बोलते बोलते अपने होंठ स्मृति के होंठो की तरफ बढ़ा देता है
स्मृति कभी अपनी गर्दन इस तरफ तो कभी दूसरी तरफ 

पुच्च्च्चच .......... जब होंठो से लिंक नहीं हो पता तो कुशल उसके गालो पर ही स्ट्रांग किश कर देता है. इस किश के होते ही स्मृति थोड़ा अपनी मूवमेंट को कम करती है और मुड कर कुशल की तरफ देखती है.
अभी उसकी नजरे ठीक से कुशल से मिल भी नहीं पायी थी की कुशल ने अपने होंठ उसके होंठो से भिड़ा दिए.........
” उन्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह उन्ह्ह्हह्ह्ह्ह .........." स्मृति थोड़ा छटपटाती है फिर से 
लेकिन कुशल उसके होठो को चूसे जा रहा था. स्मृति की सारी लिपस्टिक कुशल के होठो पर लग चुकी थी. लेकिन कुशल अभी भी उसके होंठो को चूसने में लगा हुआ था.स्मृति ने भी कुछ सेकंड के लिए विरोध किया लकिन अब उसकी बॉडी मूवमेंट से नहीं लग रहा था की वो कुशल के इस एक्शन से नाराज है.
कुशल के होठो के बीच में उसे एक जीभ आती हुई महसूस होती है और वो सीधी जाकर कुशल के होठो से मिल जाती है. ये कुशल के लिए एक नया एक्सपीरियंस था, ये जीभ स्मृति की ही थी जो अब अपने एक्सपीरियंस का फायदा उठा रही थी. कुछ सेकण्ड्स के लिए अब दोनों के होंठो का द्वन्द युद्ध चलता है जहाँ स्मृति भी अच्छे से कुशल के होठो को चुस्ती है. 
कुशल की ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था .धीरे धीरे कुशल अपने लिप्स अलग करता है. लिप्स अलग करने के बाद वो स्मृति की आँखों में झांकता है और स्मृति शर्मा कर अपना चेहरा दूसरी साइड कर लेती है.
” इतनी रात में ये इतनी सेक्सी लिपस्टिक किस लिए लगायी है आपने....?” कुशल स्मृति से पूछता है.
स्मृति अपना चेहरा कुशल की तरफ करती है
“तुझसे मतलब.... लगायी है किसी के लिए....” स्मृति थोड़े ऐटिटूड में बोलती है
.कुशल का तना हुआ लड फिर से स्मृति के करीब था. कुशल उसको लंड को और चुभते हुए बोलता है.” बता दो जरा कौन है वो खुश नसीब..... जिसके लिए मेरी माँ ने इतना सेक्सी मेक उप किया है...” कुशल फिर से पूछता है.
” है कोई मेरा ओल्ड फ्रेंड......... लकिन तुझे क्यों बताऊ........” स्मृति फिर से ऐटिटूड में बोलती है.
” ओल्ड फ्रेंड?????? मैंने तो कभी कोई नहीं सुना.......” कुशल अपने दिमाग पर जोर डालते हुए बोलता है.
” है कोई ओल्ड नेट फ्रेंड.....” स्मृति हँसते हुए बोलती है.
” LION............" कुशल चिल्ला पड़ता है स्मृति के मुँह से नेट फ्रेंड वाली बात सुन कर 

स्मृति को एक कस कर स्मूच करता है वो. स्मृति भी उसको पॉजिटिव रिप्लाई देती है कुशल अब कन्विंस्ड था की स्मृति की चुत उसके लंड के लिए बेक़रार है.
कुशल भी पागल हो चूका था वो पीछे होता है और अपने टीशर्ट उतरने लगता है.
” कुशल..... कुशल कहाँ है भाई......” आवाज उन दोनों के कानो में आकर टकराती है जो की प्रीती की थी.
” ओह्ह्ह्ह फ़क......” कुशल के मुँह से ऑटोमेटिकली निकल जाता है. 
वो फर्स्ट फ्लोर से ही चिल्लाती रही थी.
” क्या बात है आज तेरी दुश्मन तुझे बड़े प्यार से बुला रही है....?” स्मृति स्माइल करते हुए फिर से बोलती है.
” पागल को कोई काम होगा... इससे पहले की वो नीचे आये मैं ऊपर देख कर आता हु”. और कुशल बहार की तरफ भागने लगता है.
“ पता नहीं कितना टाइम लगेगा लायन को आने में????” स्मृति की ये आवाज कुशल के कानो में पड़ती है और जोकि खुला इनविटेशन था.
” जल्दी ही आएगा वो........” कुशल भी रूक कर स्माइल के साथ जवाब देता है. और फिर से वो ऊपर की तरफ चल देता है.वो भाग कर ऊपर जाता है लकिन उसे प्रीती रेलिंग पर दिखाई नहीं देती. वो धीरे धीरे प्रीती की रूम की तरफ बढ़ता है लकिन उसका गेट खुला हुआ था. वो अंदर जाता है तो प्रीती उसे वहां दिखाई नहीं देती.
” शायद टॉयलेट में गयी होगी...” कुशल अपने मन में सोचता है.और वो टॉयलेट की तरफ बढ़ जाता है.टॉयलेट पहुँचने से पहले ही उसे अपने रूम में अहसास होता है की कोई है और वो अपनी निगाहें फिरा कर देखता है
.” ओह्ह्ह्ह माय गॉड.....” कुशल को आज झटके ही झटके लग रहे थे. प्रीती उसी के रूम में दिवार के सहारे बैठी थी.
पंकज को स्मृति वैसे ही भड़का चुकी थी और जैसे अब प्रीती जिन हालात में बैठी थी तो वो किसी का भी पानी निकलवा सकती थी.
प्रीती ने भी जैसे पिंक लाइफ का सहारा ले लिया था. कुशल के जाते ही उसने कपडे चेंज कर लिए थे और सारे ही ट्रांसपेरेंट थे. 
” इतना टाइम..... क्या कर रहा था नीचे.....” प्रीती बेहद ही सेक्सी वौइस् में बोलती है.
कुशल का लंड आज लोहे से भी ज्यादा टाइट हो चूका था. कामुक से भी ज्यादा कामुक लग रही थी प्रीती. उसकी जवानी कहीं पर भी आग लगा सकती थी 



RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

कुशल एक बार को तो कुच्छ बोल ही नही पाया. अभी कुच्छ टाइम पहले ही उसने प्रीति की चूत फाडी थी और वो अब ऐसे कामुक कपड़े पहन कर बैठी थी.

सेक्स और ड्राइविंग, ये शायद ऐसी दो चीज़े है जो स्टार्टिंग मे हर इंसान खूब दबा के करता है. कुशल को नीचे स्मृति भड़का चुकी थी और यहाँ फिर से एक बार प्रीति भी तैयार लग रही थी.

एक तरफ सिंगल टाइम फक्ड प्रीति थी, जो की बेहद सेक्सी, यंग और बेहद टाइट थी तो वहीं दूसरी तरफ स्मृति एक मेच्यूर लेडी जो कि काफ़ी एक्सपीरियेन्स दे सकती थी.

" मैं..... मैं तो ऐसे ही मम्मी से बात कर रहा था........." कुशल घबराते हुए प्रीति की बात का जवाब देता है.

प्रीति अपनी जगह से खड़ी होती है. वो एक अच्छी हाइट वाली स्लिम गर्ल थी, सेक्सी तो वो थी ही और उपर से उसने अल्ट्रा सेक्सी क्लोद्स भी पहन रखे थे धीरे धीरे वो कुशल के पास जाती है और उसके सामने खड़ी हो जाती है, उसके कॉलर को पकड़ कर अपनी तरफ खींचती है.

"ऐसा क्याआअ कर रहा था जो तुझे मेरी याद नही आई........" प्रीति की आवाज़ ऑटोमॅटिकली बहुत ज़्यादा सेक्सी हो चुकी थी.

कुशल का चेहरा उसके बूब्स के बहुत करीब था.

" मैं तो तुझे कोई और कपड़े देकर गया था........ और तूने.... तूने बदल दिए वो कपड़े........" कुशल घबराते हुए बोलता है.

" क्याअ तुझे बस मेरे कपड़े ही दिखाई दे रहे है...... उसके अंदर कुच्छ नही........" प्रीति आज कुच्छ ज़्यादा ही रोमॅंटिक थी.

प्रीति अब उसकी टीशर्ट पकड़ती है और खींच कर अंदर उसे उसके रूम मे ले आती है.

" पुचह......" अंदर आते ही वो अपने लिप्स उसके गाल पर रख कर एक किस कर देती है.

" प्रीति...... वो.... वो....." कुशल को नीचे की भी टेन्षन थी.

" क्यूँ इतना घबरा रहा है......." ये बोल कर प्रीति अब अपने होंठ उसके होंठ पर रख देती है.

प्रीति को कोई शक ना हो इसलिए कुशल भी उसे किस मे सपोर्ट करता है लेकिन अभी भी उसका ध्यान नीचे की तरफ ही था.

प्रीति अपने वाइल्ड रूप मे आने लगी थी और उसका सीना तेज़ी से उपर नीचे हो रहा था. लेकिन कुशल की तो जैसे फटी हुई थी लेकिन वो चेहरे से नही दिखा रहा था.

प्रीति अपना हाथ सीधे उसके लंड पे ले जाती है और उस पर हाथ रखते ही प्रीति को जैसे झटका सा लगता है क्यूंकी पहले स्मृति और अब प्रीति की वजह से वो लंड अब एक महा लंड बन गया था टाइट होकर.

एक पल के लिए दोनो के होंठ अलग होते है. प्रीति स्टाइल मे अपने बाल अपने हाथ से पीछे की और करती है और लंड को टाइट भींचते हुए कहती है -

" मैं समझ सकती हू कि तेरे इसको मैं कितनी पसंद आई............" प्रीति अपनी सेक्सी आइज़ से कुशल की तरफ देखते हुए बोलती है.

" तुझसे भी ज़्यादा तेरी चूत पसंद आई........" कुशल प्रीति के टच से ज़्यादा एग्ज़ाइटेड हो रहा था.

" क्या सभी लड़के पुसी को वोही बोलते होंगे जो तू बोलता है......." प्रीति स्माइल करते हुए और उसके लंड पर हाथ फिराते हुए बोलती है.

" लड़के क्या लड़किया भी........ चूत को चूत ही बोलती है..........."कुशल का ध्यान अपने लंड की भी तरफ था. अब तक प्रीति लंड को बाहर निकाल चुकी थी.

" लड़कियो को बदनाम ना कर......." फिर से एक प्यारी सी स्माइल के साथ प्रीति कुशल से बोलती है.

" अच्छा सच बता..... कभी तुझे लंड के सपने नही आए......." पंकज प्रीति से पुछ्ता है. प्रीति अपने हाथ अब तक उसके खाली लंड पे फिराने लगी थी.

" मुझसे क्या पुछ्ता है..... लड़के नही देखते क्या पुसी के सपने....." प्रीति कुशल को रिप्लाइ करती है.

" लड़के सपने नही लेते पुसी के...... चोद देते है उसे मिलते ही......." कुशल की इस बात से प्रीति को हँसी आ जाती है.

" बाते बनाना ना तो कोई तुझसे सीखे......" ये बोलते हुए प्रीति अपने एक हाथ को अपने एक बूब्स पे ले जाती है और धीरे से उसे अपनी ब्रा से बाहर निकाल देती है.

कुशल का लंड अभी भी उसके हाथ मे था. कुशल आगे बढ़कर उसकी कमर को पकड़ता है और उसके लिप्स पर एक किस करता है.

" प्रीति... यू आर डॅम सेक्सी... अच्छा सुन मुझे लगता है की मुझे अभी नीचे जाना चाहिए क्यूंकी मोम अकेली हैं ना....." कुशल सिचुयेशन को देखते हे बोलता है.
प्रीति फिर से कुशल के करीब आकर और चिपक जाती है और बोलती है -

" बड़ी फिक्र कर रहा है मोम की....... मेरी फिक्र नही है तुझे.......?" प्रीति उसकी आँखो मे आँखे डालती हुई बोलती है.

" नही वो.. वो... मुझे डर है कि कहीं वो उपर ना आ जायें.........." कुशल फिर से बात को पलटने की कोशिश करता है.

प्रीति कुशल से थोड़ा दूर हट जाती है और बेड पर जाकर आराम से सीधा लेट जाती है.

प्रीति का एक बूब ऑलरेडी बाहर ही था. अब वो अपना हाथ पैंटी पर ले जाकर उसकी स्ट्राइप अपनी चूत से साइड मे करती है.

" लेकिन....... तेरे लिए तो ये तरस रही है मेरी जान........." प्रीति अपनी चूत मे एक उंगली घुसा देती है.

ये बहुत ही ज़्यादा एग्ज़ाइटेड कर देने वाला सीन था. कुशल अब सब भूल चुका था, उसे बस वो याद था जो अब उसके सामने था.

वो आगे बढ़ता है....... अपने दोनो हाथो से उसकी टाँगो को फेलाता है और अपने होंठ को उसको चूत पे रख देता है.

" आआहह..... कुशालल्ल्ल्ल........ आइ....... लव...... यू............" प्रीति की आँखे बंद हो जाती है. लड़कियो को इतना मज़ा सेक्स मे भी नही आता जितना की उन्हे अपनी चूत चटवाने मे आता है.

" म्*म्म्मममह.........कुशल..............." प्रीति मस्त हो चुकी थी.

प्रीति की पैंटी की स्ट्राइप को पकड़ कर कुशल अपनी जीभ को उसकी चूत मे अंदर घुसाए जा रहा था. प्रीति की चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था. पानी तो पहले से ही था लेकिन अब और भी ज़्यादा रसीली हो चुकी थी उसकी चुत.

" आआआआआआईयईईईई.....म्*म्म्ममममममममममममज....." प्रीति के साउंड का वॉल्यूम बढ़ता जा रहा था.

इससे पहले जब कुशल और उसका मिलन हुआ था तो एग्ज़ाइट्मेंट मे कुशल ने उसकी पुसी को अपनी जीभ से टेस्ट नही कराया था तो आज वो तमन्ना पूरी हो रही थी प्रीति की.

" कुशालल्ल्ल्ल........ माइ मॅन......ग्रेट.....लाइक दट प्लीज़.........थोड़ा और.............." प्रीति ऑटोमॅटिकली ही पता नही मूँह से क्या निकले जा रही थी. वो अपनी चूत को और उछालने भी लगी थी.

कुशल बार बार अपने होठ भी रगड़ देता था उसकी चूत से.... जिससे प्रीति की पूरी बॉडी मे झुरजुरी हो जाती थी.

" आइ.......लव.....ऊवूऊवूयूयूयुयूवयू.......आअहह......म्*म्म्मममममह...इस्शह......" प्रीति अपनी चरम सीमा पर थी.

कुशल भी अपनी जीभ को अब तेज़ी से हिलाने लगा था. प्रीति की चूत पानी पानी हो चुकी थी.

" फक्क मी....... प्लीज़......कुशल फक मी............ आअहह..... आहह....ऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ......." कुशल अपने सीधे हाथ से उसकी चूत मे उंगली भी चला रहा था.

उसकी चूत अब लंड के लिए बेचैन थी. कुशल सही मौका देख कर अपने को उसकी चूत से हटता है और अपनी टीशर्ट उतारता है.
बिना टाइम वेस्ट करे वो नीचे से भी बिल्कुल नंगा हो जाता है. उसका लंड किसी बड़े हथियार जैसा लग रहा था.

वो आगे बढ़ता है और प्रीति की कमर को पकड़ कर उल्टा कर देता है. प्रीति तो जैसे लंड के लिए भूखी थी. जैसा कुशल कर रहा था वो वैसे ही कर रही थी.

अब प्रीति पेट के बल लेटी हुई थी बेड पर और उसके हिप्स कुशल के सामने थे. कुशल एक बार फिर से उसकी कमर पर हाथ रखता है और उसके हिप्स को थोड़ा उपर उठा देता है.

अब प्रीति बिल्कुल डॉगी पोज़िशन मे थी -" अपने हिप थोड़े बाहर निकाल ......." कुशल प्रीति से बोलता है और प्रीति भी अदा मे अपनी गान्ड को बाहर निकाल लेती है. चूत जैसे एक दम से क्लियर हो जाती है कुशल को.

कुशल फिर से उसकी गान्ड मे अपना मूँह घुसा कर उसकी चूत चाटने लगता है. ये प्रीति के लिए एक नया एक्सपीरियेन्स था कि कैसे बॅकसाइड से कुशल ने अपना मूँह उसकी चूत तक पहुँचा दिया.

" आआआहह...प्लीज़ और मत तरसा....... फक मी प्लीज़.........." प्रीति अपनी गान्ड को थोडा सा बाहर करते हुए बोलती है.

कुशल वहाँ से हट जाता है. अपने हाथो पर थोड़ा थूक लगा कर अपने लंड पर लगाता है. उसका लंड थूक से भीग चुका था, लंड की हर नस क्लियर दिखाई दे रही थी.

कुशल उस लंड को उसकी चूत पर टिकाता है और एक धक्का लगाता है - फुचह....... साउंड के साथ लंड का सुपाडा अंदर पहुँच जाता है. आज साउंड कुच्छ डिफरेंट था जब लंड अंदर गया.

" आआआआआआहह........" प्रीति एक बार फिर से चिल्लाती है. लेकिन अब की बार शायद पेन इतना नही था जितना की पहली बार मे हुआ था. प्रीति को देख कर भी अंदाज़ा लगाया जा सकता था कि पेन तो उसका अच्छे वाला हुआ है. 

कुशल उसकी गान्ड पे दो थप्पड़ जामाता है. जैसे उसकी गान्ड पे मोजूद मांसल हिस्सा हिलता है तो उसे देख कर कुशल मस्त हो जाता है और फिर प्रीति की कमर पकड़ कर एक करारा धक्का लगाता है.

" आआऐईयाीईईईईईई....... आराम से........" शायद ये स्ट्रोक कुच्छ ज़्यादा ही स्ट्रॉंग था और लंड काफ़ी अंदर जा चुका था.

कुशल फिर से उसकी कमर को पकड़ कर लंड बाहर निकालता है और धीरे से फिर से अंदर घुसा देता है. फिर से बाहर और फिर से अंदर......

प्रीति अपने एक हाथ को अपने मूँह के पास ले जाकर उस पर थोड़ा सा थूक लगाती है और उसे अपने पेट के नीचे से ले जाकर अपनी चूत पर लगाती है.

" उफफफफफफफफ्फ़...... कुशल.............आऐईयईईईईईई.........आहह....ऊऊऊऊ" प्रीति का दर्द कम होता जा रहा था और मज़ा बढ़ता जा रहा था.

फुच....फुचह..फुचह....फुच

ऐसे साउंड फिर से आने शुरू हो गये थे रूम मे. कुशल ने स्ट्रोक लगाने शुरू कर दिए थे और यही नही प्रीति भी बार बार अपनी गान्ड को पीछे कर कर के कुशल को सपोर्ट कर रही थी.

"एसस्स्स्स्सस्स.....उफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़........ग्रेट.......फकक्क्क्क मी........ओह...." प्रीति जैसी लड़की के मूँह से निकलती हुई ऐसी सेक्सी आवाज़ो ने कुशल को और भी ज़्यादा मजबूर कर दिया था कि वो और तेज धक्के लगाए.

" फक्क्क्क माइ पुस्स्स्स्स्सययययी........ आआआआआआआहह........फाड़दे ईससीए......कुशाल्ल्ल.........."
जब करीबन 8 इंच का तगड़ा लंड बाहर निकाल कर स्रर्र्ररर से दोबारा अंदर जाता तो प्रीति की चूत तो जैसे धन्य हो जाती. उसकी चूत खुलती जा रही थी और कुशल का लंड और भी मोटा होता जा रहा था. प्रीति बार बार अपना चेहरा पीछे कर रही थी, उसकी सेक्सी आइज़ कुशल को और भी ज़्यादा स्पीड के साथ काम करने के लिए इन्वाइट कर रही थी.

प्रीति की गान्ड और कुशल की थाइस जब स्ट्रोक लगाने के दौरान आपस मे टकरा रहे थे तो ऐसा लग रहा था कि मानो कहीं कोई सीरीयस लड़ाई हो रही हो.

" आअहह.......फाड़ दे मेरी कुशल........उफफफफफफफफफफ्फ़.............आइ.....लव........यू..........अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह........"

फूच...फूच..फुच्च.फूच...फूच..फुच्च.... कुशल के बेड पर हो रही प्रीति की चुदाई से आ रहे साउंड को अगर कोई भी सुनता तो आइडिया लगा लेता कि ये कोई हार्ड फक्किंग सेशन चल रहा है.

" आआहह........ आइ.........एम.......कमिंग............ आअहह आहह आहह.........." और इसके साथ ही प्रीति की चूत अकड़ जाती है.

कुशल अभी भी फुल स्पीड मे लगा हुआ था. लेकिन प्रीति की चूत का पानी निकल चुका था.

कुच्छ सेकेंड्स के लिए सब नॉर्मल था लेकिन फिर प्रीति को जैसे परेशानी होने लगी.

" कुशल....... जल्दी कर ना प्लीज़.... कितना टाइम लगेगा....."

कुशल धक्के लगाने मे लगा हुआ था.

" कुशल... मुझे जलन हो रही है प्लीज़ जल्दी कर ना...."

लेकिन कुशल अभी भी लगा हुआ था. कुशल के लंड की मोटाई को अब झेलना तो जैसे प्रीति के बस का नही था.

" कुशल......... अब...... मुझे पेन हो रहा है........... सोर्र्र्ररयययययययययी....." और ये बोलते ही वो आगे हो जाती है और लंड बाहर.

कुशल को तो जैसे अब होश आया था. प्रीति के इस सडन रिक्षन की तो जैसे कुशल को भनक भी नही थी. कुशल का लंड बाहर और उसका चेहरा एक दम तमतमाता हुआ लाल हो चुका था.

" ये क्या बदतमीज़ी है.........?" कुशल गुस्से मे प्रीति से पुछ्ता है.

" बदतमीज़ी तो तू दिखा रहा था.... जब मुझे पेन हो रहा था तो तू जल्दी नही कर सकता था." प्रीति उल्टा लेटे लेटे जवाब देती है.

कुशल उसकी ये बात सुनकर जैसे पागल हो जाता है -

" जब तेरी चूत मे इतनी जान नही है तो क्यू लंड के पीछे भागती है.......?" कुशल बेड से खड़ा होता हुआ बोलता है.

" मुझसे बकवास करने की कोई ज़रूरत नही है.... समझ आया तुझे....." प्रीति गुस्से मे बोलती है.

कुशल उसकी इस बात से और भी ज़्यादा गुस्से मे आ जाता है. जब किसी लड़के के साथ ऐसा होता है तो वो अपना आपा वाकई मे खो सकता है और इसका आइडिया प्रीति को नही था.

कुशल गुस्से मे आगे बढ़ता है और उसके बाल पकड़ कर उपर की ओर खींच लेता है

कुशल अपना दूसरा हाथ सीधा उसकी गान्ड पर ले जाता है. इससे पहले की प्रीति कुच्छ सोचती कुशल अपनी उंगली उसकी गान्ड के छेद मे घुसा देता है. वो छेद बहुत ही ज़्यादा टाइट था.

"आआऊऊऊऊऊऊओ....." प्रीति चिल्ला पड़ती है.

" अब तो तेरी चूत फटी है...... ज़्यादा बोलेगी तो तेरी गान्ड भी मार लूँगा. एक उंगली से चिल्ला रही है तो सोच कि इतने मोटे लंड से क्या होगा." कुशल प्रीति को बोलता है.

प्रीति कुशल की इस बात का कोई जवाब नही देती क्यूंकी वो समझ चुकी थी कि इस टाइम कुच्छ भी बोलना सही नही है.
खैर पता नही क्या सोच कर कुशल अपनी उंगली को बाहर निकालता है और प्रीति को छोड़ कर अपने कपड़े पहन ने लगता है.

प्रीति अभी भी चुप थी लेकिन जब कुशल रूम के बाहर जाने लगता है तो वो पूछती है -

" कहाँ जा रहा है......." उसकी आवाज़ मे थोड़ी केर थी.

" तेरी मा चोदने............" कुशल की ये बात सुन कर फिर से प्रीति की हँसी छूट जाती है.

आक्च्युयली प्रीति इस बात को कुशल का गुस्सा समझ रही थी और कुशल ने एक अपने दिल की बात बता दी थी.

इससे पहले की प्रीति कुच्छ बोलती कुशल रूम से चला जाता है.

प्रीति का प्लान भी पता नही क्या था लेकिन उसको देख कर ये नही लग रहा था कि वो कुशल के रूम से जाने के मूड मे है.

कुशल का मूड ऑफ हो चुका था. कहाँ वो इतनी टाइट चूत मार रहा था और कहाँ उसका एंडिंग पॉइंट होने से पहले ही उसके साथ चीटिंग हो गयी.

धीरे धीरे वो नीचे आता है. लेकिन नीचे आते ही उसको हॉल मे बैठी हुई स्मृति दिख जाती है. उसने अभी भी टीशर्ट आंड जीन्स पहनी हुई थी.

वो हॉल मे सोफे पर बैठी थी और हाथ मे अगेन वाइन का ग्लास था. कुशल को थोड़ी राहत मिलती है.

" हाई मोम....." कुशल फिर से स्माइल करते हुए कहता है.

लेकिन स्मृति उसे कोई रेस्पॉन्स नही देती. वो अपने ग्लास को हाथ मे लेकर ड्रिंक करने मे बिज़ी रहती है.

कुशल उसके साथ आकर सोफे पर बैठ जाता है. लेकिन स्मृति उसकी तरफ नही देखती.

" क्या बात है मोम.... गुस्सा लग रही हो......" कुशल फिर से स्माइल करते हुए कहता है.

लेकिन स्मृति फिर भी उसे कोई रिप्लाइ नही देती. कुशल थोड़ा सा आगे बढ़कर अपना हाथ उसके हाथ पर रखते हुए बोलता है -" क्या बात है मोम.... आप बात क्यू नही कर रही हो.



RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

[b]लेकिन स्मृति उसकी बात का जवाब नही देती और अपना हाथ झटक कर अलग कर लेती है. स्मृति आज कुच्छ ज़्यादा ही ड्रिंक करने के मूड मे थी. इतना ड्रिंक करते हुए उसे कभी कुशल ने नही देखा था. हालाँकि वो अपने पूरे होश मे थी लेकिन फिर भी वो अक्सर एक या दो पेग वाली ही खिलाड़ी थी.

कुशल वैसे ही अधूरा रह गया था प्रीति के साथ, वो अपनी आग बुझाना चाहता था. वो धीरे धीरे स्मृति की तरफ बढ़ाता है –

“ वहीं रुक जा……….” स्मृति के एक हाथ मे ग्लास और दूसरे हाथ से वो उंगली दिखाते हुए वो सोफे से खड़ी हो जाती है. क्लियर विज़िबल था कि वो गुस्से मे थी.

“ क्या हुआ… आप इतने गुस्से मे क्यू है…..” कुशल तो बस सिचुयेशन को प्यारी बातो से ही कंट्रोल कर लेना चाहता था. वो अपनी जगह रुक कर स्मृति से ये बात बोलता है.

“ बकवास ना कर….. और पीछे जाकर बैठ……” स्मृति फिर से गुस्से मे बोलती है. कुशल कुच्छ बोलने को होता ही है कि तभी स्मृति फिर से चिल्लाति है.

“ मैने कहा की पीछे जाकर बैठ…..” कुशल स्मृति की इस डाँट से शांत हो जाता है और चुप चाप जाकर बैठ जाता है. स्मृति अभी भी खड़ी हुई थी और अपने पेग को पीए जा रही थी.

“ मोम…ज़्यादा पीना सही नही है……” कुशल अपनी बात ख़तम ही करता है कि..

“ लेकिन मोम को फक करना सही है….. है ना. सेक्स की नालेज हुए बिना उसकी बॅक साइड को फक करना सही है…. लाइयन बन कर उसे एक फार्महाउस मे फक करना सही है…….. बोल ना कुत्ते…. बोलता क्यू नही…..” स्मृति ने तो जैसे आज विकराल रूप धारण कर लिया था.

“ वो…मोम… प्लीज़ आप गुस्सा……” ये बोलते हुए कुशल फिर से खड़े होने की कोशिश करता है.

“बैठा रह वहीं जहाँ बैठा है…… खड़े होने की कोशिश मत कर…….” स्मृति फिर से चिल्लाति है. कुशल तो धीरे धीरे सेक्स तो दूर, वो तो ये सोचने लगा था कि यहाँ से बचा कैसे जाए.

“ प्लीज़ आप शांत हो जाइए….और मुझे बताइए कि बात क्या है. अभी मैं उपर गया तो आप सही थी अचानक क्या हो गया आपको… प्लीज़ कंट्रोल रखिए…..” कुशल बैठे बैठे स्मृति को समझाने की कोशिश करता है.

“ हाँ तूने मुझे उपर से न्यूड देखा तो तुझे लगा कि मैं सही थी… मुझे जीन्स उतारते हुए देखा तो तुझे लगा कि मैं सही थी और जब अब मैं रियल बाते कर रही हू तो तुझे ये लगने लगा कि मैं आउट ऑफ कंट्रोल हो रही हू….” स्मृति फिर से एक पेग डालते हुए बोलती है.

“ तो आपको……आपको पता था कि मैं देख रहा हू.” कुशल अपना थूक सतकते हुए बोलता है. स्मृति उसकी बात का कुच्छ जवाब नही देती और अपना पेग पीती रहती है.

“ मोम प्लीज़ कुच्छ बोलिए ना……” कुशल फिर से बैठे बैठे बोलता है.

स्मृति उसके पास आती है और धीरे से बोलती है “ बोलू कुच्छ….. तो सुन…. यू आर आ रियल मदर फकर…..” आज तो जैसे स्मृति ने फ़ैसला ही कर लिया था कि कुशल का बॅंड बजा कर ही रहेगी. कुशल एक भीगी बिल्ली बना सोफे पर बैठा था.
“ मुझे…… मुझे शायद नींद आ रही है…मैं तो उपर जा रहा हू…” ये बात आराम से बोलकर कुशल उठ कर सीढ़ियो की तरफ बढ़ता है.

छ्ह्ह्हन्न्न्नक्क्क्क्क्क्क…… स्मृति अपना ग्लास ज़मीन मे फेंक कर मारती है और पूरा काँच फेल जाता है.

वो कुशल की तरफ तेज़ी से बढ़ती है और उसके कॉलर पकड़ कर फिर से उसे सोफे के करीब लाती है और उस पर बिठा देती है. “ मैने कहा ना कि…… बैठा रह…… खड़ा होने की ज़रूरत नही है….” स्मृति फिर से उसे चिल्ला कर बताती है.

कुशल को तो जैसे आज हॅपी बर्तडे कर दिया स्मृति ने. वो हैरान था कि आख़िर आज क्या हो गया है.

“ मोम मैं आपसे रिक्वेस्ट करता हू कि कुच्छ बताओ तो सही की बात क्या है……….” कुशल अपनी आँखे स्मृति की आँखो मे डालते हुए बोलता है.

लेकिन स्मृति कुच्छ नही बोलती. वो भी कुशल के सामने वाले सोफे पर बैठ जाती है और उपर की तरफ देखने लगती है. शायद आज वो कुच्छ ज़्यादा ही परेशान थी. उसका ध्यान अपने ग्लास पर जाता है लेकिन उसे भी वो तोड़ चुकी थी. वो इधर उधर देखती है लेकिन उसे कुच्छ दिखाई नही देता. वो फिर से उपर देखने लगती है.

“ मोम आख़िर आप इतना परेशान क्यूँ है……” कुशल फिर से प्यार से पुछ्ता है लेकिन कोई रिप्लाइ नही मिलता उसे.

कुशल फिर से गर्दन नीचे करके बैठ जाता है. स्मृति उसकी तरफ देखती है –

“ पता है मुझे आज क्या हुआ है?” स्मृति बहुत सीरीयस होते हुए बोलती है. कुशल की थोड़ी जान मे जान आती है कि चलो वो कुच्छ बोली तो सही.

“ यही तो पुच्छ रहा हू कि क्या हुआ है…. आप मुझे बता सकती है और मुझ पर भरोसा कर सकती है…” कुशल भी सीरीयस होने का ड्रामा करता है.

“ मुझे वोही हुआ है जो हर औरत की लाइफ मे होता है. बस मर्दो की गुलाम बन कर रहना…. यही होती है एक औरत की लाइफ… मर्द उसे जैसे चाहे उसे करता है लेकिन कभी उसकी थिंकिंग के बारे मे कोई नही सोचता है”. स्मृति आज कुच्छ ज़्यादा सीरीयस थी.

कुशल धीरे से सोफे से खड़ा होता है और धीरे से जाकर स्मृति के सोफे पर बैठ जाता है. इस बार स्मृति उसे देखती है लेकिन कुच्छ कहती नही.

“मोम आप मुझे बताइए ना कि बात क्या है…….आप मुझसे शेर करेंगी तो आपके दिल का बोझ हल्का हो जाएगा…” कुशल उसके हाथ पर हाथ रखते हुए बोलता है.

“ जा किचन से दो ग्लास लेकर आ………” स्मृति फिर से सीरीयस होते हुए बोलती है. कुशल उसकी इस बात से कन्फ्यूज़ था.

“ मोम…ग्लास??? किसलिए………?” कुशल अपने क्वेस्चन को झिझकते हुए पुच्छ ही लेता है.

“ क्यूँ मेरे साथ बस फार्महाउस मे ही ड्रिंक कर सकता है…. यहाँ नही…..?” स्मृति की इस बात से कुशल को जवाब मिल जाता है की आख़िर स्मृति क्या कहना चाहती है. कुशल बिना टाइम वेस्ट करे वहाँ से खड़ा होता है और भाग कर किचन से दो ग्लास लेकर आ जाता है.

“ प्रीति सो गयी…..????” स्मृति उन दोनो ग्लस्से को अपने हाथ मे लेने के टाइम बोलती है.

“ ये…यस..यस वो सो गयी…….” सिचुयेशन को टलने के लिए कुशल बोल ही देता है.

कुशल सोफे पर फिर से बैठ जाता है. अब वो बहुत रिलॅक्स था क्यूंकी स्मृति भी रिलॅक्स थी, स्मृति दोनो सोफे के बीच मे रखी टेबल पर वो ग्लास रखती है. और पीछे से बॉटल को उठा कर लाती है.

स्मृति दोनो ग्लासस मे थोड़ी थोड़ी वाइन डालती है और आइस क्यूब्स डालने के बाद उसे कुशल को ऑफर करती है. कुशल उसे ले लेता है और स्मृति के साथ चियर्स करता है.

“ आज मैं बहुत अपसेट हू………” स्मृति एक और सीप लेते हुए बोलती है

“ मुझे बताइए ना मोम….” कुशल अपनी बात पूरी भी नही कर पाता कि स्मृति उसे टोक देती है.

“डॉन’ट कॉल मी मोम……. आज की रात मैं तुम्हारी मा नही हू….” कुशल को ऐसे लग रहा था जैसे कि आज उसकी मा का माइंड हिल गया है.

“ चलिए छोड़िए आप बताएए की बात क्या है……” कुशल भी अपने ग्लास मे सीप लेने लगा था.

“ मैं बचपन से लेकर अब तक अपनी लाइफ सोचती आ रही थी तो मुझे दूख हो रहा था……. अहसास हो रहा था कि लड़की का तो कोई रोल ही नही है.” स्मृति उसे बताती है.

“ ऐसी कौन सी बाते है जिनसे आपको ऐसा लगा…….” कुशल भी अब इंट्रेस्टेड था जान ने के लिए की आख़िर बात क्या है.

“ तुझे कोई जल्दी तो नही है ??” स्मृति पूछती है

“ मुझे…. मुझे तो कोई जल्दी नही है….” कुशल तो वैसे ही थोडा नर्वस था लेकिन अब थोड़ा नॉर्मल हो रहा था.

“तो मैं चाहती हू कि तू मेरी बाते एक दोस्त बन कर सुने…. क्यूंकी ये बाते मैं अपने बेटे से नही कर सकती…” स्मृति फिर से सीरीयस मूड मे बोलती है.

“ मैं तो वैसे भी हमेशा आपको गर्ल फ्रेंड ही समझता हू….” कुशल साइड मे मूँह करते हुए बोलता है. उसकी बात कहने का वॉल्यूम बहुत कम था.

“ क्या कहा अभी तूने???” स्मृति ठीक से उसकी बात सुन नही पाती तो पूछती है.“ नही… नही कुच्छ नही. मैं तो बस यही कह रहा था कि हाँ मैं भी आपको दोस्त मान कर ही आपकी बात सुनूँगा……” कुशल बड़े ही प्यार से स्मृति से बोलता है.

“ तो सुन…. मुझे ये बता कि तू मेरे लिए लाइयन क्यूँ बना???” स्मृति अपने ग्लास का एक सीप लेते हुए और कुशल की आँखो मे झाँकते हुए बोलती है.

“ क्या मोम…क्या पुछा आपने……??” कुशल सुन चुका था लेकिन फिर भी आक्टिंग करता है जैसे उसने कुच्छ ना सुना हो.

“ दोबारा सुनेगा…. तो मुझे ये बता कि तू मेरे लिए लाइयन क्यू बना. और खुल कर बता… मैं तुझे ग़लत नही कहूँगी और कुच्छ नही कहूँगी. बल्कि तुझे अपने दिल की सारी बाते बताउन्गि…..” स्मृति अब थोड़ी स्माइली हो चुकी थी.

“ मोम…वो..वो..मोम..वो…..” आक्च्युयली कुशल को एक्सपेक्टेशन नही थी कि ये रात उसके साथ कितने ड्रामे करेगी.

“ देख.. मुझे फिर से गुस्सा मत दिला… तूने कहा ना कि तू ऐज आ फ्रेंड सब बताएगा. तो मैं फिर से पूछती हू कि तू लाइयन क्यूँ बना??” स्मृति फिर से सीरीयस हो जाती है.

“ मोम…..समझ नही आता कि कहाँ से शुरू करू… क्या शेर करू और क्या नही.. सच मे कन्फ्यूज़ हू………..” कुशल बोलता है.

“ तेरे पास कुच्छ भी ऐसा नही है जो तूने मुझसे शेर ना किया हो…. ईवन हम बॉडी भी शेर कर चुके है. तो अब मुझे बता और शरमा मत…. मैं भी तेरी उम्र से ही गुज़री हू तो समझ सकती हू…. लाइयन बन कर तो तू बहुत बड़ी बड़ी बाते करता है और आज जब मैं पुच्छ रही हू तो तू शरमा रहा है….” स्मृति उसे कॉन्फिडेन्स देती है.

कुशल -“ अगर आप जान ना ही चाहती है तो सुनिए, ये ख्याल मेरे दिल मे जब से आने शुरू हुए जब मैं सिर्फ़ - - साल का था……”

स्मृति – “ कैसे ख्याल……??” स्मृति अपने ग्लास मे एक और पेग डालते हुए बोलती है.

कुशल – “ यही… आपके साथ वो करने की फीलिंग….” कुशल अभी शरमा रहा था.

स्मृति – “ मेरे साथ वो करने की फीलिंग???? ओह्ह्ह यानी मुझे फक करने की फीलिंग….. कॅरी ऑन कॅरी ऑन….” स्मृति उसकी हिम्मत बढ़ाती है और उसके सामने एक टाँग पर टाँग रख कर बैठ जाती है.

कुशल – “हाँ…. शायद ऐसी ही फीलिंग….. लेकिन मेरे माइंड मे कभी भी ये नही था कि ऐसा हो सकता है….”

स्मृति – “ लेकिन मैं यही जान ना चाहती हू की आख़िर किन चीज़ो ने तुझे फोर्स किया कि तू स्मृति को फक करे…. ??”

कुशल – “ दरअसल जब किसी भी लड़के का ये खड़ा होना शुरू होता है ना तो ये एक अजीब एज होती है.. कुच्छ समझ नही आता कि आख़िर ये क्या हो रहा है…..” कुशल अपने एक हाथ को लंड पर रखते हुए बोलता है.

स्मृति – “ ओके…..” स्मृति अपने सीप को कंटिन्यू रखते हुए बोलती है.

कुशल – “ कुच्छ समझ भी नही आता कि किससे पता करे… बस एक अजीब सी फीलिंग आती है बॉडी मे… तभी कॉलेज मे एक दिन मेरे दोस्त मोहित ने बोला कि यार तू बाथरूम के बाहर खड़ा हो जा और किसी को भी अंदर मत आने दिओ.. मैं वहाँ खड़ा हो गया लेकिन वो खुद एक लड़की के साथ अंदर चला गया…. मैं उस दिन हैरान था……” कुशल भी अब सारी कहानी सुनाने लगा था.

स्मृति –“ ओके… फिर क्या हुआ…..?” स्मृति भी इंटरेस्ट ले रही थी अब उसकी बातो मे.

कुशल –“ मैं वहाँ खड़ा रहा… किसी को अंदर नही जाने दिया. वो करीब एक घंटे के बाद बाहर निकले….. दोनो बहुत हॅपी थे. मैं इतना छोटा भी नही था कि ये ना समझ पाऊ कि वो क्या करके आए है……” कुशल अपनी स्टोरी को सुनाता जा रहा था.

स्मृति – “ ओके…फिर…..” स्मृति अपने खुले हुए बालो मे हाथ फिराते हुए बोलती है.

कुशल – “ फिर ये रेग्युलर होने लगा…. मैं उनकी पहरेदारी करता और वो मज़े करते. दिन पे दिन उसकी गर्ल फ्रेंड का निचला हिस्सा बड़ा होता जा रहा था यानी के उसके हिप्स….”

स्मृति – “ वाउ… तो तेरी नज़रे थी वहाँ पर….. एनीवे आगे बता…..” स्मृति स्माइल करते हुए कहती है.

कुशल – “ मैने कभी मोहित से कोई सेक्स रिलेटेड बात नही की थी लेकिन जब ये रेग्युलर्ली होने लगा तो एक दिन मैने अकेले मे उससे बात की. मैने उससे पुछा कि तुम लोग सेक्स करते हो ना??? तो वो मेरी बात पर बहुत हंसा…… मुझे बहुत बुरा लगा. उसने मुझे ‘कमाल का ढक्कन’ भी कहा तो मुझे और बुरा लगा. वो मुझसे बोला कि साले क्या बातरूम मे उसके साथ मैं खाना खाने जाउन्गा……..”

स्मृति – “ हा हा हा हा हा….” स्मृति को उसकी बात पर हँसी आ जाती है

कुशल – “ अगर आप ऐसे हँसेंगी तो जाओ मैं कुच्छ नही बताता…….” कुशल सीरीयस होते हुए बोलता है.

स्मृति –“सॉरी…सॉरी…. यू कॅरी ऑन प्लीज़…… इंट्रेस्टिंग…….” स्मृति बड़ी मुश्किल से अपनी हँसी को शांत करते हुए बोलती है.

कुशल – “ उसकी गर्ल फ्रेंड दिन पे दिन बदलती जा रही थी. आगे से भी और पीछे से भी…. वो ही एक ऐसी लड़की दिखाई देती स्कूल मे जो सबसे हॅपी थी. वो दोनो जब भी मौका मिलता था अपना काम कर लेते थे. स्कूल का बाथरूम तो क्या क्लासरूम मे भी उन्होने सब कुच्छ किया और हमेशा मैं बस बाहर खड़ा रहता….”

स्मृति – “गुड मिस्टर. चोकीदार……” स्मृति हंसते हुए बोलती है

कुशल –“ आप फिर मेरा मज़ाक उड़ा रहीं है……” कुशल फिर से सीरीयस होते हुए बोलता है.

स्मृति – “फिर से सॉरी दोस्त… प्लीज़ रुक मत कॅरी ऑन कर… सॉरी….” स्मृति भी अब धीरे धीरे खुल रही थी.

कुशल – “ एक दिन मैने मोहित से दिल की बात की कि यार मेरा पूरी रात वो खड़ा रहता है…. मैं क्या करू……….”

स्मृति – “ तो बाबूजी का बस - - कि उम्र मे ही खड़ा होना शुरू हो गया था….शाबाश…” स्मृति कुशल के लंड की तरफ देखते हुए बोलती है.
कुशल –“ मोहित मेरी बात सुन कर बहुत हंसा…… लेकिन उसने मुझे बिल्कुल भी गाइड नही किया. उसने मेरा मज़ाक उड़ा कर बात को टाल दिया…. वो जब अपना चेहरा अपनी गर्ल फ्रेंड की छातियों मे छुपाता था तो मुझे बहुत बुरा लगता था. कुच्छ ही महीनो मे मोहित की गर्ल फ्रेंड बेहद ज़्यादा गदरा गयी थी और दोनो के रीलेशन बढ़ते ही जा रहे थे.”

स्मृति – “ओये होये मोहित से ज़्यादा तो तू था उसका दीवाना…… “ स्मृति भी ज़्यादा इंटेरेस्ट लेने लगी थी. कुशल उसकी जानकारी के लिए अपने मोबाइल मे उसका फोटो निकाल कर दिखाता है –
स्मृति – “चल अब इस फोटो को बंद कर और आगे बता……” . शायद उस फोटो से जेलस होने लगी थी.

कुशल – “ फिर स्कूल टाइम मे ही वो एक बार आपसे भी मिला और आपने उस दिन पहना हुआ था.”

स्मृति – “मुझसे मिला??? मुझे याद नही………” स्मृति सोचते हुए बोलती है

कुशल –“ आपको कैसे याद होगा हम सब इतने बड़े थोड़े ही थे…. वो आपको जाते हुए देखता रहा और उसकी गर्ल फ्रेंड स्कूल के फर्स्ट फ्लोर से उसे देख रही थी.”

स्मृति –“ लेकिन वो मुझे क्यूँ देख रहा था…….??”

कुशल –“ बाय्स स्कूल मे सब की मोम के टॉपिक भी होते है….. और आपको बता दू कि आपको ही सबसे हॉट कहा जाता था. ज़्यादा लड़के मुझसे दोस्ती करना चाहते थे और लड़किया मुझसे जलती थी……”

स्मृति – “ रियली??? कमाल है….. एनीवे आगे बताओ……” स्मृति अपनी तारीफ से खुश भी हो रही थी.

कुशल – “ अगले दिन जब मैं स्कूल पहुँचा तो मोहित और उसकी गर्ल फ्रेंड की लड़ाई हो रही थी. मैं दूर खड़ा होकर सुन रहा था. मोहित बोल रहा था कि हाँ देख रहा तो क्या हुआ. उसकी गर्ल फ्रेंड बोलती है कि तो उसकी उसमे घुस जा ना जाकर…”

स्मृति – “किसमे घुस जा जाकर??? समझ नही आया…. सॉफ बता ना…..”

कुशल –“ उसकी गर्ल फ्रेंड ने बोला कि जा और उसकी गान्ड मे घुस जा अगर इतनी पसंद है तो. मुझे समझ नही आया कि वो क्या बात कर रहे थे. मोहित ने बोला कि साली अगर उस जैसी गान्ड मुझे मिल जाएगी ना तो तुझपे कोई ठुकेगा भी नही. मैं ये सब बाते सुन रहा था. उसके बाद उसकी गर्ल फ्रेंड बोलती है कि वो साली यहाँ आती ही अपनी मटकती गान्ड दिखाने के लिए है, और तुझ जैसे आशिक उस पर लट्तू हो जाते है. मैं समझ गया था कि किसी और लड़की का मॅटर है. इसके बाद मोहित बोलता है कि साली तेरी भी तो कब से चोद रहा हू तो तेरी गान्ड अभी तक ऐसी क्यूँ नही है. उसके बाद उसकी गर्ल फ्रेंड को गुस्सा आ जाता है और वो एक थप्पड़ मोहित को जड़ देती है और बाहर चली जाती है.”

स्मृति – “ हा हा हा हा… कुशल ने जिनके लिए पहरे दिए वो भी अलग हो गये….”

कुशल – “आप फिर से ऐसी बात शुरू कर रहीं है…..” कुशल फिर से सीरीयस होता है.

स्मृति – “ओके…ओके… बताते जाओ……..” स्मृति फिर से अपने आप को कंट्रोल करते हुए बोलती है.
कुशल – “फिर कुच्छ दिन मैने उन दोनो को साथ नही देखा…. एक दिन मोहित मेरे एक और क्लासमेट के साथ बैठा था, मैं क्लास मे घुसा तो वो दोनो बात कर रहे थे कि यार बड़ा गजब माल है. मैं चुप चाप सुन रहा था तो मोहित कह रहा था कि कसम से एक बार दे दे तो दुनिया की सारी खुशिया लूटा डू उसके लिए. मैं समझ गया कि ये अपनी गर्ल फ्रेंड की बात नही कर रहा है. मोहित आगे बोलता है कि माल मिले तो ऐसा मिले वरना मिले ही ना. ये झल्ली लड़कियो मे कोई दम नही होता. मैं हैरान था कि इतनी मस्त गर्ल फ्रेंड को वो झल्ली कह रहा था….”

स्मृति – “तो पहरा देते देते वो इतनी मस्त लगने लगी…….?” स्मृति अपनी आँखो के इशारे से पूछती है.

कुशल उसकी इस बात से थोड़ा शर्मा जाता है.

स्मृति – “ चल अब लड़कियो की तरह शरमा मत और जल्दी बता की क्या हुआ……..” स्मृति को बड़ी उत्सुकता थी जान ने की.

कुशल – “ इससे आगे की कहानी आपको शॉक्ड कर देगी……” कुशल सीरीयस होते हुए बोलता है.

स्मृति – “ ऐसा क्या हो गया… जल्दी बता जल्दी बता…..”

कुशल – “ यूँ ही दिन बीत गये… एक दिन मैने देखा कि मोहित की गर्ल फ्रेंड कुच्छ फ्लवर्स लिए स्कूल के टेरेस की तरफ जा रही थी…. आकर टेरेस पर उस दौरान कोई नही होता है. मैं भी चुप चाप चल दिया उसके पीछे पीछे लेकिन उसे पता नही चलने दिया..”

स्मृति –“ फिर…….”

कुशल –“वो उपर पहुँची तो वहाँ पर मोहित बैठा हुआ था….. वो फ्लवर लेकर उसके पास जाती है और बोलती है कि मोहित सॉरी प्लीज़ मुझे माफ़ कर दो. उसका मोहित के बिना मन नही लग रहा था लेकिन मोहित उस पर चिल्लाने लगा कि तुझे मेरी नही मेरे लंड की याद आ रही थी और इसलिए वो माफी माँगने आई है. उसकी गर्ल फ्रेंड बोलती है कि ऐसी कोई बात नही, वो सिर्फ़ मोहित को चाहती है लेकिन मोहित उसकी नही सुनता……”

स्मृति –“ फिर क्या हुआ……..?”

कुशल –“ मोहित की गर्ल फ्रेंड बहुत कोशिश करती है लेकिन मोहित नही मानता. इससे मोहित की गर्ल फ्रेंड और भी ज़्यादा गुस्से मे आकर उस पर चिल्लाने लगती है कि लगता है उसने तेरे लिए इंतज़ाम करा दिया है तभी तो इतना उच्छल रहा है….”

स्मृति –“ उसने…..किसने…?”

कुशल –“ वो आगे बोलती है कि मैं सब समझती हू तुझे बस अब उसकी गान्ड दिखाई देती है और जब तक तू उसे नही चोदेगा जब तक तुझे चैन नही मिलेगा……..”

स्मृति – “किसकी गान्ड………???” स्मृति के मूँह से अचानक निकल जाता है और जैसे ही उसे अहसास होता है वो चुप हो जाती है. “ओह सोररय्यययी…..”

कुशल –“ पता है वो किसकी गान्ड के पीछे लड़ाई थी……?”

स्मृति (सीरीयस होते हुए)- “ किसकी……..?”

कुशल –“ आपकी………”

स्मृति की तो जैसे सारी पी हुई उतर जाती है. वो अपने सोफे से खड़ी हो जाती है

“ क्य्ाआआआआअ……..” स्मृति आश्चर्या से पूछती है.

“ यस…. मुझे तो पता ही नही चला कि कब आप मेरे स्कूल मे ‘मोस्ट सेक्सीयेस्ट मोम’ बन गयी थी. और मुझे पता भी कैसे चलता क्यूंकी कोई मेरे सामने क्यूँ बात करता. वो तो मैने उनकी जब और बाते सुनी तो मुझे समझ आया कि कहानी क्या है.” कुशल बताता है स्मृति को.

“ओह माइ गॉड…. हाउ इट ईज़ पासिबल……. मोहित तो बच्चा है…. और वो मेरे बारे मे….. आइ डॉन’ट बिलीव दिस…..” स्मृति आश्चर्य से बोलती है.

कुशल –“ इस इन्सिडेंट के बाद मैने मोहित से बात की. मैने उसे बोला कि मोहित सच बता ये क्या ड्रामा है तो थोड़ी ही देर मे उसने आक्सेप्ट कर लिया कि ये सारा ड्रामा तेरी मोम यानी आपकी वजह से है. उसने मुझे बहुत गंदी बाते की जैसे देख अपनी मा की गान्ड साले…. करोरो मे एक होती है ऐसी. उसने मेरे दिमाग़ मे आपकी एक अलग ही पिक्चर बना दी. उसने मुझे ऑफर भी दिया कि मैं आपकी सेट्टिंग कैसे ही उससे करा दू तो वो अपनी गर्ल फ्रेंड का काम मेरे से करा देगा…….”

स्मृति –“ तो… तूने क्या फ़ैसला किया था…….” स्मृति थोड़ा सा शरमाते हुए बोलती है. अपने आप को वो बहुत वॅल्यूड फील कर रही थी.

कुशल –“ मैने उसके ऑफर को आक्सेप्ट नही किया… लेकिन उस दिन से आपको मैं किसी और ही नज़र से देखने लगा. उमरा कम थी लेकिन जज़्बात बडो से भी ज़्यादा आ गये थे. आपको कई बार हिंट भी दिया जैसे आपको हग करने के टाइम आपके बूब्स को ज़्यादा प्रेस करना, आपको पीछे से हग करते हुए आपकी गान्ड का आइडिया लेना, आपकी हर आक्टिविटी मुझे पागल करती थी. चाहे मैं आपको आगे से देखु या पीछे से मुझे कुच्छ होता था. लेकिन आपको कभी कुच्छ समझ नही आया.”

स्मृति – “ओह्ह तो ये काफ़ी टाइम से चलता आ रहा था और मुझे अहसास ही नही था. और आज कल ये मोहित कहाँ है…..?”

कुशल –“ आप मोहित के बारे मे क्यूँ पुच्छ रही है…..?”

स्मृति – “ नही बस ऐसे ही… लेकिन चल तू आगे बता कि तू लाइयन कैसे बना.”

कुशल –“ ऐसा करीबन तीन साल चला. और आप डेली और भी ज़्यादा सेक्सी होती गयी.. मुझे कुच्छ भी समझ नही आता था. अगर कोई लड़की लाइन भी देती तो आक्सेप्ट करने का मन भी नही करता था, बस आपका और आपका शौक चढ़ गया था.”
[/b]



RE: antervasna फैमिली में मोहब्बत और सेक्स - sexstories - 12-01-2018

स्मृति – “ मैं सेक्सी होती जा रही और मुझे पता ही नही था…. गुड…” स्मृति अब तक एक पेग और पी चुकी थी.
कुशल – “ आपके कपड़ो मे जब भी मुझे आपके अंग दिखते तो मैं सीधा वॉशरूम जाता और हाथ से काम चलाता. आप टाय्लेट जाती तो आपको पेशाब करने का साउंड सुनता, कहीं बाहर जब सफाई करती तो दिल करता कि आपके बूब्स दिख जाए शायद, लेकिन सबसे बड़ी ख्वाहिश आपकी गान्ड देखने की ही तो जो कभी भी सही से पूरी नही हो पाई. हाँ जब भी आपने लो वेस्ट साड़ी पहनती तो टाइट गान्ड का आइडिया ज़रूर लगता था लेकिन कभी भी अंदर तक नही पहुँच पाया. लोगो से पता चला कि हाथ से ज़्यादा नही करना चाहिए नही तो लंड खराब हो जाता है. ब्लू मूवीस देखता तो इतना असर नही होता जितना की आपके बारे मे सोच कर हो जाता था.” कुशल अब कुच्छ भी छिपाने की नही सोच रहा था और दूसरी तरफ उसे स्मृति भी नशीली आँखो से देख रही थी.

स्मृति – “ तो तूने जासूसी करी मेरे टाय्लेट के बाहर तक भी…. ओके अब आगे बता…” स्मृति की आँखे चेंज होती जा रही थी.

कुशल –“ मुझे धीरे धीरे ये लगने लगा था कि मेरा ये सपना सच नही होगा और जवान होते होते मुझे ये बिल्कुल लगने लगा था कि ये पासिबल नही है. फिर टाइम बदलता रहा, सोशियल नेटवर्किंग का जमाना आया और मैने आपको फ़ेसबुक पर कॉंटॅक्ट आड करते हुए देखा. और फिर लाइयन का जनम हो गया. लाइयन बनते हुए मेरे दिल मे ये आइडिया भी नही था कि मैं एक दिन आपको फक भी कर पाउन्गा. लेकिन फिर चाटिंग करते करते मुझे ये अहसास होने लगा था कि आप भी चाहती हो मुझसे चॅट करना लेकिन शरमाती हो या कोई और सोशियल प्रेशर आपको रोक रहा है. मैने आप जान कर आपसे गंदी गंदी बाते शुरू की और शुरू मे आपका रेस्पॉन्स नेगेटिव रहा लेकिन धीरे आप अड्जस्ट होती गयी. मैं समझ गया था कि आपको लाइफ मे एंटरटेनमेंट चाहिए लेकिन प्राइवसी के साथ. मैने आपसे चॅट करते हुए कई बार मास्टरबेट किया. लेकिन फिर ऐसा टाइम आने लगा जब फिर से मेरी इच्छाए जागने लगी और स्केरी हाउस मे मैने अपना कंट्रोल खो दिया…..”

कुशल इतना बोल कर एक लंबी साँस लेता है. स्मृति अभी भी अपने पेग को पीए जा रही थी, उसकी आँखो का कलर चेंज होता जा रहा था और गालो का कलर भी लाल होता जा रहा था.

स्मृति – “ तो स्केरी हाउस मे तूने मुझे फक करने की कोशिश क्यूँ नही की…….?” स्मृति कुशल की आँखो मे आँखे डाल कर बोलती है.

कुशल –“ स्केरी हाउस मे मेरा प्लान बस अपना लंड तुम्हारे हाथो से टच करना था लेकिन वहाँ मुझे एक नयी हिंट मिली. मुझे क्लियर अहसास हुआ कि आप भी कुच्छ चाहती है. श्योर नही था लेकिन मुझे अहसास हो गया था कि अगर मैं प्लान बनाऊ तो शायद मुझे सक्सेस मिल जाए. मुझे इतना पता था कि आपको कभी ये पसंद नही आएगा कि कोई जान कार आकर आपके साथ सेक्स करे तो इसीलिए एक लोंग सर्च के बाद उस फार्महाउस का पता चला. सब सही रहा लेकिन तभी लाइट जल गयी और पोल खुल गयी…..” इतना बोल कर कुशल अपनी गर्दन नीचे कर लेता है.

स्मृति –“ ह्म्*म्म्मममम……. तो ये थी बात….. चल तूने मुझे इतनी बाते शेअर करी तो मैं भी तुझसे अपनी दिल की बाते शेअर करती हू…….” स्मृति जब ये बोल रही थी तो उसका सीना उपर नीचे हो रहा था. उसकी हालत काफ़ी खराब हो चुकी थी.

कुशल उसकी ये बात सुनकर काफ़ी एग्ज़ाइटेड था और उठ कर अपना एक और पेग बनाता है.

“ बताओ ना कि क्या बताना चाहती हो…….” कुशल भी अब स्मृति के करीब था.

स्मृति –“ मुझे फार्महाउस जाने से पहले ही पता था कि मेरे साथ सेक्स होना है………… ईवन मैं तो शायद होल नाइट के लिए भी तैयार थी लेकिन जब मुझे पता चला कि वो तू है तो मुझे फिर से वोही झटका लगा जो हमेशा लड़कियो की लाइफ मे लगता ही रहता है……..” स्मृति भी आज खुल कर पेश आ रही थी, शायद वाइन उस पर असर कर चुकी थी.

कुशल उसकी बातो को सुनकर शॉक्ड था लेकिन उसको शो नही कर रहा था.
“आपको ऐसा क्यूँ लगता है कि लड़कियो के साथ हमेशा ग़लत ही होता है……..क्या ऐसा कुच्छ है जो आप बताना चाहती है” कुशल बड़े प्यार से पुछ्ता है.

स्मृति – “ मेरी लाइफ बाकी लड़कियो की तरह ही रही……. कॉलेज लाइफ मे एक लड़के से अफेर चला और वो मुझे बहुत पसंद था लेकिन उसे मुझसे बस सेक्स चाहिए था. उसने बहुत कोशिश की लेकिन मैं मेंटली प्रिपेर नही थी. मुझे ऐसा लगना शुरू हुआ कि जो हम चाहते है वो नही होता. धीरे धीरे मेरी बॉडी सेक्स की डिमॅंड करने लगी, लड़की होने के सारे फ़ायदे उठाए और एक लड़के को पूरा चारा डाला….”

“ चारा डाला यानी……..?” कुशल उसे बीच मे ही टोकते हुए बोलता है

स्मृति - “ अंजाने मे उसे हर हिंट दिया कि मुझे उससे सेक्स चाहिए…. मुझे ऐसा भी लगा कि उसको समझ आ रहा है लेकिन एक दिन वो मुझसे अपने लव को प्रपोज़ करने आया और मुझसे शादी करने के लिए बोला. मुझे उस दिन भी बड़ा अजीब लगा कि यहाँ पर भी दिल की ख्वाहिश पूरी नही हुई… मेरा उससे शादी करने का कोई इरादा नही था. लाइफ मे एक बार फिर से ऐसा लगा कि जो चाहा वो नही मिला….और फिर मेरी शादी हो गयी. शादी के बाद मेरी सेक्स लाइफ बहुत स्ट्रॉंग रही लेकिन हर लड़की के खुद के आइडियास होते है की आज हज़्बेंड ये करे और आज हज़्बेंड ये करे… लेकिन हमेशा होता वही था जो हज़्बेंड चाहता था. धीरे धीरे मैं अड्जस्ट होती गयी और लाइफ बीतने लगी…..फिर मेरी लाइफ मे लाइयन आया. लड़की के तरीक़ो से मैने उसे चेक किया और मुझे ये लगने लगा कि मेरी प्राइवसी बनी रहेगी और शायद मैं अपनी प्राइवेट लाइफ को मैं जी पाउन्गि. फार्महाउस तक मे मुझे ये लगने लगा कि अब मेरी सारी ख्वाहिश पूरी हो जाएँगी और मेरी पर्सनल लाइफ पर कोई फ़र्क नही पड़ेगा……. लेकिन फिर से मेरा बॅड लक कि वो तू निकला.”

कुशल स्मृति की बात सुनकर और सीरीयस हो गया. वो समझ गया कि हर लड़की मस्ती करना चाहती है लेकिन कभी ज़ाहिर नही होने देती है. स्मृति ने आज रात अपने दिल के सारे अरमान उसके सामने रख दिए थे.

“ तो जवानी मे आप भी काफ़ी रंगीन रही हैं……” कुशल उसके पास खड़े होकर उसे उपर से नीचे तक देखते हुए बोलता है.

स्मृति - “तुझे दिखाऊ अपनी जवानी की फोटो…..?” स्मृति भी एग्ज़ाइटेड होते हुए बोलती है.

कुशल –“ प्लीज़ दिखाइए ना……….” कुशल भी उत्सुकता के साथ बोलता है. स्मृति अपने मोबाइल मे ढूँढने लगती है और उसे एक फोटो दिखाती है जो उसके मोबाइल मे पता नही कहाँ से उसने सेव कर रखा था. पिक्चर देख कर कुशल शॉक्ड रह जाता है. उसका मूँह खुला का खुला रह जाता है, 

“ओह माइ गॉड….आप तो गजब हैं सच मे. मोहित सही था कि उसकी चाय्स आप थी…………..” कुशल उसका फॅन बन चुका था.

कुशल –“ लेकिन आप आज मुझसे गुस्सा क्यूँ हो गयी थी…….?” कुशल स्मृति के पास पहुँच कर ये बात बोलता है.

स्मृति –“ आज ही लाइयन को बुलाया और वो लेट हो गया. यकीन हो गया कि जो चाहो वो नही मिलता…..आज मेरा भी मूड मस्ती का था…….” आक्च्युयली मे कुशल प्रीति के साथ था और नीचे स्मृति उसका वेट कर रही थी.

कुशल –“सॉरी….सॉरी…सॉरी….”कुशल अपने कान पकड़ते हुए बोलता है. लेकिन अब स्मृति उसके कॉलर पकड़ती है और अपने पास खींच कर अपने होंठ उसके होंठो पर रख देती है. ऊफ्फ क्या नज़ारा था…स्मृति ने आज फ़ैसला कर ही लिया था कि वो कुशल को चूस लेगी.

“ देखती हू आज इस लाइयन मे कितना दम है……. प्यार है ना तुझे मेरी गान्ड से….. तो चल पहले वो कर जो मैं चाहती हू और फिर तू वो कर सकता है जो तू चाहता है…. कोई बाउंडेशन नही….” स्मृति अपनी नशीली आँखो से कुशल की तरफ देखते हुए बोलती है.

कुशल की तो जैसे लॉटरी लग गयी थी, उसे यकीन नही हो रहा था कि उसने अभी जो सुना वो सच है. स्मृति ने आज अपने इरादे ज़ाहिर कर दिए थे, वो भी प्यार चाहती थी लेकिन कुशल का नही बल्कि लाइयन का.

स्मृति कुशल का कॉलर पकड़ कर उसे अपने बेड रूम की तरफ ले जाने लगती है लेकिन कुशक के कदम थोड़ा धीरे धीरे आगे बढ़ रहे थे. स्मृति रुकती है और कुशल की तरफ देखती है

“क्या बात है…… लाइयन इतना डर क्यू रहा है” स्मृति फिर से अपने आँखो को मटकाती हुई कुशल से कहती है.

“नही वो…. आक्च्युयली…. पता नही……..” कुशल हिचकिचा रहा था

“क्या हुआ इस लाइयन को……. बेड पर क्या बोलेगा ये तो अभी घबरा रहा है……….” स्मृति फिर से उसके करीब जाकर बोलती है.

“नही वो मोम…. मुझे लग रहा है कि कहीं प्रीति ना जाग रही हो…..” कुशल अपने दिल की बात बता देता है.

“तो ठीक है…..तू उपर चेक करके आ और इतने मे नीचे तेरा वेट करती हू…वो भी फुल एग्ज़ाइट्मेंट मे……” ये बात बोल कर स्मृति एक बार फिर से उसके लंड को टच कर देती है.

कुशल की लिए ये सेकेंड्स बहुत भारी थे. वो वहीं जम होकर खड़ा रह जाता है और स्मृति मस्ताने स्टाइल मे टर्न होती है और अपनी गान्ड मटकाती हुई अपने रूम की तरफ चली जाती है. जब तक कुशल उसे अपने रूम मे घुसते हुए नही देख लेता है तब तक वो होश मे नही आता है. अब स्मृति के अंदर जाने के बाद कुशल वापिस होश मे आता है और बिना टाइम वेस्ट करे वो उपर की तरफ भागता है.

उपर पहुँच कर उसे दूर से ही दिखाई दे जाता है कि उसके रूम की लाइट जल रही है. लेकिन प्रीति कहीं दिखाई नही दे रही थी, वो धीरे धीरे आगे बढ़ता है और देखता है कि प्रीति बेड पर लेटी हुई है. उसे डोर से दिखाई नही देता कि वो जाग रही है या सो रही है तो धीरे धीरे उसके पास जाता है. पास पहुँचने के बाद उसे पता चलता है कि अच्छे से चुदने के बाद वो तो सो चुकी है. कुशल उसे आराम से आवाज़ भी लगा कर देखता है कि कहीं वो जाग तो नही रही है लेकिन उसकी तरफ से कोई रेस्पॉन्स नही मिलता है. वो समझ जाता है कि प्रीति एक अच्छी नींद मे है और रूम से बाहर आने लगता है. रूम से बाहर आने के बाद वो फिर से नीचे की तरफ बढ़ता है लेकिन फिर से उसे कुच्छ ख्याल आता है और वो फिर से रूम की तरफ वापिस मुड़ता है, रूम के बाहर पहुँच कर वो गेट पकड़ता है और धीरे से उसे बाहर से बंद कर देता है. अब प्रीति अगर खुद भी बाहर आना चाहे तो नही आ सकती थी.

कुशल से एक एक सेकेंड बड़ी मुश्किल से काट रहा था और वो उस गेट को बंद करने के बाद बड़ी तेज़ी से नीचे की तरफ भागता है. सीढ़ियो से वो ऐसे उतार रहा था जैसे घर मे कोई आग लगी हो, अब वो स्मृति के रूम के बाहर था.

उसकी साँसे ऐसे चल रही थी मानो की बहुत लंबी रन्निंग करके आया हो. जिस टाइम कुशल रूम मे एंटर होता है, उस टाइम स्मृति अपने लिप्स पर लिपस्टिक लगा रही थी. माश्कारा बहुत अच्छे से वो लगा चुकी थी और हेर स्ट्रेट हो चुके थे. कुशल को रूम मे एंटर होते हुए वो देखती है और उसे एक प्यारी सी स्माइल देती है. सबसे कमाल बात ये थी कि उसने कुच्छ भी नही पहना था.

“कम ऑन लाइयन…..” स्मृति बहुत ही सेक्सी स्टाइल मे ड्रेसिंग टेबल के सामने से हट ते हुए बोलती है.

“आप….आप मुझे बार बार लाइयन क्यूँ बोल रही है……” कुशल भी झिझकते हुए बोलता है. इस बात को सुन कर स्मृति अपने लिप्स पर एक उंगली रखते हुए शांत रहने के लिए बोलती है.

“आज तू मेरे बेड रूम मे लाइयन के तौर पर है ना की कुशल के तौर पर……. यू नो….. कुशल के साथ मैं खुल कर पेश नही हो पाउन्गि….. लाइयन ईज़ नाउ माइ ड्रीम कॅरक्टर नाउ” स्मृति धीरे धीरे कुशल के पास आते हुए बोलती है.

कुशल की लाइफ मे ये एक डिफरेंट ही सीन था, स्मृति धीरे धीरे उसके करीब आती है और अपने जुवैसी लिप्स फिर से कुशल के लिप्स पर रख देती है. आज कुशल को कुच्छ डिफरेंट ही फील हो रहा था, स्मृति के होत चूसने का तरीका कुच्छ अलग ही था और कुच्छ ज़्यादा ही हार्ड तरीके से वो होंठ चुस्ती है. कुशल को शायद ये आइडिया भी नही था कि स्मृति के अंदर का अंदर का जानवर ऐसे बाहर आएगा.

स्मृति कुशल के होंठो को चूस्ते चूस्ते उसकी टी-शर्ट उतारने लगती है. कुशल एक कठपुतली की तरह था और जैसे जैसे स्मृति मूव हो रही थी तो कुशल भी मूव हो रहा था. एक सेकेंड के लिए जैसे ही उन दोनो के होंठ अलग होते है वैसे ही स्मृति उसकी टीशर्ट उतार देती है और अब कुशल उपर से नंगा था.

“बहुत मजबूत है………. तेरी छाती…….” स्मृति अपने लिप्स को उससे अलग करते हुए और उसे अपने बेड की तरफ ले जाते हुए बोलती है. उसकी आवाज़ मे एक भारी कंपन थी. इस छोटी सी लिप किस के दौरान उसने कुशल को कुच्छ भी मौका नही दिया कि वो खुद अपनी मर्ज़ी से कर पाता.

बेड के करीब आते ही कुशल को बेड पर एक धक्का देती है. कुशल की तो जैसे आज फॅट ही गयी थी, 
अब तक का रेस्पॉन्स तो ऐसा था कि जैसे कुशल कोई लड़की हो.

“बहुत बाल है तेरी छाती पे……….मर्द तो जबरदस्त है तू……..” स्मृति कुशल के उपर बैठते हुए और और उसकी बालो भरी छाती मे हाथ फिराते हुए बोलती है. कुशल का तना हुआ लंड अब स्मृति की गान्ड के नीचे था. स्मृति नीचे झुकती है और कुशल की बालो भरी छाती मे अपने मूँह को ले जाकर उसके निपल्स को किस करने लगती है.

“उफफफफफफफ्फ़………मोम……..यू आर रियली वाइल्ड………… आअहह” कुशल उसके इस आक्षन से रोमांचित हो जाता है.

चटककककककक….. और इतनी ही देर मे कुशल को अहसास हो जाता है कि उसने क्या ग़लती करी है क्यूंकी उसके कान पे एक थप्पड़ जड़ा जा चुका था.

“और कितनी बार तुझे बताना पड़ेगा कि आइ आम नोट युवर मोम टुनाइट…..” स्मृति गुस्से मे बोलती है. वो अपने इमॅजिनेशन्स से कुशल को दूर ही रखना चाहती थी और पूरी रात लाइयन के साथ गुज़ारना चाहती थी.

“सॉरी….सॉरी डार्लिंग…….” कुशल घबरा कर बोलता है और इस पर स्मृति स्माइल करके फिर से उसकी चेस्ट मे अपना मूँह घुसा देती है. उसकी बालो भरी छाती मे वो एक साइड वो अपने हाथ को फिरा रही थी तो दूसरी तरफ उसके निपल्स पर किस किए जा रही थी.

“ओह…….ग्रेट……स्वीटी……उफफफफफफफफफफफफफ्फ़……….” कुशल तो जैसे आज धरती पर नही था. स्मृति के बालो की खुसबु उसे और पागल कर रही थी. उसका लंड जैसे आज सबसे विकराल रूप मे था.



This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


wiriha nxxxsauth hiroyan na xxx cudai photos riyal naket naiduwww sexbaba net Thread E0 A4 9C E0 A4 AC E0 A4 9A E0 A5 8B E0 A4 A6 E0 A4 BE E0 A4 AE E0 A5 8C E0 A4अनजाने में सेक्स कर बैठी.combiwi Randi bani apni marzi sa Hindi sex storyTAMIL ACTRES KAPADE UTARTE HUEसोनाक्षी bfxxxsex night. video kapde utarkar aagevali khanaTai ji ki chut phati lund seRicha Chadda sex babaदोनोंके मोटे लंड बच्चेदानी से टकरायेDeepika padukone sex story sexbaba.comfati salwar dikhakr bahane se chudayi ki sexy kahani hindi memajbur aurat sex story Hindi thread gadrayi jawani Deepshikha ki xxx imege nokrane mala zavlekandoom nangi h.d xxxx upay photoसेकसी बुर मे लोरा देता हुआ बहुत गंधा फोटोammijan ka chudakkad bhosda sex story .comxx.moovesxगन्दी गालियों वाली चुदाई की स्टोरीज विथ नुदे फोटोanju kurian sexxxx photos hdwww.xxx.toor.khel.sexladies chudai karte hue gadiyan deti Hui chudwatisexbaba bahu ko khet ghumayaSex.baba.net.sela.ke.javane.sexsa.kahane.hinde.Sexbaba अमाला पॉल.netपंजाबी चुड़क्कड़ भाभी को खूब चौड़ासुहासी धामी के नंगे सेक्सी फोटोजromeatiek videosx hdएहसान के बोझ तले चुदाईही दी सेकसीwww.comघर और सेक्सबाबPapa aur mummySex full HD VIP sexsil tod sex suti huiy ladakiSasu and jomai xxx video angoiri bhabhi sexy storyGulami se priwar me mut aur tatti pilane ki khaniwww.new 2019 hot sexy nude sexbaba vedio.comxnx meri kunwari chut ka maja bhaiya ne raat rajai me liya stories page 15तेर नाआआआबॅकलेस सारी हिंदी चुदाई कहाणीsayesha sahel ki nagi nude pic photoxxxjangal jabardastirepxxx deshi moti chut & boob's jhu bich Mumbai sex video patliamisha patel ki incest chudai bhai selalaji adult sex storiesma peeta bate bfxxxx 2019ladka ladkiander dala kar kasay lagya hay gatka xxxSardyon me ki bhen ki chudai storyindian chuadi chillauanita hassanandani xxx sax nahi photoSaxse videyocccccxxxxxSoch alia xxxvideoNude Bharti singh sex baba picsमौसी की घाघरा लुगडी की सेकसीmini chud gyi bayi ke 4 doston se hindi sex storyChachi ki chudai sex Baba net stroy aung dikha keमराठिसकसIndia sadee "balj" saxrep sexy vodio agal bagal papa mami bic me peti xxxdo kaale land lekar randi baniबुर चुदाते समय दरद कयोँ होता हैधधbaba sangsexdivyanka tripathi hot bude.sexybaba.inxxx aanti porn bathrum m uglihorny sex stories in tmkoc- desibeesKamna.bhabi.sex.baba.photDeepika chikh liya nude pussy picBata.ka10ench.kalund.daka.mom.na.hinde.sexstore.movie.sex.comjatky dar xxx